There was an error in this gadget

Tuesday, October 25, 2011

नखनिया तन्त्र -(मनोवांछित धनप्राप्ति की अद्भुत साधना)




  कल्पेश नाथ ,सदगुरुदेव के अघोरी शिष्य हैं और आज भी बहुधा वाराणसी में हरिश्चंद्र घाट के विपरीत वाले गंगा तट पर साधना करते और विचरते मिल जायेंगे l सदगुरुदेव जी की कृपा से मुझे उनसे १९९६ में मिलने का गौरव प्राप्त हुआ था  l जब मैं माँ विशालाक्षी के मंदिर में श्री सायुज्य तंत्र सिद्धि साधना कर रहा था उस काल में मैं वाराणसी में ६ महीने रहा हूँ , और सदगुरुदेव ने बताया था की इस साधना के लिए उस मंदिर से बेहतर स्थान कही और नहीं हो सकता है l और वाराणसी के मणिकर्णिका घाट के विपरीत तट  पर सदगुरुदेव ने विश्वनाथ साधना ,अघोर कपाल प्रोक्त धूर्जटा साधना और ६४ कृत्या साधना संपन्न की थी ,उस दौरान वे यहाँ पर बहुत लंबे समय तक रहे थे l उन्होंने मुझे बताया की अघोर साधनों के लिए ये स्थान सर्वाधिक सिद्धिप्रदायक स्थान है ,अघोर साधनों के ऐसे ऐसे रहस्यों को समेटे हुए है नगरी की क्या बताएं l विभिन्न सम्प्रदाय के सिद्ध साधक आज भी आपको वहाँ छोटी छोटी गलियों में रहते हुए मिल जायेंगे और सामान्य रूप से उनका व्यवहार इतना  सहज होगा की आम मनुष्य तो उनकी विलक्षणता पर ही विश्वास नहीं कर पायेगा l सदगुरुदेव ने यही पर कल्पेश्नाथ को पूर्ण अघोर सिद्धि दीक्षा प्रदान की थी ,और बस तबसे कल्पेश नाथ इसी काशी को अपनी साधना भूमि और कर्मभूमि बनाकर सतत आत्मोत्थान के लिए साधनारत हैं lआज भी यदि कोई प्रयास करे तो वे वाराणसी के किसी न किसी घात पर विचरते हुए मिल ही जायेंगे l खैर मुझे वहाँ रहते हुए २ महिने हो  चुके थे और मेरा साधना क्रम भी बहुत अच्छी तरह गतिमान था ,मैं नित्य ८ घंटे साधना करता था ,रात्रि में देर तक साधना करना और सुबह ३ बजे गंगा जल में दुबकी लगाकर उसी जल में खड़े होकर ६ बजे तक नित्य संध्या वंदन करना मेरा नित्य क्रम था ,ऐसे ही एक दिन जब मैं स्नान करने के लिए गंगा जी में उतर रहा था तभी मैंने देखा की  गंगा जी की लहरों पर कोई प्रकाशपुंज चलता हुआ आ रहा है, मुझे ताज्जुब हो रहा था की क्या मैं कोई सपना देख रहा हूँ , परन्तु कई बार आंखे मलने पर भी दृश्य ज्यों का त्यों ही था . . . . धीरे धीरे वो प्रकाश पुंज मेरे सामने से निकल गया और सीढ़ियों की और अग्रसर हो गया ,मैंने पलट कर देखा तो लंबी लंबी जटाओं वाला, काली धोती पहने,सांवले रंग का एक अघोरी रुद्राक्ष और मानव अस्थियों की माला पहने हुए सीढ़ी चढ़ रहा था ,मैं भी झटपट उसके पीछे पीछे चलने लगा ,हालाँकि वो चल रहा था और मुझे कदाचित दौडना पड रहा था , परन्तु फिर भी मैंने उन्हें नजरों से ओझल नहीं होने दिया ,वे चलते हुए विशालाक्षी मंदिर के सामने खड़े होकर कोई अभ्यर्थना करने लगे और देखते ही देखते उस दिव्य मंदिर के कपाट खुलते चले गए, अघोरी भीतर जाकर माँ के विग्रह के सामने वज्रासन मुद्रा में बैठ गए औए अकम्पित भाव से मन्त्र जप करने लगे , मैं भी चुप चाप उनके पीछे बैठ गया l एक घंटे के बाद वे उठे औए उन्होंने साष्टांग दंडवत किया और प्रणाम के बाद मेरी और पलट कर कहने लगे की “तू तो नित्य माँ गंगा की गोद में संध्यावंदन करता है और आज का क्रम छोड़ दिया”l
मैंने कहा -  नहीं मैं अभी जाकर वो क्रम पूरा करूँगा,मैं तो आपको गंगा जी की लहरों पर चलता देखकर उत्सुकता वश आपके पीछे पीछे यहाँ चला आया l आप कौन हैं और ये सब कैसे करते हैं ?
अरे हम दोनों ही परमगुरु निखिल के शिष्य हैं ,और मैं तेरा ही ज्येष्ठ भाई हूँ,अब तू ही बता की भला उनके शिष्यों के लिए कुछ असंभव होगा l अरे जीवन का सौभाग्य होता है की वे हमें दीक्षा दे दे ,उसके बाद तो जीवन भर की निर्भयता और पूर्णता साधक के पीछे पीछे घूमती रहती है –उन्होंने कहा l
उसके बाद उन्होंने बहुत सारी बाते बताई और तबसे जब तक मैं वहाँ रहा , नित्य ही हम घंटो बाते करते l मैं नित्य ही नाव से उस पार चला जाता और उनसे सदगुरुदेव और अघोर साधनाओं के बारे में बात करता, आज भी जब कभी मैं वाराणसी जाता हूँ तो यथा संभव उनसे मेरी मुलाकात हो ही जाती है ,उन्होंने बताया था की उनकी कई बार सदगुरुदेव की कृपा से अघोर शिरोमणि त्रिजटा अघोरी जी से मुलाकात हो चुकी है और उनके सानिध्य में उन्होंने बहुतेरी साधनाएं भी संपन्न की हैं l
विगत वर्ष जब मैं कामाख्या से वापिस आ रहा था तो मैं बनारस में ही रुक गया था, तब अनु भाई और राजू भाई श्री अरुण कुमार शर्मा जी से मुलाकात के लिए चले गए थे और मैं कल्पेश भाई जी से मुलाकात के लिए चला गया था lउन्होंने माँ कामाख्या का दिव्य जल और वस्त्र मुझे लाने के लिए कहा था l
तब मैंने उनसे पूछा की –क्या आज भी आपकी त्रिजटा जी से बात होती है ?
हाँ अभी कुछ दिनों पहले ही मैं उनके पास से वापिस आया हूँ ,वे थोड़े समय के लिए सिद्धाश्रम से वापिस गुह्येश्वरी आये हुए थे lतुझे पता है की गुह्येश्वरी कहाँ है ?
जी भाई जी मैं वहाँ पर रहा हूँ और मैंने वहाँ गुह्येश्वरी साधना क्रम भी  ६ हफ़्तों तक किया हैl बहुत ही भव्य स्थान है ये नेपाल का  l
हाँ हाँ वही पर उनके साथ था मैं lकुछ साधनों की जानकारी लेनी थी ,इसलिए मेरी प्रार्थना पर उन्होंने मुझे बुलाया था l
खैर ये सब तो अलग बात है , जब मेरी कल्पेश भाई से पहली बार १९९६ में मुलाकात हुयी थी तो उन्होंने एक छोटी सी  करीब ११८ पेज की डायरी मुझे दी थी और कहा था की ये अद्भुत साधनाओं से युक्त डायरी है जो मुझे सदगुरुदेव से प्राप्त हुयी है ,अब इसे तू रख ले ,इसमें दी गयी सभी साधनाएं एक ही तंत्र की हैं,और निश्चय ही इसके द्वारा असंभव को भी संभव किया जा सकता है l
मैंने जब उसे खोला तो उसमे लिखा हुआ था  “शिव प्रोक्त नखनिया कल्प सूत्र” l
वस्तुतः  नखनिया तंत्र एक पूर्ण तंत्र है जिसके द्वारा धन और ऐश्वर्य तो चुटकियों में प्राप्त किया जा सकता है और कई असंभव कार्य को भी संभव किया जा सकता है  ,सदगुरुदेव ने इसी तंत्र की एक साधना बहुत पहले हमारी परम प्रिय “मंत्र तन्त्र यंत्र विज्ञानं” पत्रिका में दी थी ,और हजारों साधकों ने उसका लाभ उठाया था ,वह साधना भी इस हस्त लिखित ग्रन्थ से उद्धृत है ,और ये ग्रन्थ सदगुरुदेव द्वारा ही लिखा गया है l उस ग्रन्थ में लक्ष्मी प्राप्ति के २६  नखनिया प्रयोग दिए गए हैं l
आज उन्ही में से एक और विलक्षण प्रयोग मैं यहाँ दे रहा हूँ ,ये मात्र एक रात्रि का अर्थात दीपावली या किसी भी अमावस्या का प्रयोग है l
जीवन के समस्त आर्थिक अभावों को इस एक दिवसीय प्रयोग के माध्यम से दूर किया जा सकता है , दीपावली की रात्री को महानिशीथ काल में (११l२४ से १२l४८)  उत्तर दिशा की और मुह करके लाल वस्त्र धारण कर के लाल आसन पर बैठ जाये और सामने जमीन पर सफ़ेद कपडा बिछाकर उस पर कुमकुम के द्वारा निम्न यन्त्र अनामिका  ऊँगली के द्वारा बनाये यन्त्र बनाते समय “ॐ लक्ष्म्यै नमः” मंत्र का उच्चारण करते रहे l  
याद रखने योग्य तथ्य ये है की यन्त्र के खाने चाहे कही से बनाये परन्तु यंत्र में अंक १ ,२,३,४ इसी क्रम से भरना है ये आदि क्रम है  ,और लक्ष्मी स्थायित्व में इसी क्रम का प्रयोग होगा l अब इसी प्रकार जहाँ १ लिखा है वहाँ ७ फूल वाली लौंग रख दे ,जहाँ २ लिखा है वहाँ ३ इलायची ,जहाँ ३ लिखा है वहाँ ७  काली मिर्च ,
 ४ – थोड़े से काले तिल
 ५ – थोड़ी सी पीली सरसों
 ६ – थोड़ी सी काली सरसों
 बाकी जगह पर अलग अलग रुपयों के सिक्के जैसे १,२,५ या १० रूपये के १-१ सिक्के

इसके बाद निम्न मन्त्र का १५ मिनट तक उच्चारण करते हुए सभी सामग्रियों पर कुमकुम अर्पित करे और  तिल के तेल का दीपक lलाल पुष्प और गेंहू के आटे का हलवा भोग लगावे
मंत्र-
लक्ष्मी तू नखनिया कहावे बिष्णु तेरो भरतार,बैरी तोड़े दरिदर तोड़े,तोड़े कष्ट हजार
हजार दुःख दुनिया का तोड़े ,एक दुःख मेरा भी तोड़ ,भर दे धन झोली करतार ,
जो ना भरे तो बिष्णु की दुहाई ,शक्ति की लाज राखे ,छू
    और इसके बाद १ घंटे तक स्थिर भाव होकर निम्न नखनिया मंत्र का जप करे  ,यदि कमलगट्टे की या मूंगे की माला हो तो अतिउत्तम  है अन्यथा वैसे ही जप करे l
मंत्र -
ॐ श्रीं सर्व सौभाग्य ह्रीं आकस्मिक धन सिद्धिम् देहि देहि नमः
 दूसरे दिन सुबह सभी सामग्री को उसी कपड़े में थोड़े और पैसे डालकर और लपेट कर तिजोरी या धन रखने के स्थान पर रख दे ,प्रति शुक्ल पक्ष की अष्टमी को इस पोटली को खोलकर इस में बगैर देखे थोड़े से और पैसे डाल कर लपेट दे और धुप बत्ती दिखाकर वापिस रख दे lयाद रखना की पोटली के भीतर नहीं झांकना है है,इसलिए उसे थोडा सा ही खोले और थोड़े से पैसे डाल कर पुनः लपेट दे l अगली दीपावली या जब १ वर्ष पूरा हो जाये तो किसी भी नदी में ले जाकर उस पोटली का विसर्जन करदे और विसर्जन के पहले पैसे निकाल कर किसी मंदिर में या कुमारियों को भेंट में दे देl इस प्रकार आप प्रत्येक वर्ष इस प्रयोग को कर सकते हैंl और जब तक ये पोटली आपके घर में रहेगी आपको कभी भी आर्थिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा ,लगातार आपको आकस्मिक धन की प्राप्ति होती रहेगी और  प्रचुर धन प्राप्ति का जरिया बना रहेगा lनवीन स्रोत का निर्माण होता जायेगा lऔर  ऐश्वर्य भाव को स्थायित्व प्राप्त होगा यदि इसी यन्त्र का निर्माण किसी सफ़ेद वस्त्र पर करके उसकी थैली बनवा ली जाए और पुनः उसके ऊपर यंत्र बनाकर पूर्वोक्त विधान कर लिए जाये परन्तु ये मन्त्र जप १४ दिनों तक नित्य १०१ माला करना होगा और अंतिम दिवस ऊपर जो सामग्री रखी हुयी हो उसे झोली के अंदर डाल दिया जाये और हर शक्ल पक्ष की अष्टमी को उस झोली में धन राशि डालते चला जाये तो भविष्य में जितने भी धन की जरुरत आपको हो उतना धन आप उस थैली में से निकाल सकते हैं,परन्तु ना ही तो आप उस थैली में झांकेंगे और ना ही उसे धन से रिक्त करेंगे,फिर देखिये आप इस अद्भुत साधना का चमत्कार l मैंने ऐसी ही एक थैली कल्पेश नाथ भाई के पास देखि थी और देखा था उसका चमत्कार भी l
  --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

Kalpesh Naath, is sadgurudev’s aghori disciple and today even many time could be seen in sadhana or wandering in varanaasi at opposite side of ganga river bank. With the blessings of the sadgurudev I received honour to meet him. When I was performing sadhana of shri saayuuj tantra in vishalakshi temple at that time I stayed in Varanaasi for six months and sadgurudev told that for this sadhana neither best place in this world exist except this. And on the opposite side of manikarnika ghaat of Varanasi sadgurudev did vishwanaath sadhana, aghor kapaal prokt dhurjataa sadhana and 64 krityaa sadhana, at that time he stayed at this place for long duration. He told me that for aghor sadhana this place is most boon giver, words are less to describe secrets of aghora which this place have hidden in it. Today even highly accomplished Sadhak of different cults could be found living here in small streets and their behaviour in routine would be so much normal that no one would believe about their accomplishments. Sadgurudev granted purn aghor siddhi diksha to kalpeshanaath at the same place only and since than kalpeshnaath have made this land his living land and sadhana land to find out the real meaning of the self. If today even someone tries, he could be found in one of the ghat roaming. Anyways, I was living at that place for 2 months and my sadhana was running fantastic, about my routine, I used to spend 8 hours for sadhana in day and in night time late night sadhana and again in morning from3 AM to 6AM sadhana used to be done by deep in water and standing in same ganga water. In those days one day when I was going for a bath in ganga, I found a light walking on ganga waves, I was feeling strange that I am dreaming or what but the scene was the same after too merging my eyes...slowly that light went from just a distance of me and went ahead on stairs. When I looked back with a long hair in black dhoti, dark skinned wearing human skull and rudraksha aghori was climbing the stairs; I too started following him, however he was walking  but I was almost running to reach his speed but I did not let him went from my sight. He kept walking and infront of vishalakshi temple he started his ritual song. And in a sudden the doors of the temple started opening. Aghori went inside and set himself in vajrasana in front of idol of goddess and started mantra chanting continuously, I quietly sat behind him after an hour he stood up and bowed to the idol and turned back to me; he told “you daily do the ritual inside ganga river and today you left your order today?”

I said – No I am just going to complete my belongings, but I could not stop to follow you with curiosity when I seen you walking on the river ganga. Who are you and how do you does this?

“we both are disciple of paramguru Nikhil, and I am your elder guru brother only; Now you say, is there anything impossible for his disciples? It is always a great fortune if he grants initiation after that full valour for the whole life and completeness runs behind“He said.

After that he told me about many things till the time I remained there, daily we used to talk for hours. I used to go on the other side of the bank daily on boat and used to speak about sadgurudev and aghor sadhana, today even when I go to Varanasi, most of the time our meeting occurs, He told me that with blessings of sadgurudev he has honour to meet trijata aghori ji many times and in his holy guidance he did many sadhanas

last year when I was coming back from kamakhya I stayed in banaras at that time anubhai and rajubhai went to meet shri Arun Kumar Sharmaji and I went to meet kalpesh Bhai. He asked me to bring holy water and cloth of maa kaamakhya.
At that time I asked – today even do you communicate with Trijataji?

Yes, before few days only I came back from him, He came to Guhyeshwari for small duration from siddhashram. Do you know where guhyeshwari is?

Yes bhai Istayed there and I did guhyeshwari sadhana for 6 weeks. It is very heart touching place of Nepal.

Yes, at that same place I was with him. Was willing to take information about few sadhana, for that purpose with my prayers he called me there.

Anyways, these all are different talks, When I met kalpeshbhai first time in 1996 at that time he gave me a small diary of about 118 pages and told me that this diary contains many miraculous sadhana which I obtained from sadgurudev now you take it these all sadhana belongs to one tantra only and with this even impossible could be made possible.
When I opened it there was written “ Shiv Prokt Nakhaniyaa Kalp Sutra

Literally, Nakhaniya tantra is whole complete tantra with which money and prosperity could be gain in certain  and many impossible tasks even could be made possible, from the same tantra sadgurudev gave one sadhana in our beloved magazine “mantra tantra yantra vigyan” and thousands of the sadhak took benefit of tha, that sadhana too is from this hand written script and this script was written by sadgurudev only. In that hand written scripture 26 nakhaniyaa prayoga were given for wealth gaining.

Today from the same scripture I am sharing one more nakhaniya prayoga, this is for one night only means dipawali or any full dark night (amavasya)

All the financial troubles could be removed with the medium of this one day prayoga. In the mahanisha time duration of dipawali (11:24 – 12:48) sit on the red aasana with red cloths facing north direction and place a white cloth on the floor in front of you and with Anaamikaa Finger prepare the following yantra on it with vermillion ( Kum Kum) while preparing yantra one should keep on chanting the mantra “Om Mahaalakshmyei Namah”

One should remember that box of the yantra could be prepare with anyway but the filling of the numbers should be 1,2,3,4...in this order only which is ancient order and in lakshmi establishment this order is must. Now where 1 is written place seven clove (not broken. The one with head) at the no.2 place 3 cardamom, where there is 3 place 7 blackpapers,
4- Few black sesame.
5 – Few yellow mustards.
6 – Few black mustards.

On the remaining places place different single coins like 1,2,5 or 10rs.coins.



8
1
6
3
5
7
4
9
2

After this, chanting the following mantra for 15 minutes offer vermillion (kum kum) on all the material placed and also offer lamp of sesame oil, red flowers and sweet made from flour.
Mantra-
Lakshmi Tu Nakhaniyaa kahaave Vishnu tero bharataar, beiri tode daridar tode, tode kasht hajaar
Hajaar dukh duniyaa kaa tode, ek dukh meraa bhi tod, Bhar de dhan jholi kartaar, Jo naa bhare to Vishnu ki duhaai, Shakti ki laaj raakhe, chhoo

And after that with constant concentration onw should chant following nakhaniya mantra, if kamalagataa or munga rosary is brought in use its better or else do the chanting anyway.

Mantra-
Om Shreem  sarv saubhaagy hreem aakashmik dhan siddhim dehi dehi namah

Next morning place few more rupees in that cloth and fold it and place in your money keeping place, at every shukal paksha astami without watching inside few more money should be placed in that cloth and fold it after offering dhoop place it again at its place. Remember one should not look inside the cloth so one should open it as much as required to add more money to it.  When 1 year is completed at that time next diwali go to river bank and take out money from it. Rest things should be placed in water. The money should be offered to temple or kid girls. This way you can do this prayog every year. And till the time this folded cloth bale will be there the person will not have any financial troubles. Continuous money certainly/uncertainly will keep on coming and will keep on arranging new ways to have more and more wealth. It Will also establish the prosperity. If this yantra is made on the white cloth and bag of the same is prepared and again with above mentioned process yantra preparation is done and with all material is placed inside it. And at every Shukal Paksha Ashtami if money is added in it in that condition in future one can take as much of desired amount one needs from that bag; but one should not look inside the bag neither one should forget to offer money every month, I have seen such bag with KalpeshNath Bhai and also seen its miracle.

****NPRU****

3 comments:

KRISHAN said...

Respected Bhai,

U've given the very good sadhna. Pls tell if on some ashtmai of shukl paksh due to touring for job if we can't put sme mney in that bag, then what to do.

Brgds
krishan

veeren said...

thx 4 given it...........

veeren said...

thx..............