There was an error in this gadget

Wednesday, September 14, 2011

TantraKaumudi's seveventh issue will be releesed on



प्रिय मित्रों ,
आप सभी  को यह बताते हुए  हमें प्रसन्नता  हो रही हैंकि   15 sept 2011   को तंत्र कौमुदी  का सप्तम अंक  "तीक्षण शक्ति साधना और  इतर योनी साधना महाविशेषांक " शाम ६ बजे के बाद  किसी भी समय  यह अंक  आपको  हांथो में पहुंचना  प्रारंभ हो जायेगा , वेसे  तो    किसी भी अंक  को उसके  आकार से नहीं बल्कि उसमे क्या क्या साधना आई हैं उससे  उसका मूल्याङ्कन करना  चाहिए , और जीवन  में परिवर्तन  करने केलिए  एक साधना   भी काफी हैं  फिर  भी  हर बार की तरह इस  बार  भी हम सभी ने  पूरी  कोशिश  की हैं   जितनी भी उच्च कोटि का बहुमूल्य ज्ञान  आपके पास संभव  हो उसे हम पहुंचा सके

अब हम कितने    कामयाब इस  बार  हुए हैं  यह तो आपके  इ मेल और  comments बताएँगे  हैं,  हाँ आप अपने ऑनलाइन  comments  face book  पर "nikhil-alchemy "ग्रुप में  भी  ज्वाइन करके   दे सकते हैं उस  ग्रुप में  ब्लॉग के अतिरिक्त भी अनेको पोस्ट आपका   इंतज़ार कर रही हैं  लगभग  500 हम गुरु भाई बहिन आपका वहां पर इंतज़ार कर ही रहे हैं  .सभी गुरु भाई बहिनों से  वहां पर आपस में विचार विमर्श चलता ही रहता  हैं , सभी अपने अपने  भावनाओ से  , अपने अनुभवों से एक दुसरे के साथ बाँटते रहते हैं , यदि आप अभी तक  इस  face book  के nikhil-alchemy ग्रुप के सदस्य   नहीं हैं तो मैं आपको आमंत्रित करता हूँ की आप  आये ..

इस बार  की  तंत्र  कौमुदी  का यह अंक   हमने  सोचा हैं की  हम   उसके  दो version  release करे ,

पहला -  जो  जिप  फॉर्मेट में रहेगा  पूरी   तंत्र कौमुदी  का  पूरा अंक एक ही  pdf  फाइल में होंगी ,तो आपको डाउनलोड  करना में भी बहुत आसान होगी .

दूसरा - पर हज़ारों की संख्या में बहुत सारे कुछ हमारे  प्रिय  गुरु भाई बहिन  मोबाइल पर  ही ओपन करते हैं , और उस  में पढ़ पाते  हैं   तो उनके  लिए आसानी  कैसे  हो  ??यह सोच कर  हमने  केबल शुरुआत के  कुछ आवश्यक पेजों  को छोड़ कर बाकि पूरी  इ पत्रिका  केबल  टेक्ट  फॉर्मेट में होगी उसमे कोई भी चित्र  नहीं होगा ,  केबल heading और articles  तो साइज़  भी बहुत कम  हो जाएगी .और आप सभी को आसानी होगी ,

सभी को  दोनों  version भेजे जायेंगे ,  अब जिसको  जो  और जैसे पढना  हो वह स्वतन्त्र  होगा .

 पर  आपलोगों को अपनी  प्रतिक्रिया   तो इस बार से  तो मुक्त ह्रदय  से  भेजनी   होगी   ,यही  हमारा आपसे विनम्र  अनुरोध हैं अब आखिर इतना  तो हम गुरु भाइयों  का  भी आपसे स्नेह अधिकार   हो ही गया हैं .  
कल शाम  का   इंतज़ार करे 

*****************************************************************************************

Dear friends ,
 we are very happy  to inform you  that  on 15 th sept 2011  after   6 pm  evening time, tantra kaumudi’s seventh issue  “TEESHAN SHAKTI  SADHANA AND ITAR YONI SADHANA  MAHAVISHESHANK”  is  going to released. as one should not judge  its value from the size of  e mag    but should analysis/understand   its  value  from the sadhana it contains.  One sadhana is enough to change  your whole life  and personality. But even though ,we did  our very hard work   to provide as much as high qualitative knowledge as possible  from our side to your hand  .
 How for we succeed   in our effort , that will only  be judge/reflects by  your e mails and comments. Yes , you can  provide your highly valuable   online comment through  facebook  Nikhil-alchemy group, there  many more  post apart  from blog , are waiting for you, and    approx 500  our guru brother and sister are welcoming  you  there. Where we all , are expressing our feeling  ,our experience   to each other., if you are  , still not a  member of this  face book  group , than I  request you to join  this Nikhil-alchemy facebook group.
 As we have decide   from this   issue  , we are going to release two version of same  issue .
First ; this will  be in zip format  so that complete issue  be in  one file , much lesser size than previous time  and  for downloading will be  much easier.
Second: we all are already aware  of your  feeling that   there  are thousand of  our  guru brother  and sister ,  who are accessing this e mag  from mobile only , from them zip format is not suitable  so we made  one more version, in that apart  from some initial photo graphs , remaining e mag with only   in txt format  means  only  heading and  articles  and  no photographs.
Both version will be sent  to all of you  ,now it  purely depends upon you ,which one you like  to read as per your needs.
But  from this issue its  our request  that  we are  really waiting for  you  kind  comments  and  you   have  to send  that to  us, after all  its  your love /sneh  gives us courage  to made  this request  you all as a   guru brothers .
 So wait for  tomorrow evening .
****NPRU****

4 comments:

ravi said...

guru bhai aap ko namaskar TantraKaumudi's seveventh issue mein aap ne itni gyan vardhak aur durlabh gyan uske liye aap ko kauti kauti pranam .Aur guruji se aur prabhu se vinti karta hun ki aap ko lambi umr aur sadd budhhi praddan karte rahein aur apni kirpa dristi sadaa banaye rakhe .

vikky said...

jai gurudev!dear sir aapne jo tantra kaumudi ka seventh issue bheja hai bahut hi saral bhasa me aur bahut hi gyan vardhak hai.aap logo ki mehnat or apne guru ke prati prem dekh kar mera bhi man karta hai ki kaas kuch samay mai bhi gurudev ke samaksh bita sakta.........

gurubhai said...

JAY GURUDEV
PRANAM

PLZ HELP KOY MUZE TANTRA KAUMUDI KE SABHI ANK PLZ MUZE SEND KARE ME PAHELE SE HI SADASYAHU PAR AABHI BHI ME INKA LABHA NAHI LE SAKA PLZ HELP MUZE SABHI ANK BHEJE


OR AAP JO PDF PAGE LIKHTE HE VO MERE ME NAHI KHULTA TO PLZ KOY DUSRI FAIL ME YA LEKHAN ME PLZ BHEJE


OR PLZ MENE BLOG ME PADH TH KOT BHOOT KI TEEN DIN KI SADHNA HE TO PLZ MAHERBANI KARI NE AAP MUZE EMAIL KARKE PLZ LIKHKE VO SADH NA MUZE SEND KARE PLZ

MY ID

gurubhai_yogesh@yahoo.in

gurubhai said...

jay gurudev

muze sampurn sammohan vigyan sikhna he jo sayad 28 dinka he to kya me vo shikh saktahu plz muze kahe to usake liye muze kya karna ho ga plz kahe kyu ki muze aasho mahi name vo shikhna he