There was an error in this gadget

Saturday, October 1, 2011

To have happiness in domestic life


मानव  जीवन मे   कितने  ही जीवन मूल्यों का   क्षय लगातार   होता  रहता  हैं और हर काल में ऐसा  होता  आया हैं और  यह  बिलकुल  भी आश्चर्य  जनक  नहीं हैंकभी चरित्र   का महत्त्व   हैं  तो कभी घन का ,  कभी  यह कहा  जाता   की प्राण जाये  पर वचन न जाये   तो कभी व्यक्क्ति अपनी  आन के लिए  मर मिटने के लिए  तैयार  हो जाता था,   ऐसे कितने न  उदाहरणों से  इतिहास  भरा  पड़ा हैं ..
चाहे आप  महाराणा  प्रताप का  उदाहरण   ही   ले ले केबल  थोडा सा अपना  सम्मान  कम  कर देते  तो  .. कितना  ना आराम मिलता   पर  वह  नहीं माने ,, आप राणा   सांगा   को ले ले  जिन्होंने   शरीर  पर  ६०  घाव के बाद भी सर नहीं झुकाया  .
वहीँ  गुरु गोविंद सिंह   जी के  पुत्रो का    बलिदान   तो क्या   कहे   कितना   न  महा पुरुषों   ने अपने खून से हमारी  इस विविधता  से भरी  सनातन परंपरा  को सीचा  .कैसे  कैसे   उदाहारण  भरे  पड़े हैं कि हमारा   सर स्वतः  ही नत मस्तक   हो जाता हैं जिन्होंने  हर हाल में मानव  मूल्यों की रक्षा    की  और  हमारे सामने अपने  जीवन  को एक उदाहरण  के रूप में  रखा ,,
पर  आज के हमारे समाज  की यह    स्थिति    हैं  कि  यहाँ   जीवन  बचाना   ही सबसे  बड़ा   लक्ष्य  रह गया हैं  "येन केन प्रकारेण"   अपना स्वार्थ   बस  सिद्ध  हो जाये ,, बस ..
पर हम सभी   यह मानते   तो हैं कि कुछ रिश्तो  की पवित्रता  पर    भी ध्यान रखा जाये  और यथा संभव  उस की गरिमा की भी ..
जहाँ तक हो सके ,,क्योंकि  यदि हम सारा  भा र इन रिश्तो को मानने  का केबल और केबल एक ही पक्ष  पर  ही रख  देगे   तो  गलत हैं...
वैवाहिक    जीवन  में  जीवन साथी  का महत्त्व तो कम  नहीं हैं ...
पर  अब यह  रिश्ता    भी   अपनी गरिमा  खो रहा  हैं . आधुनिकता   की भेट  चढ़ रहा हैं .
अनेक   शास्त्र कारो ने जी भर भर करके "नारी" को ही समस्त    चीजो के लिए  दोषी ठहराया  हैं ,कोई ने उसे पाप की  गठरी कहा  तो कोई ने कुछ   पर सब यह लिखते  हुए  भूल गये   की  उसी ने अपने  रक्त से उन्हें  सीचा अपन  मांस  खून प्रदान  किया तभी  जन्म ले पाए उसने यदि  उन्हें बोलना  या पढना  ना सिखाया  होता  तो  आज वे  इस ,,,,
सदगुरुदेव जी  ने  भी इस   बात के लिए  उस कतिपय शास्त्रकारो  की बहुत   आलोचना   की हैं.  .
किसी कालमे यह कहा गया था की
"     स्त्री चरित्र  पुरुष भाग्यम  देवो  न  जानती कुतो मनुष्या "
  शायद आज की परिथितियाँ  देखते   तो  उन सब को मजबूर  हो कर  लिख ना   ही पड़ जाता 
  की
"पुरुषस्य चरित्र  देवो ना जानति  कुतो मनुष्या "
 सच्चाई   शायद  कडवी हो  पर आप सभी जानते हैं  ही 
 पर हमारी भारतीय बहिनों  के लिए   अभी  भी इस सम्बन्ध  बहुत सम्मान   तो हैं ही पर एक तरफा  स्नेह का  क्या   कोई अर्थ हैं 
पर  रोज़ रोज़ घर मे  चल रही  लडाई  झगड़े   के कारण  जब जीवन  नरक समान  हो रहा   हो तो यह  एक छोटा  सा प्रयोग   जो आपके  जीवन में  कुछ तो मधुरता  ले  आएगा "
क्योंकि जीवन कि सारी और समस्त  स्थिति का  निराकरण बस एक छोटे से प्रयोग से संभव नहीं हैं ,
फिर भी ,,आपके लिए  यह लाभदायक ही होगा .
केबल  किसी भी शुभ दिन   इस मंत्र की १० माला मन्त्र  जप करें और साधारण साधनात्मक नियम  का पालन करे  दिन रात /माला .आसन /वस्त्र के लिए   कोई नियम नहीं  हैं ..
मंत्र : ॐ  नमो महा यक्षिण्यै मम पति में वश्यं  कुरु कुरु स्वाहा |
 फिर  इस मंत्र से ११ बार अभिमंत्रित   करके  इलायिची    या जो  भी   खाद्य     पदार्थ   हो आप  अपने  जीवनसाथी खिला  दे  धीरे धीरे आपने  जीवन में अनुकूलता  आएगी  ही
**************************************************************************************  
  Now  a days The value of some basic  rules  are  continuously decreasing in  human life, and  this phenomena  is/was  true in all era.  And  there is  the way of life,,  sometimes   character has the  life,, sometimes  finance has   the value ,  sometimes   speaking word  has  more value  than  the life of the person,  and people are/were ready to  offer  his life  over  his  respect,  how many such an examples are   the part of   our history .
