There was an error in this gadget

Thursday, August 23, 2012

LAAKINI SADHNA



Sense of knowledge in human life is one such fact which can’t be ignored in any way. From birth to death, person through his daily activities, through his works, through his thoughts and through his internal and external dynamism develops consciousness, tries to brighten up his identity. But in roots of all this, the fact which by becoming the base of all activities provides the inspiration to develop consciousness, is sense of knowledge. The dynamism of his work runs according to its quantum of perception of knowledge and type of knowledge he senses. And this journey starts from Swa Bhaviti to Aham Bramhaasmi. Because after attaining complete knowledge and knowledge about complete authority, person’s consciousness also moves towards it.It will become the base of his works and dynamism. Prime Authority behind composition of universe is Bramha and his knowledge is Bramha knowledge. And complete part of this Bramha is established in all subtle to subtle things. Whole universe has been created by fission of that complete authority. And his prime fission was into two parts-SadaShiv and Shakti. Moving forward, their different parts in their split state become inanimate and animate things.

Shakti represents female element. And her infinite forms exist amongst all of us. No consciousness exists in any solid until and unless it is infused with Shakti. In our inner and outer universe, base of our consciousness is Shakti. And wherever it exists, it has got a novel form.

One of the important differences between human beings and other creatures is that humans can develop their consciousness infinitely. The form of prime Shakti (power) in humans exists in their own body in form of Kundalini. That’s why human beings do  not need any novel fact to discover and attain external consciousness or in external form, no ideological sentimental base is required for it.He himself can attain complete Bramha Knowledge by activation dormant powers present inside him. Because everything that is external is internal too. Thus, as Bramha and universe are present externally, in the same way they are present internally too.

And the complete universe embedded inside human beings is in form of Kundalini only. All letters and Maatrika powers are implicit in the seven chakras of Kundalini from Muladhaar to Sahastrar which are the beej of all gods and goddesses and are the base of mantras. Therefore, if they are activated and made conscious then definitely one can accomplish all goddesses and gods and base of all these split form is Bramha only. Thus, it is procedure to reach our own basic element. In this manner, person successively completes sadhna of god or goddess related to each chakra. In reality, it is a difficult and patient journey.

As it is clear that different forms of Shakti becomes the base of any solid, dead, male element or positive energy by Chetna procedure. On this basis, every chakra has got its own ruler Shakti relating to control and flow in that corresponding chakra. This supreme Shakti also  has got its own different forms which exist in middle of chakras. It is natural that the goddess form related to chakra is very much powerful and is always ready to do well being of sadhak. Sadhak can imagine that if Kundalini contains whole universe, then what all ruler Shakti of its prime chakra can’t provide to sadhak?

In reality, sadhnas and sadhna padhatis of these Shaktis have remain hidden and abstruse since sadhak can definitely become very powerful through these sadhnas. Manipur chakra has been very much hidden and secretive chakra. This chakra is centre of Praan and possesses creative capability since when person is in womb then his consciousness is through the means of Navel only. Besides this, ability of creation and composition lies in this chakra. One can find many mythological instances regarding it.This surya or Fire form chakra has been the focal point of body and fission of praans take place here. Internal bodies of humans are tied to it only. Actually, when Vaasna and subtle body are separated from physical body, they is connected to navel through Rajatrajju.

The prime Shakti of this chakra is Goddess Laakini.Many forms of goddess exist in this chakra and its sadhna padhati is said to be very cumbersome, aggressive and hidden in itself since after sadhna, sadhak attains many benefits and in the sadhna of these Shakti , many time very fearful situation is created.

But sadhna presented here pertaining to goddess is a peaceful sadhna. In it, no fearful situation is created. Sadhak attains many benefits from this sadhna like riddance from disease, solution of all stomach-related problems, development of Yog-Shakti, development of consciousness, attainment of mental powers. But the most important achievement of this sadhna is that sadhak becomes capable to wander in fourth dimension places. Sadhak attains the capability that he activates his internal body in body and enters fourth dimension places, see these places which can’t be seen by normal vision and can visit those Siddh places which can’t be visited by physical body generally. No fearful situation is created in this sadhna. It is possible that during sadhna time, temperature of body may seem to increase but there is no need to worry. Sadhak should complete sadhna without anxiety.

Sadhak can start this sadhna on any day. It should be done after 10:00 P.M. Sadhak should wear red dress and sit on red aasan. Direction will be north.
Sadhak should light one oil-lamp in front of himself. Besides this, nothing else is needed. After it, sadhak should pronounce Laakini Dhayan 11 times.

LAAKINI DHYAN

NEELAMDEVIM TRIVAKTAAM TRINAYANLASITAAM DRINSHTINIMUGRRUPAAM
VAJRAMSHATIM DADHANIMBHAYVARKRAAM DAKSHVAAME KRAMEN
DHYAATVA NAABHISTH PADME DASHDALVILSATKARNIKE LAAKINI TAAM
MAANSAASHEEM GAURRAKTASREEKHRIDYVTEEM CHINTYET SADHKENDRAH

After pronouncing Dhayan mantra, sadhak should close the eyes and pronounce below mantra. Sadhak should chant 11 rounds of mantra with Sfatik rosary. During chanting, sadhak should focus internally on navel.

Laakini Manipur Mantra – GUM RAM TAM(टं) THAM(ठं) DAM(डं ) DHAM(ढं ) NAM(णं) TAM(तं )THAM(थं) DAM(दं) DHAM(धं) NAM(नं) RAM GUM

Sadhak should do it for seven days. Sadhak can have different type of experiences in these 7 days. But after 7 days sadhak definitely attains the capability that he can activate his internal body in body and see hidden regions of fourth dimension. Laakini mantra is TAM(टं) THAM(ठं) DAM(डं ) DHAM(ढं ) NAM(णं) TAM(तं )THAM(थं) DAM(दं) DHAM(धं) NAM(नं)  but it has been seen that after doing samput of prime beej of Manipur, intensity of this mantra increases. Besides it, as per KankaalMaalini, samput of Guru Beej should be given so that success is ascertained. In this way, the mantra becomes GUM RAM TAM(टं) THAM(ठं) DAM(डं ) DHAM(ढं ) NAM(णं) TAM(तं )THAM(थं) DAM(दं) DHAM(धं) NAM(नं) RAM GUM which can give various types of siddhis. Rosary should not be immersed. Sadhak can chant this mantra in future with it.

Those person who can’t do entire procedure, they daily at the time of sleeping in night can close their eyes and do mental pronunciation of this mantra while concentrating on navel. They can witness related experiences.


=======================================
मनुष्य जीवन में ज्ञान का बोध निश्चित रूप से एक ऐसा तथ्य है जिसे किसी भी रूप से नाकारा नहीं जा सकता. जन्म से ले कर मृत्यु तक व्यक्ति अपने नित्य क्रिया कलापों के माध्यम से कार्यों के माध्यम से या विचारों के माध्यम से अपनी आतंरिक तथा बाध्य गतिशीलता के माध्यम से अपनी चेतना का विकास करता है, अपने अस्तित्व को ज्यादा से ज्यादा निखारने की ओर हमेशा प्रयत्नशील रहता है. लेकिन इन सब के मूल में जो तथ्य सारी क्रियाओं का आधार बन कर चेतना को और विकसित करने की प्रेरणा प्रदान करता है वह है ज्ञान का बोध. मनुष्य को जितना भी ज्ञान का बोध होता है और जिस प्रकार के ज्ञान का बोध होता है उसकी कार्यों की गतिशीलता भी उसके अनुरूप ही चलती है. और यह यात्रा स्व भवति से ले कर अहं ब्रम्हास्मि तक चलती है. क्यों की पूर्ण ज्ञान पूर्ण सत्ता का ज्ञान प्राप्त होने पर व्यक्ति की चेतना भी उसी तरफ गतिशील होने लगेगी. कार्यों तथा गतिशीलता का आधार वही बनेगा. ब्रम्हांड की संरचना की मुख्य सत्ता ब्रम्ह है. और उसी का ज्ञान ब्रम्हज्ञान है. और इसी ब्रम्ह का पूर्ण अंश ब्रम्हांड के सभी सूक्ष्म से सूक्ष्म में भी प्रस्थापित है. उसी पूर्ण सत्ता के विखंडन से ही तो पूर्ण ब्रह्माण्ड का सर्जन हुवा है. और उसका मुख्य विखंडन दो भाग में हुवा. सदाशिव तथा शक्ति. आगे उनके ही विभिन्न अंश विखंडित अवस्था में सभी जड़ तथा चेतन बने.
शक्ति स्त्री तत्व का प्रतिनिधित्व करती है. तथा उन्ही के अगणित स्वरुप हम सब के मध्य विद्यमान है. किसी भी ठोस में तब तक चेतना नहीं होती जब तक वह शक्ति संयुक्त नहीं हो जाता. हमारे आतंरिक तथा बाह्य ब्रम्हांड में जो भी चेतना का आधार है वही शक्ति है. तथा जहाँ पर भी इसकी सत्ता है वहाँ पर उसका एक नूतन ही स्वरुप है.
मनुष्य तथा बाकी जिव में एक मुख्य अंतर यह है की मनुष्य अपनी चेतना का विकास अनंत रूप से कर सकता है. क्यों की मनुष्य में मुख्य शक्ति का स्वरुप कुण्डलिनी के रूप में शरीर में ही विद्यमान होता है.  इस लिए मनुष्य को बाह्यगत चेतना की खोज तथा प्राप्ति नहीं करने के लिए किसी नूतन तथ्य की आवश्यकता नहीं है, या फिर बाह्य रूप से उसके लिए वैचारिक भावभूमि की आवश्यकता नहीं है. वह खुद अपने अंदर की सुप्त शक्तियो के जागरण मात्र से पूर्ण ब्रम्हज्ञान की प्राप्ति कर सकता है. क्यों की जो भी बाह्य है वह आतंरिक भी है. इस लिए जिस प्रकार से ब्रम्ह तथा ब्रम्हांड बाह्य रूप में विद्यमान है उसी प्रकार वह आतंरिक रूप में भी वही विद्यमान है.
और मनुष्य अपने अंदर एक पूर्ण ब्रम्हांड को समाहित किये हुवे है तो वह कुण्डलिनी के स्वरुप में ही है. कुण्डलिनी के मुख्य सात चक्रों में मूलाधार से ले कर सहस्त्रार तक सप्त चक्रों में पूर्ण वर्ण तथा मातृका शक्तियां निहित है, जो की सभी देवी तथा देवता के बीज है. मंत्रो का आधार है. इस लिए अगर इनको चेतन कर लिया जाए तो निश्चित रूप से सभी देवी तथा देवता को साध लिया जा सकता है और इन सब विखंडित स्वरुप का मूल ब्रम्ह ही तो है. इसी लिए यह अपने मूल तत्व तक पहोचने से सबंधित प्रक्रिया है. इस प्रकार व्यक्ति क्रमशः एक एक चक्रों से सबंधित देवी या देवता की साधना को पूर्ण कर लेता है. वास्तव में यह एक कठिन और धैर्यपूर्ण सफर है.
जेसे की स्पष्ट है, शक्ति के विभिन्न स्वरुप ही आधार  बनते है किसी ठोस, शव, पुरुषतत्व या घनात्मक की चेतना प्रक्रिया से. इसी आधार पर सभी चक्रों के नियंत्रण तथा संचार से सबंधित हर एक चक्र की अपनी एक अधिष्ठात्री शक्ति है. अधिष्ठात्री के भी कई अलग अलग स्वरुप चक्रों के मध्य विद्यमान रहते है. स्वाभाविक है की यह देवी स्वरुप जो की चक्रों से सबंधित है वह अत्यधिक शक्तिसम्प्पन होती है तथा अपने साधको के कल्याण करने के लिए हमेशा तत्पर रहती है. साधक कल्पना कर सकता है की जो कुण्डलिनी में पूरा ब्रम्हांड समाहित है उनके मुख्य चक्र की अधिष्ठात्री साधक को क्या कुछ प्रदान नहीं कर सकती.
वास्तव में इन शक्तियोंकी साधना तथा साधना पद्धतियाँ गुप्त और गुढ़ रही है. क्यों की साधक निश्चित रूप से अत्यधिक शक्ति सम्प्पन इन साधनाओ के माध्यम से हो सकता है.
मणिपुर चक्र अपने आप में एक अत्यधिक गुढ़ तथा रहस्यमय चक्र रहा है. इस चक्र प्राण का केन्द्र है. सर्जन क्षमता से संयुक्त है. क्यों की व्यक्ति जब गर्भ में होता है तो उसकी चेतना नाभि के माध्यम से ही बनी रहती है. इसके अलावा सर्जन या संरचना करने की क्षमता इस चक्र में है इसके पौराणिक कई उदहारण मिलते है. प्राणों के विखंडन तथा सूर्य और अग्नि रूप यह चक्र मनुष्य शरीर का केन्द्र रहा है. मनुष्य के आतंरिक शरीर भी इसी जगह से जुड़े हुवे होते है. वस्तुतः जब मनुष्य के स्थूल शरीर से वासना, सूक्ष्म इत्यादि कोई भी शरीर अलग होता है तो भी वह नाभि से रजतरज्जू के माध्यम से जुड़ा हुवा रहता है.
इस चक्र की मुख्य शक्ति देवी लाकिनी है. देवी के कई स्वरुप इस चक्र में विद्यमान है. तथा इनकी साधना पद्धति अपने आप में अत्यधिक कठिन उग्र और गुप्त कही जाती है. क्यों की साधना के बाद, साधक को कई प्रकार के लाभों की प्राप्ति होती तथा इन शक्तियों की साधना में कई बार अत्यधिक भयावह स्थिति भी बन जाती है.
लेकिन प्रस्तुत साधना देवी से सबंधित एसी साधना है जो की सौम्य है. इसमें साधक को किसी भी प्रकार की भय की स्थिति नहीं बनती है. इस साधना से साधक को कई लाभों की प्राप्ति होती ही है जेसे की रोग मुक्ति, पेट से सबंधित समस्याओ का समाधान, योगशक्ति का विकास, चेतना का विकास, मानसिक शक्तियों की प्राप्ति लेकिन इस साधना की सबसे बड़ी उपलब्धि है साधक चतुर्थ आयाम के स्थानों में विचरण करने के योग्य बन जाता है. साधक में यह क्षमता आ जाती है की वह अपने शरीर में आतंरिक शरीर को जागृत कर चतुर्थ आयाम के स्थानों में प्रवेश कर सके. इसे स्थानों को देख सके जिसको देखना सामान्य द्रष्टि से संभव नहीं हो तथा इसे सिद्ध स्थलों की यात्रा कर सके जहां पर स्थूल शरीर के माध्यम से जाना सामान्यतः संभव नहीं है. इस साधना में किसी भी प्रकार की कोई भय की स्थिति नहीं बनती है. साधक को हो सकता है साधना समय में शरीर का तापमान बढ़ता हुवा अनुभव हो लेकिन इसमें भय वाली कोई बात नहीं है साधक निश्चिंत हो कर पूरी साधना करे.
साधक यह साधना किसी भी दिन शुरू कर सकता है. यह साधना रात्रिकाल में १० बजे के बाद ही की जाए. साधक लाल वस्त्र पहेन कर लाल आसान पर बैठ कर उत्तर दिशा की तरफ मुख बैठ जाए.
साधक को अपने सामने एक तेल का दीपक लगाना चाहिए. इसके अलावा ओर किसी भी चीज़ की आवश्यकता इसमें नहीं है. इसके बाद साधक लाकिनी ध्यान का ११ बार उच्चारण करे

लाकिनी ध्यान –
नीलांदेवीं त्रिवक्तां त्रिनयनलसितां द्रंष्टिणिमुग्ररूपां
वज्रंशक्तिं दधानामभयवरकरां दक्षवामे क्रमेण
ध्यात्वा नाभिस्थ पद्मे दशदलविलसत्कर्णिके लाकिनिं तां
मांसाशीं गौररक्तासृकह्रदयवतीं चिन्तयेत साधकेन्द्रः
ध्यान मंत्र के उच्चारण के बाद साधक अपनी आँखे बंद कर के निम्न मंत्र का उच्चारण करे. साधक को स्फटिक माला से ११ माला मंत्र जाप करना है. मंत्र जाप करते समय साधक का ध्यान आतंरिक रूप से नाभि पर हो.
लाकिनी मणिपुर मन्त्र -  गुं रं टं ठं डं ढं णं तं थं दं धं नं रं गुं
साधक को यह क्रम ७ दिन तक करना चाहिए. ७ दिन में साधक को विविध प्रकार के अनुभव हो सकते है लेकिन ७ दिन बाद साधक को निश्चित रूप से यह क्षमता प्राप्त होती है की वह अपने शरीर के आतंरिक शरीर को जागृत कर चतुर्थ आयाम के गुप्त क्षेत्रो को देख सके तथा प्रवेश कर सके. लाकिनी मंत्र  टं ठं डं ढं णं तं थं दं धं नं है, लेकिन अनुभव आया है की मणिपुर के मुख्य बीज का सम्पुट करने पर इस मंत्र की तीव्रता बढ़ जाती है, इसके अलावा कंकालमालिनी में निर्देशानुसार इस मंत्र में गुरुबीज का सम्पुट दिया जाना चाहिए जिससे सफलता सुनिश्चित हो ही जाए. इस प्रकार यह पूरा मन्त्र गुं रं टं ठं डं ढं णं तं थं दं धं नं रं गुं बनता है. जो की कई प्रकार की सिद्धि दे सकता है.  माला का विसर्जन नहीं करना है. साधक इससे भविष्य में भी इस मंत्र का जाप कर सकता है.
जो व्यक्ति यह पूर्ण क्रम नहीं कर सकते वे लोग नित्य रात्रि में सोते समय आँख बंद कर के इसी मंत्र का मानसिक उच्चारण नाभि पर ध्यान केंद्रित कर करते रहे तो इससे सबंधित अनुभव होने लगते है.

****NPRU****




2 comments:

BHARAT said...

manipur chakra mantra is (Damm, Dhamm, Namm, Tam, Tham, Dam, Dham, Nam, Pam and Pham).....not tam and tham in the beginning.....tam ,tham is wrong.....pls correct it,ur blog is very useful to others so pls always post right information.

Nikhil said...

प्रिय भारत भाई,
धन्यवाद आपके बहुमूल्य कमेन्ट के लिए.लेकिन आपने लेख पर विशेष ध्यान नहीं दिया है की यहाँ मात्र “मणिपुर चक्र” की नहीं की गयी है,अपितु उसके मुख्य बीज “रं” को लाकिनी मंत्र के साथ सम्पुट किया गया है. क्यूंकि साधना “लाकिनी विद्या” से सम्बंधित है ना की “मणिपुर चक्र जागरण” से.