There was an error in this gadget

Saturday, December 27, 2008

आपस की बात


विगत दिनों मेरे पास काफी संदेश और काल्स यह जानने के लिए आए थे की पारद क्रिया से सम्बंधित प्रमाणिक सामग्री कहा से उपलब्ध हो सकती है , तो मेरे भाइयों पारद क्रिया के लिए प्रमाणिक सामग्री का लगभग अकाल सा रहता है और बाजार में जो सामान मिलता है वो भी ओरिजनल हो ऐसी कोई ग्यारंटी नही है । और एक बातो सत्य है की यदि प्रमाणिक सामग्री नही मिल पाती तो क्रिया सफल नही हो सकती , इस लिए यदि आप में जिसे भी जो सामग्री चाहिए मुझे आप सूचित करियेगा मैं आपको वो सामग्री उपलब्ध करवाने का प्रयास करूँगा. क्यूंकि कुछ सामान तो हमारे देश में कम मात्र में ही सही मिलता है पर कुछ सामग्री का आयात बाहर से होता है , और जो सामान यहाँ मिलता है उसमे भी व्यापारियों की कुछ कारीगरी हो जाती है जिससे सामग्री के गुणों में न्यूनता आना स्वाभाविक है जैसे पारद में एक तो वैसे भी दोष होते हैं ऊपर से बाजार में व्यापारी उसमे अपने थोड़े से लाभ के लिए और ज्यादा , सीसा, रांगा, जस्ता, कैडियम , आदि मिला देते हैं और इन अशुद्ध धातुओं और तापान्तर के कारण बाजार में उपलब्ध पारद पूर्ण रूप से षंड हो जाता है अब चाहे कोई लाख सर पटके यह पारद वेधन कर ही नही सकता . लोग बाजार से पारा ले लेकर कीमिया की कोशिश करते रहते हैं न तो औषधि ही प्रमाणिक बन सकती है और न ही लोह वेध की क्रिया हो पाती है . कुछ ऐसा ही अन्य सामग्रियों के लिए भी होता है चाहे वो वज्राभ्रक हो, रक्त गंधक हो , कायम हरताल हो, श्वेत गुरु हो (जिसके द्वारा कैसी भी वनस्पति से रस और दूध निकाला जा सकता है) . एक बात तो तय है की यदि सामग्री प्रमाणिक हो तो क्रिया सफल होती ही है . यदि आप चाहेंगे तो अष्ट संस्कृत पारद (या फिर अलग अलग संस्कारों यथा पहला ,दूसरा संस्कार युक्त पारद ) भी मैं आपको उपलब्ध कराने का प्रयास करूँगा , मेरा उद्देश्य आपकी सफलता और इस विद्या का प्रसार है जिसमे मैं आपका सहयोग ही चाहूँगा .हालाँकि मुझे इस बात का बेहद दुःख है की इतनी दुर्लभ विद्या के लिए जो ग्रुप बनाया गया उसके कुल सदस्य ६ महीने में सिर्फ़ १६ ही हैं . मेरे एक आत्मीय मित्र की देवरंजिनी गुटिका भी उनके निर्देशानुसार मैंने बना कर रखी है पर उनका एड्रेस लाख प्रयास के बाद भी उपलब्ध नही हो पाया है , और न ही उन्हें मेरे मेल्स मिल रहे होंगे क्यूंकि यदि उन्हें मिलते तो वो कांटेक्ट जरूर करते. उनकी पूँजी मेरे पास संचित, सुरक्षित है. खैर आप लोगो को या आपके किसी मित्र को जिनकी रुचि पारद विज्ञानं में हो और वे इस पर मेहनत करके सकारात्मक परिणाम चाहते है तो आप सामग्री के लिए जरूर बताइयेगा . एक बात और की यहाँ पर बात क्रय-विक्रय की नही हो रही अपितु उपलब्धता की हो रही है , आप को सफलता मिले बस इसी कामना की सफलता के लिए सदगुरुदेव से प्रार्थना करता हूँ.

****आरिफ****

Friday, December 19, 2008

सदगुरुदेव और पारद विज्ञान


भारतीय शास्त्रों में पारद की दूसरी संज्ञा “ रस” भी कही गयी है और इस अर्थ की विवेचना करते हुए कहा गया है:

“जो समस्त धातुओं को अपने में समाहित कर लेता है तथा बुढापा रोग व मृत्यु की समाप्ति के लिए रस पूर्वक ग्रहण किया जाता है वो “रस है”

इश्वर के लिए भी कहा गया है की “ रसो वै सः ”

वस्तुतः प्राचीन कालम से ही ऋषियों के प्रयास से ही पारद का प्रयोग केवल, लोह सिद्धि और औषधियों के लिए ही नही अपितु कायाकल्प, विशिष्ट विद्याओं की प्राप्ति और सहज समाधि अवस्था को प्राप्त करने के लिए भी किया गया है.

यहाँ तक कहा गक्या है की बिना रस सिद्ध हुए व्यक्ति कैसे मुक्ति प्राप्त कर सकता है.

भारतीय रसायन सिद्धों ने स्वर्ण निर्माण के अलावा साधना जगत में पारद का प्रयोग कर वायु गमन सिद्धि, शून्य सिद्धि, अदृश्य सिद्धि, देह लुप्त क्रिया भी सिद्ध की.

और इन्ही रस सिद्धों के कारण भारतीय रसायन विद्या सुदूर देशों में पहुची.जिसे कीयागिरी का नाम दिया गया.

पारद की महत्ता इतनी अधिक व्यापक रही की लगभग सभी सम्प्रदाय के साधकों ने इसका अपने अपने तरीके से प्रयोग कर सम्प्रदायों को समृद्ध व शक्ति संपन बनाया.

यद्यपि इन सभी की मूल रुचि तो स्वर्ण निर्माण में थी , किंतु इन्ह्ने यह भी अनुभव किया की कुछ विशेष क्रियाओं के द्वारा यदि पारद का भक्षण कर लिया जाए शरीर का कायाकल्प हो जाता है.

और यह क्रिया तभी हो पति है जब की पारद के अन्दर के विष को ८ संस्कारों कद वर निकाल कर उसे अमृत में बदल दिया जाता है . तथा ऐसा पारद यदि विशेष विधियों के द्वारा किसी कुशल रस ज्ञाता की देख रेख में यदि उचित मात्र में ग्राहम किया जाए तो सारे शरीर का कायाकल्प हो जाता है, और यह क्रिया इतनी तीव्र होती है की जिसमे वर्षो या महीनो नही बल्कि कुछ हफ्तों का ही समय पर्याप्त होता है.

सदगुरुदेव डॉ. नारायण दत्त श्रीमाली जी का योगदान पारद जगत में कोई नही भूल सकता . विभिन् शिविरों ,ग्रंथो में उन्होंने पारद के ऐसे ऐसे सूत्र प्रकट किए हैं जिन्हें सुनकर और क्रिया रूप में करके आदमी दांतों टेल अंगुली दबाने को विवश हो ही जाता है. पारद के १०८ संस्कारों से समाज का परिचय सबसे पहले उन्होंने ही करवाया . वे १०८ संस्कार जिनके विश्जय में लोगो ने कभी सुना भी नही , सदगुरुदेव ने इन संस्कारों को प्रत्यक्ष करके भी दिखाया.

“ स्वामी निखिलेश्वरानंद जी ने हस्ते हुए कहा ‘इतना ही क्यूँ ! अनंत शक्ति संपन इस पारद से , हम जो चाहे कर सकते हैं – हवा में उड़ सकते हैं, अदृश्य हो सकते हैं , सोने का ढेर लगा सकते हैं, अक्षय यौवन का वरदान प्राप्त कर सकते हैं, यौगिक शक्ति प्राप्त करके परकाया प्रवेश कर सकते हैं”.
“मेरी बात सुनकर स्वामी जी गंभीर हो गए , कुछ सोचते रहे , फिर बोले की पारद को बुभुक्षित करने जो तांत्रिक क्रिया है , उससे तो इतना सोना बन सकता है की – स्सोने की लंका ही बन जाए.

‘रावण शिव भक्त था . शिव का ही तत्व पारद है रावण ने मंत्रो के द्वारा पारद को बुभुक्षित कर पारस बनाकर स्वर्ण की लंका बनाई थी.’

निखिलेश्वरानंद जी ने बताया की ‘सुद्ध किया हुआ पारद शरीर में दिव्व्य क्रियाओं से यदि प्रवेश करा दिया जाए तो हिमालय की बर्फीली चोटियों पर तुम नंगे शरीर घूम सकते हो, ठण्ड का कोई प्रभाव तुम पर नही पड़ेगा.उन्होंने वैसा करके मुझे दिखाया भी . उन्होंने पारद की गुटिका मुझे देकर कहा ,’ इसे मच में रख कर चाहे जितनी दूर की यात्रा करो ,थकान नही होगी, कोई छूट की बिमारी नही होगी, भूख प्यास नही लगेगी, यदि इसे गले में धारण करके परकाया प्रवेश किया जाए तो शरीर की दीर्घकाल तक रक्षा करती है, यदि कोई इसे निगल ले और कालांतर में उसकी मृत्यु हो जाए तो शव में लंबे समय तक कोई परिवर्तन नही होगा.

( उड़ते हुए संन्यासी से साभार)

चाहे सिद्ध सूट बनाना का तरीका हो या फिर पारद के गोपनीय सूत्रों का शिष्यों को ज्ञान कराना . कभी भी सदगुरुदेव ने कोई कमी नही की. उन्होंने सिद्ध सूट बनाने का सरलतम विधान भी बताया.

चाहे वो सवित्र कुष्ठ से निदान हो या कृपता का सुन्दरता में परिवर्तन .

चंद्रोदय जल बनाने का विधान भी उन्होंने शिष्यों क्ले सामने १९८९ में बताया .जिसके द्वारा पारद बंधन की क्रिया अत्यन्त सरलता से हो जाती है और यह जब सम्पूर्ण रोगों से देह को मुक्त रखता है.

पारद द्वारा गौरान्गना का निर्माण जिसके उपयोग से एक दिन में ही गोरापन प्राप्त किया जा सकता है. जबकि बाजार में उपलब्ध बड़े से बड़े उत्पाद भी ऐसा नही कर पाए हैं.

पूज्य गुरुदेव की कृपा से वाराणसी क एक साधक ने तेलिया कांड द्वरा पारद को सुद्ध स्वर्ण में परिवर्तित कर दिया था.

उन्होंने बताया की पारद ६ प्रकार से फलदायक है – दर्शन, स्पर्श,भक्षण,स्मरण,पूजन एवं दान . पारद को इतना पवित्र मन गया है की इसकी निंदा करने वाला भी परम पापी मन गया है.

अष्ट संस्कारित पारद की गुटिका या मुद्रिका का निर्माण कर धारण करने से शरीर वज्र तुली हो जाता है, यह गुटिका साधक को मानसिक या शारीरिक व्याधियों से भी मुक्त रखती हैं. और सम्मोहन की आभा देती है . यो भी पारद का सम्मोहन और वशीकरण की क्रियाओं में एक प्रमुख स्थान है और अत्यन्त उच् कोटि की वशीकरण साधनाये पारद गुटिका को वशीकरण गुटिका के रूप में परिवर्तित कर के ही की जाती है .

रस सिद्ध साधक ८ संस्कारों से युक्त पारद देने में अत्यन्त हिचकिचाहट का अनुभव करते हैं . पर सदगुरुदेव ने इन संस्कारों से युक्त पारद की गुतिकाए और मुद्रिकाए उपलब्ध करवाईं.

इसके अतिरिक्त पारद के विग्रह बनाने का विधान और उनसे कैसे लाभ पाया जा सकता है कौन कौन सी क्रियायें करना चाहिए , यह सबन भी साधको को समझाया.

उन्होंने बताया की पारद के विग्रहो की इतनी महत्ता क्यूँ है, क्यूंकि धन मानव जीवन का अनिवार्य अंग है उसके बिना जीवन सुचारू रूप से नही चल सकता . और एक मात्र पारद ही वो धातु है अक्षय है . तथा अपनी चंचलता में लक्ष्मी की चंचलता को समाहित किए हुए है . इस लिए उसको बंधन करते ही स्वतः ही लक्ष्मी का बंधन होने लगता है और एनी धातुओ की भाति इसकी शक्ति समय के साथ कमजोर नही होती जैसे की एनी यंत्रो की जो ताम्बे आदि से बने हो उनकी चैतन्यता कुछ वर्षो तक ही रह पाती है पर पारद आजीवन प्रभाव शाली रहता है.

पारद शिवलिंग का स्थापन वास्तु दोष दूर करता है और उसकी निर्माण विधि पर पहले भी बहुत कुछ लिखा जा चुका है. इनका स्थापन कर यदि नित्य जल चढाते हुए ‘ॐ नमः शिवाय’ का ११ बार जप कर वह जल थोड़ा पी लें तो कुछ ही दिनों में अपूर्व यौवन की प्राप्ति होती है. तथा ऐसे पारद शिवलिंग पर विशेष मन्त्र से सोमवार को कुबेर साधना करने से अक्षय सम्पाती की प्राप्ति होती है. त्राटक करते हुए यदि पारदेश्वर पर यदि पूर्व जन्म दर्शन साधना की जाए तो निश्चय ही ऐसा सम्भव होता है . वायु गमन और शून्य आसन की सिद्धि का तो पारद शिवलिंग आधार ही है .

पारद लक्ष्मी के विषय में भी बहुत कुछ बताया जा चुका है, यदि पारद लक्ष्मी का पूजन करके सौन्दर्य लक्ष्मी मन्त्र का जप किया जाए तो अपूर्व सुन्दरता प्राप्त होती है.

पारद श्रीयंत्र का निर्माण कर यदि भूगर्भीय मंत्रो से उसे सिद्ध कर के भवन बनाते समय यदि भूमि में दबा दिया जाए तो भवन सदैव लक्ष्मी के विविध रूपों से भरा रहता है.

शायद आप लोगो को याद होगा की आज से १२-१५ साल पहले बेरोजगारी हमारे देश की सबसे बड़ी समस्या थी पर सद्ग्रुदेव द्वारा जबसे रास्त्र-पति भवन में पारदेश्वर की स्थापना करने के बाद आज हमारा देश कैसा प्रगति कर रहा है आप सभी देख सकते हैं, वैश्विक मंडी के इस दौर में बड़े बड़े विकसित देश कंगाली के कगार पर पहुच गए पर . हमारा देश आज भी सीना ताने खड़ा है .

पारद दुर्गा और पारद कलि जैसे जटिल विग्रहों का निर्माण तभी सम्भव हो पाटा है जब ललिता सहस्त्रनाम और नवार्ण मन्त्र का जप करते हुए इन्हे बनाया जाए बाद में कैसे उन्हें अभिसिक्त किया जाए यह विधान भी उन्होंने समझाया. ऐसे चैतन्य विग्रह के सामने ‘दुर्गा द्वात्रिन्स्न्नाम माला’ का पथ करने पर कैसी भी व्याधि हो उससे आजीवन मुक्ति मिलती ही है.

पारद गणपति, तथा पारद अन्नपूर्ण के निर्माण की गोपनीय विधियां भी सदगुरुदेव ने शिविरों में बतायी जिससे साधक को समस्त सुखों की प्राप्ति होती ही है. और भी बहुत कुछ गुरूजी ने प्रदान किया शिष्यों को.

क्या क्या बताऊ …॥ इतना कुछ है मेरे सदगुरुदेव के बार में बोलने के लिए की शब्द मौन हो जाते हैं। आज हम जिस परम्परा से जुड़े हुए हैं , उस पर गर्व करने से बड़ा सुच आर आनद कुछ नही है. बस हमें इस परम्परा को आगे बढ़ाना है. यही संकल्प हम लें , यही हम सदगुरुदेव से प्रार्थना करे.


****आरिफ****

Wednesday, December 17, 2008

रस शास्त्र के अद्भुत ग्रन्थ

पारद तंत्र ब्रह्माण्ड का सर्व श्रेष्ठ तंत्र है इसमे कोई दो मत नही है. ऐसा मैं इस लिए नही कह रहा हूँ की मैं ख़ुद रस शास्त्र का अभ्यास करता हूँ बल्कि इस लिए मैं ऐसा कह रहा हूँ क्यूंकि यह एक मात्र वो तंत्र है जिसके द्वारा सृजन , पालन और संहार की क्रिया संपन होती है. सदगुरुदेव कहते हैं की ६४ तंत्रों में यह सबसे महत्वपूर्ण और अन्तिम तंत्र है मतलब इस तंत्र तक पहुचने के लिए आपको सारी चुनौतिया पार करनी पड़ती हैं, अपने आपको साबित करमा पड़ता है , और यदि इस बात को ग़लत मानते हैं तो बताइए की आज ऐसे कितने लोग हैं जो प्रमाणिक रूप से १८ संस्कार करके दिखा सकते हैं.

सदगुरुदेव की विराट महिमा का एक पहलु यह भी रहा है की उन्होंने सबसे पहले समाज के सामने उन १०८ संस्कारों के विषय में बताया जिनके विषय में कभी लोगो ने सुना भी नही था. आख़िर ऐसा क्यूँ था? इसकी वजह यह रही है की पारद ८ संस्कार के बाद शक्ति वां होकर आपको भौतिक और शारीरिक उपलब्धियां देता है , यह तो ठीक है पर १८ के बाद तो वो विपरीत क्रिया करने लगता है और उसे संभालना और नियंत्रण में रखना बहुत कठिन कार्य या ये कहे की लगभग असंभव ही हो जाता है . यदि इसे नियंत्रित कर लिया जाए तो साधक को ब्रह्माण्ड के वे रहस्य उपलब्ध हो जाते हैं जिनके विषय में शायद कल्पना भी नही की जा सकती.

सदगुरुदेव ने स्वर्ण तन्त्रं में कहा है की यदि मुझे २-४ शिष्य भी मिल जाए तो मैं भारत को उसका आर्थिक गौरव पुनः दिला सकता हूँ, साथ ही साथ उन ग्रंथो को भी फिर से समाज के सामने रखा जा सके जो पारद जगत के दुर्लभ ग्रन्थ हैं.

रस शास्त्र का अध्यन करने वाले साधको के लिए यह ग्रन्थ अनिवार्य हैं क्यूंकि यह सारे ग्रन्थ न सिर्फ़ प्रमाणिक हैं बल्कि कालातीत भी हैं.

इन ग्रंथों में वर्णित क्रियायें साधकों को विस्मित कर देती हैं . अलग अलग सम्प्रदाय की गुप्त क्रियाओं को समझना और क्रियात्मक रूप से करने का आनंद ही और है. विदेशों में लोग रस तंत्र को सिर्फ़ दर्शन शास्त्र तक ही रखे हुए हैं पर हमारे यहाँ इनका कई बार प्रमाणिक रूप से दिग्दर्शन भी कराया है. यह ग्रन्थ हैं:

स्वर्ण तन्त्रं

स्वर्ण सिद्धि

स्वर्ण तन्त्रं (परशुराम )

आनंद कन्द

रसार्नव

रस रत्नाकर – नित्य नाथ

रस रत्नाकर – नागार्जुन

रस ह्रदय तंत्र

रस सार

रस कामधेनु (लोह पाद)

गोरख संहिता (भूति प्रकरण)

वज्रोदन

शैलोदक कल्प

काक चंदिश्वरी

रसेन्द्र मंगल

रसोप्निशत

रस चिंता मणि

रस चूडामणि

रसेन्द्र चिंतामणि

रसेन्द्र चूडामणि

रस संकेत कलिका

रस पद्दति

रोद्रयामल

लोह सर्वस्व

रसेन्द्र सार

और भी अनेक ग्रन्थ हैं जिन्हें प्राप्त कर अध्यन करमा ही चाहिए क्यूंकि जब आप इनका अध्यन करेंगे तभी आप हमारी गौरवशाली परम्परा के मूल्यों को समझ पाएंगे.

****आरिफ****

Tuesday, December 16, 2008

Alchemicle stages

rasa vada or metallic alchemy is never the end by itself,nor was it ever meant for the economic prosperity of any individual.on the other hand,it was only a means and a step preparatory for the higher processing of mercury into "rasa linga" which is said to possess extraordinary cosmogenic and biogenic energies required for the highest human aspirations comprising of 1.longvity 2.perpetual good health 3.happiness and wealth energy 4.freedom and liberation from bondagerasa linga is fused and cristalized ,mercury cone with other minerals technically caled"odes" and sarcastically called 'philosphers stone'. quite a number of these odes are described in printed manuals like 'ras kamdhenu' and 'rasarnava tantra' and classified in to khechari,bhuchari and other miscellaneous groups according to their nature and properties. the method of the therapeutic action on the human bodies of the odes is styled'deha vada' and that property will be prossessed only by the odes made with mercury,which was well possessed for 'loha vedha' or prossessing the property of converting itself into golds, as well as converting baser metals like copper and lead in to gold,therefore ,lohavedha or convertibility of mercury in to gold is only a test for the perfection of the prossessing for fitness for employment in the clinical procedure of deha vedha, through the further process vof rasa bandhana.again ,as each ode is valued many hundred times more than its weight in gold,it will be terribly uneconomic and the aspirant is forbidden from entertaining ideas of commercialisation of the knowledge of the art of utilizing the gold for his personal and domestic economy. being a branch of artharva veda ,there are quite a number of printed books and cartloads af palmleaf manuscripts in private and public libraries ,each containing scores of yogas for making gold and rasa lingas.but need more practice in this field under master.if u want success.

Sunday, December 14, 2008

पारद की महत्ता


सदगुरुदेव कहते हैं की वे लोग धन्य हैं जिन्होंने जीवन में पारद के दर्शन किए हो और जो पारदेश्वर की साधना में रत हो. क्यूंकि पारदेश्वर और पारद लक्ष्मी के माध्यम से ही जीवन की वे उन्चैयाँ हमें प्राप्त होती हैं जिनकी चाहत हमें होती है.

पारद शिवलिंग संसार का दुर्लभ शिवलिंग होता है यदि उस दिव्व्य व शुभ्र प्रवाहित पारद को स्वर्ण ग्रास देकर भव्य व आबद्ध बनाया जाए . और यह ग्रास देने की क्रिया ३२ बार होनी चाहिए . क्यूंकि ऐसा स्वर्ण ग्रास दिया पारद ही जीवन में भौतिकता और आध्यात्मिकता का समावेश करता है. यहाँ पर सदगुरुदेव ने बहुत ही विशेष बात कही है की स्वर्ण ग्रास के बगैर पारद पूर्णता दे ही नही सकता . फिर चाहे उस निर्बीज (बिना ग्रास लिए हुए) का आप शिवलिंग या पार्देश्वरी बनाओ या फिर उसे भस्म करो क्यूंकि शास्त्र कहता है की निर्बीज पारद को भस्म करने वाला नरक गामी होता है वो शिव हत्या का दोषी होता है. और यह ग्रास देने की क्रिया विजय काल से प्रारम्भ होनी चाहिए. तथा जहा पर पारद शिवलिंग स्थापित हो या निर्माणित हो रहा हो वह पर आग्नेय कोण में पार्देश्वरी स्थापित होना चाहिए.

भगवान् शिव के दिव्व्य ३२ रूपों को तभी आबधिकरण किया जा सकता है जब उनके प्रत्येक रूप के जप द्वारा ग्रास दिया जाए. इसी प्रकार हीरक ग्रास भी ३२ बार लक्ष्मी के ३२ रूपों की स्थापना के लिए दिया जाता है और यह पूर्ण प्रक्रिया १६ घंटो में होती है प्रत्येक घंटे में २ बार शिव चैतन्य होते हैं और दो बार लक्ष्मी.

इस प्रकार जो पारद प्राप्त होता है उससे निर्माणित विग्रह अद्विय्तीय होता है पूर्णता दायक होता है और ऐसे ही शिवलिंग और लक्ष्मी पर की गयी साधना फलीभूत होती ही है . वैसे भी जो लोग दूकान से पारद के विग्रह खरीद कर स्थापित करते हैं उन्हें कोई अनुकूलता इसी लिए नही मिलती क्यूंकि जब पारद अष्ट संस्कार के बाद बुभुक्षित होता है तो उसे भोजन देना अनिवार्य है , आप ख़ुद ही सोचिये की जो ख़ुद भूखा हो वो आप को तृप्ति कैसे दे सकता है. और दूसरी बात दुकानों पर मिलने वाले विग्रह पारद से नही बल्कि सीसे से या जस्ते से निर्मित होते हैं जिनमे नाम मात्र का पारद होता है , न उनमे चेतना होती है न ही कोई संस्कार. अब वो आपको पूर्णता कैसे दे सकते हैं. यह जीवन का सौभाग्य होता है की जीवित गुरु से इन विग्रहों को प्राप्त कर अपने घर में स्थापित करें और ऐश्वर्य व साधनात्मक स्टार की उच्चता की प्राप्ति करे जो होती ही है. इन ६४ दिव्य लक्ष्मी- शिव रूपों के आलावा उनमे ४ और विशिष्ट शिव रूपों की भी स्थापना होती है. इस प्रकार ६४ तंत्रों की दिव्व्य शक्तियों से यह विग्रह संयुक्त हो जाते हैं. यदि इन प्रक्रियाओं से युक्त पारदेश्वर और पार्देश्वरी घर में स्थापित हो तब कैसा भी बुरा ग्रह प्रभाव, तंत्र प्रभाव, पूर्व जन्म्क्रित दोषों से सद्फ्हक को मुक्ति मिलती है.

और ऐसा विग्रह ही आपको वो अनुकूलता और पूर्णता देता है जैसा की आप चाहते हैं. ऐसी पार्देश्वरी ही आग्नेय कोण में स्वर्णावती बनकर स्थापित होती है और खुशियों की बारिश करती हैं.

ऐसे पारद शिवलिंग पर ही शैव गुरु साधना , पूर्व जन्म दर्शन साधना ,तथा सप्त लोक भेदन साधना होती है जो की सदगुरुदेव द्वारा विश्व की श्रेष्ट दीक्षाएं में भी दी हुयी है.
एक महत्वपूर्ण बात याद रखिये , ऐसे विग्रह पूर्ण शुभ्र और दैदीप्यमान होते हैं जो सम्मोहन क्षमता और दिव्व्य तेज से आपको आप्लावित कर देते हैं , तो आइये और सदगुरुदेव से इन विग्रहों को प्राप्त कर जीवन को सफल बनायें

****आरिफ****

Saturday, December 13, 2008

दिव्य तत्व पारद

प्राचीन भारत की समृद्धि का आधार पारद था . धातु परिवर्तन की प्रक्रिया में निपुण हमारे पूर्वजों ने इस देश को सोने से सजा दिया था , इसका मतलब यह नही की ऐसा उन्होंने सिर्फ़ लोह सिद्धि से ऐसा किया था बल्कि कई दिव्य साधनाओं से उन्होंने श्री और सम्पन्नता को बाँध कर रखा था जिससे उनके जीवन में किसी भी प्रकार की न्यूनता नही थी , यह अलग बात है की हमने अपने पूर्वजों की थाती को संभल कर नही रखा वरना आज हमारी ऐसी दुर्दशा तो कम से कम नही होती. सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में पारद ही एकमात्र तत्व है जिसके द्वारा मोक्ष और ऐश्वर्य दोनों ही पाए जा सकते हैं. इसी विद्या के द्वारा कलयुग में भी जगत गुरु आदी शंकराचार्य ने स्वर्ण वर्षा करवा कर दिखाया था . उनके गुरुदेव श्री गोविन्द पादाचार्य का पारद व लोह सिद्धि पर लिखा रस ह्रदय तंत्र ग्रन्थ विख्यात है .जिसमे दी गयी क्रियाये आज भी उतनी ही सत्य हैं जितनी तब रही होंगी.

पारद बंधन की दिव्य क्रिया का मन्त्र साधना द्वारा योग करके कई अद्भुत परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं . सदगुरुदेव ने बताया है की यदि साधना स्थल के ईशान कोण में यदि चैतन्य और विजय काल में निर्मित पारदेश्वर और आग्नेय कोण में यदि राजस मंत्रों से पारद लक्ष्मी की स्थापना यदि की जाए तो पारद लक्ष्मी का स्वरुप स्वर्णावती में बदल जाता है . और तब साधक को जिस ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है उसका वर्णन सहज नही है .पुरातन काल की उसी परम्परा को सदगुरुदेव ने आज भी जीवित रखा रखा है . कौन सा ऐसा ज्ञान रहा जो की उन्होंने शिष्यों को न दिया हो.

पारद के सर्वोपरि होने का महत्त्व पूर्ण कारण था उसका आत्म स्वरुप होना , उसका दिव्य होना. जब हम पारद का शुद्धि कारन करते हैं तो हमारा भी शुद्धिकरण होता है , पारद की चंचलता के साथ हमारे मन की चंचलता भी आबद्ध होती जाती है .आप ख़ुद ही सोचे की यदि असीमित शक्ति शाली पारद और ऐसी ही शक्ति से परिपूर्ण हमारे मन पर हमारा नियंत्रण हो जाए . उनकी चंचलता हमारे काबू में आ जाए तो फिर क्या असंभव है हमारे लिए. क्यूंकि सभी सिद्धियों का मूल तो चित की एकाग्रता ही है न.

दिव्य वनस्पतियों का संस्कार और मंत्रों का योग पारद के साथ आपको भी चैतन्यता दे जाता है . यही कारण है की जब हम ऐसे दिव्य पारद विग्रहों को घर में स्थापित करते हैं तो स्वतः ही सकारात्मक उर्जा , आकर्षण , तेज से हमारा व्यक्तित्व भी भरता चला जाता है , और इसमे कोई अतिशयोक्ति भी नही है . क्यूंकि यदि आपने स्वर्ण तन्त्रं पढ़ी होगी तो सदगुरुदेव ने बताया है की आठ संस्कारों से युक्त पारद से बनी गुटिका सभी तंत्रों के प्रभावों को दूर कर के वशीकरण छमता देती है.

जग विख्यात है की यदि व्यक्ति ब्रह्म हत्या का भी दोषी हो या कैसे भी पाप उसने किए हो तब भी पारद का स्पर्श , दर्शन व पूजन सभी दोषों से मुक्त कर देता है.

Monday, December 1, 2008

पारद लक्ष्मी

जीवन में मानसिक और भौतिक उन्नति के लिए धन की उपयोगिता को नाकारा नही जा सकता. क्यूंकि कहावत है की “शत्रु को समाप्त करना हो तो उसकी आर्थिक प्रगति के सोर्स को ही ख़त्म कर दो वो ख़ुद ही ख़त्म हो जाएगा”.

सदगुरुदेव ने कभी भी यह नही कहा की दरिद्र रहने में म्हणता है. न ही जितना है उतने में सुखी रहो जैसे वाक्यों को शिष्यों को दिया .
भाग्य को सौभाग्य में बदलने और जीवन स्टार को उचा उठाने के लिए ही उन्होंने प्रत्येक शिविर में धन व सौभाग्य से सम्बंधित साधनाएं शिष्यों और साधकों को करवाई.
इन्ही साधनों में पारद लक्ष्मी जो श्री का ही प्रतिक है का प्रयोग व स्थापन पूर्ण प्रभाव दायक है. जिस घर में भी पार्देश्वरी स्थापित होती हैं ,उस स्थान पर दरिद्रता रह ही नही सकती , ऐश्वर्य व सौभाग्य को वह पर आना ही पड़ता है , मुझे अपने जीवन में जो भी सफलता व उन्नति की प्राप्ति हुयी है ,उसके मूल में भगवती पार्देश्वरी की साधना और स्थापन का अभूतपूर्व योगदान है.

हमें पार्देश्वरी से और आर्थिक उन्नति से सम्बंधित कुछ बातो की जानकारी होनी चाहिए :

पारद लक्ष्मी का निर्माण विशुद्ध प्रद से होना चाहिए क्यूंकि पारद चंचल होता है और लक्ष्मी भी चंचल होती हैं , इस लिए पारद के बंधन के साथ लक्ष्मी भी अबाध होते जाती हैं.
पार्देश्वरी का निर्माण श्रेष्ठ व धन प्रदायक योग में होना चाहिए.


पार्देश्वरी के निर्माण के लिए पारद मर्दन करते समय तथा उनके अंगो को बनते समय राजस मंत्र का जप २०००० बार होना चाहिए इसमे १०००० मंत्र खरल करते हुए सामान्य रूप से तथा १०००० बार लोम विलोम रूप से मंत्र के प्रत्येक वर्ण का स्थापन उनके अंगों में करना चाहिए. राजस मंत्र जो की आधारभूत मंत्र या पूर्ण वर्णात्मक मंत्र कहलाता है के बिना इनका निर्माण करने पर चैतन्यता का आभाव रहता है तथा यह एक विग्रह मात्र होती हैं जिसे घर में रखने पर कोई लाभ नही होता . येही वजह है की जब आप किसी दुकान से इस प्रकार की मूर्ति खरीदते हैं तो कोई लाभ नही होता भले ही आप उनकी कितनी भी पूजा कर लें.

पार्देश्वरी का स्थापन आग्नेय दिशा में होना चाहिए.

इसके बाद आप सद्द गुरुदेव से इनका मंत्र प्राप्त कर प्रयोग करे , यदि प्रयोग नही भी कर पते तब भी इनका स्थापन उन्नति के पथ पर आपको अग्रसर करता ही है.

आप इन बातो का ध्यान रखे और देखे की कैसे सम्पन्नता आपके गले में वरमाला डालती है।

****arif****

Saturday, November 29, 2008

पारद विज्ञानं और काल ज्ञान

वर्षों से लोग पारद के ऊपर परिश्रम कर रहे हैं. लाखो रुपयों का सोना खरीद खरीद कर जला डाला पर नतीजा वाही शून्य . वर्षो परिश्रम कर भस्म बनाई पर वो है की वेधन करने को ही तैयार नही … अब गलती किसकी है क्या क्रिया को दूषण दे. नही यह तो उचित नही होगा क्यूँ की यदि क्रिया ग़लत होती तो उसी क्रिया का प्रयोग कर जितने रस- सिद्ध हुए हैं उन्होंने सफलता कैसे प्राप्त करी.

असफलता के वसीभूत होकर साधक इस विज्ञानं को ही ग़लत बताने लगता है जबकि ऐसा नही है . इन्ही कारणों से इस विज्ञानं को गुरु के मार्गदर्शन में करने के लिए कहा गया है क्यूंकि शास्त्रों में सब कुछ तो नही लिखा गया है न.

तंत्र के अन्य भागो की तरह पारद तंत्र में भी ज्योतिष के द्वारा सही समय के चयन को महत्त्व पूर्ण मन गया है और उस पर शोध किया गया है . श्रेष्ट मुहूर्त में की गयी रस क्रिया सफल होती ही है . कुछ खास नक्षत्रों और कालों में की गयी क्रिया से रस सिद्धि की प्राप्ति होती है. जैसे हस्त नक्षत्र और स्वर्ण सिद्धि मुहूर्त, वेध क्रिया सिद्ध मुहूर्त, ऐसे ही चयनित सप्ताह के दिवसों में भी इन करियों को संपादित किया जाता है .

पारद कर्म में सफलता पाने के लिए कोमल दिवसों को चयनित कर क्रूर दिवस को त्याग दिया जाता है . इसी प्रकार जन्म कुंडली के द्वारा और हस्त परिक्षण कर यह भी देखा जाता है की साधक के ग्रह उसे रस कार्यों के लिए अनुकूलता देते हैं या नही , कही साधक दग्ध हस्त तो नही है , उसकी कुंडली में रस कार्यों की सफलता का योग है या नही.

इसके अतिरिक्त प्रत्येक संस्कार में मंत्रों का भी प्रयोग किया गया है जिससे पारद शक्ति संपन हो कर सफलता दे व वनस्पतियों की उर्जा और मंत्रों की उर्जा से संपन होकर रसेन्द्र बन सके .
जैसे की पारद की नापुन्शाकता , उसकी शंद्ता को दूर करने के लिए उसका संस्कार करते समय निम्न मंत्र का प्रयोग किया जाता है :

नमस्ते विश्व रुपये वैश्वनार्सू मुर्तये
नमस्ते जल रुपये सुत्रतं वपुषे नमः .
यस्मिन सर्वे लिंग देहा ओत प्रोत व्यवस्थिता
नमः पराजय स्वरुपये नमो व्याकृत मुर्तये.
नमः परत्व स्वरुपये नमस्ते ब्रह्म मुर्तये
नमस्ते सर्व रुपये सर्व लक्श्यतं मुर्तये .


इसी प्रकार प्रत्येक संस्कार व पारद के पक्ष छेदन के मंत्र अलग अलग हैं जो की साधक को उसका अभिस्ठ देते हैं और काल ज्ञान व मंत्र ज्ञान के द्वारा रस क्रिया पूर्ण होती है तथा साधक को रस सिद्धि मिलती है .

तो आइये और सद्गुरु के चरणों में निवेदन करे और इन गोपनीय सूत्रों को प्राप्त करके सिद्धता की और कदम आगे करे .


****आरिफ****

Friday, November 28, 2008

पारदेश्वर और रासेश्वरी दीक्षा

जिस विज्ञानं के द्वारा जीवन में आमूल-चूल परिवर्तन किया जा सकता है . तंत्र का वो श्रेष्ट तं रूप्सिर्फ़ पारद विज्ञानं में ही दृष्टिगोचर होता है . तंत्र के इस प्रभाग से जीवन को पूर्ण रूप से संवारा जाता है और जीवन के सभिश्रेष्ठ उद्देश्य इस से पूरे किए जा सकते है.

यह शिष्यों का सौभाग्य हैकि आज भी हमारे मध्य में इस दिव्या साधना के समस्त सूत्रों को प्रदान करनेवाले तत्वज्ञ सदगुरुदेव के रूप में हैं .

मुझे यह तो नही पता की आप मेरी बातों को कितना ज्यादा समझते होंगे. पर यदि मुझे कुछ मिला है तो आप भी उस विषय को सद्गुरु से प्राप्त कर सकते हैं.
मैं बार बार आप लोगो से निवदन करता हूँ की आप पारद और उसके महत्त्व को समझे ........

इस ब्रह्माण्ड में पारद ही वो धातु है जो की पूर्ण रूपसे प्रकृति के पंचभूतों को स्वरूपित करता है:
सॉलिड - ( पृथ्वी)
liquid- water (jal)
chanchal-air (vayu)
light(tez)- fire (agni)
sukshma - sky (aakash)

अपने इन्ही स्वरूपों के कारण यह भगवान् शिव के पञ्च कृत्यों का सञ्चालन भी करता है .

श्रृष्टि
पालन
संहार
तिरोभाव
अनुग्रह

अब तो कोई अभागा ही होगा जो कृपा के इन पक्षों को प्राप्त न करे.

यदि हम अपने जीवन ऐश्वर्य और दिव्यत्व के रंगों से भरना चाहतेहैं तो हमें पारदेश्वर की स्थापना करना चाहिए और उनका पूजन करमा चाहिए.उनके पूजन से सर्व विध मनोरथ पूरे होते हैं .

जिन साधकों की अभिलाषा रस विज्ञानं में सफलता पाने की है वे रसेश्वर गायत्री मंत्र का जप अधिक से अधिक करें.

पारदेश्वर के २ प्रकार होते हैं :
१.सकल पारदेश्वर- इनका निर्माण गोल्ड, सिल्वर,अभ्रक और रत्नों आदि केद्वारा पारद बंधन करके होता है. इन धातुओं के ग्रास्सन के कारण साधक को ऐश्वर्या और मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है .जिससे जीवन के सभी पक्ष संवर जाते हैं.

g२. निष्कल पारदेश्वर â€" इनका निर्मान्पूर्ण रूप से दिव्या वनस्पतियों और पारद के द्वारा होता है .यह रसेश्वर योगियों के मध्य अध्यात्मिक उर्जा देने के लिए विख्यात है. और इनकी साधना भी उन्हें ही फलीभूत हैं क्योंकि एक मर्यादित जीवन का पालन गृहस्थों के लिए सम्भाव्नाही है.


रस विज्ञानं में सफलता और सिद्ध्होने के लिए रासेश्वरी दीक्षा अनिवार्य ही है , इस दिव्व्य दीक्षा के द्वारा साधक के शरीर में गुरु उन दिव्या बीज मंत्रों और शक्ति का स्थापन कर देता है जिसके द्वारा साधक को सफलता मिलती ही है , और वे रहस्य भी ज्ञात हो जाते हैं जो काल व पात्र की मर्यादा के कारण गुप्त रखे जाते हैं.

इस दीक्षा के ५ चरण होते हैं.:

१.समाया दीक्षा
२. साधक दीक्षा
३. निर्वाण दीक्षा
४. आचार्य दीक्षा
५. सिद्ध दीक्षा

इस दीक्षा के बाद आपको सद्गुरु से पारद के रसेन्द्र स्तोत्र , निष्कल रस्स्तोत्र और रासेश्वरी मंत्र की प्रप्तिहोती है जिसके द्वारा पारद की देवदुर्लभ बंधन प्रक्रिया सहज हो जाती है .....

रसेश्वर गायत्री मंत्र :
ऍम रसेश्वराय विद्महे रस अंकुशाय धीमहि तन्नोह सुतः प्रचोदयात

अब मैं तो सिर्फ़ यही कह सकता हूँ ki yadi अभी भी हम नही जागे तो हमारे दुर्भाग्य के दोषी हम ही हैं और कोई नही.......


