There was an error in this gadget

Saturday, December 22, 2012

PAARAD SAHASTRAANVITA DEH TARA RAHASYAM - 5





ATEEV CH SUGOPYAANCH KATHITUM NAIV SHAKYTE |
ATEEVAASEET PRIYAA YASMAAT TASMAAT KATHYAAMITE ||
ROOPAANI BAHU SANKHYAANEE PRAKRITEH SANTI BHAAVNI |
TESHAAM MADHYE PRADHAANAM TU NEEL ROOP MANOHARAM ||

He Parvati , I do not have power to describe this very hidden and indescribable Vidya. However, you are very dear to me, therefore I am telling you. He Bhavini! Nature has many forms and so are their numbers. Out of all these forms Neel (Blue) form is most important. Blue coloured Manohara is most important among Vidyas of nature.
Form of Bhagwati Tara on one hand is very simple and on the other hand it is very secretive. It is simple since she is our mother and knowing mother does not require any comparative and comparison. Mother is only a mother. It is more than enough but when Param Yogis tried to understand her Omni-presence and limit of her motherly love, they were amazed. Because here the quote “Hari Anant Hari Katha Ananata “(meaning god is infinite and so are all stories related to him. Here it demonstrates the height of motherly love of Maa Tara) is satisfied.

As an attempt has been made in previous articles to make clear that in Upasana of every Mahavidya, Upasana of her Bhairav form has got an important place, which cannot be ignored in any way. It may seem to sadhak that he is doing some other sadhna while leaving basic sadhna but all this sequence actually is endeavour to imbibe that sadhna completely inside us. And it is worth pondering over that will any Aadya Shakti be bound by any one anushthan? Never… Yes this is certain that she in her affectionate form can do anything for her sons and daughters owing to her affection towards them and this is quality of every mother.
Bhairav of Bhagwati Tara is “Akshobhy Bhairav” and he resides is in long hairs of Bhagwati. So presence of her Bhairav in the same idol is much pleasing and beneficial for attainment of success in sadhna too because while doing upasana of Bhagwati, upasana of her Bhairav is automatically done. Snake present on head on one hand indicates Kundalini Shakti (serpent power) and on the other hand it indicates coolness. It also is message for sadhak that he/she has to always remain cool because out of so many egos, ego of Vidya is one of them, ego of sadhna siddhi…..and it is very difficult for sadhak to be saved from it. As we have already said earlier Bhagwati Tara removes this ego of sadhak.
It has been mentioned in Tantra Scriptures that at one instance Bhagwati Parvati asked Lord Shiva that “He Lord of Lords, what is that Vidya, attaining which supreme scholar Vyaas Saint wrote so many high-level scriptures??”
Lord Shankar says that “He Parvati, due to the effect of Tara Mahavidya Vyaas saint was able to write scriptures. He Daughter of mountains……Tara Mahavidya is fire for fuel of ignorance attaining which Dharma, Artha, Kaam and Moksha are attained very easily. Nothing is unattainable from the effect of this Vidya. Sadhak of Shri Tara can become competent in art of poetry and can write poems as fluent as water of river Ganga can make king spellbound, can paralyse the speech of people against him. Many miracles automatically come inside sadhak when he worships this Vidya. Even under the influence of this Vidya, he can attain the state of being Omniscient”
If seen in this manner, this sadhna is Kalp Tree (Tree capable of fulfilling all desires) in this Kalyuga era. There is no special commitment to follow special rules in this form of Bhagwati and this supreme motherly form is amazing in itself. Many sadhaks will agree with the fact that Sadgurudev Ji has said so many types about this Mahavidya that in today’s era this sadhna/idol is having qualities similar to that of Kalp tree.
And what more can be said. Even Sadgurudev in his divine writing has written in Mantra Tantra Yantra Magazine so many times that if only armour of this Mahavidya is done that is fruitful too. So when anyone has Parad Idol then it is amazing because no one can even estimate the fruits which can be obtained by chanting nay mantra or doing armour in front of it.
Bhagwati has got many forms. This Mahavidya has got many names, as connoisseurs of Tantra say.
Dakshin Aamnaay – Chintamanitara, Ekjata, Siddhjata, Trijata, Krumararika, Krurchanda, Mahachanda, Chaturvedadaari
Paschim Aamnaay – Hans Tara, Manidhar Vajrani, Asoorekha, Mahogra Tara, Vajr Rekha, Sarv Vighrutsaarini
Uttar Aamnaay – Tara. Ugraa, Mahograa, Vajraa, Neela, Saraswati, Kaameshwari, Bhadr Kaali
Udharv Aamnaay – Vaagvaadini , Neel Saraswati , Mahaneel , Shaarda , Cheen Sundari , Neel Sundari , Mahaneel Sundari , Ugra Tara , Shaankri
Adhar Aamnaay – Rasayan, Ugra Vaitaal, Agnimukh Vaitaal etc.
But here one important question arises that after all why Parad only? Why idol of any other metal will not have such quality.
Parad, here what I mean is Asht Sanskarit Para (meaning mercury on which eight sanskars have been done). Mercury is very valuable material in itself. On one hand it represents Lord Shankar. To add to it, combination of it with his Shakti i.e. Bhagwati Tara is capable of giving completeness. Besides this, Lakshmi element is contained within Parad which is very valuable fact considering today’s materialistic life and need of hour.
There are so many scriptures available relating to Sanskarit Mercury and many people claim that they can do Parad Sanskars. But till the time sanskar is not tested by any capable person, there is question mark on whole procedure.
Any idol of parad is very essential part in itself for leading excellent life. And doing sadhna on such idol or in front of it is different experience altogether. Because as soon as it is established, intimate relation is established between Parad Dev and you and it slowly and gradually cleanses you. This is very much exceptional. It depends on particular person to believe authenticity of parad idol available in market.
Upasana of Bhagwati Tara has been done not only by humans but also by Dev Category and supreme yogis. Though it is true that due to similarity of her form with Bhagwati Mahakaali, most of the times they have been considered one and same.
Parad has got quality of intense attraction and this quality applies on all things of world. Nobody, even gods cannot be saved from its attraction. Those who have this Asht Sanskarit Parad Idol which meets standards prescribed in shastras, they should do sadhna and experience changes in their lives.
Is there any need to do sadhna on this idol? Sadhna is an essential element of life and excellent sadhaks so not consider sadhna as burden rather they consider it as important as taking breath. Any sadhna related to Bhagwati Tara can be done in front of this idol and results obtained from such sadhna will be special in themselves. Sadgurudev has given many sadhnas and mantra related to this Mahavidya sadhna. Out of them, any mantra which you have interest can be done on it.
If you are facing any problem related to Mantra in doing sadhna then you can also do Stotra sadhna in which you can do any Stotra 11/21/51 times daily. This is also completely fruitful. If we talk about cloth and colour of aasan then Sadgurudev has directed use of pink colour for this sadhna many times.
Many important and exceptional sadhna related to this amazing idol will come on blog and Tantra Kaumadi from time to time.
Today we have such personality among us whose efforts have led to creation of this level idol. So keeping in mind the state of time, if such amazing idol is established in home and poojan is done in front of it, and then it is good. If along with it sadhna is done then results can be obtained with much more intensity. This combination of Parad and Bhagwati Tara is worth experiencing. Stability of all high-level mental/ spiritual condition and materialistic condition requires time and sadhna. And those who know this fact, will they still think about attaining this rare idol….


Now only your decision is left…


**********************************************
अतीव  च सुगोप्यांच  कथितुं  नैव  शक्यते |
अतीवासीत प्रिया  यस्मात तस्मात  कथयामिते ||
रूपाणि  बहु संख्यानी  प्रकृते: सन्ति  भावनि |
तेषां  मध्ये  प्रधानं  तू नील रूप मनोहरं ||

हे  पार्वती , यह अत्यंत गोपनीय  एवं वाचातित  विद्या होने के कारण  इसे वर्णन करने की  शक्ति मेरे पास नही हैं.चूँकि आप मेरी अत्यंत प्रिय हैं,इसलिए मैं इसे आपको बता रहा हूँ .हे भाविनी !प्रकृति के अनेक रूप हैं  एवं उनकी संख्या भी अनेक हैं, उन समस्त रूपों मे  नील रूप सर्व प्रधान  हैं. पृकृति रूपा विद्याओ मे नील रूपा मनोहरा  ही सर्व प्रधाना  हैं.    
भगवती तारा का स्वरुप  तो अपने आप मे एक ओर तो  बहुत ही सरलतो दूसरी ओर  अति रहस्यमय हैं सरल इसलिए कि वे माँ हैं और माँ को जानने के लिए भला कौन सी उपमा और उपमेय की  आवश्यकता हैं बस  माँ  तो माँ  हैं. इतना ही  बहुत  हैं पर जहाँ परम योगियों ने उनकी  सर्व व्यापकता  और  उनके वात्सल्य की  सीमा  को समझना  चाहा, वह भी आश्चर्य चकित   हो गए .क्योंकि “हरि अनंत  हरि कथा अनन्ता”  वाली उक्ति चरितार्थ   होती जाती  हैं .
जैसा कि पूर्ववर्ती लेखो मे  यह स्पस्ट करने  का प्रयत्न हुआ हैं  कि हर महाविद्या  की उपासना मे उनके भैरव  स्वरुप कि उपासना का एक महत्त्व पूर्ण स्थान होता हैं, जिसे  किसी भी तरह से नज़र अंदाज नही किया  जा सकता हैं. भले  ही यह साधक को लगे कि वह मूल साधना को छोड़कर  अन्य साधना मे लगा हुआ हैं पर  यह सारे क्रम वास्तव मे  उसी साधना को पूर्णतया अपने आप मे समाहित करने का प्रयास हैं और सोचने कि बात हैं कि वह आद्य शक्ति भला की किसी एक अनुष्ठान मे आब्धित  होगी ?  कदापि नही ..हाँ यह जरुर हैं कि  वह अपने करुणामय स्वरुप मे  अपने  पुत्र, पुत्रियो के प्रति वात्सल्य मे  कुछ भी कर दें  और यह तो हर माँ का एक गुण हैं ही .
इसी तरह भगवती तारा के  भैरव “अक्षोभ्य  भैरव” हैं  और इनका स्थान भगवती की विशाल जटाओ मे ही हैं.इसी तरह से  एक ही विग्रह मे उनके भैरव का उपस्थिति भी  भला कितनी सुख दायक हैं और वहीँ साधना सफलता मे परम लाभ दायक भी क्योंकि भगवती की  उपासना  होते  होते  स्वयम ही  उनके भैरव  की भी उपासना भी होती  जाती  हैं.जहाँ सिर पर सुशोभित नाग एक ओर जहाँ   कुण्डलिनी शक्ति का प्रतीक हैं तो दूसरी ओर  शीतलता का भी प्रतीक और एक इसी तरह का सन्देश कि हर साधक को अपना  दिमाग शीतल रखना ही चाहिये, क्योंकि जहाँ  अनेको प्रकार के अभिमान  हैं उसके  से  एक  हैं विद्या का अहंकार ,साधना सिद्धि  का भी अहंकार ..और  इससे  साधक का बच पाना बहुत कठिन हैं ,वहीँ भगवती तारा जैसा कि हम निवेदन करते आये हैं कि साधक का यह अंहकार  मिटा देती हैं .
तंत्र ग्रंथो मे  वर्णित हैं,कि एक समय भगवती पार्वती ने  भगवान शंकर से पूंछा कि “ हे सर्वेश्वर  वह विद्या कौन सी हैं , जिसे प्राप्त कर परम विद्वान व्यास मुनि ने  इतने उच्च कोटि के  ग्रंथो का निर्माण किया ??”
भगवान शंकर कहते हैं “हे पार्वती तारा महाविद्या के प्रभाव से ही  व्यासमुनि ग्रन्थ रचना मे  समर्थ हुये ,हे गिरिनंदिनि ..तारा महाविद्या अज्ञान रूपी इधन के लिए  अग्नि के समान हैं.जिसे प्राप्त कर  धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष सभी आसानी से  प्राप्त हो जातेहैं,इस विद्या के प्रभाव से कोई भी वास्तु अप्राप्य नही हैं. श्री तारा का साधक  काव्य कला मे प्रवीण हो कर  गंगा प्रवाह के सामान कविता करता हैं, राजा को वश मे कर सकता हैं,विपरीत लोगों की वाणी का स्तम्भनं  कर सकता हैं.इस विद्या के आराधन से अनेको चमत्कार साधक के अंदर स्वयं ही आजाते हैं .कहां तक कहें कि इस विद्या के प्रभाव से साधक  सर्वग्य  तक होने की  अवस्था मे आ जाता  हैं .”
 इस तरह से देखा जाए  तो यह साधना  तो इस कलियुग मे  कल्प वृक्ष की  तरह हैं, एक ओर कोई विशेष नियम नही,वही भगवती के  इस स्वरुप मे कोई विशेष नियमों का पालन  करने कि कोई विशेष प्रतिबद्धता नही ,और इस परम वात्सल्य मय स्वरुप की बात ही निराली हैं. अनेक साधक इस बात से  एक मत होंगे  कि सदगुरुदेव जी ने  भी अनेको बार इस महाविद्या के बारे मे कहा की आज के  युग मे यह साधना /विग्रह अपने आप मे  कल्प वृक्ष के सामान गुण की  बात कही हैं.
और क्या कहा जाए  यह  तक कई कई बार मंत्र तंत्र यन्त्र   विज्ञानं पत्रिका मे भी सदगुरुदेव  ने  अपनी दिव्य लेखनी से लिखा  कि  सिर्फ इस महाविद्या का कवच पाठ भी  यदि किया जाए,  तब भी  वह फल दायक हैं. तब  जिनके पास यह पारद विग्रह हो उसकी  बात तो निराली हैं  ही,क्योंकि उसके सामने किसी भी प्रकार का मंत्र जप और कवच आदि का पाठ  अपने आप मे  कितना फल दायक हैं इसका  तो अनुमान भी नही लगाया  जा सकता हैं .
भगवती के अनेको स्वरुप हैं.इस महाविद्या के अनेको नाम हैं कैसा कि तंत्र मर्मग्य कहते हैं .
दक्षिण आम्नाय मे –चिंतामणितारा,एकजटा,सिद्धजटा,त्रिजटा,क्रुर्मारिका,क्रूरचन्डा, महाचंडा,चतुर्वेदादारी
पश्चिम आम्नाय –हँस तारा,मणिधर वज्रणी, असूरेखा ,महोग्र तारा, वज्र रेखा,सर्व विघ्नुत्सारिणी
उत्तर  आम्नाय –तारा ,उग्रा,महोग्रा, वज्रा,  नीला ,सरस्वती, कामेश्वरी, भ्रद्र काली .
उर्ध्व आम्नाय –वाग्वादिनी, नील सरस्वती, महानील, शारदा, चीन सुंदरी, नील सुंदरी, महानील सुंदरी, उग्र तारा,शांकरी
 अधर आम्नाय मे – रसायन  ,उग्र वैताल, अग्निमुख वैताल आदि ..
पर यहाँ  एक महत्वपूर्ण प्रश्न उठता हैं कि आखिर पारद   ही क्यों ? किसी अन्य  धातु का विग्रह मे  वह बात क्यों नही .
पारद यहाँ मेरा मतलब अष्ट संस्कारित (पारे पर इतने संस्कार तो किये गए ही हो .) पारा  अपने आप मे  अति बहुमूल्य पदार्थ हैं,  एक ओर जहाँ यह भगवान  शंकर का प्रतीक हैं और उसके  साथ उनकी शक्ति अर्थात भगवती तारा का संयोग तो शिव और शक्ति का संयोग  होगा जो की पूर्णता प्रदान करने वाला  हैं ,साथ ही साथ पारद मे स्वयम ही लक्ष्मी  तत्व का समावेश होता हैं जो कि आज के  भौतिक जीवन  और युग धर्म को देखते हुये  एक बहुमूल्य तथ्य कहा जा सकता हैं .
संस्कारित पारे  के बारे मे आज भी अनेको ग्रन्थ  उपलब्ध हैं. और अनेको लोग  पारद संस्कार  करने का स्व दावा भी करते हैं पर जब तक किसी  योग्य से उनके संस्कार का प्रमाणीकरण न करा लिया जाए  तब तक सारी प्रक्रिया प्रश्न चिन्ह मे होगी ही .
पारद का कोई भी विग्रह अपने आप मे एक महत्वपूर्ण अंग हैं, एक श्रेष्ठता युक्त जीवन का .और ऐसे विग्रह पर  या  सामने  या साधना करने का अपने  आप मे  एक अलग सा ही अनुभव हैं .क्योंकि  जैसे ही आपने इनकी स्थापन की  वैसे  ही पारद देव और आपका एक अंतर  सबंध बन् जाता  हैं और वह भी आपको धीरे धीरे परिमार्जित करने लगते  हैं और यह तो  दुर्लभ हैं  क्योंकि बाजार से प्राप्त  किया कोई भी विग्रह मे  जो पारे का बना  हो या  उसके बारे मे क्लेम किया जा रहा  हो कि वह  इतने संस्कार से  संस्कारित  हैं यह तो अब व्यक्ति विशेष पर ही हैं .
भगवती तारा की  उपासना   तो मनुष्य तो क्या  देव वर्ग   और परम योगियों  ने भी सम्पन्न  हैं और आज भी  ऐसा हैं ,हाँ यह बात जरुर हैं कि उनका स्वरुप कुछ कुछ  भगवती  महाकाली का सामजस्य होने के कारण बहुधा वह एक ही मान  ली जाती हैं
  पारद मे  अत्याधिक आकर्षण का गुण हैं  और यह गुण उसकासारे विश्व की  समस्त  चीजों पर लगता  हैं और इससके आकर्षण से  देव क्या,  कोई भी नही बच सकता हैं ,और जिनके पास भी यह अष्ट संस्कारित पारद विग्रह जो कि शास्त्रीय प्रक्रिया पूरी करता  हुआ हो ,उसे  तो बस  साधना  करते जाए  और स्वयम अपने जीवन मे बदलाहट का अनुभव करें.
क्या इस विग्रह पर कोई साधना कि आवश्यकता हैं?  साधना   तो जीवन का एक अनिवार्य अंग हैं  और श्रेष्ठ साधक साधना को एक बोझ नही बल्कि जीवन कि एक उतनी अनिवार्य आवश्यकता समझते हैं जितनी कि स्वांस लेना .इस विग्रह के सामने कोई भी भगवती तारा से सबंधित साधना की  जा सकती हैं  और  उनसे मिलने वाले परिणाम भी  अपने आप मे  विलक्षण होंगे . सदगुरुदेव  जी ने अनेको साधना  और मंत्र इस महाविद्या  कि साधना के सबंध मे  दिए हैं उनमे से कोई सा भी मंत्र  जो आपको रुचिकर लगता हो वह किया जा सकता हैं .
अगर किसी  तरह से साधना करने मे  वह मंत्रात्मक  रूप वाली कोई दिक्कत हो तो आप  स्त्रोत साधना कर सकते हैं जिसमे  भगवती तारा का कोई भी स्त्रोत को आप  ११/२१/५१ पाठ रोज कर सकते हैं  और यह भी पूर्ण फल दायक हैं  ही .जहाँ तक वस्त्रों की  बात हैं  और आसन के  रंग की   तो सदगुरुदेव जी ने गुलाबी रंग का निर्देश अनेको बार इस साधना के सबंध मे किया हैं .
इस  अद्वितीय विग्रह से सबंधित कुछ महत्वपूर्ण और दुर्लभ साधनाए  ब्लॉग और तंत्र कौमुदी मे समय समय पर आएँगी ही .
आज हमारे मध्य ऐसे व्यक्तित्व हैं जिनके  इतने प्रयत्न के कारण  इस स्तर  के विग्रह का निर्माण हो पाया हैं  तो समय और काल की गति को ध्यान मे रखते हुये  ऐसे  अद्भुत  विग्रह का  स्थापन  यदि घर मे होता हैं और  सामने पूजन होता हैं तो अच्छा  और यदि साधनात्मक  रूप से मंत्र जप  जैसी क्रियाए होती  हैं तो और भी तीव्रता से  परिणाम अनुभव किये जा सकते हैं.पारद और भगवती तारा के विग्रह का यह संयोग  तो स्व अनुभव करने योग्य हैं क्योंकि की सभी उच्च मानसिक या आध्यात्मिक अवस्था  और भौतिक अवस्था मे स्थायित्व  के लिए  समय और साधना की  आवश्यकता तो हैं और जो इस बात का अनुभव करते हैं उन्हें क्या अब भी इस दुर्लभ विग्रह प्राप्त करने के बारे मे सोचना   होगा ..                


अब  आपको निर्णय लेना ही शेष हैं..
           
****NPRU****

1 comment:

Abhi said...

please tell us, how to get this tara parad vigrah.

Abhishek