There was an error in this gadget

Sunday, September 30, 2012

KUCHH ACHOOK TOTTKE



Make small balls of wheat flour on Friday. After that write “SHREEM” by saffron on it by silver or pomegranate pencil. Make at least 7 such balls. Maximum any number of balls can be made. If after writing “SHREEM”, it is not properly visible or if saffron spreads, then there is no point to worry. Balls should be small; size of them should not be more than that of gram. After that go to pond or river and feed the fishes by them. By doing like this, one attains the blessing of Maha Lakshmi and sadhak gets rid of financial problems.

On any Poornima day, bring one coconut. Make Swastik on it by vermillion. After that wrap this coconut with red cloth and rotate it in the whole house. After that, go to banks of any river or ocean and take off your shoes/slippers. This procedure has to be done barefooted. Pray to Lord Vishnu for removing ill-fortune and establishing peace and happiness in family, mentally recite omnamobhagawatevaasudevaay11 times and immerse the coconut. There is increase in peace and happiness in home by doing it.

 

On any Wednesday night or on the first day of Shukl Paksha, take root of jasmine or piece of it. At the time of sunset, offer dhoop and do its poojan. Afterpoojan, sadhak should sit facing North direction without clothes and reciteomvashamaanayphat 108 times without using any rosary. This procedure can be done anywhere but during mantra Jap, sadhak should not be seen by anyone. After doing this procedure, sadhak should wear this piece by binding it in thread and by putting it inside amulet. Person should wear it up till morning. In Morning sadhak should take that piece out of amulet or untie that bounded piece, take honey in one container and drown that amulet in it.After that throw away the honey and immerse the amulet or root in river, pond or ocean. Obstacles related to enemies are resolved by doing it and even hard-heart enemy takes step towards becoming friend.

 

On any Sunday Morning, at the time of sunrise, fill up one bowl with pure water. Now sadhak should sit under sunlight and reciteomhreemsuryaayNamah108 times. There is no Vidhaan of any rosary, aasan or dress. Direction should be east. Sadhak should do the mantra Jap while looking at his own shadow in the container. After it, mentally pray to Lord Sun for your progress and offer that water to any tree or plant. Sadhak attains progress in all respects.

 

On any auspicious day, take one leave of peepal tree and put it in front of you. Write “HREEM” on it by vermillion. After it, put one supaari on that Hreem beej. After it, sadhak should mentally chant Hreem as much as possible, at least it should be chanted 108 times .After it sadhak should place that leaf and supaari in any uninhibited place or immerse it.Sadhak gets solution to problems which he is facing or unknown apprehension.
================================================
शुक्रवार के दिन आटे की छोटी छोटी गोलियाँ बनायी जाए, उसके बाद उन गोलियों पर केसर से श्रीं चांदी की कलम से या अनार की कलम से लिखे. एसी कम से कम ७ गोलियों को बनाए. ज्यादा कितनी भी बनाई जा सकती है. ‘श्रीं’ लिखने के बाद अगर वह अच्छे से दिखाई नहीं देता या फिर केसर फ़ैल जाए तो चिंता की बात नहीं है. गोलीयाँ छोटी हो, चने के आकार से बड़ी ना हो. फिर इन गोलियों को किसी तालाब या नदी पर जा कर मछलियों को खिला दे. इस प्रकार करने पर महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है और साधक की धन सबंधित समस्याओ का निराकरण होता है.

किसी भी पूर्णिमा के दिन एक नारियल को लिया जाए, उस पर कुमकुम से स्वस्तिक का निर्माण करना चाहिए. इसके बाद उस नारियल को लाल वस्त्र में लपेट कर पुरे घर में घुमाएँ. इसके बाद इस नारियल को ले कर नदी या समुन्दर किनारे ले कर जाए और अपने जूते चप्पल उतार दे, यह क्रिया नंगे पाँव होनी चाहिए. अपने दुर्भाग्य की निवृति के लिए या घर में सुख शांति के लिए मन ही मन भगवान विष्णु को प्रार्थना कर ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ (om namo bhagawate vaasudevaay) का मन ही मन ११ बार उच्चारण कर के उस नारियल को प्रवाहित कर दे. इससे घर में सुख शांति की वृद्धि होती है.

किसी भी बुधवार की रात्री में या शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को चमेली की जड़ या उसका एक टुकड़ा ले. सुर्यस्स्त के समय उसको घूप दे कर उसका पूजन करे. पूजन के बाद साधक उत्तर दिशा की तरफ मुख कर के बैठ जाए तथा निर्वस्त्र हो कर उसके सामने बिना किसी माला के ‘ॐ वशमानय फट’ (om vashamaanay phat) का १०८ बार उच्चारण करे. यह क्रिया कहीं पर भी की जा सकती है लेकिन मंत्र जाप के समय किसी की नज़र साधक पर न पड़े. यह क्रिया कर लेने पर साधक को वह टुकड़ा किसी धागे में बांध कर या तावीज़ में भर का पहन लेना चाहिए. सुबह तक उसे धारण करना चाहिए. सुबह तावीज़ को निकाल कर या बांधे हुवे टुकड़े को खोल कर किसी पात्र में शहद ले कर उसमे वह तावीज़ डुबो दे. उसके बाद शहद को फेंक दे और तावीज़ को या जड़ को नदी, तालाब, समुन्दर में विसर्जित कर दे. इससे शत्रुबाधा का निराकरण हो जाता है और कठोर ह्रदय शत्रु भी वश हो कर मित्रता के लिए हाथ बढ़ा देता है.

किसी भी रविवार के दिन प्रातः सूर्योदय के समय एक कटोरे में शुद्ध पानी भर लेना चाहिए. अब सूर्य प्रकाश में बैठते हुवे साधक को ॐ ह्रीं सूर्याय नमः (om hreem suryaay namah) का १०८ बार उच्चारण करे. इसमें माला आसान वस्त्र आदि का कोई विधान नहीं है. दिशा पूर्व हो. साधक को उस पात्र में रखे पानी में अपने ही प्रतिबिम्ब को देखते हुवे मंत्र जाप करना है. इसके बाद मन में अपनी उन्नति के लिए भगवान सूर्यदेव को प्रार्थना करे और उस पानी की किसी वृक्ष या पौधे को अर्पित कर दे. साधक की सभी द्रष्टि से उन्नति होती है.

किसी भी शुभ दिन में पीपल का एक पत्ता ले तथा उसे अपने सामने रख दे.  उसके ऊपर कुमकुम से ‘ह्रीं’ लिखे. उसके बाद उस ह्रीं बीज पर एक सुपारी रखे. इसके बाद साधक मन ही मन ‘ह्रीं’ का उच्चारण जितना भी संभव हो उतना करे. कम से कम १०८ बार करना ही चाहिए. इसके बाद साधक उस पत्ते को तथा सुपारी को किसी एकांत स्थान में रख दे या प्रवाहित कर दे. साधक को अपने ऊपर आई हुई विपदा से या अज्ञात आशंका से समाधान प्राप्त होता है.

****NPRU****

LAGHU MAHA MRITYUNJAY SADHNA FOR CURING DISEASES (रोग निवारणार्थ लघु महामृत्युंजय साधना)



Shastra says that first and foremost happiness is having healthy body. But in today’s time it is not that much easy to remain healthy and disease-free. Due to the modern living pattern, this human body suffers from so many diseases and its vitality becomes so much weak that it is not able to do even normal work. In such a state, when person is tired of going to doctor and local sorcerers, he looks towards field of sadhna for providing him healthy life. One sadhna in this field of sadhna which is known and appreciated by all and tested by many is Maha Mrityunjay Sadhna….

 But knowing this sadhna and doing it and getting success are altogether different things. This anushthan demands a lot of hard-work and requires money too but when someone is facing scarcity of time and money then what should be done. This Vidhaan also has been described by our acharyas, one Laghu (small) easiest form of this supreme intense Mantra Vidhaan.

 And in today’s context, easy Vidhaans are required very much. On one hand, afflicted person or any of its family members can do it easily. On the other hand, due to absence of detailed procedures, he can concentrate completely on Mantra and his sadhna otherwise sometimes person gets entangled in sadhna rules only.We receive so many letters in this regard that some important family member has got afflicted by some serious disease; please provide us the suitable sadhna. But sometimes in this difficult situation, person or its family do not want to do anything themselves. But sadhna has to be done; there is no alternative of it.

 
No one can describe the qualities of this boon-providing form of Lord Shankar because if we consider the fact that it can free us from disease and provide us healthy body as only its first quality then what can be better than it. All the sadhnas and high-order procedures are dependent on healthy body and in absence of it, what is the option left for an afflicted person. Though there is available ultra-modern treatment pattern, but it is also true that it is very much costly and it is not possible for everyone to take complete benefit out of it.

 

For this, we have started the work so very soon; construction of high-class hospital is going to be started where everything possible will be done for the service of humanity. It will be answer to our opponents and critics. It will be very soon…..

 
Today I am going to put forward one very easy Vidhaan. Please take benefit out of it. Follow the normal sadhna rules like celibacy and physical cleanliness. Do the normal poojan and dhayan of Lord Shiva (which you know) in the starting of sadhna. If earthen idol of Lord Shiva is prepared by the sadhak himself, it will be best.

 

Mantra:

 
Om Joom Sah ( name of the sick person) PaalayPaalay Sah Joom Om ||

 
Let us assume that mantra Jap has to be done for Ram Prasad, who is the son of Dinesh Prasad then mantra will be

 
Om Joom Sah Dinesh Putram Ram PrasadPaalayPaalay Sah Joom Om ||

 

 

If it has to be done for one’s own son then …

 

Om Joom Sah Mam Putram(Name of the son)PaalayPaalay Sah Joom Om ||

 

 Side by side, read the Maha Mrityunjay Kavach, easily available in any of the religious shops by taking resolution for that particular disease. Do it with dedication. One can read it 11, 21, 51,108 times. While reciting it, one should feel that divine rays coming from Lord Maha Mrityunjay are entering sick person and providing him health.

 

This prayog can be started from any of the Monday. Morning time is better. But in case of serious problem, one can start from any day after doing Sadgurudev poojan and Guru Mantra Jap.It is better to use Rudraksh rosary for chanting. Yellow dress and aasan can be used. Keep one thing in mind that Nikhil Kavach has got its own importance along with this Prayog.

 

Since it is an easy prayog, trust, concentration and dedication will be the first stepping stone for its success.
=======================================
शास्त्र कहता हैं, की पहला सुख निरोगी काया पर आज के इस समय मे निरोगी रह पाना इतना आसान कहाँ हैं,आधुनिक जीवन शैली के कारण अनेको बीमारियों से ग्रसित यह मानव शरीर कभी कभी अपनी जीवन शक्ति से इतना क्षीण हो जाता हैं.कि सामान्य काम या कार्य करने के लिए भी यह उपयुक्त नही रह पाता, इस अवस्था मे व्यक्ति जब चिकित्सक और झाड फुक करने वालों के चक्कर लगाते लगाते व्यक्ति थक जाता हैं तब इस निराश अवस्था मे वह किस ओर जाए कि फिर से उसे आरोग्य मिल सके तब साधना क्षेत्र की ओर देखता हैं,साधना क्षेत्र मे एक साधना जिसका महत्त्व सभी जानते हैं, मानते हैं और अनेको की अनुभूत हैं वह साधना हैं महामर्त्युन्ज्य साधना ...

पर इस साधना के बारे मे जानना और करना और सफलता पा पाना, दोनों ही एक अलग अलग बात हैं.यह अनुष्ठान बहुत श्रम साध्य भी हैं और इसमे धन भी लगता हैं पर जहाँ समय और धन दोनों की कमी हो तब क्या किया जाना चहिये,इसका भी विधान हमारे आचार्य गणों ने स्पस्ट किया हैं वह हैं इस परम तेजस्वी मंत्र विधान का एक लघु सरलतम रूप ..

और आज के परिपेक्ष मे सरल विधानों की कहीं ज्यादा आवश्यकता हैं, एक तो इन्हें पीड़ित व्यक्ति या उसके परिवार के लोगों मे से कोई एक आसानी से कर सकता हैं. दूसरी ओर ज्यादा ताम झाम न रहने से वह पूरी तरह से मंत्र और अपनी साधना पर केंद्रित रह सकता हैं अन्यथा कई कई बार व्यक्ति साधनात्मक नियमों मे ही उलझ कर रह जाता हैं .हमारे पास अनेको पत्र इस हेतु आते हैं कि परिवार के कोई महत्वपूर्ण सदस्य किसी गंभीर बिमारी मे ग्रसित हो गया हैं कोई उपयुक्त साधना हेतु निर्देशन करें पर इस विकट परिस्थिति मे व्यक्ति या उसके परिवार स्वयम कई बार कुछ नही करना चाहता हैं .पर साधना तो करनी ही होगी क्योंकि इसके बिना कोई अन्य रास्ता नही .

भगवान शंकर के इस वरदायिनी स्वरुप की विशेषताए कोई भी नही गिना सकता हैं, क्योंकि अगर हम सिर्फ एक पहली विशेषता ही माने कि यह हमें रोग रूपी जहर से मुक्त कर आरोग्य रूपी अमृत पान करा सकते हैं, तब इससे उच्च बात क्या हो सकती हैं, क्योंकि सारे साधनाए,सारी उच्चताये एक स्वस्थ्य शरीर पर ही तो आश्रित हैं.और उसके न रहने पर एक रोग ग्रस्त व्यक्ति के लिए कोई उपाय शेष नही रहता हैं,यूँ तो आज अत्याधुनिक चिकित्सा शैली भी उपलब्ध हैं पर यह भी सत्य हैं,की यह बहुत अधिक खर्चीली हैं और हर के वस कि बात नही कि वह इसका पूर्णता के साथ लाभ ले पाए .

हमने इस हेतु अपना कार्य तो प्रारंभ कर दिया हैं तो शीघ्र ही आपके सामने एक उच्चस्तरीय अस्पताल का निर्माणअब प्रारंभ होने वाला हैं जहाँ पीड़ित मानवता कि सेवा मे जो संभव होगा,वह किया ही जायेगा,क्योंकि एक यही कार्य हमारे आलोचकों और विरोधियों के लिए हमारा जबाब होगा और अब देर भी नही हैं ..

आज आपके सामने एक बहुत सरल विधान रख रहा हूँ,आप इस का लाभ उठाये और यदि सामान्य साधना के नियम का पालन करते हुये जैसे की ब्रम्हचर्य पालन, और शारीरिक शुद्धि और साधना प्रारंभ करते समय सबसे पहले भगवान शिव का जो भी सामान्य पूजन और ध्यान आपसे बनता हो वह कर ले.हाँ यदि इसके लिए स्वत एक मिटटी की भगवान शिव की प्रतिमा बना ली जाए तो कहीं जयादा उचित होगा .

मंत्र:

जूं स : (बीमार व्यक्ति का नाम )पालय पालय स : जूं ||

मानलो राम प्रसाद के लिए जप करना है,जिसके पिता का नाम दिनेश प्रसाद हैं तो .मंत्र इस प्रकार से होगा .

जूं स : दिनेश पुत्रम राम प्रसाद पालय पालय स : जूं ||

स्वयम के पुत्र के लिए करना हो तो ..

जूं स : मम पुत्रम (पुत्र का नाम ) पालय पालय स : जूं ||

इसके साथ ही साथ यदि महामृत्युंजय कवच का पाठ जो किसी भी पूजा पाठ की दूकान पर आसानी से मिल जायेगा उसे भी संकल्प ले कर जिस तरह का रोग हैं स्वयम निर्धारण कर उसका पुरे मनोयोग से पाठ करें यह ११, २१, ५१,१०८ जिस भी संख्या मे आप करना चाहो आप कर सकते हैं.पाठ करते समय यह भावना रखे कि भगवान महा मृत्युंजय के शरीर से दिव्य किरणे निकल कर रोग ग्रस्त व्यक्ति मे प्रवेश कर उसे आरोग्य प्रदान कर रही हैं .

यह प्रयोग किसी भी सोमबार से प्रारंभ किए जा सकता हैं ,समय प्रात:काल उचित हैं पर समस्या अधिक गंभीर होने पर किसी भी दिन से सदगुरुदेव जी का पूजन और गुरू मंत्र जप करके प्रारंभ कर दें.रुद्राक्ष माला से जप किया जाना उचित हैं,और वस्त्र और आसन आप पीले रंग के ले सकते हैं, यह ध्यान मे रखने वाली बात होगी कि इस प्रयोग के साथ निखिल कवच की अपनी ही एक विशेषता हैं .

चूँकि यह सरल प्रयोग हैं अतः विश्वास और एकाग्रता और निष्ठा ही इसके सफलता के प्रथम सौपान होंगे.

 

****NPRU****

 

Saturday, September 29, 2012

PITRA MOKSH MOKSH




Pitra (Ancestors) are one of the very important part of our Vedic culture. There are various types of questions present before modern western science that human’s journey is not merely a journey from birth to death. Then what is the state of man before birth or after death. But our ancient sages and saints put forward various types of facts regarding this subject based on their elaborate research and subtlest analysis. Out of which one of the important aspect was related to Pitra aspect too.

Pitra has got an expanded meaning but for making a layman understand, description can be given like this.

Person is composed of body and Aatm element (soul). There is an important role of Praan element too. When physical body is combined with the Aatm element, then one attains the form of human. But after destruction of physical body, Aatm element is left. This Aatm element in order to move in astral world requires one body, this body is Vaasna Shareer. This is the first astral body. Due to this body, person’s thinkingremains the same after death as it was before death. This is called soul by us. Combination of Aatm element with subtle body is soul. Now the relatives of person i.e. family members, after their death, their relationship does not end since they are in Vaasna Shareer in which same cravings/relation exist as there were before death. Therefore, they expect same things from generation as they were expecting before death.

Now the thing is that due to craving relationship, they remain in Vaasna world rather than astral world. In other words, they live on earth only, related to our world and their movement becomes subtle. Since they are not free from bonds, they cannot accept new womb by which they can take birth and start a new life or go to astral world and rest before taking new birth.And in all these states, they have highest expectation and hope from their descendants. That’s why in our culture, there is very important place of Pitra Moksha.

 

ShraadhPaksh is commencing from firtst day of Krishna Paksha od Ashwin Month.This prayog should be done on 1st October. It is Monday and this prayog is related to Lord Shiva’s Mrityunjay form.Thus it is auspicious Muhurat for the sadhna prayog for attaing blessings of Pitra.If sadhak is unable to do this prayog on this day, he can do it on any Monday.

Sadhak attains following benefits from this prayog.

In Pitra paksha of sadhak, Pitra who are still bonded attains Mukti.They gets freedom from physical craving bonds so that they can take new birth or can take rest in Astral World.

Sadhak gets rid of all Pitra Dosh and if there is any problem due to them, he gets relief from them.

Sadhak gets the blessings of Pitra. Therefore unfinished works of sadhak are accomplished by the blessings of Pitra and he attains progress in business and money related fields.

Sadhak should do this prayog at the time of sunset. Sadhak can do it also in the Morning at the time of sunrise but if sadhak does it during sunset then it is best.

Sadhak should take bath, wear white dress and sit on white aasan. Sadhak should face North direction.

Sadhak should establish Parad Shivling or ay Shivling in front and do its normal poojan. After Poojan, sadhak should pray to whole Pitra and light Ghee lamp. Sadhak should make offering of fruits and Kheer.

After this, Sadhak should start mantra Jap. Sadhak should use Rudraksh rosary for reciting Mantras.

First of all, sadhak should chant 1 round of Maha Mrityunjay Mantra.

Om TriyambakamYajamaheSugandhimPushtivardhanam

UrvaarukmivBandhnaanMrityorMuksheeyMaamrtaat

 

After this, sadhak should chant 21 rounds of the below mantra

omjumhreem kleem pitrumoksham kleem hreemjumnamah

After chanting 21 rounds, sadhak should again chant 1 round of Maha Mrityunjay Mantra.

After it, sadhak should pray to Lord Mrityunjay for salvation of whole Pitras. And sadhak should pray to whole Pitras to give their blessings.

Fruits and Kheer should be offered to Cow. If it is not possible then it should be immersed in river, pond or ocean while remembering Pitras. Rosary should also be immersed. It is necessary to do this on the same day or next day. In this way, this prayog is completed.
======================================================
पितृ हमारी वैदिक संस्कृति का एक अत्यधिक महत्वपूर्ण भाग है. आधुनिक पाश्चात्य विज्ञान के सामने भी आज कई प्रकार के प्रश्न आज विद्यमान है की मानव यात्रा मात्र जन्म से मृत्यु तक ही नहीं है तो फिर उसके पहले या बाद में मनुष्य की क्या और किस प्रकार गति होती है. लेकिन हमारे प्राचीन ऋषियों तथा सिद्धों ने इस सबंध में बहोत ही सूक्ष्म से सूक्ष्मतम शोध और खोज कर के कई प्रकार के तथ्यों को सामने रखा था. इसमें से कई महत्वपूर्ण पक्ष में से एक पक्ष पितृ सबंधित भी है.
पितृ का अर्थ अत्यधिक वृहद है लेकिन सामान्यजन को समजने के लिए इसका विवरण कुछ इस प्रकार से दिया जा सकता है.
मनुष्य शरीर तथा आत्म तत्व से निर्मित है. प्राण तत्व का भी पूर्ण योगदान है. जब शरीर स्थूल होता है और उसके साथ आत्मतत्व का संयोग होता है तो वह मनुष्य के रूप में होता है. लेकिन स्थूल शरीर का नाश होने पर आत्म तत्व बचता है इस तत्व को भी गतिशीलता के लिए सूक्ष्म लोक में भी एक शरीर की ज़रूरत पड़ती है, यह वासना शरीर होता है. यह प्रथम सूक्ष्म शरीर है. इस शरीर के कारण व्यक्ति के मानस मृत्यु के पश्च्यात भी वेसा ही रहता है जेसा मृत्यु से पहले होता है. इसी को ही हम आत्मा का नाम देते है. आत्म तत्व के साथ सूक्ष्म शरीर का संयोग वही आत्मा है. अब मनुष्य के जो भी सबंधी होते है अर्थात जिसको हम परिवार का सदस्य कहते है उनकी मृत्यु पश्च्यात उनके आपसे सबंध विच्छेद नहीं होते क्यों की उन्हें वासना शरीर प्राप्त है जिसमे उनकी वासना अर्थात बंधन वही होते है जो की मृत्यु से पहले. इसी लिए पीढ़ी या वंसज से उनकी अपेक्षाएं ठीक उसी प्रकार से होती है जिस प्रकार मृत्यु से पहले.
अब यहाँ पर बात इस प्रकार से है की वासनात्मक बंधन के कारण उनकी गति शुक्ष्म लोक में ना हो कर वासनाजगत में होती है अर्थात वह पृथ्वी पर ही हमारी दुनिया से सबंधित रहते है और उनकी गति सूक्ष्म हो जाती है. इस प्रकार बंधन मुक्त ना होने के कारण वे नूतन गर्भ को भी स्वीकार नहीं कर पाते जिसके माध्यम से वे जन्म ले कर नया जीवन शुरू कर सके या सूक्ष्म लोक में जा कर वहाँ पर गर्भाधान से पहले विश्राम प्राप्त कर सके. और इन सब स्थितियों में उनकी अपेक्षा और आशा अपने वंश से सर्वाधिक होती है. इसी लिए हमारी संकृति में पितृ मोक्ष का अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान और महत्त्व है.
श्राद्ध पक्ष का आरंभ अश्विन महीने के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से हो रहा है. यह प्रयोग तारीख १ अक्टूबर को करना चाहिए. इस दिन सोमवार है तथा यह प्रयोग भगवान शिव मृत्युंजय स्वरुप का है अतः इस प्रकार यह पितृकृपा प्राप्ति सबंधित इस साधना प्रयोग के लिए एक श्रेष्ठ मुहूर्त है, इस दिन यह प्रयोग सम्प्पन न कर सके वे व्यक्ति इस प्रयोग को किसी भी सोमवार पर कर सकते है.
इस प्रयोग से साधक को निम्न लाभों की प्राप्ति होती है
साधक के पितृ पक्ष में अमुक्त पितृ को मुक्ति की प्राप्ति होती है तथा वह वासना शरीर से मुक्त हो कर नूतन जन्म स्वीकार करने के लिए या फिर सूक्ष्म लोक में अनुरूप विश्राम के लिए दैहिक वासनात्मक बंधनों से मुक्ति मिलती है.
साधक को सभी पितृ दोष की निवृति होती है तथा इससे सबंधित अगर कोई समस्या हे तो उसे राहत मिलती है.
साधक को पितृ कृपा की प्राप्ति होती है अतः साधक के रुके हुवे काम पितृ कृपा से आगे बढते है, व्यापर तथा धन सबंधित कार्य क्षेत्र में भी उन्नति की प्राप्ति होती है.
यह प्रयोग साधक सूर्यास्त में प्रारंभ करे. प्रातःकाल सूर्योदय के समय भी यह प्रयोग को किया जा सकता है. लेकिन अगर सूर्यास्त के समय साधक इस प्रयोग को प्रारंभ करे तो उत्तम है.
साधक को स्नान आदि से निवृत हो कर सफ़ेद वस्त्रों को धारण कर के सफ़ेद आसान पर बैठना चाहिए. साधक का मुख उत्तर दिशा की तरफ होना चाहिए.
साधक अपने सामने पारद शिवलिंग या कोई भी शिवलिंग को स्थापित करे तथा उसका सामान्य पूजन करे. पूजन के बाद साधक अपने समस्त पितृ को मान में वंदन करते हुवे उनके लिए एक घी का दीपक लगाए, साधक फल का तथा खीर का भोग लगाये.
इसके बाद साधक  मंत्र जाप शुरू करे. साधक को मन्त्रजाप के लिए रुद्राक्ष माला का प्रयोग करना चाहिए.
 साधक सर्व प्रथम महामृत्युंजय मंत्र की एक माला मंत्र जाप करे.
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्
इसके बाद साधक निम्न मंत्र की २१ माला मंत्र जाप करे
ॐ जुं ह्रीं क्लीं पितृ मोक्षं क्लीं ह्रीं जुं नमः
(om jum hreem kleem pitru moksham kleem hreem jum namah)
२१ माला के बाद साधक फिर से एक माला महामृत्युंजय मंत्र की करे.
इसके बाद साधक भगवान मृत्युंजय से समस्त पितृ प्रेत की मोक्ष के लिए प्रार्थना करे. तथा समस्त पितृ को आशीर्वचन के लिए प्रार्थना करे.
साधक इस प्रकार प्रयोग को पूर्ण करे. जो फल तथा खीर है उसे गाय को खिलाना चाहिए. अगर यह किसी भी प्रकार से संभव नहीं हो तो पितृ याद कर के उसे नदी, तालाब या समुद्र में विसर्जित कर दे. साथ ही साथ माला को भी विसर्जित कर दे. यह कार्य उसी दिन या दूसरे दिन हो जाना आवश्यक है. इस प्रकार यह प्रयोग पूर्ण होता है.

****NPRU****

Thursday, September 27, 2012

अब समय हैं कार्य के रुपरेखा निर्धारण और लक्ष्य दिशा मे आगे बढ़ने का ..




Dear Friends,
You have already heard the good news and definitely it is the time of joy and happiness. But as I have told you in the last article that in reality, testing time has now started for us. Till now, we wanted to do this and that but now we have now one step further…..that we have to do it at any cost. Definitely, we can say that may be our aim is very big but we have taken concrete step towards its materialization.
Can we do Guru Work also or can we contribute in this work??
Why not….. This is not a dream of only one person but a dream of each and every person who has been acquainted with dignity of super-humanly hard-work of Sadgurudev Ji or whose nerves have Sadgurudev’s blood running in them or who is working under his warmth of affection or who accept the fact that he has truly spent his entire life for the defence of Sanatan sadhna and never complained …then it becomes everyone’s responsibility to take this work towards completion. Let the time come .As the speed of work will increase, we will tell you all about the current proceeding and what are we going to do in this stage and what are the plans for coming stages? If this group is truly a family then
     there is no permission required to do Guru Work. Isn’t it…??
      Have you taken Diksha after asking someone??
      Will you establish Sadgurudev Ji in your heart only after asking someone?
      Will you dive in his ocean of love only after asking someone?
     Answer is no …Isn’t it?........then why not…… You can also come and play your role……but it will take some time since some preliminary but necessary procedures need to be completed….But this is work of us all…and it has to be done in such a way that we  and you should consider their respective roles to be of medium only……because there is no place for unnecessary politics, fight for mutual credit and those we can’t move with other persons…just boost of his/her own knowledge, those who take advantage of buttering and someone’s shortcomings. In other words, only Shishya is needed. All the qualities which I have mentioned, they are needed somewhere else. People possessing them can work at those places and show their dedication towards Guru.
Now is the time to discuss certain things about this hospital and its related work so that we can carry out these tasks in better manner….
As I have already told you in the previous post that now the work will be done in stages and with the felling that we are just a medium and it is my work….
1.   First Stage: was of purchasing the land. It has already been done.
2.   Second Stage: Now what will be the name of hospital which is going to be constructed? And what will be the name of herbal garden which is going to be constructed for the conservation of divine herbs?? Friends, we have already decided that as name of our magazine “Tantra Kaumadi” was suggested by senior ascetic disciples of Sadgurudev Ji like Poojniya Bengali Maa Ji, Soundarya Maa Ji, Panchami Maa Ji, Dhoorjata Maa Ji, Bhairavi Maa Ji, in the same manner we request their divine lotus feet that this time also they should direct us and the names suggested by them for this noble work will be completely acceptable to us. After all, only Maa can know very well that under what name success of their children will be the most. Mother is considered to be the first Guru. It is also correct that we could have named our magazine by the name of Sadgurudev Ji but our senior brothers have already alerted us that we would be immediately blamed for using Sadgurudev’s name for business purpose or meeting selfish ends (because now using Sadgurudev name has become monopoly of one particular organization).But now we are talking about Sadgurudev’s dream….whatever may be the problem…but the name which will be decided by our revered Maa, will be final order for us. It seem that name will necessarily have word Nikhil in it…..because this word symbolises success, progress and entire set of best qualities….Now whosoever wants to blame us, carry on. We just need orders…
Friends will only one hospital accomplish all these works?
So we have thought that this will be central hospital signifying all our energy and our aims and first of all we have to move it forward with completeness and with success. But along with it, we will also open this type of all-facility hospitals at various places. In other words, it will be chain of hospitals but the basic fact will remain the same i.e. free of cost treatment and high-level treatment…..we will not deviate from it…It will also become possible….Sadgurudev will definitely fulfil our resolution. Failure has not been written in our fate by Sadgurudev Ji. We have been bestowed upon capability by Sadgurudev that we will compel fate to run as per our dictates .So success is certain. In other words, success has been already written by Sadgurudev .Just we have to work…
But now let us focus on this project only….
Let us start with What is going to be done in this stage…..
Fencing the entire land and divine herbs which will be out of the 64 are planted as soon as possible. Out of them, the herbs which are being brought or are immediately available, entire work is taking lakhs of rupees. We have only time uptil March for it. All these are full of divinity and giving a disease-free life. After this summer season will start and then it is natural for problems to arise in this work.
In this stage, some construction activity will take place for some necessary activities so that whenever those who are willing to come into Bhoomi Poojan, they can conveniently stay here for whole one day and we can elaborately discuss among ourselves. Besides that , procedure of Bhoomi Poojan will be so expanded that this entire land is successful for us……Definitely some troublesome people will  do their task because they know some activities or they would have read somewhere…then they can also try.
This very high-level Bhoomi Poojan is required because only by purchasing land, it will bestow success and progress on you, it is not possible.
Therefore this amazing Bhoomi poojan procedure is required so that this expanded stretch of land brings success, luck and progress for all of us and it provides disease free life for all those patients who come here, it becomes capable of increase life-energy multiple times, entire set of divine herbs can exhibit their best qualities and provides cooperation to us……even for our enemies???? .Thus this very high-level Vidhaan…which has always remained hidden….which has never been done before will be done with all hidden procedures…and it will be amazing moment for all participant because radiation from this auspicious work will beautify our lives. So how will it be possible? This will only come in light on Sadgurudev’s Sanyaas Divas.
Day for Bhoomi Poojan is fixed……..Sadgurudev sanyaas Divas…..so on this day this auspicious work will be done.
After this…..
Though telling future plans is like helping your enemies and opposition….but we are not afraid of anyone ….nor they have the capability to oppose us……
So first of all, high-order bamboo huts will be made on this land. But why bamboo??
This is because of the fact that in the beginning, some special procedures will be accomplished which can provide healthy life to all of those coming on this land and provide them success in their auspicious work and resolutions. As a result, it will be necessary procedure since in concrete building, when iron rod is installed; it takes fixed energy out of sadhak and conducts it to earth. This is the reason why huts of high-level sadhaks are made up of bamboo only. So first of all construction will be done by bamboo for doing special sadhna and health-providing procedures….And the works which are going to be done will be discussed when we meet….
Will these divine herbs be left at mercy of god or will concrete steps be taken for their security???
No, how it can be done….so divine herbs will not be left at mercy of god. Sadgurudev ji is with us and each and every moment his blessings is with us all .But it does not mean that we leave entire burden on him …thus.. For securing this garden, complete surveillance will be done at any cost. We will not let anybody to play with this garden. From 21st April 2013, next stage will commence i.e. of treatment etc.
Earlier we were thinking that…… we should make declaration of commencement of work only after installation of entire machinery, after commissioning of entire facilities since it is not going to be only Ayurveda treatment centre??? But all of our revered Maa said that we do not have so much time .Therefore work should commence from 21st April 2013, may be on smaller level and side by side, we have to expand this work and do other work with very high-speed.
Because time does not wait for anyone…..So many years have passéd by, nothing has happened….Sadgurudev’s dream has been made merely a dream just as ridicule….So now no more wait…..direct work
This work has to be definitely started on 21st April 2013. For it, from last 4 months our NPRU team has been working to gather juice of herbs going into various forests….and to larger extent, they have gathered important things too. Because without authentic ayurvedic Ras and divine herbs, there is no purpose of any treatment….just for showing, praising ourselves that we will do this and that after this-2 year…no…rather it may take time for work to be completed but no waiting….work will start definitely…..
But friends it has been clarified that this hospital and coming hospitals in this chain will be splendid ……but they will be not known by their splendour rather by their success, this is our aim…
Now, let us discuss treatment padhatis which will be used here…
Friends,
Allopathic and Homeopathic Treatment:: It should not be considered inferior, its utility is all-evident. Fastest treatment and pain killing capability which it possess, nothing else has it.It may have side effects but still its utility is multiple times.Therfore, higher order machinery and treatment devices which are required for this genre, they will be installed here.High-order foreign machinery and devices will definitely be established because when we are talking about complete and accurate treatment then no relaxation with any of treatment patterns.
Aim of all these treatments is to provide person riddance from disease-troubles rather than their comparative analysis…
Nakshatra Vigyan:: What was the time of occurrence of disease for particular zodiac sign person and what type of treatment can be provided by studying constellation and what will be the sub-division of that pathy which will be used, what will be the duration of treatment and when he will become healthy….all these are the works of this Vigyaan.It is our fortune that this Vigyan alone can provide completeness to humans by freeing him from all disease. But today, who knows the utility and importance of it?
Surya Vigyan: Sun is life-giver; it is lifeline of entire world. Sadgurudev introduced this science to us in very subtle manner, which he addressed as Rashmi Vigyan. But now all the details of this Vigyan with all procedures will be in front of you all how this can provide long life to those who have lost their hope of living.
Jal Vigyan: Why this stretch of land was taken near Narmada River only. This is because Jal Vigyan is one of the complete Vigyan out of that known/unknown 1089 Vigyaan.It is one of the primary and basic element of which human body is made up. Its importance for human body cannot be described in words. But when with help of Jal Vigyan, it is used for treatment of diseases, then power and utility of this purest water will become evident.
Tantropathy:: It is probably the all-time secret Vigyan which has no end or limits. When it will be used first time along with all its forms then success will be certain. Person will attain health….how this Vigyan can be written in few lines…. When the secretive procedures of this ocean-like science will be used in the most sacred work of human life, then you yourself will be witness to it…
Yagyopathy:  You all are little bit aware of this Vigyan. Various institutions have used this Vigyan. But we will use it accurately rather than for giving comparative figures or counting our accomplishments. No organization of costly yagyas rather if bullet is fired accurately then it definitely hits the target. This Vigyan with help of many Sub-vigyans yield amazing results.
Kaal Vigyan:: Entire struggle is for life only and entire life is completely under control of Kaal. But when Kaal (Time) is made the basis for securing life, it is systematically studied and its hidden prayogs and specialities are implemented then success is certain.
Friends, it was merely an introduction of some of them. You all are pretty well aware of the unlimited capability of Parad Tantra Vigyan. Nothing is impossible for this timeless and boundless Vigyan. So I am not writing anything upon it.  You all are pretty well aware of Sammohan and other Vigyans. All of them will be used here….

And what next….
So always remember one of the moral sentences that revealing completely any plan before time are like finishing that plan itself therefore…….we will confine ourselves to plans up to 21st April only…we will keep on telling from time to time but no moral carelessness.
We all are pretty well aware of the bitterness of life….its harsh realities….its meanness…..selfishness…Thus we are not living in world of illusion nor are we unaware of any type of harsh reality….rather we are working concretely in direction of its materialization.
Now it may be any crazy guy doing it under the disguise of other name….or doing it under disguise of orders of respected…we will take care of all these things.
Very Important….Fact……From now onwards……”Trimurti Guru Bhai” should not be used.Now it will be all about Bahumurti brotehrs and sisters.
May be you all are amazed. In reality, both Arif Bhai and me do not even partly agree with this word which is used for us.So this word should not be used for us.
But why..??
So I would like to know that is Raghunath Bhai Ji NPRU (Nikhil Para Science Research Unit) or Rajni Nikhil Ji NPRU or  Rozy Nikhil Ji NPRU or Suvarna Nikhil Ji NPRU…????
No…..it is not like this, only these names do not consider themselves to be NPRU rather we have got many names within our team some of which are in front ….and some are in background, playing their respective role, small or big or are preparing for it.When Sadgurudev has never said any sentence or word among his shishyas that this is your major Guru Brother or most capable then who are we to analyze someone by seeing other’s work on the basis of their importance or need…..And at this time , it is necessary to mention them…..this is because of the dignity, enormity, seriousness of the work.
Today we have sister Sahiba Khan Ji, sister Kanchan Nikhil, sister Rakhi Sharma, Sister Sheetal Jakhar, sister Deepa Sharma, sister Kavita Kumari Ji, sister Ishita Arora, sister Ashwini Mohan Ji, sister Vedika Dubey, Sister Maya Nikhil, sister Shalini, sister Sumi Nikhil, sister Shikha, sister Raagini Gautam, sister Ankita Dubey along with us.
In Brothers we have: Nagender Nikhil Ji, Ravi Katani Ji, Nischalanand Ji Kaul Sadhak, Aaditya Narayan Mulla Ji, Lal Dhar Singh Ji, Mohan Babu, Veenu, Munna, Tirupati Gupta Ji, Manish Sharma Ji, Bajrang Mittal Ji, Sanjay Khanna Ji, Neeraj Pathak Ji, Rahul (Ialways Capital), Amit Tyagi, Pawan Madan, Piyush Madan, Govinda Bansal, Shiv Vishwkarma Ji, Navin Chainani, Pritesh,Gaurang Tandulia bhai, Raghvendra, Shiva Karan, Bansi Lal Bhai Ji, Aughad Bhai Ji, Jabbar Singh Bhai, Raju Bhaiya, Nitin Pancharia, Himanshu Chaudhary, Sandeep Thakur, Manish Shah, Vishwjeet, Mahesh Devaangan, Shobhit Verma Ji, Shirish Patel, Gurupreet, Pardeep Ludhiana, Rakesh Ludhiana, Madhukar Pandey,Sushil, Gopal, Dr. Aditya Awasthi, Dr. Rishiraaj Awasthi, Sharad Srivastava, Nitin Gupta, Sacchindra Verma, Sachin Shahane, Devesh Singh, Vimal Kumar, Kamal Deep, Ravinder Narula, Mukesh Saxena, Bhupender Verma, Babloo Sharma,Aaditya and Aman Jain from Delhi,Ravinder, Gaurav Pandey Nikhil, Pankaj Sharma, Anuj Sharma, Vikas Singla, Pankaj Sisodiya, Gaurang Taundaliya,Deepak Pathak, Ishan Arora, Kabir Dabral, Neeraj Srivastava, Vikram Singh, Vikky Gupta,Vikky Singh, Dheeraj Sharama, Jitendra Sharma, Aman Narole, Kunaal Gaurav,Amrik Singh, Vaibhav Srivastava, Sagar Shrimali, Yogesh Sharma, Varun Nikhil.Abhishek Anand, Tanveer, Hari Om, Dhoomra Lochan, Amit Kumar, Ashok Kumar, Aerogaon King, Priyank Srivastava, Sumit Kumar, Kline Priest, Abhishek Anand, Tej Narayan singh,Rahul Aggarwal and Rahul singh, Raju Kumar, Babit Naik, Pardeep Chopra, Parvinder Sharma,Vishnu Dev Pradhan, Nikhilaansh Amit,Shiv Kumar, Mohit Yadav, Nikhil Devraaj, Jai Pitambara, Nand Kishore Prajapati, Pardeep Kumar,Uttam Kumar Pant, Jammie Kool, Sushil Nerwal, Rakesh Kumar, Dr. Rajeev Sharma, Chandrakant Maurya, Papu Be,Ved Gyana, Durgesh Sharma, Vaibhav Sharma,Parminder Bhai, Rakesh Pateriya,Vijay Madhok,Anu H kumar etc. all of them are NPRU because these names and the names which have not appeared here all are included in it.
This dream of Sadgurudev is very huge and this cannot be done by only 4-5 persons. Their names have been taken by keeping a close eye on them in past few months .Some have played their role visibly or invisibly either personally, some through E-Mail or some through call.
And  you probably will be amazed that not only the list of names has been prepared but also their respective roles have been defined. And some of them have been notified also by contacting them and some of them will be notified respectively whenever their role will come into play.

Now you all tell when NPRU means all these persons then how far it is right to mention only 3-4 names each time?? Therefore, from now on, the word “Trimurti Guru Bhai” should not be used at all. And you all will agree to it….
In My profile it is written
I get what I want …
But what should I say now……and in the last this sentence will be apt….
That Whatever I say, I do…..and whatever I do not say, I do that at any cost….:D
====================================================

स्नेही मित्रो ,
शुभ समाचार आप जान ही गए हैं और निश्चय  ही यह समय उल्लास और हर्ष का हैं .पर  जैसा कि मैंने अपने विगत लेख मे लिखा कि वास्तव मे अब हमारी अग्नि परीक्षा  का समय प्रारंभ हुआ.कल तक हम ऐसा करना चाहते हैं या वैसा करना चाहते हैं... से एक कदम आगे आ कर खड़े हो गए ..की अब करना ही हैं. निश्चय ही अब हम कह सकते हैं कि    भले  ही हमारा लक्ष्य  अति उच्च हैं पर अब हमने भी उसे साकार करने की दिशा मे ठोस धरातल  पर कदम  रख दिए हैं .
क्या हम भी गुरू कार्य कर सकते हैं या इस कार्य मे अपना योगदान ??
क्यों नही ..यह किसी एक का स्वप्न नही बल्कि हर उस का स्वप्न हैं,जो सदगुरुदेव जी के अतिमानवीय श्रम की  गरिमा से परिचित रहा हैं या उनके  स्व रक्त से  सिंचित रहा या उनके स्नेह उष्मा से गतिशील रहा या यह स्वीकार करता हैं कि उन्होने सच मे इस सनातन  साधना ज्ञान की रक्षा मे अपना सारा जीवन होम कर दिया और एक उफ़ तक नही की.  तब इस कार्य को पूर्णता तक पहुचाने की सबकी जिम्मेदारी  बनती हैं  और समय आने  दें जैसे  जैसे कार्यों की गति बढती जायेगी, आप सभी को हम बताते  जायेंगे कि अब क्या हो रहा हैं और इस चरण मे  हमें क्या क्या करने जा रहे हैं और अगले  चरण मे क्या क्या योजना हैं.अगर यह  ग्रुप  सच मे  एक परिवार   हैं तो
·      गुरू कार्य के लिए  किसी की अनुमति  की  आवश्यकता   थोड़ी न हैं...??
·      क्या किसी से पूछ कर आपने गुरू दीक्षा ली ?? 
·      क्या किसी से पूछ कर  ही आप सदगुरुदेव जी को अपने  ह्रदय  मे स्थापित करोगे  ?
·      क्या किसी से पूछ कर आप उनके स्नेह मे डूबोगे ?
 नही  न ... तो  फिर  क्यों नही... आप भी  आकर अपनी भूमिका निबाह सकते हैं ..पर अभी थोड़ी सी देर हैं क्योंकि कुछ प्राथमिक आवश्यक क्रियाए  ..प्रक्रियाये पूरी  तो हो जाए ...पर  यह हम सभी का कार्य हैं ..और इसे ऐसे करना  हैं जिसमे  हम और आप दोनों अपनी भूमिका केबल  एक निमित्त मान कर चले  ..क्योंकि व्यर्थ की राजनीति,आपसी श्रेय की लड़ाई, और जो मिल जुल कर न चल सकें ..केबल अपना  ज्ञान ही बघारते रहे,जो चापलूसी और दूसरों की कमजोरी का फायदा उठाते रहे... यहाँ कम से कम उनकी आवश्यकता कभी नही होगी ..मतलब शिष्य की आवश्यकता हैं ..वैसे  अनेक जो गुण मैंने  बताये हैं उन से युक्त  व्यक्तियों की शायद कुछ ओर जगह ज्यादा उपयोगिता  हो वे वहां पर अपनी गुरू भक्ति का परिचय दें .....
अब समय हैं कि कुछ कुछ बातें इस  अस्पताल  और उसके कार्यों की हम करें.ताकि   हम और भी  अच्छे तरह से कार्य संपादित कर सकें..
तो जैसा मैंने  आपके सामने  विगत पोस्ट मे बात रखी .कि अब चरण बद्धता से कार्य  और हम सभी एक निमित मात्र ही हैं, इस भावना को ....और यह मेरा कार्य हैं..... इस भावना के साथ   ही होगा ..
१.    प्रथम चरण  : तो निश्चय ही जमीन को खरीदना  रहा .वह हो ही गया  हैं .
२.    द्वितीय चरण :अब इस बनने वाले अस्पताल का नाम क्या होगा? और जो वानस्पतिक वाटिका दिव्यतम जड़ी बूटी के  सरंक्षण प्रवर्धन के लिए बनने  जा रही हैं.उसका नाम क्या होगा ?? मित्रो, हमने पहले से यह निश्चय किया हैं कि जैसे हमारी पत्रिका का नाम “तंत्र कौमुदी“रखने हेतु .... सदगुरुदेव जी के आत्मस्वरूप हमारे वरिष्ठ सन्यासी भाई बहिनों मे से पूजनीया  बंगाली माँ जी,सौंदर्या माँ जी,पंचमी माँ जी ,धूर्जटा माँ जी ,भैरवी माँ जी ने हमें निर्देशित किया .ठीक इस बार भी हम सभी की  उन सभी के  दिव्य चरण कमलो  मे यही प्रार्थना हैं कि  इस बार भी  वे हमें निर्देशित करें और उन सभी के द्वारा इस महत कार्य के  लिए  बताया गया नाम हम सभी को पूर्णतया स्वीकार होगा ही .आखिर माँ ही कही ज्यादा अच्छे से जान सकती हैं कि किस नाम तले हम सभी बच्चो की .. हमारी सफलता  कई कई गुणा और होगी .क्योंकि माँ  ही तो प्रथम गुरू मानी जाती हैं .हाँ यह बात भी सही हैं कि हम अपनी पत्रि़का  का नाम भी  सदगुरुदेव जी के नाम से  अनुप्राणित पर रख सकते थे, पर उन सभी परम पवित्रों  ने पहले  ही सचेत कर दिया था  कि हम पर सदगुरुदेव जी के नाम पर  अपना  व्यवसाय की आड़ या रोटी सकने का आरोप  तत्काल लग जायेगा.(क्योंकि मानो  अब सदगुरुदेव जी का नाम अब किसी एक संस्था की बपौती   हो गया  हैं )पर  अब बात हैं सदगुरुदेव जी के स्वप्न की तो ..अब चाहे  जिसे  समस्या  हो ..उसे  होती  रहे .....पर जो भी  नाम हमारी पूज्यनीय माँ निश्चित करेगी.वही  हमारे लिए  एक आदेश होगा .  ऐसा लगता  कि उसमे  से  एक शब्द  निखिल जरुर  होगा ..क्योंकि इसी शब्द मे सफलता हैं .उन्नति हैं और इसमें समस्त श्रेष्ठ  गुण हैं  ....और अब जिसे   जो आरोप लगाना  हो  वह लगाता  रहे  हमें  तो  वस  आदेश की  जरुरत हैं ...
मित्रो क्या एक अस्पताल इतने सारे कार्य संपादित कर लेगा .???
तो हमने  सोच रखा हैं कि   यह अस्पताल तो हमारी सारे  उर्जा  और सारे लक्ष्य का प्रतीक यह एक केन्द्रीय  अस्पताल होगा  और सबसे पहले  इसे  ही सम्पूर्णता के साथ सफलता के साथ गतिशील करके दिखाना  हैं पर इसके  साथ हम कई कई स्थानों पर  और भी इसी तरह के  अस्पताल और और ये सारी सुविधा युक्त अस्पताल खोलेंगे. मतलब यूँ समझे की चैन....रूप मे  श्रंखला के  रूप मे ..पर बात मुलभूत वहीँ की सारा  इलाज निशुल्क और अति उच्चस्तरीय ...इस बात से  डिगना  हैं ही नही ...चलिए  यह भी  संभव हो जायेगा ..सदगुरुदेव हमारे हर संकल्प को पूरा करेंगे ही हमारे भाग्य मे असफलता सदगुरुदेव जी ने लिखी ही नही  हैं.और निखिल रक्त से सिंचित  हम सभी सदगुरुदेव की कृपा तले अपने भाग्य को भी अपनी इच्छानुसार  चलने को मजबूर कर देंगे इतनी सामर्थ्य योग्यता  सदगुरुदेव ने  हमें  दी हैं .तो सफल  तो होना ही हैं .यूँ कहूँ की सफलता सदगुरुदेव  ने लिख ही  दी हैं बस हमें कार्य करना हैं ..

पर अभी तो इस  प्राजेक्ट कि ही बात  करें.....
अभी इस चरण मे...क्या क्या होने जा रहा हैं ....आपके सामने ..
सारी भूमि पर फेंसिग  लगवाना और इस चरण मे इस भूमि मे लगाये जाने  वाले  दिव्य जड़ी बूटियाँ जो कि  64  मे से होगी. उन सभी को  जल्द  से जल्द लगवाया जा रहा है इनमे से  ये जो जड़ी बूटियाँ लायी जा रही हैं या अभी तत्काल उपलब्ध हो रही हैं लगभग कई लाख रुपये की लागत से ये कार्य किया जा रहा हैं क्योंकि इस कार्य के लिए मार्च तक का  ही समय हैं. और ये सभी आरोग्यदायिनी और दिव्यता से परिपूर्ण हैं.उसके  बाद ग्रीष्म ऋतू प्रारंभ हो जायेगी तो कार्य मे  कठिनाई  होना  स्वाभाविक हैं .
इसी चरण मे अभी तो कुछ आवश्यक कार्यों  हेतु कुछ निर्माण कार्य   होगा  ताकि   जिस समय आप मे से  जो भी  भूमि पूजन मे  आना चाहे   तो उन्हें  पूरी निश्चिन्ता के साथ  इस  जगह  एक पूरा दिन बताने का समय मिल सकें और  हम आपस मे  अच्छे से विचार विमर्श कर सकें और साथ ही साथ यह सारी प्रक्रिया  मतलब भूमि पूजन की  इतनी  विस्तृत  होगी कि यह सारी भूमि हमारे लिए पूर्ण सफलता  युक्त हो सकें ..निश्चय ही कुछ विघ्नकारक अपनी हरकत करेंगे  ही क्योंकि उन्हें भी  कुछ क्रियाएँ  आती हैं या  उन्होंने पढ़ रखी होगी. पर..तो वे भी  प्रयास कर के देख लें.
यह अति उच्च कोटि का भूमिपूजन  इसलिए आवश्यक हैं क्योंकि  कि जमीन लेने  मात्र से   वह आपके लिये  सफलतादायक,उन्नतिदायक हो ही जाए  यह संभव  नही हैं
अतःवह बृहद भू खंड हम सभी के लिए पूर्ण सफलतादायक सौभाग्दायक और उन्नतिदायक  और जो भी रोग ग्रसित आये, उन सभी के  लिए आरोग्यदायक हो,जीवन उर्जा कई कई गुणा बड़ा सकने लायक हो,रोग रूपी दुःख के अभिशाप को प्रसन्नता मे  बदल देने के लायक हो,सारी दिव्यतम जड़ी बूटियाँ पूरी तरह से आपने सर्वश्रेष्ठ गुण प्रदर्शित कर सकें हमारे कार्यों मे  सभी सहयोगी  हो  ....यहाँ तक की हमारे शत्रुओं के लिए भी???
 इस कारण यह अद्वितीय भूमि पूजन विधान ..  एक अति उच्च कोटीस्थ विधान ... आज तक जो की  सर्वथा  गोपनीय रहा, उन विधान से युक्त ..आवश्यक  विधान जो कि आज तक कभी भी  संभव नही किया गया, उन परम गोपनीय  क्रियाओं से युक्त   किया जायेगा ..और इस कार्य मे भाग लेने वाले हम सभी के लिए यह एक अद्भुतक्षण  होगा क्योंकि इस शुभ कार्य की रश्मियाँ हमारे जीवन को भी तो संवार देगी ही .तो यह कैसे   संभव होगा? यह तो उसी दिन  जो की सदगुरुदेव जी का सन्यास दिवस हैं उस दिन  सामने आएगा .
यह भूमि पूजन का  दिन तो निश्चित हैं ..सदगुरुदेव संन्यास  दिवस...तो इस दिन यह शुभ कार्य  होगा ही .
इसके बाद क्या ..
यूँ तो आगे की  योजना बता देना  अपने  शत्रुओ  और विरोधियों की और भी सहायता करा देना हैं..पर हमें न इससे.... न उसस....  किसी भी प्रकार का  कोई खतरा हैं..न किसी की सामर्थ्य हैं कि हमारे विरोध मे कोई कर पायेगा...
तो इस भूमि पर सबसे पहले बांस द्वारा निर्मित उच्चस्तरीय कूटिरों बनायीं जायेगी,बांस द्वारा   ही क्यों ??
वह इसलिए की ..कार्य के प्रारंभ काल मे.कुछ विशेष प्रक्रियाये सम्पन्न होगी जो की इस भूमि पर आने वाले सभी को पूर्ण आरोग्यता और शुभ कार्यों और शुभ संकल्पों मे सफलता दिला सके,इस कारण एक अनिवार्य प्रक्रिया  होगी.क्योंकि कंक्रीट के भवन मे  जब लोहे की राड  आदि लगती हैं तब वह साधक की एक निश्चित ऊर्जा को साधक से  खींच  कर जमीन तक पंहुचा देती हैं.यही कारण हैं की आप उच्चस्तरीय साधको की कुटी बांस से ही निर्मित  होती हैं.तो पहले कुछ निर्माण इस बांस से ही विशिष्ट साधनाओं और आरोग्यदायिनी क्रियाओं को संपन्न करने हेतू...और क्यों.और क्या क्या कार्य हेतु  होने  जा रहे हैं वह तो जब हम मिलेंगे तब बात होगी ही ..
क्या ये सारी दिव्यतम  जड़ी बूटियाँ.भगवान भरोसे ही लगी रहेगी या इनकी सुरक्षा के लिए???
नही ऐसा कैसे हो सकता  हैं .. तो जो जड़ी बूटी लगायी जाएँगी वह भगवान भरोसे  छोड़   दी जाएँ ऐसा नही हैं ,सदगुरुदेव जी साथ हैं उनका हर पल उनकी कृपा हैं इसका मतलब यह नही कि सारा  भार उन्ही पर छोड़  दें..अतः  इस  वाटिका की सुरक्षा  हेतु  पूरी चौकसी ..हर कीमत पर..रखी जायेगी  हम किसी को इस  वाटिका से खेलने  की  इजाजत नही  देगे. २१ अप्रेल २०१३  से कार्य का  अगला चरण की  शुरूआत  मतलब इलाज आदि की.
हम सभी पहले यह सोच रहे थे की ... इस योजना मे  शेष पूरा सारा कार्य  करने   के बाद  मतलब सारी सुविधाएँ ..मतलब  सारी मशीनरी लगने के बाद   ही कार्य  प्रारंभ की   घोषणा करना चाहिये न क्योंकि यह सिर्फ आयुर्वेदिक चिकित्सा स्थान तो होने  नही जा रहा हैं ???.पर हमारी सभी पूजनीया माँओं ने  कहा कि अब इतना  समय नही हैं अतः कार्य को इस आने वाली २१ अप्रेल २०१३   को कार्य की  शुरुआत  हो जाए  भले  ही वह छोटे  रूप मे हो और उसके साथ ही साथ बृहद  कार्य का  विस्तार और अन्य सभी कार्य  कई कई गुणा  और भी  स्पीड से करना हैं ..
क्योंकि समय किसी का इंतज़ार नही करता   हैं ..वेसे भी इतने  वर्ष  बीत गए कुछ भी हुआ नही ... सदगुरुदेव जी का स्वपन  सिर्फ स्वप्न बना  दिया गया मानो एक उपहास सा ...... अतः .अब और इतंजार नही .....सीधे कार्य ...
इस कार्य मतलब 21 April 2013 को   शुरू करना ही  हैं .इस  के लिए  हमारी NPRU TEAM  जड़ी बूटी के रस  और उन्हें  इकठा  करने मे अनेको जंगलो मे जा जा कर .. विगत चार माह से  लगी हुयी हैं .. और बहुत हद तक आवश्यक चीजें इकठ्ठा भी  कर चुकी हैं . क्योंकि बिना योग्य और  प्रामाणिक आयुर्वेदिक रस  और दिव्यतम जड़ी बुटिया के चिकित्सा का  क्या फायदा ..सिर्फ दिखाने के लिये के लिए  अपनी पीठ थपथपा लो की हम तो इस इस साल के बाद यह यह करेंगे ..नही.... बल्कि कार्य की पूर्णता मे  थोडा सा समय अवश्य लगे  पर  और इंतज़ार नही .....कार्य प्रारम्भ होगा ही ..
पर मित्रो विगत पोस्ट मे  स्पस्ट लिखा रहा कि यह अस्पताल  या आने वालो श्रंखला मे बनने वालें सभी अस्पताल भव्य होगे ..पर वह अपनी भव्यता से नही  बल्कि अपनी सफलता से जाने जायेगे  यह उदेश्य हैं ...
अब कुछ बातें यहाँ पर होने वाली चिकित्सा पद्धति पर भी  हो जाए ....
मित्रो ,
एलोपैथिक,होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति ::इसको कमतर नही आंका  जाना चहिये,इसकी उपयोगिता आज सर्वमान्य हैं, तीव्रतम इलाज और दर्द निवारक जो सुविधाए इसमें हैं. वह किसी  अन्य मे नही,भले  ही साइड एफ्फेक्ट हैं पर तब भी उपयोगिता कई कई गुणा हैं ही अतःइस विधा के लिए  जो भी उच्चस्तरीय  मशीनरी और चिकित्सा  उपकरण आवश्यक होंगे  वह यहाँ पर  लगाये जायेगे ही .उच्च कोटि की विदेशी मशीनरी उपकरण को भी यहाँ ला कर स्थापित करना ही हैं.क्योंकि जब बात  पूर्ण और सटीक इलाज की तो किसी भी पैथी के साथ कोई मजाक नही .
इन सारी पैथियों  का उदेश्य मानव मात्र को रोग कष्ट से मुक्त  करना हैं न की आपस मे  इनका तुलनात्मक अध्ययन..
नक्षत्र विज्ञानं ::किस राशि के व्यक्ति को रोग किस समय  हुआ हैं और किस तरह से  उसके  नक्षत्रो का अध्ययन करके किस प्रकार की चिकित्सा  और किस प्रकार की उस पैथी के  उपविभाग का उपयोग किया जाना हैं ,कब से कब  तक इलाज और कब वह आरोग्य प्राप्त कर ही लेगा ...वह इस विज्ञानं का कार्य हैं ,सौभाग्य की बात यह हैं की यह विज्ञानं अकेले  ही मानव मात्र को समस्त रोगों से  मुक्त करके   पूर्णता दे सकता  हैं पर इसका महत्व  उपयोग आज कहाँ किसे मालूम हैं.??
सूर्य विज्ञानं ::यह तो प्राणदाता  हैं सारे  विश्व का  जीवन आधार  इस विज्ञानं के  अत्यंत  ही सूक्ष्म रूप से  सदगुरुदेव जी के  हमें परिचय कराया था जिसे उन्होंने  रश्मि  विज्ञानं के नाम से संबोधित किया  गया .पर अब इस विज्ञानं  को सम्पूर्णता के साथ ,सम्पूर्ण विधाओं  के साथ की किस तरह जीवन की आशा को खो चुके  को भी यह पूर्ण  आयु और जीवन प्रदान कर देता  हैं आप सभी के सामने  होगा .
