There was an error in this gadget

Sunday, August 26, 2012

NIKHIL PANCH RATNA RAHASYA -1



Aadi Shankracharya has been the one of the greatest personality and gem of knowledge. The level of knowledge accomplished by him is beyond imagination, it was all due to his dedication and highest thirst for attainment of knowledge. He attained knowledge in such a way that he becomes established as the best personality, a role model in this knowledge field. His life was definitely full of struggles, at every step he faced criticism and tyranny but he had aim in his mind, his life’s basic aim, intense desire to attain knowledge and complete dedication. But was all this enough? No, every era of dynamism of time is witness to the fact that as darkness had been present in all the times so was light. Sensing darkness is only a beginning. Until and unless we sense this, even imagination of attainment of light is impossible. In the same manner, rise of thirst inside person to attain knowledge is in itself realization of his own ignorance. And when this happens, it is only a preliminary stage.Infact, journey of discovery of inner self starts only when we recognize source of light, completely trust it, completely dedicate us towards it. Then definitely darkness disappears slowly. This light of knowledge is nothing else but Guru. And that Shankracharya could attain everything in reality, its root lies in Guru Element which he had activated inside him. His all creations are best in themselves and his Stotra are worth imbibing in heart. That’s why he has said in Guru Ashtak.In
Manshechannlagnam Guroordhripadme Tat Kim , Tat Kim , Tat Kim , Tat Kim …..

By citing different examples in these 8 slokas , he has tried to teach us that any wish of person may be fulfilled, one may attain anything but if one does not have mind concentrated on lotus feet of Sadgurudev then ……everything is useless, negligible and insignificant.

Undoubtedly, aim of Shankracharya was not only to make us understand the significance of Sadguru but also to make us aware by indicating that if after attaining Guru, person’s mind is not concentrated on his feet then how unfortunate that person is? It was indication to recover before kick, to inspire us to return back from path of insignificance to writing our own fate by us.

Unarguably, Guru’s place has been considered to be most important in Tantra world. Every tantra, in resonance, worships even the word “Guru”. In greatest scripture Yogini Tantra, it has been said that there is no difference between Mantra, God and Guru. Guru worship provides Guru Blessings, Mantra siddhi and Isht siddhi.

In this era of our life, we were fortunate to have such Sadgurudev sometimes along with us physically. If we consider that relinquishment of physical body finishes Guru Authority then it is our ill-fortune that we have never understand Sadgurudev, his speech, his words, we never understand his feelings with heart even once. Because the one which is immortal, which is present always can’t be bounded by any body. How one can see him from physical point of view. Is he not working in the same manner as earlier? Does he not meet his disciples? Does we do not get darshan of him? Does he not listen to our prayers? Does he not provide dynamism to us? Then how it is possible that he does not exist? It is our contemptible knowledge that we even do not hesitate to ignore his existence due to which we exist.

And many sadhak through his worship and sadhnas related to him has reached highest fortune of being close to his heart. Besides it, they have attained Mantra siddhi and Isht siddhi.

Nikhil Panchratna is one such prayer which inspires our mind to focus on his lotus feet. This Stotra, short prayer is prayer compiled from voice of universe in the lotus feet of Sadgurudev. But universe voice which has originated for Sadgurudev is it possible that it will not be full of secrets? Universe has got infinite secrets embedded in itself and any aspect originated from universe voice will be full of infinite secrets.

In the same manner, Nikhil Panchratna has got many secrets embedded in itself. In this group of five Padas, one mantra has been described in every Pada which is related to Sadgurudev. Definitely, if we do the prayog of these mantras after understanding its abstruse meaning then person can attain various types of Siddhis.

Saakar Gunaatmak Bramha Mayam Shishyatvam Poorn Pradaay Nayam
Tvam Brahma Mayam Sanyas Mayam Nikhileshwar Guruvar Paahi Prabho

Saakar Gunaatmak Bramha Mayam Full of Saakar qualities, combined with Bramha

In Aagam and Nigam, prime universal Shakti has been called Bramha. Its worship has been described in two forms: - Saakar and Niraakar. Saakar means that which has visible form , whose form can be thought over, which can be worshipped in concrete form, can be pronounced ,can be addressed ,by noun of official form of one authority. Whereas upasana of Niraakar Bramha is called of higher-order than this .In it, it is felt that every minute particle of nature has Brahma within it. In human, two places to realize Bramha are Aagya Chakra and Sahastrar in Kundalini. In thousand petals of Sahastrar, nectar particles reside, no letters or alphabets reside there whereas place of Aksha Maala is in the lower 5 chakras of Kundalini. Aagya chakra has got its visible compiled form i.e. it is Saguna form of Bramha and Sahastrar has got its Nirguna form.Therfore, real meaning of this line is visible form of Bramha implicit in Aagya Chakra which is “OM”.

Shishyatvam Poorn Pradaay NayamTo provide complete shishyatav (quality of real disciple)

Sadguru has got many forms in itself which are embedded inside him. His different forms carry out various works through medium of various Shaktis. Here, Shakti of his form capable of providing complete Shishyta has been said. Attainment of Poorn Shishyatav is attainment of complete Satv element, attainment of knowledge and attainment of consciousness. Basically, three Shaktis are Kriya, Gyan and Ichha. And the complete base of Shishyatav aspect of sadhak is Gyan Shakti.  Only after attaining Gyan Shakti having Shishyatav form, Ichha Shakti to develop consciousness of his shishyatav and Kriya Shakti to conduct itself regarding it becomes the base. But before it, attainment of Poorn Shishyatav is compulsory. Therefore, form of Sadgurudev capable of providing Poorn Shishyatav is told here. This type of form is called Saaraswat form in Guru Tradition in which Sadgurudev, by combining with Gyan form Goddess Saraswati provides dense of Shishyatav to sadhak. After combining with Saraswati, beej of Saaraswat Guru also becomes Gyan Shakti beej .Therefore, meaning of this form of Sadgurudev became “AING”

Tvam Brahma Mayam Sanyas Mayam – Combined with Brahma and Sanyaas
May be he can hide his real form by being very normal in cover of Maaya but every person knows about Sadgurudev form that his ascetic form is very intense and sharp. Those sadhak who have experienced this and has seen ascetic form, they know that this form of his is full of Poorn Bramha element, which can’t be described. Meaning of such ascetic form, full of Bramha i.e. Nikhileshwaranand form here is beej related to him “Nim”

Nikhileshwar Guruvar Paahi Prabho –Prayer of Guru Nikhileshwar

Here prayer of activated state of his various knowledge aspects has been done i.e. “Nikhileshwaraay Namah”

Now if the full meaning of first gem is combined then it becomes “Om Aing Nim Nikhileshwaraay Namah” and result of this mantra chanting has been described in sloka itself. By chanting this mantra, person gets darshan of Bramha complete of ascetic form Nikhileshwaranand of Bramha Sadgurudev capable of providing complete qualities of Shishyatav meaning Aagya chakra is activated.


=======================================
आदि शंकराचार्य भारतवर्ष की एक महानतम विभूति और ज्ञान रत्न रहे है. अपने पूर्ण समर्पण भाव के कारण तथा ज्ञान प्राप्ति की पिपासा की चरम सीमा ने उनको जो उपलब्धि प्राप्त कराइ वह कल्पना से परे ज्ञान स्तर की असंभव प्राप्ति उन्होंने काल के गर्भ में कुछ इस प्रकार प्राप्त की जिससे वह व्यक्ति का सर्वोत्तम व्यक्तित्व एक नितांत आदर्श बन कर प्रस्थापित हो गया ज्ञान के क्षेत्र में. उनका जीवन निश्चय ही संघर्षो से परिपूर्ण था, हर कदम पर उन्होंने आलोचना तथा अत्याचार का सामना किया, लेकिन उनके सामने उनका लक्ष्य था, अपने जीवन का एक मूल उद्देश्य था तथा ज्ञान प्राप्ति की ललक तथा पूर्ण समर्पण की भावना थी, लेकिन क्या यह सब पर्याप्त था? नहीं. समय की गतिशीलता का हर एक काल खंड गवाह है की अंधकार हर समय विद्यमान था तो साथ ही साथ प्रकाश भी. अंधकार का बोध होना तो शुरुआत मात्र ही है. जब तक वह बोध नहीं होता तब तक प्रकाश प्राप्ति की कल्पना भी असंभव ही तो है. उसी प्रकार व्यक्ति के अंदर ज्ञान प्राप्ति की तृष्णा का उदय होना, अपनी अज्ञानता का बोध होना ही है. और जब यह बोध होता है वह तो प्रारंभिक स्थिति ही है. दरअसल आतंरिक स्व की खोज का सफर तो तभी शुरू होता है जब वह प्रकाश का स्तोत्र पता चले उसे पहेचाना जाए, उसके ऊपर पूर्ण विश्वाश किया जाए, अपना पूर्ण समर्पण दिया जाये तब निश्चित रूप से अंधकार तिल तिल कर दूर होता जाता है. यह ज्ञान का प्रकाश ही तो गुरु है. और वह शंकराचार्य वास्तव में सर्व की प्राप्ति कर सके तो उसके मूल में निश्चित रूप से वह गुरु तत्व था जो उन्होंने अपने अंदर जागृत किया था. उनकी सर्व रचना अपने आप में अन्यतम है तथा सर्व स्तोत्र ह्रदय संगम करने योग्य है. इसी लिए तो उन्होंने गुरुअष्टक में कहा है,
मनश्चेन्नलग्नं गुरोरङध्रिपद्मे, तत् किं , तत् किं, तत् किं , तत् किं....
विविध उदहारण देते हुवे उनके आठो श्लोक में उन्होंने यह समजाने का प्रयत्न किया है की चाहे किसी भी इच्छा की पूर्ति हो जाये या चाहे कुछ भी प्राप्त हो जाये लेकिन जब सदगुरु के कमलचरणों में मन नहीं है तो फिर क्या....सब कुछ व्यर्थ है, नगण्य है, तुच्छ है.
निःसंदेह शंकराचार्यजी का उद्देश मात्र सदगुरु की महत्ता समजाना नहीं था, वरन गुरु प्राप्ति के बाद भी अगर व्यक्ति का मन गुरु चरणों में ना लगे तो उसके दुर्भाग्य की और इशारा कर उसे चेत जाने के लिए है, ठोकर से पहले संभल जाने का इशारा है, तुच्छता के रस्ते से वापस मूड कर अपना भाग्यलेखन खुद ही करने के लिए प्रेरित करना है.
निर्विवादित रूप से तंत्रजगत में गुरु के स्थान को सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण स्थान माना है. सर्व तंत्र एक मत से गुरु शब्द मात्र की भी अभ्यर्थना करते है. योगिनी तंत्र जैसे महानतम ग्रन्थ में यह भी कहा गया है की मंत्र तथा देवता और गुरु में कोई भेद नहीं है, गुरु पूजा ही गुरुकृपा, मंत्र सिद्धि तथा इष्ट सिद्धि को प्रदान कर देती है.
जीवन के इस खंड में निश्चित रूप से यह हमारा सौभाग्य है की ऐसे ही सदगुरुदेव कभी शशरीर हमारे साथ थे, अगर हम यह मान ले की भौतिक देह के त्याग मात्र से गुरु सत्ता समाप्त हो जाती है तो यह हमारा दुर्भाग्य है की हमने सदगुरुदेव को कभी समजा ही नहीं, ना ही कभी उनकी वाणी को, उनके शब्दों को, उनकी भावनाओं को ह्रदय से एक बार भी समजने की कोशिश की. क्यों की जो नित्य है, जो सास्वत है उनके लिए शरीर का बंधन केसे संभव हो सकता है, उनको शरीरी द्रष्टि से देखा भी कैसे जा सकता है. क्या वह आज भी ठीक उसी प्रकार गतिशील नहीं है? क्या वह अपने शिष्यों से मिलते नहीं है? क्या उनके दर्शन प्राप्त नहीं होते? क्या वे हमारी प्रार्थना को सुनते नहीं है? क्या वह हमें गतिशीलता प्रदान नहीं करते? तो फिर कैसे संभव है की वह है ही नहीं? इसे हमारा कुत्सित ज्ञान ना कहे तो और क्या कहे की हम उनके ही अस्तित्व को नकार देने में हिचकिचाते नहीं जिनके कारण हमारा अस्तित्व है.
और कई साधको ने उनके पूजन तथा उनसे सबंधित साधना के माध्यम से उनके ह्रदय के निकट होने का सर्वोच्च सौभाग्य तो प्राप्त किया ही है, साथ ही साथ मंत्र सिद्धि तथा इष्ट सिद्धिओ को भी प्राप्त किया है.
निखिल पञ्चरत्न एक एसी ही अभ्यर्थना है जो हमारे मन को उनके चरणकमल की तरफ केंद्रित करने के लिए प्रेरित करती है. यह स्तोत्र, लघुस्तव, प्रार्थना  ब्रहमांड की ध्वनि से संकलित एक अभ्यर्थना है सदगुरुदेव के श्रीचरणों में. लेकिन क्या ब्रह्मांडीय ध्वनि जो सदगुरुदेव के लिए निसृत हुई हो, क्या ऐसा संभव है की वह रहस्यों से परिपूर्ण नहीं हो? ब्रह्माण्ड अपने आप में अनंत रहस्यों को समेटे हुवे है तथा ब्रह्मांडीय ध्वनि से निसृत कोई भी पक्ष अपने आप में अनंत रहस्यों से परिपूर्ण होता ही है.
निखिलपञ्चरत्न भी इस प्रकार अपने आप में कई रहस्यों को समेटे हुवे है. इसके पञ्च पद समूह में हर एक पद में एक मन्त्र का विवरण दिया हुआ है जो की सदगुरुदेव से सबंधित है. निश्चय ही अगर इसका गूढार्थ समज कर इन मंत्रो का प्रयोग किया जाए तो व्यक्ति कई प्रकार की सिद्धियों की प्राप्ति कर सकता है.


साकारगुणात्मक ब्रह्म मयं शिष्यत्वं पूर्ण प्रदाय नयं
त्वं ब्रह्म मयं सन्यास मयं निखिलेश्वर गुरुवर पाहि प्रभो  
साकारगुणात्मक ब्रम्ह मयं - साकार गुणों से परिपूर्ण ब्रम्ह से युक्त
आगम तथा निगम में मुख्य ब्रह्मांडीय शक्ति को ब्रम्ह कहा गया है. इसकी उपासना दो रूप से वर्णित है. साकार तथा निराकार. साकार का अर्थ है जिसका दर्शनीय स्वरुप हो, जिसका चिंतन युक्त स्वरुप हो, जिसको एक ठोस के रूप में भज सके, उच्चारित कर सके, संबोधित कर सके, एक सत्ता का आधारिक रूप संज्ञा. जब की निराकार ब्रह्म की उपासना इससे भी उच्चतम कही गयी है, जहां पर प्रकृति के कण कण में ब्रह्म का वास महेसुस किया जाता है. मनुष्य में ब्रम्ह अनुभूति के दो स्थान कुण्डलिनी क्रम में आज्ञा चक्र तथा सहस्त्रार है. सहस्त्रार की सहस्त्र दल में अमृत कणों का वास है, वहाँ पर मातृका या स्वर नहीं है जब की अक्ष माला का स्थान कुण्डलिनी में निचे से ऊपर की तरफ पञ्च चक्रों में है. आज्ञा चक्र में इनका साकार संकलित रूप अर्थात ब्रम्ह का सगुण स्वरुप है और सहत्रार में निर्गुण. इस लिए इस पंक्ति का वास्तविक अर्थ आज्ञा चक्र में निहित ब्रम्ह का दर्शनीय स्वरुप है जो की ‘ॐ’ है. 
शिष्यत्वं पूर्ण प्रदाय नयं पूर्ण शिष्यत्व को प्रदान करने वाले
सदगुरु के अपने आप में कई स्वरुप होते है जो की उनके अंदर समाहित होते है. उनके कई स्वरुप विविध शक्तियों के माध्यम से विविध कार्य सम्पादित करते है. यहाँ पर पूर्ण शिष्यत्व प्रदान करने वाले उनके स्वरुप की शक्ति के बारे में कहा गया है. पूर्ण शिष्यत्व की प्राप्ति पूर्ण सत् तत्व की प्राप्ति है, ज्ञान की प्राप्ति है तथा चेतना की प्राप्ति है. मूल रूप से त्रिशक्ति क्रिया, ज्ञान तथा इच्छा है. तथा साधक के शिष्यत्व पक्ष का पूर्ण आधार ज्ञान शक्ति है. शिष्यत्व रुपी ज्ञान शक्ति प्राप्त करने पर ही मात्र उसके शिष्यत्व की चेतना विकास की इच्छा शक्ति तथा उसकी के अनुरूप आचरण करने की क्रिया शक्ति आधार बनती है. लेकिन पहले पूर्ण शिष्यत्व की प्राप्ति अनिवार्य है. इसी लिए सदगुरुदेव के शिष्यत्व को प्रदान करने वाले स्वरुप के बारे में यहाँ बताया गया है. इस प्रकार का स्वरुप गुरुपरंपरा में सारस्वत स्वरुप कहा गया है. जिसमे सदगुरु ज्ञान शक्ति स्वरुप देवी सरस्वती से संयुक्त हो कर साधक को शिष्यत्व का बोध देते है. सरस्वती से संयुक्त होने पर सारस्वत गुरु का बीज भी ज्ञान शक्ति बीज हो जाता है. इस प्रकार सदगुरुदेव के इस स्वरुप का अर्थ हुआ ऐं
त्वं ब्रह्म मयं सन्यास मयं – ब्रह्म तथा सन्यास से युक्त
भले ही गृहस्थ स्वरुप में वे अति सामान्य बन कर माया का आवरण ओढ़ कर हमें निश्चित रूप से एक परदे या आवरण से परिपूर्ण बना कर अपने वास्तविक स्वरुप को छिपा ले. लेकिन सदगुरुदेव के स्वरुप के बारे में सभी व्यक्तियो को ज्ञात है की उनका सन्यस्त स्वरुप अत्यधिक प्रखर तथा तेजोमय है. जो कोई भी साधक ने इसका अनुभव किया है, या उनके सन्यस्त स्वरुप के दर्शन किये है उनको ज्ञात है की उनका यह स्वरुप पूर्ण ब्रह्म तत्व से युक्त है जिसका विवरण संभव ही नहीं है. ऐसे ही उनके ब्रह्म से युक्त सन्यास स्वरुप अर्थात निखिलेश्वरानंद स्वरुप का अर्थ यहाँ पर हुआ उनसे सबंधित बीज  है निं
निखिलेश्वर गुरुवर पाहि प्रभो  - निखिलेश्वर गुरुवर प्रभु को वंदन
यहाँ पर उनके विविध ज्ञान पक्ष को जागृत अवस्था में उनको नमस्कार किया गया है. अर्थात ‘निखिलेश्वराय नमः’
अब इस प्रथम रत्न का पूर्ण अर्थ जोड़ा जाए तो यह बनता है ॐ ऐं निं निखिलेश्वराय नमः (om aing nim nikhileshwaraay namah) तथा इस मंत्र जाप करने का फल इस श्लोक में ही वर्णित किया जा चूका है; इस मंत्र का जाप करने व्यक्ति को ब्रम्ह से युक्त सदगुरुदेव के सन्यस्त स्वरुप निखिलेश्वरानंदजी से  शिष्यत्व के पूर्ण गुणों की प्राप्ति एवं बोध तथा साकार गुणों से परिपूर्ण ब्रम्ह का दर्शन सुलभ होता है अर्थात आज्ञा चक्र का जागरण होता है.
****NPRU****

No comments: