There was an error in this gadget

Friday, March 4, 2011

Important notice for NEXT WORKSHOP



Dear friends,
as you already knew that in tantric field and in tantric world ,when guru decide to introduce his shishy  in higher level sadhana than shishy must has to pass through  some very specific process , even the transformation / transmutation process of metal, and also the process of  transformation  through that can be  happens by tantric or kaay parivartan, since we cannot create anything ,we can only  changes the state of any material from one to others.Those who participated in last two workshop could easily understand that how difficult that Sanskars were , but due to blessing of Poojya Sadgurudev ji and Gurudev Trimurti ji we were able to do that easily.
 To complete  the process, the need and essentiality of mother Kamakhaya sadhana already everyone knows. But there are so many ways of mother Kamakhaya sadhana. there is one sadhana, known as  the mool or basic root sadhana , through that mother blessing can easily be gained. when any sadhak want to achieve success in shamshan sadhana in complete form or  when any sadhak wants to success in teevra sadhana or  when any sadhak wants to have success in teevra tantric sadhana or when he wants to get success either in sury sadhana(sun science sadhana) or in shoonya sadhana, or want to have success in metallic transformation process  of higher process related to parad , sulphar and mica that which can be considered in 13,14,15 th Sanskar.
 Theses  process can also need to  possible through application of certain specific mantra. means the mantra named “Nischit Teevra Kay Rupen Mantra”, by using this mantra, mother Kamakhaya sadhana can be completed so that one very specific process can be known through which  a person can not only have right to access in shoonya sadhana field but also has right to know  the deep rooted hidden and secrets of parad Sanskar tantric. This time we have divided our this workshop in three part , here what we are emphasizing  , is the very secretive teevra sadhana of shakti mat through  which many deep confidential secret reveled in front of you. those of you have already taken Guru Diksha or Rasheshwari  or Sarv tantric siddhi  Diksha from either from Poojya Sadgurudev ji or Poojya guru Trimurti, they will certain have success in this very  specific  process. And also  in  Those  parad  Sanskar,  that can be happened only through  mantra ‘s application only and through that gems creation can also be possible. All the above mentioned things  can be possible through a sadhana  provided by Sadgurudev ji is Nischit Teevra Kay Rupen Sadhana”, its true that a very few people knew about this now a days.  But this is very confidential fact that  if any one can have this “PARAD SWARNA KAY SIDDHI GOLAK” and he three days continuously do the process/sadhana in the mother Kamakhaya temple premises, than onward secrets already reveled to them one by one. in addition to that sadhak has the right to  know the secret the shoonya siddhnta ,surya siddhanta, and also  deep the secrets of parad tantra and also the doors of teevra sadhana of shamshan has been opened to him. From where he can  using theses very effective teevra sadhana can get completeness in life in all respect.
This gutika or golak has been created through some very specific mantras, through gold, through silver, and using the purest form of parad obtained after 11 th Sanskar of parad, and also using some  divine herbs, after proper  mardan (mixing) and than complete grass process of diamond or sphatic  is applicable to that and than sthapan process of FIVE BAAN and NINE TATV (elements) through Anulom and Vilom kram (way), than this golak achieve its  very specific power.
Anyone those who wear this gutika or golak in his neck, can hypnotize whole world, and if placing this gutika daily in water for 10 to 15 minute and than he wash his face  with that water ,can easily be liable from the person around his circle. and also his other good  wishes also get   fulfilled,  but this gutika can only show his effect,  when the specific number of mantra jap happened in front of it  on the premises of mother Kamakhaya temple. “kaam tatav” has very specific relation to this gutika. mother Kamakhaya is the ruler of all the tantra, from where taking the help of mother shakti , if anyone proceed on the path than the golden gate of tantra‘s higher sadhana opens to him…
we are going for this workshop in the month of april. Tantratamak  process of Next level Sanskar of  parad tantric will be discussed there, here the subject is related to parad and sun science that’s why we discuss in front of you. The main reason of the discussion is that those who have not attended previous workshop in this connection  orof have  participate in that .if they are going to taken part in this workshop, are only than  eligible to take part in surya vigyan and shamshan workshop.
  In Parad Sanskar next level workshop ,what are the process? yogik or tantric process has to be followed  will be discussed there in detail . as all of you well and already aware that  to get the  railway ticket reservation is very , very difficult for the month of April so for that you can contact us from today onwards  to up to 12 th march, in this connection.
 This has been already said by Sadgurudev ji that person  is the fortunate  one that who  go/visit  to the Kamakhaya temple and  have sadhana in the premises of  temple. In this three days oriented workshop have Sadgurudev jip purn poojan and also poojan of mother Kamakhaya, in that any sadhak or sadhika can take part. even they had not taken part in any previously organized parad workshop after this, in April-May one by one workshops already mentioned in the blog ,  will be organized.
 The guru brother, who has taken part in earlier level workshops, already knew that  each Sanskar’s mantra jap has to be separately done with the number 60 thousand  of each Sanskar, if in theses three days workshop  ,those participant, if taken part here , can complete the required mantra jap here  with only 11 round of rosary  to each Sanskar separately  that’s means they do not have to go sixty thousand mantra jap  for a single Sanskar scale to each Sanskars , here  that number reduces to 11 mala for each Sanskars.
And this is possible since  the Kamakhaya peeth is the tantra peeth , this Is the place of shiv and shakti sangam.  This is the place of conjunction  between Gandhak and mica  ,that’s means the place of “kham beej”. And mantra jap done here ,has an effect ,is million times greater. those sadhak who are new to this field  and had not taken part in previously held workshop, can also do the mantra jap from the counting 11  malas for each Sanskar separately  , can get success in that 1 to 12 Sanskar also. This is the every hidden secrets.
 This holy journey of maha peeth of mother Kamakhaya we are welcoming only and only those sadhak guru bhai or bahin  ,those have shraddha, faith in Sadgurudev ji and Gurudev Trimurti ji and  have a mind to follow Indian  culture values and will  behave very  reasonable and properly in the  peeth. by following the behaviors taught and  guidelines instructed by our Sadgurudev ji, very,very  strictly.
Summaries.
1.     Any guru brother or sisters can take part in this three days workshop, knowing of anything about parad is not any pre condition and  this also not has any pre condition that he/she had participatation in earlier held workshops in this connection by us..
2.     To get success in next level parad Sanskar The essential “Parad Swrna Anu siddhi Golak” can be provided  only there.
3.     This  three days workshop will be organized in month of April 2011and approx. required  total 7 days(including travelling time)
4.     Those who will take part in this ,three days workshop that will be held at Kamakhaya peeth, will only be eligible for sury vigyan and shamshan workshop.
5.     For that you can contact us from today on wards to till 12 th of march 2011.
6.     To heighten the glory and respect of and  fulfill  the dreams of  Sadgurudev jis and Gurudev Trimurti ‘s . this is  just a step in that direction  to have  the shakti  needed for that.  
************************************** 
अग्रिम कार्यशालाओं और पारद  के आगे के संस्कार में पूरी तरह सफलता पाने हेतु अद्भुत कामाख्या पीठ संबंधित " तीव्र काया रूपेण  साधना"  

प्रिय  मित्रों ,
आप सभी  यह जानते हैं की  तंत्र जगत  और तंत्र साहित्य में यह सर्व विदित हैं की जब भी  किसी जिज्ञासु को गुरु आगे बढ़ाता हैं ,तो उन विद्याओं में प्रवेश पाने के लिए उसे कुछ विशेष प्रक्रियाओ में से गुजरना ही पड़ता हैं ,यहाँ तक की जो  रूपांतरण की क्रिया हैं धात्विक  या रूपांतरण की प्रक्रिया हैं तांत्रिक  या काय परिवर्तन की प्रक्रिया  हैं  क्योंकि हमलोग सृजन नहीं कर सकते हैं  किसी भी पर्दार्थ का रूपांतरण कर सकते हैं  जिन लोगों ने भी पिछली पारद की कार्यशालाओं में भाग लिया है , वे भली भांति जानते हैं की वे सभी संस्कार कितने कठिन थे , परन्तु जितनी सरलता से उन्हें वे समझ में आये उसके मूल में सदगुरुदेव और पूज्य गुरु त्रिमूर्ति का आशीर्वाद ही तो है. 
उन प्रक्रिया  को करने के लिए माँ कामाख्या की साधना सर्व विदित  हैं पर माँ कामाख्या की साधना के बहुत सारे प्रकार हैं  उनमेसे  एक साधना हैं जो मूल साधना हैं उन्हें प्रसन्न करने की ,उनका अनुगृह प्राप्तकरने की , पर जब साधक शमशान साधन में पूर्णता प्राप्त करना चाहता हैं , जब साधक को तीव्र साधना में गति करनी होती हैं ,जब साधक को तीव्र तंत्र साधना में सफलता पानी होती हैं जब उसे शून्य सिद्धि या सूर्य विज्ञानं से सम्बंधित साधना मैं सफलता  या धात्विक परिवर्तन के लिए  पारद , गंधक या अभ्रक की जो उच्चतर  क्रिया ये   हैं जिन्हें १३,१४,१५ वे संस्कार में संपन्न किया जाता हैं , तो इन क्रियाओं के भी एक मन्त्र विशेष से संभव किया जाता हैं . अर्थात जो एक निश्चित तीव्र और काय  रूपेण मंत्र हैं  इस मंत्र के द्वारा माँ कामाख्या की साधना करके एक विशेष प्रक्रिया का ज्ञान किया जाता हैं व्यक्ति  पूर्ण रूपेण  ना केबल तीव्र साधना में बल्कि उसका शून्य सिद्धिके क्षेत्र  में भी अधिकार हो जाता हैं साथ ही साथ पारद के गुप्त रहश्य ,गुप्त क्रियाओं के बारे भी  भी अधिकार हो जाता हैं . हमने इस बार हमारी कार्यशाला को ३ भागों में विभक्त किया है .जिस क्रिया का वर्णन हम यहाँ पर कर रहे हैं वो  तीव्र शाक्त मत की ऐसी ही गोपनीय प्रक्रिया है जिनके द्वारा कई रहस्यों का अनावरण हो जाता है . जिन लोगो ने भी सदगुरुदेव से या परम पूज्य गुरु त्रिमूर्ति से गुरु दीक्षा, रसेश्वरी दीक्षा या सर्व तंत्र सिद्धि दीक्षा ली है वे अवश्य ही इस गूढ़ क्रिया में सफलता पा सकते है.     
वे पारद के संस्कार जो मन्त्रों के माध्यम से हो सकते हैं  जिसके द्वारा रत्नों का भी निर्माण संभव हैं इन सभी बातो के संभव कर सके उसके लिए जो साधनं सदगुरुदेव जी ने बताई थी वह हैं निश्चित एवं तीव्र काय रूपेण साधना  , हलाकि इस साधना का रहश्य आज बहुत  ही  कम  लोगों को ज्ञात हैं  पर ये गोपनीय तथ्य हैं की पूर्ण प्रमाणिक रूप से बना पारद स्वर्ण काय  सिद्धि गोलक यदि मिल जाये  तो उसके ऊपर तीन दिन तक इस विशेष प्रक्रिया को माँ कामाख्या  पीठ के प्रांगड में संपन्न किया जाये तो आगे के रहश्य खुलते ही जाते हैं साथ ही साथ साधक उस पूरे शून्य सिद्धांत  का,सूर्य सिद्धांत का, पारद के गोपनीय रहश्य को जानने का  अधिकारी बन जाता हैं शमशान की तीव्र साधना में भी उसके लिए रास्ता खुल जाता हैं  , जहाँ से वह उन  तीक्षण साधना  के द्वारा वह अपने जीवन में लाभ और  पूर्ण उन्नति   प्राप्त कर सकता हैं
 इस गोलक का निर्माण कुछ विशेष मंत्रो से , स्वर्ण से, रजत  से ,विशुद्ध ११ संस्कार संपन्न पारद से , कुछ विशेष वनस्पतियों से ,इनका मर्दन करके और हीरक या स्फटिक  का पूर्ण रूपेण ग्रास देकर इस क्रिया को यदि संपन्न किया जाये और इसमें पांच बाण  और नव तत्व  का भी स्थापन इसमें अनुलोम  ओर विलोम क्रम से किया जाता  हैं जिसके द्वारा उस गोलक को विशेष गति प्राप्त होती हैं ,
ओर यह गोलक या गुटिका जिसके भी गले मैं धारण की हुए  होती हैंवह सम्पूर्ण विश्व को सम्मोहित कर सकता हैं , यदि इस गुटिका को नित्य १० से १५ मिनिट जल में रख कर, उस जल से अपना मुख धो ले तो वह लोगों को मोहित करता ही हैं . साथ ही उसके विविध प्रकार के मनोरथ हैं  उनके  प्राप्ति में भी इस गुटिका के द्वारा  उसे पूर्ण सफलता मिलती हैं पर इस गुटिका का प्रभाव तभी संभव हैं जब इस  गुटिका के उपर , माँ कामाख्या पीठ के  प्रांगड  में साधना  संपन्न की जाये , काम तत्व का इस गुटिका से विशेष प्रभाव हैं ,माँ कामाख्या  तो सारे तंत्रों की अधिस्ठार्थी  हैं वही से शक्ति रूपी माँ का सहारा ले कर साधक  तंत्र के सिंह द्वार में प्रवेश पा सकता हैं
हम अप्रैल माह में इस संदर्भ में जा रहे हैं और पारद से सम्बंधित जो आगे के संस्कार हैं उस से सम्बंधित  तंत्रात्मक विधियों को भी  हम वहीँ पर करेंगे ,यह विषय पारद तथा सूर्या सिद्धांत से सम्बंधित हैं इस हेतु हमने यहाँ उसे आपके समक्ष रखा  हैं यहाँ इन तथ्यों को आपके समक्ष रखने का हेतु ये था कि जो भी भाई ( जिन्होंने पहले कि कार्यशाला में भाग नहीं लिया हैं या  किसी भी कार्यशाला में भाग नहीं भी लिया हैं ) इस पारद संस्कार के पहले के क्रम कि कार्यशाला में भाग लेने जा रहे हैं  वे ही सूर्य  विज्ञानं और श्मशान  कार्यशाला में भाग लेने के अधिकारी होंगे .   
पारद संस्कार  कि अगली कार्य शाला में संपन्न होने वाली  योगिक या तांत्रिक क्रिया  जो भी होना हैं उसका विवरण वहां पर  आपके समक्ष रखा  जायेगा . जैसा कि आप जानते हैं इस अप्रैल माह में  यात्रा हेतु रेलवे टिकिट  प्राप्त करना आत्याधिक कठिन होता हैं ,इस हेतु आप हम से आज से लेकर १२ मार्च के पहले ही सम्पर्क कर सकते हैं
सदगुरुदेव ने स्वयं ही कहा  हैं कि ये तो जीवन का सौभाग्य हैं कि व्यक्ति कामाख्या  पीठ के प्रांगड में जाये ओर वहां  पर साधना संपन्न करे
इस तीन दिवसीय कार्यशाला में सद्गुरु देव के पूर्ण पूजन के साथ माँ कामाख्या का भी पूजन होगा , और इसमें कोई भी साधक या साधिका  भाग ले सकते  हैं फिर चाहे उन्होंने  किसी भी पहले हुए कार्यशाला  में भाग ना लिया हो , इसके बाद  अप्रैल -मई माह में एक के बाद एक कार्यशाला आयोजित की जाएगी .
पारद कार्यशाला में भाग लिए हुए गुरु भाई ये जानते हैं कि १ से लेकर १२ संस्कार तक  में जो भी मंत्र  हर संस्कार के लिए  आवश्यक थे तथा  हर संस्कार के मंत्रो का अलग साठ ,साठ हज़ार   मंत्र जप भी अनिवार्य बताया गयाथा , तो इस  तीन दिवसीय  कामाख्या पीठ यात्रा  में वे( पहले भाग लिए साधक ) यदि इसमें भी भाग लेते हैं  तो इस गोलक  या गुटिका के सामने वहां पर  हर  संस्कार के मंत्रो कि ११, ११  माला  जप से भी  भी सफलता  प्राप्तकर सकते हैं  उन्हें फिर साठ ,साठ हज़ार   मंत्र जप हर संस्कार कि अलग अलग  जप करने  अनिवार्यता नहीं होगी .   
और ऐसा  इसलिए हैं कि माँ कामाख्या पीठ , एक तंत्र  पीठ हैं वहां पर किये गए मन्त्र जप का करोडो  गुना फल प्राप्त होता  ही हैं यह पीठ  शिव और शक्ति का संगम का महा पवित्र स्थल हैं गंधक ओर  अभ्रक के मिलन का स्थान हैं अर्थात खं बीज का स्थान हैं  यदि नवीन जिज्ञासु जिन्होंने पहले हुए पारद कार्यशाला में भाग नहीं लिया था वे भी यहाँ पर  इस गोलक   या गुटिका के सामने  हर संस्कार के मंत्र कि ११ , ११ माला भी जप कर लेते हैं तो उन संस्कार में भी उन्हें सफलता प्राप्त हो सकेगी . यह एक  गोपनीय तथ्य हैं .
इस दुर्लभ महा पीठ  कि यात्रा ओर पारद के गोपनीय रहश्य  जानने के अवसर पर  केबल और केबल हम अपने उन्ही गुरु भाई ओर बहिनों   के स्वागत करते हैं  जो सदगुरुदेव जी ओर पूज्य गुरुदेव त्रिमूर्ति के प्रति श्रद्धा  युक्त  हो , भारतीय संस्कृति  से  युक्त हो  , और  इस   महा पीठ पर सदगुरुदेव भगवान् द्वारा  प्रस्तुत  किये ओर सिखाये गए   गरिमा मय आचरण  करने में सक्षम हो . 
 पुनः
  •  कोई भी गुरुभाई या बहिन  इसमें भाग ले सकती हैं ,पारद क्षेत्र  कि प्रारंभिक जानकारी अनिवार्य नहीं हैं .ना ही कोई ये शर्त हैं की उन्होंने पहले हुए पारद संस्कार कार्यशाला में भाग लिया ही  हो.
  •  पारद क्षेत्र  के अगले संस्कार  के लिए  अनिवार्य निश्चित एवं तीव्र काय साधना संपन्न करने के लिए पारद स्वर्ण अणु गोलक  वही पर प्राप्त  होगा .
  •  अप्रैल माह में आयोजित ,  तीन दिवसीय  इस महा पीठ यात्रा  में कुल लगभग ७ दिन लगेंगे .
  • इसमें भाग लिए साधक  को ही सूर्य विज्ञानं ,शमशान साधना कार्यशाला ,पारद की अगले संस्कार की  कार्यशाला में प्रवेश  मिलेगा.
  • इस हेतु आप संपर्क आज से १२ मार्च के पहले कर सकते हैं .
  • सदगुरुदेव जी एवं गुरुदेव त्रिमूर्ति जी के गोरव को प्रवर्धित  करने में उनके स्वप्नों को साकार करने के लिए जिस शक्ति को आत्मसात कर ये क्रिया हो सकती है बस उस ओर  ये एक और कदम है.
****ANURAG SINGH****

2 comments:

rudra said...

jai gurudev,

Dear arif khan ji,

muje aak ki ye workshop main bhag lena hai to kripa karke kai she aap muje anumati dege voh bataye or aap ka koi contact number ho to voh batai

Nikhil said...

bhai jai gurudev aap iske liye anurag bhai se sampark karen.aur unhe personaly mail kar unka number aaj ke aaj le le, kyunki tickets book ho gayi hai.