There was an error in this gadget

Thursday, September 29, 2011

Vashikaran Prayog through Bhagwaan Ganesh Sadhana


"वशीकरण एक मंत्र  हैं तज दे वचन  कठोर ", पर  मीठी  बोलने  वाले  को या  तो चापलूस कहा जा ता हैं या फिर कमजोरी  की संज्ञा  दी जाने लगी  हैं , तो अब क्या  किया  जाये , यह सत्य हैं पौरुषता   और जीवन पर व्यक्ति का दृढ़  नियंत्रण   होना ही  चाहिए , पर  मधुर वाणी का  अपना ही सौन्दर्य हैं ही , पर  कभी कभी परिस्थिति ऐसी निर्मित हो जा ती हैं  की  आपके सभी  तीर निशाने पर नहीं लग रहे हो , तब आप क्या करेंगे  
कितना समझाए , कितना मनाये , पर जब आपका  कोई प्रिय आपकी बात समझने  को तैयार ही न  हो रहा हो ,और ठीक  ऐसा ही   ही तब जब हमारा कोई सहयोगी  हमारी कार्यों  में अपेक्षित  सहयोग  न दे रहा हो , तब क्या करें . जहाँ साम  दाम दंड  भेद सभी   विफल  होते  दिख रहे हो ,  तब जीवन  की , अपने परिवार की , अपनी खुशियों की सुरक्षा करने के लिए यदि आप इन  प्रयोगों   का सहारा ले ते हैं तो यह किसीभी दृष्टी से अनुचित  नहीं होगा , हम किसी की ख़ुशी छीन तो नहीं रहे हैं न 
 सदगुरुदेव   कहते हैं  इन प्रयोंगो की एक अपनी  ही सत्ता हैं एक अपना  ही संसार हैं और  उन्हें हेय दृष्टी से नहीं देखना  चाहिए , यदि हम किसी  की बेबसी और कमजोरो का फायदा यदि  इन प्रयोगों के माध्यम से नहीं उठा  रहे  हैं तो , यदि अपने  जीवन को अनुकूल बना रहे हो तो ..

सदगुरुदेव ने अनेको प्रयोग इस सन्दर्भ  में  दिए हैं  ही आप मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं  के अनेको अंक में देख सकते हैं

किसी भी प्रयोग को करते समय आपकी मनोभाव कैसी  हैं उस पर  ही तो टिका  हैं साधना  का सौन्दर्य , और  हम सभी सदगुरुदेव के  आत्मंश  हैं  तो भला  हम कभी कैसे ,सामाजिक मर्यादा , के अनुचित कोई काम करेंगे , सदगुरुदेव  भगवान् ने हमें हमेशा  एक सुसंश्कारित  ,सभ्य , योग्य  और स्नेह भरे साधक  बनने  को कहाँ हैं  ,न  की अपने घमंड में  डूबे हुए गलिया  दे दे कर बात  करने वाले , पर हमें यह भी नहीं भूलना  चाहिए  की  उन्होंने सर्वाधिक  किसी व्यक्ति का  उदाहरण  दिया हैं तो वह भगवान् श्री कृष्ण  का  ही वह इसलिए  की  एक सीमा के बाद .. फिर ... 

हमसभी के  लिए  तो हमारे पिता (सदगुरुदेव )का  जीवन से ज्यादा और  क्या मार्ग दर्शन दे सकता हैं . उनके  जीवन का एक एक पन्ना , एक एक अक्षर , एक एक पल  हमारे लिए  तो ही था  न ..उनका पवित्र जीवन स्वयं  ही हम बच्चो के जीवन की दिशा  को मार्ग दिखाते  रहेगा  , इसी भावना  को सामने  रख कर  यह अत्यधिक सरल   प्रयोग  आप सभी  भाईबहिनों के लिए .. 

ॐ ग्लौं  रक्त गणपतये नमः

साधनात्मक नियम :
·         आपकी दिशा  :उत्तर/पूर्व होनी चाहिए .
·         यह प्रयोग आप , चूँकि यह  भगवान् गणेश से सम्बंधित हैं  अतः बुध वार से प्रारंभ किया  जा सकता हैं . 
·         आसन और  वस्त्र लाल  रंग के  होना चाहिए 
·         .इस मंत्र का मूंगा की माला से   होना   चाहिए .
·         आपको प्रतिदिन १० माला मंत्र जप १० दिन करने चाहिए ,
इस प्रयोग को सफलता  पूर्वक  करने के बाद  जब ज़रूर पड़े तब इच्छित व्यक्ति की तस्वीर सामने रखते हुए १० माला का इस मंत्र से जाप करने पर व्यक्ति मनोकुल हो जाता है
आज के लिए बस इतना ही 
********************************************************************
        “vashikaran ek mantra hain taj  de bachan kathor “  roughly meaning is that ,if  you are a  soft and polite spoken  so definitely people  attracts towards   you,   so secret of  vashikaran is that  avoid  harsh and  rough  word  to anyone., but   the person who speak  very  softly sweetly often consider weak. Or  this is  consider as a sign of his/her weakness. It’s  true that person should  speak forcefully   but  sweet  spoken  style  has a own beauty . but sometimes such a  scene or circumstances created that all your effort fails  or  not producing the result. Than what you will  do.
 How many  times  or how much ,you can give  explanation to your near and dear one  but when he/she  refused to listen. And  that also applicable  to   your colleague  , in work place  ,when he  is not willing to help you.  Than what to do?? .where nothing seems to work, then to protect your family,  your life ‘s happiness , if you go for  such a prayog than  nothing  wrong in it . we are  not snatching happiness  from any other.
Sadgurudev  used to say that  theses  prayog  has  their  own value , a unique  world  and  should  not consider that  with   low respect. If we are not taking undue advantage  of any one’s  problem and  circumstances , we are  just  making our life little easier than..
Sadgurudev   has  given so many prayog in this  relation   in the  magazine mantra  tantra yantra vigyan. You can see your self.
While attempting any  prayog,   what is  your feeling  and will  and  mindset  is  the basic foundation on  that depends the beauty of sadhana, and if we are  the  soul part  of Sadgurudev ji  than  how can, we ever  do  any  work .that is  not as per common  society rules, Sadgurudev Bhagvaan always advised  us  to be a sadhak who  well cultured, polite , and  filled with sneh/love, so he never advocated that  we should be like those sadhak who  used to abuse any body and  totally immersed in their  own ego. But  this also be remember that   the one person  about whom, he  give many example is  Bhagvaan shri Krishna , that is  only ,,since up to a point  everything is fine  and ok , if any one crosses the limit than…
 For all of us  what more  be valuable,  what  will be more guiding star  compare to our common father life (Sadgurudev). each moment ,each minute, second , and each page of his divine  life is only and only  for us. his  such a pure divine  life itself a  guide light  for all of  his children  like us, keeping this  feeling  this simple prayog  for all  of you.
 Om  gloum  rakt   ganpatye   namah

General  rules:
·         Direction should be  north east facing.
·         As this  prayog is related to  Bhagvaan ganesh   than  start with any Wednesday.
·         Clothes and  aasan  should be  of red color.
·         Each day you have  to  chant 10 round of rosary (10 mala)per day  for  10 days.
·         Mantra jap should be done by  red colored  munga  mala.
When this  prayog successfully completed  than  place  any desired person’s photograph in front of you  and do only 10  round of rosary , than  he will be  more cooperative to you.
 This is enough for today
****NPRU****

No comments: