There was an error in this gadget

Friday, October 19, 2012

PAARAD SIDDH SOUNDARYA KANKAN पारद सिद्ध सौंदर्य कंकण ( अप्सरा यक्षिणी साधना रहस्य एवं सूत्र सेमीनार मे उल्लेखित ...कंकण )




There have come so many articles and posts on Parad that now no-one can be ignorant of divine qualities of this metal which is lively, conscious and present in liquid form. We have published so many posts regarding it in very simple language through this blog, Tantra Kaumadi and Facebook group, though all this work was already started by Sadgurudev Ji through his magazine Mantra Tantra Yantra many years back. He not only wrote but also taught the related facts practically in shivirs organized by him. More than this how is it possible to create this…..he demonstrated it too.

Talking about Parad, Parad is most divine metal and its capability has no limits. But rather than saying, only after doing special sanskars and passing through various Mantric and Tantric procedures, Paara is transformed into Parad and subsequently attains the state where it can be transformed into special gutikas. Then instilling Vedhan ability in it…….only Vedhan ability is not enough for welfare of all common public, therefore SadaShiv has given blessing of infinite capability to bound Parad. That’s why it is also worshipped by gods.
Sakalsurmunidarevaidi Sarvupaasy Tah Shambhu Beejam
Shambhu Beej 1.e Shiva Beej Parad is worshipped by every sage, saint and god. Upasana of which is done by god, then what its upasana cannot provide to humans.

Many among you have attained these special gutikas/idols/ Kankan and have been amazed by seeing its benefits in everyday life.

When we talk about beauty……………..then its definition includes entire world. Concept of Satyam Shivam Sundaram is prevalent in Indian thought process from long back. Beauty is basis of life and life has no meaning without beauty…….and how wonderful it will be if Parad gets connected to all these things. But Parad can be combined only through field of sadhna. When we talk about Saundarya Sadhnas then how is it possible to ignore the description of Apsara, Yakshini, Gandharv kanyas, Kinnari etc. Because if one has to really understand, know and experience beauty then he/she has to necessarily imbibe these sadhnas. These sadhnas may look very easy but in reality they are not that much simple because benefits which can be attained from any one of these sadhna, probably we have to do separate sadhnas for each of them. And this is truth also. But very few have got success in these seemingly easy sadhnas. Reasons is that sadhak do not have information of hidden secrets and those who have the secrets were miser to share the details.

So what should be our attitude towards these sadhnas? Considering this in mind, one day seminar based on Apsara Yakshini secrets was organised. Enthusiasm with which it was conducted is separate thing altogether……….You all got Apsara Yakshini Rahasya Khand book and eagerly awaited Poorn Yakshini Apsara Saayujya Shashth Mandal Yantra on which along with any apsara yakshini sadhna , Saundarya sadhna, Sammohan sadhna, Kuber Sadhna, Shiv Sadhna, Aakarshan Sadhna can be done very easily.  And in these moment of happiness Arif Bhai declared that there is one special and amazing gift which will be given to all persons attending the seminar free of cost……whose name is Parad Soundarya Kankan.

But why there is so much importance of Parad Gutika or this Kankan?


Under Ras Siddhi, there is mention of rare idols and Gutikas of Parad but getting them is not so easy because procedures related to their formation have remained very abstruse and difficult. Sadgurudev provided the description of such various Gutikas and also put forward their formation process among common public and he used to make others construct these Gutikas and idols under his own direction.

Mohyodhah Paran Badho Jivyechhmritah Paran Murchritobodhyednyan Tam Sutam Kon Sevte

“Which can bind other after getting bounded itself i.e. Parad which gets bounded in solid idol or Gutika can bind others. In other words, it attains the quality to hypnotise anyone, attract anyone and do vashikaran of anyone, can manifest any god or goddess. It can provide life to others by becoming dead itself i.e. in form of Bhasm (ash) or bind his own speed and instead of using its own energy for its own provides it to sadhak and gives new life to sadhak. It can become unconscious i.e.it becomes solid after stopping his speed and provides various abstruse knowledge to sadhak. Which learned person will not like to attain such rare and secretive Parad?”


Some qualities and benefits of this Parad Saundarya Kankan (even rare to god) are as follows:
·        He while describing the speciality of this Kankan told that first of all this Parad Saundarya Kankan can be used in place of Yakshini Saayujya Gutika given in Tantra Kaumadi. Though there are other prayog of gutika too and they are precious too. But those benefits can be attained through Kankan also……And when we talk about beauty, it is necessary to mention Parad Siddh Saundarya Kankan. This gutika has also been called Parad Siddh Saundarya Kankan, Ras Siddh Saundarya Kankan or Rasendra Saundarya Kankan. As compared to other gutikas , this gutika is less costly but its importance and utility in sadhna cannot be considered lesser .
·        Saundarya Kankan is very special gutika under category of Parad Gutikas whose size is not big. But many types of prayog can be done on it. Basically it comes under Saundarya and Aakarshan Gutikas. Saundarya here does not mean only beauty of person rather it pertains to beauty of complete life of person and all its related aspects. And Aakarshan (attraction) here does not only mean bodily attraction, it is related to attraction of any person or Dev Yoni too. If person attains such attraction capability that Devta are attracted towards him then it is natural for life to be full of joy, pleasure and happiness.
·        Also this will work as Parad Shivling in itself. It is true that a complete Parad Shivling is ultimately a Parad Shivling. But it can also be used like that.
·        As it has been told about Saundarya Kankan that it is full of attraction capability. Thus it is natural for it to have special effect when any Aakarshan prayog for any person is done in front of it. To add to this, having this gutika in any sadhna of god or goddess is also fortunate because due to its intense attraction capability, this gutika can attract any god or goddess.
·        Or there may be any type of Kaamy Prayog. May it be related to attainment of wealth or related to happiness and peace in home. Kaamy prayog means only this that fulfilling the desired wish or desired thing in sadhna by attracting abstruse power. If this gutika is used in any of such Kaamy Prayog i.e. mantra is chanted in front of gutika then Shakti influential in the prayog gets attracted and effect of Mantra increases multiple times. Possibility of fulfilment of desire also become more
·        In the same manner in any Vashikaran sadhna too, by establishing gutika in front of him, sadhak moves by leaps and bounces towards attainment of benefit.
·        It provides complete cooperation in being face to face with Dev Yoni in any type of Saundarya Sadhna. Sadhna of Apsara, Yakshini, Kinnari, Gandharv Kanya etc. may it for their visible company or may it be to attain wealth, prosperity , materialistic progress invisibly through them , in both forms Saundarya Kankan sadhna….helps to  bring closer Apsara Yakshini or other Yonis towards sadhak in visible or invisible form very fast.
·        Sthapan Sanskar and Pratishtha on this gutika are done through Shiv Shakti Saayujya Mantra. Therefore it is basically a combined form of Shiva and Shakti. Therefore, any type of Shiv i.e. any god and any type of Shakti sadhna can be done on it. Besides this, this gutika is also related to Chakra gods. Doing Kundalini related sadhnas in front of this Kankan definitely increases the benefits of sadhak.
·        Sadhnas which are mentioned to get special benefits related to prosperity-attainment like Kuber Sadhna, Indra Sadhna, Asht Lakshmi Sadhna, doing them in front of this Kankan provides quick results to sadhak because the abstruse procedures like Koshadhyaksh and Devraj Sthapan procedure have already been done on this gutika at the time of Praan Pratishtha.
·        Supreme feature of this gutika is that this gutika increases the sadhak’s possibilities of attainment of success in any prayog related to any of god-goddess.
·        But side by side one special fact is also that sadhak can take benefit out of it throughout his life. There is no need to immerse it. It is also not that sadhna of only one fixed Yoni or god-goddess is done on this gutika.
·        If sadhak is doing Yakshini sadhna then also he can use this gutika many times for different Yakshini Sadhnas.
·        All the facts mentioned above about Saundarya Kankan are only selected facts. Besides them, sadhak gets various types of benefits in daily life. This Gutika is capable of providing sadhak benefits like happy married life, favourable condition in field of work, business etc.
·        Definitely there are many such secretive substances available in this universe through which person can take his life to higher pedestal by combining Dev powers and can take benefits by doing this task with faster speed. Every gutika related to Parad has got its own speciality and importance though their importance cannot be described in words.

There was some discussion on Parad Siddh Saundarya Kankan in one day Apsara Yakshini seminar and many of its secrets and abstruse aspects were put forward in front of brothers and sisters.

And this Kankan wan available only to persons who participated in that seminar. After this various brothers and sisters enquired how to get this rare Saundarya Kankan but we remained silent on this subject. Because till the time we get permission from ascetic disciples of Sadgurudev Ji that this very special Gutika/Kankan can be made available to all…..how we could have said anything from our side.

And those brothers and sisters who could not participate in this seminar, they got the “Apsara Yakshini Rahasya Khand” book published in it.We were not able to make available this gutika to them though they all have written that they would like to get it at any cost.

But here it is not about cost rather it is about permission.

Cost of this Saundarya Kankan is very less as compared to other Gutikas of Parad. And it is opportunity for all of them who have read it or listened about it or want to attain it that they can get this rare gutika.

You all have now become aware of its benefits. It is being available only because it is our good fortune.

Those among you who want to get this gutika…those who want to attain completeness in Apsara Yakshini sadhna ….and those who wants to get above-said benefits, they should take benefit of this opportunity.

Because getting such sanskar Yukt Parad Vigrah is like establishment of Lord Shankar in home and Lakshmi element is inherent in Parad, so it is establishment of Lakshmi element in home. And when this high-level Kankan will be in front of you during sadhna time then automatically subtle changes will start coming automatically in your body…..which is like opening the door for success in sadhna.

Therefore what more should be written. Only this that…those who are intelligent, knowledgeable, intellectual, know the value of time, hint is enough for them. Those who are over-intelligent….what more can be written for them…

Those who want to get this gutika; they can send email to nikhilalchemy2@yahoo.com and get the information. Please do write Saundarya Kankan in the subject of the e-mail.


========================================================
पारद पर आज हमारे मध्य इतने  लेख और पोस्ट  आ चुके हैं की अब   कोई भी इस  धातु  को जो की जीवित जाग्रत तरल हैं उसके  दिव्य  गुणों  के प्रति अनिभिज्ञता  नही  रख सकता  हैं, हमने अपने इस ब्लॉग और तंत्र कौमुदी  के माध्यम से  साथ ही साथ  फेसबुक के  ग्रुप के माध्यम से इस  पर अत्यंत सरल भाषा मे अनेको पोस्ट  प्रकाशित की हैं .हलाकि यह सारा कार्य  सदगुरुदेव जी ने अपनी पत्रिका मंत्र तंत्र यंत्र विज्ञानं  के माध्यम से बहुत वर्षों पहले प्रारंभ कर चुके हैं.उन्होंने स्वयं न केबल लेख लिख कर बल्कि उनके  द्वारा आयोजित शिविरों मे  उन्होंने स्वयं प्रायोगिक रूप से  इन बातो को समझाया बल्कि  कैसे संभव हो सकता हैं इनका निर्माण ...  यह कर के  दिखाया  भी .
बात  उठती हैं की पारद एक दिव्यतम धातु हैं, और उसके  क्षमताओ की सीमा   ही नही पर कहने की अपेक्षा जब विशिष्ट संस्कार करके  बिभिन्न मंत्रात्मक और तंत्रात्मक  प्रक्रियाओं  से  गुजरने के बाद ही पारा ..पारद मे  और फिर  विशिष्टं  गुटिकाओ मे  बदलने की स्तिथि मे आ पाता  हैं, फिर उसे  वेधन क्षमता युक्त करना पर ... मात्र वेधन क्षमता प्राप्त होने से सभी जन सामान्य का कल्याण संभव नहीं है, इसी लिए सदाशिव ने बद्ध पारद को अनंत क्षमता का आशीर्वचन दिया. इसी लिए यह देवताओं के द्वारा भी पूजित है.
सकलसुरमुनिदरेवैदि सर्वउपास्य तः शंभु बीजं
सभी ऋषिमुनियों तथा सुर अर्थात देवताओ देवगणों के द्वारा पूजित यह शंभुबीज अर्थात शिवबीज पारद है. जो देवताओ के द्वारा उपास्य है उसकी उपासना भला मनुष्य को क्या प्रदान नहीं कर सकती है.

आप मे से  अनेको ने  यह विशिष्ट गुटीकाए/विग्रह /कंकण   प्राप्त किये  हैं और  इनके लाभों को अपने  दिन प्रतिदिन के जीवन मे  देख कर आश्चर्य चकित भी हुये हैं .
जब बात सौंदर्य की हो तो ..उसकी परिभाषा मे  सारा विश्व  ही आ जाता हैं .क्योंकि सत्यम शिवम सुन्दरम  की धारणा  तो भारतीय  मानस मे पहले  से हैं .तो सौंदर्य  तो  जीवन का आधार  हैं.और बिना सौंदर्य के  जीवन का कोई अर्थ नही ..और   पारद का संयोग अगर इन सब बातों मे हो जाए  तो फिर क्या कहना .पर पारद का संयोग साधना क्षेत्र के माध्यम से ही  इस  ओर  हो सकता  हैं,  जहाँ बात   सौंदर्य साधनाओ की आये  तब   निश्चय  ही  वहां पर  अप्सरा, यक्षिणी,  गन्धर्व कन्याए ,  किन्नरी आदि का विवरण  न आये यह कैसे  हो सकता  हैं .क्योंकि अगर सच मे  सौंदर्य को समझना हैं, जानना  हैं, और अनुभव करना  हैं तो इन साधनाओ  को देखना  पड़ेगा ही आत्मसात करना पड़ेगा  ही पर यह अत्यन्त सरल  सी लगने वाली साधनाए ..वास्तव मे  इतनी सरल हैं नही .क्योंकि  किन्ही एक की साधना  से  हमें  जो लाभ प्राप्त हो सकते  हैं  शायद  उनके  अलग अलग अनेको साधनाए करनी  पड़े.और यह सत्य   भी तो हैं .पर  इन सरल  सी लगने  वाली साधनाओ मे   सफलता बहुत कम  को मिली हैं ,कारण  हैं की इनके  गोपनीय सूत्रों का  साधको मे    जानकारी होना  और   जिनके पास  जानकारी  भी  तो ..उन्होंने   कृपण भाव  बनाए रखा .
तो साधनाओ के प्रति  क्या रुझान  रख जाए .इसी बात को अपने  मन मे  रख कर एक ... एक दिवसीय अप्सरा यक्षिणी  साधना रहस्य  एवं सूत्र  पर आधारित सेमीनार का  आयोजन किया गया .आप सभी  के  द्वारा   जिस  उत्साह पूर्वक माहौल मे  इसका आयोजन हुआ  वह तो एक अलग  ही  तत्व हैं ...आप सभी के लिए   अप्सरा यक्षिणी रहस्य खंड  किताब   और  उस बहु प्रतीक्षित पूर्ण यक्षिणी अप्सरा  सायुज्ज्य षष्ठ मंडल  यन्त्र का  प्राप्त  होना  जिस  यन्त्र  पर कोई भी  अप्सरा यक्षिणी की साधना  के साथ साथ सौंदर्य साधना,सम्मोहन साधना,कुबेर साधना,शिव साधना,आकर्षण साधना भी आसानी  से  समपन्न   की जा सकती हैं .और प्रसन्नता  के इन्ही क्षणों  मे  आरिफ भाई जी द्वारा   घोषित किया गया  की ..उनकी तरफ से  एक अद्व्तीय  उपहार   जो इस  सेमीनार मे  भाग लेने  वालों  सभी व्यक्तियों के  लिए  निशुक्ल रहा हैं,  उपलब्ध कराया गया .जिसका नाम  पारद सौंदर्य कंकण  हैं .
पर पारद गुटिका/या इस  कंकण  का इतना महत्त्व  हैं ही क्यों ?
रस सिद्धि के अंतर्गत पारद के दुर्लभ विग्रह तथा गुटिकाओ  कंकण  का विवरण  तो  है लेकिन इनकी प्राप्ति सहज नहीं है क्योंकी इनके निर्माण से सबंधित सभी प्रक्रियाए अत्यधिक गुढ़ तथा दुस्कर रही है. सदगुरुदेव ने ऐसी विविध गुटिकाओ के बारे में विविरण प्रदान किया तथा उनके निर्माण पद्धति को जनसामान्य के मध्य रखा तथा वे अपने स्वयं के निदर्शन में ऐसी  गुटिकाओ तथा विग्रहों का निर्माण कराते थे.
मोह्येधः परान बद्धो जिव्येच्छ्मृतः परान मूर्च्छितोबोध्येद्न्यन तं सुतं कोन सेवते
“ जो खुद बद्ध हो कर दूसरो को बाँध देता है अर्थात ठोस विग्रह या गुटिका रूप में जो पारद बद्ध हो जाता है, वह दूसरों को बाँध देता है, अर्थात किसी को भी सम्मोहित करने का, आकर्षित करना का, वशीभूत करने का गुण धारण कर लेता है, किसी भी देवी, देवता या देवगण को प्रत्यक्ष उपस्थित कर सकता है; जो खुद मृत हो कर दूसरों को जीवन देता है, अर्थात भस्म  के रूप में या अपने आप की गति को बद्ध कर स्वयं की उर्जा स्वयं के लिए ना उपयोग कर अपने साधक को प्रदान कर नूतन जीवन प्रदान करता है, जो खुद ही मूर्छित हो कर अर्थात अपनी गति, मति को रोक कर ठोस रूप बन कर विविध गुढ़ ज्ञान का साधक को प्रदान करता है ऐसे दुर्लभ तथा रहस्यमय पारद की प्राप्ति कोन ज्ञानी नहीं करना चाहेगा?”

इस  देव दुर्लभ पारद सौंदर्य कंकण के   कुछ गुण और लाभ आप सभी के लिए ..इस  प्रकार से  हैं .
·      उन्होंने  इस  कंकण की विशेषता   बताते  हुये कहा  की   सबसे पहले   तो  यह की तंत्र कौमुदी मे आये   हुये   यक्षिणी सायुज्ज्य  गुटिका   की जगह इस  पारद सौंदर्य   कंकण का  प्रयोग किया  जा सकता  हैं .हालाकि  उस  गुटिका के  अन्य प्रयोग भी हैं .और वह बहुत अधिक मूल्यवान भी हैं .पर उसके  लाभ इस  कंकण से भी  प्राप्त किये जा सकते   हैं .... और जब बात सौंदर्य तथा श्रृंगार की हो तो पारद सिद्ध सौंदर्य कंकण का उल्लेख अनिवार्य ही है. इसी गुटिका को पारद सिद्ध सौंदर्य कंकण, रस सिद्ध सौंदर्य कंकण या रसेंद्र सौंदर्य कंकण कहा गया है, दूसरी गुटिकाओ के मुकाबले भले इस गुटिका में लागत कम लगती है लेकिन इसका महत्त्व और साधनात्मक उपयोगिता को ज़रा सा भी कम आँका नहीं जा सकता.
·       सौंदर्य कंकण पारद गुटिकाओ की श्रेणी में एक अति विशेष गुटिका है जिसका आकार बड़ा नहीं होता है, लेकिन जिसके ऊपर कई प्रकार के प्रयोग सम्प्पन किये जा सकते है. मूलतः यह सौंदर्य तथा आकर्षण गुटिकाओ के अंतर्गत है. सौंदर्य का अर्थ यहाँ पर मात्र व्यक्ति के सौंदर्य से नहीं बल्कि व्यक्ति के पूर्ण जीवन तथा उससे सबंधित सभी पक्षों के सौंदर्य से है तथा आकर्षण का भी अर्थ यहाँ पर देह से निसृत होने वाले आकर्षण मात्र से ना हो कर किसी भी व्यक्ति या देवयोनी के आकर्षण से भी है. अगर व्यक्ति अपने जीवन में ऐसी आकर्षण क्षमता को प्राप्त कर ले की देवता भी उससे आकर्षित होने लगे फिर जीवन में रस उमंग तथा सुख भोग होना तो स्वाभाविक है.
·      साथ ही साथ  यह  अपने आप मे एक पारद शिवलिंग का भी कार्य करेगी .यह सही हैं  की एक पूर्ण  पारद शिवलिंग एक पारद शिवलिंग ही हैं .पर इसका  उपयोग भी   उस  तरह से किया जा सकता  हैं .
·      सौंदर्य कंकण के बारे में जैसे  कहा गया है, वह पूर्ण आकर्षण क्षमता से युक्त होता है. अतः किसी भी व्यक्ति विशेष के आकर्षण प्रयोग को इस गुटिका के सामने करने पर उसका विशेष प्रभाव होना स्वाभाविक है. साथ ही साथ किसी भी देवी तथा देवता की साधना में इस गुटिका का होना सौभाग्य सूचक है क्यों की तीव्र आकर्षण क्षमता के माध्यम से यह किसी भी देवी तथा देवता का भी यह गुटिका आकर्षण कर सकती है.
·      या किसी भी प्रकार के काम्य चाहे वह धनप्राप्ति हो या फिर घर में सुख शांति से सबंधित प्रयोग हो, काम्य प्रयोग का अर्थ ही होता है की गुढ़ शक्ति का आकर्षण कर के साधना में अभीष्ट को प्राप्त करना या मनोकामना को पूर्ण करना, अगर ऐसे किसी भी प्रकार के काम्य प्रयोग में इस गुटिका का उपयोग किया जाए तो अर्थात गुटिका को रख कर मंत्र जप किया जाए तो प्रयोग में जिस शक्ति का प्रभाव है, उस पर आकर्षण होता है तथा मंत्र का प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है. अभीष्ट की प्राप्ति की संभावना अति तीव्र हो जाती है.
·      इसी प्रकार किसी भी वशीकरण साधना में भी इस गुटिका को अपने सामने स्थापित करने पर साधक को निश्चय ही लाभ प्राप्ति की और छलांग लगाता है.
·      किसी भी प्रकार की सौंदर्य साधनाओ में यह देव योनी के साक्षात्कार में साधक को पूर्ण सहयोग प्रदान करती है. अप्सरा, यक्षिणी, किन्नरी, गन्धर्वकन्या आदि की साधना चाहे वह उनके प्रत्यक्ष साहचर्य के लिए हो या फिर उनके माध्यम से अप्रत्यक्ष रूप से धन, ऐश्वर्य, भौतिक उन्नति को प्राप्त करना, दोनों ही रूप में सौंदर्य कंकण साधना... साध्य अप्सरा यक्षिणी या दूसरी योनी के प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से साधक को तीव्रतम रूप से निकट लाने के लिए कार्य करता है.
·      इस गुटिका में प्रतिष्ठा तथा स्थापन संस्कार शिव शक्ति सायुज्ज मंत्रो के माध्यम से किया जाता है. अतः मूल रूप से यह शिव तथा शक्ति का समन्वित स्वरुप ही है इस लिए इस पर किसी भी प्रकार की कोई भी शिव अर्थात कोई भी देवगण या देवता की साधना और कोई भी शक्ति साधना की जा सकती है. इसके अलावा इस गुटिका का सबंध चक्र देवताओं के साथ है, कुण्डलिनी से सबंधित साधनाओ को इस कंकण के सामने करने से निश्चय ही कई साधक के लाभों में वृद्धि होती ही है.
·      वैभव प्राप्ति से सबंधित विशेष लाभ प्राप्त करने के लिए जिन साधनाओ का उल्लेख होता है वे कुबेर साधना, इंद्रसाधना, अष्टलक्ष्मी साधना जेसे प्रयोग इस कंकण के सामने करने पर साधक को लाभ तीव्रता से प्राप्त होता है क्यों की कोषाध्यक्ष तथा देवराज स्थापन प्रक्रिया जेसी गुढ़ क्रियाए इस गुटिका पर प्राणप्रतिष्ठा के समय ही संम्पन की जा चुकी होती है.
·      इस गुटिका की सब से बड़ी विशेषता यह भी कही जा सकती है की यह गुटिका साधक को कोई भी देवी देवता से सबंधित कोई भी प्रयोग को करने पर साधक की सफलता की संभावनाओं तीव्रता पूर्वक बढ़ा देता है.
·      लेकिन साथ ही साथ एक विशेष तथ्य यह भी है की साधक इसके माध्यम से जीवन भर लाभ उठा सकता है, इसको प्रवाहित या विसर्जित करने की आवश्यकता नहीं होती. या ऐसा भी नहीं है की किसी एक निश्चित योनी, या देवी देवता की ही साधना इस गुटिका पर हो सकती है.
·      अगर साधक यक्षिणी साधना कर रहा है तब भी इस गुटिका का उपयोग वह कई कई बार अलग अलग यक्षिणी साधनाओ के लिए कर सकता है.
·      सौंदर्य कंकण के बारे में ऊपर जितने भी तथ्य है वह चुने हुवे मुख्य तथ्य ही है, इसके अलावा भी इसके कई कई लाभ साधक को नित्य जीवन में प्राप्त होते रहते है, गृहस्थ सुख, कार्य क्षेत्र में अनुकूलता, व्यापर आदि में उन्नति इत्यादि कई प्रकार से यह गुटिका साधक को लाभ प्रदान करने में समर्थ है.
·      निश्चय ही ऐसे कई रहस्यमय पदार्थ इस श्रृष्टि में है जिसके माध्यम से व्यक्ति अपने जीवन को उर्ध्वगामी बनाने के प्रयासों में देव बल तथा देव योग को जोड़ कर उसी कार्य को तीव्रता के साथ सम्प्पन कर लाभ को प्राप्त कर सकता है. पारद से सबंधित सभी गुटिकाओ की अपनी अपनी विशेषता तथा महत्त्व है हालाँकि उनके महत्त्व को शब्द के माध्यम से अभिव्यक्ति कितनी भी की जाए कम ही पड़ती है.

पारद सिद्ध सौंदर्य कंकण के बारे में अप्सरा यक्षिणी साधना पर एक दिवसीय सेमीनार में कुछ चर्चा हुई थी तथा इसके रहस्यमय तथा गुढ़ पक्ष और क्रम के बारे में कुछ तथ्यों के सभी भाई बहिनों  के सामने रखा था.
 और  यह  कंकण केबल मात्र   उस सेमीनार मे भाग लिए  हुये   व्यक्तियों के लिए   ही  उपलब्ध रही .बाद मे  अनेको भाई बहिनों ने इस दुर्लभ  सौंदर्य  कंकण को कैसे प्राप्त किया   जा  सकता  हैं उसके लिए लिखा पर हमारे द्वारा  इस विषय मे  मौन ही रखा गया .क्योंकि .यह तो  अति विशिष्ट स्तर की गुटिका/कंकण  के लिए जब तक सदगुरुदेव जी के सन्याशी  शिष्य शिष्याओ  द्वारा  अनुमति  नही मिल जाये की.. सभी को उपलब्ध कराई जा सकती हैं .हम कैसे   अपनी ओर  से   कुछ भी कह सकते  हैं .
और   जिन भी भाई बहिनों ने जो  इस सेमीनार मे भाग नही ले पाए हैं,उन्होंने  इसमें  प्रकाशित  होने वाली   किताब “अप्सरा  यक्षिणी  रहस्य  खंड “  को    प्राप्त किया  हैं  हम उन्हें भी यह गुटिका   उपलब्ध नही करा पाए हैं .हालाकि उन सभी ने यह लिखा था  की   वे किसी भी कीमत पर  इसको प्राप्त करना चाहेंगे .
पर  यहाँ  बात कीमत  की नही बल्कि अनुमति  की हैं .
यहाँ  सौंदर्य कंकण  की कीमत  पारद की अन्य गुटिकाओ की कीमत  की तुलना  मे बहुत  कम हैं .और .यह हमारा सौभाग्य  हैं की जिन्होंने   भी   इसके बारे मे पढ़ा हैं, या सुना हैं. या जो भी इसको प्राप्त करना  चाहते हैं,उनके लिए  यह एक अवसर हैं  की इस  देव दुर्लभ  गुटिका   को प्राप्त कर सकते  हैं .
क्योंकि इसके लाभ  से आप अवगत हो ही चुके हैं .यह  सिर्फ इसलिए  उपलब्ध  हो पा रही हैं  की वस्  इसे  सौभाग्य  कहा जा सकता  हैं .
आप मे से  जिन को भी यह  गुटिका प्राप्त करना हो ..जिनको भी अप्सरा  यक्षिणी  साधना मे पूर्णता  प्राप्त करना हो  उसमे  यह सहयोगी कारक  कंकण ..और जो भी  ऊपर बताये लाभों को प्राप्त करना   चाहते   हो उन्हें  यह अवसर  का लाभ उठाना  ही चाहिये .
क्योंकि इस  तरह से  संस्कार युक्त कोई भी पारद विग्रह प्राप्त करना  अपने आप मे  भगवान शंकर  का मानो घर पर स्थापन और पारद मे  स्वत ही लक्ष्मी तत्व रहता  हैं, उस लक्ष्मी तत्व का आपके घर पर  स्थापन हैं और साधना समय मे  एक इस तरह के  उच्च कोटि का  पारद  कंकण आपके सामने   रहेगा  तो स्वत ही  आपके   अंत: शरीर मे    सूक्ष्म परिवर्तन प्रारंभ होने लगेगे, जो की ...या जिनका   प्रारंभ होना  मानो जीवन  मे साधना सफलता  के लिए  एक द्वार  सा खुल जाना  हैं .
अतः  अब और अधिक क्या लिखा जाए .सिर्फ इतना  ही की ...जो समझदार हैं , ज्ञानवान हैं, प्रज्ञा सम्पन्न हैं, समय का मूल्य जानते  हैं,उनके लिए तो इशारा काफी हैं .शेष जो अतिबुद्धिमान  हैं ..उन्हें क्या  और लिखा जाए ..
आप मे से जो भी इस  गुटिका  को प्राप्त करना चाहे वह nikhilalchemy2@yahoo.com  पर   इ मेल कर और भी जानकारी ले  सकते  हैं .हाँ  इ मेल के  विषय मे ...पारद  सौंदर्य कंकण  अवश्य लिख दे ..      

****NPRU****

1 comment:

RAVI SATYADARSHI said...

Dear Arif bhaiya. I m ravi from Noida(Computer engineer). As per the post where u have mentioned that those 'Yantra and Mala' orr whatever equipment for sadhnas will be available to only those people who took part in the seminar organised by u in bhopal. my question is that - if i haven't took part in that seminar then it doesn't mean that i have no right to get those stuffs as i m also your gurubhai and sisya of same Gurudev. I m strongly devoted to these sadhnas but due to lack of time or leave i cudn't participate in those seminar. So i request you not to forgot me as i m also your younger brother. so plz guide me in sadhnas. and i also need those stuff required for the sadhnas. If you find me satisfactory or if i fulfill your criteria then drop me a email. Waiting for your reply....


Your gurubhai

Ravi Satyadarshi,Noida