There was an error in this gadget

Tuesday, March 6, 2012

समस्त उपद्रव नाशार्थ घंटाकर्ण महावीर प्रयोग(Samast updrav nasharth ghantakarn mahaveer prayog)


घंटाकर्ण  महावीर  की उपासना  जैन धर्म   में  कहीं अधिक  होती हैं ,और यह  अत्यधिक प्रभावशाली   देव  माने  गए हैं .इनके  यन्त्र  के अनेको  बिभेद   मिलते हैं जो  की  अपने  आप में  ही एक  अद्भुत   तथ्य हैं .और हर यन्त्र  से संबंधित एक  से एक  सरल और  उच्च  कोटि की साधनाए ...जिनका अपने आप में  कोई सानी नही .. पर   अभी  भी  वे सारे  विधान  जो  अत्यधिक   चमकृत  करने  वाले  हैं   साधको के  सामने आना   बाकि हैं .
कभी कभी परिवार में  ऐसे उपद्रव  प्रारम्भ  हो जाते हैं  जिसका  कोई  कारण  ही समझ में  नही  आता , बस अचानक    ही  कल  तक सब सामान्य  था   और आज  पर क्या हो गया .  कई बार  इसकी कोई वजह समझ में  आती हैं तो कई बार नही....
बहुत बार इन उपद्रवो के  होने का कारण  किसी  किसी   व्यक्ति  द्वरा  हमाँरे  ऊपर कोई  प्रयोग  कराया भी  हो सकता   और  ऐसे   कतिपय   तान्त्रिको से  आज  यह समाज  भरा पड़ा हैं . और अब सब से  तो बच नही जा सकता हैं.कभी कभी  ग्रहों   के  दोष से  भी परिवार में  अनेको  घटनाये   होने  लगती   हैं   जिनको कोई सुखद नही  कहा  जा  सकता हैं .
पर जब भी ऐसी समस्या आये   तो अपने  रक्षार्थ  यह सरल सा  प्रयोग  आप करे  आप के लिए  यह लाभ दायक   सिद्ध होगा....
मंत्र :   महामाया  घंटाकारिणी  महावीरी  मम  सर्व  उपद्रव,ग्रह पीड़ा  हवा बयार,किया  कराया,चढा चढ़ाया,नाशन कुरु कुरु  स्वाहा ||
सिद्ध करने की   विधि  सिर्फ  इतनी हैं  ही  किसी भी  शुभ महूर्त में इस मंत्र का   ११०० बार  जप कर ले  किसी भी  माला  से , आसन   वस्त्र पीले  हो तो  ठीक हैं  और दिशा   पूर्व या  उत्तर  की  होना  चाहिए . बाद में  गुगुल   की  छोटी  छोटी  गोलिया   बना  ले  उन्हें  देशी  घी में  अच्छे  तरह से  डुबो ले   फिर  उनसे हवन  करे .  वह भी  १०८ बार .
बाद में  जब यह  सिद्ध करने  की प्रक्रिया पूरी हो  जाए   तब   जब ये  समस्याए  आये  तो  नित्य १०८बार  गूगल और घी  से हवन करते  रहे....यह सरल प्रयोग हैं कोई  ज्यदा  ताम झाम  भी  नही  हैं . यह आपके  परिवार में    रही  अनेको  वाधाए  दूर  करने में  लाभ दायक  ही  सिद्ध  होगा .
******************************************************************
   The   worship   of Ghantakarn mahaveer is  found  much  in jain dharm . and   he  is considered  very  famous  and  powerful  dev.  There are many types of  his  yantra  found  and  this s is  very amazing  facts   that   the  sadhanaye related  to that   are sill  come  in to  the light .
Sometimes  so many  activities  starts  in our  family ,and  behind  that  is  not  able   to understandable  ,  it seems  very   difficult   to understand  that   till  yesterday  everything  is   normal  but what  happened  today., sometimes  reason behind  that  is  not   clearly  known .  Many  times all  these  trouble are happened   because  of malefic   activities  of some  tantric  and  many   of  such tantraik  is   easily  available  now  a days .  but  we can not escape  all these, when  such   problem  occurs , than  do   this  prayog   for  your  protection and    for remedy  too.
Sometimes   because  of  malefic   planet  situation these  problems occurs .and  these  event  are  not consider  very  welcome  one .
Mantra :  om mahamaya  ghantakarini mahaviri mam sarv  updrav, grah  peeda   hawa  byaar, kiya  karaya ,chadha  chadhaya  , nashan  kuru kuru swaha |
The process :in any  auspicious day   do  jap  of this mantra   1100  times and  with  any  mala if  that   be  of   hakeek   than its  fine, and  clothes and  asan colours  should   be  yellow   one .direction may be  east  or north one.  When mantra  jap  be  completed   than  prepare small  ball   of gugual and  thoroughly  dip in  ghee and  do  havan  with  these  ball,  only  108  times.
This is  the  mantra  sidhdikaran process  end . and  whenever   you  or  them member of your   family faced  the  problem do havan  with   gugual  and  ghee only 108 times. This is  very  easy prayog   not  required   much things  an  surely  this  helps  a lot  removing   the  problem .
   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

No comments: