There was an error in this gadget

Friday, December 21, 2012

ITAR YONI RAHASYA AUR KARN PISHACHINI VARG SADHNA RAHASYA SEMINAAR - 1




There is always a need to contemplate on certain things. Apart from attaining knowledge, attention should also be paid to application part of it. Just see it in this manner that we have conducted seminar earlier also and as far as possible we tried to put forward that secretive knowledge in that time interval. You also attained the rare yantra. But did you do those mentioned activities?? If no, then was that book just an addition to your compilation.

Then how it will be known that procedures given in it or facts or other information given in it are truly effective or not? 
Does that yantra have that capability or not?
Or Have you tried to imbibe the knowledge which you understood or not

Otherwise what would be the difference between any other literature and sadhna knowledge given by us (we are just a medium) .Everything would become one and same. However, it should be not like this. You should test the veracity of these facts yourself. Then only picture will become clear.

All the efforts put by us, some results will come. This is not a business that if more and more people will come, then only our work will be fruitful. Quantity has never been our aim. If only few come forward, make up their mind to do sadhnas and attain success then only it is fruitful otherwise what is the use of being part of crowd or setting up a crowd?

This has always happened and same should not happen in future.

Sadgurudev gave all his knowledge by open heart and put forward in front of all. But there were only few who truly imbibed it and became successful but how many are such persons?

And where are they today?

Keep this question aside that where are they?

Rather just think that why we have not tasted success

Are we committing error somewhere?

One thing has to be paid attention that are we not carrying the mentality that we will go to seminar and get one small technique and just in matter of few days we will….However if seen in real terms, it is not the case with any of sadhna. You have to do hard-work at any cost and that too with mind and soul. Then only you can attain success otherwise one new critic will be born.When you come then make up your mind that I have to attain success and I am going not for sake of participation rather I am going to attain success in these sadhnas and I will understand the hidden facts and transform my life.I will do these sadhnas myself, understand its truth and experience it. If I am not getting success then I will analyze the reasons and again indulge in sadhna and will not remain just a participant.

Money earned by you has got value, why you consider it lesser? We understand its importance; we know that how much hard-work you put to earn money. That’s why we all put forward so much of hard work so that we can provide as much sadhna knowledge as possible as brother.

Friends, main basis of our hard work rests on you doing sadhna. Test to whatever we say is dependent on you doing sadhna because all other works we are doing it and your love and affection is always with us but……when we talk about sadhna mentioned in seminar then only you can become pride of our hard-work and for this to happen you have to do sadhna, take time out for sadhna and understand the success in sadhna accomplishment that it is not to be taken lightly rather it demands lot of hard-work.

Otherwise tomorrow any critic or unsuccessful can say that what difference this seminar created? 

Think over this fact deeply that more than imbibing this knowledge, it is important to develop mentality that I will practically apply all sadhna knowledge and related facts ,will not make any excuse of time-shortage etc. because

Pride of life lies in being a successful sadhak…

Supremacy of life lies in imbibing sadhna in right sense..

Purpose of life is to become a true disciple and sadhak…

Basis of life is divine knowledge provided by Sadgurudev..

Essence of life is in imbibing the knowledge of Sadgurudev and standing politely but strongly in front of entire world…

Meaning of life is not in following others rather it is in moving forward…

Understand these things and if you consider it appropriate than move forward in path of being sadhak otherwise tomorrow anyone can criticize, when god has given a moth then…
Ittar Yoni is not anything extra-ordinary. All the Yonis having dimension different from those of humans are included within its definition and it will be an amazing experience of life that whether it is possible or can we do it really. We all can imbibe unknown facts and truth about which till now most of the truth are hidden in fog.

Which are considered to be for some special persons only?
And it is like under-estimating your potential…Isn’t it?

At some time, manifestation of Ittar Yoni was a normal affair. Time was like that. Life was not that much complex. Mental powers were not that much scattered. But now??

And sadhnas of these shaktis or their aavahan or how comfortable life can be upon becoming their friends, is beyond our imagination. And this is not any cumbersome procedure rather it has to be understood and fearful attitude towards them has to be transformed. For example, you can see that how many Gurus asked their disciples to do Apsara and Yakshini sadhnas.
How many Gurus came forward and said that yes we have done this sadhna?
 And there is nothing wrong in it.
If you have listened his divine words then Sadgurudev ji has said that these are good-fortune of life …..But today no guru will take this type of risk. He will conceal the truth because there is no competent disciple category or he will be aware of poisonous vision of disciples or is fearful of criticisms.
But Sadgurudev never got perturbed by criticisms. Many times he announced that do sadhna and know the truth and I am always with you, I am with all those disciples who really wants to move forward on sadhna path and trust me that I will not allow anyone to cause harm to you , I will infuse air into your wings but at least you make up your mind to fly .At least Develop a mentality to acquire knowledge and do sadhnas

And friends a portion of his multi-dimensional dream has also been that one such sadhak category should be made who can do sadhna, attain success and are living scripture and who can conquer the entire world…

And if blood of Nikhil is flowing in our veins then understand its dignity. Move forward keeping aside the useless fear that something dreadful will happen in this sadhna. We all are waiting for you in this seminar . Are you also curious to really attain this knowledge and be successful. What do you say…

To Be Continued….

============================================
कुछ बातें पर हमेशा मनन की आवश्यकता होती हैं ,ज्ञान को पाने के साथ साथ  उस पर कितना चला जा रहा हैं उस पर भी ध्यान देना  होता हैं.इसे इस तरह से देखें कि हमने पहले भी सेमीनार किये  और जितना संभव रहा. उस समय अवधि मे आपके सामने उस  रहस्यमय ज्ञान  को सामने  रखा भी आपने  दुर्लभ यन्त्र प्राप्त  भी किया .पर क्या आपने उसमे वर्णित क्रियाएँ की?? .यदि नही तो फिर एक किताब ही आपने अपने संकलन मे  सजा ली.

 फिर कैसे पता चलेगा  कि उसमे  दी  गयी विधियाँ या तथ्य  या  अन्य जानकारी  सच मे  प्रभावकारी हैं या नही?
क्या वह यन्त्र  सच मे  वह क्षमता रखता हैं या  नही?
या  जितना भी आपने  ज्ञान समझा उसे कुछ भी सत्यता मे उतारने कि कोशिश कि या नही.

अन्यथा  किसी अन्य साहित्य और हमारे द्वारा दिए  गए (हम सभी  तो एक माध्यम ही हैं )इस साधनात्मक ज्ञान मे क्या अंतर रहेगा,सभी एक जैसा  ही  हो गया न , जबकि ऐसा नही होना चाहिए आपको  स्वयम ही इन बातों को परखकर देखना होगा   तभी दूध का दूध और पानी का पानी होगा.

   हमारे द्वारा जितनी भी मेहनत की  जा रही हैं उसका कुछ परिणाम सामने आएगा.यह कोई व्यवसाय नही हैं कि ज्यादा  ज्यादा  लोग आयें तभी हमारे कार्य की सार्थकता  होगी , क्योंकि यह हमारा उदेश्य  हैं कि नही, यदि सिर्फ कुछ ही आये और वे अपना मानस  बना कर इन साधनाओ  को करें  और सफलता पाए,  तभी तो  सार्थकता हैं अन्यथा भीड़ का हिस्सा बनने या भीड़ खड़ी करने  का क्या अर्थ?

यही तो होता आया हैं और यह नही होना चाहिए .

सदगुरुदेव जी ने  मुक्त ह्रदय से  ज्ञान दिया  और सभी के  सामने  रखा पर कुछ ही ऐसे  रहे जिन्होंने  उसको उन्ही अर्थो मे  स्वीकार  किया,और सफल हुये पर ऐसे हैं कितने ?

और आज कहाँ हैं?

इस प्रश्न को एक तरफ रखें कि आज कहाँ  हैं?

 बल्कि यह सोचें कि हम क्यों नही  सफल  हो पाए .

कहाँ हम कुछ गलती  कर रहे हैं ?

   एक बात समझने की  हैं क्या हम यह मानसिकता तो नही ले कर चल रहे हैं कि सेमीनार मे जायेंगे और कोई  एक छोटी  सी प्राविधि मिली और वस्  एक या दो दिन मे ......जबकि  सही अर्थो मे  देखा जाए   तो ऐसा किसी भी साधना के  साथ नही हैं. आपको परिश्रम  तो हर हाल मे करना ही होगा  और वह भी पूरे मन, प्राण से  तभी सफलता मिल पाएगी अन्यथा फिर एक नया आलोचक सामने  आ जायेगा .जब आप आये  तो अपना   मन बना ले  कि मुझे  सफलता  पानी ही हैं और मैं सिर्फ भाग लेने के लिए नही  बल्कि इन साधनाओ मे  सफलता पाने के लिए  जा रहा हूँ और समझ कर निश्चय रूप से अपने  मे परिवर्तन लाऊंगा ही,मैं स्वयम इन साधनाओ को कर इनकी सत्यता  को समझूंगा और अनुभव करूँगा और यदि सफलता नही मिल रही हैं तो उसके कारणों का विश्लेषण करूँगा और फिर  से साधना रत  होऊंगा न कि सिर्फ भाग लेने वाला एक व्यक्ति.

  क्योंकि आपके स्वार्जित  धन का मूल्य हैं ही,उसे आप क्यों कम करके आंकते हैं? हम उसके अर्थ को समझते हैं,यह जानते हैं कि आप कितने परिश्रम से  एक एक रूपये को एकत्रित करते हैं, कितना श्रम आपका लगता  हैं . तभी तो हम सभी यहाँ पर  इतना श्रम करते हैं कि आपको जितना  हमसे  संभव हो सकें उतना साधनात्मक ज्ञान एक भाई के  रूप मे प्रदान किया जाये..

  मित्रो हमारे इतने कठिन परिश्रम का जो एक मुख्य  पहलु हैं वह आपके  साधनारत होने  पर  ही टिका हैं.  हमारे द्वारा  कुछ भी कहे जाने कि कसौटी आपके  साधनारत  होने पर ही हैं ,क्योंकि जो अन्य कार्य हैं, वह तो हम कर ही रहे हैं और आप सभी का स्नेह भी हमेशा  साथ हैं पर ...जहाँ सेमीनार मे  वर्णित साधना  वाली बात आएगी  तो वहां तो केबल आप ही हमारे श्रम का गौरव बन सकते हैं और उसके लिए आपको साधना  करनी ही होगी. साधना के लिए  समय निकालना  ही होगा,और साधना सिद्धि सफलता को समझना  ही होगा कि वह कोई मजाक नही बल्कि  सच मे  दिन रात एक कर देने  वाली बात होगी.

 अन्यथा कल को कोई भी  आलोचक या  कोई भी असफल कह  सकता हैं कि  इन सेमीनार से  क्या फर्क पड़ा ??

 इस  बात  को गंभीरता से  समझे कि इस ज्ञान को अपने मे उतारने  से  भी कहीं कहीं ज्यादा इस मानसिकता को पहले अपने  अंदर लाना  हैं कि मैं सच मे  जो भी साधनात्मक बातें या ज्ञान सामने  आएगा उसे  प्रायोगिक रूप मे स्वयं सम्पन्न करूँगा ही, कोई भी समय आदि  का बहाना नही करूँगा.क्योंकि

जीवन का गौरव सफल  साधक होने मे हैं ..

जीवन की  उच्चता   साधना को सही अर्थों मे आत्मसात करने  मे हैं ..

जीवन का हेतु सच मे  एक सार्थक शिष्य  और साधक बनने मे हैं ..

जीवन का आधार सदगुरुदेव प्रदत्त यह दिव्य ज्ञान  ही हैं ..

जीवन का मर्म सदगुरुदेव के ज्ञान को स्वयं आत्मसात कर विश्व के सामने  नम्रता पूर्वक दृढ़ता से खड़े  होने मे हैं ..

जीवन का अर्थ किसी के पीछे चलने मे नही बल्कि स्वयम आगे  बढ़ने मे हैं ..

इन बातों के समझे और यदि उपयुक्त समझते हैं तो एक साधक बनने की  दिशा मे आगे बढे  अन्यथा कल को आलोचना  तो कोई भी कर सकता हैं ,जब इश्वर ने मुख दिया हैं तो ...
इतर योनी कोई अद्भुत बात नही हैं,जो भो मानव केअतिरिक्त अन्य आयाम वाली योनियाँ हैं वह सभी इसकी परिभषा मे आ जाती  हैं और यह तो जीवन के विशाल पटल पर एक अद्भुत आश्चर्य वाली बात होगी, एक अनोखा अनुभव होगा कि क्या ऐसा  होता हैं या सच मे हम भी ऐसा कर सकते हैं.  हम भी उन अज्ञात तथ्यों और सत्यता को आत्मसात कर सकते हैं  जिनके बारे मे  अभी तक अधिकांश सत्य कोहरे मे आच्छादित  हैं .

जिनको सिर्फ कुछ विशेष लोगों के लिए ही मान लिया जाता हैं .

और यह तो अपनी  क्षमताओ को कम कर के आंकने  जैसा  हुआ...  न

किसी समय मे इन इतर योनियों का दर्शन करना कई के लिए  सामन्य  सी बात  रही हैं, युग धर्म वैसा था.जीवन मे आप धापी इतनी न थी.मानसिक शक्तियों का इतना ज्यादा  बिखराव नही था.पर अब ??

और इन शक्तियों की साधना  या इनके आहवान  की  या इनके मित्रवत साथ  होने पर  जीवन  कितना सुख दायक हो सकता हैं, इनकी तो कल्पना भी नही कि जा सकती हैं.और यह कोई कठिन क्रिया नही हैं बल्कि इसको समझना और इनके प्रति अपना एक जो अजीब सा भय युक्त भाव  हैं उसको बदलने की  आवश्यकता हैं ,उदाहरण के लिए  आप स्वयम देख सकते हैं कि अप्सरा यक्षिणी साधनाओ के लिए  कितने  गुरुओ ने अपने शिष्यों को ये साधनाए करने को कहा?
 कितने  गुरू सामने आये जिन्होंने  कहा कि हाँ यह हमने यह साधना स्वयं की  हैं ?
और इसमें कोई  गलत बात नही हैं.
सदगुरुदेव जी ने  यदि आप उनके दिव्य शब्द  सुने  तो उन्होंने  कहा कि यह तो सौभाग्य हैं जीवन का.. पर आज  कोई भी गुरू इस  तरह का जोखिम  नही लेना  चाहता. वह सच्चाई  जानते हुये  भी उस पर पर्दा डाले  रहेगा .क्योंकि सक्षम शिष्य वर्ग हैं ही नही या  वह भी अपने शिष्यों कि विष भरी दृष्टी को जानता  होगा या आलोचना  से घबराता होगा .
पर सदगुरुदेव आलोचना  से नही  कभी विचलित हुये .उन्होंने  कई कई बार यह उद्घोष किया  कि साधना  करके  स्वयम सत्य को जानो और मैं सदैव  तुम्हारे साथ हूँ  ,अपने  हर उस  शिष्य के  साथ हूँ जो साधना के पथ मे  सच मे आगे  बढ़ना चाहता  हैं और विस्वास् करो कि मैं तुम्हे कोई हानि  नही होने  दूंगा , तुम्हारी पंखों मे  हवा  मैं भरूँगा  पर तुम उड़ने की  मानसिकता तो लाओ.  ज्ञान के प्रति और साधनारत होने के लिए मानसिकता तो लाओ.
और मित्रो उनके बहु आयामी स्वप्न के  एक अंश का यह भी रहा हैं कि इन साधनाओ को कर के  सफलता  पाने वाले  एक ऐसे साधक वर्ग का निर्माण हो,जो अपने आप मे जीवित जाग्रत  ग्रन्थ हो  जो पूरे विश्व मे  छा जाए ..

 और अगर हम मे  निखिल रक्त हैं  तो उसकी गरिमा  समझे ,व्यर्थ के  भय कि इस साधना मे  कहीं ऐसा  तो नही  आदि एक तरफ  हटा कर आगे  बढ़ चले. 
हम तो सेमीनार मे आपका  इंतज़ार कर ही रहे हैं .क्या  आपके मन मे  भी इस ज्ञान को सच मे पाने की  और सफल  होने  कि उतनी ही  उत्सुकता  हैं.
आप क्या कहते हैं ...

क्रमश :
****NPRU****

1 comment:

RajeevSharma said...

ऐसा नहीं है भाई कि ... हम लोग साधना नहीं कर रहे हैं । व्यक्तिगत रूप से मैं मानता हूं कि मैं आज तक सेमिनार में नहीं जा पाया पर मैंने साधना ज्ञान पाने की हमेशा कोशिश की है । पर बात वहीं आकर रूक जाती है कि किसी भी साधना में सफलता प्राप्त करने के लिए आवश्यक उपकरण और साधना प्रक्रिया का ज्ञान प्राप्त करना परम आवश्यक है । मैंने अप्सरा यक्षिणी साधना की पुस्तक का अध्ययन किया । कुछ चीजें इसलिए भी कठिन लगीं क्योंकि मैं सेमिनार में समझाये गये सूत्रों से अवगत नहीं हो पाया । अपने आप से सीखने में समय लगता है । कारण चाहे जो भी रहा हो ... मैं अपना व्यक्तिगत अनुभव बताता हूं ... एक तो मुझे लगता है कि मेरे पास सौन्दर्य कंकण नहीं है तो साधना में शायद उतनी सफलता न प्राप्त हो पाये । इसलिए साधनात्मक उपकरण प्राप्त करने की कोशिश कर रहा हूं । साथ ही साधनात्मक विधान से पहले की भी कुछ क्रियाएं हैं जिनको करना भी जरूरी है नहीं तो अपक्षित सफलता नहीं मिल पाएगी । अब इसके लिए अपने आपको मानसिक रूप से भी तैयार करना जरूरी है । शायद यही कारण रहा होगा कि मैं और मेरे जैसे बहुत सारे साधक छोटी या 10 - 12 दिन तक की साधनाओं में बैठने की हिम्मत जुटा लेते हैं ।

अब ये सब लिखकर मैं अपने लिए कारण नहीं खोज रहा ... ये साधनायें तो करनी ही हैं ... पर मानस बनाना शायद हमारी सबसे बडी चुनौती है । बाकी का तो पता नहीं ... पर शायद मेरे लिए तो यही एक कारण भी है ।