There was an error in this gadget

Friday, April 19, 2013

TANTRA KE GOODH AUR VISMRIT TATHYA - 3




Earth, impacted by universal powers of Tantra…
What appears as a demon, what is called a demon, what is recognised as a demon, exists within human being himself and disappears with him…
Above quote has been written by one of the great Himalayan Yogi Milerepa Ji. He says that what is the thing “which look like devil…! Or who is called devil, how can we identify it…? Or is Devil not the one which is present inside humans”. While writing today’s article, this quote came to my mind whose essence fits with today’s subject…..Definitely today’s article is very interesting and full of very interesting facts.

But how?                                         

Human brain has always remained secretive. Even till today, scientist has failed to comprehend why we react differently when confronted with various situations…Is there any liquid flowing in our brain due to which we feel attachment, animosity, timidness, aggressiveness, terrified, feeling of dictatorship. Even we behave like primitive people and in anger commit ferocious crimes like murder, rape and fraud and do not feel guilty at all…
..Or is there some reason which has not come to light till now?

It is definitely a food for thought that what is the source of all these emotions?


Why we lose our nerves? Why we behave like idiots? Why do we commit mistakes and then keep on repenting? Why we feel depressed?

This situation is with each person…nobody is saved from them…

It is said that after passing through 84 lakh yonis, one tales birth as human being……it means that when are born as humans then these infinite attributes of all these yonis are bound to be present in us….even so if they belong to creatures like insects, ant, lion etc……….All these attributes are present in us in form of craving/tendencies and they manifest themselves from time to time. In reality, these facts are among those abstruse secrets of universe which are very subtle and cumbersome…and this is one deformity…This deformity exists in universe….this deformity exists in universe in form of ‘atom’. Each and every particle of universe is made up of atoms only. In the same manner, human body, made up of five elements is combined form of atoms only….Entire body is compilation of atoms only…..So thoughts are made up of much more subtle atoms and so are Tamsik tendencies. When human body burns, its final form is of smoke only and smoke is made up of atoms….These tendencies are present within us in form of subtlest atoms which cannot be seen through eyes……….With time, their fission takes place…..And taking shelter of strong willpower, they strongly compile themselves and upon colliding with human atoms establish their existence and compels human to give strange reactions… Every activity of universe is based on the principle of attraction and repulsion. Strong willpower attracts them. When person repeatedly thinks about particular thing, it results into similar type of vibrations inside inner universe of human body. These vibrations attract the split atoms located in outer universe. This activity is carried out in fraction of second which we can never imagine…. It is not easy to decode universal secrets……nature contains many secrets within itself.  Creativity of nature has always been inspirational for human to carve out its own imagination……there is no one who does like beautiful form of mother nature…Humans have always preferred staying in close proximity of nature. He feels natural only after live in natural and he immensely loves nature too….. But where on one hand beautiful form of nature has got shape, it is distortion too. This deformity is present inside human too. At personal level, it is present inside person in micro form. As a result only few people nearby gets affected but it is present in universe at macro level…And when such Tamsik power works in organized manner at such a high level, then consequences are disastrous…

Universe is made up of infinite parts. Each part is further divided into various sub-parts. Out of these, there is one portion of invisible world where this deformity resides. Let us understand their logical aspect--- These deformities resides in form of very intense and powerful evil souls…These Tama-centric deformities are divided into five categories- Haakini, Daakini, Shaakini, Pishaach, Vaitaal

First three categories of souls have primacy of female element and are of Tamas character.  Having an abundant female element, these souls are very intense and arrogant. Remaining two has primacy of male element……All parts of universe have their own significance and their own independent identity too…Most importantly, these souls are self-originated terrible souls of deformed part of nature. Self originated i.e. self-made or in other words, these are free from cycle of time. They neither have any age nor do their bodies have limitations….Their physical appearance is very titillating, horrible and thrilling..

These Tamsik souls are inherently evil and there is no change in this inherent nature of them. Their work-pattern is that relying on their Tamas character; they use their own Tamas energy and create different type of inauspicious and catastrophic events on earth in accordance with their own nature. They feel very happy doing such sort of things. In other words, it can be said that this is their inherent tendency. Somewhere or the other, human also feels such type of pleasure ….

These Itar Yonis present in universe play a significant role in disturbing world-peace. My astrological results have led me to the conclusion that such worldly incidents have happened on such dates…..Above-said Yonis like Pishaach, Bramha Pishaach, and Vaitaal have played a major role in big wars that have happened till day. In recent seminar, we heard from mentor that such evil spirits are used to create disaster of enormous proportion…..But if they do not get work according to their ability/potential, they emanate their Tamas energy arbitrarily and as a result, causing imbalance in universe leading to various losses including loss of life and wealth….. However, this aspect has always been neglected……if we look back at history then most of the states have got tantric backgrounds and there are so many tantric incidents….Such Tantric incidents which are titillating to hear… Whether it was Bhaangarh, Ajabgarh, Rajasthan, Garhwal or Chatisgarh Tantra has always been in vogue…

So we were talking about those universal powers which are capable of creating global disaster. They are inherently very cruel and Vaitaal is one of them. Among Tantra sadhaks, Vaitaal sadhna is famous as very thrilling and intense sadhna which every sadhak aspire to do in his lifetime… Permission to do this sadhna is not obtained very easily………..Because for such sadhnas, it is necessary for sadhak to have ability to control such Tamas energy and absorb it otherwise one has to face disastrous consequences….

Such intense powers come in category of Apdevtas (sub-gods)…. Only few sadhak can imbibe such sadhnas since such sadhnas interfere directly with nature/universe…And if any sadhna is directly connected to nature and interferes in its work-pattern, can it allow itself to be easily controlled! Therefore, only eligible persons are deserving candidates for such sadhnas….
And this is the reason why gods select human form for taking incarnation because it is only possible by this Yoni. I will meet you again with much more novel secrets very soon…

Nikhil Pranaam

============================================
तंत्र की ब्रह्मांडीय शक्तियो से प्रभावित पृथ्वी लोक.....
What appears as a demon, what is called a demon, what is recognised as a demon, exists within human being himself and disappears with him…
उपरोक्त कथन हिमालय के एक महान योगी मिलारेपा जी का लिखा हुआ है, उनका कहना है कि ऐसा क्या है “जो राक्षस सामान दीखता है... ! या राक्षस किसे कहते है, उसकी पहचान क्या है....? या राक्षस वही तो नहीं है जो मानव के अंदर ही निहित है और उसी में विलीन भी” आज के लेख कों लिखते वक्त उनका यही कथन मेरे जेहेन में आया जिसका भावार्थ आज के विषय पर बहुत ही सटीक बैठता है... निश्चिय ही आज का लेख बहुत ही रोमांचक और अत्यंत ही रोचक तथ्यों और भरा है. 

पर कैसे ?                                           

मानव मस्तिष्क बहुत ही रहस्यमयी रहा है. आज तक वैज्ञानिक भी इस बात कों समझने में फेल रहे है कि क्यों हम अलग अलग परिस्थितियों में इतने विचित्र ढंग से प्रतिक्रिया व्यक्त करते है...क्या कोई एसा तरल पदार्थ मस्तिष्क में बहता है जिसके कारण हम कभी राग, द्वेष, भावुक, दब्बू, आक्रामक, देह्शत, हुकुमशाह, तो कभी जंगलीयों सा व्यवहार कर अपनी क्रूर बेरहम और क्रोध भरी वृत्ति में हत्या, बलात्कार, धोकाधडी जैसे नजाने कितने घिनौने और संगीन जुर्म कर बैठते है जिसका पश्चाताप नाममात्र भी नहीं होता... या फिर कोई और कारण है जो अब तक प्रकाश में नही आया???

अगर ध्यान से सोचे तो ये बड़ी ही गहरी बात है कि हम में ये सभी भाव आते कहा से है??

क्यों हम अपना आपा खों बैठते है ? क्यों विवेकहीन हो जाते है ?  क्यों कृत्य कर देने के बाद हम हाथ मलते बैठते है ? क्यों कुंठाग्रस्त रहते है ?

ये स्थिति हर व्यक्ति के साथ है.. इससे कोई बच नहीं पाया..

कहा जाता है कि ८४ लाख योनियों कों पार करने पर मनुष्य जन्म मिलता है.. इसका अर्थ हुआ कि जब हम मानव देह में जन्म लेते है तो उन अनंत योनियों के संस्कार कही ना कही हम में विद्यमान रहते है... फिर भले ही वह जानवर,कीट, पतंग, चिटी, शेर किसी भी योनि के हो... ये हम में वासना वृत्ति के रूप में विद्यमान रहते है और समय समय पर उभरकर आते है. वास्तव में ये तथ्य ब्रम्हांड के उन गुढ़ रहस्यों में से है जो अत्यंत ही सूक्ष्म और जटिल है... और ये एक विकृति है.. ये विकृति प्रकृति में ही व्याप्त है... ये विकृति ब्रम्हांड में ‘अणु’ रूप में विद्यमान है. और ब्रम्हांड का प्रत्येक पदार्थ तत्व अणु रेणु से ही तो निर्मित है उसी प्रकार  मानव देह पञ्च तत्वों से निर्मित अणुओ के संगठित रूप का ही तो परिणाम है...सम्पूर्ण शरीर अणुओ के संकलन से बना है. तो विचार उस से भी ज्यादा सूक्ष्म अणुओ से निर्मित होते है  और एसी तामसिक वृत्ति भी. जब मानव देह जलता है तो अंतिम स्वरूप धूम्र ही होता है और धूम्र अणुओ से ही तो बना है.. ये वृत्ति हम में सुक्ष्मतिसुक्ष्म अनुरेणुओ के रूप में विद्यमान है जिसे सामान्य आँखों से देखना संभव नहीं..समय दर समय इनका विखंडन होते जाता है..और प्रबल इच्छाशक्ति के आश्रय में ये पुनः दृढता से संकलित होकर मानव के अणुओ से टकरा कर अपना स्थायीत्व स्थापित करती है और मानव कों बे लगाम विचित्र प्रतिक्रिया देने के लिए बाध्य कर डालती है.. ब्रम्हांड कि प्रत्येक क्रिया आकर्षण विकर्षण के सिद्धांत पर आधारित है. प्रबल इच्छा शक्ति इन्हें आकर्षित करती है. जब व्यक्ति किसी विशेष चिंतन कों लेकर बार बार सोचता है तो उसके अंतर ब्रम्हांड रूपि देह से वैसी तरंगे प्रवाहित होती है जो उन विखंडित अणुओ कों आकर्षित करती है जो बाह्य ब्रम्हांड में स्थित है. ये क्रिया मुश्किल से चंद पालो में संपन्न हो जाती है जिसका हम अंदाजा भी नहीं लगा सकते... ब्रम्हांडीय रहस्यों कों समझना आसान नहीं...प्रकृति अपने आप में अनंत रहस्य समेटे हुए है. मानव के लिए प्रकृति की सृजनशीलता सदेव प्रेरक रही है उसके स्वयं कि कल्पना कों सृजित करने में... प्रकृति का मनमोहक रूप किसे पसंद नहीं.. मनुष्य प्रकृति के सदैव समीप रहना पसंद करता रहा है.. प्रकृति में रह कर ही वह प्राकृतिक महसूस करता है और इसी प्रक्रति से अथाह प्रेम भी करता है... परन्तु जहा प्रकृति का मोहक रूप एक आकृति लिए है वही विकृति भी है. यही विकृति मानव के अंदर भी उपस्थित है. वयक्तिक स्तर पर ये मनुष्य में सूक्ष्म रूप (micro) में विद्यमान है इसीलिए इसकी चपेट में मनुष्य के अस पास के चंद लोग ही प्रभावित होते है परन्तु ब्रम्हांड में ये मेक्रो स्तर (macro) पर संगठित है... और जब एसी तामसिक शक्ति संगठित रूप में बड़े स्तर पर कार्य करती है तो परिणाम भयंकर होते है...

ब्रम्हांड अनंत खंडो से बना है. प्रत्येक खंड विभिन्न प्रकार के भागों में विभाजित होते है उन्ही में से अमूर्त जगत का एक ऐसा खंड है जहा ये विकृति निवास करती है. चलिए अब इनका तार्किक पक्ष जानते है - ये विकृति घोर तमोगुणी आत्माओं के स्वरूप में निवास करती है.. ये तमोगुणी विकृतियाँ पञ्च श्रेणियों में विभाजित है हाकिनी, डाकिनी, शाकिनी, पिशाच, वैताल....

पहले कि तीनो श्रेणियों की आत्माए स्त्री तत्त्व प्रधान तमोगुणी स्वभाव की है. स्त्री तत्व प्रधान ये विकृत आत्माए बहुत ही तीक्ष्ण और जिद्दी होती है और बाकि की दोनों पुरुष तत्व प्रधान है.. ब्रम्हांड में स्थित सभी खंडों का अपना एक विशेष महत्व है उसी प्रकार एक अलग स्वतंत्र अस्तित्व भी... सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की ये आत्माए प्रकृति के विकृत खंड की स्वयम्भू घोर आत्माए है. स्वयम्भू अर्थात स्वनिर्मित या दूसरे शब्द से कहू तो तो ये काल के प्रभाव से मुक्त है. इनकी ना कोई आयु होती हे ना ही शरीर की मर्यादा... इनकी रूप रेखा अत्यंत रोमांचकार, भयंकर और सनसनी भरी होती है..

ये तमोगुणी आत्माए स्वभाव से सदैव अनिष्टकारी होती है और इनमे कोई बदलाव नहीं आता. इनकी कार्यप्रणाली कुछ इस प्रकार की है की ये तमोगुणी प्रकृति का सहारा लेकर स्वतः की तमस उर्जा से अपने स्वभाव या वृत्ति के अनुसार पृथ्वी लोक में नाना तरह से अमंगल, अशुभता, प्रचंडता और झंझावात मचाती है. इन्हें ऐसा करने में अत्यंत आनंद आता है या ऐसा कहने में हर्ज नहीं की ये इनकी प्राकृतिक वृत्ति है. मानव भी तो कही ना कही ऐसा ही आनंद अनुभव करता है..

विश्व की शांति भंग करने में ब्रम्हांड में स्थित इन इतर योनियों का बहुत बड़ा योगदान होता है. मेरे ज्योतिषीय और मेदनीय शोध के दौरान मैंने पाया कि एसी कई जागतिक दर्जे की घटनाओं की तारीख या तिथि एसी बवंडर मचाने वाली तिथियों में से ही रही है..अब तक के बड़े बड़े महा युद्धों में उपरोक्त पिशाच, ब्रम्ह पिशाच, वैताल जेसी योनियों का बहुत बड़ा योगदान रहा है. हाल ही के सेमीनार में हमने मेंटर से सुना था की एसी घोर आत्माए बहुत बड़े दर्जे का उत्पात मचाने के लिए उपयोग में आती है.. पर अगर उन्हें उनके क्षमता अनुसार कार्य नहीं मिलता तो वे अपने हिसाब से अपनी तामस उर्जा का प्रस्फुरण कर डालति है और परिणाम स्वरूप सृष्टि का संतुलन बिगड जाता है और जन धन सभी प्रकारी की हानियों का सामना करना पड़ता है.. हालाँकि ये पक्ष सदा से उपेक्षित रहा.. अगर हम एतिहासिक काल कों देखे तो बहुत से राज्यों की अपनी एक तांत्रिक पार्श्व भूमि अवश्य रूप से रही है और बहुत से तांत्रिक किस्से भी.. ऐसे ऐसे तांत्रिक किस्से जो सुनते ही रोमांचित करदे फिर चाहे वह भानगड हो या अजबगड.. राजस्थान, गढवाल या छात्तिसगढ़ हो तंत्र के लिए सदा से प्रचलित रहा है..

तो बात चल रही थी एसी ब्रम्हाडीय शक्तियों की जो वैश्विक स्तर पर उत्पात मचाने में सक्षम होती है. स्वभाव से ये तमो गुणी क्रूर वृत्ति की आत्माए होती है और वैताल इसी में से एक है. तंत्र साधको के मध्य वैताल साधना अत्यंत ही रोमांचक और अत्यंत तीक्ष्ण साधना है जिसे हर साधक कभी ना कभी अपने साधन काल में करना चाहता है... इस साधना कों करने की अनुमति आसानी से प्राप्त नहीं होती.. क्युकी एसी साधनाओ के लिए साधक का एसी तमस उर्जा कों अपने वश में कर पचाने की क्षमता का होना आवश्यक होता है अन्यथा खेल खत्म..

एसी तीक्ष्ण शक्तियाँ अपदेवता की श्रेणियों में आती है...बहुत ही कम साधक एसी साधनाओ कों हस्तगत कर पाते है. क्युकी एसी साधनाए सीधे प्रकृति अर्थात सृष्टि में हस्तक्षेप करती है.. और जो भी साधना अगर उसका सीधा संबंध प्रकृति और निर्मित के कार्यक्षेत्र में दखल रखती हे क्या वे आसानी से अपने आप कों आपके वश में होने दे सकती है भला !  इसीलिए सुपात्र ही एसी साधनाओ के असल में हक़दार होते है...

और यही कारण है कि देवता भी अवतार लेने के लिए मनुष्य योनि का ही चयन करते है क्युकी इसी योनि से संभव है आज यही समाप्त करती हू..... अगले लेख में नवीन रहस्यों के साथ जल्द ही आपसे पुनः मिलती हू....

निखिल प्रणाम
****सुवर्णा निखिल****
****NPRU****

No comments: