There was an error in this gadget

Thursday, December 20, 2012

इतर योनी और कर्ण पिशाचिनी वर्ग साधना रहस्य सूत्र सेमीनार ...



Friends, it was decided in Apsara and Yakshini Sadhna Rahasya Seminar that next seminar will be based on “Ittar Yoni and Karn Pishaachini Sadhna Rahasya”.Though during this duration , not only series of blame-games went on but also some people gave us the date that they will do so-called Tantric prayog and annihilate us completely…..but what happened?
You all are well aware of this fact. During this period not only we took land for best and all-facility hospital “Nikhil Kalp Kuteer” which was only one portion of multi-dimensional aim of Sadgurudev which was seemingly put forward by him as small test for us, but we also organized Bhoomi Poojan on 9th December 2012 in accordance with conduct laid in shastras in which so many of you participated and understood our aims, resolution and our willpower that whatever we said, the plans we put forward, we did it too. If some activities took some time then it may be due to lack or resources.And sometimes delay was due to “mentality” of brothers and sisters for whom the work was done.
Friends, Guru Work and sadhnaare two ends of river in middle of which any river of life can easily reach its aim and aim has always been the divine lotus feet of Sadgurudev. None of its end can be considered inferior or better than other. Poojya Sadgurudev highlighted this fact so many times during his life that both sadhna and Guru Work carries equal importance and maintaining a proper balance between the both can create one excellent personality.Life operational on only one of these wheels or ends is not divine. He had imagined sadhaks as warriors in battle of life that his disciple will be the one who will not be perturbed by any circumstances, who will not be confined to just raising slogans rather they will understand the necessities of their life, personal, social and timely necessities and will participate in them enthusiastically and will set up amazing example of successful sadhak for the world.
One-dimensional life , how much higher it is, but at the end of day it is one-dimensional only…….If confine ourselves to attaining accomplishments in sadhna then who will do the concrete work and if we focus only on work then sadhna aspect will  be forgotten. Keeping this fact in mind, we had put forward the subject matter of this seminar earlier. Now it is the time to think over the subject matter of this seminar and respectively talk on other related facts….
Sadgurudev has put forward many times his intention behind the publication of amazing magazine like “Mantra Tantra Yantra Vigyan”. One of the main focal points among many was
“Healthy Mentality towards Ittar Yonis like Bhoot Pret etc.”
Here question arises who are these Ittar Yonis?
In addition to human life or in other words in addition to this three dimensional world, there are so many dimensions and secrets after knowing which making any doubtful person understand will be virtually indescribable. And these other higher yonis include Bhoot, Pret , Pisaach , Yaksha , Kinnar , Vaitaal and even it includes Pitr category , Apsara and others too.In layman terms,all categories except human can be included in this Ittar Yoni. This is not subject to be feared about rather from years, strange fire has been inculcated in us regarding them. And we did not got any chance to meet any person who knows the truth or who can introduce us to them so fear aspect is still the same ,may be age or experience of parson has increased. But reality is exactly opposite to it. The way we do sadhna of any god, in the same way sadhna of this category can also be done. It is amazing fact their sadhnas are simple but certain special rules do apply , certain special procedures are necessary ,certain special precautions are essential elements, some sadhna procedure is necessary. And all these facts can be told by the person who has experienced it rather than the person who has just read it in books. Otherwise, so many people have framed web of words but sooner or later truth comes out.
These sadhnas are simple but its simplicity has been hidden by so-called doubt-creating propaganda and now they have become reason for fear. Sadgurudev Ji has clearly said that these yonis themselves are restless for their riddance from this yoni then why to be fearful of them…….rather if we get their friendly cooperation and help then person life can be completely successful. So the mentality which has been created towards these sadhna, false propaganda……whether it has been done by capable or incapable persons, time has now come to know that secret and in this seminar we will discuss on these facts….
Now is the time to understand importance of one sadhna and all rumours and misconceptions spread about it…that sadhna is “Karn Pishaachini Sadhna”. Sadgurudev has said that there is no need to be perplexed about word “Pishaachini “.It is only one category. As we have castes like Thakur, Brahman and other castes, in the same manner it is also one of the categories among Ittar Yonis. So there is no need to be fearful of them. Actually it has been seen that upon getting success in this sadhna, our life become more successful and joyful.
Just think….
       that you are signing a very important document and you come to know in advance that you are being made a victim as part of conspiracy…..then?
     the person which you call as friend, is actually trying to betray you or is already betraying you…?
       Do you know the character of person who is going to be your life partner?
       The person trusting whom you are going to do important business deal, what hidden agenda he has in his mind?
       what is the reality of the person which is calling himself Siddh in front of you?
      Do you know the reality of new servant or new tenant?
      Are you aware of the character of your son or daughter?  Is he or she under the influence of bad company or not?
    the marriage proposal which are coming for your sons and daughters, What is in the mind of those families and their actual plan?
   If you are in some job, then what is in the mind of your client. Whatever he is saying is right or there are some other hidden aspects too?
         Are you aware of anything useless being done by your life-partner?
If you get to know what is in the mind of person who is talking sweetly with you, how many dangers you can avoid.
Just think once that this Vidya is to make you cautious about every danger at each moment. Think about importance of this Vidya…..do not use it for degrading character of anyone. So you can understand that…
      If someone’s son is missing or someone has kidnapped him? You can know his whereabouts by using this Vidya.
     Has someone left home on his own or there are other reasons too...here also this Vidya will prove beneficial. 
So just think once is there any Vidya more beneficial than it in today’s time of fraud and deceit? Where one mistake can become a remorse for whole life…..so one should understand the importance of this Vidya which warns us about such happenings in advance…
    Why a particular problem always persist in my life?  
       why our relative family is deprived of children?
       Why in spite of everything being right, husband and wife being completely healthy, there is no child in that family…??
       Why some disease or the other prevails in particular family?
      Why there is loss in each and every business done by particular family?

Likewise, there can be so many questions. And it is also not necessary that answers to them will be related to this life only……as much we know the Law of Karma, more than it, it can touch previous life. And by this sadhna past i.e. not only of this life but previous life could be understood that what is the exact reason behind it? Upon discovering the reason, one can rectify them.
Can only past be seen through Karn Pishaachini Sadhna…??
This is not true rather there are so many techniques of this sadhna by which you can experience possibilities of future too. What are those techniques of this sadhna which are of Vaam Maarg and cannot be done now and what are those which can be done by any normal sadhak without any fear……what are those procedures which are right in accordance with moral and societal rules, which can be done while not disturbing their householder life…we all will concretely try to understand all these facts.
It has to be kept in mind that Karn Pishaachini too has been seen as Devi (goddess). And many mantra compositions have contained word Devi.
So only sadhna….
No No….
 Till the time we do not become aware of all keys of that sadhna….all its secrets, doing any sadhna is like playing with dignity of that sadhna and your time and money.
When we have read these sadhna ourselves then why should we participate in this seminar, what is the need?
Understand one thing that just reading any sadhna and knowing some secrets related to it is not enough; rather one should strive to know all those activities by which this sadhna can be done successfully with ease and without any harm.
    What are those herbs just keeping which success in this type of sadhna can be made more certain and we can remain safe from any harm.
      Which sadhna can be done at home, which sadhna can be done at Shiva temple or if there is no Shiva temple ……then how can that particular procedure can be done at home competently.
      What are those days in which success in these sadhnas is most likely.
There are so many such facts knowing which is very important. Just having information about sadhna is not enough to yield results.
But still I am afraid of Karn Pishaachini sadhna. Is there any sadhna which can yield same results ……but it does not contain word like Pishaachini..?
Why not,
“Karn Matangi Sadhna” is one such sadhna which Sadgurudev put forward in front of us. It is Rajas category sadhna. There are so many such sadhnas about which we will come to know in seminar and we will also learn which procedure will be more favourable to us.
One such sadhna is “Karn Bhuvneshwari” too. So will we still think….??
There are so many such sadhna about which Sadgurudev gave hints and provided knowledge and put forward so many hidden procedures in front of us. But if we…..
So why should I take part in this seminar???
First of all it is just a matter of one day. And where is such secretive, self-experienced sadhna knowledge possible so easily?
And as we have informed you that this time, there will be two procedures.
First—so those who want to participate in this seminar, entry in to this seminar is completely free of cost.However, before taking participation, our permission is must. Without prior permission, entry will not be possiblesince people can be given entry to a certain limit. After all, seminar hall and time has got their own limit and we can make necessary arrangements after careful thinking only.
Second- If the participants wishes to have the amazing book “Ittar Yoni Rahasya Aur Karn Pishaachini Gopniya Sadhna Rahasya Khand” which will be published in this seminar, then it will be compulsory for them to deposit necessary fee for it.How much useful this book will be, you all have already known it by attain book “Apsara Yakshini Rahasya Khand”
To add to it, Yantra is also needed. And no sadhna can be accomplished without authentic yantra. So one such amazing yantra which is very rare and which you have not heard of till now……on which these type of sadhnas like Karn Matangi, Karn Bhuvneshwari and other yantra which are necessary for success will be inscribed.
(One complete article on this yantra will come very soon which will contain complete effects of this yantra and for which purpose it can be used and how it will be used to establish contact with Ittar Yoni. All this description will be contained in that post.)
    and this yantra will be available only with this book. It cannot be taken separately.  
     And it is only for those who are going to participate in this seminar and who have got the prior permission. This permission can be sought be sending e-mail tonikhilalchmey2@yahoo.com . In that mail, please send your picture and scan copy of your identity proof. To add to it. Subject of your email should contain clearly the phrase “For Entry into 27 January Seminar”
       And only those who have deposited the necessary fees for this book and amazing yantra, will attain this yantra. And this yantra will be useful throughout their lives.
And Friends we had decided that whosoever will make hospital according to dream of Sadgurudev, we will contribute a considerable portion of our profit from publication of books towards this work, and when no one …..
So when we have taken this task whose progress you all have seen by visiting it or as photograph on Nikhil Alchemy Group of Facebook, all the profit from publication of these books will go completely into this work because our aim is fixed and so is our resolution…..
Now next question when will this seminar be held?
So Friends, after a lot of thinking, 27 January 2012has been fixed for this work. One more reason is that 26 January is Saturday and it is holiday too. And 27 January will be Sunday too so no one will have to worry about unnecessary leave.
And as always, seminar will be organized in Jabalpur city (Madhya Pradesh).
It will be one such rare opportunity which will not only introduce us to healthy mentality towards Ittar Yonis rather it will also throw light on how to get friendly cooperation from them , how one can get their assistance and make life smooth. It will be one opportunity to preserve one precious pearl of sadhna.
One such occasion where we all brothers and sisters will meet again only and only and only as in form of brothers and sisters. No hidden agenda….only talks about sadhna and their secrets.
An opportunity to get such rare book and amazing yantra which can be of invaluable asset of your life.
An opportunity to understand these sadhnas and get success after returning back to home.
All those who are not able to take benefits of such opportunity, it is an effort to intimate them in advance…that it is good-fortune of us when we will discuss such high-order and important sadhnas.
Will still anybody think that how much useful this seminar will be for coming life???
If someone is able to understand these secrets and does sadhna accordingly , he can give new heights to his life and can play his role in preserving dignity of these sadhnas and can also contribute in fulfilling one dimension of Sadgurudev’s dream i.e. emergence of sadhaks capable of attaining success…

**********************************************************
मित्रो , हम सभी अप्सरा  और यक्षिणी  साधना रहस्य सूत्र पर, इस बात मे  सुनिश्चित हो ही गए थे कि अगला सेमीनार इतर योनी और  कर्ण  पिशाचिनी  साधना रहस्य पर ही आधारित होगा, हालाकि  इसी दौरान  न केबल अनेको घात और आरोपों का  दौर भी चला  और तथाकथित तांत्रिक प्रयोगों को कुछ स्वयम्भू लोगों द्वारा  एक निश्चित योजना के  तहत, एक तारीख भी  हमें  दी गयी  थी कि हमें  पूरी तरह से नेस्तनाबूद कर दिया  जायेगा ..पर  हुआ क्या??.
आज आप सभी इस बात से अच्छी  तरह से  परिचित हैं. इसी दौरान हमने  “ निखिल कल्प कुटीर“ जो कि सदगुरुदेव द्वारा हम सभी के  सामने,हमारी शिष्यता  की मानो  एक छोटी  सी परीक्षा के  रूप मे रखे गए बहु आयामी स्वप्न का एक भाग.जो कि एक सर्व श्रेष्ठ  और सर्व सुविधायुक्त  अस्पताल  होगा ,के लिए  न केबल भूमि ली गयी बल्कि   अभी  9  दिसंबर 2012को  उसका भूमि पूजन समारोह  भी विधिवत शास्त्रीय गरिमा के साथ आयोजित  हुआ, जिसमे  आप मे से अनेको ने  भाग लिया, हमारी बातों ,हमारे निश्चय, हमारे लक्ष्य, हमारी दृढ़ता,हमारी संकल्प शक्ति को भी समझा  कि हमने जो जो कहा, जो योजनाये आपके सामने रखी, वह हमने  किया ही हैं.हाँ किसी कार्य के लिए  थोडा यदि समय लग गया हैं तो वह  समय और हमारे सीमित संशाधन की  कमी के कारण हो सकता हैं, और कई कई बार अपने जिन भाई बहिनों  लिए  यदि कोई कार्य किया  जा रहा हैं उनकी “मानसिकता” के कारण ही विलम्ब  हुआ .
मित्रो, गुरू कार्य और साधना, यह दो ऐसे   नदी के छोर हैं जिनके मध्य कोई भी जीवन नदी अपने  लक्ष्य तक आसानी से पहुँच सकती हैं वह लक्ष्य सदैव से  सदगुरुदेव जी के  दिव्य श्री चरण कमल हैं , इसमें किसी भी छोर को न तो किसी अनुमान  से कम करके  या न  ही अधिक करके  आँका जा सकता हैं, पूज्य सदगुरुदेव  जी ने अपने दिव्य जीवन के माध्यम से,हमारे बीच जो उनका सदेह  लीला काल रहा हैं, यह तथ्य हम सबको कई कई बार समझाया  कि  साधना  की अगर अपनी  उपयोगिता हैं तो  गुरू कार्य की  भी और दोनों मे  एक संतुलन  रख कर  ही एक श्रेष्ठ व्यक्तित्व  का निर्माण हो सकता  हैं सिर्फ एक  ही छोर या एक  ही पहिये  पर गतिशील जीवन मे  वह दिव्यता  कहाँ??? उन्होंने जीवन संग्राम मे  सामने खड़े योद्धा  रूपी साधक की  परिकल्पना देखी हैं, कि मेरे शिष्य ऐसे होंगे जो किसी भी परिस्थिति मे  बिचलित न हो,जो केबल  नारे लगाने तक  ही सीमित  न हो, बल्कि जीवन  की, अपनी व्यक्तिगत और सामाजिक कालगत  आवश्यकताए  समझे  और उनमे बढ़ चढ कर हिस्सा लेते  हुये,  एक सफल साधक का अद्भुत उदहारण विश्व के सामने बने .
एकांगी जीवन कितना भी उच्च हो पर हैं तो वह एकांगी . अगर सिर्फ साधना  सिद्धि मे  उलझे रह गए  तो  ठोस कार्य कौन करेगा  और सिर्फ कार्य ही कार्य  को देखते  रह गए  तो साधना के पक्ष को यह विस्मृत करने जैसा  हो जायेगा. इसी बात को ध्यान मे  रखते हुये  हमने  इस सेमीनार की  विषय वस्तु पहले  ही आप सभी के सामने  रख दी  थी.और अब समय हैं इस  सेमीनार की  विषय  वस्तु पर और अन्य  तथ्यों  पर क्रमशः  बात करने  का  और विचार करने का ...
सदगुरुदेव  ने कई कई बार  यह तथ्य हमारे सामने रखा  कि उन्होंने किस  उदेश्य को लेकर “मंत्र तंत्र यंत्र विज्ञान जैसी अद्वितीय   पत्रिका का प्रकाशन किया , उन्होंने  उन अनेको बिन्दुओ मे से  एक मे उन्होंने यह  लिखा कि
 “ भूत प्रेत  आदि इतर योनियों के प्रति स्वस्थ  चिंतन
यहाँ प्रश्न उठता हैं कि ये इतर योनियाँ हैं क्या ?
मानव जीवन के अतिरिक्त  भी  या यूँ  कहूँ इस  त्रि आयामी  जगत के अतिरिक्त भी कई कई आयाम हैं और उनमे  अनेको ऐसे  रहस्य हैं जिनको जानना और जानने  के बाद किसी अन्य किसी  संदेहग्रस्त  को यह बात समझना  मानो लगभग गूंगे  का गुड  जैसी  बात  होगी .और  इन अन्य उच्चतर योनियाँ  जिन्हें हम भूत, प्रेत,पिशाच,यक्ष,किन्नर,वैताल यहाँ तक की  इस वर्ग मे  पितृ वर्ग,अप्सरा   और अन्य भी आते हैं  सरल भाषा  मे कहें तो  मानव के  अतिरिक्त सभी वर्ग  को  इन इतर योनी मे  शामिल किया जा सकता हैं.यह कोई भयभीत करने  वाले  विषय नही हैं बल्कि  वर्षों  से इनके प्रति एक अजीब सा भय हमारे मन मे बैठा दिया गया हैं और इनकी सच्चाई जानने  वाला या उससे  परिचय करवाने वाला व्यक्ति  या अवसर हमें  कभी मिला  ही नही इस कारण यह  भय का पहलु    आज भी वैसा ही हैं.भले ही व्यक्ति की उम्र या अनुभव कितनी भी अधिक न हो गया हो .पर वास्तिविकता कहीं इसके ठीक विपरीत हैं, जिस  तरह से हम किसी भी देवता की  साधना  कर सकते हैं ठीक उसी तरह से इनकी भी साधना भी की जा सकती हैं. यह तो बहुत ही अद्भुत बात हैं कि  इनकी साधनाए  सरल  होती हैं पर  कुछ विशेष नियम तो  लगते हैं ही ,कुछ विशेष क्रियाए  तो आवश्यक हैं ही,वहीँ कुछ  विशेष सावधानी  तो एक आवश्यक अंग हैं.तो कुछ साधनात्मक  क्रियाए  भी एक  अनिवार्यता हैं  और यह कोई पोथी पढ़ कर गुरू बना  व्यक्ति नही  बल्कि  जिन्होंने आखन देखी हैं केबल वही बता सकता हैं,अन्यथा शाब्दिक जाल तो कई कई ने बुने हैं और कामयाब भी लोगों को बहकाने मे  हुये हैं पर देर या सबेर  सत्य का पता चल ही जाता  हैं.
यह साधनाए  सरल हैं पर इनकी सरलता  को, इनके बारे  मे  तथाकथित भ्रम उत्पादक  प्रचार  ने  छुपा लिया हैं और अब यह भय का कारण बन् गयी हैं , सदगुरुदेव जी ने  स्पस्ट कहा हैं कि ये  योनियाँ तो स्वयं ही अपनी मुक्ति के लिए  छटपटाती रहती हैं, और भला इनसे क्या  डर ..बल्कि इनका  यदि मित्रवत सहयोग मिल जाए, इनकी सहायता मिल जाए  तो व्यक्ति  का  जीवन  पूर्ण रूप से सफल  हो सकता हैं.तो जो मानसिकता इन साधनाओ के प्रति बन् गयी हैं. जो असत्य प्रचार  .इनके बारे मे  फिर  चाहे  वह कोई योग्य ने  या अयोग्य  ने ही क्यों न फैलाया  हो, उस  रहस्य को जानने  का समय अब  आ ही गया  हैं  और इस  सेमीनार मे  हम इन बातों पर आपसी चर्चा करेंगे   ही .
एक साधना जिसके बारे मे अब समय हैं कि उसका  महत्त्व भी समझे,  उसके प्रति  फैली भ्रांती  और अन्य धारणाओं को समझने का  प्रयत्न भी करें..वह हैं कर्ण  पिशाचिनी  साधना. सदगुरुदेव कहते हैं कि “पिशाचिनी “ शब्द से घबराने कि आवश्यकता नही हैं, यह तो एक वर्ग हैं जिस  तरह  से हमारे यहाँ ठाकुर  ब्राह्मण  और अन्य जातियां हैं ठीक उसी तरह  इतर योनी वर्ग मे यह  वर्ग भी हैं  और  इस नाम से  ..बिलकुल भी घबराने की आवश्यकता  नही हैं . वस्तुतः  देखा जाए  तो हमारा  जीवन  इस साधना मे सफलता प्राप्त होने  पर कई कई गुना  और भी  सफलता युक्त और आनंदायक हो जाता हैं.
आप  ही सोचिये ..
·       कि आप कोई जरुरी  दस्तावेज पर दस्खत कर रहे हो  और आपको पहले से  यह पता चल जाए कि आपको किसी साजिश  के तहत .फसायाँ आज  जा रहा हो ...तो?
·       आप जिस व्यक्ति को अपना  दोस्त कहते नही  थकते   हो, वह वास्तव मे आपकी ही पीठ मे  लगातार  छुरा   घोपने की  तैयारी कर रहा हो या  करता हो ..?
·       आप जिस  व्यक्ति को  अपना जीवन  साथी बनाने जा रहे  हो क्या  उसका चरित्र से आप  परिचित   हो ..?
·       आप जिस व्यक्ति पर विश्वास करके  इतना महत्वपूर्ण  व्यापारिक सौदा करने जा रहे   हो  उसके मन मे  आपके लिए  क्या  गुप्त योजना   बन् रही हैं ?
·       आपके सामने जो भी अपने आप को  सिद्ध कहला रहा हैं उसकी असलियत क्या  हैं ?
·       आपके घर मे  जो नया नौकर हैं या  जो नया किरायेदार  हैं उसके बारे मे  असलियत  क्या आप जानते हैं? .
·       आपके पुत्र या पुत्री का चरित्र क्या हैं ,क्या किसी गलत संगती या रास्ते  पर तो नही हैं ,कि जब तक आपको पता चले  बहुत देर  हो जाए ?
·       आपके पुत्र पुत्री के लिए  जो भी विवाह के प्रस्ताव आ रहे हैं  उन आने वाले परिवार के मन की  बात या उनकी योजना वास्तव मे क्या हैं .
·       वहीँ आप किसी जॉब मे हैं तो आपके क्लाइंट के मन  मे क्या हैं वह जो बात आपके सामने रख रहा हैं वह सत्य हैं या  कुछ  और भी पहलु हैं ..?
·       अपने जीवन साथी की द्वारा करे जा रहे  कुछ भी अनर्गल ... क्या आप उससे वाकिफ हैं ..?
आपके सामने  जो मीठी मीठी बात कर रहा हो  उसी समय सोचिये कि आपको यह पता   चल जाए कि इसके मन मे  यह  हैं तो आप कितने न खतरों से बच सकते हैं .
यहाँ एक बार सोचिये पल प्रतिपल आपको हर खतरे से सचेत करने वाली यह विद्या हैं. इस  विद्या का उपयोग समझे ..न कि किसी के चत्रित्र हनन का प्रयास मे उपयोगित करें .इस  तरह से  आप समझ सकते  हैं  की .
·       किसी का पुत्र गुम गया  हैं या किसी ने उसका अपहरण कर लिया हैं ?.आप इस विद्या की  सहायता से उसका  पता लगा सकते हैं.
·       कोई स्वयं ही  घर छोड़कर चला गया हैं या  कोई ओर भी कारण हैं? ...यहाँ पर भी यही विद्या काम आएगी .
तो एक बार सोचें कि इतना सहयोगी  कोई और विद्या आज के इस छल कपट के समय मे हैं??? जहाँ एक गलती होने पर किसी का सारा जीवन मात्र एक पछतावा बन् जाए .तो पहले से सचेत कर सकने मे समर्थ इस विद्या का महत्त्व समझना चाहिये ..
·       वही क्यों कोई एक विशेष  समस्या  हमारे जीवन मे  लगातार हैं ?
·       क्यों कोई हमारा परिचित  परिवार आज भी  संतान  सुख से बंचित हैं ?
·       सब कुछ ठीक होते हुये, पति पत्नी के पूर्णतया  स्वस्थ होने पर भी   भी  विवाह के इतने वर्ष बाद भी आज भी उनके परिवार मे  संतान सुख ..??
·       क्यों किसी परिवार मे  एक  न एक रोग लगा ही रहता  हैं ?
·       क्यों किसी परिवार मे कोई भी व्यापार लगतार हानि अब दे रहा हैं ?
ऐसे अनेको  प्रश्न सकते हैं , और कोई जरुरी नही कि उनका  उत्तर सिर्फ इसी जीवन से सबंधित   ही हो ..कार्मिक नियम  की  श्रंखला जितना हम जानते समझते हैं उससे भी कई कई गुणा  विगत जीवन तक स्पर्श कर सकती हैं .और  इस साधना के माध्यम से  भूतकाल मतलब फिर इसी जीवन तक नही बल्कि विगत जीवन तक को समझा जा सकता हैं ,और क्यों ऐसा हैं??? कुछ  कारण खोज कर उसके  निर्मुलन के उपाय भी किये जा सकते हैं .
और क्या कर्ण पिशाचिनी  साधना से  सिर्फ विगत तक का  ही देखा जा सकता  हैं ..??
यह सत्य नही हैं बल्कि  इस साधना के अनेको ऐसे  प्रविधि हैं जिससे  आप भविष्य काल की  संभावनाओं को भी  अनुभव कर सकते हैं . इस साधना की  अनेको प्राविधि  मे  से कौन सी  वाम मार्ग की  हैं जिसे आज करना  संभव नही हैं   तो कौन  सी ऐसी हैं जिसे एक सामान्य साधक भी बिना किसी भय  या  डर या कुछ उल्टा सीधा  न हो जाए   ...और आज जो विधि आज समाज के लिए और नैतिक नियम के हिसाब से सही हो उन्हें करके  सफल हो सकता हैं .उसके गृहस्थ जीवन मे  बिना किसी व्यवधान के .इन्ही सब बातों को हम  समझने  का एक ठोस प्रयास करेंगे
यह बात मन मे  अच्छी तरह से जमा लेने वाली हैं कि इसे भी मतलब कर्ण पिशाचिनी को भी  एक देवी के रूप मे देखा गया हैं  और अनेको मंत्र संरचना मे  यह देवी शब्द  आया भी हैं .
तो क्या  सिर्फ साधना ...
नहि  नही...
 जब तक उस साधना की  सारी कुंजिया ..सारे रहस्य न  मालूम हो जाए  किसी  भी साधना को यूँ  ही करना  उस साधना की गरिमा  और अपने  धन और समय से  खिलवाड़ करना  ही हैं .
जब हम स्वयम  इन साधनाओ को पढ़ चुके हैं तो फिर क्यों इस सेमीनार मे भाग ले, इसकी क्या आवश्यकता  हैं .??
इस बात को समझे कि सिर्फ किसी साधना को पढ़ लेना या उसकी कुछ रहस्य  को जान लेना  ही काफी नही हैं ,बल्कि वह कौन कौन सी क्रियाए हैं. जिसके माध्यम से  इस साधना को सरलता से  बिना  किसी भी हानि के सफलता पूर्वक किया जा सकता  हैं .
·       वह कौन  कौन सी जड़ी बुटियाँ  है जिनके रखने मात्र से इस प्रकार  प्रकार कि साधनाओ मे सफलता कहीं और निश्चितऔर कोई भी किसी भी प्रकार की  हानि से हम सुरक्षित रह सकते हैं .
·       किस साधना को घर पर, किस साधना को किसी शिव मंदिर मे किया जा सकता हैं  या  अगर वह शिव मंदिर  न हो  तो.... कैसे  घर पर ही यह विधान सकुशलता से किया जा सकता हैं .
·       वह कौन कौन से दिन हैं जब इन साधनाओ मे सफलता बहुत पास होती हैं .
ऐसे अनेको तथ्य हैं जिनका जानना  जरुरी हैं ,सिर्फ साधना होने से  या उसकी जानकारी होने  से ..सब हो जाए यह तो नही .
पर मुझे कौन पिशाचिनी साधना  से अभी भी भय लगता हैं क्या कोई और साधना  हैं जो परिणाम तो यही दे पर ..पिशाचिनी जैसा  कोई शब्द ना लगा हो .?
क्यों नही,
“कर्ण मातंगी साधना” भी एक हैं जो सदगुरुदेव ने ही हम सबके सामने  रखी हैं ,वह राजस्  वर्ग की  साधना , इस तरह से  अनेको साधनाये हैं जिनका परिचय हम इस सेमीनार मे पाएंगे,कि हमारे लिए  कौन सी  प्रक्रिया कहीं जायदा अनुकूल और श्रेष्ठ  होगी .
ऐसी एक और  साधना “कर्ण भुवनेश्वरी” भी हैं.तो क्या अभी भी हम सोचते रहेंगे ...??
अनेको ऐसी साधना हैं,जिनका ज्ञान और उनकी तरफ इशारा सदगुरुदेव ने किया  और अनेको गोपनीय विधि हमारे सामने  रखी पर  हम ही  अगर ..
आखिर मुझे इस सेमीनार मे  क्यों भाग लेना ही चहिये ???
सबसे पहले  तो सिर्फ एक दिन की बात हैं, और भला  इतने रहस्यमय, स्व अनुभव पूर्ण  साधनात्मक ज्ञान वह भी सरलता से सहजता से आज कहाँ संभव हैं?? .
और जैसा कि हमने  निवेदन किया हैं कि इस बार दो प्रक्रिया होगी. 
प्रथम-- तो यह जो भी इन सेमीनार मे भाग लेना  चाहता हैं यह सेमीनार मे प्रवेश पूर्णतया निशुल्क हैं,पर फिर भी भाग लेने  से पूर्व हमारी अनुमति आवश्यक हैं,बिना पूर्व अनुमति के प्रवेश संभव नहीं हो पायेगा क्योंकि एक सीमा  तक ही लोगों को प्रवेश दिया जा सकता हैं आखिर सेमीनार हाल और समय का  अपना ही एक सीमा रेखा  हैं और हम आवश्यक प्रबंध भी सोच कर ही कर सकते हैं .
द्वितीय -  जो  भाग लेने  वाले व्यक्ति हैं अगर  वह  इस सेमीनार मे  प्रकाशित होने वाली  अपने आप मे अद्वितीय पुस्तक “इतर योनी रहस्य और कर्ण पिशाचिनी गोपनीय साधना रहस्य खंड ” लेना चाहे  तो उसके लिए उन्हें पहले से ही आवश्यक शुल्क जमा  करना अनिवार्य  होगा.यह पुस्तक कितने उपयोगी होगी हैं इसका परिचय तो आप “अप्सरा यक्षिणी रहस्य खंड” नाम की पुस्तक  को प्राप्त  करके  अब  स्वयम जान  ही चुके हैं .
साथ ही साथ आज जब यंत्र कि आवश्यकता  होती हैं. और कोई भी साधना बिना किसी भी प्रामाणिक यन्त्र के संभव नही हो सकती हैं तो एक ऐसा अद्भुत यन्त्र जो अपने आप मे  दुर्लभ  हो जिसका  अभी तक आपने परिचय भी न पाया हो ..जिस पर इस प्रकार की साधनाए जैसे  कर्ण मातंगी,कर्ण भुवनेश्वरी और आवश्यक सफलता के लिए अन्य यन्त्र भी उत्क्रीण होंगे
 (इस यन्त्र पर आधारित एक पूरा लेख आपके सामने जल्द ही आएगा,जिसमे  इस यन्त्र की  समस्त विविधता  और प्रभावकता और किस किस कार्य के लिए उपयोग होगा और इतर योनियों से परिचय और उनसे  संपर्क के लिए  किस किस प्रकार से  उपयोगित होगा इसका  पूर्ण  विवरण उस पोस्ट मे होगा .)
·       और  यह यंत्र केबल इस किताब के  साथ ही उपलब्ध होगा अलग से  इसे नही लिया जा सकता  हैं. 
·       और यह सिर्फ इस सेमीनार मे  जो भाग लेने  वाले हैं और जिन्हें भाग लेने कि पूर्व  अनुमति मिली हैं. यह अनुमति आप nikhilalchemy2@yahoo.com  पर इ मेल भेज कर पा सकते हैं.उसमे आप अपना  एक फोटो और  कोई भी एक परिचय पत्र की  scan copy भेजें  और साथ मे  इ मेल के विषय मे स्पष्ट रूप  से लिखा हो “२७ जनवरी के सेमीनार हेतु “  
·       और जिन्होंने इस किताब और इस अद्व्तीय यन्त्र के आवश्यक धन राशि  जमा करवाई हैं उन्हें  ही प्राप्त होगा अन्य को नही,और यह यंत्र आजीवन उपयोगी होगा   )
और मित्रो हमने यह निश्चित किया था की कोई भी जो सदगुरुदेव के स्वप्न के अनुरूप  एक अस्पताल का निर्माण कराएगा  हम अपनी जो भी किताबे प्रकाशित होंगी उनसे होने वाले  लाभ का  एक बहुत बड़ा हिस्सा  इस कार्य मे लगाएंगे ,और जब किसी ने इस ओर ...
तो अब जो हम यह  कार्य हाथ मे लिए हुये हैं जिसकी प्रगति आप सभी ने  स्वयम आकर
 या
यहाँ  facebook   के   Nikhil alchemy group मे फोटो ग्राफ के रूप मे देखी हैं तो  जो भी  लाभ इन पुस्तकों के प्रकाशन से होगा  वह इस कार्य मे ही पूर्णता से लगेगा.क्योंकि हमारा लक्ष्य अब सुनिश्चित  हैं  और संकल्प भी ..
अब अगला प्रश्न यह कि यह सेमीनार कब होगा ??
तो मित्रो  बहुत सोच विचार कर    27 January 2013 का दिन इस कार्य के  लिए निश्चित कर दिया हैं ,एक कारण यह भी हैं कि  26 जनवरी को शनिवार हैं  और इस दिन अवकाश भी और 27 तारीख   को रविवार भी होगा   तो किसी को व्यर्थ मे अनावश्यक  अवकाश के लिए परेशां नही होना  होगा .
और हमेशा की  तरह सेमीनार  जबलपुर शहर (मध्य प्रदेश ) मे ही आयोजित   होगा .
यह एक ऐसा दुर्लभ अवसर होगा ,जो न केबल इतर योनियों के प्रति स्वस्थ चिंतन को हमसे परिचित कराएगा बल्कि  हमें किस तरह से उनका मित्रवत  साहचर्य मिल सके, किस तरह से हम उनकी सहायता से अपने जीवन को और भी निष्कंटक बना सकें और  साधना मे  एक अनमोल रत्न अपने पास  सुरक्षित  रख सकें ,एक ऐसा अवसर होगा .
एक ऐसा अवसर जिसमे  हम सभी भाई बहिन एक बार पुनः  मिल सकेंगे वह भी हमेशा कि तरह  सिर्फ और सिर्फ और सिर्फ और सिर्फ भाई बहिन के  रूप मे ..कोई भी  गुप्त अजेंडा नही ..बस आपसी बातें साधना  और उनके रहस्यों  की
एक ऐसा  दुर्लभ किताब  और अद्वितीय  यन्त्र मिलने का अवसर जो कि जीवन की  एक धरोहर हो सकता हैं .
इन साधनाओ को समझ कर और वापिस  घर मे जाकर सफलता पाने के लिए  मिलने  वाला   एक अवसर .
हालाकि अनेक  जो इन अवसरों का लाभ  लेने से  वंचित हो जाते हैं  उन्हें  पहले  से ही यह याद दिलाया जा रहा हैं कि   यह तो ..जीवन का सौभाग्य हैं कि जब हम इतने  उच्च कोटि की  और इतने महत्वपूर्ण साधनाओ की  चर्चा करेंगे  .
क्या अब भी कोई सोचेंगा,कि यह सेमीनार क्या अर्थ रखेगा, उसके आने  वाले  जीवन के लिए???.
यदि  वह इन सूत्रों को समझ कर उसके  अनुसार साधना कर अपने जीवन को एक उच्चता दे सकेगा और  साथ ही साथ  साधनाओ को गौरव को भी बचा कर रखने मे  एक भूमिका का निर्वाह कर सकेगा,वही सदगुरुदेव का स्वपन के एक आयाम जिसमे साधना मे सफलता प्राप्त  योग्य साधक भी सामने आये........ मे  अपना  एक योगदान भी..

****NPRU****
  

2 comments:

shiva kiran said...

bhayya i am up for it. aur main zaroor aoonga..

shiva kiran said...

bhayya i am up for it. main zaroor aoonga...