There was an error in this gadget

Tuesday, October 4, 2011

To quickly heal the wounds arises from accidents



जीवन हैं तो सुख  दुःख तो लगा ही रहेगा , आप  एक से मिल कर निकालो  तो दूसरा   आपके घर के  ठीक  सामने  बैठा  ही मिलेगा     आप कब तक बचोगे ,   यूँ कहाँ भी  गया हैं की "हानि   लाभ जीवन  मरण  जश अपयश  सब  विधि  हाँथ " पर  कहना  तो  आसान  हैं   पर   जीवन की  सच्चाई से  भी कैसे मुंह  मोड़ सकते हैं , और इन्ही कुछ  कडवे सत्य में में एक हैं   दुर्घटना ,,,पर इसे   किस तरह से देखा जाये ...

दिन पर  दिन  बढ़  रहे वाहन और  जीवन की आप धापी में यह स्वाभाविक हिं की हम किसी   भी दुर्घटना के शिकार      हो जाए  यह भी दो प्रकार से  हो सकती  हैं एक  तो मानसिक और  दूसरी शारीरिक दुर्घटना,,  पर  जब शरीर  पर  कोई छोटा  सा  भी   घाव  हो जाये तो उसका  ठीक हों  बहुत जरुरी हैं

वहीँ कुछ लोग के शरीर गत  न्यूनता  के कारण   घाव भरने में कहीं ज्यादा  समय  लगता   हैं ,, तो उन सभी बात के लिए  और आपरेशन और  अन्य   किसी भी कारण  से बने  घाव  को जल्द से भरने  के  लिए यह एक सरल सा प्रयोग     जो की साबर मंत्र पर आधारित हैं  आप करके देखें.

 पर  यह  सरल  तो हैं  , पर साबर मंत्र   के सामान्य विधान के  अनुसार  किसी भी  शुभ  दिन  /पर्व पर  इसे  जप  कर ( 5/11  माला)  और कुछ हवन (कम से कम 16 आहुति )  कर के  सिद्ध  कर ले  और फिर जहाँ  भी  घाव  हो उस पर इस मंत्र   को ११ बार   पढ़ कर  फूंक मार दे  ,  तो  निश्चय  की घाव  के  ठीक  होने की गति कई  गुना होगी   तो जब  तक आपको लगे  की इस प्रयोग  को करना  हैं  आप इसे  करते जाये  ...
आज के  समय में  इस प्रयोग का अपना   ही एक महत्त्व हैं 

मंत्र :..
सार  सार   विजय सार   सार  बांधू सात  बार |  
फटे  न  अन्न  न उपजे  घाव  |
सीर  राखे  श्री   गोरखनाथ |
शब्द सांचा ,पिंड  कांचा | फुरो मंत्र  इश्वरो   वाचा

सामान्य साबर मंत्र से सम्बंधित   जो भी नियम आवश्यक हैं वह पालन  करे   और इनके बारेमे   हमने   तंत्र  कौमुदी   के साबर  तंत्र महा विशेषांक  में विस्तार से  दिए  ही हैं . 

******************************************************************************

 When there is  a life than  its quite natural   to feel  ups and down  and  positive/ negative , happiness  / sorrow   you  cannot  escape from other side   if you accept any one side  . And the same time  we can not  avoid  the  bitter  truth  of life, and one of  those  truth is  accidents.
So many vehicle are day by day increasing on the road and  there are various  reason ,that  are responsible for  increasing the number of   the accidents on the road , and the accidents are of two type  first   is mental and other is  physical ,here we are talking about  physical  one.. if any  wounds comes/arise  because of any type of accidents than  its healing is the most important  things.
Sometimes due  to  lack of   some elements  in our  body. theses  wounds often get much  times  to heal  that  and not only that  but also  any wounds arise because of any  operation   can also  be   easily cured and early  get heal  , this is  very simple prayog  based on  the sabar  mantra .
Of course, This is easy prayog but  if  you follow   the  general rules applicable  for any sabar sadhana than it would  be much better . and on any  auspicious  day   do some jap (5/11 mala ) and    offer some aahuti  (at least 16 )   by this mantra  than  where is  any wounds  simple chants  this mantra 11  times and  apply   the air  coming out of  your   mouth  over  that   wounds (phoonk) on that , and  you will  find  the speed of its  healing  would be much faster.and repeat this prayog till that satisfactory result  you will feel,
Mantra:
Saar saar   vijay  saar   saar  bandhu  saat baar  .
phate   na    ann     na    upje  ghav .  
seer  raakhe  shree   gorakhnath , 
shabd  sancha  pind    kancha ,  
furo  mantra   ishwaro vacha .
Follow the very general rules  that are mentioned in tantra kaumudi  “sabar tantra Mahavisheshank “

****NPRU****

No comments: