There was an error in this gadget

Tuesday, November 22, 2011

Saral nischit bhagy vardhak prayog


    हम  जैसा आपके सामने रख   चुके  हैं   की मानव  जीवन में   कुछ  15 /16  समस्याए   है  मूल भुत हैं  और  बार  बार   उनकी समस्याओं को सुलझाने के लिये एक नया  प्रयोग   दें  कहाँ तक उचित   हैं  ,उसकी   क्या   आवश्यकता   हैं   नहीं पर हैं   क्योंकि  यह बिलकुल  वैसा  ही हैं की सामान्यतः  मिठाई में    बेसन  .खोया ,  शक्कर    ही रहती हैं पर  उस से  बने  हरमिठाई  का  एक अलग ही अर्थ /नाम  हैं   एक अलग ही  स्वाद हैं ..
                             ठीक इसी तरह   हर साधना  वह  चाहे   सामान्य  हो सरल   हो या कठिन  हो  या फिर  किसी  एक ही विषय  के लिए बनी हो ,जरुरी  नहीं की हर व्यक्ति के मानस स्थिति के  अनुकूल  हो उस  काल में ......इसी  भावना  की ध्यान  में  रहते  हुए  यह प्रयोग    आपके सामने हैं ,  शिक्षा   में  सफलता .  जॉब में  सफलता ,  उत्तम   घर परिवार और सुयोग्य   जीवन साथी  मिलना   और यहाँ तक  की साधना  में भी सफलता   मिलने  के   पीछे  कहीं न  कहीं  एक  अ दृश्य    शक्ति हैं हैं जिसे  हम  अपना  भाग्य कह  देते  हैं  
                 और  यह भाग्य  हैं क्या  हमारे ही द्वारा   पूर्व काल में   या  पूर्व जन्म  में  किये  गए  अच्छे  या  बुरे   कार्यों का परिणाम  और क्या  और जब  आपने  की  उन कार्यों को  किया हैं तो या  तो आप  ही  भोगो या    किसी  विद्वान मनस्वी कि  सलाह  लेकर  उस  कार्य के  परिणाम को निष्फल  कर  दे,, 
 इसका मतलब तो यह हुआ   न की सबसे  पहले कोई साधना  जरुरी हैं तो  वह  हैं भाग्य   जगाने  की मतलब  भाग्य  वर्धक   की.

                             सदगुरुदेव जीने अनेको प्रयोग  दिए  हैं और  शिविरों में  उन्होंने  या  तो भाग्य  उन्नतिके लिए  या  नवग्रह  दोष समाप्ति केलिए प्रयोग करवाए  हैं  क्योंकि जब तक यह  अनुकूल न  होंगे  तब तक कैसे व्यक्ति की उन्नति  हो सकती हैं. कैसे वह साधनाओ में  सफलता  पा सकता हैं  ,  तो साधक  बड़ी बड़ी साधनाओ की  प्रतीक्षा  करते  हैं  पर कहीं न  कहीं वह भूल जाता  हैं  की   जब  तक  भाग्य  अनुकूल न  हो  तब तक  इस    बहुत कठिन   हैं  मनो वांछित  सफलता  पाना . 
                     तो इस  प्रयोग में   आपको  शुक्ल  पक्ष  जो महीने  में  एक बार आता   ही  हैं उसमे   हस्त  नक्षत्र का  दिन  चुनना  हैं मतलब यंत्र लेखन   के  लिए,  और   यन्त्र लेखन से  सम्बंधित आवश्यक  बाते  में  आपको बता  ही चूका  हूँ.   पर   इस  यंत्र में  केबल यह परिवर्तन हैं कि इसको   हल्दी या केसर  से  ही लिखना हैं  और    जो  दिन बताया  गया  हैं उसी  दिन  ही.  इस  यन्त्र को आपको   सायं काल में  ही बनाना  हैं ,
 और फिर  इस  यन्त्र  की पूजन  अर्चना कर ले  साथ ही साथ यदि  भोज पत्र   पर  बनाया  जाए  तो  बहुत    ही अच्छा  हैं. और फिर  इसको अपनी जेब में  रख ले  आपकी स्वाभाविक  रूप से जो  उन्नति रुक  गयी हैं  वह पुनः  प्रारंभ  होगी. 
 साथ ही साथ  इस  यंत्र को  विशेष रूप से यदि सिद्ध करना हैं  तो  भगवान् आशुतोष का  स्मरण  करके   उनकी किसी भी प्रतिमा के  सामने  १०१ बार यह  यन्त्र  अब कागज  में बनाये  और उनके  श्री चरणों में   हर  बार अपनी   जो भी इच्छा  हो  उसे  बोलकर  अर्पित कर  दे, पर  ध्यान रखे  हर बार आपको  अपनी  इच्छा   उच्चारण करना ही हैं , और भगवान् से अपनी इच्छा पूर्ति  करने  का  माध्यम  बनाने  के लिए प्रार्थना  भी करे    
5
7
9
11
4
पे 
20
29
27
                        
                                        

********************************************************************************                   

                                                      
 As  you all, already  knew that   there are  in general  only 15/16 types of problem  that circled around  us.  And  they are  very  basic in nature. And how many times , we  will  publish a new  prayog  for same problems??? ,  what is   the necessity ?,,, but  no , need  is here. since this is  just like  that   in any sweet  what is  that ?  it s the  mix of  besan,  khoya and  sugar, means  these are the basic  element   in making process of  any  sweet, but there are very different types of sweets  prepared and   that also  have  very  different taste.
 In the same  way , whether  the sadhana  is easier one  or simpler one or  difficult one or that has  been made  only  for a specific purpose   , it does not necessary that   that will suits to  each and  every person’s mental condition .. for that period….  Considering thses facts  . getting success in  education,  success in job, happy  domestic   atmosphere in  your home , and having  a very suitable  life  partner in your life and  not only this , but having success   in sadhana  also   relate d to the  unknown forces , whom  we call  bhagy….
And  what is the bhagy  or luck,, it  is  nothing  but  the  sum of all the result  of our   work dose in past or in previous  lives   and  what else.. now its  up to you  to simply bear the result or    taking  help  from  any sadhak  or sadhana   neutralize  its  harmful effects.
 That simply means    you want to   success  in the life the  first thing you need  to wake  the luck
 There are  many prayog  that  has  been instructed  to all  of us,  by  our poojya Sadgurudev  ji, regarding    bhagy  related issue  or  related  to nav grah  dosh  related   issue., since  till now  both things  is  in your favors   how   can you get success in  the desired amount in  a particular  direction . How  can  one  able   to get  success in sadhana , many  sadhak  with full devotion  does the sadhana even  some  bigger  one,  but one thing they  often  neglect that   without having  a   bhagy  how  they  can get  success in those.
This is the prayog  is that   you have  to select  sukl paksha   that   always   available  in  a half part of every month. In that chose , hast  star day. For  writing the  yantra,   we already  provided   some  basic guideline  ,  but you have to  careful  that  in this  time  you have to take   haldi   ( turmeric  ) or kesar  as a ink. And   you have to do  whole  process in the evening,
And after that   do  poojan of this  yantra  and  if  this  yantra is  written on  any bhojpatr  that  will be much  better, and   put it in your  pocket ,  than naturally  your  bhagy  vardhan will  be started   means   you will feel  the things  your self in changing circumstances in your life they are  more    positive..
 And    if you  want to have  more   specific power   in this  yantra , do pray to  bhgvaan Ashutosh , and in front of  his situate(murti)  , do write  101  times  this yantra   in     paper (separately ), and  offer  them with each times   you have to speak    your wish , and  pray to him   for your success

****NPRU****

1 comment:

Nikhil Devraj said...

bhaiya ye yantra ke ek column me number ke jagah kuch aur likha gaya hai, kya ye sahi hai?