There was an error in this gadget

Thursday, April 29, 2010

TANTRA VIJAY-2(SECRETS OF KANKAWATI SADHNA)


Tantra World is known as ocean of wonders were various types of stones exist with their shimmer and powers which mesmerize the sadhak like any thing,some of them are really remarkable…and astonished us because they transport worldly and spiritual powers togetherly.With order of Sadgurudev when I started the journey of discovering Alchemy(Ras-shastra) at first sight they make me understand that either footstep on this path only if you want completeness in life else if you are going to leave it in middle pathway then better you leave it now.So when I decided to step firmly then it became essential for me to know each n every secrets of this path.Yes I was knowing that it doesn’t seems that easy as it reflects…I have heard from my elder guru bros. that if you really want to understand or imbibe the whole secrets of Alchemy then the only sadhna which can fulfil your desire is “KANKAWATI SADHNA”.

With lots of excitement I asked to my elder guru bros. about this sadhna, as I heard and read it before and that greed of knowledge took me to that gentleman. But he rebuked me.And said that I am not elegible for this Sadhna.

I felt very bad at that as the same time Sadgurudev was Agyatvas for some specific reason.I was eagerly waiting of him but till the time I can’t sit just with folded arms.Therefore I started finding this the details regarding this sadhna in very ancient books Mahakaal Sanhita, Tantra Mahodadhi, Tantra Maharnav, Mantra Maharva, Yakshini Mahatantra, Kaam kali vilas, Mantra Sagar, Meru Tantra, Rudraymal Tantra, Dattatraye Tantra, Swachhand Tantra, Stree Tantra etc etc. hundreds of ancient sacred books groped, but their was nothing which will give peace of mind. I found 4-6 process and tried but they were not so sound.I always complain that these ancient books display incomplete information and it is always doubtful whether such mantra are pure or not.And as you all know that doubtful sadhnas are never successful.

At the same time I met Mr.Kalidutt Sharma who is the well known Tantrik and Alchemsit of Assam.When I asked him about this sadhna and its effect then he also said that where this sadhna brings extraordinary accomplishment of Tantra world but also influences sadhak’s personal life with full financial security.Along with this Goddess introduces the sadhak to that incredible secrets of of Alchemy through which he just get in bombshell.When I asked about the procedure he simply refuse. Then I said from where I can find the details? Hmmm he said only one person i.e. Shree Sadgurudev only knows every thing about it and given to his disciples in shivir.In fact the whole shivir was organized just for this sadhna.After listening him, I met to all old guru bros. and asked for the details of this sadhna.Even all of them were agreed andsaid yes sadgurudev told us about this sadhna but we cant tell you.They simply denied me to told anything about it.
Finally with tired, lost and dejected mind I reached Jodhpur and stayed nearby it for 4-6 days.One fine monrming when I went to Gurudham I came to know that Sadgurudev came out from Agyatwas.I was very anxious and eagerly waiting for sadgurudev .Approximately at 9.30am he called me in.I touched Sadgurudev Charan and stared him with tearful eyes.

Sadgurudev said - Wants to know about Kankawati Sadhna…
I said - yes…
What do you want know hnnna?
Everything…
Ok…I will tell you each n every secret of it.You just note it down.He started throwing light on this subject.This sadhna can be done in three ways…Shastra says sitting infront of Kankawati Yantra consecutive for seven days under Wat Vriksha in count of thousand on daily basis the Kankawati Goddesses appears.But this is Matrik procedure.Before mantra chanting method a clear notion firstly in form of Mother or Sister has to be done.
With complete mantrik procedure it can be finished in 7, 11, 21 days respectively.Daily eleven malas have to done.because sadhak is just a meek in this.moreover this process is mention in all ancient sacred books.Mantra of this process is famous between sadhaks.As possibility of success is fifty-fifty.

Then what do I do…
Look my son-you can get success only if you perform this sadhna by Tantrik vidhi.And definite intention in form of lover else wife has to be taken.Offerings of wine and meat has to be present.If in this way he followed this sadhna the hundred percent he can accomplish this sadhna.

Hainnnnnnnnn…how can I do this-I said…

Son,in Tantra World there is a specific meaning of such letters.Here the Wine and Meat is symbolized.Thats why this sadhna is known as Tantrik sadhna.Well here meat is a piece of coconut and Wine in a form of jiggery mixed milk.Which is devoted as consecrate Food .

For this sadhna a specific type of Bhoj Patra is required on which the Yantra is placed by sadhak himself. And by series of alphabets of Mantras the Keelan has to be done.Then on this Yantra the ceremony of consecrated of an idol should be done and start worshipping at Sunday night.Beaware this yantra should not be touched by anyone else.Any of Mahavidya, Mahashakti, Mahalakshmi worships done at midnight time only.Behind Asan the fresh leaves of Vat tree to be kept and then place a red color Asan in south face direction. Clothes can be yellow or white..Worship must be done with Water, Red flower, Trigandh, offerings, lohban dhoop.And with couregeous spirit the 111 mala shold be enchanted on daily basis.For any damn reason beat it natural cause isn’but still you ve to stick to Asan can wake only after completion of such Mantras count. It takes atleast six and half hours for completion.Remember it should get windeup before morning.Its mantra is also very different.In this way he told me many other important things.Then he disclose the procedure of making that Yantra outlining and yantra formation ,even about the mantras by which the liveliness of yantra and consecrating of an idol also.Sadgurudev told me this can be bind with seven golden sootra(pure gold wire) or seven doors are formed.This secret is not revealed in any old books.That seven sootras are worshipped on daily basis in serial manner for eg.on first day the first sootra is worshipped, On second daye the second sootra likewise all sevens are worshipped till last day.Wheat floor has to be baked in pure ghee and to be mixed with jaggery.Some coconut pieces are mixed then just bind it in form of Laddu(a round shape like ball) and Milk with jiggery too are represents in form of offerings.these only are the meat and alcohol offerings. While devoting any treatment should be the name of it has to announced and then dedicate it.If the Ghee lamp flamed continuously for seven days would be best.No one should enter that room for seven days besides you.rest so many important secrets he revealed.After knowing all details I reached home and accomplished that sadhna exactly as he directed.Exactly same thing ahappened as Sadgurudev told me.Goddess appeared and blessed me in sadhna fisrt attempt.Whatever I wished from this sadhna I got it and continuously I get it.By that divine power so many secret puzzles get solved easily.Today also incredible help I get from it.Subject could not be lengthy so I managed it in short.Al that I can say is there is no process in Tantra world which can not be earn or kept secrets by Sadgurudev in Siddhashram sadhnak Parivar.We should be fond of these sootras that they are easily available.Else can be available from Gurudham.I would really waiting to know about your sadhnatmak experiences.Definitely so many of us having the successful l experience of sadhnas.But that has to be shared.We should show that kindness which is shown by ultimate support of life i.e.Sadgurudev had shown forever.As its evidence is widespread Siddhashram sadhak parivar. isliye sachche Mantra Putra baniye aur Tantra-Vijay yatra ko lakshya tak pahuchane me sahyog kijiye.

****ARIF****

तंत्र विजय-२ (कनकावती साधना रहस्य)


तंत्र जगत आश्चर्यों से भरा हुआ एक ऐसा सागर है जहाँ पर विविध साधना रूपी रत्न अपनी अपनी चमक और शक्तियों से साधको को अभीभूत ही किये रहते हैं. और कई रत्न तो सच में ही अद्भुत हैं. अद्भुत हैं अपनी भौतिक और अध्यात्मिक शक्तियों को एक साथ ही प्रदान करने के गुणों के कारण. रस-शास्त्र की खोज में जब मैंने अपनी
यात्रा सदगुरुदेव के आदेश पर प्रारंभ की तो मुझे एक बात प्रारंभ में ही समझा दी गयी थी की या तो पूर्णता पाने के लिए इस पथ पर आगे बढ़ो और लक्ष्य को पा कर ही रुकना ,और अगर बीच में इस राह को छोडना हो तो बेहतर है की इस पर चलने का विचार ही छोड़ दो . अब जब तय कर लिया था की लक्ष्य को प्राप्त करना ही है तो ये भी जरुरी था की इस मार्ग के विविध रहस्यों को भी जान लिया जाये. और मुझे पता था की ये सब
इतना सहज नहीं है. मैंने कभी अपने किसी वरिष्ट गुरु भाई को ये कहते हुए सुना था की यदि रस शास्त्र के रहस्यों को समझना हो या गुप्त रहस्यों को आत्मसात करना हो तो तब एक ही साधना आपका अभीष्ट पूरा कर सकती है ........ और वो साधना “कनकावती साधना” है.
मैं हुमस कर अपने उन गुरु भाई से उस साधना के बारे में पूछने लगा, क्यूंकि मैंने ये तथ्य पहले भी सुना और पढ़ा था और उस ज्ञान को पाने का लालच ही मुझे उन महोदय तक ले गया था.पर उन्होंने झिडक ही दिया .और ये कहा की तुम इस साधना के योग्य ही नहीं हो.

बुरा तो मुझे बहुत ही लगा और ये वो दौर था जब सदगुरुदेव किसी खास कारण से अज्ञात वास पर थे . मुझे बेसब्री से उनके आगमन का इंतजार था पर तब तक हाथ पर हाथ धरे भी तो बैठा नहीं जा सकता था. इसलिए मैं तंत्र शास्त्र के प्राचीन ग्रंथो में इस दुर्लभ साधना की विधि को ढूँढने लगा. महाकाल-संहिता , तंत्र महोदधि, तंत्र
महार्णव,मंत्र महार्णव, यक्षिणी महातन्त्रं,काम काली विलास,मन्त्र सागर ,मेरु तंत्र ,मात्रिका तंत्र, रुद्रयामल तंत्र , दत्तात्रेय तंत्र, स्वछंद तन्त्रं,स्त्री तन्त्रं आदि सैकडो ग्रन्थ मैंने टटोले पर कुछ ऐसा मुझे नहीं मिला जो मेरे चित्त को शांत कर पाता. ४-५ विधियाँ मिली भी तो उनका प्रयोग करने पर ऐसा कुछ नहीं हुआ जिसे विशेष कहा जाता . मुझे हमेशा एक बात की शिकायत रही की इन ग्रंथों में विधियाँ हमेशा पूरी तरह नहीं बताई जाती और मन्त्र शुद्ध है या नहीं ये भ्रम भी हमेशा बना रहता है . और आप सभी जानते हैं की भ्रम युक्त साधना असफलता ही देती है .
इसी समय मेरी मुलाकात कालिदत्त शर्मा जी से हुयी जो आसाम के प्रसिद्द तांत्रिक और रस शास्त्री थे. मैंने जब इस साधना और इसके प्रभाव के बारे में पूछा तो उन्होंने भी यही कहा की इस साधना के द्वारा साधक को जहाँ तंत्र जगत की एक अद्भुत सिद्धि मिल जाती है वही इसके प्रभाव से भौतिक जीवन में
पूर्णता तो मिलती ही है मतलब आर्थिक निश्चिन्तता आदि पर इसके साथ ही ये देवी साधक को तंत्र और रस शास्त्र के ऐसे ऐसे रहस्यों से परिचित करती है की बस साधक हतप्रभ ही रह जाता है . मैंने जब उनसे इसकी विधि पूछी तो उन्होंने भी अपने हाथ खड़े कर दिए . मैंने उनसे कहा की मुझे इस दुर्लभ साधना का रहस्य आखिर कहाँ मिलेगा . उन्होंने कहा की इस गोपनीय साधना का सम्पूर्ण रहस्य
सिर्फ सदगुरुदेव ही जानते हैं और उन्होंने इससे सम्बंधित ज्ञान अपने शिष्यों को शिविर में भी दिया है , एक पउर सत्र और शिविर ही इस विद्या पर आयोजित किया था . ये सुनने के बाद मैं कई पुराने गुरु भाइयों से मिला और उनसे इस शिविर के प्रयोग के बारे में पूछा भी . कहा तो सभी ने की हाँ सदगुरुदेव ने करवाया था और सभी रहस्यों को बताया भी था पर हम नहीं बता सकते. थक हार कर मैं उदास मन से जोधपुर
चला गया .वह मैं ४-५ दिन ही गुरुधाम के पास रुका रहा . एक सुबह जब मैं प्रातः काल ही सदगुरुदेव के निवास पर पंहुचा तो सेवक ने बताया की सदगुरुदेव आ गए हैं . मैं बैचेनी से उनसे मिलने की राह देखने लगा .लगभग ९.३० बजे सदगुरुदेव ने मुझे बुलाया . मैंने चरण स्पर्श किया और अश्रुपूरित नेत्रों से उन्हें देखने लगा .
कनकावती साधना के बारे में जानना चाहता है – सदगुरुदेव ने कहा .
जी.......
क्या जानना है –सदगुरुदेव ने कहा.
जी सभी कुछ...
ठीक है ... मैं तुझे इसके सभी रहस्य बता रहा हूँ, तू उन्हें लिख ले.
फिर सदगुरुदेव इस अद्भुत विद्या के रहस्य पर प्रकाश डालने लगे . उन्होंने कहा की ये साधना तीन तरीके से की जा सकती है ...... शास्त्र कहते हैं की सात दिन तक कनकावती यन्त्र के सामने वट वृक्ष के नीचे बैठ कर सहस्त्र संख्या में नित्य जप करने पर देवी प्रत्यक्ष होती है. पर ये मांत्रिक विधि है .इसमें जप के पहले माँ रूपेण, भगिनी रूपेण का भी संकल्प लिया जा सकता है .
पूर्ण मांत्रिक विधि से इस साधना को करने पर ७,११,२१ दिन में संपन्न किया जा सकता है. नित्य ११ माला मंत्र जप होता है . रविवार से ये साधना प्रारंभ होती है .पर इस साधना में वो सिद्ध होगी या नहीं ये उसके ऊपर है . क्यूंकि इसमें साधक मात्र विनीत रहता है .यही विधि ज्यादातर ग्रंथो में वर्णित है.
इस विधि का ही मन्त्र भी प्रचलित है साधकों के मध्य. इसमें सफलता का प्रतिशत ५०-५० रहता है.
तब मुझे क्या करना चाहिए – मैंने कहा
बेटा इस साधना को तांत्रिक पद्धति से संपन्न करने पर ही ये सिद्ध होती है . इस साधना में भार्या या प्रेमिका रूप में ही सिद्ध करने का भाव संकल्प लिया जाता है . मांस और मदिरा का नैवेद्य चढ़ाया जाता है. इस विधि का प्रयोग यदि साधक करता है तो निश्चित ही पहली बार में ही प्रत्यक्ष सफलता मिलती ही है.
हैं..............-मुझसे ये भला कैसे होगा- मैंने कहा.

बेटा तंत्र जगत में इन शब्दों के गूढ़ अर्थ होते हैं. यहाँ पर मांस और मदिरा का अर्थ प्रतीकात्मक है और इसी प्रतिक के कारण ये साधना तांत्रिक साधना कहलाती है . मांस का अर्थ यहाँ नारियल का टुकड़ा और मदिरा का अर्थ गुड मिला हुआ दूध है .जिसे नैवेद्य रूप में समर्पित करते हैं.
इस साधना के लिए एक विशेष विधि का प्रयोग करता हुआ भोज पत्र पर यन्त्र का निर्माण साधक स्वयं करता है और उसमे मन्त्र के वर्णाक्षरों द्वारा एक विशेष विधि से यन्त्र का कीलन भी करता है . फिर इस यन्त्र में प्राण प्रतिष्ठा कर उसका पूजन रविवार की रात्रि में करता है. याद रहे ये यंत्र किसी और के
द्वारा स्पर्श नहीं होना चाहिए. किसी भी महाविद्या, महाशक्ति , महालक्ष्मी आदि का पूजन रात्रि में ही प्रारंभ होता है . आसन के नीचे वट के १२-१५ ताजे पत्ते नित्य रख देने चाहिए और उस पर रक्त वर्णीय आसन बिछा देना चाहिए. मुख दक्षिण हो .वस्त्र पीले या सफ़ेद हो सकते हैं. जल,लाल फूल, त्रिगंध, नैवेध्य, लोहबान धुप से यंत्र का पूजन होना चाहिए . और पूर्ण वीर भाव से १११ माला जप नित्य ८ दिनों तक
हकिक माला या सर्पस्थिमाला से होना चाहिए. जप एक बार में ही पूरा होना चाहिए. चाहे लघुशंका की तीव्र इच्छा हो या मरने वाले हो तब भी एक बार आसन पर बैठ गए तो मन्त्र पूरा करके ही उठना है . पूर्ण मन्त्र में ६.३० घंटे के आस पास लगते हैं. पर याद रहे की मंत्रजाप सूर्योदय के पहले हो जाना चाहिए. इस साधना का मन्त्र भी भिन्न होता है . इस प्रकार उन्होंने और भी कई महत्वपूर्ण
बाते बताई .यंत्र अंकन तथा यंत्र निर्माण की विधि तथा उन गोपनीय मन्त्रों को भी स्पष्ट किया जिसके द्वारा उस यंत्र को संजीवित् तथा प्राण प्रतिष्ठित किया जाता है.सदगुरुदेव ने बताया की इस यन्त्र को ७ स्वर्ण सूत्रों द्वारा बंधा जाता है या ७ द्वार
का निर्माण किया जाता है . ये एक ऐसा रहस्य है जो किसी भी ग्रन्थ में नहीं बताया गया है और उन्ही सप्त सूत्रों का जो विशुद्ध स्वर्ण से निर्मित होते है नित्य प्रति क्रमानुसार पूजन होता है अर्थात पहले दिन पहले सूत्र पर ही पूजन होता है दुसरे दिन दुसरे का, यही क्रम अंतिम दिन तक रहेगा. नैवेद्य के रूप में आटे को घी में भून कर गुड मिला कर उसमे नारियल के टुकड़े डालकर लड्डू बना देने चाहिए तथा साथ में गुड मिश्रित दूध अर्पित करना चाहिए. यही मद्य और मांस का अर्पण है . किसी भी उपचार को अर्पित करते समय मूल मंत्र के आगे उस उपचार का नाम लेकर समर्पयामी कह कर वो वस्तु अर्पित करना चाहिए .यदि घृत का दीप आठ दिनों तक अखंड लगाया जा सके तो अत्युत्तम . कमरे में ८ दिनों तक कोई नहीं जाना चाहिए आपके अतिरिक्त. और भी बहुत से ऐसे रहस्य हैं जो गुरुदेव ने उद्घाटित किये . खैर उन रहस्यों को जानने के बाद मैंने घर पंहुच कर उन्ही निर्देशों का पालन करते हुए साधना संपन्न की. उन रहस्यों को पालन करते हुए साधना करने पर उस महाशक्ति का पूर्णरूपेण प्रत्यक्षिकरण पहली बार में ही किया और वैसी ही सफलता मिली जिसके बारे में सदगुरुदेव ने बताया था . जिन उपलब्धियों की चाह में मैंने ये साधना संपन्न की वो उपलब्धिया निश्चित रूप से प्राप्त हुयी और निरंतर प्राप्त हुआ है उस दिव्य शक्ति का मार्गदर्शन भी तंत्र और रस शास्त्र के ज्ञान प्राप्ति के क्षेत्र में.
कई गुत्थियां सहज ही सुलझ गयी. आज भी उसका अवर्णनीय सहयोग मिलता ही है.विषय लंबा न हो जाये इसलिए लेख संक्षिप्त में लिखा है . मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूँ की . ऐसा कोई विधान नहीं है तंत्र जगत का जो अप्राप्य या गुप्त रखा गया हो सिद्धाश्रम साधक परिवार में .
हमें गर्व होना चाहिए की हमें ये सूत्र सहज उपलब्ध हैं . या फिर हम इन्हें गुरुधाम से प्राप्त कर सकते हैं.मुझे आप सभी के साधनात्मक अनुभवों के विवरण का इन्तजार है. निश्चय ही हम लोगो में बहुत से साधकों के पास साधनात्मक सफलता के अनुभव होंगे .पर वे अभिव्यक्त भी तो किये जाये. हमें वही उदारता बतानी चाहिए जो हमारे प्राणाधार सदगुरुदेव ने ज्ञान प्रदान करने में निरंतर दिखाई है.इसका प्रमाण ये सिद्धाश्रम साधक परिवार का विस्तृत समूह है. इसलिए सच्चे मन्त्र पुत्र बने और अभिव्यक्ति का गुण प्रदर्शित करें. यही तंत्र-विजय यात्रा का लक्ष्य भी है.


****ARIF****

Tuesday, April 27, 2010

TANTRA VIJAY-1(SHREEM BEEJ SADHNA)


It was just beginning of my Sadhna life and a different and wonderful feeling of happiness of attempting sadhnas continuously and knowing each n every secret aspect of sadhnas under association with shree Sadgurudev.But one pain will always afflict in my heart whenever I failed to attend any shivir due to which I get deprived from the knowledge which sadgurudev used to shower practically related to various secret dimensions sadhnas..It was my innocent childhood ha…… this is why many times I presented my questionares in front of sadgurudev and elder co-bros also.They used to get angry on me many times and refused me to answer.but sadgurudev always wipe off all the curiocity from my mind very cheerfully.It never ever happened that I raised any question and he didn’t answered me……. Hm mm it was really my golden time……

Once, generally I was telling him due to financial crisis It would’t be possible for me to attend each shivir and because of it I get deprived from the valuable knowledge which u showered in that shivir……
Sadgurudev said - No my son its not like that, I know very well that how financial aspect makes weak and deprived us from relishing small moments of happiness in life.This is why I always used to conduct many shivirs for Wealth earning and wish completion sadhna (dhan prapti and manokamna poorti sadhna) due to which none of my disciple would remain as it is, so they can easily reach me and attend all the shivirs.
But oh my only support of life… I have gone through so many magazines and books but that only makes me confused that by trying which experiment i can solve my financial problem and I wouldn’t be deprived from Ur valuable learning.

With unlimited love and care he spread his hand on my head and said – Son, there are so many process but there is one experiment which I ve been personally assessed and found very effective.Even Its effect is not just for 1-2 days rather it is continuously went for 30 days app.Well rest sadhnas are very critical and long to perform, infact their stability is also difficult.Therefore this is not the appropriate time.See,in future so many shivirs will be conducted in which series of secrets would be disclosed .So I want,each one should do active participation in such shivirs and achieve feeling of completeness in life. This knowledge will not be reflect in future,because I don’t want to limit their knowledge by relying on justfew part.At present you just do that process which I have practically shown some years back.Whom so ever performed this sadhna not with full preparation but still experienced the results.I said - So could I get full explanation of this sadhna.
Homonym why not my son – of-course said smilingly…. He called one of his servant and told him to get one cassette.

With fractions of seconds I got that cassette in my hand and straight away I went to home locked my room and listened it carefully and imbibed it.I was surprised how easily sadgurudev have unveiled the truth.
On appropriate time I attempted that process under sadgurudev’s instruction.In span of a day at night time while performing that sadhna I didn’t had any experience because my whole time was consumed in doing that sadhna.As its target was to complete each step in prescribed time in serial manner.Well that was the ultimate challenge in that sadhna.And successfully attempted it.I was tired like anything so I slept their itself.. Now it was just waiting time of morning…

Afternoon was over and then evening also… till the time nothing got happened, but no ifs n buts were their in my mind. As I have seen unbelievable thing under sadgurudev’s association so there was no scope for suspiciousness.Some how evening was passed on but passing night became difficult for me.I got money and that much which I have never ever dreamt for hhhhhaaaa…. Wonderful…. And this count went on atleast for a month… hm mm by time by time its effect gets lesser and the count of rupees too (ha ha ha).But this was been already told by sadgurudev that its sadhna effect will be lesser day by day.This is true that wealth can be earn by any source.I also get this not just for once consecutively for two months. Attending shivir was my only passion that time.I was student, and this was necessary that parents will always provides me money for shivirs.But after this sadhna my dependency got over. After this when I went for next shivir I participated in each experiment.In between when I went to meet sadgurudev, he asked me with killing smile.. So I hope u don’t have any worry now… hnnna…
Without tearful eyes I don’t have any other answer….

Afterwards I attempted so many processes for financial growth and with blessings of gurudev I achieved also.but the mode of relaxation I felt in doing that sadhna was not felt in any other one.Well each process told by sadgurudev is incredible.It is because he churned his life and given his strength of knowledge and of course blessing too.I have evident that any process which sadgurudev told us and doesn’t successes.I have studied various aspect of Tantra and gone through so many tantra granthas but no detailed mantras are mentioned nor process are clear.

But whatever experiments sadgurudev told us are really incredible.Well the sadhna I was talking about is famous and recorded on the name of “SHREEM BEEJ SADHNAâ€I have mentioned .And today also available at Gurudham.I just want to say that please keep secured this knowledge for u and ur family.I would suggest personally to attend this sadhna by your own then only you can relish its fruits personally.just don’t read it rather see truth by your own eyes.I hope you will definitely step forward to imbibe this knowledge and will vanish all the pains from your life…Isn’t it hnnna??

(Why me only,I would really appreciate if you would all write your experiences.This is our civil responsibility.I am talking about Sadhnatmak experiences not about day today life because I know whoever related to sadgurudev will always feels surprises in his life.But I feel we should also aim for knowing others experiences and to inspire them also.Well whatever experience I shared with u all are relied on basis of evidence not just coincidence and putting the credibility of sadhnas infront all of us is only mission of Siddhashram family members…that’s it…)

****ARIF****

Monday, April 26, 2010

तंत्र-विजय १ (श्री बीज साधना)


साधना जीवन का प्रारंभ ही था और सदगुरूदेव के साहचर्य में निरंतर साधनाओं के गूढ़ रहस्यों से परिचित होकर प्रयोग करने का आनंद ही अद्भुत था. परन्तु एक दुःख हमेशा मन को सालता रहता था की मैं हर शिविर में सम्मिलित नहीं हो पाता था और कई बार उस ज्ञान से वंचित रह जाना पड़ता जो की सदगुरूदेव उस शिविर में सम्बंधित साधना पक्ष के रहस्यों को उधेड़ने के लिए प्रवाहित करते . बालपन था और साथ में ही थी मासूमियत .इसी कारण कई बार मैं नादानी में सदगुरूदेव या वरिष्ठ गुरु भाइयों के समक्ष अपने कौतुहल को प्रश्नों के रूप में रखता . वरिष्ट गुरुभाई तो कई बार झुंझला जाते और उत्तर देने में आनाकानी करते पर सदगुरूदेव हमेशा प्रसन्नचित्त मन से मेरे कौतुहल को शांत करते . एक बार भी ऐसा नहीं हुआ जब मैंने अपनी जिज्ञासा उनके समक्ष रखी हो और उन्होंने उसे शांत न किया हो.
ऐसे ही एक बार जब मैंने जब सदगुरूदेव से ये कहा की सदगुरूदेव अर्थाभाव के कारण मैं प्रत्येक शिविर में भाग नहीं ले पाता हूँ और इस वजह से मैं उस बेशकीमती ज्ञान से वंचित रह जाता हूँ जो की आपने उस शिविर में प्रदान किया होता है .........
नहीं मेरे बेटे ऐसा नहीं है , मुझे भली-भांति ज्ञात है की धन की कमी या उसका आभाव जीवन के विविध सुखों से वंचित कर देता है . परन्तु मेरे शिष्यों को प्रगति पथ पर बढ़ने में ऐसी कोई बाधा न आये जिससे वो मुझ तक न पहुच पाए या फिर उन्हें किसी चीज को तरसना पड़े ...इसलिए मैं धन प्राप्ति और मनोकामना पूर्ती के लिए लगातार शिविरों में प्रयोग करवाता रहता हूँ –सदगुरूदेव ने कहा .
परन्तु हे मेरे प्राणाधार मैंने पुरानी पत्रिका और पुस्तकों को भी देखा है मुझे कुछ समझ ही नहीं आ पाया की मैं कौन सा प्रयोग करूँ जिससे मुझे अर्थाभाव के कारण आपके अनमोल साहचर्य से वंचित न रहना पड़े .... और ये कहकर मैं रोने लगा .
गुरुदेव ने मेरे सर पर हाथ फेरते हुए कहा की – ऐसे बहुत से प्रयोग हैं . परन्तु एक ऐसा भी प्रयोग है जिसे मैंने कई बार परखा है और हमेशा इसे उतना ही प्रभावकारी पाया है . इस प्रयोग के प्रभाव से १-२ दिन नहीं बल्कि ३० दिनों तक निरंतर धन मिलता रहता है . अन्य साधनाओं का क्रम लंबा होता है और स्थायित्व के लिए क्रियाएँ भी जटिल होती हैं . अतः ये समय उचित नहीं है . देख आने वाले समय में बहुत से शिविर होने वाले हैं और उनमे बहुतेरे रहस्य प्रकट होंगे जो अभी तक अत्यधिक गुप्त रखे गए थे. और मैं चाहता हूँ की मेरा प्रत्येक शिष्य उसमे भाग ले और जीवन को पूर्णता दे . ये ज्ञान आगे दुबारा नहीं मिल पायेगा ,क्यूंकि किसी एक ज्ञान तक ही मैं सीमित नहीं रखना चाहता हूँ अपने शिष्यों को. अभी तू समयानुरूप उसी साधना को कर ले उस साधना को मैंने कई साल पहले शिविर में करवाया था. और जिसने भी इस प्रयोग को किया भले ही थोड़ी बहुत त्रुटि हुयी हो तब भी इसका फल मिलता ही है .
क्या मुझे इसका पूर्ण विवेचन मिल जायेगा – मैंने आंखे नीचे किये हुए सकुचाकर कहा.
क्यों नहीं – सदगुरूदेव ने मुस्कुराकर कहा और तुरंत ही एक सेवक को बुलाकर एक कैसेट लाने के लिए कहा.
थोड़ी ही देर में मेरे हाथों में वो कैसेट था . और घर पहुंचकर मैं सीधे अपने कमरे में जाकर उस कैसेट को सुनते हते आत्मसात करने लगा . कितने सरल शब्दों में सदगुरूदेव ने रहस्यों का अनावरण किया था .
उचित समय पर मैंने सदगुरूदेव द्वारा विवेचित प्रयोग को संपन्न किया. रात्रिकालीन इक दिवसीय उस साधना में अनुभव जैसा कुछ था ही नहीं क्यूंकि आपको उसके क्रम को ही संपन्न करने से फुरसत नहीं मिलेगी. बस उस क्रम को निर्धारित समय में पूर्ण करना ही लक्ष्य था . और आखिर उसे पूरा कर ही लिया.
इतना थक चूका था मैं की वहां बैठे बैठे ही सो गया . अब इंतज़ार था तो सुबह का ............

दोपहर हुए फिर शाम भी..... अभी तक तो कुछ नहीं हुआ था, परन्तु कोई संदेह भी नहीं था मष्तिष्क में . इतना कुछ देख लिया था सदगुरूदेव के साहचर्य में की संदेह का तो सवाल ही पैदा नहीं होता. शाम तो बीती पर रात नहीं बीत पाई .धन मिला और इतना मिला जो की उस समय मेरे लिए तो बहुत था . और ये क्रम चलता रहा पूरे एक माह तक , हाँ ये अलग बात थी की प्रभाव-शक्ति नित्य घट रही थी और घट रही थी नोटों की संख्या भी (हा हा हा हा ) पर ये तो सदगुरूदेव ने पहले ही बता दिया था की साधना का प्रभाव दिन ब दिन कम होता जाता है .और धन राशि भी . पर ये सत्य है की धन तो मिलता है चाहे माध्यम कोई भी हो. मुझे भी मिला और एक बार नहीं बल्कि दो बार मैंने साधना की और दो माह तक ऐसा होता रहा . मुझे शिविर के लिए जरुरत थी और शिविर जाये बिना मैं रह नहीं सकता था,एक अजीब सा जूनून रहता था सदगुरूदेव से मिलने के लिए. मैं विद्यार्थी था ,घर से पैसे मिले ऐसा हमेशा संभव नहीं हो पाता था. पर इस प्रयोग के बाद मेरे शिविर जाने के लिए घर पर निर्भरता खत्म हो गयी थी .
खैर प्रयोग के बाद जब पहली बार शिविर गया तो मैंने सभी प्रयोगों में भाग लिया . शिविर के मध्य सत्र समाप्ति पर जब मैं सदगुरूदेव से मिलने गया तो उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा की –अब तो तुझे कोई चिंता नहीं है ना.

सिवाय अश्रु भरे नयनों के मेरे पास कोई जवाब ही नहीं था.
भले ही उसके बाद मैंने कई धन प्राप्ति के और आर्थिक उन्नति से सम्बंधित प्रयोगों को किया. पर जितनी बेफिक्री उस प्रयोग से मुझे मिली थी उसे शब्दों में बताना मेरे वश में ही नहीं है. सदगुरूदेव द्वारा बताये गए, लिखे गए सभी प्रयोग अद्भुत प्रभाव युक्त हैं . इसलिए क्यूंकि प्राणों का मंथन कर उन्होंने इन प्रयोगों को अपना ज्ञान बल व आशीर्वाद दिया हुआ होता है.एक भी ऐसा प्रयोग मैंने नहीं देखा जो उन्होंने निर्देशित किया हो और वो असफल हुआ हो. विविध गूढ़ तंत्र-शास्त्रों का मैंने गहराई के साथ अध्यन किया है. उनमे वर्णित सूत्र होते हैं और न ही सही मन्त्र विधि .
परन्तु जो भी प्रयोग सदगुरूदेव प्रदत्त या लिखित मैंने किये उनमे पूर्ण लाभ मिले ही मिले.
खैर जिस प्रयोग का मैंने उल्लेख किया है वो पूरा प्रयोग “श्रीं बीज साधना” के नाम से कैसेट में है . और आज भी गुरुधाम में प्राप्त है. मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूँ की इस कैसेट को अपने तथा अपने वंशजों के लिए सुरक्षित रखें और आप जब तक इस प्रयोग को संपन्न करें और खुद इसका प्रभाव भी देखें. सिर्फ पढ़ें नहीं बल्कि करके सत्यता देखें. मैंने पाया है आप भी प्राप्त करं् और भाग्य को सराहे की आज भी ये ज्ञान सुरक्षित है. आशा करता हूँ की ललक कर आप इन साधनाओं को अपनाएंगे और जीवन की कमियों को न सिर्फ दूर करेंगे बल्कि पूर्णता भी प्राप्त करेंगे. है ना........

(सिर्फ मैं ही क्यों आप सभी अपने साधनात्मक अनुभव व विवरण लिखें. ये हमारी नैतिक जिम्मेदारी भी है . मैंने साधनात्मक अनुभव के लिए कहा है न की दैनिक जीवन में अनुभव के लिए क्योंकि सदगुरूदेव से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में चमत्कार होता रहता है.पर हमारा उद्देश्य साधनाओं के जगत में अन्य गुरु भाइयों का अनुभव जानना भी है और प्रेरित करना भी. मैं जिन भी साधनाओं के बारे में या क्रियाओं के बारे में बताता या लिखता हूँ उन प्रयोगों की सत्यता के प्रमाण मेरे पास होते हैं यहाँ संयोग नहीं प्रमाण को आधार माना जाता है और साधनाओं की प्रमाणिकता को सबके सामने रखना ही तो सिद्धाश्रम साधक परिवार की स्थापना का लक्ष्य है)

****ARIF****

Saturday, April 24, 2010

Thank you all

Dear all,

At this moment of a time,I have a cocktail of feelings inside me. I am believed to be numb person but still at this moment my eyes are nearly to wept. I love you all. yes I love you all. You are the people who gave me your unconditional love and much more respect one could ever imagine.

I may re-collect my memories when I was very new in the field of alchemy. when I came to know about alchemy, I was sure for to attain remarkable knowledge of ras tantra and there was no doubt at all as of being desciple of the great paramhansa Nikhil who is singular in all the fields. But for several years I studies scriptures and performed various methods' prectically. But at all what I got was nothing. Now I was having no more wish of losing anything in term to gain something because I lost my valuable and precious time for to have glimps of alchemy but nothing happened.I even tried to meet various sanyashi desciples of gurudev who were big scholars of alchemy but were not ready even one of those to share something. finelly, I contacted one sanyashi aughad who used to meet gurudev on each holi. he agreed to share something but after that he never came in my touch as he was not visible at holi even


after that I came in contact with one sage, when I asked him if he can share something, He simply said "Why should I tell you anything, What can you give me in return?" He spoke this and went.! He was right, I was having nothing to give him. neither from materiality world, nor from spirituality world.

When I reach to gurudev's feet with heavy heart, I just said "gurudev Alchemy...." he cut my sentence and just said " hota hai..! (it happens)." thats all. it was my answer. it was all I got.

from that moment whenever I felt any difficulties, I just remebered his those words with dashing smile'it happens'.

My dear all,

I could never forget my miles of walks in forests, spending of valuable and precious time, everything on bat. but finelly, I achieved what I was willing to achieve. Gurudev gave me what I did expected...

but still that was question, Why I had been that way? why not an usual way? Why so much pain for to search the platform of the alchemy ? when I asked gurudev, I got shocking answer.

he told me that the time will come when you will be helping to create a platform of alchemy. I didnt understood anything and he explained that at a very specific moment alchemy will be re introduced among sadhaks. rest you will understood at that time.


I cant let you believe this but dear brothers and sisters that time has come. alchemy is being re introduced. platform is being created for you. Gurudev was willing to make 80 component scholars in alchemy at the moment but it is found very very very painful that the devdatta found only 3 people eligable for the same. Ofcorse it is not a easy to reach to such level but atleast one should have a vision of this.

what ever I have shared was with gurudev's order and permission and I am ready to bet on this that no scriptures could give you this information because this is the experience which is being shared in the group.

I really thank Arif bhai,for starting this revolution, to develope the platform, for giving me chance and opportunity to contribute in this valuable group. The history of alchemy will always remeber you. I am really glad to see people being intrested in this subject but not only intrest can lead. devotion to gurudev can only lead you to the success.

Today people may not understood the significance of the group but after some years I am sure people will. you all are part of this group and it is not a usual thing. It is what time have decided for you. Try to understand signals of nature. understand nature. that what I can share with you all. With gurudev's wish, I am now no more require to share anything. My posts ends here, Perhaps my this role ends for this time to continue with my sadhnas. In future I may have a chance for to share such experiences but at this moment, I take your leave. In this time duration if anyone have been hurted by me knowingly or unknowingly, I appolige. I am really sorry for any inconviniences. I will never forget love given by you all.

What I can say else is everything happens with gurudev's wish. we are just a machiens and he is the operator.


"chalo ab izazat do dosto,
Muje talash me meri, Rava hona he"

Thank you all


****RAGHUNATHNIKHIL****

Wednesday, April 21, 2010

Ugra Dhumavati Sadhna (My experience)


It was just beginning of my Sadhna life and two years were over…Under patronage of revered shree Sadgurudev I started attempting some preliminary sadhnas and thishow I entered in this supernatural world… Truly saying,the moment he holded my hands,fearlessness encompassed in my life.Whenever I used to heard about the high level of sadhnas called ugra sadhnas from my co-guru brothers I used to feel a strange vibration which was defenitely not scary but attracted me alot.I was very keen n eager to know such secrets but I don’t know why they were always been hasitent to disclose it.nonethless this present time was like were Sadgurudev used to tell all secrets of sadhnas between their disciples just to calm down their curiocity and to make them as live book of knowledge.Navarna Mantra Rahasya Shivir,Surya Siddhant,Mahalakshmi Abaddha,Sabar Sadhna,Gopniya Tantra,Bhrahmatva Guru Sadhna,Matangi Sadhna,Mahakali Hanuman sadhna etc. upon the whole shivir were conducted in unbelievable way for 8-9 days at Gurudham continously.These are merely just names of such powers which were organised in experimental and demonstral form infront of us.likewise thousands of shivir were organised.In such shivirs, sadgurudev used to demonstrate all those secrets in such an easy manner which was really heart touchable.Suddenly one day,Sadgurudev called me his office and said-now the time has come you have to start concentrating your mind towards strong,harsh and intensed sadhnas because todays world is known for strong and harsh sadhnas only.And I am watching that probably in future you will be in need of such sadhna only.

Slowly I said….As you say my lord.
Gurudev said calmly and quietly -Son, may be todays world is not recognising the significance of such sadhnas but the way it seems money is vital for living life, the way softness is the ornament of sadhak, exactly in the same way sharpness and moderate rage is also necessary for securing ourself from the negative and cruel energies and also needed to maintain our self respect gracefully..well it would be a vague discussion that in future these secrets would get published………along with that he told me to come in evening again…

With instructions of sadgurudev I successfully completed Mahakali Sadhna,Bhairav Sadhna and then he put forwarded me for Shmashan Sadhna.Here I would like to tell u one thing that he always enforces all to attempt shmashan sadhna togetherly.In black dark night of Ayodhya at the bank of Sarayu river he organised this tangled sadhna,when elder co-bro performed this sadhna in Aghor way.There were many places for doing this sadhna but a normal sadhak doesn’t buzz out from it.Apart from that, this is also a big truth whenever any sadhak visits near sadgurudev for sadhnas no one get disappointment.Always come out with a satisfying response.

After attempting various complicated sadhnas I asked his permission for attempting great “Dhumawati Sadhna”…he said it is very very difficult sadhna and for its accomplishment you have to pass through its three levels.You can crossed two of it at the same place were their u have attempted rest harsh sadhna till now but for last level you have to choose one of the Siddh peeth. And then he explained the me the deep secrets of this sadhna and blessed me.Look for accomplishment of any such harsh sadhna first u must aware about each aspect of it,infact each secret should be known and must be attempted with very courageous attitude then only it will take u to success.One should not go for this sadhna if there is little bit of fear.If you take Sthapan Dikhsa or Poornarupen Safalta prapti diksha for doing this sadhna the complete accomplishment is guarenteed.Dhumavati Sadhna immersed remarkable fearlessnes in life.
If anything is true in this world which is ultimate and supreme force of destruction is the only “Goddess Dhumavati”.

It completely releases the nonexistence and enemies from sadhaks life.along with that gaves complete success in shmashan sadhna ,warding off from bad and cruel souls(pret aur tantra badha nivaran)soul appealing sadhnas.Hmmm don’t take it lightly this sadhna is very crucial… it is the crucial test of mental, soul and physical strength of sadhak.Kindness is impossible infact a single small mistake can throw u far away which would be beyond our imagination.So be alert…Well you can perform this sadhna by two ways.If you want to have your work done successfully then just enchant the guru instructed mantra.But if you want to see her full appearance and complete accomplishment then you have to cross all three levels.then only it ll lead u success and effect in life till your last breath…

These are as follow…
Beejmantra(through which it can establish in your soul and all seven bodies)
Saparya Process(through which all types of energies and power can be establish on us)
Mool mantra and evident ordained(guarenteed achievement and seeing with one’s own eyes)


First two levels I crossed on the same mountain which was fuly covered with the land of graves and were I attempted all my harsh sadhnas.In span of 7-7days respectively I completed these two levels and for last and final level chosen the Kamakhya peeth for it.For discovering the facts related to Ras tantra I used to visit Assam frequently.Actually frankly speaking I don’t know why baut I feel a special attachment toward Kamakhya Peeth so I choosed it.…and before this sadhna I have Done some more sadhna there.

At Kamakhya Peeth were the kamakhya temple is located,from its south direction app. 27 feets down there is there is the Dhumavati’s huge peeth.Actually that place is very right because of its loneliness and natureful ambience.There only I accomplished this sadhna with all instructions of revered sadgurudev.From his blessing I was personally evidented and wished also.With tearful eyes and deep respect in mind I just fell down, rest what else I ve which I can dedicate!After that year many a times my co-bros came with me but I never used it for my personal use as I never felt its requirement. Hmmm in shmashan sadhnas the kilan and for the help of spirits I experimented it again. I got busy in discovering other sadhnas and then I never used it again…
But after many years somehow conditions were like…

Because of my whimsicle nature month on month I used to stay away from my home.once upon a time after long span I went back to home and found every thing shattered.My mother-father,brother-sister and each family member’s face was filled up with pain and depression.When I asked they told me that someone really wanted to kill my younger brother.they captured my brother in to a fake case and tried to ditched him so he was roaming here n there… even no help was getting from police departmen.On contrary they were trying to decieve my father and abused thretening again n again.Not only this much they treated my father with very harsh and abusing language.Even not spared my female family members tried to molest them but failed.My brother was living a simple life.He was a teacher in a renouned school.My family’s goodwill was very strongand it was one of the renouned one in that district.There was terrific pressure of them in that area so no one was ready to say a single word against them.Every one was sitting at home and hiding their useless face.conditions were too miserable any one who would visit to log a case will get unnecessary botheration and beseated at police station.It seems that the police had became a toy of their hand.It was pathetic situation..

When listen all this I was really zapped…Didnt understands what to do… everything was going blank.I tried to contact Gurudham but that time sadgurudev was out of station.recently there was a shivir organized in Jodhpur.I decided to attend that shivir and reached their.When I tried to contact Gurudev personally though he met rest ones but denied to meet me.With disappointment at shivir’s corner I was wheeping.I was thinking do I made any mistake that gurudev didn’t meet me. Why? Why? The programme was about to begin and the panigrahan festival was there.Sadgurudev came on exact time and beseated on his asan.He then started his lecture “My Disciple would not be an feared person.Ive never taught him to run away from the situation.I ve always taught to if some one thinking to slap u once before that he should get ten slap on his face…”
This type of angry lecture I heard for first time from Sadgurudev.And I understand that this is for me and I got answer of all my questions.Indirectly that breath taking sentence was told for me only… I got rage on my foolish behavior.Now whenever I listen it again I got filled up with bundle n bundles of energy flow…

It is compiled on name of “Yuddham Dehi”in a casset form.You think where it was a festival mood and lcture on War… strange na…hnnna…When lecture got over and he was returning to his camp I was standing there only,he stopped for a sec and gave me a killing smile which was a hilarious moment for me.

After some time one of my co-bro came and informed that Gurudev is calling me his office.I just ran away and reached their and holded his feet and started crying.
Sadgurudev said- Look my Son.. “Never show ur back or never run from situation rather always face the challenge with full energy.As its never suits any sadhak.”
I said I was really blanked what to do?it was beyond my understanding…I have never seen my family under such conditions.My father is known as respectful person in that area but today police is mistreating him like anything…
Sadgurudev said- do running from situation will solve your problem hnnna???
I said please tell me any sadhna so that I can protect my family and get back respect as we are innocent…

I know my child therefore I am saying that protecting family’s image and fighting against injustice is the prime duty of any sadhak. And any new sadhna cannot be happened by u in such condition because u ve lost ur mental stability.Well this time is not to experiment the new sadhna rather to use the old sadhna to get rid from this situation.
What do I do then???

You have accomplished “Dhumavati Sadhna” successfully so use it-said Gurudev..And then he told me the detailed description how to use this sadhna against the enemy destruction and permitted me to go.however shivir’ second day was remaing but on priority u have experiment this sadhna.so go my son and get successful..My blessing are their with u..

And on the same mountain I started seven days process.Daily midnight I used to start which end at till 3.30am..There was hell pressure for first six days assuming my body will burst anytime…I used to feel that someone is stopping me to do mantra chanting…but on last day when I completed last ablation suddenly a big blast happened and fire-pit broke into pieces and springed high in sky…unexpectedly everything got motionless…And a glowing light speedly went towards the village.I became pressureless…I just came back to home and took a bath and crashed to bed… In morning with great noise i woked up..i came outside and asked what happened? Mother said-last night app 3-4 time that leader’s got brain hammerage..my eyes filled with tears of happiness and promptly I moved towards the Sadhna room and expressed my gratitudes…Second day rest all rowdys got vanished due to an accident.Everything destructed say his business bla bla got over….And again peaceful environment spreaded all over.

All this has not been told for spirit deceit.Moreover we should realize the value of these sadhnas.Sadgurudev had given through magazines, books and live demonstration in shivirs also.With great enthusiasm we all should step forward and accomplished these sadhnas for completeness and fearlessness in life.See I have evidence with me and I know many other sadhaks who also have successes but hesitated to disclose their experiences.May be any of my co-guru bro get inspired from reading these sentences. Whatever I have achieved I m trying to share it all with u.No one forces you to believe me. believe or not to believe its whole personal matter which cannot be smeared on any body. But beside knowing any sadhna and criticizing it is not a fair thing I guess... rest all your wish because afterall its your life…hnna

****ARIF****

Tuesday, April 20, 2010

उग्र धूमावती साधना (मेरा अनुभव)


साधना जीवन का प्रारंभ हुए मात्र २ वर्ष ही हुए थे और सदगुरुदेव की छत्र-छाया में कुछ लघु साधनाओं को संपन्न करते हुए मेरे साधना जगत में प्रवेश का श्री गणेश हुआ था .सच कहूँ तो जबसे उन्होंने हाथ थामा था ,निर्भयता ही जीवन में व्याप्त हो गयी थी .जब भी वरिष्ट गुरु भाइयों को उग्र साधनाओं की बात करते हुए सुनता था तो पता नहीं मन में एक अजीब सी लहर उठने लगती थी जो की भय की तो कदापि नहीं थी .मैं उन रहस्यों को जानने के लिए बैचेन था ,पर पता नहीं क्यूँ मेरे अग्रज गुरु बन्धुं इन रहस्यों को बताने में हिचकिचाते थे . हालाँकि ये दौर ऐसा था की सदगुरुदेव समस्त साधनाओं के रहस्यों को शिष्यों की जिज्ञासा समाधान के लिए और उन्हें सजीव ग्रन्थ बनाने के लिए सदैव प्रकट करते रहते थे. नवार्ण मन्त्र रहस्य शिविर ,सूर्य सिद्धांत , महालक्ष्मी आबद्ध ,साबर साधना , गोपनीय तंत्र ,ब्रह्मत्व गुरु साधना, मातंगी साधना, महाकाली हनुमान साधना इत्यादि साधनाओं के ऊपर पूरा प्रयोगात्मक शिविर ही ८-९ दिनों का गुरुधाम में लगातार आयोजित होते रहते थे . ये तो मात्र कुछ नाम ही हैं उन शक्तियों के जिनका प्रयोगात्मक और सिद्धात्मक सत्र सदगुरुदेव ने आयोजन किया था. ऐसे सैकडो शिविर आयोजित हुए थे उन दिनों .शिविरों में सदगुरुदेव इन साधनाओं के समस्त गोपनीय रहस्यों को सहज रूप से शिष्यों और साधकों के सामने प्रकट करते रहते थे . जिनके द्वारा निश्चित रूप से उन साधनाओं में सफलता मिलती ही थी. एक दिन अचानक सदगुरुदेव ने मुझे कार्यालय में बुलाया और कहा की – अब तुम अपना ध्यान पूर्ण रूप से तीव्र साधनाओं की और लगा दो . क्यूंकि वर्तमान युग तीव्र और तीक्ष्ण साधनाओं का ही युग है . और मैं देख रहा हूँ की आगे के जीवन में तुम्हे इन साधनाओं की बहुत आवशयकता पड़ेगी .
जैसी आपकी आज्ञा ....-मैंने धीरे से कहा .
बेटा आज शायद समाज इन साधनाओं के मूल्य को नहीं पहचान रहा है . पर जिस प्रकार धन जीवन के लिए अनिवार्य है, जिस प्रकार सौम्यता साधक का श्रृंगार है ,ठीक उसी प्रकार तीव्रता और संयमित क्रोध भी जीवन को दुष्ट शक्तियों से बचाए रखने के लिए और आत्मसम्मान की गरिमा को सुरक्षित रखने के लिए जरुरी है – गुरुदेव ने शांत स्वर में कहा .
भविष्य में ये रहस्य कब प्रकाशित होंगे इन पर अभी तो चर्चा करना व्यर्थ है....... ये कहकर उन्होंने मुझे शाम को पुनः आने के लिए कहा .
गुरुदेव के निर्देशानुसार महाकाली साधना , भैरव साधना करने के बाद , श्मशान साधनाओं की और उन्होंने आगे बढाया . यहाँ एक बात मैं आप सभी को बता दूँ की कई साधकों को सामूहिक रूप से शमशान साधनाओं को करने की आज्ञा भी सदगुरुदेव देते थे . अयोध्या में सरयू नदी के तट पर घोर रात्रि में कई बार ऐसी साधनाओं का आयोजन हुआ है जब कई वरिष्ट भाई अघोर पद्धति से इन साधनाओं को संपन्न करते थे . ऐसे कई स्थान थे उन साधनाओं को करने के लिए . हाँ ये अलग बात है की सामान्य साधकों को इसकी भनक भी नहीं लगती थी . पर ये भी उतना बड़ा सत्य है की जब भी कोई साधक सदगुरुदेव के पास किसी पद्धति को जानने के लिए जाता था तो उसे निराशा कभी हाथ नहीं लगती थी .
कई उग्र साधनों को भली भांति करने के बाद जब मैंने धूमावती साधना को करने के लिए गुरुदेव से आज्ञा चाही तो उन्होंने कहा की ये साधना अति दुष्कर साधना है .और इसकी पूर्ण सिद्धि के लिए तुम्हे इसके तीनो चरण करने पड़ेंगे ... दो चरण तो तुम अब तक जहा तीव्र साधना करते रहे हो वहां कर सकते हो पर तीसरे चरण के लिए तुम्हे किसी शक्ति पीठ का चयन करना पड़ेगा . और साधना के गोपनीय रहस्यों को समझाकर मुझे सफलता का आशीर्वाद दिया .
किसी भी महाविद्या की पूर्ण सिद्धि तभी संभव है जब आपको उसके समस्त रहस्यों का पता हो और पूर्ण वीर भाव से उसे करने के लिए आप संकल्पबद्ध हों . अन्य साधनाएं तो आप फिर भी कर सकते हैं पर महाविद्या साधनाओं के लिए अलग जीवन चर्या का ही पालन किया जाता है .संयमित और मर्यादित जीवन जीते हुए आप इन साधनाओं को निश्चित रूप से सिद्ध कर सकते हैं. जरा सा भी भय आपके मन में हो तो इन साधनाओं को नहीं करना चाहिए . इन साधनाओं की सफलता के लिए यदि स्थापन दीक्षा या पूर्णरूपेण सफलता प्राप्ति दीक्षा ले ली जाये तो सफलता असंदिग्ध रहती है.धूमावती साधना साधक के जीवन को अद्भुत अभय से आप्लावित कर देती हैं , हाँ ये सत्य है की संहार की चरम सीमा यदि कोई है तो वो यही हैं . साधक के जीवन को अभाव और शत्रु से पूर्ण रूपेण मुक्त कर देती हैं साथ ही देती हैं शमशान साधनाओं में सफलता , प्रेत और तंत्र बाधा निवारण और आत्म आवाहन साधनाओं में सफलता का वरदान भी .इनकी साधना सहज भी नहीं है साधक के पूर्ण आत्म,मानसिक और शारीरिक बल का परिक्षण इस साधना से ही ही जाता है . दया तो संभव ही नहीं है और जरा सी चूक घातक भी हो जाती खुद के लिए. दो तरीके से आप इन साधनाओं को कर सकते हैं . यदि मात्र आपको अपना कार्य सिद्धि का मनोरथ पूरा करना हो तो आप गुरु निर्देशित संख्या में मूल मन्त्र का जप कर ये सहज रूप से कर सकते हैं. पर जब आपका लक्ष्य पूर्ण सिद्धि हो तो महाविद्या साधनाओं के तीन चरण तो करने ही पड़ेंगे . तभी आपको सफलता मिलती है और पूर्ण वरदायक जीवन पर्यंत प्रभाव भी .
ये चरण निनानुसार होते हैं.
बीजमंत्र सिद्धि (जिससे उस महाविद्या का आपकी आत्मा और सप्त शरीरों में स्थापन हो सके)
सपर्या विधि (जिससे उस महाविद्या की समस्त शक्तियों का स्थापन आपमें हो सके)
मूल मंत्र और प्रत्यक्षीकरण विधान( निश्चित सफलता और पूर्णरूपेण प्रत्यक्षीकरण के लिए
)

मैंने प्रारंभ की दो क्रियाएँ तो उसी पहाड पर की जो चारों तरफ से शमशान से घिरा हुआ है और जहा मैं प्रारंभ से तीव्र साधनाएं शमशान साधनाएं करता रहा हूँ . ७-७ दिन के दोनों चरणों को सफलता पूर्वक करने के बाद मैंने माँ कामाख्या शक्ति पीठ को तीसरे और अंतिम चरण के लिए चुना . रस तंत्र के शोध के लिए मैं लगातार आसाम में रहा करता था और कामाख्या पीठ से एक अद्भुत लगाव की वजह से मुझे वही उचित भी लगा...वैसे भी इस साधना के पहले कुछ और साधनाएं भी मैंने उस भव्य पीठ पर संपन्न की थी ,जिनमे मुझे आशातीत सफलता भी मिली थी .
कामाख्या पीठ पर कामाख्या मंदिर से दक्षिण की तरफ लगभग २७ फीट नीचे माँ धूमावती का भव्य पीठ है . वह एकांत भी है और मनोनुकूल वातावरण भी...... वही पर सदगुरुदेव के द्वारा बताये गए गोपनीय सूत्रों का अनुसरण कर मैंने इस साधना को संपन्न की . सदगुरुदेव के आशीर्वाद से माँ का प्रत्यक्षीकरण भी हुआ और वरदान भी मिला . गुरु चरणों में अश्रुयुक्त प्रणिपात के अतिरिक्त मैं समर्पित भी क्या कर सकता था . बाद के वर्षों में कई गुरुभाई उस स्थान पर मेरे साथ भी गए . उस समय मैं शत्रु बाधा निवारण के लिए इस साधना का प्रयोग भी नहीं कर पाया क्यूंकि कभी आवशयकता भी नहीं पड़ी .हाँ शमशान साधनों में कीलन और आत्माओं का सहयोग लेने के लिए जरुर कई बार प्रयोग किया. पर अन्य साधनाओं पर भी लगातार शोध करने के कारण फिर मैंने इस साधना का प्रयोग आगे कभी नहीं किया परन्तु कई वर्षों के बाद हालत कुछ ऐसे बने की...........
घुमक्कड स्वाभाव का होने कारन मैं घर पर कई कई महीने नहीं रह पाता था . एक बार लंबे समय के बाद जब मैं घर पंहुचा तो घर में सभी कुछ अस्त-व्यस्त था .माँ , पिताजी, भाई भाभी , बहन , सभी दर्द से भरे हुए चेहरों के साथ बैठे थे . पूछने पर मुझे बताया की मेरे छोटे भाई को जान से मारने की फिराक में कुछ लोग लगातार लगे हुए हैं. झूठे प्रकरण में उसे फसाया गया है. कई दिनों से वो भागा भागा फिर रहा है. पुलिस वाले भी उल्टा परेशान कर रहे हैं . मेरे पिताजी को गन्दी गन्दी गालियाँ सुनने को मिलती थी .पुलिस उन्हें धमकाती रहती थी. भाभी और बहन को घर से वे असामाजिक तत्व उठाने की धमकी दिया करते थे . मेरे भाई एक सीधे साधे शिक्षक थे . मेरा पूरा परिवार जिसकी ख्याति उस कसबे में संस्कारित और अत्यधिक सभ्य परिवार के रूप में होती थी . उसके ऊपर लगातार प्रहार हो रहे थे. उन असामजिक तत्वों का इतना खौफ उस कसबे में था की कोई भी कुछ बोलने का साहस नहीं कर पाता था. सभी आस पास वाले चुपचाप अपने अपने घरों में डरे सिमटे से बैठे रहते थे. आतंक और खौफ को फैलाकर रख दिया था उन लोगों ने . कानून तो जैसे खिलौना था उन के हाथों का . कोई सुनवाई नहीं बल्कि जो शिकायत करने जाता , उसे ही वह बिठा लिया जाता था परेशां करने के लिए.
मुझे कुछ भी सूझ नहीं रहा था ........... गुरुधाम संपर्क करने पर पाता लगा की गुरुदेव बाहर गए हुए हैं.
और निकट भविष्य में जोधपुर में शिविर था . मैंने वहा जाने का निश्चय किया और पहुच ही गया . गुरुदेव से संपर्क करने की कोशिश की तो वे बाकि लोगो से तो मिल लिए पर मुझसे मिलने के लिए मना कर दिया . हताश होकर मैं शिविर स्थल में बैठ कर रो रहा था . ये सोच कर की आखिर मुझसे क्या गलती हुयी है जो सदगुरुदेव ने मिलने से मना कर दिया. सत्र प्रारंभ होने वाला था और पाणिग्रहण का महोत्सव था . सदगुरुदेव नियत समय पर आये और मंचासीन होकर उन्होंने प्रवचन प्रारंभ किया “ मेरा शिष्य कायर हो ही नहीं सकता, मुसीबतों से भागना मैंने कभी सिखाया ही नहीं . मैंने हमेशा यही कहा है की कोई तुम्हे एक चांटा मारने की सोचे उसके पहले दस तमाचे सामने वाले को पद जाना चाहिए..............” इस प्रकार इतना क्रोध से भरा हुआ प्रवचन मैं पहली बार सुन रहा था . मुझे समझ में आने लगा की वो मेरे प्रश्नों का ही उत्तर दे रहे हैं. अब मुझे अपनी बेवकूफी पर गुस्सा आने लगा और रोना भी . उस दिन के प्रवचन को मैं आज भी सुनता हूँ जब भी निराशा मेरे अंदर प्रवेश करने लगती है ... तब तब वो प्रवचन मेरे उत्साह को अनंत्गुनित कर देता है .
“युद्धं देहि” के नाम से वो प्रवचन संकलित है केसेट रूप में . खैर...... प्रवचन की समाप्ति के बाद सदगुरुदेव जब वापस जाने लगे तो मैं रास्ते में ही खड़ा था और मेरे सामने से निकलते हुए वे एक पल के लिए रुके और मुस्कुराते हुए मुझे देखा और चले गए .
थोड़ी देर बाद एक गुरुभाई आये और उन्होंने कहा की सदगुरुदेव तुम्हे ऑफिस में बुला रहे हैं. मैं दौड़ता हुआ पंहुचा . और उनके चरण स्पर्श करने के बाद रोने लगा.
सदगुरुदेव बोले – बेटा जीवन में भागना या चुनौतियों से डरना ही गलत है . ये एक साधक को शोभा नहीं देता .
मैं क्या करूँ ,मेरी समझ ही नहीं आ रहा, मैंने कभी अपने परिवार को ऐसा नहीं देखा. मेरे पिताजी का इतना सम्मान है उस क्षेत्र में , पर आज उन्हें पुलिस वाले उल्टा-सीधा बोल रहे हैं- मैंने कहा
तो क्या भागने से तेरी समस्या का समाधान हो जायेगा ....... बोल- उन्होंने कहा.
आप कोई साधना बताइए जिससे मैं इस अपमान का प्रतिशोध ले सकूँ, हमारी कोई गलती नहीं है गुरुदेव- सर झुकाए मैंने कहा.
मुझे पाता है तभी तो कह रहा हूँ की परिवार की अस्मिता की रक्षा करना और अन्याय का प्रतिकार करना ही साधक धर्म है . और अभी कोई नविन साधना तुझ से हो भी नहीं पायेगी . क्यूंकि स्थिर चित्त से ही साधना हो पाती है. और ये समय किसी नए को आजमाने के बजाय पहले की गयी साधनाओं को प्रयोग करने की है.
फिर मैं क्या करूँ............
तुने धूमावती की साधना भली प्रकार से सफलता पूर्वक की है तू उसी का प्रयोग कर –गुरुदेव ने कहा .
और फिर उन्होंने उसका प्रयोग कैसे शत्रु बाधा पर करना है ये बताकर मुझे जाने की आज्ञा दी. हालाँकि शिविर का दूसरा दिन अभी बाकि था पर उन्होंने कहा की अभी तेरे लिए इस प्रयोग को शीघ्रातिशीघ्र करना कही ज्यादा जरुरी है. आशीर्वाद प्राप्त कर मैं वापस आ गया.
और उसी पहाड पर मैंने इस ७ दिवसीय प्रयोग को प्रारंभ किया . प्रतिदिन मध्य रात्रि से उस वीरान पहाड पर मैं अपनी साधना को प्र५अरम्भ करता जो की सुबह ३.३० तक चलती. शुरू के ६ दिन तो अत्यधिक दबाव बना रहा ,मानों शारीर फट ही जायेगा. और ऐसा लगता जैसे कोई मन्त्र-जप को रोक रहा हो . पर अंतिम दिवस जैसे ही पूर्णाहुति की एक तीव्र धमाका हुआ और यज्ञ कुंड के टुकड़े टुकड़े होकर ऊंचाई तक उछालते चले गए . और एक सब कुछ शांत होकर निस्तब्धता छा गई.एक प्रकाश पुंज तीव्र गति से कसबे की और चला गया. और मुझ पर से दबाव हट गया. मैं घर चला आया और स्नान कर सो गया. सुबह शोर शराबे से मेरी नींद खुली तो . मैंने कमरे से बाहर आकर उसका कारन पूछा. तो मेरी माँ ने बताया की कल रात ३-४ बजे उस लीडर का उसके घर में ही बैठे बैठे मष्तिष्क फट गया . मेरी आँखों से प्रसन्नता के अश्रु निकलने लगे और मैं अपने साधना कक्ष की और दौड़ता चला गया ...... आभार प्रकट करने के लिए. २ दिन बाद ही वे समस्त उपद्रवी एक एक्सीडेंट में हताहत हो गए. जिस भाई के राजनितिक संबंधो के कारन उस लीडर को कानून सहयोग करता था .उसका समस्त व्यापार ही बर्बाद हो गया. मेरा कसबे में फिर से चैन और सुकून का वातावरण दिखाई देने लगा.
ये सब आत्म-प्रवंचना के लिए नहीं बताया गया है. बल्कि इसलिए की समय रहते हम इन साधनाओं का मूल्य समझ लें. सदगुरुदेव ने पत्रिका, शिविरों, और ग्रंथों के माध्यम से सब कुछ दिया है. हम ललक कर आगे बढे और इस साधनाओं को अपनाकर पूर्णता और निर्भयता पायें .मेरे पास प्रमाण है अपनी सफलता का और मुझे पाता है की मेरे कई गुरु भाई हैं जिन्हें सफलता मिली है पर वे अपने संस्मरण बताना ही नहीं चाहते. शायद मेरे किसी भाई को ये पंक्तियाँ प्रेरित कर सकें इस पथ पर आगे बढ़ने के लिए ....... मुझे जो भी मिला है मैं बताते जा रहा हूँ. कोई जबरदस्ती नहीं है विश्वास करने के लिए. विश्वास करना या नहीं करना हमारा व्यक्तिगत भाव है जो थोपा नहीं जा सकता. पर बगैर साधनाओं को परखे उसकी आलोचना तो कदापि उचित नहीं . बाकि मर्जी है आपकी क्यूंकि जीवन है आपका........

****ARIF****

Siddh Devranjini Gutika


Today I am going to tell you the description regarding the “Gutika” which is not mentioned in any Ras Granth.And If it is mentioned then definitely with some changes which we cannot recognise.As we know the reasons behind it that it is the dead need of time to keep it very secretful from negativity.Well when we are eager to know more about this subject, so with all efforts we should step forward for knowing our culture and peculiarities of it.

Between all Ras siddhas the details of this Gutika has been kept secret from long time.From that all gutikas one of the important name is “Devranjini Gutika”… As compared, the difficulties come in the way of making this gutika is that’s easy to relish its achievements and fruits in our day today life…… like good fortume,freedom from disease,frequent unbelievable growth,mental strength,Kundalini wakening,the wheel of time,benefits of profound meditation,Metal transformation,connection with great souls,rejunevation,future predictions,subjugating and master of many other wonderful powers.Well it is because, on this gutika when the divine power of mantra,divine herbs,gold,stones sections are done and afterwards melting it in full sunlight and then placed under the cover of sky then it lacks some of the peculiarities also.In this way when parad finds juicial state in its gigantic form, the Devranjini Gutika has been occured.

In formation of this Gutika daily eight hours for forteen days continously practice is required(only after making of rasendra).By barding of various stones,binding with gold cinder,adorning with divine herbs and with enchantment of aghor mantras finally summoning the Rasankush Goddess establishment takes place……This is how it is formed and reflects with the wonderful effects infront of us.

Hey I have seen this Gutika with one Ras siddha in Guwahati.He not only shown me the wonders of this gutika but also told me the whole process which is not even mentioned in any ras granth till the date I have gone through…

If blessings of revered Shree Sadgurudev showers on us in the same way,soon we will be knowing all the hidden secrets which are currently locked only between the ras siddhas........


****ARIF****

Monday, April 12, 2010

Ras Darshana 18 (Paarad and Kundlini)


as everyone know that ras tantra is not just a metal transformation and it is far more beyond from our vision and imagination.

Basic of all 64 tantra is Kundalini activation in known and unknown part. from tantra to the padarth vigyan, every field always deal with Kundalini activation as base. Paarad vigyan also owns several methods for kundalini activation. Kundalini also plays an vital part for higher level sadhna to perform. It is that way the paarad field also owns various methods for the kundalini.

As kundalini is known subject for eveyone in sadhana field, I am not going more deeper in the kundalini and its formation. Now the question arise is how paarad vigyan is being incorporated with kundalini activation.


1)the ash of pure mercury on which 8 samskars had been performed if consumed with ankol oil in a limited quantity of 1gm in a day for 60 days regularly with a special note on the food and a raseshwar mantra is chanted in front of ras linga, thus repeating this process causes kundalini activation.


2) The siddh ras (more information had been found in old posts), if consumed in 3 dose, with raseshwar mantra ; within one week kundalini get activited.


3)if khechari gutika is placed in mouth and meditation of rasheshwara is done for 64 days regularly, sadhak becomes great among yogis by having a sahastrar activated.


4)paarad on which 8 samskars had been performed, if being injected in body through palm method((more information had been found in old posts)keeps manipur chakra awake for whole 1 year.


there are several such methods which are easy and comfortable for sadhak to active kundalini and go ahead with success. We should pray to our beloved master for to bless us with such rare knowledge.

thank you all


jai gurudev

****Raghunath Nikhil****

Sunday, April 11, 2010

rasendrapeetham 3


The mastya theory was then explained by him, and I had been fortunate to understood the big theory of the vam marg. but as in the limitations of the tantra, I cant explain it so I had tried to put hint in my previous post. So, now we'll continue about mysteries of rasendrapeeth.

now the main area was being started. it was so much of green with lots of vegitation. there were many sages on the different places in their rituals. they were basically worshiping with paarad or were busy in the high levels samskaras of paarad. The way was clear and beautiful. It was not less than heven any how. nothing was lacking there. Now few step ahead there was a kind of palace. I came to know that this palace is of "padmavati dev kanya" sadhak performs her ritual here and accomplish her in priya form.

ahead there were places were yakshinis used to live. anyone can go to them and ask for the support for raskarma, they will be giving a total support.

there is a big garden where all herbs used in alchemy is available rather from teliyakand to hemant harit. and sadhak can use it according to their need.

there is a waterfall which provides a chandrodak water and available through the need of sadhak.

the place is swayam siddha and sadhak can get glimps of many god, goddess and accomplished siddhas of rasayana

one should pray to gurudev to get into such place and watch something which very few fortunates only could watch.

jai gurudev

****Raghunath Nikhil****

Tuesday, April 6, 2010

सिद्ध देवरंजिनी गुटिका


आज जिस गुटिका के बारे में मैं आपको बताने वाला हूँ.उस गुटिका विवरण साधारणतयः किसी भी रसग्रंथों में या तो नहीं है या फिर उसमे थोडा परिवर्तन कर दिया गया है.इस के कारण भी हम सभी जानते हैं की विषय को गुप्त रखना समय और काल के अनुसार अनिवार्य था.खैर जब हमने इस विषय को जानने के लिए प्रयास रत हैं तो हमें प्रयास करके हमारी परम्परा और उसकी विलक्षणता को भी जरूर जानना चाहिए.

रस सिद्धों के मध्य जिन गुटिका के विषय में गोपनीयता रखी गयी है,उनमे एक महत्त्वपूर्ण नाम देवरंजिनी गुटिका का आता है,इस गुटिका के निर्माण जितना कठिन है उतना ही सरल है इसके प्रभाव की अपने जीवन में प्राप्ति.सौभाग्य ,आरोग्य,तीव्र उन्नति,मानसिक बल,कुंडलिनी जागरण ,कालज्ञान,समाधी लाभ ,धातु परिवर्तन,उच्च आत्माओं से संपर्क,कायाकल्प,दूर दर्शन,वसीकरण,और ऐसी कई अद्भुत शक्तियों के स्वामी बन जाता है इसे प्राप्त करने वाला.क्युंकी इस गुटिका पर दिव्या मंत्रो के प्रवाह,दिव्या वनस्पतियों के संस्कार,स्वर्ण,और रत्नों के चरण देने के बाद इसे सुर्यताप्त से संपुटित कर रसेन्द्र को जब गगन के आवरण पहनाया जाता है तो विलक्षणता तो घटित होती ही है. प्रकार अंतर से पारद जब रसेन्द्र में परिवर्तित होकर जब अपने विराट रूप से एकाकार पता है तभी जाकर इस गुटिका के निर्माण होता है.

इस गुटिका के पूर्ण निर्माण में प्रतिदिन ८ घंटे के हिसाब से १४ दिन लगते हैं(रसेन्द्र बन्ने के बाद).विभिन्न रत्नों के चारण,स्वर्ण भस्म से बंधन , दिव्य वनस्पतियों के संस्कार के साथ होता है पूर्ण अघोर मन्त्रों से रसान्कुश देवी का आवाहन और स्थापन ...... तब जाकर ये गुटिका अद्भुत प्रभावयुक्त होती है और होता है इसका निर्माण भी .
मैंने इस गुटिका को एक रस सिद्ध के पास गुवाहाटी में देखा था वही पर उन्होंने इसके चमत्कारों को न सिर्फ दिखाया था बल्कि इसके निर्माण के वे रहस्य भी उन्होंने बताये थे जो की किसी ग्रन्थ में कम से कम मैंने तो आज तक नहीं पढ़े हैं.

यदि पूज्यपाद सदगुरुदेव की कृपा रही तो अवश्य ही इस विषय के वे गुप्त सूत्र जो अभी तक सिर्फ सिद्धों के मध्य ही रहे थे ,वे हम सभी साधकों के मध्य पुनः प्रयोग करने के लिए प्रचलित होंगे।


****ARIF****

Sunday, April 4, 2010

Rasa Darshana 16 ( Rashendrapeetham 2 )


Gurudev had given me four divya mantras which I was suppose to use mean while I
travel in this rasendra peeth. The first mantra I was suppose to use here which
I suppose did belong to naga loka as it sounded with some words of naga loka. As
soon as I recited the mantra, The snakes disappeared.

I went on and first, I watched a pond with beautiful water. There was a tree
near it. As ordered by gurudev, the leafs of the trees were been picked by me
and placed in water. I am not aware what that tree was because in the life time
I had not seen such tree. As those leafs were placed in pond water, they started
livening them self and acted like a fishes. Those leafs I was suppose to give
back to one gurubhai with gurudev's order.


When I met the guru bhai after returning from the peeth, I handed over him leafs
which I brought. The leafs were still livening with my surprise and seems to be
like a fish only. A flesh had been visibly developed in it and those were moving
continuously.

Guru bhai left those leafs for one day more and in one day it had become a
complete fish out of leafs. It seems to be cruel to me but that guru bhai took
that fish (or leaf) placed it live in fire, cooked it and had it through. Four
fishes were been gulped by him in matter of few minutes. I was dumped, I had
seen vam margi sadhanas before but this time I seen some one eating something
which couldn't be described.

He then laughed loudly…. I wonder as he was telling me something with his
laughter.

He explained. "The thing you watch may not be the exact you think. In vajra
sadhana of vam marg you need to had the fish and it is the rule. It is not that
in all sadhanas you need to have matsya with othe "maker" but matsya is an part
of the ritual but there were no one who can make us understand what does matsya
means. Matsya is important element, it is not just animal. Like Soul and Human.
Matsya in sadhana deals with the soul. The matsya is the actually about to
obtain power of living with water. But not all mastya can help you in sadhanas.
As in some sadhanas you need to have some yantras prepared by your self only, in
this sadhana, we must have matsya prepared for this specific purpose only.

(Continue।)


****RAGHUNATHNIKHIL****