जल विज्ञानं : आखिर  नर्मदा  नदी के पास ही क्यों इस भूखंड को लिया गया .क्योंकि जल विज्ञानं अपने आप मे ज्ञात अज्ञात उन  १०८ विज्ञानं मे से  एक पूर्ण विज्ञानं हैं .मानव जीवन जिनसे बना हैं उसमे  यह एक महाभूत तत्व  तो हैं ही और मानव शरीर मे इसका क्या महत्त्व हैं वह तो बताया ही नही जा सकता  हैं .पर जब इसी जल विज्ञानं के सहायता से  रोग आदि पर प्रयोग किया जाए,तब इस पवित्रतम जल की शक्ति और उपयोगिता  स्वयं ही सामने आएगी
तंत्रोपैथी ::शायद सर्वथा  रहस्यमय विज्ञानं जिसका  कोई अंत या सीमा  नही .पहली बार जब इसका अपने समस्त स्वरूपों के साथ  जब उपयोग होगा तो सफलता  तो मानो सामने ही  होगी .व्यक्ति  आरोग्य प्राप्त कर ही लेगा ..इस विज्ञानं को कैसे  कुछ पंक्तियों मे लिखा जाए ..सागर सामान  इस विज्ञान  की अति रहस्यमय क्रियाए को जब मानव जीवन के  इस पवित्रतम कार्य मे उपयोग किया जायेगा .तब स्वयं आप ही साक्षी होंगे ..
यज्ञोपैथी :इस विज्ञानं से तो कुछ कुछ आप परिचित हैं अनेको संस्थानों ने इस विज्ञानं का  कुछ कुछ प्रयोग किया हैं .पर हम कोई तुलनात्मक आकडे  देने के लिए .नही .न ही अपनी उपलब्धियों को गिनाने के लिए.बल्कि सटीकता से उपयोग करेंगे .कोई बृहद  खर्चीले  यज्ञों का आयोजन नही बल्कि सटीकता के साथ यदि एक गोली भी  चलायी जाए तो  वह अपना  लक्ष्य प्राप्त कर  ही लेती हैं .इस विज्ञानं के  अनेको उप विज्ञानं की सहायता  से एक अद्भुत परिणाम प्राप्त होते ही हैं .
  काल विज्ञान ::सारा संघर्ष जीवन के लिए ही तो हैं और जीवन तो समस्त रूप से काल के आधीन हैं .पर जब काल को ही जीवन रक्षा का आधार बना लिया जाए, उसके विधिवत अध्ययन  से,उसके  अति गोंपीय प्रयोग और विशिष्टताओ को उपयोगित किया जाए, तब .फलता तो मिलके  ही रहेगी ही ..
मित्रो यह तो कुछ का परिचय  दिया  हैं .आप सभी पारद तंत्र विज्ञानं की असीम क्षमता  से   तो अब भली भांति परिचित हैं .यह कालातीत सीमातीत  विज्ञानं के लिए कुछ भी असंभव नही हैं .तो इस पर आज मैं कुछ नही लिख रहा हूँ .आप सभी भली भांति जानते हो  ही ..सम्मोहन और अन्य अन्य विज्ञानं ..सभी  का  आप पूरा उपयोग होगा यहाँ ..
और  आगे क्या ..
तो जीवन मे  नीति गत वाक्यों  ये भी हमेशा याद  रहे कि समय से पहले किसी योजना को  पूरा बता दें उस  योजना को  मानो खतम कर देना हैं अतः  ..अभी बात २१ अप्रैल तक की    ही ..हम   समय समय पर आपको  बताते जायेंगे ही पर नीतिगत कोई आसवाधानी   नही.
हम सभी जीवन की कड़वाहट  से ..कठोरता  से .....निम्नता से ..घटियापन से ...स्वार्थमयता से भली भांती परिचित  हैं ही ..अतः हम कोई भी आसमानी  पुलाब नही पका रहे हैं ..न  ही किसी भी प्रकार  की कठोर सच्चाई  से  मुंह मोड कर खड़े हैं बल्कि ..ठोस रूप मे ..इसको साकार करने की दिशा मे सुनिश्चित हैं ....
अब चाहे कोई सिरफिरा से फिर वह चाहे किसी का नाम लेकर कोई करें..किसी भी  समानित का आदेश कि आड़ मे ही क्यों न हो ..सभी बातों का हम भली भांति धयान रखेंगे  ही
अति महत्वपूर्ण ...तथ्य ....आज और अब से  “त्रिमूर्ति गुरू भाई “.....शब्द का  विसर्जन  हो..अब से बात बहुमूर्ती भाई और बहनों की ही होगी.
शायद  आप सभी अचरज मे  हो की यह क्या..सच कहूँ  तो आरिफ भाई  और मैं स्वयं भी  इस शब्द  जो हम लोगों के लिए  उपयोगित किया  जाता  हैं  से अंश मात्र भी  सहमत नही हैं .और  आज के बाद अब इस शब्द का प्रयोग हमारे लिए  किया भी नही जाए ..
पर क्यों ...??
तो मैं यह जानना  चाहूँगा की क्या रघुनाथ भाई जी,.. NPRU(निखिल पराविज्ञान शोध इकाई)  हैं या रजनी निखिल जी   NPRU  हैं या रोजी निखिल जी  NPRU  हैं या  सुवर्णा निखिल जी NPRU हैं ...???
नही.... ऐसा कुछ भी नही हैं,मात्र ये सभी नाम अपने आपको NPRU नहीं मानते हैं बल्कि  हमारी टीम मे बहुत   बहुत सारे  नाम हैं जो कुछ सामने तो.... कुछ अभी भी  परदे के पीछे अपनी भूमिका फिर  वह चाहे   छोटी या  बड़ी   हो निभा  रहे हैं या उसकी तैयारी कर रहे   हैं सदगुरुदेव जी ने  जब  कभी आपने  आत्मंशो के  बीच यह  वाक्य  या  शब्द नही कहा की यह तुम्हारा   प्रमुख  गुरू भाई हैं या  यह  सबसे  योग्य हैं तो  भला हमारी क्या सामर्थ्य की हम  किसी के  द्वारा किये जा रहे कार्य  को देख कर उनकी महत्वता या  आवश्यकता  के  आधार पर  उसका मूल्यांकन करें ... और आज  और इस समय  उनका  उल्लेख बहुत आवश्यक हैं.यूँ कहूँ की परमावश्यक हैं...वह इसलिए की कार्य की गरिमा,विशालता,उच्चता,गंभीरता देख कर ...
आज हमारे साथ बहिन साहिबा खान जी,बहिन कंचन निखिल,बहिन राखी शर्मा,बहिन शीतल जाखर,बहिन दीपा शर्मा,बहिन कविता कुमारी जी,बहिन इशिता अरोड़ा,बहिन अश्वनी मोहन जी,बहिन वेदिका दुबे,बहिन माया निखिल,बहिन शालिनी,बहिन सुमी निखिल,बहिन शिखा, बहिन रागिनी गौतम,बहिन अंकिता  दुबे,हैं.
तो भाइयों मे ..नागेंदर निखिल जी ,रवि कटानी जी,निश्चलानंद जी कौल साधक,आदित्य नारायण मुल्ला जी, लाल धर सिंह जी,मोहन बाबू ,वीनू ,मुन्ना ,तिरुपति गुप्ता जी, मनीष शर्मा जी,बजरंग मित्तल जी,संजय खन्नाजी, नीरज पाठक जी,राहुल (I always capital),अमित त्यागी, पवन मदान,पीयूष मदान,गोविंदा बंसल, शिव विश्वकर्मा जी,नवीन चेंनानी,प्रीतेश,राघवेन्द्र,गौरांग तन्दुलिया भाई,शिवा करण,बंशीलाल भाई जी,औघड भाई,जबर सिंह भाई,राजू भैया,नितिन पंचारिया,हिमांशुचौधरी,संदीप ठाकुर,मनीष शाह,कौस्तुभ जोशी,विश्वजीत,महेश देवांगन,शोभित वर्मा जी,शिरीष पटेल,गुरप्रीत,प्रदीप लुधियाना,राकेश लुधियाना,मधुकर पाण्डेय,सुशील,गोपाल,डा आदित्य अवस्थी,डा ऋषिराज अवस्थी,शरद श्रीवास्तव,नितिन गुप्ता,सचिंद्र वर्मा,सचिन शहाने,देवेश सिंह,विमल कुमार,कमल दीप, रविंदर नरूला,मुकेश सक्सेना,भूपेंद्र वर्मा,बबलू  शर्मा, आदित्य,अमन जैन दिल्ली से ,रविन्द्र,गौरव पांडे निखिल, पंकज शर्मा,अनुज शर्मा,विकास सिंगला,पंकज सिसोदिया,गौरांग तुन्दुलिया, दीपक पाठक,इशान अरोड़ा,कबीर डबराल,नीरज श्रीवास्तव, विक्रम सिंह,विक्की गुप्ता,विक्की सिंह,धीरज शर्मा,जीतेन्द्र शर्मा,अमित नारोले,कुणाल गौरव,अमरीक सिंह,वैभव श्रीवास्तव,सागर श्रीमाली,योगेश शर्मा,वरुण निखिल,अभिशेष आनंद, तनवीर,हरिओम,ध्रूम लोचन, अमित  कुमार,अशोक कुमार,अरोगोन किंग,प्रियंक श्रीवास्तव,सुम्मित कुमार,क्लीन प्रिस्ठ,अभिषेक  आनंद,तेज नारायण सिंह,राहुल अग्रवाल और राहुल सिंह,राजू कुमार,बबित नायक,प्रदीप चोपडा.परविंदर शर्मा.विष्णु देव प्रधान,निखिलांश अमित,शिव कुमार,मोहित यादव, निखिल देवराज, जय पीताम्बरा,नंदकिशोर प्रजापति,प्रदीप कुमार,उतम कुमार पन्त,जेम्मी कुल,सुशील नेरवाल,राकेश कुमार, डा  राजीव शर्मा,चंद्र कान्त मौर्य, पापु बे,वेद विज्ञान,दुर्गेश शर्मा,वैभव शर्मा,राकेश पटेरिया,विजय मधोक,अनु एच कुमार आदि  इस तरह अनेको भाई  बहिन ये सभी NPRU  हैं क्योंकि  ये नाम  और जो और नाम  नही आ पाए  हैं वह भी  इसमें शामिल हैं .
यह सदगुरुदेव जी के स्वप्न का कार्य  बहुत ही विशाल हैं   और  यह कोई चार पांच के द्वारा संभव हो भी  नही सकता हैं .ये कुछ नाम ऐसे हैं जिनको हमने विगत अनेको महीने से इन सभी पर लगातार  ध्यान मे रख कर लिया  हैं .क्योंकि कुछ ने व्यक्तिगत रूप  से, कुछ ने  इ मेल के माध्यम से,   तो कुछ ने कॉल के माध्यम से  अपनी भूमिका प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से निभाते रहे हैं.
और आप शायद  आश्चर्य चकित होगे की हमने  सिर्फ यह लिस्ट ही नही बल्कि इनमे से  हर व्यक्ति के लिए क्या क्या भूमिका   होगी निश्चित कर ली हैं  और आप मे  से कुछ  से  तो संपर्क करके उन्हें अबगत भी  कराया  हैं शेष से भी क्रमशः जैसे जैसे  उनकी भूमिका  का समय आता जायेगा  उन्हें भी  अवगत कराया जाएगा .

अब आप ही बताईये  की  जब NPRU  का मतलब अब इतने  सारे  व्यक्तित्व हैं तब   मात्र  तीन चार को ही केबल उल्लेखित  हर बार किया  जाना  कहाँ तक उचित हैं.??अतः  अब से  इस “त्रिमुर्ति गुरु भाई “शब्द का प्रयोग अब  उपयोग  हर हालत मे  समाप्त हो .और आप सभी इस बात से सहमत भी  होंगे..
मेरी प्रोफाइल मे लिखा हैं .
I get, what  I want …
पर अब मैं यूँ कहूँ   तो .....वेसे   और अंत मे यही वाक्य ठीक हैं न ..

की मैं जो कहता हूँ वह करता  हूँ ..और जो मैं नही कहता, उसे  तो हर हाल मे करता  हूँ.... :D
****NPRU****