There was an error in this gadget

Tuesday, August 23, 2011

To get protection from unknown fear arise from nature’s any indication


हम  मेसे कौन  नहीं हैं जो अपना भविष्य जानना   नहीं चाहता  हैं, कौन नहीं  कुछ पल के लिए आने वाला स्वर्णिम  भविष्य के सपने में  थोड़ी देर के लिए  खो जाना  चाहता हैं , जब भी हम किसी भी हस्तरेखा  विद  या  ज्योतिषी के पास जाते हैं भले ही हम कहते हैं  जो कुछ भी   हो मेरे भविष्य  के बारे में आप साफ़ साफ़ बता दें ,चाहे  वह अच्छा या बुरा  हो , पर आप बता  दें , कृपया कुछ  कुछ छुपाये नहीं ,पर  वह  ज्योतिषी  भी  जानता हैं की इससे मुझे  अपनी  फीस लेनी हैं तो भले ही आप कुछ कहे वह तो आपको ऐसे बताता  हैं की आप मुघ्ध हो जाते हैं .अगर उसने कुछ गलत बताया  तो निश्चय ही हम दुसरे बड़े ज्योतिषी    के    पास जाते हैं , अगर उसने भी वही बताया  तो तीसरे के पास .

                              पर  हममे से कोई कभी भी दुसरे  ज्योतिषी के पास नहीं जायेगा  की यह पूछने के लिए के लिए  की देखिये उस ज्योतिषी ने मेरे लिए  इतना अच्छा अच्छा  बता  दिया, बताएये यह कोई बात हुई .
                               पर इसके अलावा भी  भी प्रकृति अपने तरीके  से अपने संकेत देती रहती हैं , और उनको  पढ़ पाना  थोडा सा कठिन तो हैं ,(तंत्र कौमुदी के सबसे पहले के अंको में हमने स्वपन  विज्ञानं के बारे में विस्तार  से चर्चा  की ही थी ) कई बार हम घबडा जाते हैं  की  यह तो  बिलकुल सुबह का सपना हैं  सच  न  हो जाये,और कभी  किसी की सीधी  तो किसी  की उलटी आँख  फडकने लगती हैं , व्यक्तिके हाँथ  पैर  फूलने लगते हैं .कभी कभी बिना किसी बात के भी   हमारा  दिल  धडकने लगता हैं  की हमारे  घर में कभी  कुछ विपत्ति  तो नहीं आने वाली हैं
                 यह सब कितना सही  हैं या  गलत वह तो समय ही बताता हैं पर  क्या साधना  में भी कोई  उपाय  हैं इन बातोंके लिए ..

·  पर हम तो साधना  नहीं कर सकते हैं ,
·  हमने  तो कभी की ही नहीं हैं ,
·  अरे कभी उल्टा सुलटा हो गया  तो ,, और ..
·  क्या सही में असर  होता हैं .
·  अगर कोई हमारे लिए कर दे तो ..

                        ये सब बाते आलस्य  की हैं, भूख अगर आपको लगी हैं तो खाना  भी आपको   ही खाना  पड़ेगा  न .. ओर  जितनी मनोयोग से आप करोगे  या  कर  पाओगे वह क्या  कोईदूसरा  आपके लिए कर पायेगा  , कम से कम कुछ बहुत ही सरल से , पर अत्यंत  प्रभाव दायक   प्रयोग  तो आप  कर के देखे..एक सीढ़ी तो चढ़े ,फिर वेसे  ही अगली  के लिए  कोशिश करे ,फिर एक  दिन आप देखें  की आप  भी एक योग्य साधक   हो ही गए हैं .
मंत्र :
उरे फुरे जरा धुरे  फुं 
 इस मंत्र  के विन्यास   तो बहुत  ही अचरज करने वाला हैं , इसको देख कर आप इसके  माध्यम से काम करने वाली शक्ति का  अंदाज लगाया नहीं  जा सकता हैं .
·  इस मंत्र को दक्षिण दिशा  की ओर मुह  करके  जप करना हैं .
·  दिनके किसी भी समय इस मन्त्र का  जप किया जा सकता  हैं ,जब भी आपको भय  सा महसूस हो .

·  कोई भी वस्त्र धारण करके  कर सकते हैं . 
·  रुद्राक्ष  या काले हकीक माला से  मंत्र जप करना हैं  
·  फिर  इस मंत्र की ११ माला कर के घर मे जल का  छींटे लगाना है,  
बस इतना सा  तो  प्रयोग हैं .  इसको करते  हुए  सदगुरुदेव भगवान् से   एक बार  प्रार्थना  करके देखें  तो सही

आजके लिए बस इतना ही .
**************************************************************************
              
 Everyone of always ready  to know about our future , and why not  so and , who do not want  to  go in golden dream  even  for  a little  time , whenever we  visit any  palmist or astrologer , we simply say  very clearly  plz   tell me everything either  good or  bad whatever it may be , its not a problem I am ready for that , but he know that he has to take his fees from you , so that  he will you advice, in this way  , that you will feel much happy. And if he tell something   wrong , definitely, we will consult some other astrologer and if  that  also  give same advise than we move to third..
                      But have  you ever think that we never consult  any other astrologer saying that , now see that  astrologer told about me so and  so good things, what is that ? it should  not be.
                            But apart from that nature also gives  us so many  clue about future but understanding of that , very difficult ,( in the very first some of the issues of “tantra kaumudi” we deals  that  subject   in length.), we became very worried ,if we had seen in morning dream , something bad about us , and start thinking  ,this is the morning dreams and what will happen if  it  will be true than…? Sometimes some  has various clue  regarding  eyes movement , and person get worried   to much. Sometimes without any  reasonable logic we feel  much fear  that may be  something wrong is going to happens.
               Whether that will be  true or false , it will reveal in  future  but what we will  do  right now. Is there any   solution in  sadhana.

·  But we can not do sadhana.
·  We never  did that.
·  If something goes  wrong?
·  This really works?
·  If any other person will do for us.
                                   Theses are the baseless argument just to protect our laziness. If you are  hungry than you have  to  eat.,, than think about a minute , who will  do apart  from you  with the as much as concentration and devotion  prayog  as needed. At least these simple  but highly effective  prayog ,  we should  do  for ourself, when  we climb  one step successfully than   the same procedure will  be followed  for next coming steps, and one day when you will  see  behind , you will  found that you are  a accomplished sadhak. so simple.
Mantra :
Ure  phure  jraa  dhure  phum
 The construction of this  mantra  is very amazing but  one cannot guess the power behind  it  that gives  us protection.
·  Do jap  facing  with south direction  .
·  There is  no restriction about  clothes and aasan.
·  for jap can use  Rudraksh  or black hakik  rosary .
·  No restriction of time regarding mantra jap whenever feel fear  do this..
·  After chanting 11 round of rosary of this mantra  and   take  water  in your hand  sprinkle  all around in your home  .
   So , see this so so easy prayog  and after that  pray to Sadgurudev Bhagvaan, and feel   the result yourself.
This is enough for today.

 ****NPRU****

No comments: