There was an error in this gadget

Monday, October 8, 2012

TIBBATI SAMPOORN SAABAR LAKSHMI VASHIKARAN VIDHAAN





Shree Lakshmujaatam Hi Sansaaram Tasmin Sati Jagattrayam |
Tasmin Kseene Jagat Ksheenam Tachichakitsayam Prayatntah ||

“Entire world is sphere of work of Shree Lakshmi. Emergence of it gives birth to all three worlds and its vanishing leads to disappearance of world. Therefore, it should be our endeavour to attain it or in better words, we should think of attaining it by right means”

Line said above signifies the reality based on which entire world is operational. Today utility of wealth cannot be ignored.

During my research on Para Science, with blessings of Sadgurudev, I got introduced to various sadhaks and their padhatis. I tried to understand and imbibe those points to the best of my capability which I got from those saints. I was fortunate to see one special yantra with one sadhak during my journey to Arunachal Pradesh. After my Diksha, my field of world had become North-East India. I got the knowledge of Parad Vigyan, Ayurveda, Intense Tantra and infallible secrets of Shaakt Padhatis from a particular place situated in this direction. Especially the liveliness and procedure if Kaul Maarg which I experienced and witnessed, I could not see in any other state.

Well, the yantra which I am talking about, that yantra was with swami (master) of Bodhmath Ashram, Shri Taranath Ji. And I went there with the instruction of Shree Kaalidutt Sharma Ji. He had told me to go there once and experience the specialty of that yantra. And in this curiosity, I reached the Ashram after intense search. When I told Swami Ji about my aim of visit and gave the letter of Sharma Ji, he felt very happy.

During dinner time, I got plenty of food in that small hut where there was no servant or any other arrangement. I enjoyed hot chapatti made up of wheat, my favourite vegetable and rice and various dishes that night even though in that particular region neither wheat is grown the most nor I saw many fruits in my way. There was one Baajot lying to the left of the Baajot of Swami Ji and swami ji kept one empty plate and bowl on it and covered it with red silky cloth. He recited one particular mantra and lighted one oil lamp in the front of that Baajot. After some time, when he uncovered that plate, the plate contained hot food.

After hearty dinner, I sat near Swami Ji and initiated the discussion of that yantra regarding which Sharma Ji had told me. As I started discussion on yantra, Swami ji laughed and told that the dinner which you had just now, just think how could you have had such dinner in this uninhabited area , I get this food due to this yantra only.

I felt ashamed and apologised and expressed my desire to know about this yantra in detail. Then he told me that no one can tell you better regarding it except Sadgurudev. Some more persons also do have its information and they have taken complete benefit out of this yantra in their life. When I asked whether I can meet any of them, then he told me the name of Shri Arun Kumar Sharma Ji. He also told me about the yantra and procedure of making it.

When I asked Sadgurudev about that yantra then he told that basically “This is a Sabar Yantra whose Vidhaan reached Tibet from India and there its complete procedure is also in vogue. The manner in which Shri Yantra is considered to be powerful medium of financial progress and fulfilment of desire, in the same manner this sabar yantra is considered to be infallible means for attainment of instantaneous wealth, binding Lakshmi and riddance from poverty in Tibet. Through this yantra, even the age-old poverty is eradicated. Sabar Mantras are many times faster as compared to Vedic and Tantric mantra. Desires are fulfilled in it by establishing control over shaktis representing ether Shakti whereas in case of Vedic sadhna and mantra, works are accomplished by the blessing of merely Dev Shaktis. Though many other Shaktis are also formed from those elements from which these Dev categories has been formed. In case of Sabar Vidhaan, these shaktis can be made favourable by mantra power and made to successfully carry out the work more easily”.

On this yantra, prayogs can be done in three ways.

Saumya Padhati
Tantric Padhati
Teevr (Intense) Saabri Padhati.


 Results obtained are different in all three padhatis because sadhna procedure of each padhati is different from other and different sadhna articles are used in each of them.

Even getting material from Shunya (Shunya Siddhi), manifestation of Shakti and motion in accordance with mind is also possible at very high level and doing sadhna with Teevr Kram. But they are not our aim right now. We will not discuss any such Vidhaan here because it is not our priority. Here the motive is to attain financial independence and progress by which we can get rid of financial limitations. Rather than dying each moment, it is better to completely uproot the poverty so that your next generation can see the stability of Shree Lakshmi in their life by doing right deeds and use this wealth as per their wish.

It is said also that person suffering from poverty dies each and every moment.

   
What can be more sorrowful than not able to arrange enough money for the progress and development of one’s own children and brothers and sisters…
What can be more compelling than seeing family members suffering and not able to arrange enough money for their treatment……
What can be more curse than not able to fulfil small-2 desires of children due to financial weakness…..
In spite of being blessed with so many qualities, not able to materialise the thought plans just because of shortage of money. What can be more painful than this……?
Starting business after taking debt and still no customers comes to your place….. Then what can be bitter poison than seeing that debt and the dream getting broken into pieces…
Some of your own has taken your money by emotionally fooling you or cheating you and is not returning it back…..what can be more misfortune than this

Late Arun Kumar Sharma Ji had lot of affection for me and I often used to attain knowledge of hidden Vidhaans and secrets from him. In this sequence , he told me about this yantra that “ though there are many prayogs mentioned in Shastra for getting riddance from poverty and attainment of wealth but doing them is playing with problems only due to non-availability of sadhna articles, absence of accurate Vidhaan and Sadhan, strict rules and lengthy Vidhaans. But in such a situation it is much easier and fruitful to do Vidhaan related to TIBBATI SAMPOORN SAABAR LAKSHMI VASHIKARAN MAHAYANTRA for business, job and financial well-being.

Writing on and Praan Pratishtha Vidhaan of this yantra, made by combination of numbers and letters is very effective and hidden. And till today whosoever has completely utilised this yantra, that person has not felt any need to look back and has become financially stronger and progressed ahead….To fulfil the dream of Sadgurudev not only body and mind are required but also accurate proportion of money is also required. Not only Sadgurudev’s dream, but even one’s own dream cannot be fulfilled in scarcity of money. I have done this prayog and reaped the complete benefits out of it.And my temptation behind putting this in front of brothers and sisters is that they should also become financially strong , fulfil their own dreams and do Guru Work.
 

Praan-Pratishtha (Energising) of this yantra demands a lot of hard-work because firstly Vidhaan to energise it is of Sabar Maarg. Secondly every yantra has to be energised separately. Thirdly the procedure of instilling consciousness to each yantra and chanting mantra while showing some hidden mudras are done in front of some particular yantra seperately.Thus it is natural for it to consume a lot of hard-work. …..But when you all will attain success in its related prayog, I will get remuneration of my hard-work in your happiness.

This yantra is gift from “Nikhil Para Science Research Unit” (NPRU) to all those brothers and sisters who wants to attain finance base and strength in  their life, who do not want to live a life deprived of money…., and I made this promise to all in “Yakshini Apsara Seminar”. I can say with certainty that using this yantra and its Vidhaan will make your fortune favourable …….along with fourfold rise in your business, job, it will also show the new path for the appropriate entry of money

One may probably face failure in other Vidhaans, but this sabar Vidhaan is very special in itself. Accomplishing this yantra is very simple…..only 34 days, daily poojan by household articles and daily chanting 1 round of mantra in night, 34 oblation of Kheer and ghee……and after that only establishment of yantra. Some precautions needs to be taken care of, they will be enclosed with Vidhaan. Follow them and take benefits of yantra.

You all can send mail to Anurag Singh Gautam Bhai(nikhilalchemy2@yahoo.com) for getting this yantra. Please keep in mind that by sending mail to me or any other person; you will only waste your time. Along with yantra, its prayog Vidhi will be sent.  Remember that yantra and its Vidhaan in combination completes the entire procedure. Therefore, neither you can give this yantra to anyone once you have touched it nor you can give it without permission. I have made available this valuable Sadhan Kriya to you all after taking permission only….Thus please keep in mind the directions necessarily otherwise you will be responsible for occurrence of any loss.

This Vidhaan and yantra are for your dreams and home….there is no place for illogical argument. Passing illogical arguments is just wastage of one’s own and our time……Due to scarcity of time, I could make available only very less number of yantra after accomplishing them. Thus, the yantra will be made available to only those who will send the mail first. You need not to pay even one paisa for getting this yantra. Yantra will be sent through registered post. If now also, we do not follow the path of sadhna and curse our fate then nobody else but we ourselves will be responsible for it.
  
“Nikhil Pranaam”

================================================
श्री लक्ष्मीजातं हि संसारं तस्मिन् सति जगत्त्रयम् |
तस्मिन् क्षीणे जगत् क्षीणं तच्चिकित्सयं प्रयत्नतः ||  
श्री लक्ष्मी का कार्य यह संसार है.इनके आविर्भाव से ही तीनों जगत की उत्पत्ति होती हैं और इनका तिरोभाव होने पर जगत का अभाव हो जाता है.इसलिए प्रयत्न कर उन्ही की प्राप्ति का या ये कहें की सद्प्राप्ति का विचार करना चाहिए.”
उपरोक्त पंक्तियाँ प्रतीक हैं उस सच्चाई का जिसके धरातल पर समग्र विश्व गतिशील है. आज धन की उपयोगिता को नकारा नहीं जा सकता है.
 पराविज्ञान पर शोध के मध्य सदगुरुदेव के आशीर्वाद से मेरा परिचय और सम्बन्ध विविध साधकों और उनकी पद्धतियों से हुआ.अपने सामर्थ भर मैंने उन सूत्रों को आत्मसात करने और समझने का प्रयास भी किया जो मुझे उन मनीषियों से प्राप्त हुए थे. ऐसे ही एक साधक के पास मुझे एक विशेष यन्त्र को देखने का सौभाग्य मिला,जब मैं अपनी अरुणाचल प्रदेश की यात्रा पर था. अपनी दीक्षा के बाद से मेरा कार्य क्षेत्र एक प्रकार से उत्तरपूर्व भारत ही हो गया था. पारद विज्ञान,आयुर्वेद,तीव्र तंत्र और शाक्त पद्धतियों के अचूक रहस्यों का ज्ञान मुझे इसी दिशा के स्थान विशेष से हुआ.खास तौर पर कौल मार्ग की जो सजीवता और क्रिया मैंने यहाँ अनुभव की और साक्षी रहा,वे कदापि किसी अन्य प्रदेश में मुझे देखने को नहीं मिली थी.
 खैर जिस यन्त्र की मैं बात कर रहा हूँ,वह यन्त्र मुझे बोधमठ आश्रम के स्वामी श्री तारानाथ जी के पास था.और श्री कालीदत्त शर्मा जी के निर्देश पर मैं वहाँ गया था.उन्होंने मुझसे कहा था की एक बार तुम जाकर उस यन्त्र की विशेषता अवश्य अनुभव करना. और उसी उत्सुकता में मैं उस आश्रम को ढूँढता ढूँढता पंहुच गया.जब मैंने स्वामी जी को अपने आगमन का उद्देश्य बताया और शर्मा जी का पत्र दिया तो वे बहुत प्रसन्न हुए.

  रात्रिकाल में भोजन के समय उस छोटी सी कुटिया में जहाँ कोई सेवक और व्यवस्था नहीं थी,मुझे भरपूर भोजन की प्राप्ति हुयी.जबकि उस क्षेत्र विशेष में ना तो गेंहू की ही विशेष पैदावार होती है और ना ही विविध फल ही मुझे राह में दिखाई पड़े थे.फिर भी गेंहू की गरमागरम रोटी,मेरी मनपसंद सब्जी,पसंदीदा चावल और कई पकवानों का स्वाद मैंने उस रात्री को उस स्थान पर लिया. स्वामी जी के बाजोट के बाएं तरफ एक ओर बाजोट रखा हुआ था,और स्वामी जी नें उस पर बाजोट पर खाली थाल और कटोरी रख दी थी और उसके ऊपर लाल रेशम का वस्त्र  ढांक दिया था,और किसी मंत्र विशेष का उच्चारण करते हुए उन्होंने एक तेल का दीपक उस थाली वाले बाजोट के सामने प्रज्वलित कर दिया था.थोड़ी देर बाद जब उन्होंने उस वस्त्र को उस थाल के ऊपर से उठाया तो उसमें गरमागरम भोजन मौजूद था.
  भरपेट खाने के बाद मैं स्वामी जी के पास बैठ गया और उनके सामने मैंने उस यन्त्र की चर्चा छेड़ दी जिसके बारे में मुझे शर्मा जी ने बताया था.जैसे ही मैंने यन्त्र की बात की स्वामी जी ठठाकर हंस पड़े और कहा की अरे अभी जो तुमने भोजन किया है,वो भोजन भला इस वीराने में किस दुकान पर मिलता,वो भोजन उसी यन्त्र के प्रताप से मुझे मिल जाता है.
मैंने शर्मिन्दा होकर उनसे क्षमा मांगी और विस्तार से उस यन्त्र के बारे में जानने की इच्छा प्रकट की.तब उन्होंने मुझे कहा की इस बारे में तुम्हे सदगुरुदेव से बेहतर और कोई नहीं बता सकता है,हाँ इसकी जानकारी और भी कुछ लोगों को है और उन सभी लोगो ने इस यन्त्र का लाभ अपने जीवन में पूरी तरह से उठाया भी है.मेरे ये पूछने पर की क्या उनमें से किसी से मैं मिल सकता हूँ उन्होंने श्री अरुण कुमार शर्मा जी का नाम बताया. और साथ ही यन्त्र और उसकी निर्माण विधि को भी उन्होंने समझाया.
  
 जब मैंने सदगुरुदेव से उस यन्त्र के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया की मूलतः “ये साबर यन्त्र है,जिसका विधान भारत से होकर तिब्बत तक पंहुच गया और वहीँ पर इसकी पूर्ण विधि भी प्रचलित है.जिस प्रकार श्रीयंत्र आर्थिक उन्नति और मनोकामना पूर्ती का सशक्त माध्यम माना गया है,वैसे ही ये साबर यंत्र लक्ष्मी की अकस्मात प्राप्ति,लक्ष्मी का बंधन और दरिद्रता निवारण का तिब्बत में अचूक उपाय माना जाता रहा है, इस यन्त्र के द्वारा जन्म जन्मान्तर की दरिद्रता का नाश किया जाता है.साबर मन्त्र वैदिक मन्त्रों और तांत्रिक मन्त्रों की अपेक्षा कई गुना अधिक तीव्र होतें है.ईथर शक्ति का प्रतिनिधित्व करने वाली शक्तियों को वश में करके उनसे अपनी मनोकामना की पूर्ती की जाती है.जबकि वैदिक साधना और मंत्र मात्र देव शक्तियों का अनुग्रह प्राप्त कर कार्य संपादित करते हैं.जबकि इसी ब्रह्माण्ड में उन्ही तत्वोव से अन्य शक्तियां भी निर्मित होती हैं,जिनसे देव वर्ग की निर्मित्ति संपन्न हुयी है.साबर विधान में उन्ही अन्य शक्तियों को मंत्र बल से अनुकूल कर कहीं अधिक सहजता से कार्य को सफलता पूर्वक संपादित करवाया जा सकता है.”
इस यन्त्र के ऊपर तीन प्रकार से प्रयोग संपादित किये जा सकते हैं-
सौम्य पद्धति से
तांत्रिक पद्धति से
तीव्र साबरी पद्धति से
  
तीनों पद्धतियों से प्राप्त परिणाम भिन्न भिन्न होते हैं,क्यूंकि प्रत्येक पद्धति की साधनक्रिया दूसरी पद्धति से भिन्न होती है,और भिन्नता होती है उनकी साधना सामग्री में भी.

