There was an error in this gadget

Tuesday, January 31, 2012

अद्भुत टोटका तंत्र (AMAZING TOTKA TANTRA)

पंच तत्व अपने आप मे ही महत्वपूर्ण है और यह हमारे आसपास किसी न किसी रूप मे होते ही है. अतः इन तत्वों की अवलेहना भी कई बार विविध स्वास्थ्य सबंधी तथा लक्ष्मी सबंधी समस्याओ को आमंत्रण देता है. अक्सर व्यक्ति छोटी चीजों को भूल कर विविध बड़े बड़े अनुष्ठान करवाने के लिए तैयार हो जाता है. लेकिन अगर व्यक्ति छोटी छोटी चीजों पर ही ध्यान देना शुरू कर दे, तो बड़ी समस्या की पृष्ठभूमि ही नहीं बनेगी. हमारे वेदों ने जब इन तत्वों को देवताओं की संज्ञा दी है तब इनका किसी भी रूप मे अपमान योग्य नहीं है. निचे विविध ग्रंथो से संगृहीत तत्वों से सबंधित कुछ टोटके प्रस्तुत किये जा रहे है.
·       घर मे तुलसी का और यथा संभव किसी भी प्रकार का पौधा सुख जाए तो उसे घर मे नहीं रखना चाहिए, यह भूमि तत्व से सबंधित दोष है. इससे घर मे लक्ष्मी तथा स्वस्थ सबंधित समस्याए बढती है. इस प्रकार जब कोई पौधा घर मे सुख जाए तो उसे अपनी मिटटी के साथ ही नदी या समुद्र मे प्रवाहित कर दे.
·       अपने घर के मुख्य द्वार के पास स्थिर पानी नहीं रखना चाहिए. यथा संभव मुख्य द्वार के सामने बहार की तरफ भरा हुआ जल स्त्रोत ठीक नहीं है. इससे भी साधक लक्ष्मी से सबंधित समस्याओ से पीड़ित रह सकता है. इसके निवारण हेतु साधक को अपने दरवाज़े पर स्वास्तिक का चिन्ह बनाना चाहिए
·       घर मे जहा पर भी पानी लीक हो रहा हो उसे तुरंत ठीक करवा लेना चाहिए. घर मे पानी का टपकता रहना योग्य नहीं कहा जाता तथा ऐसे घर के सभ्यो मे मानसिक रोग की सम्भावना बढ़ जाती है.
·       मंदिर की ध्वजा की परछाई अगर किसी घर पर पड़ती हो तो वहा पर पृथ्वी दोष लगता है ऐसा विवरण कई ग्रंथो मे है, ऐसे घर मे रहने वाले व्यक्ति किसी न किसी रूप मे रोग के शिकार होते रहते है. व्यक्ति को अपने घर मे क्षेत्रपाल की स्थापना कर रोज गुड का भोग लगाना चाहिए
·       स्मशान के पास गृह होने पर घर के अंदर से जलती हुई चिता को देखने से अग्नि तत्व से सबंधित दोष लगता है. इसके निवारण हेतु साधक को ३ अंजुली जल सूर्य को या तुलसी को चडा कर अग्नि देव से माफ़ी मांगे तथा मृत आत्माओ की मुक्ति के लिए प्रार्थना करे
·       सूर्य को सूर्योदय के समय अर्ध्य देना अत्यधिक उत्तम होता है. उस समय “ औम घृणी सूर्य आदित्याय सर्व दोष निवारणाय नमः” का ११ बार उच्चारण करने से सभी दोषों से मुक्ति मिलती है
·       संध्या काल मे साधक अगर निर्जन वातावरण मे ५ अगरबत्ती पंच तत्वों को याद कर के लगा दे तथा पूर्वजो को मदद के लिए प्रार्थना करे तो सर्व लक्ष्मी तथा स्वास्थ्य सबंधित दोषों की निवृति होती है
·       सूर्यास्त के समय अपने जल संग्रह स्थान के पास एक दीप जलने पर आकाश तथा जल स्वास्थ्य सबंधित सर्व दोषों की निवृति होती है
·       लक्ष्मी सबंधित गेबी मदद प्राप्त करने के लिए कोई कुवां खोजे और सूर्यास्त मे उसमे से जल निकाले, रात्रि काल मे उस जल से वही पर नग्न हो कर स्नान करे. इसके बाद किसी दरगाह या मज़ार पर मिठाई का भोग लगा कर एक हरा धागा वहा से उठा ले. उस धागे पर “अल्लाहु मदद” का ८८ बार जाप कर के किसी तावीज़ मे भर कर हाथ या गले मे पहेन ले. और रोज “अल्लाहु मदद” का यथा संभव जाप करे. एक हफ्ते की भीतर मदद प्राप्त होती है. एक हफ्ते बाद तावीज़ को उसी मजार पर चडा दे. जल कुवे का ही होना चाहिए और स्नान वही पर करना है.
========================================================
Five basic elements are very important and they all are present nearby us in one or another form. Therefore sometimes avoiding or neglecting these elements could bring various problems related to health and wealth.  Manytime person forgets small things and go for big anusthana. But if one takes care in small trouble, there would be no base to develop big incidents. When our Vedas had given these elements a name of Gods then their insult in any form would never be accepted. Following are the Totka related to these five elements collected from various scriptures.
·       There should not be basil plant or possibly anyother plant which is dried inside the house, this is dosha related to Bhoomi tatva. With such thing problems related to health and money will be increase. Such plants when gets dry, should be immersed in river or ocean with mud of it.
·       One should avoid possible stagnant water near main door of the house. Possibly one should avoid stagnant water filled especially in exact front of the house. With this person may suffer from the wealth related problems. As a solution, sadhak should make sign of “swastika” on the main door.
·       Wherever there is water dripping problem, one should repair it as soon as possible. Dripping water is not good for house and such house members may suffer from the mental disorders.
·       If shadow of the any temple’s flag take place on the house of any one, this is prithvi dosh such mention could be found in many tantra scirptures, people living in such houses could also suffer from health related issues in one or another form. Person should establish ‘kshetrapaal’ in the worship place of house and should daily offer jaggery to him as a solution.
·       If house is near Seminary ground, one should not look at any death body burning from inside the house, this cause dosha of Agni Tatva. For the solution of this, sadhak should offer 3 times water to the Sun or basil plant and should also apologies lord Agni or fire and pray for the freedom of spirits of deaths.
·       It is always better to offer water to sun on the time of sun rise. That time if one chants “ Aum Ghruni Sury Aadityaay Sarv Dosh Nivaaranaay Namah” 11 times may gets freedom from every dosha.
·       If 5 incent sticks are lighted at the place where there is no humans by remembering 5 basic metals and if prayed to the Ancestor then all the dosha related to health and wealth does receives the solutions.
·       At the time of sunset if one lights a lamp at the place where water is kept in the house all the dosha related to aakash and Jal tatva gets solution
·       To have the divine help related to wealth one should search for a water-well. At the time of sun set one should take out water from it and at the night time one should bathe there with the same water by being fully naked. After that one should offer some sweets at mosque and get green thread from the same place. One should chant “Allaahu Madad” 88 times on that thread and then should be tied in neck or arm by putting it in taawiz. After that one should chant “allaahu Madad” as much possible daily. One will receive divine help in just 1 week. After 1 week that tawiz should be placed on the same mosque. Condition is Water should be only of water-well and one need to have bath at same place.

   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

No comments: