Sign In

Wednesday, February 1, 2012

(कुछ अनुभूत टोटके )KUCHH ANUBHOOT TOTKE


कौऐ का एक एक पूरा काला पंख कही से मिल जाए जो अपने आप ही निकला हो उसे “ॐ काकभूशुंडी नमः सर्वजन मोहय मोहय वश्य वश्य कुरु कुरु स्वाहा”इस मंत्र को बोलते जाए और पंख पर फूंक लगाते जाए, इस प्रकार १०८ बार करे. फिर उस पंख को आग लगा कर भस्म कर दे. उस भस्म को अपने सामने रख कर  लोबान धुप दे और फिर से १०८ बाद बिना किसी माला के अपने सामने रख कर दक्षिण दिशा की और मुख कर जाप करे. इस भस्म का तिलक ७ दिन तक करे. तिलक करते समय भी मंत्र को ७ बार बोले. ऐसा करने पर सर्व जन साधक से मोहित होते है

मोर के पंख को घर के मंदिर मे रखने से समृद्धि की वृद्धि होती है

गधे के दांत पर “ॐ नमो कालरात्रि सर्वशत्रु नाशय नमः”का जाप १०८ बार कर के उसे निर्जन स्थान मे रात्री काल मे गाड दे तो सर्व शत्रुओ से मुक्ति मिलती है.

उल्लू का पंख मिले तो उसे अपने सामने रख कर “ॐ उल्लुकाना विद्वेषय फट”का जाप १००० बार कर उसे जिस के घर मे फेंक दिया जाए वहा पर विद्वेषण होता है

आक के रुई से दीपक बना कर उसे शिव मंदिर मे प्रज्वल्लित करने से शिव प्रस्सन होते है, ऐसा नियमित रूप से करने से ग्रह बाधा से मुक्ति मिलती है

धतूरे की जड़ अपने आप मे महत्वपूर्ण है, इसे अपने घर मे स्थापित कर के महाकाली का पूजन कर “क्रीं” बीज का जाप किया जाए तो धन सबंधी समस्याओ से मुक्ति मिलती है

अपने घर मे अपराजिता की बेल को उगाए, उसे रोज धुप दे कर “ॐ महालक्ष्मी वान्छितार्थ पूरय पूरय नमःका जाप १०८ बार करे तो मनोकामना की पूर्ति होती है

निर्जन स्थान मे “प्रेत मोक्षं प्रदोमभवः”का ११ बार उच्चारण कर के खीर तथा जल रख कर आ जाए ऐसा ३ दिन करे तो मनोकामना पूर्ति मे सहायता मिलती है.

धुप करते समय चन्दन का टुकड़ा ड़ाल कर धुप करने से ग्रह प्रस्सन रहते है

किसी चेतनावान मज़ार पर मिठाई को बांटना अत्यंत ही शुभ माना गया है ऐसा विवरण कई प्राच्य ग्रंथो मे प्राप्त होता है, इससे सभी प्रकारसे उन्नति की प्राप्ति होती है.
=================================================
Take a feather of crow which should not be taken out deliberately.. Take only the one which comes out naturally. Then blow air from mouth on it and chant this mantra simultaneously om kaakbhushandi namah sarvajan mohay mohay vashya vashya kuru kuru swaahaa. Do as this for 108 times. Then burn it and collect ashes of it. Then place ashes in front and give the acense of Loban dhup to it and again chant the same mantra without any rosary facing towards south direction. Then do the tilak of this ash for 7 consecutive days. By doing this you will everyone enamored towards you.
By keeping peacock feather in your worship area it enhances the prosperity in life.
By chanting this mantra Om namo kaalraatri sarvashatru naashay namah on donkey’s teeth for 108 times and entomb under lonely place can relieve you from all your enemies.
If you found owl feather and then if you chant this mantra Om ullukana vidhveshay phat for 1000 times and throw it at away at any house can create malicious in that house.
If you make a lamp from the cotton of calotropis gigantean plant (a medicinal plant) and flamed it at any Lord shiva temple can make him happy. By doing such act the planetary malefic effects would get away.
The root of Harebell keeps quite important in itself, by establishing it in house and worshipping goddess Mahakali and chanting the Beej mantra Kreem can relieve you from financial crisis.
Plant the creeping leaves of undefeated plant at your house. Give it incense on daily basis and chant the mantra Om mahalaxmi vaanchitaarth pooray poray namah for 108 times can complete your wishes.
At any lonely place just chant this mantra Pret moksham pradombhavah  for 11 times and keep  sweet kheer and water their itself. Do it for three consecutive days will definitely complete your wish.
While incensing use the sandal wood piece and then flame it in house. This will keep your home happy.
At any active shrine or grave place distributing sweets is termed as very auspicious. Well this is mentioned in ancient books also. This leads to progress in many ways.

   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 

No comments: