There was an error in this gadget

Thursday, May 16, 2013

KUCHH BAATEN MERI AUR AAPKI



My Dear Brothers and Sisters,
If we are disciples of “Paramhans Swami Nikhileshwaranand” then we can’t ignore the importance of Tantra in our life, because Sadgurudev dedicated all his life for Tantra……whenever shivirs were organized by him, disciples from all across the world used to attend them…..his time was golden time for Tantra……..which probably will never come again…….but knowledge given by him is still secured in the hands of senior ascetic brothers and sisters …..Which include accomplished ascetic of Siddh Mandals or our senior householder brother and sisters….You all with agree with this fact….isn’t
……….Now the point worth pondering over is that if we consider that asset of Sadgurudev’s knowledge is secured in the hands of our senior brothers and sisters whether they are ascetic or householder…..then can we make mistake of considering that knowledge as supreme of inferior….After all knowledge is knowledge and if it is authentic then we should not let go the opportunity to attain it and such seminar is going to be conducted on 25th May in Jabalpur whose subject is Shatkarma and Mercurial Science…..

Let me tell you that there is reason behind writing this post. I got so many messages from some of brothers and sisters in my personal message box and the queries asked were so strange that compelled me to write this post……because the first thought which came to my mind after reading those question was that these are only few persons who have shared their thoughts but there will be so many brothers and sisters who will be thinking on these lines…
1) Sister, Shatkarma does not seem an important subject……such small tasks can be accomplished by giving money to priest or tantrik???
2) Sister, Whatever we do, how much hard-work we put, wedon’t know why we do not get success in sadhna??
3) Sister, during sadhna time, we feel lot of tiredness, pain and lust in my body??
4) Sister, sadhna was going very well but suddenly in night one thought came to my mind and all my efforts went into vain??

I laughed at such questions of some brothers and sisters ( although I know that these are only few persons who have accepted their shortcomings but truth is that all of us face these problems but we are not ready to accept it) because we are not trying to understand the real meaning of shatkarmas……. I have told one fact, told by Master so many times that Tantra does not run on the expectations of fools….the work which we consider very small and ordinary and ask priest to do it and they assure us of its success too but just tell me is there anyone among you who have spent the money and attained desired results….No, we will not find a single person. How can we judge other’s competence in a subject about which our knowledge is negligible….
…..Now let us come to the point that whether these procedures are important or not. Let me tell you one thing that “If sadhak does not have knowledge about Shatkarmas in tantra, there is so many sadhnas in which he is not able to taste success…..But why????....There is one series going on blog regarding activation of six chakra using Shri yantra and it is being told there that…

“ You have to keep eyes stable on yantra and concentrate your inner consciousness on Sahastrar. Just tell me honestly how many among you were able to carry out this procedure successfully?? Not only this, if we talk about Apsara Yakshini Seminar or seminar related to Itar Yoni then how many among you did sadhna successfully….???”
“ Probably the answer will be no one……someone would have been not able to form rosary, few would have failed to complete chanting….some sadhaks loses to the body-pain during sadhna, some are unable to concentrate their mental thoughts and some fail to conquer the lustful tendencies in body arising during sadhna duration……And some of my brothers are such that who completes the process of 3-4 days successfully but when they are at doorsteps of success, natures plays its own game and all efforts of 5 days goes into vain….”
Now question arise that what shatkarmas has to do with all this……answer to is that if you are able to understand the significance of 6 shatkarmas Shanti Karm, Vashikaran, Stambhan, Ucchatan and Maaran in your spiritual life along with materialistic life then you would never have to face failure in sadhna….
Now talking about Vashikaran, when we can control any male or female and make him/her agree to our point then do it seems that this procedure does not have impact on Apsara, Yakshinis or Itar Yonis?..... Definitely it works, but you will be able to do vashikaran of them only when they are attracted towards you. It is here the Sammohan procedure will come into play.
Now let us talk about the fact that why they will be hypnotized in favour of us? We are unable to do procedure and chant mantra in proper manner, we are unable to concentrate. But here we are forgetting the fact that Sammohan is not limited to others…..Before sitting for sadhna, we can do self-hypnotism by which our mind, our thoughts and our body will be under our control till the time we desire….we can do it for 1 day, 1 month or even up to 1 year…..no difference will come in our daily activities…neither you will start considering your wife as your mother and nor your mother as your sister….everything will remain normal , just that you will be able to control those thoughts which can make your sadhna fruitless…..it may be your body-pain or following celibacy during sadhna…

After doing these shatkarmas with yourself, you can accomplish Pari, Apsara, Yakshini as your wife, lover or friend………or can invoke Bhootini to accomplish your work…………..All of these will come and when we talk about importance of shatkarmas in daily life, then if they can help you accomplish Bhoot, Pishaach, can they not get you married to your lover or help you get promotion in job or maintain peace in home….You can do all the things with shatkarmas, just you need to know correct procedure and yantra….And most importantly, the procedures to accomplish these karmas are not length and mantra too are small…these small-2 procedures can yield huge benefits. Then you do not have to butter anyone for any work and do not need reference for your work, whether it is financial matter or business matter. Most of you ask us to provide Lakshmi prayog but Lakshmi is in your hands…..Why can’t you talk to boss for promotion after doing vashikaran on him or why can’t you do Vidveshan procedure on two persons to separate them who are obstructing your happiness…..Do all these tasks yourself and enjoy the happiness of results because chances of failure are not even negligible…

I hope that you will not consider these procedures as small-2 GOOD FOR NOTHING procedures and will re-consider your decision…And I have not written this post because I want to get LIKE OR COMMENT in praise of me rather it has been written so that you read it, understand it and discuss the queries arising in your mind and take a final decision that what we have to do… 

==========================================
मेरे प्रिय भाइयों और बहनों
                               यदि हम “ परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंन्द जी “ के शिष्य हैं तो हम अपने जीवन में तंत्र के महत्व को नकार नहीं सकते, क्योंकि सदगुरुदेव ने तो अपना पूरा जीवन ही तंत्र को समर्पित कर दिया था...जब भी उनके शिविर आयोजित होते थे तो देश, विदेश के  किस – किस कोने से शिष्य आते थे इसका कोई अंदाजा भी नहीं लगा सकता.....उनका समय तंत्र का स्वर्णिम काल था....जो शायद कभी लौट कर नहीं आयेगा.....पर उनके द्वारा दिया गया ज्ञान आज भी हमारे वरिष्ठ सन्यासी भाई- बहनों के पास सुरक्षित है....जिनमें फिर चाहे हमारे सिद्ध मंडल के सिद्ध सन्यासी हों या फिर हमारे वरिष्ठ ग्रहस्थ भाई बहिन....इस तथ्य से आप सब सहमत होंगे....है ना
.......अब सोचने वाली बात ये है की यदि हम यह मानते हैं की हमारे वरिष्ठ भाई – बहिन फिर चाहे वो सन्यासी हों या ग्रहस्थ उनके पास सदगुरुदेव के ज्ञान की धरोहर सुरक्षित है.....तो फिर क्यों हम उस ज्ञान को कम या बड़ा आंकने की गलती कर सकते हैं....ज्ञान तो ज्ञान होता है और अगर वो प्रमाणित हो तो उसे प्राप्त करने से चूकना नहीं चाहिए और ऐसे ही एक ज्ञान संबंधी गोष्टी २५ मई को जबलपुर में आयोजित होने जा रही है जिसका विषय है षट्कर्म और रस विज्ञान....

     मैं आपको बता दूँ की इस पोस्ट को लिखने के पीछे का कारण है आप में से कुछ भाई बहनों के वो messages जो मेरे personal message box में आये और वो प्रश्न इतने अटपटे और अजीब थे की मुझे ये पोस्ट लिखनी पड़ी....क्योंकि उन प्रश्नों की पढ़ कर जो मन में पहला भाव आया वो ये था की ये तो कुछ वो लोग हैं जिन्होंने अपनी सोच मेरे साथ बांटी पर अभी पता नहीं ऐसे कितने मेरे भाई बहन ओर होंगे जो ऐसे ही सोच रहे होंगे.....
१) दीदी षट्कर्म तो कुछ खास महत्वपूर्ण विषय नहीं लगता.....ऐसे छोटे – छोटे काम तो हम किसी भी पंडित या तांत्रिक को पैसे देकर करवा सकते हैं???
२) दीदी चाहे कुछ भी कर लें , कितनी भी मेहनत करे साधना में सफलता पता नहीं क्यों नहीं मिलती??
३) दीदी मैं साधना के समय अपने शरीर में बहुत थकान, दर्द और कामुकता महसूस करता हूँ??
 ४) दीदी साधना बहुत अच्छे से चल रही थी पर पता नहीं रात में कैसे बस मन में एक विचार आया और सब मेहनत बर्बाद हो गयी???
  
   तो मेरे कुछ भाई बहनों के ऐसे  प्रश्नों पर हंसी आ गयी ( जब की मुझे ज्ञात है की ये तो बस वो कुछ लोग हैं जिन्होंने अपनी कमियां मानी हैं पर सच बात तो ये है की होता लगभग सब के साथ यही है, बस हम मानने को तैयार नहीं हैं ) क्योकि शायद आप लोग षट्कर्म का सही अर्थ ही नहीं सकझ रहे हो....मैं मास्टर की कही एक बात आपको बहुत बार बता चुकी हूँ की तंत्र मूर्खों की अपेक्षा पर नहीं चलता.....हम लोग जिन कामों को छोटा मान कर किसी पंडित या ओझा से करवाते हैं वो हमें कह तो देते हैं की गैरंटी से आपका काम हो जायेगा पर आप सब बताईये क्या कोई ऐसा है जिसने इन लोगों के पास पैसे खर्च किये हों ओर उसे मनोवांछित नतीजे प्राप्त हुए हों.....नहीं ऐसा कोई एक भी नहीं मिलेगा क्योंकि जिस विषय पर तुम्हारा ज्ञान ना के बराबर है उसमें कोई ओर कितना परांगत हैं आप कैसे जान सकते हो......
.......अब बात आती है की यह क्रम महत्वपूर्ण हैं की नहीं तो आप एक बात आज और हमेशा के लिए याद रख लीजिए “ तंत्र में जिस साधक को षट्कर्मों का ज्ञान नहीं होता वो ऐसी कई साधनाएं हैं जिनमें सफल नहीं हो पाते....अब आप सोचोगे वो कैसे????
....तो वो ऐसे जी अब जैसे ब्लॉग पर श्री यंत्र से षट्चक्र जागरण हेतु श्रंखला चल रही है और उसमें बोला जाता है की......

 “ आपको अपने यंत्र पर आँखें स्थिर करके रखनी हैं और अपनी अन्तश्चेतना को अपने सहस्त्रार पर एकाग्र करना है तो अब मुझे आप इमानदारी से बताईये की कितने लोग आप में से ये क्रिया सफलतापूर्वक कर पाए?? यही नहीं यदि हम पहले हुए अप्सरा यक्षिणी सेमिनार या इतर योनी संबंधित हुए सेमीनार की बात करें तो आप में से कितनी ने वो साधनाएं सफलता पूर्वक की....???"
“ जवाब शायद एक ने भी नहीं....किसी से माला नहीं बनी तो किसी से मंत्र जाप पूरा नहीं हुआ....कोई साधना के दौरान अपने शरीर में होने वाले दर्द से हार जाता है, कोई अपने मानसिक विचारों को एकाग्र नहीं कर पाता तो कोई साधना काल के समय में अपने शरीर में होने वाली कामुक प्रविर्तियों से हार मान लेता है.....और मेरे कुछ भाई तो ऐसे हैं जो सफलता से पूरे ३- ४या ५ दिनों का  क्रम पूरा कर लेते हैं पर जैसे ही सफलता पास होती है प्राकृति उनके शरीर के साथ अपना खेल खेल देती है जिससे ५ दिनों का क्रम खत्म होके शून्य पर आ जाता है.... “
अब फिर प्रश्न ये आता है की षट्कर्मों से इन बातों का क्या लेना देना.....तो जवाब यह है की यदि आप शांतिकर्म, वशीकरण, स्तंभन, विद्वेष्ण , उच्चाटन और मारन  इन ६ षट्कर्मों की अपने  भौतिक जीवन के साथ- साथ साधनात्मक जीवन में महत्ता समझोगे तो साधना में कभी असफलता का मुहं नहीं देखना पडेगा......
अब जैसे हम वशीकरण की बात करें तो इस का प्रयोग करके यदि हम किसी स्त्री या पुरुष को अपने बस में करके उससे अपनी बात मनवा सकते हैं तो आपको क्या लगता है ये प्रयोग अप्सरा, यक्षिणियों या इतर योनियों पर असर नहीं करता? ......निश्चित रूप से करता हैं पर आप उन पर वशीकरण तब कर पायेंगे जब वो आपकी तरफ आकर्षित हों तो सम्मोहन क्रिया कब काम आएगी......
   
    अब बात करते हैं वो हमारी तरफ सम्मोहित होंगी हो क्यूँ?? प्रयोग या मंत्र जाप तो हमसे ठंग से होता नहीं, ध्यान ही एकाग्र नहीं कर पाते तो मेरे प्रिय भाइयों आपसे ये किसने कहा की सम्मोहन केवल हम किसी दूसरे पर ही कर सकते हैं.....साधना में बैठने से पूर्व सम्मोहन की क्रिया खुद के साथ भी की जा सकती है जिससे की आप जब तक चाहे आपका मन , आपके विचार और आपका शरीर सब आपके नियंत्रण में रहेगा....फिर चाहे ये क्रिया खुद के साथ आप एक दिन के लिए करो, एक हफ्ते के लिए या फिर एक साल के लिए....इससे आपकी भौतिक दैनिक दिनचर्या पर कोई अंतर नहीं पड़ता....ना तो आप अपनी पत्नी को अपनी माँ समझने लगोगे और ना ही अपनी माता जी को अपनी बहन.....सब सामन्य रहता है बस वो विचार आपके बस में आ जाते हैं जो आपकी साधना निष्फल कर सकते हैं ....अब चाहे वो शरीर के दर्द हो या फिर साधना के समय ब्रह्मचर्य का पालन करना हो......

    इन षट्कर्मों को खुद के साथ करने के बाद आप चाहे परी सिद्ध करो या अप्सरा , यक्षिणी को पत्नी , प्रेमिका या दोस्त के रूप में अपने वश में कर लो.....या फिर किसी भूतनी को बुला कर अपने काम करवाने लगो....ये सब आयेंगी और जहाँ तक बात है दैनिक जीवन में इन षट्कर्मों के म्ह्त्व की तो अगर ये क्रम भुत, पिशाच आपको सिद्ध करवा सकते हैं तो क्या इस जीवन में जो आपकी प्रेमिका है उससे आपकी शादी नहीं करवा सकते, या फिर आपको जॉब में प्रमोशन नहीं दिला सकते या फिर आपके घर में सुख शान्ति नहीं रख सकते.......आप इन षट्कर्मों से सब कर सकते हो सब सही विधि और यंत्र का ज्ञान होना चाहिए......और इससे बड़ी बात है की इन कर्मों के लिए किये जाने वाले विधान कोई बहुत लंबे चौड़े नहीं होते और ना ही मंत्र बड़े होते हैं.....छोटी – छोटी क्रियाएँ और बड़े- बड़े फायदे और फिर किसी काम के लिए किसी की मिन्नतें करने की जरूरत भी नहीं और ना ही किसी के सानिध्य को खोजने की फिर चाहे वो पैसे का मामला हो या बिजनेस का क्यूंकि आप में से बहुत लोग लक्ष्मी प्रयोग देने के लिए कहते हैं तो भाई मेरे लक्ष्मी तो आपके हाथ में है.....क्यूँ अपने बॉस पर वशीकरण प्रयोग करके अपनी प्रमोशन की बात नहीं करते या फिर क्यों विद्वेष्ण प्रयोग करके उन दो लोगों को एक दूसरे से अलग नहीं कर देते जो आपकी खुशियों में बाधा उत्पन्न कर रहे हैं .....अपना काम खुद करो और नतीजे की खुशी भी खुद ENJOY करो क्योंकि इन कर्मों में असफलता के लेश मात्र भी चांस नहीं होते......

 आशा करती हूँ अब आप इन कर्मों को छोटे- छोटे GOOD FOR NOTHING प्रयोग नहीं समझोगे और एक बार पुन्ह: अपने निर्णय पर विचार करोगे...... और हाँ ये पोस्ट मैंने इसलिए नहीं लिखी की आप LIKE YA COMMENT  मेरी प्रशंसा हेतु लिखो अपितु इसलिए लिखी है की इसे पढ़ो, समझो और फिर मन में जो प्रश्न आता है उस पर चर्चा करो और एक निर्णायक निर्णय लो की हमें अब क्या करना है.....

****ROZY MAYANK NIKHIL****

****NPRU****

5 comments:

ashutosh kumar said...

jay gurudev
Is khastkarm sadhana me samil hone ke liye jaipur aana jaruri hai,kyajisko aan sambhav nahi hai uske liye ye khastkarm sadhana kaise uplabdh hogi /ya uplabdh karane ki koshish kare, tai dur bithe log bhi aisi durlbh sadhana aap ke param sahyog se kar sake
Kripya uplabdh karane ki koshis kare

jay gurudev

sarvesh said...

yeh post vastavikta ke bahut kareeb hai.

sarvesh said...

Ji yeh post hi adhikaansh sadhakon ki vaastavikta hai.

bhavya12345 said...

Great post and good understanding

bhavya12345 said...

Good post