There was an error in this gadget

Thursday, October 11, 2012

TANTRA AUR PRET SIDDHI


                                                           

Universe spread all around us is not merely centre of air and smoke rather it contains such secrets and knowledge whose even one part if anyone understands, his life changes!!!! Because universal knowledge is not illusion rather it has been witness of construction and destruction of entire world millions of times. And as long as sequence of construction and destruction will go on, there will be an addition to universal knowledge…..but this knowledge cannot be obtained by books or by reading lengthy scriptures…though these scriptures helps us to understand this knowledge to some extent.

Almighty never hesitates to provides his knowledge provided one condition is satisfied that you are eligible. We can attain universal knowledge in two ways…..1) Aagam Level 2) Nigam Level!!!! Aagam is based on 64 types of tantric knowledge and Nigam is based upon Vedas…..Well Nigam Knowledge or Veda Shastras are not our subject here so let us talk about Tantra Knowledge which is also called secretive knowledge or Mystic Knowledge. Because tantra is not thought pattern to ponder upon or in other words it is not philosophy. It is 100% based on experiences.

When we talk about experiences then one sadhak experiences three types of experiences while doing sadhna-
1) In the first level of sadhna, he feels his own senses, which we usually understand as pain in hands and feet….inability to sit on aasan.
2) In the second level we experience that OTHER thing which we are accomplishing or whose aavahan is being done.
3) Lastly, one experiences that other-worldly almighty supreme power which we call as state of Samadhi.

But here we are talking about Pret Siddhi which is second-level experience. If you all remember that in last article we read that the lok in which pret resides is called Vaasna Lok and deeper will be the craving, more time it will take for soul to get riddance from Pret Yoni and attain astral body. Besides this, we also understood that the path through which prets and Pisaach comes to earth is called Maha Vaasna Path, which is unified with Mahadivyodh path at the centre of earth…….

But we have not understood the fact till now that why these two paths meet in the centre of earth, not anywhere else. Simple answer to this is that density of energy is maximum at centre of earth or in other words, gravitation power is maximum at centre of earth compared to any other place and due to this gravitation power only, Pret yonis are attracted towards earth.

Before understanding the Vidhaan of this prayog or doing this prayog, you have to keep in mind two very important things-
1) This sadhna is Pret manifestation sadhna. We all know this also that if we accomplish it after manifesting it, pret will follow our directions. But to make it do all this, your resolution should be strong. In other words, you have to sadhna whole heartedly because wherever you become weak, this sadhna will be finished at that particular moment…And one more thing that since these yonis are attracted towards you due to attraction of mantra, you should try as far as possible to use accomplished aasan for this prayog….because that aasan breaks your contact with gravitation pull of earth.
2) Very few among us know this fact that there is one moment in these 24 hours when our body experiences death. In other words this is moment when our all senses become weak and heart pulse stops……what is that moment and when it comes in day to day life, it is very advanced Vidhaan. But while doing this prayog, this moment will come when you will be at the verge of completion of sadhna. You have to understand that mute indication while establishing control over inner fear……..you have to recognise the existence of that thing which do not have any existence and hear its basic feet steps.
Vidhaan- Basically this sadhna is related to Mishrdaamar Tantra.
This prayog is done on midnight of any amavasya. In other words, it will be appropriate to do this sadhna between 11:30 to 3:00 in the night.
Dress and Aasan will be black.
Direction will be south.
Use of Veeraasan is much more beneficial.
As Naivedya, roast black til, mix them in honey and make them like a Laddu. Besides this, make an arrangement for Pakode or Bade made up of Udad (black gram) and keep them in leaf or clay bowl.
Lamp will be of mustard oil.
Only black cloth should be spread on Baajot and establish clay container on it in which yantra will be made.

Take bath in the night and sit on aasan in worship room. Perform Guru Poojan, Ganpati Poojan and Bhairav Poojan. Read Sadgurudev Kavach 11 times necessarily for security. Now make above-said yantra on that clay container with ring finger or iron-nail and make one circle of water on its four sides by reciting basic mantra i.e. sprinkle it.

And in the middle of yantra, establish one earthen or oil lamp having oil and light it. And the bhoga- container which can be any leaf-bowl or clay container, keep it in front of that plate. Now chant 5 rounds of below mantra by black Hakik or Rudraksh rosary. It may take approximately 3 hours for chanting of mantras.

In the middle of mantra Jap, one can feel rustle in room. Sometimes atmosphere become heavy, it can become gloomy. Sometimes, one can have heavy headache or stomach-ache and one may feel defecation or urination. One can hear the voice of strong stones falling on door or window but do not get distracted by them. Complete the mantra Jap once you have sat for sadhna since getting up even once will make this sadhna banned for you and you cannot accomplish this mantra again in future.

In the middle of Jap, one smoke-like figure is seen nearby you who at completion of Jap manifest itself. Then give him that Bhog-container and take promise that it will provide cooperation in your good deeds uptil 3 years. Then he will give you his own bracelet or piece of cloth and will become invisible. And whenever in future, you want to call him, recite the basic mantra 7 times at lonely place while touching that cloth or bracelet. He will do your work. Keep in mind that using it for harmful purpose will put you in danger. After Jap, Do guru Poojan etc. and get up. On the next day, except your dress and aasan immerse lamp, container, and Baajot cloth. Wash the room with clean water and sprinkle Ganga Water and show Guggal dhoop while reciting Nikhil Kavach.

Mantra:-

Iriyaa Re Chiriyaa, Kaalaa Pret Re Chiriyaa, Pitar Kee Shakti, Kaali Ko Gan, Kaaraj Kare Saral, Dhunva So Bankar Aa, Hawaa Ke Sang Sang Aa, Saadhan Ko Saakaar Kar, Dikhaa Apnaa Roop, Shatru Dare Kaanpe Thar Thar, Kaaraj Moro Kar Re Kaali Ko Gan , Jo Kaaraj Naa Kare Shatru Naa Kaanpe To Duhaai Maataa Kaalkaa Kee. Kaali Kee Aan.

I hope that your profitable and beneficial works will be successful by this non-harmful prayog. Leave fear and become fearless, I pray to Sadgurudev for all of you.

“Nikhil Pranaam”
===================================================
हमारे चारों ओर फैला ब्रह्मांड हवा और धुएं का केन्द्र मात्र नहीं है, अपितु इसमें निहित है ऐसे रहस्य और ऐसा ज्ञान जिसका अगर एक अंश मात्र भी यदि किसी की भी समझ में आ जाये तो उसकी जीवन धारा ही बदल जाती है!!!! क्योंकि ब्रह्मांडीय ज्ञान कोई कोरी कपोल कल्पना ना हो के इस समस्त चराचर विश्व की उत्पत्ति और विध्वंस का करोडों बार साक्षी बन चुका है और जब तक सृजन और संहार का क्रम चलता रहेगा इस ब्रह्मांडीय ज्ञान में इजाफा होता जायेगा.......पर यह ज्ञान हम किताबों से या बड़े बड़े ग्रंथो को पढ़ कर प्राप्त नहीं कर सकते...किन्तु यह ग्रंथ उस ज्ञान को कुछ हद तक समझने में हमारी संभव सहायता जरूर करते हैं.
 परमसत्ता अपना ज्ञान देने में कभी कोई कोताहि नहीं करती पर उसके लिए मात्र एक ही शर्त है की आप में पात्रता होनी चाहिए. ब्रह्मांडीय ज्ञान को हम दो तरह से अर्जित कर सकते हैं – १) आगम स्तर २) निगम स्तर !!!! आगम ६४ तरह के तांत्रिक ज्ञान पर आधारित है और निगम वेदों पर निर्भर करता है.....खैर निगम ज्ञान या वेद शास्त्र यहाँ हमारा विषय नहीं है तो हम बात करते हैं तंत्र ज्ञान की जिसे गुहा ज्ञान या रहस्यमय ज्ञान भी कहते हैं. क्योंकि तंत्र कोई चिंतन-मनन करने वाली विचार प्रणाली नहीं है या यूँ कहें की तंत्र कोई दर्शन शास्त्र नहीं है यह शत प्रतिशत अनुभूतियों पर आधारित है.
 अब जब अनुभूतियों की बात करते हैं तो एक साधक साधना करते समय तीन तरह की अनुभूतियों का अनुभव करता है
१) साधना के प्रथम स्तर पर उसे अपनी इन्द्रियों का बोध होता है जिसे हम ऐसे समझते हैं की हाथ पैर दुःख रहे हैं.....आसन पर बैठा नहीं जाता.
२) दूसरे स्तर पर हमें उस दूसरे की अनुभूति होती है जिसे हम सिद्ध कर रहे होते हैं या जिसका आवाहन किया जा रहा होता है.
३) अंतिम अनुभूति होती है उस अलौकिक, अखंड परम सत्ता की जिसे हम समाधि की अवस्था कहते हैं.
 पर यहाँ हम बात कर रहे हैं प्रेत सिद्धि की तो वो दूसरे स्तर की अनुभूति है. यदि आप सब को याद होगा तो पिछले लेख में हमने पढ़ा था की प्रेत जिस लोक में रहते हैं उसे वासना लोक कहते हैं और वासना जितनी गहन होगी उतना ही अधिक समय लगेगा आत्मा को प्रेत योनि से मुक्त हो के सूक्ष्म योनि प्राप्त करने में और साथ ही साथ हमने यह भी समझा था की इन प्रेतों और पिशाचों का भू लोक पर आने वाला मार्ग महावासना पथ कहलाता है किसका महादिव्योध मार्ग से एकीकरण पृथ्वी के केन्द्र में होता है.......
 पर हमने तब यह तथ्य नहीं समझा था की पृथ्वी के केन्द्र में ही यह दोनों मार्ग क्यों मिलते हैं कहीं और क्यों नहीं तो इसका एक सीधा सरल उत्तर यह है की भू के गर्भ में अर्थात उसके केन्द्र में ऊर्जा का घ्न्तत्व सबसे अधिक मात्रा में होता है या यूँ कहें की केन्द्र में कहीं ओर की तुलना में गुरुत्वाकर्षण की क्रिया सबसे ज्यादा होती है और इसी गुरुत्वाकर्षण की शक्ति के कारण ही प्रेत योनियाँ भू लोक की तरफ खींची चली आती हैं.
इस प्रयोग के विधान को समझने से पहले या ये प्रयोग करने से पहले आपको दो अति महत्वपूर्ण बातों को अपने ज़हन में रखना होगा –
१) यह साधना प्रेत प्रत्यक्षीकरण साधना है तो हम ये भी जानते हैं की यदि आपने उसे प्रत्यक्ष करके सिद्ध कर लिया तो वो आपके द्वारा दिए गए हर निर्देश का पालन करेगा किन्तु उससे यह सब करवाने के लिए आपको   अपने संकल्प के प्रति दृढ़ता रखनी पड़ेगी अर्थात आपको पूरे मन, वचन और क्रम से ये साधना करनी पड़ेगी, क्योंकि जहाँ आप कमजोर पड़े आपकी साधना उसी एक क्षण विशेष पर खत्म हो जायेगी......और हाँ एक बात और अब चूंकी ये योनियाँ मंत्राकर्षण की वजह से आपकी तरफ आकर्षित होती है तो यथा संभव कोशिश करें की यदि आपने आसन सिद्ध किया हुआ है तो आप उसी आसन पर बैठ कर इस प्रयोग को करें... क्योंकि वो आसन भू के गुरुत्व बल से आपका सम्पर्क तोड़ देता है.
