There was an error in this gadget

Thursday, May 9, 2013

SHRI YANTRA KRAM VIDHAAN - MOOLADHAAR CHAKRA JAAGRAN AUR AATM JYOTI SAAYUJJYIKARAN


  

Asht Chakra, Nav Dwaraa ,DevanaamPuryodhya
TasyaamHiranymayahKoshahSwargee-LokoJyotishaavartah||

This shloka of today contains essence of our article…..It is the same shloka understanding which I did sadhnas related to six chakras….. Our articles in this series of Shri Yantra will follow the same sequence in which I did the sadhnas without any deviations…We will start from the base of Shri Yantra and move towards the Maha Bindu located on its peak and in this journey we will talk about Shri Yantra situated in our body (Internal Shri Yantra) and move progressively from Muladhaar locates in its base to Sahastrar…. So let us start our article by elucidating above shloka again and understanding the similarities between external Shri Yantra and Internal Shri Yantra,

From ancient times, it is necessary to take assistance of some base in order to give concrete form to worship procedure. This base can be anything like idol, picture, symbol or yantra…….. But our sages have always considered Yantra superior to all these because as compared to idol/ symbol, Yantra has been considered to be the residing place of god or goddess related to sadhna where they reside along with Kshetrapal (door-keeper) and Bhairav….It was all about external Shri Yantra………….But now when we talk about Universal Shri Yantra present in our body then its Bhupura ( Most outer portion of Yantra which encloses Yantra from all its four sides) is situated in our anal portion i.e. Muladhaar. If we talk about Shakti related to Yantra then Mother Tripur Sundari Bhagwati Lalita resides here. And if this yantra is understood after considering Muladhaar as base, then this region is place of obstacle-remover Siddhi Vinayak Bhagwan Ganpati…. So whether we call it as yantra or chakra, its aim is to simplify and ease the path of sadhak who is progressing on the path of sadhna. It is because on one hand Aadya Shakti is present and on the other, there is Lord Ganpati. So it is natural for success to follow sadhak…

We discussed one fact earlier that Yantra whether it is internal or external, its related power reside in them in subtle form. In order for sadhak to get benefit of this situation while doing sadhna, at least there should be vibration in Muladhaar even if it is not activated….because whenever it happen, sadhak can concentrate all his power toward yantra and combine its subtle energy with yantra situated inside the body and he very quickly becomes introvert……. And for such a condition, it is necessary for us to be fully aware of Yantra placed in front of us so that we can synchronize our internal yantra with external yantra….Isn’t it?

(One request : In order to understand every fact being told in this series and the composition and structure of Shri Yantra i.e. which part of it is being discussed, please carefully read the complete article before starting sadhna and by placing the yantra in front of you, just see which part is located where?  It will ensure that you will attain complete results of your hard-work…. In this series external Shri Yantra means Parad Shri Yantra and internal Shri Yantra means all chakras from Muladhaar to Sahastrar)
……Bhupura of Shri Yantra is called “Akula Trilokya – Mohan Chakra”…..i.e. it contains the invincible powers of three worlds and it is capable of establishing contact of sadhak with any of the world.
And if this yantra is of Parad, then it gives concrete form to sadhnas done on it because mercury is not merely a metal, it is lively universal life taking breath all the time. This is the only way too i.e. to connect life of earthly world (sadhak) with universal life (Isht) with the power of sadhna. It does not take much of time to earn life but for meeting supreme god, it is necessary to connect internal yantra with this yantra. If Shiva is consciousness of Parad Shri Yantra, then Aadya Shakti Maa Tripur Sundari is movable energy of internal Shri Yantra. Shiva and Shakti meet in outer universe where sadhak reaches due to power of sadhna and meets the supreme…

There is basic similarity between Parad Shri Yantra and internal Shri Yantra i.e. both are basic residing place of Shakti. This yantra is Muladhaar chakra of universe in which Kundalini Shakti of universe resides……Area above the lotus having 16 petals and between lotus having 8 petals is called universe where consciousness is found……or in other words, Shiva resides here from eternity in corpse from because it is the place of Mahakaal and inside us this consciousness is lying dormant in form of Kundalini Shakti in our Muladhaar….But during sadhna, when sadhak starts focusing attention on Supreme Bindu located in peak of Shri Yantra, then with the power of mantra, tumult starts happening in inner universe by which Kundalini arise from dormant state and tries to move upwards towards Sahastrar and vibration starts happening in Muladhaar….
……During sadhna , while connecting external Shri Yantra with Internal Shri Yantra, sadhak should always focus on the supreme Bindu of Parad Shri Yantra. While focusing on that Bindu, sadhak has to imbibe it inside inner consciousness. Now since it is king of yantras and since it is of mercury, it is conscious too, therefore it will definitely provide you the energy….
……..It is not any ordinary procedure which will happen in few moments…..It requires a peaceful environment where no one can disturb our consciousness…….And when it seems that you are feeling some movement inside you then concentrate on Muladhaar and imagine the supreme light there which is ignited inside all of us from eternity……. All these procedures have to be done mentally…..Therefore, whenever your concentration is disturbed, repeat the whole process again till the time you do not feel the smell coming from inside or all the four sides……..Because the day it happens, it will be proof of the fact that now Kundalini is not in dormant state in Muladhaar….
...... Now let us discuss about benefits from this sadhna on materialistic plane…..

) This first level sadhna of Shri Yantra will make you cognizant of unlimited power situated inside you because this sadhna is related to Aatm-Jyoti (light of soul) inside us.

) Vibration in Muladhaar chakra means that now you are beyond the gravitational force of earth. Therefore you can sit on one aasan for longer time….That’s why as much as possible, use aasan which has been accomplished by you…

3)  Vibration of Muladhaar eradicates all eye deformities and it also gets rid of incurable diseases related to anal opening in males and females.

4)  As you understood earlier that as soon as vibration in Kundalini starts, you can feel the smell coming from inside. Muladhaar chakra increase the capability of smell and recognition

Procedure – This process can be started from morning of any Wednesday or Monday. Dress or Aasan will be white. Direction will be east. Establish picture of Sadgurudev Ji on Baajot in front of you and do its poojan according to your capacity and pray for success in sadhna. Before starting sadhna, at least chant 5 rounds of Guru Mantra. Since Lord Ganpati is provider of accomplishments and is the ruler of Muladhaar chakra, it is necessary to do his poojan…. Since this sadhna is related to Muladhaar chakra therefore due to earth element, temperature of body can rise during sadhna. But it is not a matter of worry ……Thereafter, do the Panchoopchar poojan of Shri Yantra and pray to Bhagwati Lalitaamba for success. Lamp will be of ghee or Til-oil. Offer Kheer as Naivedya. Now with complete concentration, chant 5 rounds of the below mantra with Guru Rosary or Shakti rosary.

Mantra-

OM GANG SHREEM GANG GANPATI CHAKRE JAAGRATAM GANG SHREEM GANG OM

After chanting, offer the chanting and accept the Bhog there and then only. Get up after praying. This procedure has to be done for 5 days.

One basic fact which we all need to keep in mind that none of sadhna or process delivers the miracles overnight…….. It can be done by only those who are competent in this field like Sadgurudev or our senior ascetic Guru Brothers and sisters. But we all are in learning stage. So do all the procedures related to six chakras with complete dedication since it is not possible at all that Mantra do not do their work……But what will be the speed with which they will work, it all depends upon previous life karmas….
Best wishes to you all for sadhnas…..May Sadgurudev provides success to all of you….
===============================================
अष्ट- चक्रा ,नव-द्वारा , देवानां पुरयोध्या
                       तस्यां हिरण्यमय: कोश: स्वर्गे-लोको ज्योतिषावर्त्: ||
इस श्लोक में एक ऐसे यंत्र की बात की गयी है जिसमें अष्ट कोण, दश कोण, चतुर्दश कोण, अष्ट पत्र, षोडश पत्र, त्रि-विलय और त्रि-रेखा आदि आठ चक्र्वाली, त्रिकोण रूप नौं द्वार वाली, इंद्र आदि देवताओं की पूजा अथवा सोम, सूर्य इत्यादि देवताओं की अयोध्या नाम की पूरी है.....जिसमें हिरण्यमय कोश भाव सहस्त्र दल कमल है, जिसकी ज्योति से स्वर्ग लोक ज्योतिर्मय है ........

आज के इस श्लोक में ही हमारे लेख का सार छुपा हुआ है.....ये वही श्लोक है जिसे समझते हुए मैंने षटचक्रों से संबंधित साधना की थी.....श्री यन्त्र से संबंधित इस श्रंखला में हमारे लेख भी  बिना किसी फेर बदल के उसी क्रम पर आधारित होंगे जिस क्रम में मैंने ये साधनाएं की थी.....हम भी श्री यंत्र के आधार से शुरू होकर उसके शिखर पर स्थित महाबिंदु की तरफ बढ़ेंगे और उसी क्रम में हम बात करेंगे हमारे शरीरस्थ स्थापित श्री यंत्र की जिसके आधार में स्थित मूलाधार से क्रम अनुसार उपर जाते हुए हम सहस्त्र दल तक पहुंचेंगे......तो आज अपने लेख को शुरू करते हुए हम उपरोक्त श्लोक का विवेचन एक बार फिर से करते हुए समझते हैं की बाहरी श्री यंत्र और हमारे भीतर स्थापित श्री यंत्र में क्या समानता है|

 प्राचीन काल से ही पूजा पद्धति को सकार रूप देने के लिए किसी ना किसी आधार का होना आवश्यक माना गया है, अब ये आधार कोई मूर्ति, चित्र, चिन्ह या यंत्र हो सकता है.... पर हमारे मनीषियों में इन सब की तुलना में यंत्र को श्रेष्ठ माना है क्यूंकि प्रतिमा या चिन्ह इत्यादि के मुकाबले यंत्र को साधना से संबंधित देव या देवी का निवास स्थल माना गया है जहाँ वो अपने क्षेत्रपाल और भैरव सहित विराजमान रहते हैं....ये तो हुई बाहरी श्री यंत्र की बात....पर अब अगर हम हमारे शरीर में स्थापित ब्रह्मांडीय श्री यंत्र की बात करें तो उसका भूपुर ( यंत्र के सबसे बाहरी स्थान जो यंत्र को चारों तरफ से घेर के रखती हैं) हमारे गुदा भाग यानी की मूलाधार में स्थापित है जिसमें यदि यंत्र संबंधित शक्ति की बात करें तो माँ त्रिपुर सुन्दरी भगवती ललिता साक्षात निवास करती हैं और अगर मूलाधार को आधार मान कर इस यंत्र को समझा जाए तो यह क्षेत्र विघ्नहर्ता, सिद्धिविनायक भगवान गणपति का स्थल है....तो कुल मिला कर इसे यंत्र कहें या चक्र इस का उद्देश्य साधना के पथ पर अग्रसर साधक का मार्ग सुगम और सहज करना है क्योंकि एक तरफ इसमें आद्याशक्ति विराजमान है तो दूसरी तरफ भगवान गणपति तो सफलता तो दोनों हाथ फैलाए साधक के साथ साथ चलेगी ही.....
  
   हमने उपर एक कथन पर चर्चा की है की यंत्र चाहे अंतर्देशीय हो या बाहर्द्र्शीय उससे संबंधित शक्तियाँ उसमें सूक्ष्म रूप से वास करती हैं और साधना करते समय साधक को इसी स्थिति का लाभ प्राप्त हो सके इसके लिए मूलाधार का जागरण ना सही लेकिन उसमें स्पंदन तो होना ही चाहिए.....क्योंकि ऐसा होने पर साधक की पूरी शक्ति यंत्र की तरफ ध्यान केंद्रित करते हुए उसकी सूक्ष्म ऊर्जा को अपने भीतर स्थित यंत्र के साथ मिलाने में लग जाती है और वो शीघ्रातिशीघ्र ही अंतर्मुखी हो जाता है....और ऐसी स्थिति हमारे साथ बन सके इसके लिए हमें हमारे देह्स्थ श्री यंत्र को बाहरी यंत्र से मिलाने हेतु हमारे सन्मुख पड़े यंत्र का पूरा ज्ञान होना चाहिए.....है ना

   (एक अनुरोध इस श्रंखला के अंतर्गत बताई जाने वाली एक-एक बात और श्री यंत्र की बनावट अर्थात उसके किस भाग की कहाँ चर्चा की जा रही है ये सब आपको समझ आये इसके लिए साधना शुरू करने से पहले पूरे लेख को ध्यान से पढ़ें और यंत्र को सामने रखकर समझें की कहाँ पर कौन सा भाग स्थित है जिससे की आप सब साधना में होने वाली आपकी मेहनत का पूरा फल प्राप्त कर सकें .... इस श्रंखला में बाहरी श्री यंत्र का अर्थ है पारद श्री यंत्र और देह्स्थ श्री यंत्र का अर्थ है मूलाधार से सहस्त्रार तक सारे चक्र )

 ....श्री यंत्र के भूपुर को “अकुल त्रैलोक्य – मोहन चक्र “ कहा जाता है.... अर्थात इसमें तीनों लोको की अपराजित शक्ति समाई हुई है और ये साधक का संपर्क किसी भी लोक से जोड़ने में सक्षम है और अगर ये यंत्र पारद का है तो ये अपने नाम और इस पर की जाने वाली साधनाओं को साकार रूप देता ही देता है क्योंकि पारद एक धातु मात्र ना होकर एक जीता जागता सांस लेता ब्रह्मांडीय जीवन है और यही एक मात्र रास्ता भी है साधना के बल पर भू-लोक के जीवन को (अर्थात साधक को ) ब्रह्मांडीय जीवन से (अर्थात उसके इष्ट से) जोड़ने का क्योंकि जीवन को जीवन धारण करने में कोई समय नहीं लगता किन्तु इष्ट साक्षत्कार करने के लिए हमें हमारे भीतरी यंत्र को इस यंत्र से मिलाना आवश्यक है क्योंकि शिव यदि पारद श्री यंत्र की चैतन्यता है तो आद्याशक्ति माँ त्रिपुर सुन्दरी  देह्स्थ स्थिर श्री यंत्र की गति शक्ति है और इस शिव और शक्ति का मिलन होता है बाहरी ब्रह्मांड में जहाँ साधक अपनी साधना के बल पर पहुंचता है और करता है अपने इष्ट का साक्षात्कार..... 

    पारद श्री यंत्र और देह्स्थ श्री यंत्र की मूल समानता है की यह शक्ति का मूल निवास स्थान है, ये यंत्र ही ब्रह्मांड का मूलाधार चक्र है जिसमें ब्रह्मांड की कुंडलिनी शक्ति रहती है.... षड- दल या सोलह दलों वाले कमल के उपर और अध: सहस्त्र दल या आठ दलों वाले कमल के बीच का स्थान ब्रह्मांड कहलाता है जहाँ चेतनता पाई जाती है......या यूँ कहें यहाँ शिव अनादि काल से शव रूप में स्थापित हैं क्योंकि ये महाकाल का स्थान है और हमारे भीतर यही चेतनता कुंडलिनी शक्ति के रूप में हमारे मूलाधार में सोई हुई है....किन्तु साधना के दौरान साधक जब श्री यंत्र के शिखर पर स्थित उस परम बिंदु पर ध्यान केंद्रित करना शुरू करता है तो मंत्र के बल से उसके आंतरिक ब्रह्मांड में एक हलचल होने लगती है जिससे कुंडलिनी सहज भाव से अपनी निंद्रा अवस्था से जाग्रत होते हुए उपर सहस्त्रार की तरफ बढ़ने का प्रयत्न करने लगती है जिससे मूलाधार में स्पंदन शुरू हो जाता है......
....साधना के दौरान बाहरी श्री यंत्र को देह्स्थ श्री यंत्र से मिलाते समय साधक को हमेशा पारद श्री यंत्र के परम बिंदु पर ध्यान केंद्रित करना रहता है और उसी बिंदु पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपने भीतर अपनी अन्तश्चेतना चेतना में उतरना होता है अब चूँकि वो यंत्र राज है और पारद का होने की वजह से वो चैतन्य भी है तो वो आपको अपनी ऊर्जा देगा ही देगा.....
.........ये कोई सामान्य क्रिया नहीं है जो कुछ पलों में ही हो जायेगी.....इसके लिए आपको बिलकुल शांत माहौल चाहिए जहाँ आपकी चेतना कोई भंग ना कर सके....और जब आपको लगे की अब आप अपने भीतर कुछ सरसराहट महसूस कर रहे हैं तो अपने मूलाधार पर ध्यान केद्रित करते हुए उस परम ज्योति की कल्पना करें जो हम सब में चिर काल से प्रज्वलित है....यह सब क्रियाएँ आपको मानसिक भाव से करनी हैं....इसीलिए जहाँ ध्यान भंग हो जाए वहीँ से फिर से पूरी क्रिया को दोहराए जब तक की आपको अपने भीतर से या चारों तरफ से एक गंध आती हुई महसूस ना होने लगे.....क्योंकि जिस दिन ऐसा हुआ वो इस बात का प्रमाण होगा की अब आपके मूलाधार में कुंडलिनी सुप्त अवस्था में नहीं है......
......अब हम बात करते हैं भौतिक स्तर पर इस साधना से होने वाले फायदों की-

१) श्री यंत्र की इस पहले स्तर की साधना आपको आपके अंदर स्थित असीमित शक्तियों का बोध करवाएगी क्योंकि ये साधना हमारे भीतर स्थित आत्म ज्योति से संबंधित है.

२) मूलाधार चक्र में स्पंदन होने का अर्थ है अब आप भूमि के गुरुत्वाकर्षण के संपर्क में नहीं हो इसीलिए आप एक आसन पर लंबे समय तक बैठ सकते हो.... इसीलिए जहाँ तक संभव हो अपने सिद्ध किये हुए आसन का ही प्रयोग करें...

३) मूलाधार स्पंदन से नेत्र विकार भी दूर होते हैं और गुदा द्वार से संबंधित स्त्री या पुरुषों के कैसे भी असाध्य रोग हों वो दूर होने लगते हैं....

४) जैसा की हमने उपर जाना की कुंडलिनी में स्पंदन शुरू होते के सार आपको आपके अंदर से एक भीनी- भीनी सी गंध आती महसूस होगी तो मूलाधार चक्र आपके गंध को सूंघने और पहचानने की क्षमता को बढ़ाता है......

विधि- किसी भी बुधवार या सोमवार की प्रातः से इस विधान को प्रारंभ किया जा सकता है. वस्त्र व आसन सफ़ेद होंगे,दिशा पूर्व होगी.सामने बाजोट पर सदगुरुदेव जी का चित्र हो और उनका सामर्थ्यानुसार पूजन करें और उनसे सफलता प्राप्ति की प्रार्थना करें. साधना शुरू करने से पूर्व कम से कम ५ माला गुरुमंत्र की जरूर करें , अब चूँकि भगवान गणपति सिद्धि प्रदाता हैं और मूलाधार चक्र के अधिष्ठाता तो उनका पूजन अनिवार्य है....अब चूँकि ये मूलाधार चक्र से संबंधित साधना है तो भूमि तत्व की वजह से साधना के दौरान शरीर का ताप बढ़ सकता है पर ये कोई चिंता का विषय नहीं है.... इसके पश्चात श्रीयंत्र का पंचोपचार पूजन करें और भगवती ललिताम्बा से सफलता की प्रार्थना करें,दीपक घृत या तिल तेल का होगा और नैवेद्य खीर का अर्पित करे अब पूर्ण स्थिर भाव से गुरु माला या शक्ति माला से ५ माला निम्न मंत्र की करें.

मंत्र-
ॐ गं श्रीं गं गणपति चक्रे जाग्रतं गं श्रीं गं ॐ

OM GANG SHREEM GANG GANPATI CHAKRE JAAGRATAM GANG SHREEM GANG OM

जप के बाद जप समर्पण कर खीर का भोग वहीँ ग्रहण कर लें और प्रणाम कर उठ जाएँ.इस क्रम को ५ दिनों तक करना है.

     एक मूल तथ्य जो हम लोगों को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए वो यह है की कोई भी साधना या प्रयोग रातों रात चमत्कार नहीं करता....ऐसा कर पाना केवल उन्हीं लोगों के लिए संभव होता है जो इस क्षेत्र में परांगत हों जैसे की सदगुरुदेव या हमारे वरिष्ठ सन्यासी भाई बहन पर हम सब, हम सब तो अभी सीख रहे हैं तो मन लगा पर इस श्रंखला में दिए जाने वाले षट्चक्रों संबंधित क्रमों को कीजिये क्योंकि मंत्र अपना कार्य ना करे ऐसा कभी नहीं होता....हाँ वो कार्य किस गति से करता है वो हमारे प्रारब्धों पर भी निर्भर करता है......
साधना हेतु आप सब को शुभकामनाएं....सदगुरुदेव आप सब को सफलता दें ........

****ROZY MAYANK NIKHIL****

****NPRU****

No comments: