There was an error in this gadget

Monday, March 18, 2013

GARBHASTH SHISHU CHETNA VIDHAAN



               
Jai Sadgurudev,


In present times, this Mantra and procedure is very much required because orientation and direction of our future generation has changed…………nobody knows in which direction our younger generation is heading towards….?

Every day after reading accidents in news and newspapers, it seem that more the society is progressing in field of science, more it is getting degraded in samskars…….Probably this fact would have been considered by Gurudev and he provided these mantra to his disciples after accumulating them from universe so that coming generations can be educated and trained in a particular manner….

Brothers and sisters, I have seen the effect of Chetna Mantra physically, not only in my house rather there are so many sisters of mine who are thankful to Gurudev after seeing the growth of their children…

All of us know that lady is said to be complete only after becoming mother. I have heard about speciality of these mantras in shivirs and from Gurudev ji. But I was very unfortunate that when I needed this initiation and mantra, he had already went to Siddhashram ………I was feeling very disappointed that how will I provide consciousness to my children? And the most important fact was that Nikhil Ji had gone outside for his sadhna……But In third month of my pregnancy, Nikhil Ji got a direction to return back home and provide Chetna mantra to child. Then Nikhil Ji performed one special procedure.

Brothers and sisters , it was a very special procedure seeing which I was astonished and along with it, he gave me Chetna Mantra for reading and listening…….I not only read those mantras for 9 months but performed various sadhnas too because I have heard from Sadgurudev Ji that during pregnancy, child has got a direct relation with her mother and whatever mother listens, reads or sees, he keeps on learning it….

Along with making a child conscious, it completely secures the womb as well as child and I saw that….

My son Bobby was born in first week of 11th month and from the first day he was very much awakened (conscious). His activities were not like any ordinary child……….most important thing was that my body was poisoned and doctor told that only one of them can be saved, either mother or child…….. But when he was born, he was completely healthy……But for saving me, Gurudev has to come. I saw him even while getting unconscious… :)

Brothers and sisters, I am not alone who has attained the grace of Gurudev Ji. There are so many sisters of mine who have got diverse experiences. I am sharing my experiences with you all so that you can understand the sadhnas of these mantra and their related procedures

----------------

Brothers and sisters, Sadgurudev has put restriction on this cassette because often Gurudev used to attain mantra from nature for progress and benefit of us and provide them to us…..Since no difference remained between Guru and Mantra at that time, therefore, Gurudev has put restriction on such initiations and mantras.

Brothers and sisters, my both sons are very intelligent and there is no need for me to give proof for it: it is self-evident……Sadgurudev hastold many qualities of this mantra, most important of which are--------

This mantra is divine, unparalleled and capable of providing high-quality Child.

Those ladies who are facing problem to conceive, they get appropriate benefits from its recitation and hearing….

If any obstacle is coming in way of girl’s marriage, then they should recite these mantras with dedication, all obstacles vanish and they get married….

The way this mantra is fruitful for ladies and girls, it is also beneficial for males and boys……because through this, they can attain excellence and completeness in education. Due to effect of these mantras, divinity and glow appears on their face. In this manner, this mantra is very useful for ladies, girls, boys and elders since due to it, heart, life and body of person becomes conscious.

If any elder desire for salvation or have desire to meet almighty, then these mantra fulfil their desire…..On one instance Gurudev told that these mantra have been called as Vishwamantra (Mantra for world). They have also been called “Vishwetmaam”, “Vishwdevaatmaam”and “Brahmandaatmaam”

Brothers and sisters, Sadgurudev has told that these mantras divine and very much secretive.In his own words “ I have kept these mantra hidden till now and have not made them public because donation to any ineligible person degrades the glory of donation. If any ordinary person is given a precious diamond then he can’t understand its value and importance”

Now I am explaining those mantras which are formed by nature. They are formed neither by Devtas, nor by Yakshas, nor by Gandharvas, nor by Kinnars, nor by humans, nor by sages. They are formed on their own and are divine and full of consciousness--------

Brothers and sisters, the one who is able to comprehend these words, these mantras will benefit him completely…….:)

Sadgurudev has said on one instance that “I am reciting these mantras in basic voice because along with mantra, voice is very important and essential element. And it should be recited in the same sound as formed by nature”

But now it is need the most because what is required today is new guidance, new consciousness which is nothing but knowledge given by Sadgurudev through which we will carry forward this work…..Isn’t it :)

Brothers and sisters, just think if we want to attain this cassette now then which Gurudham …..?

And what is guarantee that it is cassette having basic sound?

And this is the reason due to which Gurudev made us do its related procedure in Shivir.

In morning, take bath, wear clean dress and sit on aasan. Perform the complete poojan of Lord Ganpati.

Now perform Guru Poojan and seek his permission and blessings…….

Now meditating on Gurudev completely…….since it establishes a complete relation between mantra, Guru and listener/sadhak/reader.

Brothers and sister, one important thing that you have to daily read slokas given in “Dhayan Dhaarna and Samadhi “ book before and after this mantra because then only Sadgurudev can appear in Nikhileshwaranand form and provide you Chetna initiation and can enter your body, Praan and seven chakras along with Chetna Mantra…..

Now I am explaining the sadhna done by me……

In morning, get up between 4:00 a.m. and 5:00 a.m., wear clean dress and sit on aasan. Perform Guru and Ganpati poojan and read the related slokas 5 times. Thereafter, chant 11 rounds of below mantra by Crystal rosary and again read those slokas 5 times……

POORVAAM PARAM POORNTAAM POORVESAAM CHAITANY ROOPAM SAH

CHAITANYTA POORVA AATHARMYAANAM SHRIYAM CH SIDDHIH


After completion of chanting, sit on the same aasan and give your mind a feeling that divinity and consciousness is getting imbibed inside you….

Brothers and sisters, pregnant ladies have to do this sadhna for complete 9 months but if any male or boy or girl does this sadhna, then it is 11 day sadhna……:) . And if one wants to attain complete benefits from this sadhna then take it seriously and do it seriously……

And now get ready to grasp the energy, consciousness and energy of this divine and secretive sadhna……:)
=======================================================
जय सगुरुदेव,
                     वर्तमान समय मे इस मंत्र और इस क्रिया की अति आवश्यकता है, क्योंकि हमारी आने वाली पीढ़ी की दिशा ही बदल गयी.....  जाने किस दिशा की ओर बढ़ रही है युवा पीढ़ी------- ?
                       प्रतिदन न्यूज़ मे, पेपर मे , दुर्घटनाएं पढ पढकर यही लगता है की समाज जितनी तरक्की साइंस मे कर रहा है, उतना ही संस्कारों मे पिछड़ता जा रहा है....... शायद इस बात को ही ध्यान मे रखकर गुरुदेव ने इन मंत्रो को ब्रम्हांड से एकत्रित कर शिष्यों को प्रदान किया  जिससे कि आने वाली पीढ़ी को इस तरह ही शिक्षित किया जा सके........
                 भाइयों-बहनों मै चेतानामंत्र के प्रभाव् को प्रत्यक्ष देख चुकी हूं, अपने घर मे नहीं अपितु और भी मेरी कई बहनें है जो अपने  बच्चों  को देखा कर कृतज्ञ हैं गुरुदेव के प्रति.......
          ये सब जानते हैं कि प्रत्येक स्त्री तब ही पूर्णता पाती है जब उसे माँ बनने का सौभाग्य प्राप्त होता है. मैएने शिविरों और गुरुदेव जी इन मंत्रो कि विशेसता सुनी थी,किन्तु मेरा दुर्भाग्य कि जब मुझे ये दीक्षा और मन्त्र कि आवश्यकता थी तब ही  बाबा का सिधाश्रम प्रस्थान  हो गया-------- मुझे बड़ी निराशा हो रही थी कि अब मेरे बच्चों कैसे मै ये चेतना प्रदान करूँ ? और सबसे बड़ी बात निखिलजी भी अपनी साधना हेतु बाहर गए हुए थे...... किन्तु तीसरे मंथ मे ही निखिलजी को आदेश हुआ कि घर वापिस जाओ और बच्चे को चेतना मंत्र प्रदान करो और तब निखिल जी ने एक विशिष्ट  प्रक्रिया संपन्न की .
                 भाइयों-बहनों ये अति विशिष्ट क्रिया थी जिसे देखकर हैरान थी, और साथ ही मुझे चेतना सुनने, पढ़ने हेतु दिया...... मैने पूरे नौ महीने तक ना केवल इन मन्त्रों पड़ा बल्कि और भी अलग-अलग साधनाएं संपन्न की क्योंकि मैने कुछ सदगुरुदेव से सुना था की स्त्री के गर्भधारण के पश्चात माँ का बच्चे से सीधा सम्बन्ध होता है और जो कुछ भी माँ सुनती पढ़ती या देखती है व सीखता जाता है.......
                 ये मन्त्र बच्चे को चैतन्य करने के साथ ही गर्भ को भी पूर्ण सुरक्षित रखते हुए बच्चे को भी सुरक्षित रखता है और ये देखा.....
                                  मेरा बेटा  बॉबी पूरे ११वे माह के पहले सप्ताह मे हुआ, और पहले दिन से ही ये कुछ ज्यादा ही चैतन्य था, इसके क्रिया कलाप एक सामान्य बालक जैसे नहीं थे......सबसे बड़ी बात मेरे शरीर मे जहर बन गया था और डॉक्टर ने कह दिया था कि या तो बच्चा बचेगा या माँ .......किन्तु जब इसका जन्म हुआ तो ये पूर्ण स्वस्थ था......परन्तु मुझे बचाने के लिए गुरुदेव को आना पड़ा, जिसे मैंने बेहोश होते होते भी देख लिया था----- :)
            भाइयो-बहनों मै अकेली नहीं हूं जिसे गुरुदेवजी की कृपा प्राप्त हुई. मेरे साथ की कई बहनें हैं जिन्हें अलग-अलग अनुभव प्राप्त हुए हैं. मै अपने सारे अनुभव आप सबके साथ इसलिए बाँट रही हूँ क्योंकि आप सब मंत्रो का साधनाओं का और उनसे सम्बंधित क्रियाएँ, प्रतिबन्धन, नियम को समझ सको----------------
                        भाइयों-बहनों इस कैसेट पर सदगुरुदेव ने इसलिए प्रतिबन्ध लगाया था क्योंकि अक्सर गुरुदेव हम शिष्यों कि उन्नति हेतु, लाभ हेतु  प्रकृतिस्थ होकर मन्त्रों को प्राप्त करते थेऔर हमे प्रदान करते थे------------ चूँकि कि मन्त्र स्वयं गुरु और गुरुदेव स्वयं मन्त्र बन जाते थे इसलिए गुरुदेव ने ऐसी अनेक दीक्षा और मन्त्रों पर प्रतिबन्ध लगाया हुआ था......
                              भाइयों बहनों मेरे दोनों पुत्र अत्यंत मेधावी हैं और इसका प्रमाण मुझे देने कि आवश्यकता नहीं है.......: सदगुरुदेवजी ने इस मन्त्र कि अनेक विशेषताएं बताई हैं, जिनमें प्रमुख है ------
यह मंत्र उच्चकोटि का संतान प्रदाता है,अलौकिक और अद्वितीय है,
जिन स्त्रियों को गर्भ धारण करने मे समस्या हो वो भी इसका उच्चारण या श्रवण करें तो उचित लाभ प्राप्त हो जाता है ...
जिन कन्याओं के विवाह मे बाधा आ रही हो, यदि वे पूर्ण श्रद्धाभव से इसका उच्चारण करें तो, स्वतः ही बध्दएं समाप्त होकर विवाह संपन्न हो जाता है.......
ये मंत्र जहां स्त्रियों और बालिकाओं के लिए फलदाई है वहीँ ये मन्त्र पुरुषों और बालकों के लिए भी पूर्ण लाभदायक है..... क्योंकिं इनके माध्यम से वे शिक्षा मे श्रेष्ठता और पूर्णता प्राप्त कर सकते हैं, इन मंत्रो के प्रभाव स्वरुप उनके चेहरे पर दिव्यता और तेजश्विता दिखाई देने लगती है इस तरह ये मन्त्र पुरुषों के लिए, स्त्रियों के लिए, बालिकाओं के लिए, बालकों के लिए और वृद्धों के लिए भी बहुत ही उपयोगी है, क्योंकिं इसके माध्यम से ह्रदय के, जीवन के और शरीर के सभी तंतु चैतन्य हो जाते हैं.
                   ऐंसे बुजुर्ग यदि मोक्ष कि इच्छा रखते हों, या प्रभु दर्शन के आकांक्षी हों तो उनकी ये इच्छा ये मन्त्र पूर्ण करते ही हैं..... भाइयों एक बार  "गुरुवर ने बताया था कि इन मन्त्रों विश्वमन्त्र कहा गया है इन्हें "विश्वेत्मामं", "विश्वदेवात्मामं", और ब्रह्मंडात्मामं कहा गया है.
                भाइयों बहनों सदगुरुदेव ने कहा है ये मन्त्र अलौकिक हैं, अत्यंत गोपनीय है , और उनके ही शब्दों मे "मैंने इन मंत्रो को अभी तक गोपनीय रखा है और सार्वजानिक रूप से प्रकट नहीं किया, क्योंकि अपात्र को दान देने से उस दान कि महिमा घट जाती है , यदि एक सामान्य व्यक्ति को उच्चकोटि का हीरा दे दिया जाये तो वह उसका मूल्य, उसकी महत्ता को समझ नहीं पाता ."
           अब मै उन मंत्रो को स्पष्ट कर रहा हूं जो प्रकृति निर्मित है , जिनकों ना देवताओं ने बनाया है, ना यक्षों ने, ना गंधर्वों ने, ना किन्नरों ने, ना मनुष्यों ने, ना ऋषियों ने . ये स्वयंभू हैं ये जो अपने आप मे दिव्य और चेतनायुक्त हैं-------- 
                 भाइयों-बहनों गुरुदेव के इन शब्दों को समझ पायेगा ये मन्त्र उसको ही पूर्णता के साथ लाभ प्रदान करेंगे........:)
            सदगुरुदेव ने एक जगह ये भी कहा है कि "मै  इन मंत्रो का मूल ध्वनि मे उच्चारित कर रहा हूं क्योंकि मन्त्र के साथ ध्वनि अत्यंत आवश्यक और अनिवार्य तत्व है तथा इसका उच्चारण उसी ध्वनि मे किया जाये जिस ध्वनि के साथ प्रकृति ने निर्मित किया है."
                                                  किन्तु अब इसकी आवश्यकता बहुत ज्यादा है क्योंकि जरुरी है अब नए मार्गदर्शन की, नई चेतना की,  जो कि सदगुरुदेव के द्वारा प्रदत्त ज्ञान ही है जिसके माध्यम से हम सब मिलकर इस कार्य को आगे बढ़ाएंगे ------ है ना   :)
भाइयों बहनों जरा सोचिये यदि आज हम उस कैसेट को प्राप्त करना चाहें तो ---- किस गुरुधाम...... ?
 और क्या गारंटी है कि वो वही कैसेट है मूल ध्वनि वाली  ?
  और इसी कारण गुरुदेव ने शिविर मे इसका प्रयोग करवाया था .
   प्रातः स्नान कर स्वक्छ वस्त्र पहन कर आसन पर बैठ जाएँ और गणपतिजी की पूर्ण पूजा संपन्न करें.
 जो कि आप सब को पता ही है      :)
 फिर गुरु पूजन करें और अनुमति एवं आशीर्वाद प्राप्त करें......
 अब पूर्ण रूप  गुरुदेव का ध्यान करते हुए----- क्योंकि मन्त्र, गुरु,श्रवणकर्त्ता या साधक या पाठक तीनो का एक दुसरे से पूर्ण सम्बन्ध  स्थापित हो जाता है.
  भाइयों-बहनों एक विशेस बात इस मन्त्र के पहले और बाद में "ध्यान धारणा और समाधि" बुक मे दिए हुए श्लोकों का नित्य पाठ  करना है, क्योंकि तभी सदगुरुदेव निखिलेश्वरानन्द स्वरुप मे आकर आपको चेतना दीक्षा दे सकें और चेतना मन्त्रों के साथ समाविष्ट हो सकें....आपके शरीर मे प्राणों मे, और सातों चक्रों मे....
                      अब मै उस साधना को स्पष्ट कर रही हूं जो मैंने कि है...
प्रातः ४ से ५ बजे के बीच उठ कर स्नान कर स्व्क्छ वस्त्र धारण कर आसन पर बैठ जाएँ और गुरु गणपति पूजन कर सम्बंधित श्लोकों का ५ बार पाठ करें तथा उसके बाद निम्न मन्त्र कि ११ माला स्फटिक माला से जाप करें तथा दुबारा फिर से ५ पाठ करें.......
   पूर्वां परं पूर्णताम पूर्वेसां चैतन्य रूपम स:
  चैतन्यता पूर्वा आथारम्यानं श्रियं च सिद्धि: |   
               मन्त्र जप के बाद थोड़ी देर तक उसी आसन पर बैठ कर अपने मन मे भावना करें कि आपके अंदर चैतन्यता, दिव्यता समाहित हो रही है.....
भाइयों-बहनों दरअसल ये साधना गर्भवती स्त्रियों को तो पूरे नौ माह ही करना है किन्तु यदि पुरुष या बालक या कुमारी इस साधना को करते हैं तो ११ दिन कि साधना है...... :) और वाकई यदि इस साधना का पूर्ण लाभ लेना है तो इसे गंभीरता से ही करें और गंभीरता से ही लें .......
  और अब  तैयार हो जाएँ इस दिव्य और गोपनीय साधना की उर्जा तेजस्विता  चेतना को ग्रहण करने के लिए.........:)
"निखिल प्रणाम"
****RAJNI NIKHIL****

****NPRU****

1 comment:

Navin Thakur said...

Bhabhi maa, Jo log Garbhavastha ke doran casset nahi sun paye, un baccho ko yahi labh pane ke liye kya karna padega.