Sign In

Friday, January 23, 2015

सरस्वती बीज मंत्र साधना






जय सदगुरुदेव

       निर्गुणं निर्मलं शान्तं,   जंगमं स्थिरमेव च |
       व्याप्तं येन जगत्सर्वं, तस्मै श्री गुरवे नमः ||

जो निर्गुण हैं निर्मल और शांत हैं, जिनसे समस्त जड़ चेतन जगत व्याप्त है उन श्री गुरुदेव को नमस्कार है |


जय सदगुरुदेव,

स्नेहिल स्वजन, आप सभी को ह्रदय से धन्यवाद, कि आप ने मुझे अपने स्नेह और विश्वास के काबिल समझा |
मै संकल्पबद्ध हूँ जो मुझसे आप लोगों के हितार्थ बन  पड़ेगा करुँगी | इसी तरह का एक ओर प्रयास -----

 भाइयो बहनों क्यों ऐसा होता कि जब हम मुश्किल में होते हैं या अचानक से हम पर कोई आबदा आ जाती है कि कहीं कोई रास्ता सूझता नहीं है तभी हम साधना की ओर प्रवत्त होते हैं, ऐंसा कभी कभी होता जब कोई एक व्यक्ति की रूचि साधना में प्रारम्भ से हि होती है, किन्तु अधिकांशतः तो जब समस्या आती तभी साधना पथ दिखाई देता है ---- किन्तु क्या साधना केवल दुखी व्यक्ति के लिए ही है----- क्या तभी हमें देवीय शक्ति की आवश्यकता होनी चाहिए ?
भाइयो बहनों ! सच्चाई तो ये है कि साधना से मन और शरीर कि शुद्धि होती और उस शुद्धि क्रिया के माध्यम से ही हम उस महाशक्ति का आवाहन कर उसे अपने भीतर जागृत करते हैं|

प्रति दिन के सामान्य क्रिया कलाप के दौरान हम कितनी बार झूठ बोलते है कुछ पाने हेतु अर्थात व्यापार व्ययसाय के दौरान भिन्न उपायों का सहारा लेते है, अपने पर नियंत्रण न रखते हुए अनचाही दूषित प्रवृत्तियों को बढ़ावा देते रहते हैं और कुछ ऐंसी आदते पाल लेते हैं कि जिनसे बाद में छुटकारा नहीं मिल सकता  |

जब हमारे भीतर कि शक्ति ही पूर्ण रूप से जागृत न हो तो व्यक्ति कितना ही क्रिया कलाप क्यों न कर ले सफलता मिलना संभव नहीं है | यह भी सच है कि दूसरो के भरोसे जीवन नहीं जिया जा सकता यदि आप स्वयम बलवान हैं यानि समर्थ हैं तो सब आपका सम्मान करेंगे और ये शक्ति आपकी इच्छा शक्ति के जागरण से ही संभव है | और ये शक्ति निश्चय रूप से शिव कि शक्ति हि हो सकती है...... हैं न
भाइयो बहनों ! बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं ---- J

ऐंसी ही एक अद्भुत किन्तु शीघ्र फलदायी प्रयोग जिसे आप कल सुबह संपन्न करेंगे, क्योंकि ये मात्र आत्मशक्ति ही नहीं अपितु ज्ञान चक्षु को खोलने वाला प्रयोग है साथ ही आपका एक यंत्र भी तैयार हो जायेगा हैं, तैयारी क्या करना है........


प्रयुक्त सामग्री—

 पीला वस्त्र पीला आसन, पीले फूल, केशर, अखंडित भोजपत्र, चमेली या अनार या चांदी की शलाका या कलम, नैवेद्ध , केशरिया मीठे चावल, या केशर की खीर,

प्रातः स्नान के पश्चात् अपने सामने बाजोट पर माँ सरस्वती का सुन्दर चित्र या भगवती दुर्गा का चित्र स्थापित करें |

घी का दीपक जलाएं एवं माँ का पंचोपचार पूजन करें तथा एक कटोरी में केशर घोलें और उससे भोजपत्र पर उपरोक्त यंत्र का अंकन करें |


 अब न्यास करें –

कर न्यास --

एंग अन्गुष्ठाय नमः ,
एंग तर्जनीभ्यां स्वाहा,
एंग मध्यमाभ्याम वषट
एंग अनामिकाभ्यां हुम्
एंग कनिष्ठ्काभ्याम वौषट
एंग करतलकर पृष्ठाभ्याम फट


हृदियादी---

एंग हृदयाय नमः
एंग शिरसे स्वाहा
एंग शिखायै वषट,
एंग कवचाये हुम
एंग अस्त्राए फट | 

अब उसी सलाका से अपनी स्वयं की जीभ पर केशर से एंग बीज मन्त्र का अंकन करें |
फिर यंत्र का पूजन करें धुप दीप दिखाएँ एवं स्फटिक माला से एंग (eng)  बीज मन्त्र की १०० माला यानि १०,००० जप संपन्न करें, भाइयो बहनों मन्त्र अति सूक्ष्म यानी छोटा है अतः वो लोग कर सकते हैं जिन्होंने कभी साधना नहीं की और वो यानि जो साधक हैं वे तो करेंगे ही हैं ना J

ये यंत्र अब किसी चांदी के ताबीज में भरकर गले में धारण करें |
भाइयो बहनों ये दिखने में जितना साधारण है किन्तु उतना ही शक्तिशाली भी है, ये बीज मन्त्र जहां उत्पति का कारक  मन्त्र है  वहीँ सरस्वती का बीज मन्त्र भी बीज- जिसे यदि जमीन में  रोपा जाए और सींचा जाए तो कालांतर में एक विशाल वृक्ष बनता है, इसी तरह बीज मन्त्र की उपयोगिता है, यदि बीज की लगातार पुनरावृत्ति यानी जप किया जाये तो एक विशिष्ठ उर्जा संचारित होकर फलित होती है | ऐंसे अनेक उदाहरण है जहाँ साधकों ने सिर्फ बीज मन्त्र के जप से सिद्धियाँ हासिल की है |
ये यंत्र और ये प्रयोग जहाँ आपको वर्ष भर उर्जान्वित रखेगा वही आत्मशक्ति के जागरण में सहयोग भी करेगा, और विद्यार्थियों को शिक्षा में सहायक होगा और अन्य वर्ग को मानसिक शक्ति प्रदान करेगा |

इसे आप यदि किसी कारणवश प्रातः ६ से ७ के बीच ना कर पांए तो ११ से १२ के बीच अवश्य सम्पन्न करें , किन्तु करें प्रातःकाल में ही |
जब मन्त्र जप संपन्न हो जाये, तब उसी माला से एक माला
एंग ह्रीं सरस्वत्यै नमः मन्त्र कि करें| फिर  घर प्रत्येक बालक और बड़ों की जीभ पर भी इस बीज मन्त्र का अंकन अवश्य करें |

तो भाइयों बहनों इस साधना को संपन्न करें व जागृत करें अपनी मेधा शक्ति |

रजनी निखिल

***NPRU***



Wednesday, January 14, 2015

गुरु प्राप्ति प्रयोग





|| गुरु प्राप्ति प्रयोग ||

ॐ त्वमा वह वहै वद वै गुरौर्चन
घरै  सह प्रियन्हर्शेतु ||
हे गुरुदेव ! आप सर्वज्ञ हैं, हम इश्वर को नहीं पहचानते, उन्हें नहीं देखा है, पर आपको देखा है, और आपके द्वारा ही उस प्रभु के दर्शन सहेज, संभव हैं | हम  अपने ह्रदय को समर्पित कर आपका अर्चन पूजन करके पूर्णता प्राप्त करने आकांक्षी हैं | स्नेही स्वजन अंतर,

 विकास के लिए, दिव्यत्व प्राप्ति हेतु परम शिवत्व पाने हेतु हमें मार्गदर्शक की या पूर्ण सत्य के ज्ञाता सद्गुरु कि अत्यंत आवश्यकता होती है | जैसे प्राणों के बिना जीवन संभव नहीं उसी तरह बिना गुरु के ज्ञान संभव नहीं, शक्ति का विकास नहीं, अंधकार का नाश नहीं | गुरु कि आवश्यकता तो धन संपत्ति, कला और संगीत से भी अधिक है | गुरु कि आवश्यकता तो मित्र बंधू – बांधवों पत्नी – पुत्र आदि से भी अधिक है |

संसार में गुरु बहुत होते हैं, हर कोई अपना नया पंत बनाता है, परन्तु प्रत्येक सत्य गुरु का एक हि उद्धेश्य होता है जो शिष्य कि अंतर शक्ति को जागृत कर आप आनंद से परिपूर्ण कर दें | गुरु वह हैं जो शक्ति पात के माध्यम से अंतर शक्ति कि कुंडलिनी जगाता है, जहाँ योग शिक्षा देता है, वहीँ ज्ञान कि मस्ती भी देता है | जहाँ भक्ति का प्रेम देता है वहीँ कर्व में निष्कामता सिखा देता है और वही गुरु परम शिव स्वरुप होते हैं |

भाइयों – बहनों साधारण व्यक्ति को जो भी व्यक्ति चमत्कार दिखाता है वह उसे हि गुरु मान लेता है |  और फिर उससे कई अपेक्षाएं भी जुड़ ही जाती हैं, किन्तु जब उसके अंतर की क्षुधा शांत नहीं होती और जब श्रद्धा भंग होती है तो वह गुरुत्वा को पाखंड समझ लेता है, और ऐसा करने से वह सच्चे गुरु से ही दूर हो जाता है –
किन्तु, यदि हमारा अंतर जागृत हो, और तब हम गुरु से सम्पर्कित हों,  तब ऐसा हो ही नही सकता कि हमें पूर्ण प्राप्त न हों, और पूर्णता तो गुरु प्राप्ति से ही संभव है----- है ना ---J


प्रयोग विधान—

यह प्रयोग किसी भी गुरुवार से संपन्न का सकते हैं | प्रातः काल ब्रह्म मुहूर्त में स्नानादि से निवृत्त होकर पीले वस्त्र धारण कर पीले आसन पर बैठें, गणपति और गौरी का पूजन करें फिर, सामने बजोट पर पीले वस्त्र पर सुन्दर  भगवान् शिव का सुन्दर चित्र या शिवलिंग हो वह चाहे नर्मदेश्वर या पारदेश्वर या कोई भी किन्तु पूर्ण चैतन्य और प्राणप्रतिष्ठित हो |

एक बात यद् रखने योग्य है और वह ये कि यदि पूजन विग्रह, यंत्र, माला आदि यदि चैतन्य न हो तो साधना की सफलता में कमी रह जाती है और तब  हमें ऐसा लगता है कि साधना विधान ही गलत तो नही या मन्त्र तो गलत नहीं या हममें क्षमता ही नहीं, किन्तु मूल तथ्य क्या है इस असफलता का, ये हमें पता ही नही होता---- अतः कोई भी साधना करने से पहले पूर्ण तयारी आवश्यक है |

 जी हाँ तब पूर्ण श्रद्धा भाव से शिवजी का पंचोपचार पूजन सम्पन्न करें, तब संकल्प लें, कि ‘मै गुरु प्राप्ति हेतु इस प्रयोग को संपन्न कर रहा/ रही हूँ हे भोले नाथ आप अपने शिवत्व और गुरु तत्व के साथ गुरु रूप में प्रतिष्ठित होकर मझे पूर्णता प्रदान करने की कृपा करें’ 
|     
अब स्फटिक या रुद्राक्ष माला से निम्न मन्त्र की ११ माला जप करें---

मन्त्र

  ‘ॐ शिवरूपाय महत् गुरुदेवाय नमः’  
“Om shivroopaay mahat gurudevay namah”

अब इसके ॐ नमः शिवाय, पंचाक्षरी मन्त्र की पांच माला जप करें |
तथा निम्न प्रार्थना पूर्ण श्रद्धा भाव से करें----

“नमामि महादेवं देवदेवं,  भजामि भक्तोदय  भास्करम तं |
ध्यायामि भूतेश्वर पाद्पंकजम, जपामि शिष्योद्धर नाम रूपं” ||

  इस प्रार्थना को साधना से पहले और बाद में भी यानि कि दो जरुर करें |
प्रिय भाइयो बहनों, इतना  अवश्य है कि चाहे प्रकृति में कितने भी परिवर्तन हो किन्तु गुरु कृपा एक बार होने के बाद कभी व्यर्थ नहीं जाती यह कृपा शिष्य के साथ जन्म-जन्मान्तर तक रहती है, यही वजह है कि सदगुरुदेव निखिल जी महाराज ने कई बार कहा है कि “मै तुम्हारा जन्म-जन्मान्तर का गुरु हूँ तुम मुझे पहचानो या न पहचानों किन्तु मै तुम्हे जानता हूँ” |

  और यही ध्रुव सत्य है ------ तो साधना करें, सदगुरुदेव आपकी पर्त्येक मनोकामना पूर्ण करें इसी अभिलाषा और शुभकामनाओं के साथ------

रजनी निखिल

***NPRU ***





Tuesday, December 30, 2014

GURU SADHANA SE LAKSHMI PRAAPTI

      

        गुरु साधना से लक्ष्मी प्राप्ति





“अच्युताय नमस्तुभ्यं गुरवे परमात्मने |
सर्वतंत्रस्वतंत्र   या चिद्घनानंदमूर्तये ||”
‘ॐ त्वमा वह वहे वद वे गुरोर्चन धरै सह प्रियन्हर्षेतु’


हे अविनाशी परमात्मा स्वतंत्र चैतन्य और आनंद मूर्ति स्वरुप गुरुदेव ! आपको नमस्कार है |
 हे गुरुदेव ! आप सर्वज्ञ हैं , हम ईश्वर को नहीं पहचानते, न हि उन्हें कभी देखा है, और आपके द्वारा हि उस प्रभु या ईष्ट के दर्शन सहज और संभव है, मै अपना समर्पित कर आपका अर्चन पूजन कर पूर्णता प्राप्त करने का आकांक्षी हूँ |

     भाइयो बहनों !

                  इस श्लोक का भावार्थ आप समझ हि गए हैं यानि गुरु हि वह व्यक्तित्व है जो अज्ञान के अंधकार से शिष्य को पार ले जाकर जीवन में ज्ञान का प्रकाश देता है | गुरु हि हैं जो जीवन की बाधाओं के शिष्य को सचेत भी करते हैं औरुनसे निकलने का मार्ग भी प्रसस्त करते हैं |

 प्रिय स्नेही स्वजन ! आगामी वर्ष कि ढेरो शुभ कामनाओं के साथ आपके लिए एक मह्त्वपूर्ण साधना -------

एक शिष्य का जीवन गुरु से शुरू होकर गुरु पर ही समाप्त होता है तो क्यों न एस नव वर्ष की शुरुआत गुरु साधना से ही की जाये | क्योंकि गुरु ही वह श्रोत जो शिष्य में आत्म उत्साह प्रदान करता है क्रिया के साथ जाग्रति साधना कहलाती है और अभ्यास अपने आप को दृण निश्चय के साथ उच्च स्तिथि में ले जाने की क्रिया है, जिससे वह अपना आत्म ज्ञान प्राप्त कर सके गुरु व्यक्ति की शक्तियों को एक श्रंखला बद्ध रूप देता है जिससे बिखरी हुई शक्तियां एक धारा में श्रेष्ठता के साथ बह सकें |

   गुरु वह व्यक्ति नहीं है जिनके ऊपर अपनी आप अपनी सारी समस्याओं एवं 
कठिनाइयों का बोझ डाल सको, गुरु तो वह व्यक्तित्व है जो आपको जीवन जीने का रचनात्मक, सुयोग्य और प्रभावकारी मार्ग दिखलाता है जिससे कि आप में स्वयं को जानने कि प्रक्रिया प्रारम्भ हो सके |

  जीवन में सही क्रिया क्या है? दूसरों के भाव विचारों को किस प्रकार समझा जा सकता है यह जानने कि क्रिया के सम्बन्ध में जानकारी देकर योग्य व्यक्ति बनाना हि गुरु का मूल उद्देश्य है |


स्नेही आत्मीयजन !

       जीवन में दारिद्रय योग सबसे कष्ट दायक होता है और इसे दूर कर जीवन को सहज बनाना हि हमारा प्रथम उद्देश्य होना चाहिए क्योंकि उसके बाद हि जीवन में प्रत्येक क्रिया को किया जा सकता है | महर्षि विश्वामित्र ने बड़े स्पष्ट रूप से स्वीकार्य किया है कि गुरु अपने आप में समस्त ऐश्वर्य का अधिपति होता है, अतः गुरु साधना के माध्यम से समस्त ऐश्वर्या को प्राप्त किया जा सकता है अतः मैंने नववर्ष के प्रारम्भ को गुरु साधना से हि प्रारम्भ करने का विचार बनाया |

   हो सकता है कि आपमें से से कैन व्यक्तियों के पास यह साधना उपलब्ध हो कि किन्तु कैन ऐसे नए साधक हैं जिनके पास न हो, कभी कभी ऐसा भी होता है कि हमारे पास साहित्य उपलब्ध होता है और हम उसका हम उपयोग नहीं कर पाते| अतः इस साधना कि उपयोगिता बताते हुए यह कहना चाहती हूँ कि मात्र एक बार इस प्रयोग को कर के देखें और अनुभूत करें..........

  महर्षि विश्वामित्र द्वारा प्रणीत, सदगुरुदेव द्वारा प्रदत्त, दुर्भाग्य को मिटाने वाली अखंड लक्ष्मी प्राप्ति साधना | यह साधना मात्र तीन घंटे कि है जिसे कि इकत्तीस कि रात 11 बजे से शुरू करें | या जो इकत्तीस कि रात को ना कर पाएं तो एक तारिक के प्रातः 5 बजे से प्रारम्भ करें|

साधना क्रम :-

   सफ़ेद वस्त्र, सफ़ेद आसन, उत्तर दिशा, सामने गुरु चित्र, सामग्री में- कुमकुम ,अक्षत (बिना टूटे चावल ), गंगा जल, केसर, पुष्प (किसी भी तरह के), पंचपात्र, घी का दीपक जो साधना क्रम में अखंड जलेगा, कपूर, अगरबत्ती, एक कटोरी |
 साधक शुद्धता से स्नान कर सफ़ेद वस्त्र धारण कर उत्तर कि ओर मुह कर बैठें | सामने बाजोट पर यदि गणपति विग्रह हो तो स्थापित कर पूजन करें अथवा चावल कि धेरी पर एक सुपारी में कलावा बांधा कर गणपति के रूप में पूजन संपन्न करें | तत्पश्चात पंचोपचार गुरु पूजन संपन्न करें | और चार माला गुरु मंत्र कि करें अब अपने स्वयं के शरीर को गुरु का हि शरीर मानते हुए अपने आपको गुरु में लीं करते हुए आज्ञा चक्र में “परमतत्व गुरु” स्थापन करें |

 परमतत्व गुरु स्थापन –

ऐं ह्रीं श्रीं अम्रताम्भोनिधये नमः| रत्ना-द्विपाय नम: | संतान्वाटीकाय नम: | हरिचंदन-वाटिकायै नम: | पारिजात-वाटिकायै नम: | पुष्पराग-प्रकाराय नम: |गोमेद-रत्नप्रकाराय नम: | वज्ररत्न्प्रकाराय नम: | मुक्ता-रत्न्प्रकाराय नम: | माणिक्य-रत्नाप्रकाराय नम: | सहेस्त्र स्तम्भ प्रकाराय नम: | आनंद वपिकाय नम: | बालातपोद्धाराय नम: | महाश्रिंगार-पारिखाय नम: | चिंतामणि-गृहराजाय नम: | उत्तर द्वाराय नम: | पूर्व द्वाराय नम: | दक्षिण द्वाराय नम: | पश्चिम द्वाराय नम: | नाना-वृक्ष-महोद्ध्य्नाय नम: | कल्प वृक्ष-वाटिकायै नम: | मंदार वाटिकायै नम: | कदम्ब-वन वाटिकायै नम: | पद्मराग-रत्न प्राकाराय नम: | माणिक्य-मण्डपाय नम: | अमृत-वपिकायै नम: | विमर्श- वपिकायै नम: | चन्द्रीकोद्राराय नम: | महा-पद्माटव्यै नम: | पुर्वाम्नाय नम: | दक्षिणा-म्नाय नम: | पस्चिम्माम्नाय नम: | उत्तर-द्वाराय नम: | महा-सिंहासनाय नम: | विश्नुमयैक-पञ्च-पादाय नम: | ईश्वर-मयैक पञ्च पादाय नम: | हंस-तूल-महोपधानाय नम: | महाविभानिकायै नम: | श्री परम तत्वाय गुरुभ्यो नम: |


Aim hreem shreem amritaambhonidhye namh .  Ratn-dwipaay namh .  santaan-vatikaayai namh . paarijaat  vatikayai namh . puspraag-prakaaraay namh. Gomed ratn –praakaaraay namh. Vajra ratn praakaaraay namh.  mukta –ratn-praakaaraay namh. Manikya –ratn praakaaraay namh. Sehestra stambh praakaaraay namh. Anand-vapikayai namh.  Balatpoddhaaraay namh.  Mahashringaar-paarikhaayai  namh.  Chintamani – grihraajaay namh.  Uttardwaraay namh.  Purv-dwaraay namh.  Dakshin dwaraay  namh. Paschim  dwaraay namh .  nana-vriksh-mahodhyaanaay namh.  Kalp vriksh-vatikaayai namh. Mandaar vaatikaayai namh.  Kadamb-van vatikaayai  namh.  Padmraag-ratn  praakaaray  namh.  Manikya –mandpaay namh.  Amrit-vapikaayai namh.  Vimrsh-vaapikaayai namh .  chandrikodraay namh.  Mahaa-padmatvyaai namh.  Purvamnaay namh.  Dakshina-mnaay namh. Paschimmaamnaay namh.  Uttar-dwaraay namh.  Maha-sinhaasnaay namh. Vishnumyaik-punch-paadaay  namh.  Eshwar-mayaik punch paadaay namh.  Hans-tul-mahopdhaanaay namh.  Mahaavibhanikayai namh. Shree param tatvaay gurubhyo namh.

      इस प्रकार परमतत्व गुरु को अपने आज्ञा चक्र में स्थापित करने के बाद एक पात्र में जल कुमकुम अक्षत और पुष्प कि पंखुड़ियां लेकर गुरु कि द्वादश कलाओं को अर्ध दें
 द्वादश कला पूजन:-
 ऐं ह्रीं श्रीं कं भं तपिन्यै नम: |
(“ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं अं सूर्य मण्डलाय द्वादश्कलात्मने अर्घ्यपात्राय नम:”, प्रत्येक मंत्र के बाद इस मंत्र से पात्र में रखे हुए कुमकुम मिश्रित जल से दुसरे पात्र में अर्घ्य देने हैं )
 ऐं ह्रीं श्रीं खं बं तापिन्यै नम:|
 ऐं ह्रीं श्रीं गं फं धूम्रायै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं घं पं विश्वायै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं ड़ं नं बोधिन्यै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं चं धं ज्वालिन्यै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं छं दं शोषिण्यै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं जं थं वरण्योये नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं झं तं आकर्षण्यै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं ञं णं मयायै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं टं ढं विवस्वत्यै नम:|
ऐं ह्रीं श्रीं ठं डं हेम-प्रभायै नम:|

Aim hreem shreem kam bham tapinyai namh.
(“Aim hreem shreem kleem am sooryamandalaay dwaadashkalaatmane arghpaatray namh”)
Aim hreem shreem kham bam taapinyai namh.
Aim hreem shreem gam fam dhoomraayai namh.
Aim hreem shreem gham pam vishvaayai namh.
Aim hreem shreem dam nam bodhinyai namh.
Aim hreem shreem cham dham jwaalinyai namh.
Aim hreem shreem chham dam shoshinyai namh.
Aim hreem shreem jam tham varnyoye namh.
Aim hreem shreem jham tam aakarshanyai namh.
Aim hreem shreem iyam  ndam namh.
Aim hreem shreem tam dham vivasvatyai namh.
Aim hreem shreem ttham dam hem- prabhayai namh.


  उपरोक्त कला पूजन में “ऐं ह्रीं श्रीं” लक्ष्मी के बीज मंत्र हैं अतः इस प्रकार ये लक्ष्मी के सभी स्वरूप हमारे शरीर में समाहित हो जाते हैं |

कोई भी धन का सही उपयोग तभी जीवन में पूर्ण आनंद और ऐश्वर्या देता है जब कि लक्ष्मी के साथ सुख, सम्मान, तुष्टि-पुष्टि, ओर संतोष भी प्राप्त हो अतः सोलहकला पूजन विधान है | इसके लिए गुरु को अर्घ्य पात्र में जल, अक्षत, पुष्प, कुमकुम लेकर समर्पित करें | पहले निम्न मंत्र से मूल समर्पण करें फिर सोलह कलाओं के प्रत्येक मंत्र के साथ अर्घ्य पात्र में समर्पित करें |

ऐं ह्रीं श्रीं सौं उं सोम-मण्डलाय षोडशी कलात्मने अर्घ्य पात्रामृताय नमः |

Aim  hreem  shreem  saum  um  som-mandalaay  shodashi  kalaatmane  arghya  paatraamritaay namah .  

  इस अर्घ्य को समर्पित करते समय उसका जल थोड़ा थोड़ा करके सोलह बार ग्रहण करें, इसके बाद गुरु कि सोलह कलाओं का अर्घ्य पूजन करें |



सोलह कला पूजन –


ऐं ह्रीं श्रीं अं अमृतायै नमः |
(ऐं ह्रीं श्रीं सौं उं सोम-मण्डलाय षोडशी कालात्मने अर्घ्य पात्रामृताय नमः )
 ऐं ह्रीं श्रीं आं मानदायै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं इं तुष्टयै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं ईं पुष्टयै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं उं प्रीत्यै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं ऊं रत्यै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं ॠं श्रीयै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं ऋृं क्रियायै नमः |
ऐं ह्रीं श्रीं लृं सुधायै नमः |
ऐं ह्रीं श्रीं लृं रात्रयै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं एं ज्योत्स्नायै नमः |
ऐं ह्रीं श्रीं ऐं हैमवत्यै नमः |
ऐं ह्रीं श्रीं ओं छायायै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं औं पूर्णीमायै नमः |
 ऐं ह्रीं श्रीं अः विद्यायै नमः |
ऐं ह्रीं श्रीं वः अमावस्यायै नमः |


  Aim  hreem  shreem am  amritaayai  namah. 
(Aim  hreem  shreem  saum  um  som-mandalaay  shodashi  kalaatmane  arghya  paatraamritaay namah . )

 Aim  hreem  shreem  aam  maandaayai  namah.
  Aim  hreem  shreem  im  tushtayai  namah.
  Aim  hreem  shreem  eem  pushtayai  namah.
 Aim  hreem  shreem  um  preetyai  namah.
 Aim  hreem  shreem  oom ratyai  namah.
  Aim  hreem  shreem  rim(ऋं)  shriyai namah.
   Aim  hreem  shreem rim kriyayai namah. 
  Aim  hreem  shreem lrim sudhayai namah.
   Aim  hreem  shreem lrim ratryai  namah. 
  Aim  hreem  shreem aim jyotsnayai namah.
  Aim  hreem  shreem aim haimvatyai namah.
 Aim  hreem  shreem om chayayai namah.  
 Aim  hreem  shreem aum purnimayai namah.
 Aim  hreem  shreem ah vidyayai namah.
   Aim  hreem  shreem vah amavasyayai namah.

इसके बाद गुरु के मूल मंत्र का जाप करें “ॐ परम तत्वाय नारायणाये नमः “ (om param tatvaye narayanaye  namah )इस मंत्र कि एक माला फेरें या जो आपका गुरु मंत्र है उसकी माला करें | अब अपने सामने किसी पात्र में दीपक और कपूर जलाएं | फिर अपने शारीर में हि गुरु को समाहित मानकर बेठे हि बेठे समर्पण और आमंत्रण आरती करें |


पूर्ण सिद्ध आरती

अत्र सर्वानन्द – मय व्यन्दव - चक्रे परब्रह्म - स्वरूपणी परापर - शक्ति - श्रीमहा – गुरु देव – समस्त – चक्र – नायके – सम्वित्ती – रूप – चक्र नायाकाधिष्ठिते त्रैलोक्यमोहन – सर्वाशपरी – पुरख – सर्वसंक्षोभकारक – सर्वसौ – भाग्यादायक – सर्वार्थसाधक – सर्वरक्षाकर – सर्वरोगहर – सर्वासिद्धीप्रद – सर्वानन्दरय – चक्र – समुन्मीलित – समस्त – प्रकट – गुप्त – गुप्ततर – सम्प्रदाय – कुल – कौलिनी – निगम – रहस्यातिरहस्य – परापर रहस्य – समस्त – योगिनी – परिवृत – श्रीपुरेशी – त्रिपुरसुन्दरी – त्रिपुर – वासिनी – त्रिपुरा – श्रीत्रिपुरमालिनी – त्रिपुरसिद्धा – त्रिपुराम्बा – तत्तच्चक्रनायिका – वन्दित – चरण – कमल – श्रीमहा – गुरु – नित्यदेव – सर्वचक्रेश्वर – सर्वमंत्रेश्वर – सर्वविद्येश्वर – सर्वपिठेश्वर – त्रलोक्यमोहिनी – जगादुप्तत्ति – गुरु – सर्वचाक्रमय तन्चक्र – नायका – सहिताः स – मुद्रा, स – सिद्धयः, सायुधाः, स – वाहनाः, स – परिवाराः, सर्वो-पचारे: श्री परमतत्वाय गुरु  परापराय – सपर्यया पुजितास्तर्पिता: सन्तु |  

इसके बाद हाँथ जोड़कर क्षमा प्रार्थना करें-

श्रीनाथादी गुरु – त्रयं गण – पति पीठ त्रयं भैरव सिद्धोध बटुक – त्रयं पद युग्म दूती क्रमं मंडलम वीरानष्ट – चतुष्क – षष्टि – नवकं वीरावली – पंचकं, श्रीमन्मालिनी – मंत्रराज – सहितं वन्दे गुरोर्मंडलम |

 स्नेही भाइयों बहनों इस प्रकार यह पूर्ण लक्ष्मी साधना केवल एक बार किसी भी अमावस्या को या किसी भी रात्री को या दीपावली को संपन्न करने से  पूर्ण लक्ष्मी सिद्धि प्राप्त होती है |

 इस नव वर्ष की शुरुआत इस महत्वपूर्ण साधना से करें और पूर्ण आनंद ओर सुख, समृद्धि को प्राप्त करें, इसी अकांक्षा के साथ नव वर्ष कि शुभकामनाएं |

निखिल प्रणाम,

रजनी निखिल

***NPRU***