There was an error in this gadget

Friday, May 10, 2013

MAY SEMINAAR - GURU SAYUJYA TANTRA KARM SIDDHI MANDAL




Dear Friends,
You all are well aware of subject matter of the seminar which will be held on 25th May 2013 in Jabalpur (M.P). Most of you have also done necessary preparation for participating in it. It is the time to look at things which will be part of this seminar.
Friends, in Apsara Yakshini Sadhna Rahasya Sadhna Sootra Seminar, we introduced you to yantra called Poorn Yakshini Apsara Sadhna Shashth Mandal. This Mandal yantra was combination of 6 amazing yantras.
Similarly, in Itar Yoni Sadhna and Karn Pishaachini Sadhna Rahasya Sootra Seminar, we provided the Poorn Lok Shakti Mandal Yantra which contained 9 wonderful yantras.
Friends, speciality about these Mandal yantras are
      They create the circuit of complete success for the any sadhna related to their subject matter so that complete success can be attained in these sadhnas without any danger.
     Also,if anybody wants to do sadhnas in addition to these sadhnas and whose yantras are contained within these Mandal yantra , he can do those sadhnas in front of this Mandal Yantra.
      In addition to it, there is no need to immerse this Mandal Yantra.
      It contains amazing and some supreme, rare and hidden yantras.
      Various necessary procedures like Energising, Siddhi Daatri Kriya, Abhisinchitikaran etc. are done by us completely. Whenever you need yantra in sadhna and that yantra is contained within Mandal Yantra, then you can do that sadhna in front of Mandal yantra.
      This Mandal yantra is useful throughout life for only those who have established connectivity with this yantra through a particular procedure.
So what is Mandal Yantra which we will be getting in this seminar…???
Name of Mahayantra which you all will be getting in this seminar is
“GURU SAAYUJYA TANTRA KARM SIDDHI MANDAL”
What is so special about this mandal yantra?
Friends, Mandal yantra of this time is combination of 9 amazing Mahayantras. What are these 9 mahayantras and their significance? Let us discuss…..
SWARN SIDDHI YANTRA: People would have just listened the names of this Maha Yantra. For all those who have interest in metallic alchemy, attaining this yantra is dream for them since significance of this yantra in metallic alchemy is paramount. Sadgurudev Ji provided this yantra in Tantra Sadhna shivir. Speciality of this yantra and its success-providing capability in modern era will be matter of attraction in this seminar.
MAHAMRITYUNJAY YANTRA: Whatever is said about this yantra, it will be an under-statement only. Everyone knows its utility for saving us from untimely death or from getting rid of problems in life. But utility of this yantra is shatkarmas is amazing in itself. And why not, it saves sadhak from ill-effects of any problem or nay procedure.
GURU SAAYUJYA MAHAYANTRA:If Shatkarma sadhna is connected with Sadgurudev element, it is amazing for life since on one hand Sadgurudev’s blessings are with sadhak and on the other; there can’t be possibility of any harm. Because whenever we talk about shatkarmas, it is common for sadhaks to be worried about any harm or opposite effects of any procedure. But when sadhak is doing sadhnas given by Sadgurudev and that too in presence of Guru Saayujya Mahayantra, sadhak does not have to face any type of harm.
SHATKARMA SIDDHI DAATRI MAHAYANTRA: For attaining complete success in shatkarmas and getting accomplishments, getting this yantra full of blessings of Siddhi Daatri goddess is wonderful achievement. When this yantra is not available today, how will people know its significance? But this yantra itself is capable providing accomplishments in all the six procedures of Shatkarmas…isn’t it amazing?
KAAL DAND PRATEEK: Without Tantra Prateek, how can success be possible in sadhna? But we have never listened about them. How they have emerged all of sudden? Or are they fictitious? Friends, Sadgurudev Ji in 1990s through an article in Mantra Tantra Yantra Vigyan magazine not only made available these prateeks but also introduced us to their significance. But where are Apsara and Yakshini Prateek available today? Forget about availability, people have not even heard about them. We have only put forward these prateeks in front of you all so that you can understand when Sadgurudev ji told about them, made them available and told about their significance. But nobody thought to preserve them. As a result, success in sadhna becomes rare. But with the blessings of ascetic disciples of Sadgurudev Ji, now they are being made available.
VASHIKARAN YANTRA:Not only for any one type of vashikaran but Sadgurudev have told about so many variations of Vashikaran that people find it hard to believe.  Group Vashikaran, common mass vashikaran, Rajya Vashikaran, Vashikaran of higher official, Vashikaran of entire universe are some of them. It is also amazing that this yantra is not any ordinary vashikaran yantra but it can provide success in all these Vashikaran sadhna and all-time useful.

