There was an error in this gadget

Friday, March 30, 2012

2 SARAL LAKSHMI PRADAYAK PRAYOG(२ सरल लक्ष्मी प्रदायक प्रयोग)


जीवन की पूर्णता पथ मे भौतिक तथा आध्यात्मिक पक्ष दोनों मे पूर्णता प्राप्त करना आवश्यक है. जब बात भौतिक जीवन मे परिपूर्णता की हो तब जीवन मे अर्थ का क्या महत्व है इसे हर एक व्यक्ति समज ही सकता है. भौतिक जीवन से सबंधित यह एक नितांत सत्य है की अर्थ या धन हर एक कदम पर महत्वपूर्ण अंग है जिससे की एक बहोत ही उच्च कोटि का ऐश्वर्य सम्प्पन जीवन की प्राप्ति हो सके. लेकिन जब जीवन मे जब धन का स्त्रोत नहीं होता और धन सबंधित समस्या रहती है तब जीवन अत्यधिक कष्टमय और बोजिल सा हो जाता है. ऐसे समय पर हमारी संस्कृति मे समस्याओ से मुक्ति के लिए साधनात्मक समाधान दिये गए है उन्हें हमें अपनाना चाहिए. योग्य रूप से देव शक्तियो की उपासना की जाए तो निश्चित ही उनकी कृपा प्राप्त कर समस्याओ के समाधान प्राप्त किये जा सकते है. आज के इस युग मे कई व्यक्तियो के लिए यह संभव नहीं होता की वह बड़े अनुष्ठान को निति नियम पूर्वक साधनात्मक आचरण करते हुए सम्प्पन करे. प्रस्तुत लेख मे धन प्राप्ति से सबंधित कुछ ऐसे प्रयोग दिये जा रहे है जिससे की जो व्यक्तिओ के पास समय का आभाव हो वह भी साधना के माध्यम से लाभ उठा कर अपने मनोभिलाषा को पूर्ण कर सके.
१)  श्री प्रयोग:

अगर नित्य सूर्योदय के बाद तथा सूर्यास्त के बाद दिन मे दो समय इस मंत्र की एक एक माला की जाए तो धन के नए स्त्रोत मिलाने लगते है, किसी न किसी रूप मे धन सबंधित समस्या का समाधान हो ही जाता है. इस प्रयोग मे अपने सामने घी का दीपक लगाना ज़रुरी है. दिशा उत्तर रहे. वस्त्र तथा आसान कोई भी हो. मंत्रजाप कमलगट्टे की माला से होना चाहिए. यह प्रयोग किसी भी दिन से शुरू किया जा सकता है तथा इसे एक महीने तक करना चाहिए. इसके बाद माला को प्रवाहित कर दे.

ॐ श्रीं  श्रीं  श्रीं  नित्यमदद्रव्ये श्रीं  श्रीं  श्रीं  सिद्धिं नमः

२)  पारद लक्ष्मी प्रयोग:

  पारद लक्ष्मी का यह प्रयोग उत्तम है. मंत्रसिद्ध शुद्ध पारद लक्ष्मी विग्रह को अपने सामने स्थापित कर शुक्रवार की रात्री मे यह प्रयोग करना है. साधक का मुख उत्तर की तरफ हो. पहले साधक लक्ष्मी का सामान्य पूजन करे और उसके बाद स्फटिक माला से निम्न मंत्र का एक घंटे तक जाप करे. माला की गिनती ज़रुरी नहीं है. जाप एक घंटे तक चलना चाहिए.
ॐ श्रीं  शीघ्रसिद्धिं विष्णुपत्नी कल्याणमयी नमः
इस प्रयोग को ३ दिन तक करना चाहिए. इस प्रयोग से साधक को धन तथा ऐश्वर्य की शीघ्र प्राप्ति होती है. तथा उत्तरोत्तर वृद्धि होती रहती है. यह एक उत्तम प्रयोग है. साधक माला को संभल के रखे तथा जब भी यह प्रयोग भविष्य मे करने की इच्छा हो तब इस माला का प्रयोग किया जा सकता है.
--------------------------------------------------------------------------------
In life path one need to achieve materialistic and spiritualistic completeness at both the fronts. When it comes to materialistic happiness then everyone can understand what the significance of money is in living life. This is the profound truth of life that at every step we need money and can’t deny from this fact that it’s an important part of life. By which one can achieve all those luxuries in life. But when there is lack of money or financial crunches then life goes haywire and turns into burden. In those circumstances in culture our many sadhnatmak solutions are given to get rid of it which we should grab instantly. If we worship the gods and goddess in right way surely we can get proper solution.  In today’s hectic life schedule it’s really not feasible that to do big proceedings with all rules and regulations. And that to be with whole sadhnatmak intensions. In impending article such process are given which can be done without disturbing your following routine. And can take desired benefit in less time.
1.   Shri  Prayog.
On daily basis after sunrise if you do one rosary two times in a day then you will find many different sources to earn money. And in any ways you get rid of it. In this process you have to enlighten ghee lamp in front of you facing towards north direction. No restriction on Asan and clothes. Mantra Jap should be done via Kamalgatta rosary. You can start it on any day. Do it for one month. Then afloat it in river.
om shrim shrim shrim nityamaddravye shrim shrim shrim siddhim namah.


2. Parad laxmi Prayog:

This is the best process. Take a mantra siddh parad laxmi idol and establish it on Friday night. Facing towards north direction. First of all do a normal worship ritual of Laxmi. Then by crystal rosary chant the following mantra for one hour. No need to count rosaries. Jap should go on for one hour in continuity.

Om shrim shighrasiddhim vishnupatni kalyaanmayi namah

Do this process for for 3 days. By this process a sadhak can get wealth and luxuries in his life. This will just increase day by day. This is really best process. Sadhak should really keep the rosary with him with safe and care. And if wants to do it again then in that case he can repeat the same rosary.
   

                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 

2 comments:

Sid said...

bahut hi useful sadhanaye post kiye hain.. iske liye dil se aabhaar...

Sid said...

bahut hi saral aur badhiya prayog... dil se aabhaar byakt karta hoon...