There was an error in this gadget

Friday, December 14, 2012

NIKHIL KALP KUTIR.....BHOOMI POOJAN SAMAROH - AN REPORT


 
Each and every moment of life has got its own importance. We cannot compare one moment with another. But some moments are precious which become treasure for life and what could be said about those fortunate ones who were part of these moments…Those moments are moments of joy and ecstasy not only for now but also for future when we will see our Sadgurudev dream getting materialised….when we will also make contribution and then we can say that Lord! I was fortunate that I was present in these so much important moments.
Now this function has been completed…or in other words series of future celebrations/function has started. Now we have to only work and expand field of sadhna……we do not have to stop at any moment…..we have to take our works to a particular level as soon as possible. This is a festival and our devotion at lotus feet of Sadgurudev. Now the speed of our work will reach ultimate level. Not only declarations but working in stages and taking each steps to completion…..because there is no time left considering the level of task ahead.
This function could be considered unparalleled in many dimensions. It was clear direction from our seniors that all the Vedic or tantric procedures which will be done in this programme , whether they may seem subtle or vast , but all these procedures would be carried out by females of this huge family. It was because when Shakti will worship Shakti then how can obstacles or hurdles remain in path. Keeping this fact and feeling in mind, this work was accomplished.

Sadgurudev have always loved female disciples (which are ultimately her soul-daughters) much more than sons and he always used to say that daughters are the embodiment of love and affection, who keep on showering affection throughout their lives. On one hand daughters are manifestation of Maa Bhagwati Paramba and on other hand they are complete form of creativity of life and tenderness …and we have tried to materialise this feeling of Sadgurudev….To add to that, we have also eradicated the misconception that there are only few among us who are sharing all the burden……..doing of poojan by our sisters also illustrate that it is not like this. Rather our sisters are fully capable. They are not inferior to anyone in any respect. And you all are completely aware of abilities of many sisters among them. Truth does not need any support, nor it needs anyone to recognise it, it is complete in itself.
All the poojan work which was done was primarily carried out under the direction of Rajni Nikhil Ji and now there is no need of her introduction. From previous few months, she was doing sadhna in Tantra Maha Peeth for this work and was busy in Praan-Pratishtha of one special Shri Yantra on which Arif Bhai Ji himself had done various procedures.
The very special Parad Shri Yantra was buried in the middle of vast stretch of land after completion of poojan on poojan day. It was the indicator of the fact that from now on, there will be no obstacle during course of construction on this land.
Because not only this Sri Yantra rather…….all the poojan work accomplished was not merely poojan of Bhagwati Shodash Tripur Sundari but it was complete Aavaran poojan. Thus results of this procedure will be witnessed by both you and us in future. This is not any ordinary procedure. It is not only invitation rather complete establishment of Aadya Shakti (Bhagwati Raaj Raajeshwari) by various secretive mantras for completion of this special work…..that too as soon as possible. And the handful of sand which we all offered in Bhoomi sthapan prayog of this special Shri Yantra……was indicator of our collective power …..It is not our rather……..it is work of all of us. And we all will not only equally render cooperation but will always remain together in all respect, only as brothers and sisters……no elder and no younger…all are equal.
From past few days we all were busy in completing Bhoomi Poojan work. But we were unaware of number of brothers and sisters coming as except 8 or 10 people nobody told us in spite of us writing again and again. It seemed that all were curious to surprise us by their last minute presence out of which some had joined the group just 1-2 days back and some were seniors too…..their sudden arrival………All had started gathering at railway station . And when I reached there, bus was completely full ……Now arrangement for one more bus was to be made…
We had thought that all brothers and sisters after coming to Jabalpur can take rest in appropriate hotel. But there were 2-3 railway examination falling on the 9th December due to which it had become virtually impossible to find a room in any hotel. All brothers and sisters tried hard to get hotel and mostly all were successful in getting them in late night……When there is situation like it….then it was not an easy task to instantaneously arrange for other bus in the morning. Thus arrangement for car etc. was made…. All the remaining people reached the place through the car.
Poojan work was being done at full force. As I have already said that this time females have taken this task in their hands. Therefore, we could focus on other tasks. Arif bhai tried to meet all as far as possible. All brothers and sister took time from him while roaming in the ground because everyone knew that they have come for one day only and he is also starved for time.
After completion of Poojan all of us enjoyed the simple and delicious food. We all have made sure that as much as possible; food arrangements will be made from nearby villages so that many brothers and sisters coming from cities could enjoy food made by them and in this manner, our mutual relation with villagers can be strengthened.
Evening time has already started. People had to leave by that day train too, but they were not willing to go and wanted to stay there. But we cannot ignore the harsh realities of necessities of life …and ….Sadgurudev has always said that He aspire his disciples not to be acetic rather they want them to be true sadhak while fulfilling their social, personal and timely responsibilities. He wanted his disciples not to run from responsibilities of life rather they should face it resolutely….and be successful….and become pride of Sadgurudev.
Those brothers, who could not go by bus, went by car with other brothers. It was pleasing that there is no discrimination……no distance….no differences of any kind………no discrimination on basis of knowledge, post or position…..all are ours…….so affection is natural….and when Sadgurudev blessing is on all of us then…..

And one more thing which I forget to tell you that we all went and saw vast stretch of land from poojan place to banks of Narmada River (which is boundary) and experiences that really, here amazing work is going to take place which is not disguise under…that just by using name of Sadgurudev , someone is earning bread.
Rather we all are working day and night to make land flat and even for carrying out future work. We cannot even imagine how much it was difficult to work on this land; it was filled with so many stones. Bhai Ji always directed that all work carried out should not be informed on Facebook rather we should silently carry out work for that day as much as possible ….so that when brothers and sisters come, they experience that work is not going to begin rather it is already being done day and night right from the day when they purchased the land. They have not left any stones unturned.
For this reason, there was delay in publication of Tantra Kaumadi. You all should see our work and understand that we all are strongly determined in all circumstances and till every limits that this dream will be fulfilled in its complete form….at any cost….We have not seen any muhurat……no festival. Just put the planet and constellation on one side …..When Sadgurudev is with us each and every moment then we have to just work and this is the only basic mantra…….success is all ours.
And after seeing this land, you cannot even think that there were 20-20 feet deep trenches …entire region was filled with dense shrubs…but you can see work of our team.
And why it should not be friends…..each and every disciple of  Sadgurudev has got the capability to do amazing things….and all this is one part of him only. Arif Bhai Ji is working hard to make sure that work is carried out at faster pace and so that as soon as possible we all brothers and sister will gather and do sadhnas together and you all, with ease, not only take guidance from brothers and sisters rather will become ready for providing their contribution towards fulfilment of Sadgurudev’s dream…….because just saying Jai Sadgurudev……and my life is his only……arranging some tent and food….such type of disciples are not required ….rather those who can say that we have to fulfil the dream of our father. We have to prove right the hard-work put by Sadgurudev for us…..He Sadgurudev; we will work day and night. This dream will be fulfilled.
Here I am reminded of one incident of Swami Vivekananda in which he during his foreign stay said that if I get 100 youngsters whose trust is of steel and body is of iron, then I will transform the entire world.
And you will be surprised that after listening to this roar , only one girl came forward , touched his lotus feet and said Swami Ji I am present at your service , you can search for remaining 99 and that lady….later on became world-famous by the name of Sister Nivedita.
Saying that Arif Bhai Ji, I know that you will be successful……..it does not solve any purpose….rather it should be that it is dram of my father and I will also contribute. How can I sit idle?
Friends you have seen the land yourself

1.     It is situated on the north of Road (It the one and only road which is used for taking rounds around sacred Narmada and this place is always sacred owing to lotus feet of Mahayogi and Acharyas who travel on it). It has been considered to increase money and good-luck in Vaastu Shastra

2.  On the other hand, Narmada River itself is situated on the north of the land which from Vaastu Shastra point of you, indicates complete success and good-fortune.  

3.     And Vaastu Shastra also says that if the stones are found by digging the land, then that land is auspicious for increase in age, wealth and prosperity.

When we got some time after poojan (though Arif Bhai Ji had said to me that he wants to say certain things in detail) but due to scarcity of time, he only said that neither I need help of single rupee from you all nor today’s programme was done with this desire…..I only need your company and nothing more…..If you cannot do anything then at least do not betray the trust.

Because it hurts a lot …..Here no one is there to take credit. We all are brothers and sisters then no things like betrayal should come in such auspicious work.
Due to heavy request from brothers, Arif Bhai Ji met the brothers till 2:00 A.M in one room of Hotel Samdariya ……..one small meeting, just like small gosthi. After it, all took little time from him for their personal talks. It went on till 2:00 A.M in the night. And on the next day from 8:00 A.M in the morning Bhai ji went to meet other Guru Brothers in Hotel Shivalik and this went on till 1:00 P.M. Even when he was going to his hometown in the evening, then all those brothers and sisters, who were present at railway station, met him.
One more thing that from last 4 days winter had disappeared ….and all our brothers and sisters had come with blanket and quilt and all were saying that is this cold….here we are sweating. Now how I can make them understand actually it is winter …….but with your arrival……due to your affection….summer has arrived….smile
But I will post photo of site on the net from which you will be able to understand the intensity of cold.
But this incident has taught that next time it should be written that you all check yourself and make arrangements accordingly…smile
Really…..what can be said about the affection of you all…..it seemed that to give base to our hard-work, Sadgurudev is situated in hearts of you all and is pouring affection. I am present inside all of them…..I am with you and all of you are parts of soul.

Because today affection between two people stays for some time…..how is it possible …??

Keep on boosting about friendship…..nobody knows….when someone become egoistic….

I will be there with you……each and every moment…..saying this one day….
And such things have happened with Arif Bhai Ji many times…….but still knowing everything he sometimes say that ….there is no time for such talks…now our work will be answer to all…who are still hesitating to come forward or who in spite of being with us…
But among them there are so many affectionate ones whose number cannot be counted nor we can imagine their amazing affection………so many persons wept when he left by train. It has also been said…

That not by big-big words…..superficial talks….
Rather the thing which is not uttered…..which remains inside and where words become silent….
At that moment what more can be precious than one drop of tear in eyes….
This is love…..true love….

We all are grateful to you for your love and affection….
We love all those who are with us …….and we wait for those real companions who will come in future because……it is not possible that disciples of Sadgurudev will not have love and ability for his dream……
His blood is running in our veins ………we are with each other for completion of work.

We all are with each other to materialise this multi-dimensional dream and …….how can we consider your love …your trust ….your dedication to be lesser. We all will meet very soon. And this sequence will go on always…..
So smile…and please tell us about your feelings ……because it has got a meaning too….
And shall I write all things……We are waiting for your kind words….
With no miserliness…..do write….

===========================================
जीवन का  हर क्षण  का अपना ही एक महत्त्व  हैं , किसी एक क्षण की, किसी दूसरे क्षण से तुलना  की ही नही जा सकती हैं.पर कुछ क्षण  अनमोल होते है   जो जीवन भर की सम्पदा  हो जाते  हैं और इन क्षणों मे जिस किसी को भाग लेने का मौका मिलता हैं . वे क्षण सच मे ...एक खुशी...एक  प्रसन्नता...के पल आज ही नही बल्कि भविष्य के लिए भी हो जायेंगे  जब सदगुरुदेव के स्वप्न को और भी साकारता  लेते हुये देखेंगे ..जब हमारा  योगदान  भी होगा  और तब हम भी यह कह सकते हैं  की हे प्रभु ..यह हमारा सौभाग्य रहा की इतने महत्वपूर्ण  क्षणों मे मैं भी उपस्थित  रहा ..

अब यह समारोह सम्पन्न  हो चुका हैं ..या यूँ कहूँ की अब नए आने वाले समारोहों की श्रंखला प्रारंभ होने के लिए मानो शंख ध्वनि  हो गयी हैं.की अब सिर्फ कार्य और सिर्फ साधना क्षेत्र का  विस्तार ...और विस्तार ..अब नही रुकना  हैं ..अब कार्यों को जितना जल्दी  एक स्तर  तक पहुचाना  ही हैं . यह तो उत्सव  ही हैं ,और  सदगुरुदेव के श्री चरणों  मे यह भावांजलि ......हमारे  कार्यों की........ अब और तीव्रता ..अपने चरम  पर होते जायेगी .केबल कोई और घोषणा नही बल्कि अब चरण बद्ध  कार्य और  हर चरण को उसकी पूर्णता तक पहुचाना ..क्योंकि अब समय  मानो हैं ही नही ..जिस स्तर का कार्य अब सामने हैं,उसे देखते हुये  .

यह समारोह अपने  आप मे  अनेको आयाम मे,  अप्रितम कहा  जा सकता हैं, हमारे वरिस्ठो का  स्पस्ट आदेश रहा हैं की इस कार्यक्रम मे  जो भी  वैदिक और तंत्रकीय प्रक्रियाये  होगी,   जो भले ही सूक्ष्म   या बृहद दिखाई दे, पर वे सारी प्रक्रिया, अब हमारे इस विशाल परिवार की नारी शक्ति के  द्वारा  ही क्रियान्वित होंगी .क्योंकि  जब स्वयम शक्ति ही शक्ति का पूजन करने  बैठेंगी तब भला मार्ग मे  कैसे कोई  विपत्ति  या वाधाएं टिक पाएंगी .और इसी भावना को .इसी तथ्य को अपने सामने रखते हुये  यह कार्य  किया गया .

सदगुरुदेव  हमेशा  अपनी शिष्याओ को, जो  की उन्ही की ही  तो आत्मवत  पुत्रियाँ   हैं, को पुत्रो से भी कई कई गुना जयादा स्नेह करते रहे हैं ,और  वह यह भी अनेको बार कहते रहे की पुत्रियां ही  तो स्नेह का साक्षात्  स्वरुप होती हैं, जो जीवन भर  सिर्फ स्नेह और स्नेह ही लुटाती रहती हैं  , जहाँ पुत्रियां  साक्षात् माँ  भगवती पराम्बा  का स्वरुप हैं  तो  वहीँ कोमलता और  जीवन की सृजनात्मकता   का एक पूर्ण रूप ...और सदगुरुदेव जी की इस भावना को हमने यहाँ साकार करने की कोशिश की ..साथ ही साथ  इस भ्रांती का   निर्मूलन भी की ..हमारे यहाँ  सिर्फ कुछ ही ऐसे हैं जिन पर सारा भार हैं ...और हमारी बहिनों के द्वारा यह पूरा पूजन होने  से यह भी पता चलता हैं की ऐसा नही हैं .बल्कि  हमारी बहिने  भी पूरी तरह सक्षम  हैं वे किसी भी अर्थो मे......  किसी  से कम नही हैं  और आप सभी .....इनमे से  अनेको  की प्रतिभा से पूर्ण परिचित हैं भी ..और इनके बारे मे  क्या लिख सकता  हूँ.सत्य को किसी के आसरे की जरुरत नही, न ही किसी के पहचान कराने की, वह अपने आप मे भी पूर्ण होता हैं.

जो भी पूजन कार्य समपन्न हुआ उसमे  प्रमुखता से रजनी निखिल जी ने निर्देशन किया  और  उनके परिचय की अब कोई आवश्यकता हैं ही नही.वे विगत कई महीनो से तंत्र महा पीठ कामाख्या मे इसी कार्य के लिए साधनारत रही और  एक विशेष श्री  यन्त्र की प्राण प्रतिष्ठा  मे संलग्न रही  जिस पर स्वयम आरिफ भाई जी  ने भी अनेको प्रक्रियाये पहले  से सम्पन्न कर रखी थी.

 जिसे ( अति विशिष्ट पारद श्री यन्त्र ) इस  पूजन दिवस मे  समस्त पूजन कार्य   पूरा होने पर  इस भू खंड  के मध्य मे  जमीन मे  दवा दिया  गया , जो की इस बात का परिचायक  हैं की अब से इस भूखंड पर  न कोई निर्माण के  दौरान ,न किसी  भी प्रकार की कोई वाधा आएँगी.

क्योंकि न केबल यह श्री यंत्र बल्कि.....जो भी पूजन कार्य हुआ  वह भगवती  षोडशी त्रिपुर  सुन्दरी का ..... न  केबल  पूजन बल्कि सम्पूर्ण आवरण पूजन से  संयुक्त हो कर हुआ हैं . अतः  इस क्रिया के क्या परिणाम होंगे..आप और हम सभी स्वयम देखेंगे ही...यह कोई सामान्य प्रक्रिया नही हैं  बल्कि अपने  आप मे  अनेको रहस्यमय मंत्रो से संयुक्त हो कर  मानो भगवती राज राजेश्वरी  को मानो  इस विशेष कार्य की पूर्णता..........वह भी जल्दी से जल्दी संभव करवाने हेतु,उन्हें  न केबल निमंत्रण बल्कि उन आद्या शक्ति को पूर्णता के साथ स्थापन भी  करना  हुआ  हैं.और हम सभी  ने  एक एक मुठ्ठी मिटटी   जो इस  विशिष्ट  श्री यन्त्र के भूमि स्थापन प्रयोग मे  इस पर अर्पित की......... वह मानो एक संगठन शक्ति  का ही प्रतीक हैं की........यह हमारा ही नही  बल्कि......हम सब का ही अब कार्य हैं.और हम सभी एक बराबरी से इस कार्य मे..........सहयोग  ही नही बल्कि  हर दृष्टी से  साथ होंगे,  सिर्फ भाई बहिन  के रूप मे,  कोई छोटा या बड़ा नही...............सभी एक बराबर...

विगत कई दिवसों से हम सभी इस भूमि पूजन कार्य की तैयारी को पूर्णता  देने के  कार्य मे    लगे हुये थे .पर कितने भाई बहिन आ रहे हैं हमारे बार बार लिखने पर भी सिर्फ ८  या १० लोग को छोड़कर किसी  ने भी  बताया नही था .सभी, हमें भी अंतिम समय उपस्थित होकर आश्चर्य चकित मानो कर देने के लिए उतावले  थे . जिनमे  से कुछ  तो मानो एक दो दिन पहले  ही हमारे इस ग्रुप मे जुड़े  तो कुछ  वरिस्स्ठ  भी ...उन सभी   का अचानक  आगमन .......रेलवे स्टेशन मे  सुबह से  सभी एकत्रित होने लगे थे .और  जब तक मेरा पहुचना  वहां पर हुआ  तब तक  तो एक पूरी बस ठसाठस भर चुकी थी ..मतलब अब एक और .बस का इंतज़ाम ..

कुछ  यूँ हुआ की हमारे द्वारा   जो भी सोचा गया था  की, सभी भाई  बहिन  आराम से जबलपुर मे आ कर उचित होटल मे  आराम कर सकेंगे .पर दो या तीन  exam    जो रेलवे के थे वह भी    तारीख हो ही  थे .इस कारण  किसी भी होटल मे  जगह मिल पाना   लगभग असंभव  सा हो गया .सभी भाई बहिन  ने बहुत मेहनत करी  की किसी तरह  उन्हें .कोई तो होटल मिल सकें  और देर रात तक लगभग सभी कामयाब हो  ही  गए ...जब यह हालत  हो रही हो ...  तब सुबह दूसरी बस का  तत्काल इंतजाम करना कोई आसान काम नही था .अतः तत्काल कार आदि की अव्यवस्था  की गयी .... हम सभी  जब सभी जो शेष रहे  वह   उसके  के माध्यम सेसमय रहते   आयोजन स्थल तक पहुच गए .

वहां पूजन कार्य  अपने पूरी चरम पर चल रहा था .जैसा की मैं आपसे निवेदन कर ही चुका   हूँ की इस बार नारी शक्ति ने यह कार्य अपने  हाथ मे लिया  था .तो थोडा   सा  हम सभी  अन्य कार्यों मे  और ध्यान दे सकते रहे .आरिफ भाई जी ने जितना   संभव हो सकता  था  सभी से मिलने की पूरी कोशिश की  .मैदान मे घूम घूम कर   सभी भाई बहिन एक एक करके  उनसे समय ले रहे रहे .क्योंकि सभी जानते रहे की वह भी मात्र एक दिन  के लिए आये हैं और उनके पास भी समय की बेहद  कमी  हैं .

पूजन कार्य की पूर्णता के बाद हम सभी ने  ,सरल स्वादिष्ट  सुस्वादु भोजन की व्यवथा रखी गयी  थी उसका आनंद  लिया . हम सभी ने यह सुनिश्चित  कर रहा  था की  जितनी भी व्यवस्था  अगर संभव हो सकती हैं तो वह आस पास के गांव से  ही लेंगे  ताकि  शहर  से आये अनेक भाई बहिन ....... उनके  द्वारा  बनाये गए भोजन   का  लाभ  भी ले सकें,और इसी तरह से  गाँव  वालों के प्रति  हमारे आपसी सबंध और भी प्रगाढ़  हो सकें,

इसके बाद संध्या काल प्रारंभ  भी  चुका था, लोगों को उसी दिन की ट्रेन से जाना भी था ,पर लोग जा ही नही रहे थे  सभी और भी रुकना चाह रहे थे ,पर समय की और  जीवन की आवश्यकता का  अपना ही एक कठोर सत्य हैं उससे आप नज़र अंदाज़ भी तो नही कर सकते हैं .....और  ..सदगुरुदेव का  सदैव से यही कहना   रहा हैं की  अब सन्यासी नही बल्कि वे  जीवन की सारी जिम्मेदारियों और  अपेक्षाओ  को पूर्ण करते हुये  अपनी सामाजिक , व्यक्तिगत  और   काल गत समस्त  जिम्मेदारियों को पूरा करते हुये  एक सच्चे साधक की वह कामना करते हैं  की उनके  शिष्य  शिष्या   ऐसे बने  जो जीवन से भांगे नही बल्कि  दृढ़ता पूर्वक उसका सामना  कर ....सफल बने...अपने  सदगुरुदेव का गौरव  बने.

जो कुछ भाई .बस मे जाने से  छूट गए   वह भी फिर किसी तरह कार मे  एक दूसरे के साथ  चल कर शहर  पहुंचे ..यह बहुत ही सुखदायक हैं की कोई भेद भाव नही,.... कोई दुरी नही ..कोई किसी भी प्रकार का मन मुटाव नही,......कोई ज्ञान   या कोई पद   या  स्थिति का भेद भाव  नही ..... सभी तो अपने ही हैं  न ..तो ये  स्नेह तो होगा ही ...और जब सदगुरुदेव जी की करुणा  दृष्टी  सभी पर हैं  तब ...

हाँ यह बात  तो मैं भूल ही गया बताना की हम सभी ने  पूजन स्थल से लेकर ..पवित्र नर्मदा तट तक जहाँ तक हमारी इस भूखंड की सीमा हैं, वहां  तक स्वयम चल  कर देखा  और  यह अनुभव किया की सच मे .यहाँ एक  अपने आप मे  अद्भुत कार्य  होने जा रहा हैं जो की किसी तरह की लीपापोती  नही  हैं की...... बस  नाम  सदगुरुदेव जी का लेकर का लेकर अपनी रोटियां सेकते  रहे .

बल्कि   हम सभी  दिन रात  श्रम करके  इस  भूखंड को कार्य के लिए .समतल बनाने  के कार्य मे लगे रहे ..यह भूखंड जितना सोचा था, उससे भी कहीं जयादा  पत्थरों से भरा  हुआ हैं .इस पर कार्य करना कितना  कठिन हैं  यह अनुमान  भी नही लगाया जा सकता  हैं.भाई जी का लगातार यह निर्देश की  हम क्या कार्य कर रहे हैं....... उसकी  कोई बात अभी   फेस्  बुक नही की जाए बल्कि  चुपचाप .जितना कार्य   उस  दिन तक के लिए  संभव हो पाए ...हम करें....... ताकि हमारे भाई बहिन आकर देखें और अनुभव  भी करें की सच मे .अब से कार्य   चालू नही बल्कि ये सभी दिन रात कार्य कर रहे थे,जिस दिन से  जमीन ली  गयी हैं उस दिन से यह लोग शांत  बैठे नही  रहे हैं  .

इस कारण तन्त्र कौमुदी के प्रकाशन मे  देर  हो रही थी पर .आप सभी स्वयम हमारा  कार्य देखें और समझे  की हम हर हालत मे  हर सीमा  तक दृढ प्रतिज्ञ हैं की  यह   स्वपन पूरी तरह  ही नही बल्कि सम्पूर्णता से  अपने पूर्ण स्वरुप मे साकार हो कर रहेगा...ही ..हर हाल मे ..हर कीमत मे...इस कार्य के  लिए हमने  न ही महूर्त देखा, न......... कोई  त्यौहार .सारे गृह नक्षत्र  एक ओर ...जब बस जब सदगुरुदेव प्रतिपल साथ हैं तो हमें कार्य करना हैं   और बस यही .मूलमंत्र ...सफलता हमारे  लिए ही हैं .

और आप उस भूखंड को देख कर सोच भी नही सकते की  वहां पर २० –२० फीट गहरी खाईयां  रही हैं ..सारा  क्षेत्र घनी झंडियों से भरा हुआ  पर .हमारी टीम का कार्य आप देख सकते हैं .

और क्यों  न हो मित्रो ..सदगुरुदेव  का एक एक शिष्य अपने आप मे  अद्भुत करने की क्षमता रखता हैं ..और यह सब उन्ही  उसी शक्ति  का  ही तो  एक अंश हैं और .आरिफ भाई जी  और भी कार्य तीव्रता कैसे संभव हो सके  इसी मे लगे हैं की जल्द से जल्द हम सभी भाई बहिन यहाँ  पर एकत्रित हुआ करेंगे , साधनाए  साथ मे करेंगे  और आप  आराम से,   पूरी तरह से निश्चिन्ता से ,  न केबल अपने भाईयों से, बहिनों से  हम सभी साधनात्मक  मार्ग दर्शन  ले सकेंगे ,बल्कि सदगुरुदेव के  इस  स्वप्न को साकार करने मे  अपनी भूमिका  हेतु आप तैयार भी हो सकेंगे  ..क्योंकि सिर्फ  जय सदगुरुदेव .......  और ये जीवन  उन्ही का हैं  ..... और कुछ टेंट   लगा देना ..... कुछ भंडारा  करा देने  वाले  शिष्य  भाई नही......... बल्कि  जो कमर कस  कर कह सके  की हमें  तो अपने ही  पिता का स्वप्न साकार करना हैं .सदगुरुदेव  द्वारा हमारे  लिए अहिर्निश किये  गए  श्रम् को सही साबित कर दिखाना  हैं ही ..........  हे  सदगुरुदेव  हम दिन रात कार्य करेंगे .यह स्वप्न पूरा होगा ही ..और हम अभी  ..नही यह कहीं  जायदा अच्छा  होगा की मैं ..करूँगा .

यहाँ पर मुझे स्वामी विवेकानद  जी के साथ हुये उस संस्मरण  की बात  याद आती हैं जिसमे  उन्होंने अपने विदेश प्रवास  कहा की  मुझे  १०० ऐसे  युवक युवतियां मिल जाए जिनके  विश्वास स्टील का और शरीर फौलाद का बना हुआ हो तोमैं सारे संसार का कायाकल्प  कर दूँगा .

और जानते हैं मित्रो यह हुंकार सुन कर  सिर्फ एक लड़की सामने आई  और उसने  उनके श्री चरणों का स्पर्श  करते हुये कहा  की स्वामी जी मैं आपकी सेवा मे उपस्थित  हूँ अब आप शेष ९९ की खोज कर ले  और वही युवती ..सिस्टर निवेदिता के नाम से  विश्व विख्यात    हुयी .

यह कहना की आरिफ भाई जी  मैं जानता  हूँ  आप कामयाब होगे ही ....... यह कोई बात नही .......बल्कि होना  तो यही चाहिये की  यह मेरे पिता का   ही स्वपन हैं और मेरा  भी योगदान होगा ,मैं कैसे  बैठे रह सकता हूँ .


मित्रो यह भूखंड .आपने स्वयम देखा हैं

1.     की  रोड (यह एक मात्र रोड  हैं पवित्र नर्मदा की परिक्रमा करने केलिए  करने  के लिए  उस स्थान  पर उपयोगित की जाती  हैं ,जिस पर अनेको महायोगी और  आचार्यों  के पावन श्री चरणों  से यह स्थान सदैव पवित्र युक्त  ही हैं  )के  उत्तर  दिशा की ओर स्थित हैं  यह वास्तु शास्त्र  मे  धन  और धान्य को बढ़ाने  वाला माना गया हैं .

2.     वही इस  भूखंड के  स्वयम के उत्तर  भाग मे  स्वयम नर्मदा नदी हैं जो की  वास्तु शास्त्र के  हिसाब  से   पूर्ण सफलता  और सौभाग्य  का प्रतीक  हैं.

3.     और वास्तु  शास्त्र कहते हैं की जिस  भूखंड  को खोदने से यदि पत्थर निकले  वह  भूखंड तो आयु,  धन  और धान्य और एश्वर्य वृद्धि कारक होती  हैं .

वहीँ पूजन  उपरांत  जब कुछ क्षण मिले .हालाकि आरिफ भाई जे  ने मुझसे कहा था की वह कुछ बाते  सभी  से  विस्तार से करना चाहेंगे  परन्तु  समय की कमी के कारण .बस उन्होंने इतना ही कहा की मुझे आप सभी से ..एक पैसे की  भी सहायता नही चहिये .न  ही यह आज का कार्य कोई इस तरह के  इच्छा   रखने के लिए प्रचार के लिए किया  गया हैं ..मुझे बस आपका साथ चाहिये  और कुछ भी नही ..कम से कम  अगर कुछ भी नही कर सकते तो  विश्वासघात  तो न करें..

क्योंकि वह बहुत पीड़ा पहुंचाता  हैं की ...यहाँ कौन श्रेय लेने के लिए हैं हम सभी  भाई बहिन  ही तो हैं तब  आपस मे इस पवित्र कार्य मे विश्वासघात जैसा  तो न आये ...

भाइयों के बहुत अनुरोध पर  आरिफ भाई जी स्वयम रात को  २ बजे तक मिलते रहे .हम सभी  होटल समदरिया के  एक रूम मे ..... एक छोटी सी मीटिंग  और गोष्ठी ही समझ ले  उसी रूप मे आपस मे बात करते रहे , बाद मे  सभी ने  थोडा थोडा समय अपनी व्यक्तिगत बातों के लिए उनसे लिया  लगभग यह रात के  २ बजे  तक चलता रहा .और अगले दिन फिर  सुबह  ८ बजे से भाई जी ..अन्य और गुरू भाइयों से व्यक्तिगत मिलने के लिए स्वयम होटल शिवालिक गए  और दिन के  १ बजे  तक पुनः यह सिलसिला चलता  रहा .यहाँ तक की जब वह शाम को अपने गृह  नगर जा रहे  थे  तब भी  जो भी भाई  बहिन  रलवे स्टेशन पर उपस्थित रहे  उनसे भी  वह मिलते रहे .

हाँ यह बात जरुर हैं की  विगत  चार दिन से  ठण्ड की ऋतू   छुट्टी  मानने  अपने  घर चली गयी ..और हमारे सभी भाई बहिन   रजाई कम्बल लेकर  यहाँ आ गए और  सभी  यही कह रह थे  की ..भैया  ये ठंडी हैं ...यहाँ तो पसीने छूट रहे हैं अब मैं  कितनो को समझाता की  की हैं तो ठंडी ....... पर आप सभी के  साथ साथ आने पर .......आपके  इतने  स्नेह के कारण ही तो यह गर्मी आ गयी हैं .... smile

पर सच्ची मुच्ची मैं आपको  साईट के  फोटो  आज   नेट पर पोस्ट करूँगा   जिसमे आप समझ पाएंगे की क्या आलम वहां का ठंडी रहा हैं .

पर इस घटना से  यही सीखा गया हैं की अगली बार यही लिखा  जाए  की आप सभी  स्वयम चेक कर ले  और उसके हिसाब से   अपने  साथ .सामान लाये .... smile

सच मे ..आप सभी के  स्नेह को क्या  कहा  जाए ..माने  हमारे श्रम को और भी आधार देने  के लिए सदगुरुदेव  आप सभी के  ह्रदयस्थ  होकर अपने स्नेह से  हम  सभी  को सिंचित करते रहे हैं .मानो की यह सभी  अपने ही तो हैं .इन सभी के भीतर मैं ही तो  हूँ .......  तुम सभी के साथ हूँ ,और ये  सभी मेरे ही आत्मांश हैं .

क्योंकि आज  दो व्यक्ति  का भी स्नेह कुछ समय टिका रह जाए ..कहाँ संभव हैं..??

मित्रता का रट लगाए लगाये....  न मालूम कब ....किसका कौन सा.. अभिमान जाग जाए ..कौन जानता  हैं .

मैं साथ होउंगा ... .हर पल साथ  हूँ ......कहते कहते  एक दिन वहीँ ..

और ऐसा  तो कई कई बार आरिफ भाई जी  के साथ हुआ  हैं ..पर सब कुछ जानते  बुझते   वह कभी कभी कह देते  हैं की ...... अब इन सब बातों का  समय कहाँ ..अब सिर्फ कार्य  ही हमारा  उत्तर  हैं सभी के लिए ..जो अभी भी साथ आने मे  हिचकते हैं या  जो साथ रह  कर भी ...

पर इन सबके मध्य स्नेह करने वाले इतने ज्यादा  हैं की  उन्हें  न तो गिना  जा सकता हैं  न ही  उस अद्भुत स्नेह की  कोई कल्पना  भी .........कितनो के आखों से आसूं बह निकले   जब वह ट्रेन से जाने लगे .और  कहा भी गया हैं  न..

की बड़े बड़े शब्दों से नही ..बड़ी बड़ी बातों से  नही .

बल्कि  जो बात कह  न पाए ..जो मन मे ही रह जाए  और  जहाँ शब्द  ही मौन  हो जाए .

उस पल पर पलकों पर आये  एक अश्रु बूंद  से भी  कीमती   और इस जहाँ मे भला  क्या  हो सकता हैं..

वहीँ स्नेह  हैं ..वहीँ सच्चा ..स्नेह  हैं ... .

आप सभी के इस स्नेह  के लिए हम सभी पल प्रतिपल  आभारी हैं ,और सदैव भी ..

जो साथ मे हमारे हैं उनका स्नेह हैं .......और जो सच्चे सहयोगी भविष्य मे आयेंगे  उनका  इंतज़ार भी क्योंकि ..सदगुरुदेव के शिष्यों  मे ...उनके  स्वप्न के लिए .अगर स्नेह  और क्षमता  न होगी यह  तो संभव ही नहीं  हैं .

उनका ही रक्त हमारी घमनियों मे बह रहा हैं ...वह इस कार्य की पूर्णता केलिए  ही हम सभी एक साथ हैं .

इस बहु आयामी  स्वप्न को साकार  करने के लिए हम भी का पल प्रतिपल साथ हैं और ..भला हम आपके  स्नेह ....आपके  बिस्वास ...... आपकी  श्रद्धा को कम कैसे  आंक  सकते हैं .आप सभी के  इस स्नेह को विन्रमता सहित प्रणाम  करते हुये .पुनः जल्दी ही आप सभी से मिलना होगा .और यह सिलसिला हमेशा चलता रहेगा ..हमेशा ...

तो  मुस्कुराए ..और आप सभी अपनी भावनाओं से  हमें  भी अवगत कराये .....क्योंकि उसका भी तो एक अर्थ हैं....

और अब क्या  सब कुछ मैं ही लिख दूं ..अब आपके शब्दों का भी तो इंतज़ार हैं ..

विथ नो कंजूसी ......पर  ..लिखना  जरूर ...

 Smile

**** NPRU****   

5 comments:

money dhasmana said...

bhaaaiya ji aaapke saah hai sab balki guzaarish hai ki aap hamaare saath rehna :'(

money dhasmana said...

bhaiya hum apke sath hai balki guzarish ye hai ki aap hamara saath na chorna :(

shashikant shukla said...

Aanand aa gaya yah sab jankar ek prishtha boomi mil gayee jo ki sadhako ke liye karma boomi bhi hai. Bahoot aananda aaraha hai. Uttam karya hua.bahoo bahoot badhai aur dhanyabad. :) JAI GURUDEV

shashikant shukla said...

Aanand aa raha hai jankari prapt karke. Ye sadhko ke liye karm bhoomee hogi. Bahoot-bahoot badhai aur dhanyavad. JAIGURUDEV.

shashikant shukla said...

Aanand aagaya sadhako ke liye yah karma bhoomi hai. Bahoot-bahoot badhai aur dhanyavad. JAIGURUDEV