२) हम में से बहुत कम लोग यह बात जानते है की दिन के २४ घंटों में एक क्षण ऐसा भी होता है जब हमारी देह मृत्यु का आभास करती है अर्थात यह क्षण ऐसा होता है जब हमारी सारी इन्द्रियाँ शिथिल हो जाती है और ह्रदय की गति रुक जाती है.... रोज मरा की दिनचर्या में यह पल कौन सा होता है और कब आता है यह तो बहुत आगे का विधान है पर इस प्रयोग को करते समय यह पल तब आएगा जब आप साधना सम्पूर्णता की कगार पर होंगे तो आपको उस समय खुद के डर पर नियंत्रण करते हुए उस मूक संकेत को समझना है......वो जिसका कोई अस्तित्व नहीं है उसके अस्तित्व को पहचानते हुए उसकी मूल पद ध्वनि को सुनना है.
विधान – मूलतः ये साधना मिश्रडामर तंत्र से सम्बंधित है.
अमावस्या की मध्य रात्रि का प्रयोग इसमें होता है,अर्थात रात्रि के ११.३० से ३ बजे के मध्य इस साधना को किया जाना उचित होगा.
वस्त्र व आसन का रंग काला होगा.
दिशा दक्षिण होगी.
वीरासन का प्रयोग कही ज्यादा सफलतादायक है.
नैवेद्य में काले तिलों को भूनकर शहद में मिला कर लड्डू जैसा बना लें,साथ ही उडद के पकौड़े या बड़े की भी व्यवस्था रखें और एक पत्तल के दोनें या मिटटी के दोने में रख दें..
दीपक सरसों के तेल का होगा.
बाजोट पर काला ही वस्त्र बिछेगा,और उस पर मिटटी का पात्र स्थापित करना है जिसमें यन्त्र का निर्माण होगा.
  रात्रि में स्नान कर साधना कक्ष में आसन पर बैठ जाएँ. गुरु पूजन,गणपति पूजन,और भैरव पूजन संपन्न कर लें. रक्षा विधान हेतु सदगुरुदेव के कवच का ११ पाठ अनिवार्य रूप से कर लें.
अब उपरोक्त यन्त्र का निर्माण अनामिका ऊँगली या लोहे की कील से उस मिटटी के पात्र में कर दें और उसके चारों और जल का एक घेरा मूल मंत्र का उच्चारण करते हुए कर बना दें,अर्थात छिड़क दें.
और उस यन्त्र के मध्य में मिटटी या लोहे का तेल भरा दीपक स्थापित कर प्रज्वलित कर दें.और भोग का पात्र जो दोना इत्यादि हो सकता है या मिटटी का पात्र हो सकता है.उस प्लेट के सामने रख दें.अब काले हकीक या रुद्राक्ष माला से ५ माला मंत्र जप निम्न मंत्र की संपन्न करें.मंत्र जप में लगभग ३ घंटे लग सकते हैं.
मंत्र जप के मध्य कमरे में सरसराहट हो सकती है,उबकाई भरा वातावरण हो जाता है,एक उदासी सी चा सकती है.कई बार तीव्र पेट दर्द या सर दर्द हो जाता है और तीव्र दीर्घ या लघु शंका का अहसास होता है.दरवाजे या खिडकी पर तीव्र पत्रों के गिरने का स्वर सुनाई दे सकता है,इनटू विचलित ना हों.किन्तु साधना में बैठने के बाद जप पूर्ण करके ही उठें. क्यूंकि एक बार उठ जाने पर ये साधना सदैव सदैव के लिए खंडित मानी जाती है और भविष्य में भी ये मंत्र दुबारा सिद्ध नहीं होगा.
   जप के मध्य में ही धुएं की आकृति आपके आस पास दिखने लगती है.जो जप पूर्ण होते ही साक्षात् हो जाती है,और तब उसे वो भोग का पात्र देकर उससे वचन लें लें की वो आपके श्रेष्ट कार्यों में आपका सहयोग ३ सालों तक करेगा,और तब वो अपना कडा या वस्त्र का टुकड़ा आपको देकर अदृश्य हो जाता है,और जब भी भाविओश्य में आपको उसे बुलाना हो तो आप मूल मंत्र का उच्चारण ७ बार उस वस्त्र या कड़े को स्पर्श कर एकांत में करें,वो आपका कार्य पूर्ण कर देगा. ध्यान रखिये अहितकर कार्यों में इसका प्रयोग आप पर विपत्ति ला देगा.जप के बाद पुनः गुरुपूजन,इत्यादि संपन्न कर उठ जाएँ और दुसरे दिन अपने वस्त्र व आसन छोड़कर,वो दीपक,पात्र और बाजोट के वस्त्र को विसर्जित कर दें. कमरे को पुनः स्वच्छ जल से धो दें और निखिल कवच का उच्चारण करते हुए गंगाजल छिड़क कर गूगल धुप दिखा दें.
मंत्र:-
 इरिया रे चिरिया,काला प्रेत रे चिरिया.पितर की शक्ति,काली को गण,कारज करे सरल,धुंआ सो बनकर आ,हवा के संग संग आ,साधन को साकार कर,दिखा अपना रूप,शत्रु डरें कापें थर थर,कारज मोरो कर रे काली को गण,जो कारज ना करें शत्रु ना कांपे तो दुहाई माता कालका की.काली की आन.  

मुझे आशा है की आप इस अहानिकर प्रयोग के द्वारा लाभ और हितकर कारों को सफलता देंगे. भय को त्याग कर तीव्रता को आश्रय दें,यही मैं सदगुरुदेव से हम सभी के लिए प्राथना करती हूँ.
“निखिल प्रणाम”

****ROZY NIKHIL****

****NPRU****



 

7 comments:

rinku chandrakar said...

dear rozi ji jai gurudev.
mai pichale 15yr se bhoot, wasikaran, vaital, sukshma sarir etc saadhsna kar kar ke thak chukaa hu. please mujhe saral aur aapake anubhaw gamya pret saadhana batakar meri pyaas ko dur kare please...please..mai itane bade guru ji ke saanidhya me rahkar bhi pyaasa hu.
please..response me.
rajendra194@ymail.com mob.-09098846651

rinku chandrakar said...

dear rozi ji jai gurudev.
mai pichale 15yr se bhoot, wasikaran, vaital, sukshma sarir etc saadhsna kar kar ke thak chukaa hu. please mujhe saral aur aapake anubhaw gamya pret saadhana batakar meri pyaas ko dur kare please...please..mai itane bade guru ji ke saanidhya me rahkar bhi pyaasa hu.
please response me.
rajendra194@ymail.com
mob.-09098846651

rinku chandrakar said...

dear rozi ji jai gurudev.
mai pichale 15yr se bhoot, wasikaran, vaital, sukshma sarir etc saadhsna kar kar ke thak chukaa hu. please mujhe saral aur aapake anubhaw gamya pret saadhana batakar meri pyaas ko dur kare please...please..mai itane bade guru ji ke saanidhya me rahkar bhi pyaasa hu.
please response me.
rajendra194@ymail.com
mob.-09098846651

nayan pomal said...

jai gurudev
bhai sawal jawab khatm hone ke baad peer ji ko vidaa krne ka kya vidhan hai nd mantra jap kis mala se karna hai
plz reply

Anu said...

priy ranku bhai ji ,
aap se yahi anurodh hain ki aap nikhil lachemy fecebook ka group jaoin kar le ..sath hi sath tantr akoumudi e mag ko jo free hain uska adhyayan karen aapko is vaishy par aur bhi jo jankaari chahaiye wah inhi me se uplabdh ho payegi ....
smile
anu

Anil Shekhar said...

bahut bdhiya jankaari bhara sadhanatmak lekh ...
abhaar......

Hemant Sen said...

mitti ke tel ka deepak or sarso ke tel ke depak ko kaha rakhna he plz position btayw yaha lekh me confusion he