TVARITA SIDDHI MAHAYANTRA: All of us do sadhnas but how many of us are aware that there is one goddess in field of Tantra too whose grace can provide sadhak quick success in these sadhnas. Such goddess is Tvarita whose sadhna and that too in presence of yantra can provide quick success in sadhna. That’s why, this amazing yantra of this goddess has got a place in this mandal so that we not only get success in Shatkarma sadhna but also paves the way for success in any sadhna.
POORN SHATRU PRAAST YANTRA: This Mahayantra contains various secrets in itself because whenever we talk about Maaran procedure, Ucchatan procedure, Vidveshan procedure, having this Mahayantra should be considered necessary. These types of procedures require a lot of Praan energy. These are not ordinary procedures. Though people do them on their enemies but with passage of time, when they have to face the ill-effects, they don’t have any answers to them. This yantra gets rid of such obstacles and ensures success.
ANISHT NIVAARAN MAHAYANTRA:  It is possibility in life that someone knowingly or unknowingly has done procedure upon us or we have passed through accursed place and due to them, we have to face unknown obstacles. It is also possible that someone has done dreadful procedure upon us or there is excessive wrath of clan god and goddess on us due to mistake committed by us or god has got angry over us or we have done unpardonable mistake in any process. For all these, we would have to face ill-consequences. Shanti procedures have been told to pacify them and this Mahayantra is most appropriate for these pacifying procedures.
Here one point need to be understood that name of some yantra like AnishtNivaaran and Vashikaran may seem ordinary . But they are very special in themselves. Special procedure done on them are so abstruse that normal sadhak can not understand the high-level procedure done on them.
Normally, any yantra after doing sadhna nearly becomes impotent due to our faults. Just think that isn’t it amazing to have mandal yantra whose yantras are full of energy throughout the life and can be used for every sadhna.
And whatever will be possible in seminar duration, we will introduce you to other specialities of these yantra too.
This seminar is unparalleled opportunity for all those brothers and sisters who want to learn about utility of Tantra for human society, who wants to progress ahead in life with full intensity rather than crawling ahead….

Now it is all up to you to take decision…..

=======================================
स्नेही मित्रो ,
आप  सभी  25  मई 2013  को (Jabalpur mp) होने  वाले  सेमीनार की विषय वस्तु से भली भांती  परिचित हैं ही  और आप में से अनेको  ने इसमें भाग लेने की  आवश्यक  तैयारी भी कर ली हैं .साथ ही साथ अब समय  हैं की इस सेमीनार में क्या कुछ  होने  जा रहा हैं उन तथ्य  पर भी  ध्यान रहे .
मित्रो, अप्सरा यक्षिणी  साधना रहस्य साधना  सूत्र  वाले  सेमीनार में  हमें  आपको   पूर्ण यक्षिणी अप्सरा साधना षष्ठ मंडल नाम के  यन्त्र का परिचय  दिया  और इस   मंडल यंत्र में  छः  अद्भुत यन्त्र का  संयोग  रहा  हैं .
ठीक  इसी तरह  हमने   जब  इतर  योनी साधना   और कर्ण पिशाचिनी  साधना  रहस्य सूत्र  वाले   सेमीनार में  जो पूर्ण लोक शक्ति मंडल यन्त्र  आपको प्रदान  किया  उसमे      एक से  एक  दुर्लभ यन्त्र  का समावेश   रहा हैं .
  मित्रो  इन मंडल यंत्रो की  यह  विशेषता  रही हैं की 
·      किसी  भी साधना  जो की इनके  विषय से सबंधित  हो  उसके लिए   एक पूरा सफलता का  परिपथ का  निर्माण करती हैं जिससे  उन साधनाओ में  पूरी सफलता पायी जा  सकें, बिना किसी भी  अनिष्ट की आंशंका  के.
·      वही,  जो भी  कोई   इन साधना के  अतिरिक्त अन्य  साधनाओ में   जिनके  यन्त्र  इस मंडल यंत्र में अंकित  हैं उन साधनाओ में   भी इस  मंडल यन्त्र  को सामने रख कर  प्रयोग  किया जा सकता  हैं.
·      साथ ही साथ   इन मंडल यन्त्र का  विसर्जन  कभी भी नहीं करना होता हैं .
·      अद्भुत  और कुछ परम दुर्लभ गोपनीय  यन्त्र इसमें अंकित होते हैं .
·      इन यंत्रो की प्राण प्रतिष्ठा . सिद्धिदात्री क्रिया, अभिसिंचितिकरण  आदि सभी कुछ हमारे  द्वारा  पहले से  ही पूर्णता के साथ  कर दिया  जाता  हैं आपको जहाँ किसी भी साधना में  यन्त्र  की बात  आये  और  उस साधना  से  सबंधित यन्त्र  अगर इन मंडल यन्त्र में हैं  तो   उसकी जगह आप इस मंडल यन्त्र को रखकर  सकते हैं .
·      यह मंडल यंत्र  सिर्फ  जिस व्यक्ति से  संस्पर्षित  होते हैं एक प्रक्रिया  द्वारा   सिर्फ उसी के लिए  जीवन भर  उपयोगी  होते हैं .
तो इस  बार   इस  सेमीनार में   कौन सा  मंडल यन्त्र  हमें  मिलने  जा रहा हैं ..???
इस  सेमीनार में   मिलने  वाले  महायंत्र  का  नाम हैं .
गुरु सायुज्य तंत्र कर्म सिद्धि मण्डल

इस  मंडल यन्त्र की विशेषता  क्या हैं .
इस मंडल  यन्त्र में ऐसा क्या हैं  जो इसको  विशिष्टता  देता हैं .
मित्रो  इस  बार    के मंडल यन्त्र  में   9  अद्भुत  महायंत्रो  का  संयोग हैं  और यह  9 महा यन्त्र  कौन कौन से  हैं और इनका  क्या क्या  अर्थ हैं  वह आपके  सामने ...
स्वर्ण  सिद्धि यन्त्र : इस  महा यन्त्र का  नाम ही लोगों बस सुना हैं और स्वर्ण  निर्माण के क्षेत्र में  लगे व्यक्ति के लिए  तो यह यन्त्र पाना  एक देव दुर्लभ  स्वप्न ही हैं की इस  यन्त्र  को किसी भी तरह से  प्राप्त कर लिया जाए  क्योंकि  लोहवाद में  इस  यन्त्र का महत्त्व   तो सर्वाधिक हैं और  सदगुरुदेव   जी ने  तंत्र  साधना  शिविर में  इस यन्त्र को प्रदान किया  था, तो इस  यन्त्र  की  क्या क्या  विशेषता हैं   और  आज के  युग में  कितना  सफलता प्रदायक  यंत्र  हैं इसकी  उपयोगिता  तो  इस  सेमीनार में  आकर्षण की विषय वस्तु होगी.
महा मृत्युंजय यन्त्र: इस  यन्त्र के  बारे में  जो भी  कहा जाए   वह  बहुत कम   हैं,अकाल   मृत्यु  के  निराकरण के  लिए  या  जीवन  पर आसन्न  संकट को दूर करने लिए   उपयोगित  इस  यन्त्र   को  तो  सभी जानते  हैं ही पर  इस  यन्त्र  का  षट्कर्म में  भी  उपयोग अपने  आप में  आश्चर्य जनक हैं  और क्यों न हो, किसी भी प्रकार  की विपत्ति, व्याघात  या  किसी भी क्रिया  का  दुष्परिणाम  अगर किसी भी कारण से साधक  पर होने  जा  रहा  हो तो यह  यन्त्र  उस  पर  दुस्प्रभाव   को निर्मूल  कर  देता हैं .
गुरु सायुज्ज्य महा यन्त्र :  षट्कर्म साधना यदि  सदगुरुदेव  तत्व से  संयुमित हो तो यह तो जीवन  का  एक अद्भुत आश्चर्य हैं क्योंकि  एक और जहाँ  सदगुरुदेव  जी का  वरदायक हस्त  साधक पर  रहता हैं, वहीँ दूसरी  और किसी भी प्रकार के  अनिष्ट की  तो कोई  भी सम्भावना  हो ही नहीं सकती हैं.क्योंकि  जब  भी  षट्कर्म की बात  आती हैं तो अनिष्ट के प्रति साधको का  चिन्तायुक्त  होना  या  किसी भी क्रिया  का  उलट परिणाम न हो यह भी  एक आवश्यक  सी  बात हैं.पर  जब सदगुरुदेव  से  जुडी  हुयी  उन्ही के प्रदत्त  साधनाए  और  वह भी गुरु सायुज्ज्य महायंत्र  की उपस्थिति में  तब साधक  को किसी भी  प्रकार का   अनिष्ट  सहन  नहीं करना  पड़ता हैं.बल्कि क्रिया की सफलता अगर उचित रूप से  सही दिशा में  की  जा  रही हैं तो सदगुरुदेव के  आशीर्वाद का  एक माध्यम भी.
षट्कर्म सिद्धि दात्री महायंत्र :  षट्कर्म में  पूर्ण सफलता  और   सिद्धि  प्राप्त हो इसके लिए  सिद्धि दात्री  देवी के वरदायक प्रभाव से  युक्त  इस  महा यन्त्र  का  उपलब्ध होना  ही अपने  आप में  कोई  आश्चर्य से   कम नहीं हैं क्योंकि  अब यह यन्त्र  कहीं प्राप्त नहीं होता हैं.और  इसका महत्त्व  तो  फिर लोग क्या जानेगे ,पर  यह एक यन्त्र   ही अपने  आप में  सिद्धि प्रदान करने  में  वह भी षट्कर्म की  समस्त  छः  क्रियाओं में ..हैं न आश्चर्य की बात .
काल दंड  प्रतीक :  बिना  तंत्र प्रतीक के  साधना में  सफलता भला कैसे   संभव हैं   पर यह तंत्र  प्रतीक  तो हमने  सुने  ही नहीं  तब यह कहाँ से  अचानक सामने  आ गए ?,या  ये भी कोई भी मन गढ़ंत  यंत्र हैं??? मित्रो,  सदगुरुदेव जी ने ९० के  दशक में  मंत्र तंत्र यंत्र  विज्ञानं पत्रिका  में लेख के माध्यम से  इन प्रतीकों  को न केबल उपलब्ध कराया  था  बल्कि इनके महत्त्व  से  हम सबका परिचय भी कराया  था .पर  आज   अपसरा प्रतीक , यक्षिणी  प्रतीक  कहाँ उपलब्ध हैं ?, उपलब्ध  तो  एक तरफ रखिये,  लोगो  ने  इनके बारे में भी नहीं  सुना हैं .तब हमने ही इन  प्रतीकों  को आपके  सामने रखा   हैं ताकि  आप सभी समझ सकें  की  सदगुरुदेव  जी ने किस  काल में इन  के  बारे में बात की थी,इन्हें  उपलब्ध कराया  था  और इनकी  अनिवार्यता  बताई  थी  पर.आगे किसी  ने  भी इनको संरक्षित करने का सोचा ही नहीं.इसी कारण सफलता भी साधनाओ में कम होती गयी पर  सदगुरुदेव  जी के  सन्याशी   शिष्य शिष्याओं  के आशीर्वाद से यह  अब यह  उपलब्ध हो रहे हैं .
वशीकरण यन्त्र : केबल मात्र किसी एक प्रकार के वशीकरण   के लिए  नहीं बल्कि सदगुरुदेव जी ने  तो  वशीकरण के  इतने  प्रभेद बताये  की  हम दांतों तले  अंगुली दवा लेते  हैं  जैसे  की समूह वशीकरण, जन वशीकरण,  राज्य  वशीकरण, उच्च आधिकारी वशीकरण,सम्पूर्ण चराचर  वशीकरण  और यह भी आश्चर्य की बात  हैं की यह यन्त्र कोई भी सामान्य सा वशीकरण यन्त्र नहीं बल्कि  इन सभी वशीकरण क्रियाओ में  सफलता प्रदान करने वाला  और  हर समय  उपयोगी  यन्त्र  हैं .
त्वरिता सिद्धि  महायन्त्र :साधनाए  तो सभी  करते हैं पर कितनो  को यह  जानकारी  हैं की साधना क्षेत्र में  एक देवी  ऐसी भी हैं जिनकी कृपा  साधक को  उन साधनों में जल्दी सफलता  दिला  देती हैं, एक ऐसी  ही देवी हैं त्वरिता, जिनकी साधना उपासना  और जिनका  यन्त्र  भी  साधक एक सामने  हो तो उस  साधना में  सफलता  बहुत  जल्दी मिल जाती हैं, इसलिए  इस  देवी के  इस  दुलर्भ यन्त्र को इस मंडल में  एक स्थान मिला  हैं  जो हमें  हमारी  की जाने  वाली  सिर्फ   षट्कर्म की साधना  ही नहीं  बल्कि   किसी भी साधना में  त्वरित गति से  सफलता  के  मार्ग पर अग्रसर करें.
पूर्ण शत्रु परास्त यन्त्र : यह महा यन्त्र  अपने आप में  विविध रहस्य  छुपाये  हुए हैं क्योंकि  जब बात आये मारण  प्रयोगी  की, जब बात आये उच्चाटन प्रयोगों  की, जब बात आये   विद्वेषण प्रयोगों की   तब  इस महायंत्र  का होना  एक अनिवार्यता  ही समझी जाए क्योंकि इस  तरह के प्रयोगों  में प्राण ऊर्जा  का  बहुत  आधिक उपयोग होता हैं और यह कोई सामान्य से प्रयोग नहीं हैं लोग  इन्हें  अपने शत्रुओ पर  कर  तो देते हैं पर  कालान्तर  में  दुस्परिणाम  जब सहन करना  पड़ता हैं तो उसके  पास   कोई उत्तर  ही नहीं होता हैं इन  समस्त   वाधाओ को दूर करके   उसके लिए  सफलता  निश्चित कर देता हैं .
अनिष्ट निवारण महायंत्र :जीवन में  यह भी संभव हैं किसी  ने हमारे  ऊपर जाने अनजाने में कोई प्रयोग किया हो या  हम किसी  अभिशप्त जगह से   निकले  हो, इस कारण हमें  कुछ  अनजानी वाधाओ का सामना करना पड़  रहा हैं, या किसी ने कोई  बहुत भयंकर प्रयोग हम  पर करवा  दिया हो या हमारे  कुल देवी देवता  का हमारी कोई गलती के  कारण  हम पर कोई प्रकोप  हो या  को  देव हमसे रुष्ट हो गए हो या किसी विधान में हमने कोई अक्षम्य  त्रुटी की हो  तो इनके  दुस्परिणाम  झेलने  पड़ेंगे ही इनको शांत करने केलिए  शांती  विधान बताया गया हैं और यह महायंत्र  इसी शांती  विधान  के लिए  सर्वथा  उपयुक्त हैं .
यहाँ  यह समझ  ले  भले  ही कुछ यंत्रो के  नाम जैसे  अनिष्ट  निवारण  और वशीकरण एक सामान्य से  लगे   पर  यह अपने  आप में  विशिष्टता  लिए  हुए हैं इनका  गुंफन  और  विशिष्ट क्रम  इतना  गूढ़ हैं की   साधारण साधक इनको समझ  ही नहीं सकता हैंकि  कितना  उच्च कोटि की क्रिया  से  युक्त  से  यह हैं .
क्योंकि  सामान्यतः तह एक यन्त्र   एक साधना को करने के  बाद   हमारे  दोषों के कारण लगभग वह निस्तेज सा  हो जाता हैं .तब यह  मंडल यन्त्र के  यन्त्र  जीवन भर उसी  उर्जा  से  युक्त होना,और उसके लिए  हर साधना में  उपयोगित होना  ही   आप  ही बताये  की यह  कोई आश्चर्य से  कम  नहीं हैं .
और हम सेमीनार में इन यंत्रो का जितना समय अवधि में  संभव होगा  और भी विशेषताओ से  आपका परिचय कराएँगे ही .
यह सेमीनार  अपने आप में   जिन्हें तंत्र को समझना  हैं जिन्हें  तंत्र  की  मानव  समाज में  उपयोगिता  समझना  हैं , जिन्हें  अपने जीवन  को घसीटघसीट  कर आगे  नहीं बढ़ाना हैं बल्कि तीव्रता से  आगे  बढ़ना हैं उन सभी भाई बहिनों  के लिए  एक अद्वितीय  अवसर...

अब निर्णय आपको लेना हैं ..

****NPRU****

1 comment:

nitin kapoor nikhil said...

BHaiya meine seminaar mein aane ke liye request bheji thi par shyaad apki anumati nhi hai.to bataye mujhe yeh yantra chahiye ho to kya aap de sakte ho? plz reply soon