****आरिफ****

Wednesday, November 26, 2008

Alchemical stages

rasa vada or metallic alchemy is never the end by itself,nor was it ever meant for the economic prosperity of any individual।on the other hand,it was only a means and a step preparatory for the higher processing of mercury into "rasa linga" which is said to possess extraordinary cosmogenic and biogenic energies required for the highest human aspirations comprising of 1.longvity 2.perpetual good health 3.happiness and wealth energy 4.freedom and liberation from bondagerasa linga is fused and cristalized ,mercury cone with other minerals technically caled"odes" and sarcastically called 'philosphers stone'. quite a number of these odes are described in printed manuals like 'ras kamdhenu' and 'rasarnava tantra' and classified in to khechari,bhuchari and other miscellaneous groups according to their nature and properties. the method of the therapeutic action on the human bodies of the odes is styled'deha vada' and that property will be prossessed only by the odes made with mercury,which was well possessed for 'loha vedha' or prossessing the property of converting itself into golds, as well as converting baser metals like copper and lead in to gold,therefore ,lohavedha or convertibility of mercury in to gold is only a test for the perfection of the prossessing for fitness for employment in the clinical procedure of deha vedha, through the further process vof rasa bandhana.again ,as each ode is valued many hundred times more than its weight in gold,it will be terribly uneconomic and the aspirant is forbidden from entertaining ideas of commercialisation of the knowledge of the art of utilizing the gold for his personal and domestic economy. being a branch of artharva veda ,there are quite a number of printed books and cartloads af palmleaf manuscripts in private and public libraries ,each containing scores of yogas for making gold and rasa lingas.but need more practice in this field under master.if u want success.
****आरिफ****

Tuesday, November 25, 2008

कच्छप श्री यंत्र के गूढ़ रहस्य

वो यन्त्र जो भौतिक समृद्धि और ऐश्वर्या का प्रतिक मन जाता है और जो सर्व विध मनोकामना की पूर्ति करता है निश्चित ही सिर्फ़ श्रीयंत्र ही हो सकता है.हजारो लाखो वर्षों से सम्पनता का प्रतिक यही रहा है.
कभी सदगुरुदेव ने बताया था की जहा लक्ष्मी साधना से प्राप्त धन उनके चांचल्य गुणों के कारन सहज ही नही पास में रुकता और उसे स्थाई करने के लिए उसका अबद्धिकरण आवश्यक होता है वही श्रीविद्या या श्रीयंत्र से प्राप्त धन और ऐश्वर्या न सिर्फ़ वरदायक होते हैं अपितु शुभता के साथ स्थाई भी होते हैं .
आख़िर क्या है श्रीयंत्र की ज्यामितीय संरचना में जो की आज भी अबूझ पहेली बनकर विदेशी शोधकर्ताओं के सामने राखी हुयी है.यह तो नितांत सत्य है की इसके प्रत्येक रेखा में कई कई शक्तियां जो की जीवन को श्रेष्टता देती हैं आबद्ध हैं.
और जब इस यन्त्र राज के साथ श्री सूक्त का सम्बन्ध हो जाता है तो फिर आभाव को तो समाप्त होना ही है.
पर इसके विभिन् भेड़ों में से प्रत्येक भेद एक अलग प्रभाव से युक्त है. सदगुरुदेव ने बताया था की प्रत्येक राष्ट्र की भौतिक व अध्यात्मिक उन्नति के सूत्रों का अंकन किसी आकृति के रूप में कर दिया जाता था और उस रहस्य को समझ कर तदनुरूप क्रिया करने पर वे सूत्र साकार हो जाते हैं और ऐश्वर्या की प्राप्ति होती ही है.हमारे राष्ट्र की सर्वांगीं उन्नति के गुह्य सूत्रों का अंकन श्रीयंत्र के रूप में किया गया है.यह तो हम सभी जानते हैं की श्रीयंत्र की साधना से सफलता की प्राप्ति होती है.पर श्रीयंत्र का सबसे बड़ा रहस्य तो यह है की उसमे पारस , सिद्ध सूत और स्वर्ण निर्माण के सूत्र हैं जो ज्यामितीय रूप में अंकित हैं और वही श्री सूक्त उन क्रियाओं का शाब्दिक रूप से अंकन है. और सदगुरुदेव ने स्वर्नातान्त्रम, स्वर्णसिद्धि, अल्चेमी तंत्र में इसका उल्लेख भी किया है.श्री यन्त्र का सुमेरु कच्छप भेद के ऊपर तनिक विचार करेंगे तो आप को स्वयं ही समझ में आ जाएगा की वो रहस्य क्या है बस आपने रस्विज्ञान का थोड़ा अभ्यास किया हो ...... अरे भाई कच्छप सुमेरु यन्त्र की आकृति कैसी होती है ?
........
अरे नीचे एक कच्छप होता है,उसके ऊपर सुमेरु आकर में यन्त्र जो उस कच्छप की पीठ पर अवस्थित होता है .और उस सुमेरु के सर्वोच्च बिन्दु में ऐश्वर्यदात्री लक्ष्मी अवस्थित हैं.रस तंत्र में कच्छप यन्त्र का बहुत महत्व पूर्ण स्थान है,जिसके द्वारा शिव वीर्य की शक्ति राज से क्रिया करी जाती है मतलब गंधक जारण कराया जाता है और तब पारद रसेन्द्र पथ पर अग्रसर होता है.इसी क्रम में दिव्या वनस्पतियों या सिद्ध तत्वों से क्रिया कराकर पारद को सिद्ध सुता और स्वर्ण में परिवर्तित किया जाता है और यह सब होता है इसी कच्छप श्रीयंत्र में.
जिसमे यन्त्र भूमि के नीचे होता है जो की नीचे से पानी में हल्का सा डूबा रहता है.और उस यन्त्र के ऊपर अजस्र या निश्चित मात्र में अग्नि का प्रयोग किया जाता है,और यही अग्नि जिसका प्रतिक उर्ध्वमुखी त्रिकोण है उस कच्छप जो की भूमि में छुपा हुआ है पर अवस्थित रहता है .अब जब उस अग्नि के द्वारा उस यन्त्र में सिद्ध रस का मंथन होता है तो उस अग्नि रुपी पर्वत के शीर्ष पर लक्ष्मी को उपस्थित होना ही पड़ता है.और अपने वरदान से साधक को उसका अभिस्थ फल देना ही पड़ता है।


****आरिफ*****

स्वर्ण रहस्यम


आप सभी का मैं आभार मानता हूँ की आप लोगो में प्राचीनतम विधाओं को जानने और अपनाने की ललक है. मैंने पिछले मेल में स्वर्ण रहश्यम के बारे में बात की थी. मेरा उद्देश्य किसी प्रकार का प्रचार करना नही है.
यह हम सभी गुरु भाइयों की जिम्मेदारी है की यदि हमारे पास कोई ज्ञान है तो हम उसे हम अपने पास न रख कर उसे और भी भाइयों को दे. याद रखिये की कभी भी सदगुरुदेव ने कुछ छुपाया नही बल्कि जिसने जो कुछ भी माँगा उसे सहर्ष ही उन्होंने दे दिया .क्योंकि ठहरा हुआ पानी भी बदबू देने लगता है. फिर हम सब तो जिवंत ग्रन्थ बन्ने की राह पर अग्रसर हैं.
पारद विज्ञानं की दुर्गति का एक सबसे बड़ा कारण लोगो की संचयी प्रकृति का होना है. गुरुदेव ने बहुत सारे शिष्यों को इस विघ्याँ का ज्ञान दिया था. पर न जाने क्यों उन्होंने इस विघ्याँ को आगे नही बढाया.
रस विघ्याँ दिव्या ओउर परिश्रम से भरा हुआ है.इसे सिर्फ़ पढ़ कर नही समझा जा सकता बल्कि इसे आत्मसात करने के लिए लगातार और अथक परिश्रम की जरुरत है,तभी आप इसमे सफल हो सकते हैं.किताबें सिर्फ़ पथ दिखा सकती हैं.
७०० पृष्ठों में लिखित स्वर्ण रहस्यम में २१ अध्याय हैं:-
:-****** introduction
१.रस सिध्धि प्रदाता स्वामी निखिलेश्वरानंद जी
२.रासेश्वरी साधना एवं उसका प्रयोग
3.कच्छप सुमेरु श्री यन्त्र(स्वर्ण निर्माण का गुप्त रहस्य)
४.रस शोधन (41 विधियां )
५.रस से रसेन्द्र तक (एक आत्मीय यात्रा)
६.पाश्चात्य व भारतीय रस पद्धति
७.रस व स्वर्ण साम्यवाद
८.रस शास्त्र की दिव्य साधनाये


९ धातु परिवर्तन सम्भव है
8. अष्ट संस्कार (क्योंकि पारद जीवित- जाग्रत है)
११ सिद्ध सूत ( नाथ योगियों की दिव्य विधियां )
१२.अग्नि स्थायित्व एक अनिवार्य कर्म
१३.९ से १८ तक संस्कार(जारण से वेधन योग)
१४.सिध्ध रस निर्माण
१५.पारद परस गुटिका (निर्माण एवं साधना)
१६.दिव्या वनस्पतियाँ जो उपलब्ध हैं( परिचय रंगीन चित्रों के साथ )
१७..स्वर्ण निर्माण के ५१ प्रयोग
१८.काल ज्ञान और रस विज्ञानं


१९.सिध्ध रस एवं कायाकल्प
२०.मृत्युंजयी गुटिका,अघोर धंदा गुटिका,भूचरी गुटिका,खेचरी गुटिका, आदि


२१.क्या पारस बन सकता है
और भी बहुत कुछ है उन साधकों के लिए जो बदलना चाहते हैं अपना भाग्य अपने परिश्रम से.
आप जो भी जानकारी रस विज्ञान के बारे में चाहेंगे अवश्य देने का प्रयास करूँगा.
प्रार्थना कीजियेगा की सदगुरुदेव मेरे इस प्रयत्न को सार्थक करे।

**** आरिफ****

change to gold


आधुनिक रसायन शास्त्र की दृष्टि से प्रत्येक तत्त्व का अपना एक्परमाणु संघटन होता है,जो की उस तत्त्व की अपनी विशेषता प्रदान करता है और किसी अन्य तत्त्व के परमाणु से वैभिन्य प्रदर्शन में मदद करता है.किसी भी तत्त्व के परमाणु एक जैसे होते हैं(अयुसोतोप अपवाद है).मोटे रूप में परमाणु संघटन सौरमंडल के संघटन के जैसे होता है.लोर्ड रुथरफोर्ड के सिद्धांत के अनुसार प्रत्येक परमाणु का एक केन्द्र या नाभिक होता है, इस्नाभी का निर्माण होता हैदो तरह के हैवी कानो से :
1. protons(+ prapranu)
2.nutrons(- prapranu)
इस केन्द्र के आस पास अलग अलग कक्षाओं में एलेक्ट्रोंस नाम के लगभग भार विहीन -विध्युतात्मक कण लगातार गति करते हैं.
पारद के प्रत्येक परमाणु के सेंटर में ८० प्रोटोन और १२० नेउत्रोन होते हैं,इस तरह इकाई का भर २०० होता है,और सेंटर के ८० एलेक्ट्रोंस चक्कर लगते रहते हैं.
गोल्ड का परमाणु अंक ७९ है और परमाणु भर १९७.......
मतलब पारद ज्यादा करीब है गोल्ड के ,तब तो इसे गोल्ड में बदला जा सकता है पारद के परमाणु को १ प्रोटोन से इस तरह विद्ध किया जाए की वह सेंटर में सेंटर में क्षण भर ठहर कर हेलियम के रूप में बहार आ जाए तो पारद का गोल्ड बन जाएगा:

80 hg200+ip1=79 au 197+he4

parad ke परमाणु सेंटर में से २ - ३ + - विद्युत कण बाहर निकलने के लिए उस सेंटर को तेज ठोकर लगने पर ही यह ट्रांस्मुटेशन होगा.
यह काम पढने में तो सरल लगता है,पर है बहुत कठिन,इसीलिए पारद के ८-१८ संस्कार किए जाते हैं। शत गुन गंधक का जारण,क्रमण ,खरल ,पुट तथा बिडों आदि के द्वारा उनके अनु,रेनू,परमाणु को भेद कर सुक्षमातिसुक्ष्मा करना.
यदि हम इस जानकारी को ध्यान में रखकर क्रिया करेंगे तो हमें सफल होना ही है.और इस ज्ञान को आत्मसात कर अपनी लाइफ को हैल्थ और वेअल्थ से भर लेना है.पारद संस्कार आदि नेक्स्ट लेख में.........

****ARIF****

कीमिया का उद्देश्य


ज्ञानदान देने वाले सद्गुरु ही ब्रह्म,विष्णु, और सदाशिव हैं अर्थात अविचल नियमानुसार विश्व के उत्पादक,संरक्षक और संहारक जो देव मने गए हैं उनकी शक्ति सदगुरुदेव के ह्रदय में अवस्थित रहती है.इन तीन लोको में उनसा दयालु कोई नही है, और उनके चरणों में नतमस्तक रहते हुए जो भी ज्ञान की याचना करता है उसे रस सिद्धि का फल प्राप्त होता ही है.
'' we are told that a man can receive the secret knowledge only through divine inspiration or frm the lips of a master,and also that no one can complete the work except with the help of god.''

वाम संप्रदाय की प्रबल सरिता के प्रवाह में बहते हुए समाज का उद्धार करने के लिए इस श्री विद्या का (रस विद्या का) सनातन सत्य समाज को दिया गया था हमारे ऋषियों द्वारा.

विभिन्न रोगों की निवृत्ति के लिए रस का प्रयोग कर के रोग मुक्त समाज का निर्माण इस विद्या का उद्देश्य था.

निर्धनता रूपी महापाप को नष्ट करने के लिए इस रस विद्या का प्राकट्य किया गया .जिससे जीवन में दरिद्रता और गरीबी का शाप साधक को न पीड़ित करे.

"यथा देहे तथा लोहे"
इस ब्रह्माण्ड में जो शाश्वत है वो रस ही है .......
यह सृष्टि विद्युत् और प्रकास के परिणाम स्वरुप है.विद्युत, जल,और पृथ्वी के कार्यों में प्रवेश करके सूक्ष्मतम,सुक्ष्म, स्थूल, स्थुल्तम आदि विभिन्न रूपों को धारण करती रहती है.इस विद्युत का चंद्र किरण के साथ सम्मिलन होकर जो स्थूल रूपांतर होता है,वह पारद बन जाता है.उस पारद का स्थूल रूप विनाश होने पर पुनः मूल सूक्ष्मतम रूप में विलीन हो जाता है.इसके आलावा दूसरा तत्त्व सूर्य किरण है वह विद्युत के साथ सम्मिलित होकर स्थूल रूप धारण कर रक्त गंधक बन जाता है.
यही दो रस सिद्धों के मुख्या द्रव्य हैं.
विशुद्ध प्रद को स्वर्ण, अभ्रक का ग्रास देकर उसे रसेन्द्र बनाकर उससे हरगौरी रस या सिद्ध रस का निर्माण किया जाता है.इस सिद्ध रस को ही अलग अलग देशो में अलग अलग नाम से जन जाता है.
ग्रीक- उनम
china- ching chin
western country-etarnal water
islamic country- aaftaab
इसे व्हाइट रोस,रेड रोस,फिलोसोफेर' स स्टोन.एलिक्सिर वित,अर्कानुस, सोल ऑफ़ मैटर भी कहते हैं.
जीवों को रोग मुक्त और दरिद्रता से मुक्त करने के लिए ही रस सिद्ध इस हर गौरी रस का निर्माण करने के लिए अथक प्रयत्न करते रहते हैं .

****ARIF****

Monday, November 17, 2008

Alchemy and Precious stones




  • ...It is indeed very difficult to believe the Mercury could at all be converted in to Gold or Tin be converted in to silver.
    This science of Dhatuvad has not been lost even to-day. The fact is that the sadhus and siddhs ,well versed in it, do not come forword in the public.
    The success of siddhi also depends upon religion and Mantra-shastras along with Prayogas. It has been so ordained by the sciptures and the guiding preceptor that a person endowed with this Swarna –siddhi should not use its wealth in the least of himself. It has been prescribed to be used for the protection and nourishment of Siddhas knowing Vedas, cows, religion, scriptures,religiou s places etc.
    Dhatuvad is also embodied in many mss. Of Tantra such as Dattatreya tantra,Rudrayamal tantra, Uddish tantra , Harmekhla tantra etc.
    ... A very intresting part of Alchemy is called Ratna shastra. Ratna shastra is ourunrivalled wonderful science. To give an instance if 5 to 10 tolas of any of the pure Diamonds, Rubies , Emralds or Pearl taken in a powdered form and rendered in to Dravan with Mercury Ash are heated by a special process . they will constitute one large unit of stone of about equal weight. After crystallizing it, single Jewel will bring 25 to 70 lakhs of rupees, wheras in powdered form,it would have fetched aboud very diffrencive marjin. Means very very low but after crystallizing very very high cost.

    So that's only miracle of Alchemy tantra.
    If sadhak like all of you evincing intrest in our ancient lore come forword to encourage us. We can be very help ful to our country by carring on research in this secret science....
    yours

    ****ARIF****

    __._,_.___

Wednesday, November 12, 2008

मेरी यात्रा

जब भी बात प्राचीन विद्याओं की होती है मुझे यह डेक कर दुःख होता है की हमारी वर्त्मानिक पीढी का न तो अपने इतिहास पर कोई ध्यान है और न ही उन गुप्त व पुरातन रहस्यों को समझने के लिए कोई जूनून.
सदगुरुदेव ने अपना पूरा जीवन इन दिव्य व दुर्लभ ज्ञान को पुनर्जीवन देने में लगा दिया ,पर उनके इस प्रयास को समाज या हम कितना समझ पाएंगे यह तो आने वाला समय ही बताएगा. क्यूंकि समय से बेहतर परीक्षक कोई नहीं होता .

मेरे जीवन में मुझे इन्ही विद्याओं को आत्मसात करना है यह तो उसी समय निर्धारित हो गया था जब सदगुरुदेव ने मेरी अंगुली पकड़ी थी और मुझे वे इस पथ पर लेकर चले थे, मुझे याद है वे हमेशा येही कहते थे की अबकी बार खोने का कोई दर मत रखो क्यूंकि अब हाथ मैंने पकडा है. तब से आज तक उनका स्पर्श हमेशा महसूस करता रहा हूँ . जब भी कोई कठिनाई ई तो उन्होंने उसका निराकरण भी तुंरत ही कर दिया . पारद के गुप्त से गुप्त सूत्र भी सहज उपलब्ध हो गए.
यहाँ बात आत्म-प्रवंचना की नहीं हो रही है , मैं तो बस इतना कहना चाहता हूँ की एक बार सोचो तो की हमने क्या वादा किया था अपने गुरु और अपने आप से . की जीवन को पूर्ण करने का कोई अवसर नहीं छोडेंगे. फिर वे वादे कहा गए. क्या काल के गर्त में समाकर वे भी इतिहास में बदल गए?
मुझे यह तो नहीं पता की कौन है जो इस राह पर चलेगा , पर मुझे नहीं रुकना है और चलते जाना है क्यूंकि बहुत सारा बाकि है और जीवन के पल उसके बनिस्बत कही कम ही होते हैं . अभी तक जो भी मिला है वो निश्चय ही ख़ुशी देता है और प्रेरित करता है और आगे बढ़ने के लिए क्यूंकि हार तो संभव ही नहीं है यदि सद्गुरु का वरद हस्त सर पर हो तो.
मुझे इस दिव्य व दुर्लभ ज्ञान के द्वारा गुरु,देश व समाज का ऋण उतरना है .क्युकी ये सब इन्ही के आशीष से ही तो प्राप्त हुआ है और आगे भी होगा,
"मार ही डाले बेमौत ये दुनिया वो है , हम जो जिन्दा हैं तो जीने का हुनर रखते हैं"



निखिल

Saturday, October 25, 2008

Prepration of Alchemical Mercury


dear all,
hi,
Vaise to Sadgurudev ne apne granthon me paarad aur uske sodhan va samskarno ke vishay me saral va sahaj bhasha me bahut kuchh likha hai par mera yeh lekh un sadhako ke liye hai jo is vishay me abhi jude hain ya judna chah rahe hain. Pichhle lekh me maine alchemical mercury ke bare me kaha tha.
Iska kya matlab hua ???........

Alchemical mercury se matlab hota hai aisa mercury jo kam se kam 665 degree c par fire par ruke kyunki ek baat yaad rakhiye jo mercury is taap par ruk jata hai wo kisi bhi taap par ruk sakta hai. Lekin is taap par laaane ke liye pahle mercury ko uske galnaank 357 degree par lana padega . jo ki market se liya hua mercury se possible nahi hai.

Iska kaaran :..........

Natural mercury 7 kanchukiyon ya aavran se mukt hota hai. Is karan yeh vedhan kar hi nahi sakta .are siddhi si baat hai ki kanchukon ya vastron ke sath prajnan sambhav hi nahi hai. Is karan iske kanchuko ko door kar ise veeryavaan banaya jata hai .natural mercury shand rahta hai (isme vedhak sakti nahi hoti ) yahi karan hai ki bahut se sadhak market ke parad ko bagair ready kiye alchemy karte hain aur asafal hokar is vidhya ko hi dosh dete hain .kyunki shand mercury ek aisi jameen ke saman hota hai jo ki banjar hai. Aur ise upjau banane ke liye iska upchhar( samskaar) hona avshayak hota hai.

Yeh kanchukiyan kya hoti hai???.........

Bhedi,Dravi,Malkari,Dhvankshi,Parpatika,Andhkari, Paatnika

In kanchukiyon ke ya asuddhiyon ke karan parad bhakshan se alag alag vikar bhi hamari body me hote jate hain.
Vishdosh- natural mercury me arsenic, antimony,lead sulphide jaise vishaile tatv hote hain.is liye inka sevan mrityu bhi de sakta hai.

Mal dosh-natural mercury me paarad se alag dhatuyen jaise tin,zink,lead aadi bhi rahti hain isi liye aise parad ka bhakshan murchaa deta hai.

Vahni dosha-stones,arsenic, aadi aagneya guno se yukt hta hai. Aur rudra virya se tatparya (rudra yani ugra) agni roop hota hai.

Asahy agni- anya dhatuon ka mishran isme hone ki vajah se yeh apne swabhavik taap 357 deg. Ko bhi nahi bardast kar pata aur uske pahle hi udne lagta hai. Mishrit dhatuyen jaise ki bross hamesha copper ke taap se kahi neeche ke taap par melt ho jati hain.

Chapalya- iske garbh me chapal hone ki wajah se jo ki 268 deg. Par melt hoti ha khud bhi cahpal jaisa nature le leta hai.

Giridosh-parvaton se utpann hone ki wajah se isme alloy mix hote hain .aur sthan bhed ke karan har jagah ke mercury me iska effect bhi deffrent hi hote hain.
Mad va darp-mishritta iska sabse bada avgun hoti hai jiski wajah se sharir me sfot hota hai aur sevan se kusth ho sakta hai.

In karanon ke alava vyapari bhi apna art dikha kar isme ar mixing kar dete hain taki unhe arthik phayada ho sake.

Means vijatiy dravyon ke aavran ko kanchuki kaha jata hai . aur yehi karan hai ki natural mercury se alchemy possible nahi hoti hai.

Kachhap yantra ke rahasya me maine bataya tha ki uske upar sumeru arthat agni roopi trikon hota hai. Aur fire ke use se pavitrta ya vishon se mukti milti hai.
Mercury amrit hai yadi uska sodhan kar ke un samskaron ko kiya jaye jisse iske andar vyapt vish samapt hota hai.
Phir jo mercury milta hai use alchemical mercury kaha jata hai aur yehi mercury metal aur physic dono par effect (positive) deta hai..

Vaise alchemical mercury ko devolop karne ke liye sabse saral va anubhavi tarika hai hingul ya cinnabar se mercury ko nikaal kar uspar samskaar karna .
Hingul (singraf) lekar use lemon juice ya neem ke patron ke juice se kharal kar len 6 hour aur phir damru yantra ya vidhyadhar yantra ke dwara isme se parad ka paatan kar len .is tarah nikala gaya parad kanchuki mukt hota hai.aur vishech gunkaari bhi kyunki lemon me citric acid hota hai aur neem ras me organic sulphur.jo is mercury ko gandhak jarit bhi karta hai.

Is parad par samskaar se iska gunadhaan hota hai.

Lekin yadi aap aisa karne me asamarth hain to market ke mercury ko 5% nitric acid mile huye jal me kharal kar len. Ya salt,termaric( haldi) , aloyvera, aur eent ka powder lekar usme 6 hour kharal kar len aur baad me suddh jal se dhakar mercury nikal len .aur aage ke samskaar kar sake.

Upar ke dono mercury ko aage ke samskaar ke pahle aloyvera juice, chitrak, red musturd, kantkaari, triphala kvath, me 3 days tak mardan ya kharal kar ke suddh jal se dhakar nikalna chahiye.
...... Ab aapke paas jo mercury hai us par aap samskaar karke aap alchemical mercury bana kar use kar success pa sakte hain . kyonki isme wahi quality hai jiske liye kaha gaya hai ki…..


“Mercury is a silver-white liquid metal, with a slight bluish in thin films it transmits violet light.”........
aapka

****ARIF****

Friday, October 24, 2008

transmutation into gold

dear all,


... It is indeed very difficult to believe that mercury could be all be converted in to gold or tin can be converted in to silver.yet it is certain that alchemy is as true a science as any other branch.
What is alchemy????
“alchemy is an ancient science concerned with the transmutation of base metals, the more reactive metals into gold and with the discovery of both a single cure for all diseases and a way to prolong life in definity”
gurudev said “ when mercury and sulphur are perfectly pure and combine in the most appropriate natural equilibrium then the product is the most perfect of metals that is gold.
The transmutation of copper or iron into gold by siddhsuta”
In march 1942 the official organ of the all India ayurvedic congress that great alchemist pandit Krishna pal shastri of varanasi demonstrated before the late mahadev bhai desai (the secretary of mahatma Gandhi) by converting mercury to gold. For a second time he demostreted in December 1942 again he had converted 10 tolas of mercury into gold. This gold was sold there and then. In 1947 again in birla house in the presence of saith jugal kishore birla and a number of prominent other people by converting 36 pounds of metallic mercury into gold, the goldsmith tested this gold with acids and other methods and it was found quite pure. which was after all critical evalution autioned and sold away for Rupees 75,000/- and the amount was given over on the spot in charity. Thus the manufacture of gold from mercury is no longer a myth or fiction and that it is a solid fact was proved to this hilt.

For transmutation the mercury is not available in market. The alchemical mercury is prepaired in your on laboratory(if you are interested in our ancient science) ......
so we read the prepration of alchemical mercury in next article.....
yours
****ARIF****