There was an error in this gadget

Monday, August 29, 2011

Bhagvaan Aanjaney Sarv Raksha vidhan


                                           "अष्ट  सिद्धि नव   निधिं के दाता
                                             अस  आशीष  दीन्हे  जानकी माता "
                           भगवान्  भोले शंकर  की उदारता   के  कारण  कौन नहीं  होगा  जो उनके आराधना नहि करना चाहता होगा, देव  दानव,  गन्धर्व, मानव, सभी तो भगवान्  आशुतोष की कृपा  के आकांक्षी हैं .उन्ही भगवान के रूद्र स्वरुप  की तेजस्विता   से  तो पूरा विश्व गति मान  हैं ही, साधारणतः  इन रूद्र  के सम्बंधित साधना  ज्यादा प्रकाश  में नहीं आई हैं , पर एकादश  रूद्र  की बात ही  अनोखी हैं,  उनके उपासक ,आराधक  तो  कहाँ  कहाँ नहीं   हैं , हर स्थान पर  उनका  का मंदिर या आराधक  मिल ही जातेहैं ,  जिनका नाम   की कष्टों से निवृति  दिलाने वाला  हैं.
                          यहाँ तक सुना जाता हैं   की विश्व में सर्वोपरि  साधना   तो अघोर साधना  विधान  हैं और  विश्व की हर शक्ति  इस विधान के  सामने  नत मस्तक हैं , पर  केबल मात्र  एक ही देव हैं जिनके  पञ्च मुखी  स्वरुप  की  करोंड़ों सूर्य वत  तेजस्विता  के सामने यह अघोर   विधान भी इनको  प्रणम्य करता ही हैं .(वास्तव में  सूक्षमता  से देखें तो अघोर  विधान भगवान शंकर के दिव्यतम स्वरूप से सम्बंधित हैं और भगवान  महावीर  भी  तो उन्ही भगवान् शंकर  के स्वरुप  ही हैं )
                                             हनुमान साधनाके अनेकों आयाम हमारे सामने  हैं कुछ   तो सामान्य  हैं कुछ तो अति दिव्यतम हैं  इस सन्दर्भ में सदगुरुदेव  भगवान  "हनुमान साधना " एक पूरी पुस्तक और   "हनुमान साधना " नाम  की  cd  भी  उपलब्ध करायी हैं , जिसमे सदगुरुदेव भगवान ने   भगवान्  बजरंग व् ली के  उस दिव्यतम  बीज मंत्र  की वेवेचना की हैं जिसके माध्यम से आप उस  प्रक्रिया  को कर के  पूरे  दिन स्वयं ही भगवान्  मारुती की दिव्य  उर्जा से ओत प्रोत रह सकते हैं , वह पूरा अत्यधिक सरल  विधान जिसे सिद्ध करना  भी जरुरी  भी नहीं हैं आप स्वयं सदगुरुदेव  भगवान् के श्री मुख से सुने और लाभान्वित   हो ,

                                                      सदगुरुदेव भगवान् ने  यदि आप  मंत्र तंत्र यंत्र विज्ञानं पत्रिका में देंखें  तो एक ऐसा विधान दिया हैं  और एक ऐसे साधक का परिचय दिया हैं जो उस समय ८०/८५ वर्ष के  थे और क्रोध आने पर  एक पूरा वृक्ष  भी   जड़  से उखाड  फेंकते थे .

(सच  में सदगुरुदेव   भगवान्  ने क्या क्या  विधान नहीं  दिए हैं अपने सभी आत्मंशो  के लिए  , अब ये तो हम पर हैं की हम  किस  दिशा में चले .. इन साधनाओ   को आलोचना  की दृष्टी से देखे  या  फिर   शिष्यता  तो  बहुत दूर की बात हैं , अच्छे से  जिज्ञासु  ही बने  तो कम से कम एक सीधी तो उप र बढे  या  सीधे  ही अपने आप को शिष्य मान ले ,क्योंकि यह तो बेहद सरल सा  हैं , पर ध्यान  भी  रखे , उन परम हंस स्वामी  निखिलेश्वरानंद   जीकी शिष्यता  के लिए  महा योगी  भी अनेको वर्ष   तपस्या करते रहते हैं  क्या  वह  इतनी सामान्य   सी  वस्तु हो गयी ......   

"को नहीं जानत संकट मोचन  नाम तिहारो " इस  जीवन में मानो संकट  और संकट ही हमारी संपत्ति बन गए हैं , या  ऐसे कहे ही की  विपत्ति  ही हमारी संपत्ति  बन गयी हैं .

अब किस किस समस्या  का सामना करे  कोई एक  हो तो   या  दुसरे ढंग से कहूं तो  की  आज तक तो ठीक चल रहा हैं   कहीं कोई समस्या  न आ जाये , अब इस आकांशा   को कैसे सामना  करे .


भगवान्  आंजनेय  से सम्बंधित या  प्रयोग   इन समस्त विपदा  से आपकी रक्षा करता हैं ही 
  मंत्र :
  हनुमान पहलवान , बारह वरस का जवान |मुख में वीरा हाँथ में कमान | लोहे की लाठ  वज्र  का कीला|जहँ बैठे हनुमान हठीला |बाल रे बाल राखो|सीस रे सीस रखो| आगे जोगिनी  राखो| पाछे  नरसिंह  राखो | इनके पाछे  मुह्मुदा  वीर छल करे , कपट करे ,तिनकी कलक ,बहन बेटी पर परे | दोहाई महावीर स्वामी की |

 सामान्य  नियम :
·  वस्त्र आसन दिशा   का कोई प्रतिबंध   तो नहीं हैं पर आप  चाहे  तो लाल रंग के  उपयोग कर सकते हैं .
·  इस मंत्र  से जप  आप  सुबह करे  तो अच्छा हैं ,
·  रुद्राक्ष माला   का उपयोग  आप जप कार्य के लिए कर सकते हैं .
·  जप संख्या केबल १०८ बार हैं ही , और इसके बाद आप  जितनी आहुति  हो  इस मंत्र   से  हो सके करे .यदि गुगुल का  प्रयोग करे तो  उत्तम होगा .
·  सदगुरुदेव भगवान् से प्रार्थना  करे की भगवान् आंजनेय  कृपा   से आपके उपर  से विपत्ति या  दूर   हो

आज के लिए  बस इतना ही 

****************************************************************************************                         
                                       “Asth sidhhi nav nidhi ke data
                                      As aashish  dinhe  janaki mata “
                                    Who do not want to worship  Bhagvaan bhole shaker , whether  they are dev or danav or  manav  every one because generosity of him , everybody want  to gain  the  blessing of Bhagvaan Ashutosh , and   whole world is  moving through tejaswita of  rudra swarup of Bhagvaan Ashutosh . in general,  very less sadhana are available  for theses rudra swarup, but the ekadash rudra  means  the11 th  rudra  has a  very   unique place. Every where  we can find the devotee of him,  in every place , you can  have  his  temple. Even his name  is  problem remover,
                                  We have listen that aghor sadhana is having a very high place in sadhana  jagat ,  and every sect  and every one  salute  to   the  tejaswita of this aghor sadhana  but in front of Bhagvaan Aanjney’s panch mukhi swarup (means  Bhagvaan hanuman with five head) even the aghor sadhana  salute  to him,  such is the radiance of  Bhagvaan  this forms .(if  we see little deeper ,we find that aghor sadhana is nothing but  the most divine form of Bhagvaan shiva  and Bhagvaan Aanjney  is also the form of him).
                                 There are many dimension of hanuman sadhana, some of  very simple but many of   the  highly divine one. In this relation Sadgurudev Bhagvaan  has written a book named “Hanuman sadhana” and a special  cd has been made  with the same name , in that , he has  given one  such  powerful procedure through that  you can energies  your  whole day  , and   you   do not need to siddh that   process  ,only  simple 4/5 minute of that   gives you  so much energy. You can  listen   Sadgurudev Bhagvaan  divine voice and get benefitted by that.
                                                 Sadgurudev ji has  given  one such a  very  powerful  vidhan in mantra  tantra  yantra  vigyan old issues ,  and also introduce a sadhak  , who even at that time 80/85 years old  but when he got angry ,  he could  uprooted  whole tree  from the  roots.( to be true, Sadgurudev Bhagvaan has given  so many divytam sadhana  process for all his aatamaansh , now it rests totally   upon  us , that in which direction ,we will move, take  all these  process as the view of criticizer or  became a shishy   but keep in mind  , to became a shishy  , one  must  first tread  on  the step of  jigyasu (means  real  truth seeker ),  and became  true seeker , since shishyata  is very far away, or without   going through this steps , we simply assume that we are  his shishy  , that so easy, but think  about a minute   ,   to get shishyta of such a  param yogi paramhans swami nikhileshwaranand ji, even maha yogies   do tapsaya  so many  births, than such a  blessing comes. Is  shishyta of Sadgurudev Bhagvaan is so simple and easy…..
                              “who do not know  the name of o  lord hanuman,  problem remover Is thy name “ it seems  that in our life  problem become   the real wealth of  us, how  to face  the problems , when it has so many faces,  and what  will a person do ,  if he worries about coming  problem. Than..
 This simple prayog  of Bhagvaan Aanjney   protects  you.
 Mantra :
Hanuman  pahalvaan,  barah  varas  ka  jawan | mukh  me  beera   haanth  me  Kaman |  lohe   ki  lathh  vajra  ka  keela | jahn  baithhe  hanuman hathhila | baal re baal raakho  |  sis  re sis rakho  |  aage  jogini  raakho |  paachhe narsinh raakho | in ke paachhe  muhmuda veer chhal  kare , kapat  kare , tinki kalak ,bahin beti par  pare | dohae mahaver swami ki |
 General rules:
·  No restriction regarding clothes and aasan and direction but red color cloths would be fine .
·  Mantra jap   time   ,if in the morning than its  much better.
·  Can use  rudraksh mala,
·  Have to chant only 108 times, and  offer aahuti means  havan  with guggul than  it would be fine.
·  Pray to Sadgurudev Bhagvaan than  through the blessing of  Bhagvaan Aanjney  all our  problems  gets removed,
 This is enough for today
****NPRU****

2 comments:

rahul, Pune said...

प्रिय अनु भाई, रघुनाथनिखिल भाई और अरिफभाई
आप तीनोको मेरा सादर प्रणाम
तंत्र कौमुदी के छठे अंक - सौंदर्य तंत्र और कायाकल्प तंत्र महाविशेषांक की तारीफ करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं है.
लवणस्नान विधान, वाणी सौन्दर्य साधना, वाम सौंदर्य यन्त्र साधना जैसे प्रयोग एक से बढ़कर एक है. अंक पढ़ने के बाद ऐसा लगा की ज्ञान का भंडार हाथ लग गया हो. आप ने इस अंक में कई ऐसी साधनाए और तथ्य प्रकट किये है जो अब तक हमे ज्ञात नहीं थे . वाकई में यह अंक अपने आप में अद्वितीय है उसके लिए आप तीनो को शतशः धन्यवाद. आब आनेवाले अंक -तीव्र शक्ति तंत्र साधना एवं इतर योनी महाविशेषांक, के बारे में हमारी तृष्णा और बढ़ गयी है, क्युकी इतर योनिओके बरमे हमारे मन में सिर्फ कौतुहल है, आब आप के माध्यम से उनके बारे में भी विस्तृत और सत्य जानकारी प्राप्त होगी. धन्यवाद

आपका राहुल

RAGHU.M.SALIAN said...

JAI GURUDEV,

FROM:
RAGHU. M .SALIAN
UDUPI, KARNATAKA

GURUJI , I WANT TO BUY 'HANUMAN
SADHANA ' CD . WHERE CAN I GET?
PLEASE REPLY