There was an error in this gadget

Saturday, April 13, 2013

NOW TANTRA KAUMUDI IN PRINT MODE




This is the time, Utilize it…………
Important Information for all of you….
Dear Friends,
Time flows continuously, its flow is unswerving. And it is also our endeavour to give momentum to our works. You all are well aware of the various steps taken by us. Whenever we talked about starting all these works, our well-wishers encouraged us each and every time and on the other hand, critics and opposite-mentality persons tried to disturb the flow of knowledge in deceptive manner. But whatever we said, we did. And our journey till now is testimony to this fact.
Let us discuss this journey too….Today is the time to relook so that we can understand that all our works is not boosting about ourselves rather all these facts and things are based on harsh realities of life.
7-8 years before, Arif Bhai Ji’s post was deliberately not posted in a particular group of that time due to caste or communal reasons. Then he started a new tide through the blog although blog tradition was not popular at that time. Even the number of supporting brothers and sisters was negligible at that time. But slowly and gradually, bearing all adversities, he kept on moving ahead. Today situation is that readers of blog have crossed 12 lakhs and this counter has been implemented just few years back. And this figure does not include those who access the blog through mobile.
Thereafter, the knowledge which has been given in articles again and again belonged to subject of “Mercurial Science”. This science had become obsolete and was revived by Sadgurudev Ji. After him, this science again came to be neglected because few respected did not show any inclination towards it. So for this purpose, workshops were organised. It led to new series of criticism from various opposition quarters. But we organized 40 day workshop. After it, we conducted one more workshop in which we made there rare samskars of parad possible only in 20 days, which had just became confined to book nowadays.
Then we thought to start a new endeavour. And we put forward one thing in the blog that if number of registered members crosses 100 by the end of this month ( though today, number of registered members has crossed 900) we will bring out 40-45 page free e-magazine. And when people strongly showed enthusiasm, we published first edition of magazine in both Hindi and English having more than 100 pages containing sadhnas although we have talked about only 40/45 page magazine. You all are witness to the adversities faced by us in this task.Even to maintain the momentum of our work, we all have to declare ourselves as Guru Traitors. Moreover, it was really unfortunate that many distinguished persons played an important hand in fuelling the controversy.
Now it came to the point that how will these people bring out coming editions. One edition was published but next edition……Today 14 editions of this bilingual magazine “Tantra Kaumudi” has been published. It will always be free and in this manner, future editions will be published. Even critics have got tired of criticising because we do not stop after criticism.
Continuing the momentum, third workshop of Parad was organized in Kamakhya Maha Peeth. But considering the mentality of few persons, inclination of people towards yellow metaland the manner in which out trust was broken and we were betrayed, this series of efforts have been stopped from some time. If it would not have happened then workshops on solar science, Moon Science, Constellation science, Jal Vigyan, Vaayu Vigyan, Higher Samskars of Parad, Shamshaan sadhna would have taken place. But since we did not get permission from senior ascetic Guru Brothers and sisters, all these were stopped.
Meanwhile, Nikhil Alchemy Groupwas created on Facebook with only few members. Now number of members in this group has crossed 2100. We have tried our level best to provide conducive, civilized and family like environment to our dear brothers and sisters. Popularity of this group is on continuous rise. Despite of so many complications and in midst of baseless accusations, our journey is on the path of progress. It is all due to your love and affection. This is all because of the fact that we have made positive attitude rather than criticism as our aim. For us, unnecessary argument is not our aim rather we are focused towards sadhna knowledge and that too without any temptation, without any false hope, without fear and without inner politics…It has always happened with us and it has become customary of this era that when you say no to someone’s desire even if you have fulfilled his each and every desire in the past, he will directly or indirectly come against you. There are so many whose direct/indirect conduct is testimony to the above fact.
Now it came to our mind that majority of people face scarcity of time due to which they cannot learn continuously at some other place even though they are willing to do so. Then series of one day seminar was started. A series of accusations started again misinterpreting this one day seminar as shivir. But in midst of all these adversities, we not only organized one-day seminar but also published the books on the basic subjects of these seminars which was highly appreciated by all. First edition of two books namely “Apsara Yakshini Rahasya Khand” and “Itar Yoni Sadhna and Karn Pishaachini Sadhna Rahasya Khand” published in seminar is already over. Now preparation is going on to publish next edition in book size which will contain much more information and sadhnas
Friends, as soon as we get permission to organize third seminar, we will make a declaration.
Now let us take about other ground work outside the realm of cyber field. All these activities were merely a necessary part of beginning of vast and great work because it was necessary for you to verify our authenticity. You should have believed that it is not about false temptations and we are pleased that you all understand these things too. Otherwise, there would have been crowds of Siddhs. What to say about sadhaks.
Hard work coupled with doing sadhna with complete concentration and dedication and that too continuously can open the door for accomplishment. Otherwise there are lots of self-proclaimed siddhs who are giving temptations and that too after keeping aside basic fundamentals of success in sadhna and hard-work.
Friends, we all , due to your love and affection have started working in the direction of fulfilment of great dream put forward by Sadgurudev in front of us. Though in this duration, we were given warning publically by few persons that they will complete annihilate us in 2 months. But we do not stop during this duration. We took our first step in the direction of fulfilment of Sadgurudev’s dream and purchased vast stretch of land (15 acres), on the banks of holy river Narmada in Jabalpur (M.P). This stretch of land is known today as “Nikhil Kalp Kuteer”. This was slap on the face of all those critics who were accusing us of becoming Guru and earning money. Many of you participated in Bhoomi Poojan and many critics too witnessed it, disguising themselves as our friends.
Friends, not only this but we tried to ensure that every person does sadhna and their financial position does not become any hindrance in doing sadhna. For this purpose, we started seven sadhna schemes every month. We were pleased to see that people took lot of benefits from this scheme but it was also sad that no one approached us for sadhna in next month. There were only few persons who informed us of their progress. All these yantra were available by us to all free of cost. Thereafter, we made available approximately 1000Tibbeti Sabar Maha Yantra(which is called supreme and rare sadhna yantra for Lakshmi sadhnas) on three occasions absolutely free of cost. And now,Saubhagya Vastu Kritya Yantra, whose making cost was 21000 at the time of Sadgurudev, will be made available free of cost.
Friend this was all a preface so that new brothers and sisters can understand but today’s article is focused on telling you about some other special things…..The time when we brought out Tantra Kaumudi Magazine and when all sort of deplorable attempts were made to stop its publication, at that time you all will be aware that so many persons requested it to publish it in print mode and offered their cooperation in this regard. And friends, we gave due consideration to this suggestion since all positive suggestion offered by you all mean a lot to us. Every person has got a role and meaning in this family as long as he is not playing inner politics and does not have any hidden agenda. All these days have taught a lot to us. Therefore, we know about our current state, we have never run away from ground realities. If we have seen big dreams then we have put our body, mind and wealth in order to fulfil them.
But we have decided that Tantra Kaumudi, free e-magazine will always be available free of cost and you all will get it without any problem. Now when our senior ascetic brothers and sisters have given permission and blessing then it is our immense pleasure to inform you all that now this magazine will also be made available in print mode.
But now the question arises that when there is e-magazine, why should we take it?...What is so special in it…. Friends here are some main points……
    Magazine in print mode will not be copy of Tantra Kaumudi in any sense rather all the subject and article mentioned in this magazine will be completely different from e-magazine.
    This magazine will be published on a fixed date of every month.

 This magazine will be available only after paying an annual fee. Information about it will be given in next article.   
    In this manner, you will get two magazines in a month. One will be completely free, available on internet. Second one will be available in print mode and one need to pay annual fee to procure it.
    You can take it for granted that as far as sadhnas and articles are concerned, level of this magazine will be of higher level than level which we have maintained till now for e-magazine Tantra Kaumudi. Its each edition will be worth preserving for future generation. As far as quality and subject matter is concerned, each edition will be short but scripture full of hidden secrets of subject.
 As per now, this magazine will be available only to members of Yahoo group, Nikhil Alchemy Blog and Nikhil Alchemy Facebook group i.e. all those members who will be willing to pay annual fees. This will be only for members, not for stall.   
 This magazine will be sent to you either through registered post or speed post so that you can get this magazine safely and at appropriate time.   
    Friends, now is the time to organize our works and efforts in real sense. Therefore, though small steps are being taken but all these steps are being taken after a lot of thinking and keeping in mind a fixed aim. But it should not be interpreted in the sense that Fulfilment of Nikhil Kalp Kuteer means that we will pay less attention to sadhna field rather our team will accomplish this work too with lot more intensity and dedication.
     Every edition will be amazing in itself. All the knowledge and sadhnas will be so interesting that it will make you spell-bound. Although we will discuss about it more concretely on the auspicious day of 21st April but let me tell you one thing that its first edition will be “Sadgurudev Saayujya Mahavidya Mahavisheshank”. Isn’t it amazing? . All of us know and recognize the fact that there is no difference between Sadgurudev and Mahavidyas. A complete edition on rare and supreme sadhnas……so what will be the secrets, you all will know when you will have this edition in your hands.
     I would like to say one thing very clearly that this magazine will not be valuable asset for one month rather it will be for entire life. It will be beauty of life. Each and every edition will be worth collecting. Our team is working day and night in order to make it the best. We very well realize this fact that you should get not only full value for the money rather you should get it multiple times. No temptations rather…history of NPRU is in front of you all. Many critics came and went; all the obstacles which came vanished. We do not create any sadhnas since it is domain of Sadgurudev ji and all the sadhnas have been given by him only. We only compile the sadhnas. We are always your brothers. Nothing else.
    Any particular month magazine will be full of best procedures which can be done in the next month.
   This magazine ,full of sadhnas will not only introduce you to intensity of sadhna field but it will also pave the way for sadhak to achieve level of successful sadhak. Sadgurudev has always taught us to imbibe tantra through continuous practice.
Friends, what will be annual fees, how can you get it, all this information will be provided to you. As per now it is our plan to make it available only to sadhak community………What will be our future course of action, it will be informed as and when we get permission. But friends, it is definite that getting such magazine will be very auspicious.
More information regarding it will be revealed in front of you all…on 21st April post…

=============================================
साधो  यही घडी यह बेला ....
आप सभी के लिए ...एक बहुत ही महत्वपूर्ण  सुचना
स्नेही मित्रो,
समय की धारा अविचल और निरंतर गतिमान रहती हैं,और हमारा भी यही प्रयास  रहता हैं की   अपने कार्यों के प्रयासों  को और भी तीव्रता  दी जाए हमने आप के सामने अनेको बार जो कदम उठाये , जिनसे आप सभी भलीभांती परिचित हैं ही,उन सभी कार्यों का प्रारंभ करने की हमने जब भी बात की, हर बार जहाँ हमारे शुभचिंतको ने हमारा उत्साह बढ़ाया,वही आलोचकों और  विपरीत,मानसिकता रखने वाले ने अपना कार्य हर बार  की तरह  छदम वेश धारण कर किये भी  पर  हर बार  हमने जो कहा वह हमने  किया ही हैं .और आज तक की यात्रा इस बात का स्वयम प्रमाण हैं.
कुछ बाते इस यात्रा  की भी....आज समय हैं एक बार  पुनः हम देखें  ताकि  हम समझ  सकें की हमारा यह सारा कार्य  अपने मुंह मियाँ मिठ्ठू  बनना नहीं बल्कि समस्त बातें और  तथ्य  बाते  जीवन की कठोर सत्य की परीक्षा का सामना करते हुए की हैं .
आज से सात आठ वर्ष  पहले  जब आरिफ भाई जी की पोस्ट उस समय के तत्कालीन ग्रुप में  कुछ  जातिगत या धर्मगत कारण ही शायद  प्रमुख रहे होंगे,के कारण जान बुझ कर पोस्ट नहीं की जाती थी. तब उन्होंने ब्लॉग के माध्यम से  एक नयी लीक पर चलना प्रारंभ किया  हालकी उस  समय  ब्लॉग संस्कृति उतनी जयादा लोकप्रिय भी नहीं थी,न ही  उन्हें  प्रारंभ में साथ चलने वाले  भाई बहिनों की संख्या  लगभग    के बराबर  ही रही पर धीरे धीरे  समस्त प्रतिकूलताओ को सहन करते हुए,वह आगे बढ़ते ही  गए,आज  यह  स्थिति हैं कि आज इस ब्लॉग को पढने वाले  की संख्या १२ लाख से भी ज्यादा   पार कर चुकी   हैं  और यह पाठक गण गिनने की संख्या  मात्र  कुछ  वर्ष पहले ही  ब्लॉग पर उपयोगित की गयी.और मोबाइल  पर पढने वालों  की संख्या  इसमें सम्मलित नहीं हैं .
इसके बाद, जिस ज्ञान की बात  बार बार लेखो में की जाती  रही हैं, उनमे से  एक सर्व प्रमुख विषय “पारद विज्ञानं  की रही हैं,  जिस  ज्ञान को सदगुरुदेव जी ने,जो मानो  लुप्त  हो  ही चुका  था.की पुनर्स्थापना की, वह  उनकी भौतिक लीला के समापन के बाद,वह एक बार  फिर से उपेक्षित होने लगा क्योंकि  कुछ सम्मानितो  का इस  और कोई  भी रुझान नहीं  रहा,  तो इस हेतु  कार्यशालाओ का आयोजन  हुआ, तो सारे विरोधी, विरोधिता  सारा कटुआलोचना  का  एक दौर पुनः  चल पड़ा, पर हमने  एक ४०  दिवसीय  कार्यशाला का आयोजन किया, इसके बाद फिर से  एक और  कार्यशाला का आयोजन किया जहाँ हमने  पारद के वही दुर्लभ संस्कार जिन्हें मात्र किताबों की शोभा  बता  दिया  गया था  वह हमने मात्र  २०  दिनों में संभव कर दिखाया .
यही हमने एक छोटा सा प्रयास शुरू करने की ठानी और  एक बात हमें अपने  ब्लॉग में रखी की अगर  इस महीने तक  ब्लॉग के रजिस्टर्ड  सदस्य संख्या  १००  तक पहुच जाती हैं (हलाकि आज  ब्लॉग  के रजिस्टर्ड  सदस्य  संख्या  ९०० + तक पहुच गयी हैं ) तो हम 40 /45 पेज की पत्रिका जो   एक इ पत्रिका होगी, वह भी फ्री, वह निकालेंगे .और जब लोगों का प्रबल उत्साह  हमारे साथ  हुआ तो हमने बात कही थी, मात्र 40 /45 पेज की पत्रिका की, पर हमने  १०० पेज से अधिक   का पहला  अंक  साधनात्मक चिंतन साधनाओ सहित हिंदी और अंग्रेजी भाषा में सामने रखा. कितना न विपरीतता  इस कार्य में झेलना पड़ी उसका तो आप सभी स्वयं गवाह हो, यहाँ तक की  इस कार्य की गति को बनाये रखने के लिए, हम सब को अपने आप को गुरु द्रोही तक  होने की घोषणा करनी पड़ी. दुखद पहलु यह भी था की इन कार्यो को पीछे से हवा करने में  कुछ अत्यधिक सम्मानित का भी  हाथ रहा.
अब बात आई की कैसे यह लोग अन्य  अंक निकाल पायेगे,  एक तो निकाल लिया पर अगला अंक .....आज इस पत्रिका  के  जो  “तंत्र कौमुदी के नाम से  हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओ में हैं,  के  १४ अंक निकल चुके हैं और यह  हमेशा फ्री रहेगी और इसी तरह इसके  अंक भी निकलते  रहेंगे.और आलोचनाये  तो क्या,अब तो आलोचक भी आलोचना  करके  थक चुके हैं क्योंकि हमने  रुकना  जानना  ही नही .
इस क्रम में पारद की  तीसरी  कार्यशाला  का  आयोजन भी  हुआ  जो की कामाख्या महापीठ में  भी संपन्न हुयी .पर  कतिपय लोगो  की मानसिकता  और लोगों का सफ़ेद पीली  धातु  की और  रुझान देखने  और  जिस  तरह से  विस्वास का खंड खंड किया गया  और जो विस्वासघात   किया गया  उस  को देखते हुए  अभी कुछ समय से यह  क्रम रुका  हुआ हैं, अगर यह नहीं होता तो सूर्य विज्ञानं, चन्द्र  विज्ञानं,नक्षत्र विज्ञानं, जल विज्ञानं, वायु विज्ञानं,पारद के  उच्चतर  संस्कार,शमशान साधनाए  आदि  का क्रम निश्चित था  पर  अभी  वरिष्ठ सन्यासी भाई  बहिनों की आज्ञा   न होने के कारण  यह  रोक  दिया  गया हैं.
 
इसी दौरान फेसबुक पर निखिल  अल्केमी  ग्रुप का निर्माण हुआ  मात्र  कुछ  सदस्यों से  चालू  हुआ यह ग्रुप  आज  २१०० से भी आधिक  सदस्य संख्या  वाला  ग्रुप हैं, जहाँ हमने  पूरी  कोशिश की हैं, की एक श्रेष्ठ वातावरण सभी अपने स्नेही  भाई बहिनों को मिले  और एक परिवार की तरह शालीनता  और  सभ्यता  का वातावरण चारों  ओर  हो.आज इस  ग्रुप की भी लोक प्रियता बढती जा रही हैं.और  अनेको बार  बेहद  उथल  पुथल  और  अनर्गल आरोपों  के मध्य भी आप सभी के स्नेह  के कारण  हमारी यात्रा  प्रगति पथ पर हैं ही .क्योंकि हमने आलोचना  नहीं  बल्कि सकारात्मकता  को ही अपना उदेश्य बनाया हैं,और व्यर्थ के वादविवाद  को अपना लक्ष्य  नहीं बल्कि  हमारा  लक्ष्य की दिशा एक श्रेष्ठ  साधनात्मक  ज्ञान और वही भी बिना किसी  प्रलोभन के,  न कोई झूठी आशा,न की कोई  भय या न  ही कोई भीतरघात या कोई........... जबकि हमारे साथ तो यह हमेशा  होता  आया  हैं और यह तो इस  युग की रीत हैं की जब तक किसी भी व्यक्ति के  अनुसार आप  हाँ करते रहे और थोडा सा भी आप उसकी इच्छा  पूरी न करो  तो  ततकाल   वह सीधे या विपरीत रूप में  आपके  विरोध में होगा, आज अनेको  ने अपने  आचरण से  अपने कथन से  सीधे या अन्य तरीके  से यह बात समझाई ही हैं.
अब बात आई की जब आधिकांश व्यक्तियों के पास  समय की बहुत कमी हैं  जिसके कारण, वह चाह  कर भी  लगातार किसी अन्य स्थान पर जाकर  सीख नहीं सकते हैं, तब एक दिवसीय सेमीनार की श्रंखला   प्रारंभ की  गयी, और इस एक दिन के सेमीनार को  शिविर  बता कर एक बार फिर से आरोप प्रत्यारोप  की श्रंखला  चालू  हुयी  पर इन समस्त प्रतिकुलताओ  को सहन करते हुए   हमने  एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया और  न केबल आयोजन बल्कि इस  सेमीनार में, इस सेमीनार की  मूल विषय वस्तु पर आधारित किताबे  भी प्रकाशित की, जिसका आप सभी ने बेहद स्वागत  किया. इन सेमीनार में प्रकाशित हुयी  “अप्सरा यक्षिणी   रहस्य खंड”  और  “ इतर  योनी साधना    और कर्ण  पिशाचिनी साधना रहस्य खंड”  नाम की  दो पुस्तक का प्रथम संस्करण समाप्त हो गया हैं और अब इनके परिवर्धित और कहीं ज्यादा जानकारी और साधनाओं के साथ बुक साइज में अगले संस्करण के प्रकाशन की  तैयारियां चल रही हैं.
मित्रो  तीसरे सेमीनार  के  आयोजन की भी जैसी  ही अनुमति मिलती हैं उसकी घोषणा  की जाएगी .
अब बात आई हैं साइबर क्षेत्र से बाहर भी जमीनी स्तर पर कार्य किया जाय और यह सब कार्य तो मात्र  एक बृहद  महान कार्य की शुरुआत के लिए  आवश्यक अंग  रहे  क्योंकि  आप  सभी को हमारी  सत्यता का भी  तो अनुभव करना रहा, आप को भी यह विस्वास होना था की यह कोई भी झूठा प्रलोभन की एक दिन या दो दिन वाली यहाँ बात नहीं हैं और हमें  ख़ुशी हैं की आप  इन चीजो को  समझते  भी हैं . अन्यथा  आज तो  सिद्धो  की मानो भीड़ लग जाती सिर्फ साधक  तो कोई  होता  ही नहीं .
बिना  कठोर श्रम  और  पूर्ण एकाग्र भाव से  साधना  और न केबल साधना बल्कि  पूर्ण समर्पण  युक्ता   वह भी सर्वकाल के लिए  होने  पर ही  सिद्धता के लिए  रास्ता  खुल सकता हैं  अन्यथा   इस माध्यम में  तो हर कोई सिद्ध बना... आपके  सामने  प्रलोभन दे ही रहा हैं .वह भी साधना सफलता की मूल भावना  की कठोर श्रम को एक तरफ रखकर .
मित्रो, हम सभी ने, आपके स्नेह और सदैव हम सभी का  साथ देने की भावना के कारण, हमने उस महान  स्वप्न  को जो सदगुरुदेव जी ने  हम सब के  सामने रखा  था उसको साकार करने की दिशा में अपना कदम बढ़ने की दिशा में कार्य करना  चालू किया, हालाकि इस  समय अवधि में  हम सभी  को सम्पूर्ण रूप से नष्ट करने के लिए कतिपय लोगों के  सार्वजनिक रूप  से हम सबको  छह महीने  की अवधि  दी थी पर हम इस अवधि में भी  चुप बैठे नहीं  इन सब के बीच हमने   एक विशाल भू खंड,  जिसे  अब निखिल कल्प  कुटीर “ के नाम से  जाना  जाता हैं. आपके सामने  हमने पवित्र नर्मदा तट  पर जबलपुर मध्य प्रदेश में,  यह  लगभग १५ एकड़ का  बृहद भू खंड  ले कर  इस  पर  सदगुरुदेव  के  स्वप्न की साकार  करने  की दिशा  में  पहला कदम रख दिया, यह उन सभी आलोचकों के मुंह पर एक थप्पड़  था,  जो  रोज रोज एक राग आलाप   रहे थे,   ये लोग गुरु बनना चाह रहे हैं और   ये  पैसे कमाने  के लिए   यह सारा  कार्य कर रहे हैं.आप में  से  अनेको ने भूमि पूजन  समारोह में भाग लिया  और कई आलोचकों ने भी मित्रता का  आवरण ओढ़  कर भी  यह सब देखा.
 मित्रो , हमने, यह ही नहीं बल्कि हमारी कोशिश  तो यह रही की हर  व्यक्ति  साधना व्यक्ति से जुड़े और हर व्यक्ति साधना करने में,  उसकी आर्थिक अवस्था किसी भी प्रकार  से   वाधा  न बने,  यह  समझ कर  हर महीने सात साधनाए  की योजना प्रारंभ की,  एक तरफ ख़ुशी रही  की लोगों ने  जी भर  कर इस योजना  का लाभ लिया  पर यह भी  एक पहलु था  की किसी  ने भी दुसरे माह की साधना के लिए  कहा नही,अपनी प्रगति से  अवगत कराने  वाले   लोग बहुत कम रहे .और यह सारे यन्त्र  हमने निशुल्क उपलब्ध कराये. इसके बाद हमने  सभी को निशुल्क तिब्बती साबर  महायन्त्र  जो लक्ष्मी साधनाओ का  एक सिरमौर अति दुर्लभ साधना  यन्त्र  कहा जाता हैं.  उसको  तीन बार में लगभग   हज़ार से  जयादा  यन्त्र  हमने   उपलब्ध कराये. और अब आपके सामने  सौभाग्य वास्तु कृत्या यन्त्र   जिसकी लागत  मूल्य  ही    सदगुरुदेव जी के भौतिक  लीला काल में २१ हज़ार रूपये रही हैं आपके सामने  निशुक्ल रूप में  आने को हैं .
 मित्रो यह तो एक रूप रेखा रही ताकि नए भाई बहिन भी थोडा समझ सकें  पर आज का यह लेख  कुछ और ही विशिष्ट  बाते बताने के लिए  हैं  ..वह  यह की जिस  काल में हमने तंत्र कौमुदी  पत्रिका  निकाली  और जब इसको बंद करा देने  के नाम पर जो घृणित खेल  हुआ  आप सभी परिचित  हैं ही उस समय अनेको ने  हमें  कहा की  आप इस पत्रिका  को प्रिंट  माध्यम में  करें, हम सभी  पुरे सहयोग के लिए  तैयार हैं. और मित्रो  हमने  यह बात हमने अपने हृदय  में रखी  क्योंकि आप सभी की जो भी सकारात्मक  सलाह होती हैं वह हमारे लिए  बहुत ही अर्थ रखती हैं. हर व्यक्ति की इस परिवार में  एक अर्थ हैं, एक भूमिका हैं,जब तक वह कोई भीतरघात  या  कोई अन्य  तरह का  छुपा हुआ   अपना  गोपनीय अजेंडा  न ले कर चल रहा हो,  इन दिनों  ने हमें  बहुत कुछ सीखाया हैं अतः हमें ध्यान  हैं ही की हम किस  जगह  पर खड़े हैं, जमीनी  सच्चाई से हमने कभी भी अपना मुंह नहीं मोड़ा हैं.हमने  उचें  सपन्न देखें हैं तो उन्हें साकार करने  के लिए  अपना   सारा  तन, मन, धन  सब कुछ दाव  पर लगा  दिया .
पर हमने  यह निश्चित किया हैं की तंत्र कौमुदी  जो एक  फ्री  इ पत्रिका हैं, वह हमेशा  फ्री ही रहेगी और  निर्बाध रूप से  आप सभी को  मिलती रहेगी .अब जब हमारेवरिष्ठ सन्यासी भाई बहिनों ने   अपना आशीष  और अनुमिति दी हैं तो आप सभी को बताते  हुए यह  बहुत प्रसन्नता का  समय हैं की  अब यह पत्रिका   प्रिंट मोड  पर भी उपलब्ध होने जा रही हैं.
पर एक प्रश्न उठता  हैं की जब इ पत्रिका हैं  तो  इसको  क्यों हम लें? .क्या विशेषता होगी इसकी ...?तो मित्रो  कुछ बिंदु इस प्रकार हैं .
·     यह किसी भी अर्थो में अर्थात जो प्रिंट मोड़ की पत्रिका होगी,  वह तंत्र कौमुदी की कोई कोपी नहीं होगी बल्कि विषय वस्तु तथा उसके  अन्दर  जो भी सामग्री होगी वह  इ पत्रिका से पूर्णतया अलग होगी .
·     यह पत्रिका  हर महीने  एक निश्चित तारीख  को प्रकाशित होगी.
·     यह पत्रिका वार्षिक शुक्ल पर ही उपलब्ध हो पायेगी,  जिसकी जानकारी  आने वाली अग्रिम पोस्ट  पर की जाएगी .
·     इस तरह से  आपको एक महीने  में  दो पत्रिका  प्राप्त होगी  एक  पूर्णतया  फ्री  हैं जो  केबल इन्टरनेट पर  होगी   और दूसरी  जिसके लिए  आपको  वार्षिक शुल्क देय  होगा, वह  आपके  सामने  प्रिंट रूप में .
·     साधनाओ की दृष्टी  से और साधनात्मक चिंतन वाले  लेखो की दृष्टी से, आप यह निश्चित माने जिस तरह हमने  कभी  भी आज तक भी तंत्र कौमुदी के स्तर के  साथ जिस  स्तर बनाया  हैं यह भी उसी  उच्च कोटि  की होगी. इसका प्रत्येक अंक आने वाली पीढ़ियों के लिए सहेजने लायक होगा,गुणवत्ता और विषय वस्तु के आधार पर प्रत्येक अंक एक लघु किन्तु विषय से भरपूर ग्रन्थ जैसा हि होगा,विषय की रोचकता और गोपनीय रहस्यों से भरपूर.
·     अभी यह पत्रिका  मात्र याहू ग्रुप, निखिल अल्केमी ब्लॉगऔर निखिल अल्केमी  फेसबुक  ग्रुप  के सदस्यों के लिए उपलब्ध होगी अर्थात  इन ग्रुप के सदस्यों में  जो भी   इसकी वार्षिक सदस्य बनने के लिए  वार्षिक   शुल्क के लिए  सहमत  होंगे.ये मात्र सदस्यों के लिए ही होगी,ना की स्टॉल के लिए.
·     यह पत्रिका आपको  या तो रजिस्टर्ड  पोस्ट से  या  स्पीड  पोस्ट से ही भेजी जाएगी  ताकि  सही समय  पर  और  सुरक्षित रूप से  आपको  यह पत्रिका  मिल सकें.
·     मित्रो , अब समय हैं अपने कार्य को सही अर्थो में  और भी व्यबस्थित करने का  अतः  भले  ही छोटे छोटे कदम लिए जा रहे है  पर यह सारे कदम  पूरी तरह से  जांच परख कर सोच विचार कर , एक निश्चित  रूप रेखा  और एक निश्चित लक्ष्य  को ध्यान में  रख कर लिए जा रहे हैं.पर इससे यह  न अर्थ लगाया  जाए  की  निखिल कल्प  कुटीर को साकार करने  का यह अर्थ नहीं हैं की हम साधनात्मक   क्षेत्र के प्रति  कुछ कम  ध्यान  देंगे  बल्कि यह कार्य भी हमारी   टीम उतने  ही मनो  योग से बल्कि  और भी तीव्रता से करेगी.
·     हर अंक अपने आप में   अद्भुतता  लिए होगा,  जो साधनाए  जो ज्ञान होगा,  वह आपको दाँतों तले   अंगुली दवा लेने  पर बाध्य कर देगा .वैसे  तो  आने  वाले  परम  पवित्र  दिवस  पर   अर्थात  २१ अप्रेल  को हम इस  हेतु  पूरी बात और  भी ठोस  रूप में करेंगे  पर अभी आपको यह तो बात  ही दूँ  की इसका  पहला  अंकसदगुरुदेव सायुज्ज्य  महाविद्या  महाविशेषांक”   होगा . हैं न यह  अद्भुत बात भला  यह तो सभी  ने जाना  और माना  हैं  की सदगुरुदेव  और महाविद्याओ में  भेद कैसा  पर .एक पूरा महा विशेषांक  इस  अद्भुत परम  दुर्लभ साधनाओ  पर ....तो  क्या क्या रहस्य  होंगे इस  में  यह तो  जब अंक आपके  हाथो में होगा   तब ही आप  इसका मूल्य समझ पायेंगे .
·     एक बात पूरी स्पष्टता से सामने रखना  चाहूंगा की यह पत्रिका  कोई  सिर्फ एक महीने  के लिए नहीं बल्कि आपके  सारे जीवन की धरोहर  होगी, आपके  जीवन का  एक सौदर्य  होगी,   एक एक अंक इसका संग्रहणीय होगा, हमारी टीम दिन रात इस  अंक को  सर्वश्रेष्ठ बनाने मे लगी हुयी हैं .हमें  इस बात का  पूरा अहसास  हैं कि आपके  द्वारा  दिए  गए  एक एक पैसे  का  पूरा  नहीं बल्कि कई कई गुना मूल्य आपको मिले ही .कोई प्रलोभन  नहीं बल्कि ..आज तक  का  हम सभी का  अर्थात NPRU का इतिहास आपके सामने  हैं.अनेको   आलोचक   आये और जाते रहे,  जो भी जितनी भी वाधाये आई, सब अर्थ हीन हुयी, और बेसिर पैर की बात करने वाले स्वयं अपना सा मुंह लेकर बैठ गए क्योंकि हम किसी साधना के  निर्माण तो करते हैं नहीं क्योंकि  वह तो  सदगुरुदेव  जी का  अधिकार क्षेत्र  हैं और साधनाए भी उनकी  द्वारा  ही दे हुयी हैं  हम एक अर्थो में  सिर्फ संकलन कर्ता  हैं .और सदैव आपके  भाई  ही हैं . और कुछ भी  नहीं.
·     यह पत्रिका जिस महीने की होगी  उसमे,  अगले  आने वाले  महीने के लिए  अनेको अद्भुत रहस्यों से परिपूर्ण  और   एक से  एक योग्य   और  श्रेष्ठ  प्रयोगों  से  युक्त होगी .
·     साधनाओ से युक्त यह पत्रिका  आपको साधना जगत की न केबल तीव्रता से  परिचित कराएंगी  बल्कि आपके सामने किस स्तर तक आपको उंचा उठाना है जिससे आप  एक सफल साधक  बन जाए   उसका  पथ भी प्रसस्त  करेंगी. क्योंकि हम सभी को सदगुरुदेव  ने जो सीखाया हैं उसमे सतत अभ्यास से हि तंत्र को आत्मसात करने वाली बात रही है.
मित्रो इसका  वार्षिक शुल्क कितना होगा,  कैसे  आप  इसको प्राप्त कर पाएंगे , इस बारे में  आपको जानकरी  प्रदान कर  ही  दे जाएगी. अभी के लिए  हमारी यही योजना  हैं की यह पत्रिका  केबल  साधक वर्ग के हाथो में  ही उपलब्ध हो ..आगे अनुमति मिलने  पर  क्या  और  होने  जा रहा हैं वह  आपको अवगत कराया ही जायेगा, पर   मित्रो यह निश्चित हैं की इस  पत्रिका को प्राप्त करना  निश्चय ही सौभाग्य  की बात होगी .
हम  इस बारे में  और भी  आधिक जानकारी आप सभी के सामने...२१ अप्रेल की पोस्ट  पर ..       
****NPRU****

9 comments:

Dharmendra Pal said...

bhai ji, mughe print book ka besabri se intjaar hai, aapki kadi mehnat or sadgurudev ki kripa se he yah possible ho paya hai.....

Dharmendra Pal said...

wakai adbhut pal hoga, jb tantra kaumudi ka printed version hm sbhi ke hathon mai hoga.. aapki kadi mehnat or sadgurudev ki kripa se he yah sambhav ho skega.....

nitin kapoor nikhil said...

thanks brothers.

virendra kapre said...

Bahut hi sarshniya prayaas hai.jay GURUDEV.

virendra kapre said...

Jai GURUDEV..bahut hi sarshniya prayaas hai.

RajeevSharma said...

भाई, ये तो बहुत ही शुभ समाचार है । पर ये सब सच में बहुत परिश्रम साध्य कार्य है । यहां मैं बस एक निवेदन करना चाहता हूं .... साधनायें तो बहुत मिल चुकी हैं अब तक ...और आगे भी गुरू कृपा से मिलती रहेंगी पर उन महत्वपूर्ण साधनाओं की साधना सामग्री ....?!
भाई, कुछ उसके बारे में भी तो थोडा सा विचार कीजिए ना प्लीज़ । मैं बस ये कहना चाहता हूं कि जो भी साधना आप बतायें उसकी सामग्री (प्राण प्रतिष्ठत) कैसे प्राप्त कर सकेंगे ये भी जरूर जिक्र करें ।

जय गुरूदेव

राजीव

mamraj sharma said...

tantra kaumudi ka printed version maine kise prapt kar sakta hun . aur maine member kise ban sakta hun
Please tell me on my email mamraj.sharma@gmail.com

lava365 said...

Can the magazine be shipped overseas?

lava365 said...

Can the magazine be shipped overseas?