You  can take example  from the life of maharana pratap , if he was  ready   to sacrifice  some of his respect than he  could easily   enjoy the many blessing of life, , but he  did  not,  take  rana sanga’s  life in spite  of  60 severe  wounds on his body  he was not  ready to accept defeat .
  And the great sacrifice of the  sons of  guru  govind singh  ji  ,,, how many  great  person   offered  their  life  only for the cause that  some basic  values still  remains , and we can have  some  insight  that who we are  and are part of great culture and .just   to read their   works  and their life  its very natural that  we will pay     great respect  to them.
 But in modern way of life ,  how  to save the  life  a great  question .. and every body  doing whatever he can do   to have  his work done. at any cost
 This we all believe that    the purity and respect of some of the relation should be maintained.
 But to maintain all theses thing   if we place  whole  burden on  one side   only  than it would not be  justice.
In married life   the  importance of   your partner  cannot  underestimated.
But   this relation  are now the fire of  modern way of life.
And many  shstrkaar  blindly blame  nari (woman)  for every  bad work , some  say s  she is the basic root of all evil ,,,like that so many  baseless  things but all those  forget  that   she is the one  who  gave  birth  to them, and she is  the responsible  of giving   blood and  flesh to  them. And   taking care and gave speaking ability of them  is a also a gift of her ,if she would not  do that  than…
Sadgurudev   ji also many times highly criticized such shastrkaar.
 In any era this  has been written that
“ the character of  woman and  fortune of man   even  dev  not knows  than  how  can  person know.
But if  they were here  seeing the  modern life than surely  they would have  written
“The character of  a man even dev  can not  know  than  how  can  any person.”
Though word are little  bit hard  but the reality we all know, already.
When there are many disputes  among   partner than this  small prayog  Is not claiming that it will  solve all the  problem  but surely can  give  you some relief , since  all the  bad and  worst  situation solving is  beyond the capacity of    this  small  prayog.
 Even though this will help   you  .
In any auspicious  day do jap of  10 round of  rosary (mala)   of this mantra, and there is no other  restriction  of rosary type/ time/ aasan/cloths colour etc.
Mantra : om  namo maha yakshinyai mam pati me vashyam kuru kuru swaha ||
 And  after that take  any ilaychi and   do abhimantrikaran with 11 times reciting of this mantra and  any  means give   your partner and slowly slowly  you will have  relief  in some problem  in your domestic  life.

   


                                                                                               
 ****NPRU****   

2 comments:

METEORA said...

''sorting sadhanas into different categories is a quality move....Hat's off baby.....''

Nikhil Devraj said...

arif bhaiya, is mantra me "pati" ke sthan par "patni" kar du to chalega. ?