There was an error in this gadget

Sunday, December 23, 2012

ITARYONI AUR KARN PISHACHIN VARG SADHNA SOOTRA - 2


 
Itar Yoni has always been center of attraction for humans. And why they should not be, anything which is different from earth element will have infinite capabilities. Though human life has got so many beneficial aspects, it has got other aspects too like certain capabilities which should be present in him are absent in him due to presence of earth element and subsequently due to effect of gravitation force and willingly or unwillingly he becomes dependent on fate. On the contrary, when there is power of sadhna and sadhak continuously does the sadhna then he gets opportunity to know/experience those capabilities of which he was unaware of. And one of these capabilities is to contact Itar Yonis or friendly behavior with them or their cooperation in our life in so many ways.
Among these yonis some have dreadful looks , some are polite , some are clever , some are very sober , some are friendly , some innocent like small child but very strong and what should be our behavior and how much , this can be told by competent experienced person who has experienced it himself , not the one who has just read books. There facts are put not in order to make you anxious rather they are put forward to determine pattern of our behavior with them. Because sadhna rules vary according to category, it is not possible that rule applied to a particular category may apply to other category as well.
For example after Hamzaad Prayog, it is better to think more than once before giving promise and taking words from him because this class of Ittar Yoni is very clever.
In the same manner, in Vaitaal sadhna if Vaital asks where you will establish me then?
This all can be told by an experienced person.
And why there is need to worry regarding it?
After all when you have got friends, all of them share different equation with you. Some are your business-friends so your talks with him will be confined to business. Some are family friends and accordingly topic of talks will differ. Some are intimate and some are those who are very close to you with whom you can share those things too which you generally do not do with anybody else.
This is quite common. Nothing to be bewildered about…
All these facts which is product of own sadhna experience will be revealed in this seminar with much more clarity and authenticity. It may happen that anyone has done the sadhna related to this category but will he tell all rules of it and that too all at once with so much of ease and simplicity…..You just think yourself, this is field for pure heart persons but it should not be interpreted as that this is the field of fools. Sadgurudev resides in pure and pious heart but it does not mean that you become a fool. Just understand the essence of this difference.
Let us suppose any person wants to do aavahan, so should he arbitrarily do it by his own choice and in future he will get complete accomplishments. It is not like this, rather practice has to be done under fixed procedure and that too under someone’s direction. This is best way. Otherwise you keep on doing by yourself and you achieve some progress too and it may seem to you that see, I have reached a particular level all by myself but all this will be like cheating yourself. Where this much of hard work may have led to concrete accomplishments, here you are calmed down by just attaining some experiences…
Where complete accomplishment could have been attained by that procedure , instead of it some minute accomplishments…..that too with ego…
Whereas self-pride could have been more appropriate and that too with politeness….and to add to that, if there is success too. After all you should not forget that whose disciples are you and whose blood is flowing in your veins. Still how can you remain satisfied with second place?
And this seminar altogether is on very different subject. It is not focused on Apsara and Yakshini rather it throws light on that secretive world where there are no words , no one to guide you. Just mist is present…fear is present and so-called dreadful stories. To how much extent they can be true. But is it necessary that we should follow that path where there is fear and insecurity ….there should be some safe path too.
This is quite possible and it can be told by the one who has followed both paths .He can tell you which procedure is simple and easy but can be done at home or some other technique or what are the precautions to be taken care of and at what step.
In which sadhna celibacy is very important and in which sadhna there is multiplicity of rules or in which sadhna you have to remain clean and pure after doing sadhna and in which not?
This is point to be contemplated upon and who will provide you all these facts at one place at one time and with this much of ease.
And seminar is not concentrated on this thing alone rather there will be so many hidden secrets which will not remain that much fascinating after knowing them. But it is our duty that we should understand this treasure rather than wandering in dark.
Let us try to understand one question. You did some prayog on some auspicious day. Whom you will keep asking that prayog done by you was successful or only…
And who has got the necessary time to answer such question of yours daily. But if you have done sadhna of Itar Yonis then you can ask these things from them and how much easy it will be you to arrive at decision. Will this not be fortunate for you??
Yes this is true that it will not always tell you the correct solution but it can tell you that where you are committing wrong and where…and where you need help or competent guidance?
Is this much of help not sufficient, even a particle can save drowning person…
Do not forget the fact that it was pret i.e. one among Itar yoni only who told the path of reaching Lord Hanuman to Goswami Tulsi das Ji and seeing him physically. If it would not have provided help then….?? It is separate fact. Any conclusion can be drawn from logic that it was not in his fate…….but somewhere or the other Itar yoni had helped ….Do we still not to be afraid of them?
Do you still need to limit your life to just earning of livelihood?
Will still physical and materialistic pleasure cloud our mind?
Will still you want to lead a life timidly like an earthworm?
Will you still big-2 things that I want to do this and that….and when time comes again cite reasons of being busy or in-cooperation from family…

Well, any decisions you take, it should be based on harsh surface of behavioral world rather than based on dream. This has to be always kept in mind.
Those sadhak whose feet are firm on hard surface and have courage to touch sky, for only them success is eager to welcome them with garland of victory.
And such sadhak make his place in heart of Sadgurudev.
Sadgurudev’s heart is open for everyone always but will be take benefit of imbibing the knowledge which is manifestation of Sadgurudev only….or will curse our circumstances…once again..
What do you say…
To be continued…..

==================================================
इतर योनी सदैव से मानव का आकर्षण का केंद्र रही हैं  और क्यों न हो जो भी पृथ्वी तत्व से हट कर होगा तो उसमे क्षमताए भी असीम होगी ही.मानव जीवन का  जो एक लाभप्रद पहलु हैं तो एक अन्य पहलु भी हैं कि पृथ्वी तत्व के  कारण उसकी अनेको क्षमताए  गुरुत्वाकर्षण के कारण  उस स्वरुप मे नही रहती जैसा उन्हें रहना चाहिए और वह चाहे  या ना चाहे  भाग्य के हाथों एक खिलौना  सा बन् जाता  हैं  वही  दूसरी ओर जब साधना  का बल  होता हैं, साधक लगातार साधना करता जाता  हैं  तो उसे  अपनी अनेको ऐसी क्षमताओं के बारे मे जानने का या अनुभव करने  अवसर मिलता हैं जिनसे वह अनिभिग्य रहा हैं .और इन्ही क्षमताओं मे से  एक हैं इतर योनियों से संपर्क  या  उनसे मित्रवत  व्यवहार या  उनका हमारे जीवन मे  अनेको प्रकार से सहयोग .
यहाँ इन योनियों मे कुछ स्वरुप मे भयानक हैं, तो कुछ  सौम्य, तो कुछ चालाक  हैं तो कुछ अत्याधिक सरल तो कई मित्रवत,तो कई बालको के सामान भोले पर अति बलशाली  और किस के साथ क्या व्यवहार रखना हैं और कितना, यह तो कोई  कुशल अनुभवी व्यक्तित्व ही सामने रख सकता हैं,जिन्होंने स्व अनुभव किया हो न कि कोई किताब पढ़ पढ़ कर बताने वाला, यहाँ घबराने  वाली  बात नही हैं बल्कि किसके साथ कैसा व्यवहार किया जाना  हैं, उसको अनुसार चलने  वाली बात हैं.क्योंकि जो साधनात्मक नियम किसी एक वर्ग के साथ हैं वह ठीक वैसे  ही किसी अन्य के साथ हो  यह संभव नही हैं .
जैसे हमजाद प्रयोग के बाद आपको उसे वचन देने और उनसे कार्य करवाने  से पहले  कई  बार सोच लेना  चहिये  क्योंकि यह वर्ग बेहद चालक होता हैं.
वहीँ वैताल साधना मे जब वैताल आपसे कहें कि मुझे कहाँ स्थापन करोगे  तो ?
यह तो एक अनुभवी  ही बता सकता हैं.
और इसमें घबराना  कैसा?
 आखिर आपका  कोई भी मित्र होता हैं तो उसमे  से भी  तो कई कई स्तर होते हैं कुछ व्यावसायिक मित्र हैं तो उनसे वैसी बात,  तो कुछ पारिवारिक हैं तो उनसे  वैसी  बात,  कुछ अन्तरंग हैं तो उनसे वैसी बात, तो कुछ  इतने  निकट हैं कि उनसे वह भी बात की जा सकती हैं  जो सामन्यतः किसी की  से ना की  जाये .
तो इसमें आश्चर्य  कैसा ??
यह स्व साधना अनुभव युक्त बातें  बातें आपको सेमीनार मे कई कई  गुणा जायदा  स्पष्टता से  और वह भी पूरी  प्रमाणिकता से सामने आएँगी .क्योंकि यह हो सकता हैं कि किसी  ने कोई साधना इस वर्ग की  कर भी  ली हो  पर क्या वह आपको उसके  सारे नियम बताएगा.और एक साथ वह भी इतने सरलता सहजता से  ..आप  खुद  ही सोचें,यह क्षेत्र  अगर साफ़ दिल वालों का  हैं तो  इसका मतलब यह भी समझा जाए की यह  मूर्खों का क्षेत्र नही हैं .क्योंकि एक साफ़ स्वच्छ ह्रदय मे  सदगुरुदेव रहते हैं पर इसका  मतलब यह नही कि आप  मुर्ख बन् जाए .इन बातों के अंतर का मर्म समझे .
इस बात को और साथ ही साथ कि मानलो कोई आह्वान करना चाहता हैं तो  क्या अपने मन माने  तरीके  से करता  जाए  और एक  दिन किसी भविष्य काल मे कभी उसे  वह पूर्ण सिद्धता  मिल जायेगी  नही ऐसा नही  हैं बल्कि  एक सुनिश्चित प्रक्रिया के अंदर   ही अभ्यास करना  होता हैं वह भी किसी के निर्देशन मे,यही तो उच्चता हैं.अन्यथा भले  ही आप कुछ कुछ  उन्नति करते जाओ  और आप को लगे कि  देखो मैंने खुद  ही इतना  कर लिया  पर यह मात्र अपने  आपको बहकाने  वाली  बात  होगी ,जहाँ जिस श्रम से आप उच्चता पा  सकते  हैं कुछ ठोस हस्तगत कर सकते हैं,    वहां आप मात्र कुछ अनुभव पा कर  शांत ..
जहाँ पूर्ण सिद्धता उस प्रक्रिया मे हस्तगत हो सकती  हैं वहां पर कुछ कंकर पत्थर ....वह भी अपने  अहम के साथ ..
जबकि स्वभाभिमान  कहीं जायदा उचित होता वह भी नम्रता के साथ ..और उस पर सफलता हो तो
आखिर यह कभी न भूले  कि आप किसके  शिष्य  हैं और किसका  स्व रक्त आपके  धमनियों मे प्रवाहित  हो रहा  हैं.अब भी अपने लिए आप कोई दूसरा स्थान से  संतुष्ठ कैसे हो सकते हैं.
और यह सेमीनार अपने आप मे  बहुत अलग से विषय पर हैं. यह कोई अप्सरा यक्षिणी वाला या उन विषय पर केंद्रित नही हैं बल्कि  उन रहस्यमय  जगत को स्पर्श  करता हुआ हैं जहाँ न कोई  शब्द  हैं  न कोई मार्गदर्शक  बस  एक कोहरा  सा ..जहां भय हैं और तथाकथित डरावनी  कहानियाँ और यह किस हद तक सच हो सकती हैं  पर क्या  जरुरी हैं कि सभी उसी  रास्ते का पालन करें जिस  पर भय हो ,असुरक्षा हो ...क्यों न  कोई सुरक्षित रास्ता  भी हो.
और यह संभव हैं और यह वह ही बता सकता हैं  जो कि  दोनों रास्तों पर चला  हो .आपके लिए कौन सी विधि बहुत सरल  और सहज पर  घर मे  ही आसानी से करने वाली या कोई और तरीका या कहाँ पर किस किस सावधानी को आपको रखना  ही पड़ेगा .
किस साधना मे ब्रम्हचर्य  का बहुत महत्त्व हैं तो किसी मे  आधिक नियम  या  कि किसी साधना  को करने के  बाद कितना  पाक साफ़ हमेशा  रहना हैं तो किसमे  नही? .
यह विचारणीय बिंदु  हैं और कहीं भी एक स्थान पर एक समय  पर कोई  भी इतने आसानी से कहाँ देगा .
और सेमीनार अपने आप मे  सिर्फ इस बात पर  ही नही बल्कि अनेको गोपनीय रहस्य  जो जानने के बाद उतने  आकर्षक नही रह जायेंगे,जितने की  आज हैं पर यह तो हमारा पक्ष  हैं कि हम इस  धरोहर  को जाने समझे  न कि .अँधेरे  मे  भटकते  रहे .
चलिए  एक प्रश्न को समझने का प्रयास करते हैं आपने किसी  शुभ दिन एक प्रयोग किया  अब आप किससे  पूंछते  बैठे रहोगे कि क्या आपके  द्वारा   किया गया  प्रयोग पूरी तरह से  सफल  रहा हैं या  सिर्फ ..
और किसके  पास  इतना समय हैं कि आपके  रोज  रोज के  ऐसे प्रशनो के उत्तर  दें.पर अगर आपने   इतर योनियोंकी साधना  सम्पन्न कर रखी हैं तो आपके लिए  उनसे  ही पूंछ लेना  ,और निर्धारण  कर लेना  कितना  सरल होगा .क्या यह सौभाग्य दायक बात नही होगी ??
हाँ यह  जरुर हैं कि वह हमेशा आपको उसका  सही हल  नही बताएंगी पर आप को यह तो बता   सकती हैं कि आप कहाँ गलत हैं और कहाँ ..और आपको कहाँ कहाँ अब सहायता की  जरुरत हैं एक कुशल के  निर्देशन की  आवश्यकता हैं ?
क्या इतनी सहायता भी कम हैं ,यूँ तो डूबता को तिनके का सहारा भी ..
यह मत भूले कि गोस्वामी तुलसी दास जी को भी भगवान हनुमान  तक जाने  का और उनके सदेह प्रत्यक्ष दर्शन पाने का रास्ता  बताने  वाला  एक प्रेत  ही था .या इतर योनी का एक व्यक्तित्व..और उसने   सहायता न की  होती  तो ..?? यह  अलग बात हैं  कि तर्क से कोई भी परिणाम निकाल दिया जाय की उनेक भाग्य मे  ही ऐसा  था या ....पर कहीं न कहीं इतर योनी का सहायता  तो  थी ही न ..
क्या अब भी इनसे भय  और परहेज रखने की  बात हैं? .
क्या अब भी जीवन कि एक सामान्य सा  बस जीवन उपार्जन तक ही सीमित करके  रखना हैं ?
क्या अब भी कुछ शारीरिक  सुख  और भौतिक सुख  ही केबल हमारे मनो  मस्तिष्क  पर छायें रहेंगे ?
क्या अब भी भय  या डर   से  छुप कर  जीवन को केचुए  जैसा  जीना  चाहेगे ?
क्या  अब भी बात बड़ी बड़ी कि मैं यह करना चाहता हूँमैं वह .... और वह भी  पर जब समय आया तो फिर से व्यस्तता  का बहाना  और पारिवारिक असहयोग की  बात ..
खैर  जो भी निर्णय ले , वह हमेशा व्यवहारिक जगत की  कठोर धरातल पर आधारित होना चहिये न कि किसी स्वप्निल दुनिया के स्वपन से भरा हुआ .यह हमेशा ध्यान रहे
वह साधक  जिसके पैर कठोर जमीन पर और  साहस और हौसला आकाश  छूने कि हिम्मत रखे  उसके  लिए  ही तो सफलता विजय  माल लिए  स्वागत करने के लिए आतुर खड़ी  होती हैं .
और ऐसा साधक  ही तो सदगुरुदेव के दिल मे एक अपनी ही जगह बनाता हैं .
सदगुरुदेव का  ह्रदय तो सदैव से हमारे लिए  खुला हैं पर हम क्या ज्ञान को जो सदगुरुदेव का  ही साक्षात् स्वरुप हैं उस साधनात्मक ज्ञान आत्मसात करने का मौका का लाभ उठाएंगे या ...परिस्थति  का रोना...एक बार फिर ..
आप क्या कहते हैं ...
क्रमश :
****NPRU****

No comments: