There was an error in this gadget

Friday, September 2, 2011

Purv Jivan Darshan Sadhana


मानव  जीवन एक अनत लम्बाई  लिए  हुए श्रंखला   में ही गति शील  ही  हैं , यदि आज के जीवन  को  बर्तमान  माने  तो इसका  भविष्य  और  भूतकाल भी तो होना ही  चाहिए  ही ,  जीवन को एक रस्सी मान  ले  और  उसके मध्य  के  किसी भी  भाग के पकड़ ले  तो  निश्चय  ही   कहीं तो उसका  प्रारंभ  होगा और  कहीं तो उसका अंत  होगा ही भले  ही वह हमें दृष्टी गत   हो  या  न हो, ठीक  इसी  तरह हमें हमारा  न  अतीत मालूम हैं न  भविष्य  हम मध्य  में कहाँ  हैं , कहाँ जायेंगे यह सब  भी नहीं मालूम ,  
  जीवन के अनेक प्रश्नों  का उत्तर इतना आसान  नहीं हैं , की मात्र  कुछ तर्क   और वितर्क से  वर्तमान  जीवन  की सारी उच्चता   और  विसंगतियों को समझा  जा  सके .उसके समझने के लिए  पूर्व जीवन दर्शन होना ही चाहिए ,  तब पता  चल सकता हैं  की  मेरे जीवन में ऐसा  क्यों हैं  इसका कारण क्या हैं  , और जब ये समझ में आ जायेगा  तो  उसके निराकरण  के  उपाय भी  खोजे जा सकते हैं .
 अन्यथा,पूरा  जीवन एक अनबुझ पहेली  सा बन कररह जायेगा , अपने देश  में  तीन महान  धर्म  का  उदय  हुआ  हैं ये  हिन्दू , बौद्ध  और जैन  धर्म हैं , आपस में इनके कितने भी  विरोधाभास   दिखाए  दे पर  एक बात पर  सभी एक मत हैं की कर्म  फल तो  प्राप्त    होता   ही हैं   और सहन करना  ही पड़ेगा  
 वेदान्त कहता  हैं -हाँ हमने  ही उस कर्म का निर्माण  किया हैं तो हम ही उसे समाप्त कर भी  सकते हैं , पर कैसे  उसके लिए  कारण भी  तो जानना  पड़ेगा  न ,
 आज के जीवन में  यही क्यों मेरा भाई  हैं या मेरे निकटस्थ  होते  हुआ भी इनके प्रति मेरे स्नेह सम्बन्ध क्यों नहीं  हैं , क्यों  दूरस्थ  होता  हुआ  भी व्यक्ति  अपना सा लगता हैं,  क्यों इतनी  गरीबी या शरीर में इतने  रोग  हैं  आदि आदि अनेक  प्रश्नों के उत्तर  भी मिल जाते हैं ,
  क्या इस जीवन में  जो गुरु हैं या सदगुरुदेव हैं  क्या  वह   विगत  जीवन में भी या  उससे  भी  पहले के जीवन से जुड़े  हैं और क्या कारण  था  की /और कहाँ  से संपर्क टुटा , सब तो इस  पूर्व जीवन  दर्शन से  संभव  हैं,
  आजकल अनेको  प्रविधिया  विकसित हैं ध्यानके माध्यमसे व्यक्ति  धीरे धीरे  पीछे जा सकता  हैं पर  ठीक    बाल्य काल  की    ४ वर्ष कि आयु से पहले जाना  बहुत  ही कठिन हैं , इस अवरोध को पास करना  कठिन हैं .
सम्मोहन  भी एक विधा  हैं पर   उसके लिए  उच्चस्तरीय  सम्मोहनकर्ता होना चाहिए , साथ ही साथ  मानव मस्तिष्क इतना शक्तिशाली हैं  की  वह  जो नहीं हैं वह  भी आपको दिखा सकता हैं , इन तथ्योंको  जांच करना  जरुरी हैं .
  साधना क्षेत्र  में  भी अनेको साधनाए हैं पर सभी इतनी क्लिष्ट  हैं  इन सभी   को ध्यान में रखते हुए  एक सरल प्रभाव दायक  साधना  आप सभी के लिए ..
 मन्त्र :
क्लीं पूर्वजन्म दर्शनाय फट्
सामान्य साधनात्मक  नियम :
·  जप में  काले  रंग की हकीक माला का उपयोग करें
·  साधना  बुध वार से प्रारंभ करसकते हैं 
·  जप काल में  दिशा  दक्षिण   रहेगी 
·  साधन काल में  धारण  किये जाने वाले वस्त्र और आसन  लाल  रंग के होंगे 
·  धृत के दीपक को देखते हुए  रात्रि काल १०  बजे के बाद(10PM) मे 31 माला  मन्त्र जप होना चाहिए 
·  यह क्रम ११ दिन तक चले अर्थात   कुल ११ दिन  तक साधना चलनी चाहिए .
 सफलता पूर्वक होने पर आपको स्वप्न या तन्द्रा अवस्था मे पूर्व जन्म सबंधित द्रश्य दिखाई देते है.  जिनके माध्यम से आपके जीवन की अनेक रहस्य  खुलती जाती हैं. 
आज के लिए बस इतना ही 

***************************************************************************                              This  human life is an integral/ very small  part of  a infinite lengthy  chain ,  if we consider  this  life as a present than  past and future  will definitely  be  there. If you  consider   life as  rope and   in any middle part   you touch than  you can  surely knew that there must  be somewhere  beginning  and  so there must be  some there end,  but we can  not see that ,  but  this is true , we don’t  know where we came  from and where we will go .
 The answer of Many question’s  of life are  not so easy to answer, we cannot  justify  the any problem’s with through  logic only , so we need to see the past lives so that we can  understand  why we behaves like that , reason   behind of various cause/events  that , if we know the cause than we can  search the remedy of that  problem.
 Other wise  our whole  life  became  a just a puzzle , here in our  country  three  great  religion comes   Hindu, jain and  bouddh , in spite  of various differences and beliefs they all are agreeing on a point   that there “a law of karma” applicable everywhere and what  you sow  ,you must  be reap.
  Vedanta says – yes if created the past karma  than we can also remove  or destroy that ,but how  ? for that again we need to know the  cause,
 In this life  ,why this is my  brother  or  this fellow is very near to me but  still  I did not  get enough feeling for  him,   and on the other hand  that one  is living  very  distant land  , and we have  strong attachment to that why?. Why I am  so poor  or  why so many dieses happened to my body, alike all  theses question also get answered.
 The Sadgurudev or guru of this   life, whether  they are alsobe my guru/Sadgurudev   in the past life  . What is the reason why our connection got  broke, so  this all  can be easily known.
There are so many   process available today , through meditation you can  go backward but crossing the  line of  childhood age  of 4 years memory   is very  very difficult,  the hypnotism is also a  very powerful medium,  for  that you have to be  a very expert in that science, but always  remember that our mind is  also a  powerful medium , it can fool you,  so the cross checking of various facts must also be necessary to arrived a  conclusion.
There are many sadhana for this  purpose  in sadhana jagat  and they are quite lengthy, so here is one which  very easy  and effective  for you all..
Mantra:
Kleem purvjanam darshnaay  phat
 General rules :
·  For  jap  you can use   black hakik rosary/mala .
·  Sadhana can be started on any Wednesday.
·  Direction would be  south  facing.
·  The clothes and aasan would be of  red in color.
·  Light up an earthen lamp  filled with ghee and sadhana  should be started after 10  pm(night), and each day 31 mala should  be done.
·  While doing Mantra jap ,Tratak on that  earthen lamp (Deepak) is necessary .
·  This sadhana should be done  11 day in continuous .
 On successfully completing this sadhana you will  get  glimpse of  your past life in dreams. and many mystery of your life get solved.
 This is enough  for today .
****NPRU****

3 comments:

pritesh said...

Thank you for posting this sadhana. This is really very usefull and simple process. Please send us more such useful and effective sadhana so that we can do the sadhana. I request you to post few sadhana for spiritual life like akash gaman, sukshma sharir dharan,siddha pratyakshikaran sadhanas.. Thank you

pritesh said...

Thank you for posting this sadhana. This is really very usefull and simple process. Please send us more such useful and effective sadhana so that we can do the sadhana. I request you to post few sadhana for spiritual life like akash gaman, sukshma sharir dharan,siddha pratyakshikaran sadhanas.. Thank you

rahul, Pune said...

प्रिय भाई

प्रणाम

यह तो बहुत ही अच्छी साधना है, पूर्व जन्म जाननेकी, मैं जरूर करना चाहूँगा, पर भाई क्या पाप दोष निवारण या पूर्वजन्मकृत पाप दोष निवारण के लिए कोई सरल साधना है ? क्युकी पढ्नेमें आया है की पाप दोष /पूर्वजन्मकृत पाप दोष की वजह से बहुत बार अन्य साधनाओ में जल्दी सफलता नहीं मिल पाती है, तो अगर पाप दोष निवारण या पूर्वजन्मकृत पाप दोष निवारण के लिए कोई सरल साधना हो तो कृपया पोस्ट कीजिये, बड़ी कृपा होगी.

धन्यवाद

आपका राहुल