There was an error in this gadget

Sunday, April 17, 2011

Tantra Kaumudi 4th release now

.



प्रिय  मित्रों,
अब आपकी प्रतीक्षा की घडिया समाप्त हुएतंत्र कौमुदी का  चतुर्थ  अंक
जो "यक्षिणी एवं चेटक साधना महा विशेषांक" के रूप में प्रकाशित हो गया
हैं . आप सभी के इ मेल  पर  भेजा जाना प्रारंभ हो गया हैं ,  आप  मेंसे
जिनको भी रात्रि के १२ बजे तक  ये अंक प्राप्त न हो वे कृपया  इस इ मेल
एड्रेस पर हमें मेल भेज  सकते हैं .
nikhilalchemy2 @yahoo.com
आपकी  प्रति क्रियाओं  के इंतज़ार में

Dear friends,
 now the wait is over the fourth issue of Tantra kaumudi  e mag asa
YAKSHINI  AVAM CHETAK SADHANA MAHAVISHESHANK ".  has been published
and  we start sending to your e mail ids register  with us.  and those
one who will not receive  it tilL 12 PM  at mid night todays , kindly
send us a mail   oninthis id -
nikhilalchemy2@yahoo.com
waiting for your  comments


****NPRU****

Saturday, April 16, 2011

Yakshini and chetak sadhana Maha Visheshank



प्रिय मित्रों ,
 आप सभी तंत्र कौमुदी  के  th अंक का इंतज़ार कर रहे हैं , हम सभी भी इस अंक को  आप के  लिए जितना बेहतर  और   साधना की दृष्टी  से उपयोगी बना सकते हैं  उतना प्रयास कर रहे हैं , जब तक ये अंक आप सभी के पास पहुंचे 

 तब तक  इस आने वाले अंक की कुछ विशेषताए आप के सामने रख रहा हैं ..

1.    यक्षिणी  तंत्र की इतनी अधिक महत्त्व  क्यों हैं , क्या कारण से ये साधना  के बारे में इतना अधिक साधना ग्रंथो में दिया हैं फिर भी लोग इन को  सफलता पूर्वक नहीं कर पाते हैं .

2.    हर साधक  इनको सिद्ध करने की चाह तो मन में लिए रहता हैं ही ,कौन नहीं चाहता की उसे एकमित्र के रूप में  एक इतना उच्च  कोटि  साथीमित्र  रूप में  जीवन प्रत्यंत के लिए  उसके साथ रहे  पर यह संभव  हो  कैसे....

3.    यक्षिणी साधना इतनी  आसान तो हैं पर  बिना उचित मुद्राओं के तो मानो सफलता पूर्वक कर पाना  असंभव  सा हैं, क्या हैं ये मुद्राए .. ओर कैसे , कब  उपयोग  किया जाना हैं  इनको..  

4.    यक्षिणी साधना  में सभी नियम का तो पालन किया पर वह अभी भी प्रगट न हुयी तो क्या आप जानते हैं की किन मुद्राओं के प्रयोग   से यहाँ तक की नाराज़ यक्षिणी  को भी साधक  के सामने आना पड़ता हैं ही , इस तथ्य का  पूर्ण प्रमाणिक ज्ञान प्रायोगिक रूप से ..

5.    इन सौन्दर्य  साक्षात् प्रतिमा  को क्या कोई अपनी जीवन सहचरी  या जीवन साथी के रूप में भी सिद्ध कर सकता हैं ओर पूरा जीवन आनंदमय , मंगलमय बना सकता हैं , अरे ये कैसे संभव हैं , इतनी उच्च कोटि  के वर्ग  से सम्बंधित स्त्री आपके साथ जीवन भर....ये तथ्य आपके सामने  अब आरहा हैं..

6.    यक्षिणी साधना के माध्यम से क्या ज्ञान विज्ञानं के  अनछुए पहलु भी जाने जा सकते हैं क्यों नहीं पर कैसे हो ये ..
7.    क्या इन साधना के लिए भी मनों भाव की क्या आवश्यकता हैं .. इनके बिना चाहे जितनी भी साधना करे सफल साधक हो ही नहीं सकता हैं.

8.    सद्ग्रुदेव प्रसंग में  इस बार क्या . सदगुरुदेव  जी के दिव्य जीवन का कौन सा   दुर्लभ  क्षण खुल रहा हैं ..इनकी तो प्रतीक्षा करने ही पड़ेगी..

9.    आपके लिए आयुर्वेदटोटका विज्ञानं , ज्योतिष से संबंधित  लेख तो हर बार की तरह हैं ही ...


10. स्वर्ण रहस्य , सूत रहस्य  की श्रंखला  तो कमशः  आपके सामने  हर बार की तरह एक नया ज्ञान का आयाम आपके सामने रखेंगी ही..

 मित्रों हम ये अंक ,बृहद नहीं बना रहे हैं  , बल्कि ये कोशिश में लगे हैं की , शाब्दिक जाल से बच कर  जितनी भी  दुर्लभ , अचूक तथ्य आपके सामने रखे जाये जिससे  आप को मनचाही यक्षिणी साधना में हर हाल में सफलता मिली ही. इस दृष्टी से  इन अंक के कुछ पेज कम तो होंगे पर ये अंक आपके लिए ही आगे वाली पीढ़ियों के लिए भी  एक अति बहुमूल्य उपहार होगा ..

हालाकिं समय हमारे पास कम हैं माँ कामख्या कार्यशाला  की तिथि तो अब सामने आ खडी हुए हैं  हम दिन रात कार्य में लगे हुए हैं  समय  की अपनी गति हैं ही .फिर भी हम  मात्र प्रकाशित करने के लिए तो यह अंक प्रकाशित नहीं कर सकते  हैं , जब तक हम स्वयं  संतुस्ट   न हो जाये एक  निश्चित स्तर  तक, तब तक तो इस अंक को हमें अधिक से अधिक बेहतर , आपकी आशयों के अनुरूप बनाना ही हैं .
आप की वेसब्री  हमें ज्ञात  हो  रही आपके द्वारा  लगातार भेजे जाने वाले इ मेल से  ,

पर हम अपने गुरु भाइयों के लिए  जब तक एक श्रेष्ठ  अंक का निर्माण न कर ले उसे , उनके सामने कैसे रख दे?.. आप सभी का विस्वास  की कसौटी  पर खरे  उतरना  योग्य अंक होगा तब तक तो आपको इंतज़ार करना होगा ही,
 मुझे  पूर्ण विश्वास  हैं की ... आप इस  मुस्कुराते हुए इस  अंक की प्रतीक्षा करेंगे ही ...    

*************************************  
Dear friends ,
we know that  you all are waiting for  the fourth issue of tantra kaumudi .and here we are continuously working  for to make it more and more  valuable and  helpful for  you all  in the view of sadhana.
Till this issue reaches in your hand  here are  some of the specialty  of this issue ….
1.     Why ,there are so many yakshini sadhana mentioned in every sadhana’s holy books and why people are not able to  get successful in that ..

2.     Each and every sadhak have a life time wish in his/her heart that , is it possible to have such  a   beautiful friends related  to uchch  varga   for  whole life . but how this can be possible …


3.     Yakshini sadhana are so easy but without  the proper knowledge  of mudrayen   it is not possible to get success in this sadhana, what are these mudrayen ? and  how and when these have to use ….
4.     We follows all the rules and rituals , but still yakshini  not appeared in front of us, is there any mudryen through which even the angry yakshini  have to come  to appear in front of sadhak as a friend ?, what are they…. First time  releasing this facts ..

5.     Is it possible to have  to get siddhta  in this sadhana in such a way that These most beautiful  become our life partner.. you don’t believe that , but this can be possible .. but how ?     revealing this  dimension and way for you….


6.     Is it possible to  know  higher level of sadhanatmak gyan through theses  yakshini sadhana,  why not ? how this can  be possible….

7.     What will be the mental condition need to have  in this sadhana without that even following all the rules can not gives you success.


8.     In Sadgurudev Prasang-wait what is the unopened page of our sadgurudevji’s divine life opening this time, believe me , many of you  not know about that..

9.     Regular feature like Ayurved, totak vigyan , astrology like always be there.


10.                        The series of great book like SWARNA RAHASYA and SOONTA RAHASY will be  there , and this time they are opening  a new dimension of  divine gyan…just wait 

Friends , for the sake of publishing this 4 th issue , we are  not doing  that ,  until  we here  satisfied  till a certain level the issue reached only than we  can release it, off course you all know that ma kamakhya workshop  is very very near, we here doing our     work day and night , but  the time has its own pace.
 We assure you,that  this may possible ,this issue will not be  of as many as number of pages as previous one, but  this will a issue that will be  a great gift not for you but for coming generation, we are trying for that.
We know that how much you all are eager   to know when we are releasing this issue, from your daily coming mails .
But  without  make  it to be highly valuable and  come  up to the expectation of  our beloved guru brother /sister, how can  be released it?.
 So  till that wait  with smile..and we are confident  you will do…
****NPRU****

Shiva sadhana to generate a complete confidence



The world of the tantra is very wide and mysterious.  The big hidden surprises are the parts like drops of this ocean. In day to day life whatever we do and what ever we plan to do, the basic succession element is confidence. Without confidence a work seems to be ruin well in that case few people may even not like to go ahead for the work. On the other side, in the sadhana and spirituality world this plays a wide role in achieving results. The lack of faith and confidence often leads to not a proper success in the sadhana. This way the confidence within is a big necessity in the day to day life rather it is spiritual or the material one.

It has been observed that one of the sadhak succeeded in some sadhana and later on it was seen that the mantra he chanted was wrong but with the help of his faith and confidence in the mantra he was able to make it to the success completely. From the leave application to the highest sadhana, the role of the confidence is considerable and can not be avoided in any term. It generates a particular energy which later on results into the faith towards your goal which ultimately leads to the devotion of your work and where there we find this base; we see the results and outcomes

The sadhana to generate confidence is useful for everyone as it is one of the basic elements which lay a success for any task, For example for students in study, for to face interviews or anyone, to deal better way in business or to generate attraction and for sure in sadhana too.  The lack of the proper confidence is also a cause of many mental disorders like stress and depression. This way it works for your physical and mental status even.

There is a very special sadhana which is small in nature but for sure it gives miraculous results. The sadhana is in relation to lord shiva and completing this sadhana means getting the bliss of full confidence in every field. The sadhana process is this way
On the Monday night take bath and establish a paarad shivalinga in front of you or in case if it is not available prepare shivlinga with smashan Bhasm if this is even not possible one should place a photograph of lord shiva, but to generate maximum benefit of the sadhana, the sadhak should establish paarad shivalinga. Pray lord shiva and sadgurudev for the success in the sadhana.The sadhana can be done after 9 Pm. The direction is north. Rudraksha rosary should be brought into use. One should chant 21 rounds of the following mantra looking at the ras linga with rudraksha rosary. 


Mantra: om jhoom shivaay phat
           
            ॐ झूं शिवाय फट 

Keep the process continue for next 10 days, total 11 days. The result of the sadhana is a rise of the confidence level and it would be seen increasing day to day.

****NPRU****

Friday, April 15, 2011

NPRU WEB SITE launched.



 प्रिय मित्रों , 
 आज हमें आपको यह सूचित करते हुए अत्यंत ही हर्ष हो रहा हैं की  हमारी वेव साईट  का  शुभारम्भ  हो रहा हैं ओर आज  इसे हम अपने सर्व प्रिय सदगुरुदेव जी के जन्म दिवस जो की २१ अप्रैल को आने वाला हैं के अवसर पर  उनके दिव्य श्री चरणों में एक पुष्पांजलि के रूप मैं समर्पित कर रहे हैं . 

हालाँकि यह वेब साईट का प्रथम प्रयास  हैं ओर  इसे लगातार इतना अधिक  बेहतर बनाना  हैं  की ये आप सभी के लिए अधिक से अधिक  उपयोगी सिद्ध हो सके , इन्ही शब्दों के साथ  में आपको इस वेब साईट के कुछ  feature  बताना चाहूँगा .
 आप इस web  साईट को अभी  इस वेब एड्रेस  पर देख सकते हैं
१.सदगुरुदेव भगवान् की महानतम जीवन को मात्र  कुछ सब्दों में  कहने का प्रयास ... किया हैं साथ ही साथ  उनके द्वारा रचित  अत्यंत उच्च कोटि की रचनाये  की एक लिस्ट , ऑडियो विडियो केसेट्स  की लिस्ट ,  साथ कुछ ओर भी आप स्वयं देख   ले न, इसके लिए सदगुरुदेव भगवान् का जहाँ नाम लिखा गया हैं उस लिंक पर  आप क्लिक करके देख सकते हैं .
२. आने वाले कार्यशाला  की पूर्व सूचना  के साथ  अबतक संपन्न हुए दोनों  पारद   कार्यशालों के फोटोग्राफ्स .
३. सिलवासा में निर्माणाधीन अत्यंत भव्य  विशालतम " निखिलेश्वर  महादेव  मंदिर "   जो  पूज्य सदगुरुदेव   की स्मृति  में बन रहा  हैं , इस सन्दर्भ में  इसकी  अभी हाल के फोटोग्राफ भी आप देख सकतेहैं.
. NPRU  के तहत प्रकाशाधीन  होने वाले  किताबों की श्रंखला  के बारे में..कुछ विवरण
.अभी तक प्रकाशित सभी पोस्ट या लेख  जो ब्लॉग पर तथा  याहू ग्रुप पर आये हैं  उनसभी को व्यवस्थित  रूप से  आपके सामने  रखा गया हैं .
६,वेब साईट  सीधे ही ब्लॉग ओर याहू ग्रुप पर जाने के लिए लिंक दी गयी हैं .
७. हमारे गुरुभाइयों द्वारा  बांये गए अन्य   लोक प्रिय ग्रुप  की सूचना  दी गयी हैं.
८. सामान्य अन्य  feture   जो किसी भी एक वेब साईट  में होते हैं जैसे commonly  asked  question  .,, contact  उस जीसी भी जानकारी दी गयी हैं 
९. पारद से संबंधित  विग्रह ओर दिव्य पारद गुटिकाओं     के बारे में भी  बिस्तार से जानकारी   उपलब्ध हैं.
  
मित्रों ये बात तो  प्रथम प्रयास हैं ओर आगे हम क्या क्या इसमें करने जा रहे हैं थोडा सा इन बातों पर भी विचार हम कर ले.
१.    शाश्त्रीय  प्रक्रिया  के तहत : हम प्रयास कररहे हैं की  साधना  से संबंधित  जो सामान्य बाते हैं पर हमारे नए गुरु भाइयों के लिए उन्हें समझ पाना थोडा सा कठिन होजाता हिन् जैसे , अंग न्यास , कर न्यास , आसन बंधन जैसे , प्रक्रिया की छोटी छोटी विडियो फिल्म बना कर  तथा मुद्रा  जो  किस प्रकार से बनायीं जाती  हैं उनसे भी संबंधित  फिल्म  भी  इसमें जोड़ने जा रहे हैं जिससे की सभी गुरु  भाई बहिन एक श्रेष्ठ  साधक बन कर सदगुरुदेव ओर पूज्य गुरुदेव त्रिमूर्ति जी का गौरव प्रवर्धित कर सके.

२ पारद संस्कार  प्रक्रिया के तहत.: पारद संस्कार से  अनुप्राणित व्यक्ति या जो इसमें सिखाना     चाहते हैं वे कई बार प्रक्रिया गत  चीजे ठीक से समझ न पाने के कारण असफल  होते हैं  तो जीतन  भी गुरु आज्ञा से संभव होगा इस बारे में  छोटी छोटी विडियो फिल्म बना कर  इस साईट में रखी  जाएँगी जिससे की किसी को भी  सदगुरुदेव जी  ओर गुरुदेव त्रिमुर्तिजी  द्वारा  बताये गए ज्ञान  उसे  उपलब्ध हो ओर वह  इस पथ पर  तीव्रता से चल सके.. सदगुरुदेव जी का स्वपन की पारद युग   इस धरा पर उतर सके , श्री गुरु चरणों  में भावांजलि  के रूप में जो भी हो सकेगा वह  हम करने का लगातार प्रयास करेंगे ही .

३. आयुर्वेद से संबंधित प्रक्रिया:  जैसा की हम आप जानते हैं की आज कल ऐसे विद्वान कम ही हैं  जो  बृहद  ज्ञान रखते हो ओर साथ ही साथ उसे   अन्य लोगों से बांटने का प्रयास करते हैं . सदगुरुदेव भगवान् ने अनथक प्रयत्न  किया की हम दिव्य ओर  सिद्ध   आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के बारे में जान सके , पर हम वह ज्ञान  की गरिमा नहीं समझ पाए , ओर न ही ये समझ पाए की उनका चिंतन  क्यों इनको बचने के लिया था, ओर क्या संभव नहीं हो सकता हैं इन के माध्यम से. ,  इस प्रयास मैं हम जितनी भी जड़ी बूटियों से संपर्क  में  आते जा रहे हैं उनकी भी विडियो फिल्म हम धीरे धीरे  साईट पर   देते जायेंगे.जिससे की हमारे सभी भाई बहिन ज्ञान के  इस क्षेत्र में भी  प्रवीणता  प्राप्त कर , इन दिव्य  वस्तुओं को बचने में- अपना योगदान दे सके.  
 ४, दुर्लभ ग्रंथों से संबंधित  प्रक्रिया : जो भी साधनात्मक दृष्टी से  महत्वपूर्ण दुर्लभ ग्रन्थ हैं  ओर  यदि इन ग्रंथों से संबंधित जो भी बहुमूल्य जानकारी पृष्ठ  मिलते हैं  उन्हें  आपके सामने रखा  जायेगा जिससे सभी गुरु भाई बहिन लाभान्वित  हो सके .
 हम ने सदगुरुदेव जीके दुर्लभ फोटो section  को अभी नहीं बनाया हैं इस हेतु  हमारा यह निवेदन हैं की  यदि आपके पास सदगुरुदेव भगवान्  से संबंधित कोई भी दुर्लभ फोटोग्राफ या विडियो  क्लिप हैं  , वैसे  तो ये आप की संपत्ति हैं  परफिर भी आप यदि हम सब के साथ  उन क्षणों को याद करने में सहयोगी  होना  चाहते हैं तो   कृपया हमें बताये, इ मेल से संपर्क करें. 

सदगुरुदेव जी के साथ गुरुदेव त्रिमूर्ति जी के आशीर्वाद को मन में धारण  करते हुए आप सभी के   अभी तक के स्नेह के साथ




                                                                   
 Dear Friends ,
 it’s a joyful moments for all of us  that  our website (version first just  launched  as  our offering to poojya sadgurudev ji’s  birth day offering to all of us means 21 April.
We know that  still much much need to be done, regarding many things hidden or appeared one. I know that  you are waiting   for  its address i.e.


its just a first step so  there are many more improvement  needs to be done  to make it more user friendly and with more enrich  sadhanatmak material.we will do our best  in this direction.
 Some of the feature available  in current version is
1.Sadgurudev ji small biography. and side by side  list of audio ,vedio cassettes, list of his books , about  many more  things .just check yourself.
2.  List of complete articles /post appeared till date in yahoo group or in  Nikhil alchemy2 blog.as per alchemy .sadhana,  parad gutika sections.
3. Details of  coming workshop and  about previously successfully completed  workshop details with  photographs.
4.Details about forthcoming book.
5.Details with construction photographs of Nikhileshwar mahdev temple at silwasa.
6. directly  link s to  Nikhil alchemy2blog and yahoo groups and  our guru brothers  populars groups.etc.
6.other feature like Faq answers, contact us, tantra kaumudis prev issue details etc.
As we  just mentioned you that  this is just beginning so what are our plan regarding  its enhancement , here are ..
(i)General procedure  front :We are trying our best that small video film for  small ritual like, kar nyas , ang nyas and many other things  will be  included so that  new guru brother /sister will  be  benefited by that.
(ii)On parad sanskar  front : various video clipping are a way  on the preparation so that true  seekar of this science will visually see the things and get benefited by that.  If possible For each sanskar’s  Minor to bigger detailswill be included . so that once again  parad  yug can come. Sadgurudev ji and gurudev trimurtiji's glory will shine all the universe.
(iii)On Ayurveda Front: Now very few person available  now a days  , who have   a good and through knowledge of the various herbs and are ready to impart  his knowledge . reason may be any (either  we are not having enough  dedication or  other cause) sadgurudev ji worked very hard  towards preservation of such a divyaoshidhiyan and siddhoshidhiyan   though that what can not be achieved,  either on    removing poverty  side of to get person health free from all the dieses.
So  small video clip showing such a plant so that at least in the beginning  we can  aware of that , than second phase  will start   means once we knew that their utility than  we definitely work together to preserve them.

(iv)lost granths Front:  so that important books and rare one too , if some important  portion or  info or section available than for the benefit for our guru brother and sister will be available  to them.
We still not prepared the durlabh photo graphs section  for that we are asking your cooperation that if some you have any durlabh(rear)  photographs or video clipping  of Sadgurudev ji  , and if he is willing to  share with us,kindly contact us through e mail so that  section be  full of such a photographs and video.
Many more planning  still left , now  we  prayer  to sadgurudev ji and poojya Gurudev Trimurti ji 's bliss us so that we can come out successful, and through their  blessing this will sure happen, when sadgurudev and  gurudev trimurtiji and mataji blessing with us, still have any one who can question of our  success.
                      TVADIYAM VASTU NIKHILAM TUBHYAMEV SAMARPAYET
****NPRU****