There was an error in this gadget

Monday, November 28, 2011

How to make again cordial relation with your own brother


"राम लक्ष्मण  सी जोड़ी हैं   इन भाइयों  की"   अब  आजकल कहाँ सुनने  में  आता हैं  एक समय   यह आशीर्वाद  तो  घर के   अग्रज  और वयो  वृद्ध  सभी को देते  थे   पर   आज इस  आधुनिकता    ने  पता  नहीं कितने  रिश्ते  की  गरिमा  और स्नेह   और आपसी सद्भाव की  बलि  ले  ली हैं   और जो कुछ रिश्ते  अभी  भी हैं वह भी धीरे  धीरे   अपन  अस्तित्व   वचाने केलिए   सघर्ष रत   हैं, . कहाँ  और किसके  पास  समय हैंकि  इन शब्दों  के अर्थ  में पड़े   जब सभी अपना  स्वार्थ   ही  पहले  देख रहे   हो  तब   ..
                     पर यह  भी   तो सच हैं  की  जीवन में  परिवार में  व्यतिगत  ता  में सामजिकता  में  अपने  भाई का  स्नेह और  योगदान  यदि  लगातार मिलता जाए  तो   आजकल  यह वरदान स्वरुप  ही हैं,  और यदि  किसी  कारण या  अकारण वश भाई    ही विरोध में खड़ा  हो जाये   तब  आपकी परेशानी कई  गुना   बढ़ सकती हैं,  यहाँ   तक  की   यही  भाइयों  की आपस  न मिलना घटना का परिणाम  विभीषण का  अपमान   लकापति रावण के लिए    ही   कितना घातक  बना,  रावण की हार में  विभीषण का  कितना सहयोग रहा   हमसभी जानते  हैं ही.

                      पर साधना हमारे इस  जीवन  की  प्रतिकूलता  जैसे     यदि भाई  हमारा  शत्रु  हो गया   हो तो अब से  हमारे  अनुकूल  हो  जाय   और   यदि अनु कूल  होतो  वह सदैव हमारे अनुकूल  ही रहे   इस  हेतु  कोई मार्ग  दिखाती हैं???,,क्यों नहीं  अनेको  ऐसे  प्रयोग हैं जो  इस  समस्या  को   बनने   देते  ही नहीं और  आपका  जीवन  ज्यादा   सुखमय  और प्रसन्नता मय  हर दृष्टी से  हो जाता हैं.
                           एक बात  सदैव ध्यानमे  रखना  चाहिए  की   साधना  यदि बड़ी होगी  और  अनेक  उसमे  हो या  कुछ  कठिन विधान  हो तभी फलदायक  हो ऐसा कदापि नहीं हैं  वस्तुतः  हम सरल साधनाए   ज्यादा  मनोयोगता  पूर्वक  और ज्यदा  सफलता  पूर्वक कर सकते  हैं और   इन छोटी छोटी सफलता से उत्साहित  होकर   हम  एक बड़ी  छलांग भी लगा  सकतेहै. 
                       घर के  एकांत  कोने   को पहले  अच्छी   तरह  से साफ कर ले    और संभव हो तो  गोबर से लीप ले,  और उस  पर   जब  वह सुख जाए तो आटे से एक  त्रिकोण बना  ले   फिर  इसके  बीच में  अपने   उस  भाई का नाम लिखे  जिसे  आपको अपने  अनुकूल करना  हैं   और  फिर  इस लिखे  गए नाम पर सिदुर छिडके   और  इसी   नामके  ऊपर  कम्बल का आसन बना  कर  बैठ  जाये  और प्रतिदिन 108 बार मंत्र जप  करना हैं और  संभव होतो  घी  से हवन भी  भी. और  जब  तक आपके  भाई  से आपका  पहले  जैसे हार्दिक सम्बन्ध     हो जाये  आप यह  प्रयोग लगातार कर सकते  हैं

मंत्र :
विनोन  तप  योग  सरन्क्ता सतोप   विषटांग
रक्त चन्दन  लिप्तांगा  भक्ताना   च शुभ प्रदम,
****************************************************************************************
 Thses  brothers pair  looks   like  Ram , Lakshman   is  very hard  to listen   in thses  days ,due  to  growing materialization  and   modern  society self centeredness   many of the  relation Is not as  in  original  form/nature  as  it should  be. , and  many  relation are  in breathing  his  last . since  when everyone is  only  looking /concern  for   his own   and   not  having  time   for  other   than  how   thses relationship   even between   very   close  can  flourish.
But  its very   easy  understand   that  if one  receive   cooperation   from  his own  brother  than   achieving  success  not only in professional  world  but in  social  and  in personal life is  quite  easy. and  if our  own  brother is  creating problem   for  us than  one  can  also  imagine  the   problem  he has  to  face in  every aspect  of life . its well known facts  that the  result or  our come of   brothers  fight/ non  co operation  often produces  worst .
 But is there any way  so that  we can always  enjoy   the  co operation   from our   own  brothers  or  if our relation is   not  so  good    so that  will  be  converted  in     very   healthy  one.???   Why  not  there are  so many   prayog    that  creates  such an  environment   so     developing  chances  of friction between    brothers  becomes very less.
 One should  always  note  down  or remember  this  facts  that if  sadhana   has  some  long  duration  or  having  some very  difficult mantra  or some  very  great  procedure  than  only  that  will be  more  effective ,,no  no    there is   no such  rules.  The  real  facts is ,  we can  do  simple  and  easier  sadhana  with much  more ease and  comforts. And   slowly  and  slowly  we can  jump     over   for  the  big  success in sadhana life  too.
Thoroughly clean any  one  corner of  your   home where people least  go. and also  clean   through  cow  dung .(gobar).  When    floor become  dry  , make  a  triangle (through flour  /  aata ) and in  between that triangle ,  write  down the  your  brother’s name   than  sprinkle  sindur over  that. And   place  your  kambal aasan on that  and  sit down and  daily  you have  to   chant  108  times  this  mantra  and if possible  some  hawan    with  ghee .till  you experience   co operation   from   your  brothers.
Mantra :
Vinon  tap  yog sarankta satop  vistaang
Rakt chandan  liptaanga  bhktana  ch  shubh pradm

    


                                                                                               ****NPRU****   

2 comments:

nikhil said...

Dear NRPU what material we have to use to write brothers name. flour or chandan

Anu said...

dear brother, you can use flour for writing brother name .
smile
Anu