   अति उच्चावस्था और तीव्र क्रम से साधन क्रिया करने पर शुन्य से पदार्थ प्राप्ति,शक्ति का प्रत्यक्षीकरण और मनोनुकूल गमन भी संभव है,किन्तु यहाँ हमारा अभीष्ट ये नहीं है.और ना ही हम उस पर या उस विधान पर कोई चर्चा ही करेगे,क्यूंकि वो हमारी प्राथमिकता नहीं है यहाँ हमारा अभीष्ट है,उस आर्थिक स्वतंत्रता और उन्नति को पाना जिसके द्वारा आर्थिक अभाव को हमारे जीवन से कोसों दूर किया जा सके,तिल तिल कर मरने से कहीं बेहतर हैं दरिद्रता का समूल नाश ताकि आपके बाद आपकी आने वाली पीढियां भी सुकर्म करते हुए अपने जीवन में श्री लक्ष्मी का स्थायित्व देख सकें और उसका मनोनुकूल उपभोग कर सकें.
  
 वैसे भी कहा जाता है की दरिद्रता से ग्रस्त और अभिशप्त व्यक्ति हर पल मरते जाता है.

अपनी संतान या भाई बहनों के जीवन विकास हेतु समुचित अर्थ की व्यवस्था ना कर पाने से बड़ा दुःख और क्या है......
अपने परिवार के सदस्यों को रोगग्रस्त होकर तडपते देखने से और उनके उपचार हेतु उचित आर्थिक प्रबंध ना कर पाने से अधिक विवशता क्या हो सकती है.......
अपने बच्चों की छोटी से छोटी इच्छा को  आर्थिक कमजोरी के कारण पूरा ना कर पाने से अधिक बड़ा श्राप क्या हो सकता है.......
गुणों की खान होने के बाद भी मात्र धन की कमी के कारण अपनी वैचारिक योजनाओं को साकार ना कर पाने से बड़ी पीड़ा क्या हो सकती है......
कर्ज लेकर व्यवसाय प्रारंभ करने पर भी आपकी तरफ ना तो ग्राहक ध्यान देता हो और ना ही धन....तब ऐसी स्थिति में वो कर्ज और उसे लेने के पीछे देखे गए सपने को चूर चूर होते देखने से बड़ा जहर क्या हो सकता है.......
आपका  अपना धन आपका कोई अपना ही आपको भावुकता के सागर में बहाकर या धोखा देकर हड़प लिया हो और वापस ना कर रहा हो..इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या हो सकता है.....
  स्वर्गीय अरुण कुमार शर्मा जी का मुझसे बहुत स्नेह था और अक्सर मैं उनसे गुप्त विज्ञानों और रहस्यों का ज्ञान प्राप्त किया करता था,इसी क्रम में इस यन्त्र के बारे में उन्होंने मुझे बताते हुए कहा था की “वैसे शास्त्रों में दरिद्रता निवारण और धन प्राप्ति के विविध प्रयोग हैं,किन्तु साधना सामग्री की अनुपलब्धता, साधन और उचित विधान की कमी तथा कठोर नियमों और लंबे विधानों के कारण उन्हें संपन्न करना मानों जटिलताओं से दो दो हाथ करना ही है. किन्तु ऐसी स्थिति में व्यवसाय,नौकरी और आर्थिक सुदृणता प्राप्ति के लिए तिब्बती सम्पूर्ण साबर लक्ष्मी वशीकरण महायंत्र और उससे सम्बंधित विधान को करना कही ज्यादा आसान और सफलता प्रदायक है.”
  
  अंकों और शब्दों के संयोजन से निर्मित इस यन्त्र का अंकन और प्राण प्रतिष्ठा विधान अत्यंत प्रभावकारी और गुप्त है,तथा आज तक जिसने भी इस यन्त्र का पूर्ण प्रयोग किया है,उसे अपने जीवन में फिर कभी पीछे मुड़कर देखने की आवशयकता महसूस नहीं हुयी और वो आर्थिक रूप से मजबूत होकर आगे बढ़ता चला गया.. सदगुरुदेव के स्वप्न को पूर्ण करने के लिए मात्र तन और मन की आवश्यकता ही नहीं है,अपितु उचित परिमाण में धन का होना भी अनिवार्य है,और मात्र सदगुरुदेव के स्वप्न को [पूरा करने में ही क्यूँ,स्वयं के स्वप्न भी तो धन के अभाव में पूरे नहीं हो सकते हैं.मैंने इस प्रयोग को किया है,और पूरा लाभ पाया है,और अपने एनी भाई बहनों के समक्ष इसे रखने का मेरा लालच भी यही है की वे सभी भी आर्थिक रूप से मजबूत होकर अपने स्वप्नों को पूरा करते हुए गुरु कार्य कर सके.

  इस यन्त्र की प्राण प्रतिष्ठा में अत्यंत श्रम करना पड़ता है,क्यूंकि एक तो इसे प्राण प्रतिष्ठित करने का विधान साबर मार्ग का है,दुसरे हर यन्त्र की प्राण प्रतिष्ठा प्रथक प्रथक ही करनी पड़ती है,तीसरे हर यंत्र को चैतन्यता देने का कार्य और कुछ गोपनीय मुद्राओं का प्रदर्शन करते हुए मंत्र जप अलग अलग ही यन्त्र विशेष के सामने किया जाता है.अतः परिश्रम का आधिक्य होना स्वाभाविक ही है....किन्तु जब आप सभी इससे सम्बंधित प्रयोग कर सफलता प्राप्त कर लोगे तो मुझे मेरे परिश्रम का पारिश्रमिक आपके आह्लाद में मिल ही जाएगा.

   ये यन्त्र उन सभी भाई बहनों के लिए “निखिल पराविज्ञान शोध इकाई”(NPRU) की ओर से उपहार है जो अपने जीवन में आर्थिक आधार और मजबूती प्राप्त करना चाहते हैं,जो अब गिडगिडाते हुए धन के लिए तरस तरस कर जीवन नहीं जीना चाहते हैं.,और इसका वायदा मैंने “यक्षिणी अप्सरा सेमीनार” में सभी से किया था.हाँ मैं दावे से कह सकता हूँ की इस यन्त्र और उसके विधान का प्रयोग करने पर भाग्य आपको अनुकूलता देगा ही....आपके व्यवसाय,नौकरी में चतुर्मुखी उन्नति और गति के साथ साथ ये नवीन मार्ग भी प्रशस्त करेगा आर्थिकता के समुचित प्रवेश हेतु.

   अन्य विधानों में शायद विफलता का मुंह देखना फिर भी संभव होगा,किन्तु ये साबर विधान अपने आप में विलक्षण है,इसे यन्त्र के सामने सिद्ध करना बहुत ही आसान है..मात्र ३४ दिन,कुछ घरेलु सामग्री से नित्य पूजन और प्रतिदिन रात्रि में १ माला मंत्र जप,३४ आहुति घृत और खीर की...और उसके बाद मात्र यन्त्र स्थापन....कुछ सावधानियों का ध्यान रखना है,वो विधान के साथ ही संलग्न रहेंगी.आप उनका पालन कीजियेगा और यन्त्र का लाभ उठाइयेगा.

   आप सभी अनुराग सिंह गौतम भाई(nikhilalchemy2@yahoo.com) को इस यन्त्र की प्राप्ति हेतु मेल भेज दीजियेगा,ध्यान रखियेगा की मुझे या अन्य किसी भी मेल एड्रेस पर यन्त्र प्राप्ति के लिए मेल भेजने से मात्र आप अपना समय ही व्यर्थ करेंगे.यन्त्र के साथ ही आपको इसकी प्रयोग विधि प्रेषित कर दी जायेगी..याद रखियेगा की यन्त्र और उसका विधान मिलकर ही पूरी क्रिया होती है.अतः आप ना तो अपना यन्त्र किसी को एक बार स्पर्श करने के बाद दे सकते हैं ना ही बगैर अनुमति के इसका विधान मैंने इस हेतु अनुमति लेने के बाद ही इस बहुमूल्य साधन क्रिया को आप सभी के लिए उपलब्ध कराया है..अतः निर्देश का ध्यान अवश्य रखेंअन्यथा होने वाली हानि के जिम्मेदार आप स्वयं ही होंगे..

   ये विधान और यन्त्र मात्र आपके अपने स्वप्नों और घर के लिए है..कुतर्कता की यहाँ कोई जगह ही नहीं है. कुतर्क्ता मात्र अपना और हमारा समय व्यर्थ करने का कार्य है.. समय अभाव के कारण मैं बहुत कम यन्त्र सिद्ध करके उपलब्ध करा पाया हूँ,अतः जिस क्रम से मेल पहले आ जायेगी,मात्र ये उसे ही उपलब्ध करा पाएंगे.आपको इस यन्त्र की प्राप्ति हेतु १ पैसा भी नहीं देना है,रजिस्टर्ड डाक से ही यन्त्र निकाले जायेंगे.  यदि अब भी हमने साधना का मार्ग ना अपनाया और भाग्य को ही दूषण देते रहे तो जिम्मेदार कोई और नहीं हम स्वयं ही होंगे.

“निखिल प्रणाम”

****ARIF****

****NPRU****
   
   

15 comments:

Taiyakes said...

jai guru dev .. bhai will there be a english translation for this vidhaan

nitin kapoor nikhil said...

bHAIYA MUJHE BHI YEH YANTRA CHAHIYE

Himanshu Pandey said...

ncan anyone plzz tell me the email id of anurag singh gautam bhai
i will b very thankful

Anu said...

priy bhai ,

nikhilalchemy2@yahoo.com

par aap mail is yantra aur vidhan ko paan eke liye bhej sakte hain .
smile
anu

Yatin Dave said...

Jay Sadgurudev,

Kya main bhi yeh yantra aur vidhan pa sakta hun?

Pranam,
Yatin Dave

ANISH said...

ncan anyone plzz tell me the email id and mobile no.of anurag singh gautam bhai
i will b very thankful

Mitu Singh said...

namaskar ji mai mitu singh dob -13-12-1988/8.14pm...muje meri zidgi me kuch nai mila puja path karta hu koi sadna mujhe bhi batayiye na...plz meri help kar dijiye...chahe badle me meri umar le lo plz mitusigh838383@gmail.com

Mitu Singh said...

n

shaurabh mishra said...

bhai...
ye arun sharma ji wahi hai jo banaras me rahte the?

unhone mahakaal, mahapaatr etc books likhi hai?

its really nice to talk abt him sir

shaurabh mishra

manish said...

bhai jaigurudev. mujhe v ye yantra+ vidhaan chaahiye.is sambandh me 11 oct. n 25 oct. ko mail kiya tha lekin koi v reply aaj tak nahi mila.yadi sambhaw ho to kripaya bhej den. mera address- Manish Sekher(AdvocateHighCourt),At+PO-Zamania R.S.,Distt-Ghazipur,U.P.,Pin-232331, Mb. 09450718190.jaigurudev!

Gyanendra Sharma said...

jai guru dev plz muje bhi yantr + mantr deve

Gyanendra Sharma said...

Kya main bhi yeh yantra aur vidhan pa sakta hun?

5xXlVkIIuuqx.EeVoVfAjTcTWdrNoNfO6A-- said...

jai gurudev,
anuragji, mujhe yantra mil gaya hai kripya kar ke yantra ki vidhi or mantra ko mail kar dijye.

5xXlVkIIuuqx.EeVoVfAjTcTWdrNoNfO6A-- said...

jai gurudev,

anuragji mujhe yantra mil gaya hai ab kripya kar ke yantra ki vidhi mor mantra ko bhi mail kar dijye

Himanshu Pandey said...

i havent got the yantra
if possible plz send it at acehimanshu@yahoo.in