There was an error in this gadget

Saturday, August 25, 2012

AAVAHAN - 35


 
Definitely this time my prayer had eagerness to learn instead of curiosity .It was prayer for attainment of knowledge. That’s why; in the night that thing happened again. I got unconscious and my body within few moments reached state of sleepiness. And I found that same white coloured Mahatma in front of me.He started saying directly that procedure to attain direct blessing of Maa Durga is uneasy and cumbersome. For attaining blessings of her, first of all sadhak has to do Sadhan prayog related to Yakshinis and 64 Yoginis. In this manner, by getting visible/invisible company of associate powers of Goddess, one attains the knowledge related to Siddh areas. But Yaksha-related sadhnas are actually abstruse. In yoginis, 64 yoginis are supreme (ruler) and these are intense goddesses. Their sadhna is very uneasy for an ordinary sadhak. Therefore in beginning, sadhna of other Yoginis can yield results. For a new sadhak, best path is that he/she should do the prayog of Mahasiddh mantra. This sadhna is very easy and can be done by any person. You have to attain this Sadhan yourself. May Maa bless you, saying this Mahatma disappeared and left so many questions. Deeply engrossed in my thoughts, night passed away and in the morning, I thought to find this Sadhan. After searching in many Tantra scripture, I could still not find this type of description. Days passed away, I got the knowledge of Sabar sadhna and Aavahan procedure and everything blurred. As page of book after reading becomes past and new page becomes present and suppresses it, same thing happens with book of life too. Those memories had become old now .Several years passed by. One day, experience of some sadhak came in my mind. He went for searching siddh area based on some Tantra manuscript and he expressed his amazing, secretive and interesting self-experience. In Last, he gave the description of his meeting with guardian of that Siddh area, one Siddh Mahatma wearing white dress, have long white beard and hairs and told that how he manifested all of sudden and provided knowledge to him for discovering Siddh areas. That description was literally same as was experienced by me regarding that siddh and his voice. All of sudden, all the things start coming in my mind. I could not stop myself and under the pressure of my curiosities, asking Sadgurudev regarding it was not only necessary but compulsory now. As Sadgurudev solved my curiosities, I got to know about various surprising facts regarding Siddh world.
What is Siddh Area?

There is a limit to human’s knowledge. If he moves out of these limits then he comes to know about infinite secrets. But he spends his life like frog of the well and considers only the thing he sees as his world. There are many area, regions and place which are beyond the imagination of common man. There are many special places which are bound by invisible powers, which are not influenced by environment, which are influenced by one definite Shakti or Shaktis; energy of this area bound by them is many times more than normal person’s imagination. Level of consciousness in these areas is at least 21 times more than consciousness level of materialistic world. Such special places are called Siddh areas. All these type of places are called Siddh area only but in reality, it is not like this. There are many types of it.

I looked at him with curiosity.

Looking at my facial gesture, He continued with his talks.

Chetan Sthan (Place)

Siddh Sthan

Divy Sthan

These are three types.

Chetan Sthan is the one where praan energy and level of consciousness is much more than normal world. It may be any place. Our mind feels pleased on his own when we go to some places. Completely natural place, Samadhi place of Siddhs, ascetic land, places where hawan happens daily, cremation ground etc. are chetan sthans. Going to these places, person dives inside his own self, he does not recognise home, family, society and his materialistic level. He only and only engrosses himself in his own thoughts. Slowly and gradually, he starts introspecting himself. These things happens definitely with every person in Chetan Sthan because level of consciousness is much more than any other place and this consciousness increases inner consciousness level of person. That’s why person starts becoming introvert and indulges himself in self-thinking. But as he moves out of that place, he again indulges in all his old thoughts because that level returns back to normal.Gyaan Shakti develops in Chetan sthans.

But that thinking, that mentality which is experienced by the person that time , all these vanish when he moves out of that place, how to make them permanent? He answered my question and said.

Making this condition permanent is not that much easy. One Aughad spends his whole life in cremation place. What does he see in this place that he does not find even luxurious palace favourable? Reason is that he finds attainment of stability of his thoughts in that place. After attaining one definite level in sadhna, inner consciousness of person completely develops to that level where state of his drowning into himself becomes permanent instead of being fluctuating. But up till then, he has to take assistance of these special places.

In beginning, sadhak should go to these places again and again. Whenever the person go to such places and experience development of consciousness in his thoughts then at such places, it is best to think, concentrate and if possible chant mantra of basically Tara, Neel Saraswati, Saraswati, and all Shaktis of Shri Kula, forms of all gods and goddess of Sat and Rajas Bhaav.

Siddh Sthan is that place where this level is 21 times more than normal. This place is called Siddh Sthan and whole area is called Siddh area. At such place person not merely through the means of thoughts but by the means of procedures……..to be continued

 =========================================
निश्चित रूप से इस बार मेरी प्रार्थना में कौतुहल की जगह पे जिज्ञासा था. ज्ञान प्राप्ति के लिए प्रार्थना थी, तभी तो रात्रि काल में फिर से वही हुआ, अचेतन हो कर तन्द्रा अवस्था को न जाने केसे प्राप्त हो गया शरीर कुछ ही क्षणों में. और वही शुभ्र धवल वस्त्र धारी महात्मा को अपने सन्मुख खड़े हुवे पाया. उन्होंने सीधे ही अपनी बार शुरू की, माँ दुर्गा की प्रत्यक्ष कृपा प्राप्ति के लिए जो क्रम है वह असहज और कठिन है. उनकी कृपा प्राप्ति के लिए सर्व प्रथम साधक को यक्षिणीयां तथा ६४ योगिनीयां से सबंधित साधन प्रयोग करने चाहिए, इस प्रकार देवी की सहचारी शक्तियों का प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष साहचर्य प्राप्त होने पर भी सिद्ध क्षेत्रो से सबंधित ज्ञान प्राप्त हो जाता है. लेकिन यक्ष सबंधित साधनाएं भी वास्तव में गुढ़ है, योगिनियों में भी ६४ योगिनी अधिष्ठात्री है. तथा यह तीक्ष्ण देवियाँ है, इनकी साधना सामान्य साधक के लिए असहज ही है, इस लिए प्रारंभ में अन्य योगिनीओ की साधना करने पर फल की प्राप्ति संभव हो सकती है. एक नूतन साधक के लिए सर्वोत्तम मार्ग यह है की वह महासिद्ध मंत्र का प्रयोग करे, यह साधन सहज है तथा कोई भी व्यक्ति इसे कर सकता है. यह साधन तुम्हे खुद ही प्राप्त करना होगा. माँ तुम्हारा कल्याण करे. इतना कह कर सहज भाव से अद्रश्य हो गए महात्मा और पीछे छोड़ गए न जाने कितने ही सवाल. विचारों के आडोलन विडोलन के मौजों में बहेता हुआ सोचता रहा पता नहीं कब तक, सुबह हुई तब सोचा इस साधन को ही ढूंडा जाए. कई तंत्र ग्रंथो में खोज के बाद भी इस प्रकार का विवरण कहीं भी प्राप्त नहीं कर पाया मैं. दिन धीरे धीरे निकलते गए और साबर साधना तथा आवाहन क्रियाओ का ज्ञान मिलता गया वैसे वैसे ही सब धूमिल होता गया. जेसे किताब का एक पन्ना पढ़ लेने पर जब भूतकाल बन जाता है और नया पन्ना वर्तमान बन कर उसे दबा देता है, ऐसा ही कुछ जीवन की किताब में भी होता है. पुरानी यादें अब पुरानी सी हो गयी. और कुछ साल निकल गए. एक दिन ऐसे ही किन्ही साधक का अनुभव ध्यान में आया, किसी तांत्रिक पाण्डुलिपि के आधार पर सिद्ध क्षेत्र की खोज में गए थे महाशय तथा उन्होंने अभिव्यक्ति की थी आश्चर्यपूर्ण और रहस्यमय रोचक स्व अनुभूति की. आखरी शब्दों में उन्होंने उस सिद्ध क्षेत्र के संरक्षक धवल वस्त्र धारी, सफ़ेद लंबी दाढ़ी तथा बाल वाले सिद्ध महात्मा से अपनी मुलाकात का विवरण दिया की किस प्रकार वे अचानक से प्रकट हुवे तथा उनको सिद्ध क्षेत्रो की खोज के लिए ज्ञान दिया. वह विवरण अक्षरतः वेसा ही था जेसा मेने अनुभव किया था उस सिद्ध के बारे में तथा उनकी वाणी के बारे में. अचानक सारी चीजे एक एक कर के मेरे मानस में आने लगी. रोक नहीं पाया फिर खुद को अपनी जिज्ञासाओ के दबाव में आकर, सदगुरुदेव से इस सबंध में पूछना आवश्यक नहीं अब अनिवार्य सा था. जेसे जेसे सदगुरुदेव ने मेरी जिज्ञासाओ का समाधान किया वैसे वैसे सिद्ध जगत के अनेको आश्चर्यचकित करने वाले तथ्यों के सबंध में पता चला.

सिद्ध क्षेत्र क्या है?

मनुष्य के ज्ञान की सोच की एक सीमा होती है, अगर वह उस सीमा के दायरे से बहार निकले तो अनंत रहस्य से उसका सामना होता है. लेकिन वो एक कुवें के मेढक के सामान जीवन जीता है. जो सिर्फ उतनी ही दुनिया को मानता है जिसे वो देख रहा है. ऐसे कई क्षेत्र, प्रदेश या भूमि है जो की सामान्य जन के मानस की कल्पना से परे है. ऐसे कई विशेष स्थान है जो की अगोचर शक्तियों से आबद्ध है, जिन पर मात्र वातावरण का प्रभाव नहीं है, जहां पर एक निश्चित शक्ति या शक्तियों का प्रभाव है. उससे बद्ध वह सीमा क्षेत्र की उर्जा सामान्य मनुष्य की कल्पना से कई गुना ज्यादा है. वहाँ का चेतना का स्तर इस भौतिक जगत की चेतना स्तर से कम से कम २१ गुना ज्यादा होता है. ऐसे ही विशेष स्थानों को सिद्ध क्षेत्र कहते है. सब प्रकार के स्थान को यूँ तो सिद्ध क्षेत्र ही कहा जाता है लेकिन दरअसल ऐसा नहीं है. इसके भी कई प्रकार है.

मेने जिज्ञासा भाव से उनके सामने देखा.

मेरे मुख पर आ रहे हावभाव को देख कर उन्होंने अपनी बात आगे बढ़ाई

चेतन स्थान

सिद्ध स्थान

दिव्य स्थान

यह तीन मुख्य प्रकार है.

चेतन स्थान वह है जहां पर सामान्य जगत से ज्यादा प्राण उर्जा और संस्पर्षित चेतना स्तर हो. यह कोई भी स्थान हो सकता है. कई स्थानों पर जाने पर मन अपने आप खुश हो जाता है. पूर्ण प्राकृतिक जगह, सिद्धो के समाधी स्थल, तपस्या भूमि, नित्य हवन होने वाले स्थान, स्मशान इत्यादि सभी चेतन स्थान है. ऐसे स्थानों पर जाने पर व्यक्ति अपने आप में अंदर डूबता जाता है. उसे घर, परिवार, समाज या अपने भौतिक स्तर की पहेचान नहीं रहती, वह मात्र और मात्र अपने स्व के विचारों में खोने लगता है धीरे धीरे अपने अंदर ही स्व के बारे में मंथन करने लगता है. चेतन स्थान में सभी व्यक्तियो के साथ निश्चित रूप से ऐसा होता ही है. क्यों की वहाँ पर चेतना का स्तर सानी स्थान से ज्यादा होता है और वही चेतना व्यक्ति की अन्तःस्चेत्ना के स्तर का विकास कर देती है, इस लिए व्यक्ति अपने अंदर उतरने लगता है तथा स्व चिंतन में रत होने लगता है. लेकिन जेसे ही वह उस स्थान से बाहर निकलता है, वह अपने सभी पुराने विचारों में वापस लिप्त हो जाता है. क्यों की वह स्तर वापस से सामान्य हो जाता है. चेतन स्थानों पर ज्ञान शक्ति का विकास होता है.

लेकिन वह चिंतन, वह मानसिकता जो व्यक्ति उस समय अनुभव करता है, वह उस स्थान से बहार आने पर लुप्त हो जाती है, उसको केसे स्थायी बनायीं जाए? प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा

एसी स्थिति को स्थायित्व देना इतना आसान नहीं है, एक औघड अपना पूरा जीवन स्मशान में बिता देता है, उसका मानस ऐसा तो क्या उस जगह में देखता है की उसे फिर आलिशान महेल भी रास नहीं आते. क्यों की उसे अपने विचारों में स्थायित्व की प्राप्ति उस जगह पर मिलती है. एक निश्चित साधना स्तर के बाद व्यक्ति की आंतरीक चेतना का पूर्ण विकास उस स्तर तक हो जाता है की फिर उसे स्व में डूबने की स्थिति डीलडॉल न हो कर स्थायी बनी रहती है. लेकिन तब तक उसे इस प्रकार से स्थान विशेष का सहारा ले कर चलना ही होता है.

शुरुआत में साधक को ऐसे स्थानों पर कई कई बार जाना चाहिए. जब भी व्यक्ति ऐसे स्थानों पर जाए और अपने अंदर एसी स्थिति को महेसुस करे, विचारों में चेतना का विकास अनुभव् करे तब ऐसे स्थानों पर मूलतः तारा, नील सरस्वती, सरस्वती, श्रीकुल की सभी शक्तियां, सत् तथा रजस् भाव से युक्त सभी देवी देवता के स्वरुप का चिंतन, मनन, ध्यान या संभव हो तो मंत्र का जाप करना उत्तम है.

सिद्ध स्थान वो स्थान है जिसमे यह स्तर सामान्य रूप से २१ गुना ज्यादा हो. इसे स्थान को सिद्ध स्थान तथा इसे पुरे क्षेत्र को सिद्ध क्षेत्र कहा जाता है. ऐसे स्थान पर व्यक्ति मात्र विचारों से ही नहीं अपनी क्रियाओं के माध्यम से......... क्रमशः


****NPRU****

1 comment: