There was an error in this gadget

Tuesday, October 9, 2012

MAHAVIDYA BAGLAMUKHI TANTRA - HIRANYAGARBHA VALGA SADHNA SE SOOKSHM SHAREER SIDDHI RAHASYA - 2




Shree Guruh Sarvkaaranbhoota Shaktih ||

“Understanding this sentence specified in shastras will not be at all difficult for one sadhak……it simply means that only and only Guru is the basis or reason for attaining Shakti

And when we talk about Mahavidya Valgamukhi, then definitely Lord Dakshinimukhi Shiva, present in form of Sadgurudev provides base to sadhak. We were talking about Hiranyagarbha Valga, an amazing form of Bhagwati Valgamukhi. Some secrets related to it were left unrevealed in last article…..now let’s move forward towards them

Naabhi Chakra which we also know by the name of Manipur Chakra, in reality is known among Siddh Tantriks and sadhaks as “Ratnkoot”. Basically, this chakra has primacy of fire element, which in activated state or in state of consciousness emits 10 rays of light continuously. This blue-coloured ray depicts form of lotus-petal. In reality, it is the root place for all forms of fire. As it represents fire element, it is manifested in form of triangle shape. These ten rays signify ten siddh Vidyas which we know by the name of Mahavidyas.

In life, Sadgurudev tells us the Vidhaan for manifestation of these Mahavidyas so that one does not face incompleteness anytime in life. Well, we were talking about Atharva Sootra then I would like to tell that it is present in activated state in any person. However its colour is decided based on the nature and quality of person. At particular moment it comes in state of consciousness and gives person ability to travel in time and space , whereby we often feel that the places which we are passing by or the incident which we are witnessing , has been seen earlier somewhere.

In reality, our astral body is always in activated state , but due to previous life karmas, it cannot loosen the bondage of evil karmas…….and the same case is with our seven bodies……to destroy this filth bondage by loosening it up , Savitri Vidya is used. Sometimes, sadhak separates astral body from physical body by normal practice also and complete astral journey. But such journey only creates the state of confusion because there are many such places and ashrams on earth which even hard-core practitioner find it difficult to reach and return back from them. Then what is the benefit of journey from normal astral body.

Then also Atharva Sootra, in the form of Rajatrajju maintains the relationship between two bodies. But as I have said above that colour of this Sootra depends upon the qualities and nature of sadhak. Sootra of lustful, aggressive and person in which Tama Guna predominates will be dirty. Then how can dirty Sootra be so strong that sadhak’s astral body can do journey of those hidden places with complete security and return back.

Sadgurudev at some point of time clarified these facts and said that “There are two types of Astral body-

Chhaya Yukt Prakash Viheen Deh (Shadowful Lightless Body)

Prakash Yukt Chhaya Viheen Deh (Lightful Shadow less Body)


And for high-order journey or attaining knowledge, second level astral body is needed. Here Shadow means dirtiness of Atharva Sootra. As the dirtiness will vanish, Sootra will lighten up and then journey of such places becomes easy. Entry path of these places is formed from the cave or geographical states in which there is every chance of sadhak’s astral body to get confused and be deviated. And if there is Shadowful Lightless Body then in spite of sadhak’s best effort, sadhak cannot reach his basic body in fixed time (which is not more than 24 minutes). And contact of Rajatrajju with two bodies loosens and breaks. In such case, sadhak has to face dreadful situation and he can face moribund situation.” Such places are full of secrets of Gyan and Vigyan which once obtained by sadhak can transform his life.

But if the sadhak’s body is Lightful Shadow less then there are no possibilities of him to deviate from path because than no filth of karmas can make the Sootra dirty and sadhak completes his journey very easily and that too in fixed time. It becomes easy for sadhak to experience Kaal Sanlayan and Vikhandan and attain knowledge. There is primacy of Ichha Shakti (willpower) in journey by astral body. And triangle of Manipur Chakra represents this fact only that here basic Shakti Ichha Shakti resides which is operational by combination of three lines of triangle Kalpana Shakti (Power of Imagination), Vichaar Shakti (Power of thought) and Sankalp Shakti (Power of resolution) or it is originated in front of sadhak. Success in work, manifestation of desired siddhis and Mahavidya Siddhi is not possible without activation of these three powers.

There are three stages for attainment of Lightful Shadow less Astral Body sequentially practicing which sadhak can attain Lightful Shadow less body. This practice has to be done for at least 7 days necessarily.


First of all sadhak should take bath in morning, wear clean clothes , sit on yellow aasan facing east and continuously recite “HUM” beej. While doing this sadhak should contract his anus-opening upwards and continuously inhale and pull navel inside and exhale with the voice of “HUM”. It may seem like Bhasrika procedure but here body will be stable, waist will be erect. These points should not be missed. If one does this procedure accurately, he/she can feel vibration in navel within 10-15 minutes. Due to effect of this procedure, diabetes disease is cured and digestive system also becomes strong. Activation of Kundalini becomes easy. Sometimes in the beginning of practice, person may feel like defecation and he can feel like loose motion too. But do not worry in this situation.
After above-said practice, concentrate on Anahat Chakra while sitting on aasan only and do the gunjaran of “OM” in medium voice. Doing it for 15 minutes, one will feel continuously Naad inside. If you experience both then you are moving in right direction.

First of all let me tell you why one should do these two procedures. Atharva Sootra is originated at much faster pace in Manipur Chakra of sadhak upon recitation of “HUM”. Since filth of karmas loosens, astral body can be separated very easily. Recitation or Gunjaran of OM leads to combination of Atharva Sootra with consciousness of Aatm aspect through which light become intense in Atharva Sootra or Rajatrajju and its dirtiness is removed. Now only unbreakable connection between two chakras and two beejs has to be established and light has to be transformed into light of soul which is only possible through combination of Hiranyagarbha Valga Devi. Beejs discussed above are actually very amazing and through them attainment of infinite power is possible, but it is not the subject-matter of this article.

We all know that Manipur Chakra is place of fire and inflammation is the natural quality of fire. But when we talk about absolute purity then fire element should be present but despite of it having light capability, it should be free from inflammable quality. And Hiranyagarbha means only that fire which does not have inflammation capability but it contains pure light inside it.When we use Hiranyagarbha Valga beej in basic mantra, coolness and light of Aatm Beej and Taar Beej gets combined with Krodh Beej. When unbreakable and long-term connection is established between two, sadhak attains Lightful Shadow less Astral Body

Its basic mantra is

OM HUM HLEEM HUM OM

 
Through this mantra, astral body can be given all the above-said qualities. When we are doing above-said practice then select any 15 minutes between 12 to 3 in night. Spread yellow sheet on clean bed and on its right hand side, spread yellow cloth on Baajot and make one small circle on it by turmeric and write “HLEEM” in it. Now place one turmeric-coloured earthen lamp on that beej mantra and it should contain Til oil and turmeric coloured cotton wick. As far as possible, you should face east while doing mantra Jap.It means that while sleeping your head will be in south and feet will be in north direction. Ignite the lamp and chant three rounds of “HLEEM” mantra with rudraksh rosary while sitting on bed itself. And then lie down in Shavaasan, close your eyes, concentrate on navel and verbally recite Hiranyagarbha Valga Mantra for 15-20 minutes and try to see Atharva Sootra internally. In 2-4 days, you will start seeing Sootra which will be having golden shine. When it starts happening, try to see astral body connected to Sootra and order it that it should stand and see the basic body from outside. After some day’s practice you will see that after the order, your astral body is standing out of body due to combination Sankalp Shakti with Kalpana Shakti and is seeing your basic body sleeping. And all this is not imagination rather it is truth which can amaze anyone and this truth can be verified by below fact.

When it starts happening, try to go to any nearby known place by astral body. You will be amazed that your body is Lightful even in darkness and you are easily able to see everyone even in darkness. If Atharva Sootra is Lightful then dogs do not bark in front of your astral body otherwise experience of dirty Atharva Sootra compels them to bark. Dog is animal which as compared to any other animal can see Atharva Sootra more easily and behaves in accordance with its colour. In other words, dirtiness inspires him to bark and light of soul provides it a peaceful feeling.

In future, after the continuous practice you can visit those places too which are inaccessible and full of secrets. You can go there and attain knowledge too. Sadhak fraternity is still unaware of secrets of Mahavidyas.  If with the blessings of Sadgurudev, we are getting these sootras then it is our responsibility that we should not only keep them rather do them practically.

Whatever I have written, it is very brief description because this subject is much hidden and fear of going this subject in wrong hand is stopping me from describing anymore on this subject. Well, when Sadgurudev and Maa will order me, I will try to bring other facts into light.

How can secrets of Tantra procedure can be understood through sadhna of Bhagwati Tantra Chandika….Its description will be given in net article….Till Then…

 “Nikhil Pranaam”
      
=========================================================
श्री गुरु: सर्वकारणभूता शक्तिः ||

“शास्त्रों में निर्दिष्ट इस वाक्य को समझना एक साधक के लिए जरा भी दुष्कर नहीं होगा...सीधा साधा सा अर्थ की एक मात्र श्री गुरु ही शक्ति प्राप्ति के का आधार या कारण होते हैं

  और जब बात महाविद्या वल्गामुखी की होती है तो निश्चय ही भगवान दक्षिणामुखी शिव वहाँ सदगुरुदेव के रूप में बैठकर साधक को आधार देते हैं. बात हो रही थी भगवती वल्गामुखी के अद्भुत स्वरुप हिरण्यगर्भा वल्गा की और उससे सम्बंधित कुछ रहस्य पिछले लेख में बाकी भी रह गए थे...तब हम उसी पर आगे बढते हैं..

  नाभिचक्र जिसे हम सभी मणिपुर चक्र के नाम से भी जानते हैं वास्तव में सिद्ध तांत्रिकों और साधकों के मध्य “रत्नकूट” के नाम से प्रचलित है.मूलतः ये चक्र अग्नितत्व प्रधान है,जिसमें से जाग्रत या चैतन्य अवस्था में १० प्रकाश की किरणें सतत निकलती रहती हैं.नीलवर्णीय प्रकाश की ये किरणें पद्म्दलों का रूप चित्रित करती हैं...वास्तव में अग्नि के सभी रूपों का ये मूल स्थान है. अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करने के कारण ये त्रिकोण आकृति का दृष्टिगोचर होता है.  दस किरणें प्रतीक होती हैं उन सभी दश सिद्ध विद्याओं की जिन्हें हम महाविद्याओं के नाम से जानतें हैं.

    जीवन में सदगुरु आपको इन महाविद्याओं का उद्भव या प्रकटीकरण करने का विधान भी समझा देते हैं जिससे जीवन में अपूर्णता का कभी मुंह ना देखना पड़े. खैर बात हो रही थी अथर्वासूत्र की तो मैं आपको इतना जरुर इंगित करुँगी की किसी भी व्यक्ति में ये जाग्रत अवस्था में ही होता है,किन्तु व्यक्ति की प्रकृति और गुणों के आधार पर इसका वर्ण निर्धारित होता है. आठों याम के मध्य ये क्षण विशेष के लिए चैतन्य अवस्था में आकर व्यक्ति को काल और स्थान गमन की क्षमता दे देता है,जिसके कारण हमें बहुधा ऐसा प्रतीत होता है की हम जिन स्थानों से गुजर रहे हैं या जो घटना हम देख रहें है,वो पहले भी कभी देखी हुयी है.

   वास्तव में हमारा सूक्ष्म शरीर हमेशा जाग्रत अवस्था में होता है,किन्तु प्रारब्ध या कर्मजनित फलों के कारण वो चाह कर भी कर्ममल बंधन शिथिल नहीं कर सकता है...और यही हाल हमारे सातों शरीर का होता है...इन्ही मल बंधनों को शिथिल कर नष्ट करने हेतु सावित्री विद्या का प्रयोग किया जाता है. कभी कभी सामान्य अभ्यास से भी साधक अपने सूक्ष्म शरीर को स्थूल देह से पृथक कर लेता है और astral journey संपन्न कर लेता है.किन्तु ऐसी यात्रा मात्र भ्रम की स्थिति ही निर्मित करती है,क्यूंकि इस पृथ्वीलोक में ही कई ऐसे स्थान और आश्रम हैं,जहाँ पहुंचना और सकुशल वापस आना सामान्य साधक तो क्या कठिन अभ्यासियों के लिए भी संभव नहीं है.तब क्या लाभ है सामान्य सी सूक्ष्म शरीर की यात्रा करने का.

   हाँ अथर्वासूत्र तब भी रजतरज्जू के रूप में दोनों शरीर का सम्बन्ध एक दूसरे से बनाये रखता है,किन्तु जैसा की मैंने ऊपर कहा की उस सूत्र का वर्ण साधक के गुणों और प्रकृति परपर निर्भर करता है.तमोगुणी व्यक्ति या कामुक,उग्र व्यक्ति का सूत्र भी मलिन ही होगा.तब भला मलिन सूत्र इतना मजबूत कैसे हो सकता है की वो साधक की सूक्ष्म देह को पूर्ण सुरक्षा के साथ उन गोपनीय स्थानों की यात्रा करवा सके और तदुपरांत वापस ला सके.

   सदगुरुदेव ने कभी इन तथ्यों को स्पष्ट करते हुए बताया था की “सूक्ष्म शरीर के दो प्रकार होते हैं –

छाया युक्त प्रकाशविहीन देह

प्रकाश युक्त छायाविहीन देह


   और उच्चस्तरीय यात्रा या ज्ञान प्राप्ति के लिए द्विय्तीय स्तर की सूक्ष्म देह की आवशयकता होती है.यहाँ छाया का तात्पर्य अथर्वासूत्र की मलिनता से है..जैसे जैसे मलिनता दूर होते जायेगी वैसे वैसे सूत्र प्रकाशित होते जाएगा,और तब ऐसे स्थानों की यात्रा सहज हो जाती है. इन स्थानों का प्रवेश मार्ग कभी कभी उन कंदराओं या भोगोलिक स्थितियों से निर्मित होता है जिसमें साधक की सूक्ष्म देह के भ्रमित होकर भटकने की संभावना होती है.और तब यदि प्रकाशविहीन छाया युक्त देह रही तो,साधक चाहे कितना भी जोर लगा ले तयशुदा समय(जो की २४ मिनट से अधिक नहीं हो पाता है) के भीतर उसकी मूल देह में वापसी नहीं हो पाती है और रजतरज्जू का दोनों देह से सम्बन्ध शिथिल होकर टूट जाता है और तब ऐसे में भयावह स्थिति का सामना साधक को करना पड़ता है और वो मरणासन्न अवस्था में पंहुच सकता है.” ऐसे स्थानों में ज्ञान और विज्ञान के वो रहस्य बिखरे हुए हैं की यदि साधक को प्राप्त हो जाएँ तो उसकी दुनिया ही बदल जाए.

   किन्तु यदि साधक की देह प्रकाशयुक्त छायाविहीन रही तो भटकने की संभावना ही नहीं रहती है,क्यूंकि कोई कर्ममल उसके सूत्र को तब मलिन नहीं कर पाता है और साधक अपनी यात्रा को सरलता से पूरा कर लेता है वो भी निर्धारित समय में.और साधक के लिए काल संलयन और विखंडन को अनुभव कर ज्ञान पाना भी सहज हो जाता है.सूक्ष्म शरीर की यात्रा में साधक की इच्छा शक्ति की प्रधानता रहती है,और मणिपुर चक्र का त्रिकोण इसी बात का प्रतीक है की वहाँ पर मूल शक्ति इच्छाशक्ति का वास है.जो वहाँ पर त्रिकोण की तीनों रेखाओं कल्पना शक्ति,विचार शक्ति और संकल्प शक्ति के योग से गतिशील होती है या उसका प्रादुर्भाव साधक के समक्ष होता है.और कार्यों की सफलता,अभीष्ट सिद्धियों का प्रकटीकरण और महाविद्याओं की सिद्धि भी इन तीनों शक्तियों के जागरण के बिना संभव नहीं हो सकती हैं.

   प्रकाशयुक्त छायाविहीन सूक्ष्मदेह की प्राप्ति के ३ चरण होते हैं,जिनका क्रमिक अभ्यास करने से साधक स्वयं ही प्रकाशयुक्त छायाविहीन देह की प्राप्ति कर सकता है.इसे कम से कम ७ दिन के अभ्यास के तौर पर अवश्य करना चाहिए

     प्रथम तो प्रातः काल साफ़ वस्त्र पहन कर स्नान आदि क्रिया संपन्न कर पूर्व की ओर मुख कर पीले आसन पर बैठकर “हुं” बीज का सतत उच्चारण करना,इसके लिए गुदाद्वार को ऊपर की ओर सिकोडकर लगातार श्वांस को भीतर खींचना और नाभि को अंदर की तरफ खींचते हुए श्वांस को “हुं” की ध्वनि के साथ बाहर फेकना.देखनें में ये क्रिया भस्त्रिका जैसी ही लग रही होगी किन्तु इसमें शरीर स्थिर रहेगा,कमर सीधी और शरीर सुदृढ़. इसमें कोई चूक नहीं होनी चाहिए.यदि आप सही क्रिया करेंगे तो १०-१५ मिनट के अंदर ही आपकी नाभि में कंपन का अनुभव होगा.इस क्रिया के प्रभाव से मधुमेह की बिमारी भी ठीक होती है और पाचन क्रिया भी मजबूत होती हैं,कुण्डलिनी का जागरण सहज होता है. किसी किसी अभ्यासी को शुरू में लगातार दीर्घशंका का भी अनुभव होगा और उसे दस्त जैसा भी लग सकता है,किन्तु इस स्थिति से घबराएं नहीं.

   उपरोक्त अभ्यास के बाद उसी आसन पर बैठे बैठे अनाहत्चक्र पर ध्यान केंद्रित करते हुए माध्यम स्वर में  “ॐ” का गुंजरन करें. इस क्रिया के १५ मिनट तक अभ्यास से आपको लगातार अंतर में नाद का अनुभव होगा.और यदि आपको उपरोक्त दोनों अनुभव होते हैं तो आपकी क्रिया बिलकुल सही चल रही है.

  सर्वप्रथम तो मैं आपको ये बता दूँ की हमने ये दोनों क्रिया की क्यूँ,तो होता ये है की “हुं” के उच्चारण  से अथर्वासूत्र का उद्भव कही तीव्रता से साधक के मणिपुर चक्र में होता है.कार्मिकमल शिथिल होने की वजह से सूक्ष्मशरीर अधिक सरलता से अलग किया जा सकता है. “ॐ” का उच्चारण या गुंजरन करने से आत्मपक्ष की चेतना से उस अथर्वा सूत्र का योग होने की स्थिति बनती है.जिससे अथर्वासूत्र या रजतरज्जू में प्रकाश की तीव्रता होती है और उसकी मलिनता दूर होती है. अब मात्र दोनों चक्रों का और दोनों बीजों का अटूट सम्बन्ध करना होता है और प्रकाश को आत्मप्रकाश में परिवर्तित करना होता है जो की हिरण्यगर्भा वल्गा देवी के योग से ही संभव हो पाता है.ऊपर जिन भी बीजों की चर्चा की गयी है,वास्तव में वे अद्भुत हैं और उनके द्वारा अनंत शक्तियों की प्राप्ति संभव है,किन्तु वो इस लेख का विषय नहीं है.

  हम सभी जानते हैं की मणिपुर चक्र अग्नि का स्थान है और दाहकता अग्नि का स्वाभाविक गुण है,किन्तु जब बात विशुद्धता की आये तो अग्नि तत्व तो हो किन्तु वो प्रकाश क्षमता से युक्त होने पर भी दाहकता के गुणों से मुक्त होना चाहिए और हिरण्यगर्भा का अर्थ ही होता है ऐसी अग्नि जिसमें दाहकता ना हो अपितु वो उस विशुद्ध प्रकाश को स्वयं के गर्भ में समाये हुए हो.जैसे ही मूल मंत्र में का हिरण्यगर्भा वल्गा बीज का योग किया जाता है.आत्म बीज या तार बीज की शीतलता और प्रकाश का योग क्रोध बीज से होता है और दोनों के मध्य जहाँ अटूट और दीर्घ सम्बंध स्थापित हो जाता है,तथा साधक को प्रकाशयुक्त छायाविहीन देह की प्राप्ति हो जाती है.

इसका मूल मंत्र है-

“ॐ हुं ह्लीं हुं ॐ”

(OM HUM HLEEM HUM OM)

  इस मंत्र के द्वारा सूक्ष्म शरीर को उपरोक्त सभी गुण दिए जा सकते हैं.जब हम उपरोक्त अभ्यास कर रहे हों तो रात्रिकाल में करीब १२ से ३ के बीच किसी भी १५ मिनट का चयन कर लें और साफ़ बिस्तर पर पीली चादर बिछा लें अपने दाहिनी ओर एक बाजोट पर पीला वस्त्र बिछा दें और उस पर हल्दी से एक छोटा सा गोला बनाकर “ह्लीं” बीज लिख दें.अब उस बीज मंत्र के ऊपर एक हल्दी से रंजित मिटटी का दीपक रख दें और उसमे तिल का तेल और हल्दी से ही रंजित कपास की बाती हो.यथासंभव आपका मुख जप के दोरान पूर्व की ओर हो,इसका अर्थ ये है की सोते समय आपका सर दक्षिण और पैर उत्तर की ओर होंगे.और उस दीपक को प्रज्वलित कर उस के सामनें अपने बिस्तर पर बैठे बैठे ही ३ माला “ह्लीं” मंत्र की रुद्राक्ष माला से करें.और  फिर शवासन की मुद्रा में ही लेटे लेटे ही नाभि पर ध्यान केंद्रित कर आँख बंद कर हिरण्यगर्भा वल्गा मंत्र का  १५-२० मिनट तक स्फुट उच्चारण करें और अथर्वासूत्र को आंतरिक रूप से देखने का प्रयत्न करें.२-४ दिनों में आपको सूत्र दिखाई देने लग जाएगा जो की सुनहरी आभा से दीप्त होगा. जब ये होने लग जाएँ तो अब उस सूत्र से जुड़े सूक्ष्मशरीर को देखने का प्रयास करें और उसे आज्ञा दें की वो बाहर खड़ा होकर आपकी मूल देह को देखे.कुछ ही दिनों के अभ्यास में आप स्वयं ही देखेंगे की कुछ समय की आज्ञा के पश्चात संकल्पशक्ति को कल्पनाशक्ति के योग से आपकी सूक्ष्म देह बाहर खड़ी है और वो खड़े खड़े आपके मूल शरीर को सोते हुए देख रही है. और ये सब कोई कल्पना नहीं होता है अपितु एक ऐसा यथार्थ है जो की किसी के भी होश गुम कर सकता है,और इस यथार्थ को निम्न तथ्य से परखा भी जा सकता है.
   
   जब ये होने लग जाए तो आप आस पास के परिचित स्थान का भ्रमण उस सूक्ष्मदेह से करें,आपको आश्चर्य होगा की आपकी देह अन्धकार में भी प्रकाशवान है और आप सरलता से अँधेरे में भी सबको देख पा रहें है. यदि अथर्वासूत्र प्रकशित रहता है तो कुत्ते आपकी सूक्ष्म देह की आस पास उपस्थिति होने पर भी नहीं भौंकते हैं,अन्यथा मलिन अथर्वासूत्र का अनुभव उन्हें भोंकने पर विवश कर देता है,कुत्ता ऐसा प्राणी है जो अन्य प्राणियों की अपेक्षा अथर्वासूत्र को आसानी से देख सकता है और उसके वर्ण के आधार पर अपना बर्ताव करता है अर्थात मलिनता उसे भौंकनें के लिए प्रेरित करती है,और आत्म प्रकाश शांत भाव देता है.

   भविष्य में इस अभ्यास के सतत होने पर आप आसानी से उन क्षेत्रों की भी यात्रा कर सकते हैं जो की दुर्गम और रहस्यों से परिपूर्ण हैं,आप वहाँ की यात्रा कर ज्ञान की प्राप्ति भी कर सकते हैं. महाविद्याओं के रहस्य से आज भी साधक समाज अपरिचित है,यदि सदगुरुदेव के आशीर्वाद से हमें इन सूत्रों की प्राप्ति हो रही है तो ये हमारी जिम्मेदारी है की हम इन्हें मात्र सहेजे नहीं अपितु प्रायोगिक रूप से संपन्न करके भी देखे.

 मैंने जो भी लिखा है वो बहुत संक्षेप में है क्यूंकि ये विषय नितांत गोपनीय है और विषय के गलत हाथों में चले जाने का भय मुझे इस विषय पर और आलेख लिखने से मना कर रहा है..खैर जब माँ और सदगुरुदेव की आगया होगी,मैं अन्य तथ्यों को भी अवश्य प्रकाश में लाने की चेष्टा करुँगी.

 भगवती तंत्र चंडिका की साधना द्वारा कैसे तंत्र क्रिया के रहस्यों को समझा जा सकता है....इसका विवरण अगले लेख में...तब तक के लिए.....
       
 “निखिल प्रणाम”

****RAJNI NIKHIL****

****NPRU****
  
   

6 comments:

Neeraj Kumar said...

Sister Jaigurudev Bahut hi gyanvardhak aur jatil gyan aapne itni aasani se samjha diya uske liye dhanyevad, Sister main janana chahta hun ki jab kisi ko naad brahm ka ahsas hone lage aur uske ander se chandan, kesar aur kabhi kabhi sugandhit puspo ki sugandh aane lage to isse kya labh milega aur kya iska matlab ye to nahi us vayekti ke atharv sutr jyada powerfull ho rahe hain, sister main ye sab isliye likh raha hun kyunki aaj se 8-10 saal pehle main tratak aur pranayam ka abyas karta tha tab mujhe ye sab experience hote the pls mujhe kuch is vishye mein aur bhi batayein ....... sister woh sugandh mere ander se aaj bhi aati hai jyadatar chandan ki sugandh aati hai par kabhi kabhi aur is par mera bas nahi hai matlab kabhi bhi kahin bhi chalte phirte sote jagte ya bhi kabhi kabhi to bus mein jate ya phir dirgh shanka ke samaye bhi aati hai pls margdarshan karein.... jaigurudev

Anu said...

dear neeraj bhai ji , anubhav is baat ka kebal parichayak hain ki aapki prakriyaa sahi disha me chal rahi hain .aur ek sadhak ko inhi anubhavo par nahi atknaa chhaiye balki in anubhavo se seekh le kar aur teevrta se aage badhe matlab aur any sadhana karen ....bas aap apni sadhana par kendrit rahiye ..
smile
anu

Alakh v.karma said...

aarif bhiya jay gurudev...!
iss lekh ke ant me aapne likha he ke mene sankshep me likha he..
ab yadi ham log iss pryog ko karte he to hame safalta bhi nyun matra me milegi ya nahi milegi.. to fir aapka iss pryog ko dene ka arth hi khatam ho jata he...

Avinash Agarwal said...

Alakh Ji.. Jab bhi koi Sadhana do jati hai to us par aapko viswas hona ati aawasyak hai anyata kuch bhi nhi milega.. yadi aapko koi sandeh hai to aap uske bare mai pucche naa ki kisi sadhana par hi ungli kare..

Yaha par clearly likha hai ki aap ye kare aur aapko ye ye anubhuti ho jayengi.. next stage tak kaise jana hai uske baare mai nhi diya gya hai.. Aap itna kare, iswar aage kai marg bhi khol deja..

Avinash Agarwal said...

Alakh Ji.. Jab bhi koi Sadhana do jati hai to us par aapko viswas hona ati aawasyak hai anyata kuch bhi nhi milega.. yadi aapko koi sandeh hai to aap uske bare mai pucche naa ki kisi sadhana par hi ungli kare..

Yaha par clearly likha hai ki aap ye kare aur aapko ye ye anubhuti ho jayengi.. next stage tak kaise jana hai uske baare mai nhi diya gya hai.. Aap itna kare, iswar aage kai marg bhi khol deja..

Avinash Agarwal said...

Alakh Ji.. Jab bhi koi Sadhana do jati hai to us par aapko viswas hona ati aawasyak hai anyata kuch bhi nhi milega.. yadi aapko koi sandeh hai to aap uske bare mai pucche naa ki kisi sadhana par hi ungli kare..

Yaha par clearly likha hai ki aap ye kare aur aapko ye ye anubhuti ho jayengi.. next stage tak kaise jana hai uske baare mai nhi diya gya hai.. Aap itna kare, iswar aage kai marg bhi khol deja..