There was an error in this gadget

Wednesday, March 20, 2013

HOLASHTAK KE KUCHH TAANTRIK PRAYOG



Jai Sadgurdev,
Dear Brothers and Sisters,
Very special and important days of Holikaashtak are awaiting us. They start from eight days before Holi and go up till Dhulendi.
On one hand Tantra Divas and that too days like Holikaashtak, so why should they not be utilized fruitfully and properly-----
   These types of days are very much useful for sadhaks because sadhak understand these important moments and do not lose the opportunity to utilize them. They know that all the works which cannot be accomplished on other days can be accomplished in these special days
Brothers and sisters, I know that now you all are ready to do sadhna……….:)
Important days of year are Daarun Raatri i.e. day of lighting Holi, Maha Raatri i.e. Mahashivraatri, Moh Raatri i.e. Krishna Janmaashtmi and Mahanisha i.e. Diwali. Besides these days there is Navraatri and Shrawan Month which goes on for long duration. In this manner, we get ample time for our sadhnas.
 But when we take about long-duration sadhnasthen first thing that comes to our mind is that we do not have enough time. There are lot of work awaiting us like office, business and other household works…..
But brothers and sisters can we successfully do sadhna in a single day? Can we get accomplishment in one day? No…
               I get some messages that just give me one day sadhnas so that my financial problem is solved or my marriage problem or court problem is solved or my loss in business could be recovered.
It is quite strange that how can we deliberately say or do such things.I know that your problem compels you to do such things and it is also true that there are such procedures which are of one day and very intense and quickly effective. But they can provide you relief only for some time. For example, when you are sick you take medicinefor getting relief from pain but intelligent person rather than going for tablet, go for injection which is for lifetime…isn’t it :)
 Now let us come to important point that what is more important long duration sadhna or short prayogs! If we understand the utility of particular time then short prayogs are also beneficial. But those who want to touch dimensions of sadhna and imbibe the essence of sadhna; they necessarily spend their maximum time in sadhna.


And they resort to long-duration sadhnas only…..:) i.e. they use injection but those who face shortage of time or those who suddenly needs solution , they do short sadhnas and simplify the problems of their life ……….and for it we should understand the importance of particular time…Isn’t it..
Sadgurudev has elaborated on this subject so many times. He has told the importance of particular moment, importance of time that how can a sadhak make use of a particular moment…..how can he make that moment effective for him……There were so many instances when Gurudev used to stop Bhajan and give initiation and used to make us do prayogs in accordance with time…
So why should not we learn the art of grasping those moments? Why should not we efficiently utilize that time….Isn’t it
Tantra Divas and that too Holikaashtak, it is special time. So grasp these moments and make your life easy……It is the time which is desperately awaited by sadhak, especially Tantra sadhak. This is the time when we can clearly see our desired objective. What is needed is to grasp them….
Brothers and sisters,generally sadhak wants to do sabar sadhna, Apsara or Yakshini sadhnas on Holi. But there are some sadhaks who wants to do something different from these sadhnas. But what?
Brothers, for answers to such questions, Sadgurudev often used to give some short procedures…..:)
Brothers and sisters, now you are ready. You can do any of the sadhna as per your desire. You can use the whole duration or you can chose any of seven days and do sadhna of your choice….
These sadhna can change your work-pattern, your fate-----------
1)  Vashikaran Mantra – which will always be useful in your life and through which you can make anyone do impossible task too….
2)   For winning dispute and court case - There is no such person who does not face such circumstances in life……they can use such procedure.
3)   For Happy Life of Girl after Marriage……. Daughters are grown up with lot of affection but after marriage, due to dowry or some other thing; their life is made like hell. What should we do in such circumstances..?
So why should not we do procedure well in advance so that our daughter and sister can live a happy and married life…..
Brothers and sisters, I have tested all these mantras on multiple instances. These procedures have been obtained from various sources. But their success is a testimony to their effect.
 6-7 years back, my husband became very sick.At that time, I did astrology-related work for some time and at that time, I used to get Hand-print and horoscopes and I was handling them with the help of my husband.At that time, I tested these procedures and with Gurudev’s grace, I was successful each and every time….Therefore this time on Holi, upon insistence of Arif Ji I am giving you these divine and very effective mantra.
Remember one thing in mind that now you are accomplishing these mantras and articles. You can use them afterwards whenever you need them….:)
Vashikaran Mantra-
Sadhna Articles – Sindoor, Roli and Oil which you want to accomplish. Til or mustard oil should be used.
North or west direction, Red Aasan, Moonga Rosary. It is better to use red dress or you can choose dress of your choice.
Take bath after10:00 P.M and sit facing west direction. Do poojan of Guru and Lord Ganpati and chant 4 rounds of Guru Mantra and take resolution that I am doing this sadhna for accomplishing this mantra…..Now take two new lamps and one bowl. Keep sindoor and Roli in each of the lamp and fill the bowl with oil. Then chant 5 rounds of below mentioned mantra with coral rosary. Again chant 4 rounds of Guru Mantra and dedicate mantra jap to Gurudev.
Mantra-
“ OM NAMO AADESH GURU JI KAU, RO RO JOGINI, RO RO KAALI, BRAHMAA KEE BETI, INDRA KEE SAALI, SUKA GHAT JAAVAI TAALI CHOUSATH JOGINI, ANG-ANG MODI, ASTRI PURUSH LAGAAVAI TEL, RAI TEL KYA KARAI KHEL ANGINIBHIJI MAAYA NILGEET CHOUSATH YOGINI KEE AAN PADAI, CHOD CHOD GAURI HEERAUN KEE VAAT AAVAI, JAURI HAMAARI KHAAT MOH MANTRA CHOOTA JAAI TO GURU GORAKH NATH KO MAANS KHAAI PHURO MANTRA ISHWARO MANTRA VAACHAA.”

Whenever you want to use Vashikaran procedure, then chant 1 round of this mantra and apply oil to clothes of the person.
---------------------------------------------------------------
For Attaining Victory in Disputes and Court Cases….
Sadhna Articles—Black Agate rosary, Root of white Aak (Calotropisgigantea) , which should be taken one day before, after giving invitation. Red aasan will be used. Direction will be south or west. Dress will be red….
Now establish root of white Aak in front of you on red cloth spread on Baajot. Perform Guru and Lord Ganpati poojan and chant 4 rounds of Guru Mantra. Now , chant 11 rounds of below mantra------
Mantra-

“Om NamoBhairavaayKhadagparshuhastaay
            Om HroomVighnVinaashay Om HroomPhat “

Now again chant 4 rounds of Guru Manta……After Mantra Jap, on next day, wear that energised Aak root in hand. You yourself will be witness to the positive results.
Brothers, keep one thing in mind that after every chanting, one has to chant 4 rounds of Guru Mantra in beginning and end…..
3- For Happy married life of Girl after Marriage------
Sadhna Article- Sambhar Salt, White Aasan, South direction. Time needed will be nearly 1 hour and 15 minutes. No rosary will be used for chanting. Counting of chanting should be done through fingers. Sambhar salt is easily available on any grocery shop……After Guru and Lord Ganpati poojan and chanting of Guru Mantra, jeep salt in front of you on Baajot and chant below mantra for one hour and 15 minutes.
Mantra-

“ Om NamoBhaugraajBhayankar Peer BhoopSutaiDharai Jo Deekhe Maar Karantaa, So-So DeekhePaanvParantaa Om NamoThahThahSwahaa”
After marriage of girl, girl should tie salt in red cloth and keep it in her bed room. It will ensure complete peace.
"NIKHIL PRANAAM"
====================================================
जय सदगुरुदेव ,
प्रिय स्नेही स्वजन,
अति विशिष्ट और महत्वपूर्ण दिवस कि शुरुआत हो रही है होलिकाष्टक जो कि होली के पूर्व सात दिन पहले से प्रारंभ होकर धुरेंडी तक चलते हैं,
               एक तो तंत्र दिवस और उस पर होलिकाष्टक जैसे दिवस, तो क्यों ना इसका सार्थक और सदुपयोग हो----
        साधकों के लिए ही तो इस तरह के दिवस की उपयोगिता होती है  क्योंकि साधक ही उस क्षण विशेस को जानकर, समझ कर इसका उपयोग करने से नहीं चूकते, वे जानते हैं कि जो कार्य अन्य दिनों मे संभव ना हो, वो सब कार्य या सिद्धि इन विशेस दिवस मे संपन्न हो ही जाते हैं .
            भाइयों बहनों मै जानती हूं कि अब आप  सब हमेशा तैयार ही रहते हैं साधना करने के लिए------ :)
     वर्ष के महत्वपूर्ण दिवस दारुण रात्रि जो कि होली दहन के दिन को कहा गया . महारात्रि यानि महाशिव रात्रि , मोह रात्रि, यानि कृष्णजन्माष्टमी, और महानिशा यानि दिवाली . इसके अलावा विशिष्ट दिनों मे जो कि दीर्घकालीन दिवस हैं वे नवरात्री (दोनों) और श्रावणमास . इस तरह हमारे पास साधनाओं के लिए बहुत समय मिलता है .
               परन्तु जब दीर्घकालीन साधनाओं कि बात आती है तो सबसे पहले ध्यान आता है समय का कि समय कहाँ है , ऑफिस, बिजनिस, टूर और घर के अन्य कार्य....... वही अनु भैयाजी वाली बात..... टेम नाय है ......     :)
           किन्तु भाइयों बहनों क्या हम एक दिन मे ही सफलता पूर्वक साधना कर सकते हैं ? क्या एक दिन मे ही सिद्धि प्राप्त हो सकती है ? नहीं ना !
               मेरे पास  कुछ ऐंसे मैसेज आते है, कि कोई एक दिन कि ऐसी साधना करवा दीजे जिससे कि मेरी धन सम्बन्धी समस्या हल हो जावे, या मेरी शादी कि समस्या, या कोर्ट कि समस्या, या बिजनस मे नुकशान कि भरपाई हो जाये .
          आश्चर्य होता है कि हम जानबूझकर ऐसा कैसे कह या कर सकते हैं, भाइयों मै जानती हूं कि आपकी मजबूरी कभी ऐंसा करवाती है और ये सच भी है, कुछ प्रयोग ऐंसे है जो एक ही दिन् मे अति  तीक्ष्ण और शीघ्र प्रभावकारी हैं . किन्तु वो आपको कुछ समय के लिए ही आराम देंगे. जैसे बीमारी मे आप तुरंत दर्द से आराम के लिए दवाई ले लेते हैं किन्तु समझ दार लोग गोली नहीं अपितु टीके का प्रबंध करते हैं, जो कि लाइफ टाइम के लिए होता है....... है ना  :)
              चलो अब हम मुख्य बात पर आते हैं कि दीर्घकालीन साधना आवश्यक है या लघु प्रयोग ! तो समय विशेष कि उपयोगिता को समझा जाये तो तो लघु प्रयोग भी लाभकारी हैं .    परन्तु भाइयों जिन्हें सिर्फ साधना के कई अलग-अलग आयामों को छूना है या सिद्धि के मर्म को समझना है वे अवश्य ज्यादा से ज्यादा समय साधना मे ही लगाते भी हैं                   
          और दीर्घकालीन साधनाओ को ही अपनाते हैं..... :)      यानि टीके का ही प्रयोग करते है, किन्तु जिनके   पास समय कि कमी है या जिन्हें मजबूरीवश तुरंत आवश्यकता है वे लघु  साधना कर भी अपने जीवन कि समस्याओं को सरल करते है....... और इसके लिए हमें समय विशेस को समझना चाहिए.... है ना ... :) 
    सदगुरुदेव ने इस विषय पर अनेक बार समझाया है, क्षण के महत्व को, समय के महत्व को, कि  एक साधक कैसे उस क्षण को पकड़ कर उसका सदुपयोग करता है..... कैसे वो उस क्षण को अपने लिए प्रभावकारी बना लेता है...... अनेकों बार गुरुदेव भजन रोककर या समयानुसार समय देखकर दीक्षाएं और प्रयोग करवा दिया करते थे........
       तो क्यों ना हम भी उन क्षणों को पकड़ने कि कला सीखें? क्यों ना हम भी उस समय का सदुपयोग करें.....  :) है ना
           तंत्र दिवस और उस पर होलिकाष्टक है ना विशिष्ट समय तो पकड़ लीजिए उन क्षणों को, और कर लीजिए आसान राह जिंदगी की ...... क्योंकि यही वो समय है जिसका साधक, विशेसकर तंत्र साधक, बड़ी बेसब्री से इंतज़ार करते हैं, क्योंकि यही वो समय होता है जब हमे हमारा अभीष्ट  बिलकुल सामने दिखाई देता है बस आवश्यकता है उसे पकड़ने की......
                 भाइयों-बहनों सामान्यतः होली पर जो साधनाएं करना चाहते हैं वे या तो साबर साधनाएं या फिर अप्सरा या यक्षिणी सिद्धि साधना . किन्तु कुछ ऐंसे साधक भी हैं जो इन सबसे हटकर कुछ ओर करना चाहते हैं, किन्तु क्या ?
              भाइयों सदगुरुदेव ऐंसे ही प्रश्नों के उत्तर हेतु अक्सर कुछ लघु प्रयोग दे दिया करते थे ------ :)
         भाइयों-बहनों तो अब आप तैयार हो जिसका मन जो करे या जिससे सम्बंधित जो साधना करना चाहे का सकता है चाहे तो पूरे समय का उपयोग करे या फिर इन सात दिनों मे से चुन कर १, , ३ जो करना चाहे कर सकते हैं......
ये साधनाएं जो बदल सकती हैं आपकी क्रिया शैली कोआपकी, नियति को-----
- वशीकरण मन्त्र- जो आपके जीवन मे सदैव काम आयेगा क्योंकि इसके द्वारा आप कोई भी असम्भव कार्य करवा सकते हैं......
- विवाद और मुक़दमे आदि मे विजय दिलाने हेतु- ऐंसा कोई व्यक्ति है ही नहीं कि इस तरह कि किसी विबाद मे कभी ना फंसे..... तो वो इसका प्रयोग कर सकते हैं...
- विवाहोंपरांत कन्या के सुखी जीवन हेतु .... बड़े प्यार और लाड से बेटियों को पाला जाता है किन्तु शादी के बाद अक्सर कभी दहेज या और किसी बात को लेकर उसका जीवन नर्क कर दिया जाता है और तब हम सोचते हैं कि अब क्या करें...?
         तो क्यों ना पहले ही ये उपाय करके रख लिया जाये जिससे कि हमारी बेटी और बहन पूर्ण सुखमय दाम्पत्य जीवन जी सकें....
       भाइयों-बहनों ये सभी मन्त्र मैने अनेकों बार आजमायें हैं. अलग अलग स्रोतों से ये विधान प्राप्य हुए हैं किन्तु इनकी सफलता इनके प्रभाव को प्रमाणित भी करती है.
आज से ६-७ वर्ष पहले मेरे पति बहुत बीमार हो गए थे, उस मैने कुछ समय तक ज्योतिष से सम्बंधित कार्य किया और उस मेरे पास हेंडप्रिंट और कुंडलियाँ आती थी तथा मै अपने पति की मदद से ही इन कार्यों को सम्हाल रही थी तब मैंने ये प्रयोग बहुत बार आजमाए, गुरुदेव की कृपा से हर बार पूर्ण सफल भी रही...... अतः इस बार होली पर आप सबके लिए आरिफ जी के कहने पर ये दिव्य और अति तीव्र प्रभावकारी मन्त्र......
 एक बात याद रखिये कि इस समय इन मंत्रो और सामग्री को आप सिद्ध कर रहें हैं, इनका प्रयोग तो बाद आवश्यकतानुसार आप कर सकते हैं...... :) 
वशीकरण मंत्र -
साधना सामग्री हेतु -- सिन्दूर, रोली, और तेल जिसे आप अभिमंत्रित करना चाहते हैं, तेल सरसों  या तिल का हो .
दिशा उत्तर या पश्चिम, आसन लाल, मूंगा माला वस्त्र भी लाल हो तो बेहतर या इक्छा अनुसार .
रात्रि १० बजे के बाद स्नान कर पश्चिम दिशा कि ओर मुंह कर बैठ जाएँ, गुरु, गणपति का संक्षिप्त पूजन कर गुरु मन्त्र कि ४ माला संपन्न करें ओर संकल्प लें कि मै इस मन्त्र को सिद्ध करने हेतु ये साधना संपन्न कर रहा हूं....   अब अपने सामने दो कोरे यानी नए दिये, एक कटोरी  जिसमे क्रमशः सिन्दूर, रोली ,और कटोरी मे तेल भरकर अपने सामने रख लें .....
फिर मूंगा माला से निम्न मन्त्र कि मात्र ५ माला संपन्न करें . और फिर चार माला गुरु मन्त्र कि संपन्न करें व् मन्त्र गुरुदेव को समर्पित करें.....
मन्त्र-
    "ॐ नमो आदेश गुरु जी कौ, रो रो जोगणी, रो रो काली, ब्रह्मा की बेटी, इन्द्र की साली, सुका घट जावै ताली चौसठ जोगणी, अंग-अंग मोड़ी, अस्त्री पुरुष लगावै संग तेल, रै तेल क्या करै खेल अंगनीभिजी माया निलगीत चौसठ योगिनी की आण पडै, छोड़-छोड़ गौरी हीरौं की वाट आवै, जौरी हमारी खाट मोह मन्त्र छूटा जाई तो गुरु गोरख नाथ को मास खाई फुरो मन्त्र ईश्वरो मन्त्र वाचा."

जब भी वशीकरण की क्रिया को प्रयोग करना हो तो इसी मंत्र की १ माला कर तेल को सम्बंधित व्यक्ति के वस्त्र पर लगा दें.
---------------------------------------------------------------
विवाद मुकद्दमे आदि मे विजय दिलाने हेतु....
साधना सामग्री-- काले हकीक  की माला, सफ़ेद आक की जड़, जिसे आपको एक दिन पूर्व निमंत्रित कर लाना है, लाल आसन, दक्षिण या पश्चिम, वस्त्र लाल....
अब सफ़ेद आक की जड़ को अपने सामने बाजोट पर लाल कपडे पर ही स्थापित कर लें और गुरु गणपति पूजन संपन्न कर गुरुमंत्र की ४ माला जप कर निम्न मन्त्र की मात्र ११ माला जप सम्पन्न करें----
मन्त्र-
              " ॐ नमो भैरवायखड्गपरशुहस्ताय
                       ॐ ह्रूं विघ्नविनाशय ॐ ह्रूं फट॒ "
इसके बाद भी गुरु मन्त्र की चार माला जप करें .... मंत्र जप के पश्चात दुसरे दिन उस प्रतिष्ठित आक की जड़ को हाथ मे धारण कर लें.आप स्वयं ही परिणाम की सकारात्मकता के साक्षी होंगे.
   भाइयों एक बात का ध्यान रखें की प्रत्येक जप के पहले और बाद मे गुरुमंत्र की चार माला जप संपन्न करना ही है......
- विवाहोपरांत कन्या के पूर्ण सुखी दाम्पत्य हेतु....
साधना सामग्री-   साम्भर नमकसफ़ेद आसन, दक्षिण दिशा और समय लगभग  सवा घंटा, इसमें माला प्रयोग नहीं होगी एवं कर माला का ही प्रयोग होगा, और सांभर नमक जो कि किसी भी पंसारी कि दुकान मे बड़ी आसानी से मिल जाता है.... गुरु  पूजन,गणपति पूजन व मंत्र जप के बाद नमक को सामने बाजोट पर रख कर उसके सामने मंत्र का लगभग सवा घंटे तक जप करें.
मंत्र-
       "ॐ नमो भौगराज भयंकर पीर भूप सुतई धरइ  जो दीखे मार करन्ता, सो-सो दीखे पाँव परन्ता ॐ नमो ठ: : स्वाहा."
कन्या के विवाह उपरान्त वो इस नमक को लाल वस्त्र मे बांध कर स्वयं के शयन कक्ष में रख ले.पूर्ण शान्ति की प्राप्ति होगी.
"निखिल प्रणाम"
****RAJNI NIKHIL****
****NPRU****


1 comment:

Prashant said...

Bhai
Jay Gurudev
Vashikar prayog me 2 diye jalane hai?
Kumkum uar roli ka sadhna ke bad kya karna hai?

Kripya samadhan kijiye.
-Prashant D.