There was an error in this gadget

Friday, March 1, 2013

BINDU GORAKSH NAATH PRAYOG





IshwarSantaan –SantaanDoyPrakaarKo | Naad Roop Bindu Bindu Roop Nad |Shishya Bindu Roop Putra Nath Roop | Naad Shakti Roop Bindu Naad Roop Kari Bhaye |

Literature of Upanishads contains combinations of various types of ancient and modern Upanishads. In fact, Tantric Upanishads can be called best Tantric scriptures in themselves but since they were written in secretive language, it is generally very difficult to comprehend their abstruse meaning. In this context, there are many types of Upanishads related to various sects containing various specialities. One of such sect is Nath sect, containing best qualities of Aadinath form of Lord Aadi Shiva. In fact, there are various stories related to origin of Navnaath and Dattatrey and Navnaath have got significant contribution to field of Tantra. Sabar sadhna are in vogue due to them only. Out of the ancient Nath siddhs, there are lot of stories known to public at large about Shri Gorakshnath. Shri Gorakshnath set prime example of discipleship and has always been revered as embodiment of tantra. His work in field of tantra and maintaining Guru-disciple Tantric tradition is unparalleled till today. There have been lot of sadhnas related to Tantra Acharya Shri Gorakhnath and there have been various types of Tantric scripture and literature related to him which are in vogue in field of tantra. Among ancient and modern Upanishads, there are 3 Upanishads related to Gorakhnath and all the three are best in themselves revealing the yogic truths and tantric procedures. But these scriptures are written in rare and secret language. Therefore, one does not get information about them normally. Lines presented above have been taken from Gorakshopnashid. These lines are very abstruse which are presenting facts related to important aspects of Aagam.
It has been said in these lines that there are two child of god i.e. Supreme Brahma’s part is present in universe in primarily two forms i.e. Bindu in Naad form and Naad in Bindu form. Bindu in Naad form means which is Anahat Naad, which is subtlest sound, which is sound of feeling universe or mantra. It is nothing but Bindu having creation capability i.e. sperm. Naad in Bindu form means which is sperm, which contains complete Brahma, is sound and mantra.
Shishya Bindu Roop Putra Nath Roop means that disciple-hood resides in everyone in form of Bindu. Shri Gorakhnath is also called Nath Putra because he got affection as son from Lord SadaShiv himself by the grace of his Guru Shri Aadi Matsyendranath. Shri Gorakhnath is also embodiment of Brahma. That’s why he is present in every person in form of Bindu.
Naad Shakti Roop Bindu Naad Roop Kari Bhaye means that Naad exists in form of Shakti. In other words Mantra is Shakti (power), sound is power. It is prayer to Shri Gorakhnath to purify Bindu (sperm), take it in upward direction and make it reach Anahat Chakra. It is because he, embodiment of discipleship is present in every creature in from of Bindu.
If now meaning is understood in combined form then it means that Bindu and Mantra are two prime portions of universe. Shri Gorakshnath is present in Bindu in discipleship form who can introduce sadhak to Brahma through mantra. Every tantra unanimously accept that Bindu form of humans, Sadashiv and entire universe is Parad itself. If it is purified through special procedures and is combined with Naad i.e. through Mantric procedures then it can definitely provide desired success to sadhak.
. In this context, through various researches, various types of rare Parad idols and gutikas were created. One of such gutika is Bindu Retas Gutika which is also called Siddh Retas Gutika on which various types of special procedures are done. Regarding this rare gutika and its significance, information has been provided earlier too. Nath sect has got an intimate relation with mercury; many rarest of rare sadhnas of this sect can be done only in front of rare idols of Parad. In the same context, various type of sadhna can be done with the help of Siddh Retas Gutika. Procedure given here is amazing and rare procedure related to Bindu Retas Gutika which has been called Bindu Goraksh Prayog. Sadhak can attain various types of benefits from this procedure.
Sadhak’s Bindu i.e. sperm is purifies. As a result, he gets riddance from mental deformities. Person’s heart is purified.
Ejaculation of Sperm through natural means of nightfall does not happen and sperm is secured. Following celibacy is facilitated. It is also a procedure related to accomplishment of aasan. There is development in capability of sadhak to sit on aasan; sadhak feels easiness to sit on aasan.

Sadhak attains the necessary base for activation of serpent power (Kundalini) and various type of spiritual sadhnas, may be they are related to Yoga and Tantra. Sadhak’s serpent power becomes conscious.
Though this procedure is of 3 days but if sadhak does this procedure for 7 days, then Shri Gorakshnath subtly manifests in front of sadhak either in Tandra state (sleepiness state) or through dreams.
Person may feel that it is sadhna related to spirituality only but sadhak can himself think that mental consciousness and attainment of sources of divine energy by body and mind can beautify the materialistic life of sadhak.
Sadhak can start this procedure from Thursday of Shukl Paksha of any month. It should be done after 9:00 P.M in night.
Sadhak should take bath, wear white dress and sit on white aasan facing North direction.
Sadhak should establish Bindu Retas Gutika or Devranjini Gutika in any container placed on Baajot in front of him. After it, sadhak should establish Gorakhnath picture or yantra in front of him. First of all, sadhak should do Sadgurudev poojan. It is better for sadhak to perform Sabar Guru Poojan. Along with it, sadhak should also perform poojan of Lord Bhairav and Ganesh. Sadhak can offer any fruit as Bhog during poojan. Oil lamp should be used and sadhak should ignite Dhoop.
During poojan of picture/yantra, sadhak should also do mental poojan of Navnaath, Lord Dattatrey and Shri Aadishiv Bholenaath. After it, sadhak should chant Guru Mantra as per his capacity and pray to Sadgurudev for success in sadhna and get his blessings. After Guru Mantra, sadhak should chant one round of Mahasiddh Mantra
OM HREEM SHREEM MAHAASIDDHAAY NAMAH

After it pray to Siddh Gorakshnath for fulfilment of desire of accomplishment of aasan and body. After prayer, sadhak should chant 11 rounds of below mantra.
OM NAMO GURUJI BINDUROOPAAY SIVAGORAKHASIDDHAKO AADESH
Sadhak can use any Rudraksh rosary for chanting mantra. After completion of chanting, sadhak should again perform the poojan and accept the Bhoga. Pray to Guru Gorakhnath and all accomplished saints. Sadhak should do this procedure for 3 days. It is easy procedure but sadhak gets various types of special benefits from this procedure. Rosary should not be immersed; it can be used for doing Sabar sadhnas in future. If sadhak desires, he can do this procedure for 7 days or till the time he wants. But sadhak should at least do this procedure for 3 days.

  =================================

इश्वर संतान-संतान दोय प्रकार को | नाद रूप बिंदु बिंदु  नाद रूप | शिष्य बिंदु रूप पुत्र नाथ रूप | नाद शक्ति रूप बिंदु नाद रूप करि भये |
उपनिषद साहित्य में कई प्रकार के प्राचीन तथा अर्वाचीन उपनिषद का समावेश होता है. वस्तुतः तांत्रिक उपनिषद अपने आप में श्रेष्ठतम तांत्रिक ग्रन्थ कहे जा सकते है लेकिन वस्तुतः गुप्त भाषा में लिखे होने के कारण सामान्यतः इनका गूढार्थ समजना अत्यधिक मुश्किल है. इसी कड़ी में कई प्रकार के उपनिषद विविध मत तथा सम्प्रदाय से सबंधित है जो की सभी अपने आप में श्रेष्ठतम विलक्षणताओ के साथ है. ऐसा ही एक सम्प्रदाय है भगवान आदि शिव के आदिनाथ स्वरुप की प्रणाली का श्रेष्ठतम गुणधान लिए हुवे, नाथ सम्प्रदाय. वस्तुतः नवनाथ की उत्पति के सबंध में अनेक कथा है तथा दत्तात्रेय एवं नवनाथ का तंत्र क्षेत्र में अमूल्य योगदान है तथा साबर साधनाओ का प्रचलन इनकी ही देन है. इन्ही आदि नाथ सिद्धो में श्री गोरक्षनाथ के सबंध में तो घर घर में कथाएं प्रचलित है. शिष्यता की मिशाल तथा अपने आप में जीवित जागृत तंत्र के रूप में श्रीगोरखनाथ सदैव ही वन्दनीय रहे है. उन्होंने तंत्र के क्षेत्र में तथा गुरुशिष्य तांत्रिक प्रणाली में जो कार्य किया है वह आज भी एक मिशाल है. अपने समय के श्रेष्ठतम तंत्र आचार्य श्रीगोरखनाथ से सबंधित भी कई प्रकार की साधना उपासना होती आई है तथा उनसे सबंधित कई प्रकार के तांत्रिक ग्रन्थ तथा साहित्य के बारे में तंत्र क्षेत्र में प्रचलित है. प्राचीन अर्वाचीन उपनिषदों में तथा प्राप्य अप्राप्य रूप से भी यह कहा जाता है की गोरखनाथ से सबंधित ३ उपनिषद है तथा तीनों ही अपने आप में अत्यंत ही उत्तम और श्रेष्ठतम योगिक सत्यों एवं तांत्रिक प्रक्रियाओ को स्पष्ट करता है लेकिन यह ग्रन्थ दुर्लभ तथा गुप्त भाषा में निहित है अतः सामान्य रूप से इनकी जानकी प्राप्त नहीं होती है. प्रस्तुत पंक्तियाँ गोरक्षोपनिषद की है. यह पंक्तियाँ बहोत ही गुढ़ है जो की आगम पक्ष के अति महत्वपूर्ण पक्ष से सबंधित तथ्य को प्रस्तुत कर रही है.
इन पंक्तियोंमें कहा गया है की इश्वर संतान दो है अर्थात ब्रह्म का अंश दो मुख्य स्वरुप में इस ब्रह्माण्ड में है. नाद रूप बिंदु बिंदु रूप नाद. नाद रूप में बिंदु अर्थात जो अनहत नाद है, जो सूक्ष्मतम ध्वनि है जो की ब्रह्माण्ड की अनुभूति की ध्वनि है या मन्त्र है वह नाद रूप से बिंदु अर्थात सर्जन क्षमता से युक्त बिंदु या वीर्य है. तथा बिंदु रूप नाद अर्थात जो वीर्य है, जो बिंदु है वही पूर्ण ब्रह्म से युक्त है, ध्वनि है तथा मन्त्र है.
शिष्य बिंदु रूप पुत्र नाथ रूप का अर्थ है की यही बिंदु के स्वरूप में सभी में शिष्यता का निवास होता है. श्रीगोरखनाथ को नाथ पुत्र कहा गया है, क्योंकी उनको गुरु श्री आदि मत्स्येन्द्रनाथ कृपा से स्वयं भगवान सदाशिव से पुत्र रूप में स्नेह प्राप्त हुआ था. श्रीगोरखनाथ भी ब्रह्म स्वरुप है इस लिए वे सभी व्यक्तियो में बिंदु के रूपमें स्थित है.
नाद शक्ति रूप बिंदु नाद रूप करि भये का अर्थ है की नाद शक्ति रूप में है, अर्थात मन्त्र शक्ति है, ध्वनि शक्ति है. तथा बिंदु को भी शोधन कर उर्ध्वगामी कर नाद रूप में अर्थात अनाहत पद्म या चक्र तक पहोचाने की प्रार्थना श्री गोरखनाथ को है क्यों की इन सब के मूल में, शिष्यता के रूप वह सभी बिंदु के जिव में स्थित है.
अगर अब संयुक्त रूप से इसका अर्थ समजा जाए तो वह यह होता है की बिंदु और मन्त्र यह दो ही ब्रह्माण्ड के मुख्य भाग है. श्रीगोरक्षनाथ शिष्यता रूप में बिंदु में स्थित है जो की मन्त्र के द्वारा साधक को ब्रह्म का साक्षात्कार का आनंद प्रदान करा सकते है. सर्व तंत्र एक स्वर में स्वीकार करते है की मनुष्य, सदाशिव तथा समस्त ब्रह्माण्ड का बिंदु स्वरुप तो स्वयं पारद है. अगर विशेष प्रक्रियाओ से उसका शोधन किया जाए तथा उसको नाद युक्त अर्थात मांत्रोक्त प्रक्रियाओ से संयुक्त किया जाए तो निश्चय ही यह साधक को मनोवांछित सफलता प्रदान कर सकता है.इसी क्रम में विविध शोध के माध्यम से एक से एक दुर्लभ पारद विग्रह तथा गुटिकाओ की रचना हुई. एसी ही एक गुटिका है बिंदु रेतस गुटिका जिसे सिद्ध रेतस गुटिका भी कहा गया है, जिसके ऊपर कई प्रकार के विशेष प्रयोग सम्प्पन होते है. इस दुर्लभ गुटिका के सन्दर्भ में तथा इसकी महत्ता के बारे में कई बार पहले ही जानकारी दी जा चुकी है. निश्चय ही नाथ पंथ से पारद का एक अटूट रिश्ता है, इस पंथ की कई दुर्लभ से दुर्लभतम साधना पारद के दुर्लभ विग्रह के सामने ही सम्प्पन की जा सकती है. इसी क्रम में बिंदु रेतस गुटिका के माध्यम से भी कई प्रकार की साधना सम्प्पन होती है. प्रस्तुत प्रयोग बिंदु रेतस गुटिका से सबंधित ऐसा ही एक अद्भुत तथा दुर्लभ प्रयोग है जिसे बिंदुगोरक्ष प्रयोग कहा गया है. यह प्रयोग कई कारणों  इस प्रयोग के माध्यम से साधक को कई लाभों की प्राप्ति होती है.
साधक का बिंदु अर्थात वीर्य का शोधन होता है, फल स्वरुप उसको मानसिक विकारो से मुक्ति मिलती है. व्यक्ति का चित्त शुद्ध एवं निर्मल होता है.
शरीर से कुदरती तौर पर स्वप्न दोष आदि के माध्यम से बहार आ जाने वाले वीर्य का क्षय नहीं होता है तथा वीर्य की सुरक्षा होती है, ब्रह्मचर्य पालन में सुविधा की प्राप्ति होती है.
यह आसन सिद्धि से सबंधित प्रयोग भी है. साधक की आसन क्षमता में विकास होता है, शरीर सुलभ रूप से आसन पर बैठने में सहजता अनुभव करने लगता है.
कुण्डलिनी जागरण तथा विविध प्रकार की आध्यात्मिक साधना वह चाहे योग सबंधित हो या तंत्र से सबंधित, उसके लिए साधक को पृष्ठभूमि की प्राप्ति होती है, साधक को कुण्डलिनी में चैतन्यता की प्राप्ति होती है.
यूँ तो यह प्रयोग ३ दिन का है लेकिन अगर साधक इस प्रयोग को ७ दिन तक सम्प्पन करता है तो सूक्ष्म रूप से श्रीगोरक्षनाथ साधक को तंद्रा या स्वप्न के माध्यम से दर्शन देते है.
व्यक्ति को यह निश्चय ही लग सकता है की यह वस्तुतः मात्र आध्यात्म से सबंधित साधना है लेकिन साधक स्वयं ही यह सोच सकता है की मानस में  चैतन्यता तथा विविध रूप से शरीर और मन को प्राप्त होती हुई दिव्य ऊर्जा के स्त्रोत साधक के भौतिक जीवन मैं भी तो निखार और सौंदर्य की प्राप्ति करा ही सकता है.
यह साधना साधक किसी भी शुक्ल पक्ष के गुरुवार से शुरू कर सकता है. समय रात्रीकाल में ९ बजे के बाद का रहे.
साधक स्नान आदि से निवृत हो कर सफ़ेद वस्त्र को धारण करने चाहिए तथा सफ़ेद आसन पर उत्तर की तरफ मुख कर बैठना चाहिए.
अपने सामने बाजोट पर साधक किसी पात्र में बिंदु रेतस गुटिका या देव रंजनी गुटिका को स्थापित करे. इसके बाद साधक अपने सामने गोरखनाथ का चित्र या सबंधित यंत्र स्थापित करे. साधक को सर्व प्रथम सदगुरुदेव पूजन करना चाहिए. श्रेष्ठ यह रहता है की साधक साबर गुरु पूजन सम्प्पन करे. साथ ही साथ साधक को भगवान भैरव एवं गणेश का पूजन भी करना चाहिए. पूजन में भोग के लिए साधक किसी भी फल का उपयोग करे. दीपक तेल का रहे  तथा साधक को धुप प्रज्वलित करना चाहिए.
चित्र या यंत्र के  पूजन के समय नवनाथ, भगवानश्रीदत्तात्रेय तथा श्री आदिशिव भोलेनाथ का भी मानस पूजन सम्प्पन कर लेना चाहिए. इसके बाद साधक गुरु मन्त्र का यथा संभव जाप करे तथा सदगुरुदेव से साधना में सफलता की प्राप्ति के लिए प्रार्थना करे एवं आशीर्वाद ले. गुरु मन्त्र के बाद साधक को महासिद्ध मन्त्र की भी एक माला कर लेनी चाहिए.
ॐ ह्रीं श्रीं महासिद्धाय नमः
(OM HREEM SHREEM MAHAASIDDHAAY NAMAH)
इसके बाद आसन सिद्धि तथा देह सिद्धि प्राप्ति की मनोकामना पूर्ण करने के लिए सिद्ध गोरक्षनाथ जी को मन ही मन प्रार्थना करे. प्रार्थना के बाद साधक निम्न मन्त्र की ११ माला का जाप करे.
नमो गुरुजी बिंदुरूपाय शिवगोरखसिद्धको आदेश
(OM NAMO GURUJI BINDUROOPAAY SIVAGORAKHASIDDHAKO AADESH)
साधक मन्त्र जाप के लिए किसी भी रुद्राक्ष की माला का प्रयोग करे. मन्त्र जाप पूर्ण होने पर साधक वापस पूजन सम्प्पन करे. तथा भोग को ग्रहण करे. गुरुगोरखनाथ के साथ साथ सभी सिद्धगण को वंदन करे. साधक को यह क्रम ३ दिन तक करना है. यह सहज क्रम है लेकिन साधक को इस क्रम में कई प्रकार से विशेष अनुकूलता की प्राप्ति होती है. माला को प्रवाहित नहीं करना है, यह आगे भी साबर साधनाओ के लिए उपयोग की जा सकती है. साधक अगर चाहे तो यह क्रम ७ दिनों तक या जितने दिनों तक चाहे कर सकता है लेकिन साधक को कम से कम यह क्रम ३ दिन तक करना चाहिए.
****NPRU****

No comments: