There was an error in this gadget

Wednesday, May 15, 2013

SHATKARM TANTRA SEMINAAR




TahaivaiteMahayogaahPrataujyahKshamkarmane Surya PrapaatyeddhumauNendmithyaBhavishyati ||

Above quote has been said by Shri Aadinath Lord Shiva who preached about Sarv Tantra. This teaching of Shri Aadi Shiva was for greatest connoisseur of Tantra Raavan in which he told about mantras regarding Shatkarmas. He told that through these mantras i.e. Shatkarma mantric procedures, even the most difficult tasks can be accomplished very easily. These procedures and mantra should not be considered ordinary since they have the capability to bring sun to earth. It is my sentence which can never be false i.e. it is infallible truth.
Friends
We are very fortunate to belong to such an era in which generation of today are eager to bring about change nearby them. They strive hard and want to take hard steps to bring about change. May be they are striving for personal change but at least they are isolating themselves from narrow-mindedness and are always getting prepared to adopt a new style of living. Most of the persons today have a hope to imbibe both materialistic and spiritual aspects completely into their lives. More than anything else, we are extremely fortunate that Shri Sadgurudev enriched and replenished our lives through Tantra and provided us the vision to beautify our lives through tantra. Besides this, he not only provided knowledge about greatest Tantra Vidya from open heart but also made sadhak do its practical and brought them to doorsteps of success. In his efforts, each and every moment he tolerated so much of problems, somuch blows. But he always kept on smiling hiding all his agonies inside because his aim was to make his disciples understand this great Vidya so that they can do it practically and connect it to society. He spent each and every moment of life towards this end so that Indian ancient sciences can be connected to common masses, they do not become obsolete with time. At last he left his materialistic body with this very dream in his eyes. But can Guru element ever die?. No.  His all disciples and sadhaks have been witness to his continuous presence because even today nothing more matters to him than welfare of disciples.
Everyone may have their own personal opinion regarding what is their responsibility as a disciple or not? But one thing is certain that our path is path of knowledge and it is duty of every disciple that he becomes full of Guru Element as much as possible and gets closer to Guru and this process keeps on happening continuously. But does it happen? We can call ourselves as disciple proudly but only when we progress ahead on this path of knowledge. The knowledge which Sadgurudev has attained after tolerating a lot of unbearable pain and agony, he distributed the same knowledge to all his disciples with open heart so that tantra can be connected with society, sadhaks can be formed and terrible form of Tantra system is eradicated. But in return, he got fraud, deceit and agony in the name of disciple hood. But all throughout his life, he put on so many efforts in this direction with the hope that even if he finds some disciples, he will consider himself as successful.
Most of us are aware of the fact that these Vidyas are so much secretive and to understand them, sadhak has to put in lot of efforts, render services to sages and saints for years. Even then it is up to them whether they want to tell or not. But Sadgurudev always kept all such things aside and tried to impart knowledge to his disciples by taking initiative himself. We probably were not able to understand that time that how much we and our life and our being knowledgeable was so important for him. His happiness lied in progress and happiness of disciples only. But how much knowledge we have imbibed it or how much not, we ourselves can analyse. Dear friends, I remember quote of one accomplished sadhak that even after spending all your life, you get to know something about Tantra Vidya, it is not a loss for you since this knowledge will make you perceive completeness in both the worlds.
If we try to evaluate the problems and pain faced by Sadgurudev and other accomplished sadhak for attaining knowledge and connecting that knowledge with society, then only we will be able to understand the value of knowledge. Words of Sadgurudev were something like this when he was telling about Tantra few years back that we try to measure each and every moment of life, sometimes in terms of money, sometimes in terms of time that if I will not got for 2 days, iwill suffer this much and what will wife say, should I do sadhna? Leave it……..if Tantra sadhna would have been done in this manner, then all streets would have been full of tantriks. Tantra is synonymous to courage, valour, strong determination that if I have decided, I will do it at any cost. What would happen if we have taken some step for ourself in life. What would happen if we spent some time of our life for ourselves. But whatever I will do now , I will do it with courage, with full competence, with capability. Otherwise opportunity will go unutilized and we can never say when such coincidence in nature will be created for us.
Friends, words of Sadgurudev have infused courage inside us even till today and will go on doing so in future too. In order to make knowledge given by him reach our brothers and sisters and to materialize his dream, we started few years back by taking small strides and today with the cooperation of you all, we are moving forward to fulfil the dream. In this context, we organized workshop and seminar so that this knowledge does not become obsolete and people can become aware of their practical aspects and those who want to move ahead in Tantra field, they get assistance of knowledge given by Sadgurudev. After all, all of us have equal right over his knowledge. In this series, seminar of this time is based on “Shatkarmas and Secrets of Mercurial Science”.

We have merely considered Shatkarmas as Tone Totke but it is not true. Sadgruudev used to say that the one who has knowledge of Maaran, Vashikaran or shatkarmas is invincible on this earth. No one can beat him. It is the art of imbibing 3 male and 3 female forms of Triguna.
SHANTI KARMA :Through it, person can get rid of disease, epidemic and problems of life. He can attain complete peace in both materialistic and spiritual manner and can get rid of all faults of life.
VASHIKARAN VIDYA :Everyone is aware of it. Through it, even impossible tasks can be accomplished.  It is establishing supremacy over other’s thoughts and compelling him/her to accept all what we want. It may be one person or a group of persons. Sadgurudev has told 12 varieties of this Vidya which are unparalleled.
STAMBHAN- Very less information is available regarding this Vidya. Stambhan means to paralyse. It may be any person, any enemy, anybody’s mind, anybody’s progress, anybody’s demise. All types of Stambhan come under this Vidya.
VIDVESHAN – It is destroying the attraction between two persons or elements or transforming it into repulsion. Through this Vidya, connectivity between two persons can be broken. Capability to uproot attraction element completely is Vidveshan Vidya.
UCCHAATAN - Separating a person from other place or other person.  By doing it on enemies, one can make him quit a city, state or country. One can do ucchatan of money and deprive a person from it.
MAARAN- Vidya to deprive a person of his breath and taking him to verge of death is called Maaran Vidya.
These were shatkarmas. Now friends, any person can understand that why after knowing shatkarmas, person can become invincible. It contains the solution to all problems of life related to all the fields.

Along with it, there is Mercurial science through which lower degraded metals can be transmuted into valuable metals like silver and gold. Through samskars of Parad, rare accomplishments and health life can be attained. This seminar will also focus on abstruse secrets related to this Vidya too.
Talking about Shatkarmas, Lord Shiva says that even sun can be brought to earth through them. So definitely, this Vidya is completely and all capable. Definitely, there are different types of abstruse secrets related to these Karmas whether they are preliminary procedures or Mudra etc. But there are so many secrets which do not come in middle of common masses. Tantra is Vidya which is attained though Guru. It cannot be attained through books. Anyone can boost after reading the books but success is provided by the practical knowledge which has been learnt through Guru. Our Sadgurudev following the same tradition put forward many facts related to shatkarmas in 1980-1985 and in Tantra Vidya shivir and told them personally to sadhaks too. He also demonstrated these procedures practically in front of people too.
It has always been effort from our side that all these facts and special procedures can reach our brothers and sisters. Many misconceptions have been spread regarding this abstruse subject and this subject has been neglected. But truth is that the one who has accomplished the shatkarmas become invincible. He can take his own life and even life of others to supreme heights and he can teach lessons to wrong person by destroying them. For this purpose, considering the necessity of them in modern era, we have organized a seminar on subject “Shatkarma and Secrets of Mercurial Science”. Your enthusiasm pleases us and motivates us to work more intensely. As you all know that seminar will be held on 25th of this month, so all the brothers and sisters who wants to participate in this seminar can contact onnikhilalchemy2@yahoo.com.
============================================================
तथैवैते महायोगाः प्रयोज्यःक्षमकर्मणे सूर्य प्रपातयेद्भुमौ नेदंमिथ्या भविष्यति ||
उपरोक्त कथन श्री आदिनाथ भगवान शिव का है जिन्होंने सर्व तंत्र का उपदेश दिया है. श्री आदि शिव का यह उपदेश महानतम तंत्र ज्ञाता लंकापति रावण के लिए था जिसमे उन्होंने षटकर्म विषय के मंत्रो के सन्दर्भ में कहा है की इन मंत्रो के माध्यम से अर्थात षट्कर्म की मन्त्र क्रियाओ के माध्यम से दुस्कर कार्य भी शीघ्र एवं सहजता से हो जाते है. इन क्रिया मंत्रो को सामान्य समझने की भूल नहीं करनी चाहिए क्यों की यह सूर्य को पृथ्वी के ऊपर भी गिराने का सामर्थ्य रखते है. यह मेरा (शिव) वाक्य है जो की कभी मिथ्या हो ही नहीं सकता.
मित्रों
हम जिस युग में जिस समय में रह रहे है यह हमारा सौभाग्य है की हम एक एसी पीढ़ी में रह रहे है जिन्होंने अपने आस पास एक परिवर्तन की आस एक ललक है, परिश्रम की भावना है तथा बदलाव लाने के लिए कडा कदम उठाने की चाह है और यह परिवर्तन भले ही व्यक्तिगत हो लेकिन एक संकीर्णता से हम अपने आपको अलग कर रहे है, हम नए जीवन को अपनाने के लिए सदैव तैयार हो रहे है भौतिक एवं आध्यात्मिक दोनों ही पक्षों को पूर्णता से आत्मसार करने की आशा आज महत्तम व्यक्तियो के अंदर है. हमारा इससे भी बड़ा यह सौभाग्य रहा है की श्री सदगुरुदेव ने हमारे जीवन को तंत्र के माध्यम से अभिसिंचन किया, हमें जीवन को तंत्र के माध्यम से निखार कर एक नये ही जीवन सौंदर्य को देखने की द्रष्टि दी. इसके अलावा हमें महानतम तंत्र विद्या का मुक्त ह्रदय से ज्ञान दिया, न सिर्फ समझाया परन्तु उसे क्रियात्मक रूप से साधको को करवाके उनको सफलता तक हाथ पकड़ के खड़ा किया. इस कोशिश में उन्होंने न जाने हर क्षण कितना कष्ट एवं वेदना का सामना किया होगा, कितने ही न जाने घात प्रतिघात को सहन किया, सब पीड़ा को अंदर भरे हुवे वे सदैव मुस्कुराते रहे क्यों की उनका लक्ष्य था की उनके शिष्य इस महान विद्या को जाने सामने क्रियात्मक रूप से करे तथा समाज के साथ जोड़े, उन्होंने अपना हर क्षण इस एक कार्य में ही लगाया जिससे की भारतीय प्राच्य विद्याओ को वो जनसामान्य के साथ जोड़ सके, इन महान विद्याओ का ग्रास न हो जाए, काल के हाथो ये लुप्तता तक न पहोच जाए, वे अपने अंतिम क्षण तक यही स्वप्न अपनी आँखों में ले कर चले अंततः उन्होंने अपनी भौतिक देह का त्याग किया लेकिन क्या गुरु तत्व कभी मिट सकता है? नहीं. उनके सभी शिष्य एवं साधकगण उनकी सतत उपस्थिति के साक्षी रहे है क्यों की आज भी शिष्य कल्याण से ज्यादा उनके लिए कुछ महत्त्व नहीं रखता.
एक शिष्य के नाते हमारा कर्तव्य क्या है क्या नहीं यह व्यक्तिगत बात हो जाती है और सब की अपनी अपनी अलग धारणा है लेकिन एक बात निश्चित है, हमारा रास्ता ज्ञानपथ है और हर शिष्य का कर्तव्य होता है की वह ज्यादा से ज्यादा गुरु तत्व ज्ञान से परिपूर्ण हो कर गुरु के निकट हो जाए, और यह प्रक्रिया सतत रूप से चलती ही रहे. लेकिन क्या ऐसा होता है? हम अपने आपको गर्व से शिष्य कह ज़रूर सकते है लेकिन तब जब हम ज्ञान पथ पर बढे, सदगुरुदेव ने जिस ज्ञान को असह्य कष्टों एवं वेदना को सह कर प्राप्त किया था उन्होंने उसी ज्ञान को मुक्त ह्रदय से अपने सभी शिष्यों के मध्य बांटा ताकि तंत्र को समाज के साथ जोड़ा जाए, साधको का निर्माण हो सके तथा तंत्र प्रणाली का जो भयावह स्वरुप है वह दूर हो सके लेकिन बदले में उनको शिष्यता के नाम पर धोका, छल, पीड़ा की ही प्राप्ति हुई लेकिन वे आजीवन सिर्फ इसी कार्य में लगे रहे सिर्फ इस एक आशा के साथ की कुछ शिष्य भी अगर मुझे मिल जाए तो भी मैं अपना कार्य सफल मानूंगा.
हम सबमें से ज्यादातर लोग परिचित है की इस विद्या की गोपनीयता कितनी अधिक है तथा इस विषय को समजने के लिए साधको को कितने ही न पापड़ बेलने पड़ते है, साधू संन्यासियो की सालो तक सेवा चाकरी करने पर कभी कोई सिद्ध प्रसन्न मुद्रा में वे कुछ बता दे तो बता दे वर्ना वो भी नहीं. लेकिन सदगुरुदेव ने इन सारी चीजों को एक तरफ कर अपने शिष्यों का हाथ पकड़ पकड़ का समजाने की चेष्ठा की, हम सायद तब नहीं समज पाए की उनकी द्रष्टि में हम और हमारा जीवन तथा हमारा ज्ञानवान होना उनके लिए कितना महत्वपूर्ण है, शायद उनकी खुशी मात्र शिष्यों की प्रगति, शिष्यों की खुशी में ही थी. परन्तु उस ज्ञान को आत्मसार हमने कितना किया है और कितना नहीं यह हम सभी स्वयं का आकलन कर सकते है. प्रिय स्नेहीजनो एक सिद्ध का कथन मुझे याद है की पूरा जीवन दे कर भी अगर तंत्र विद्या  से सबंधित कुछ ज्ञान की प्राप्ति होती है तो सौदा घाटे का नहीं है क्यों की वह ज्ञान इस लोक और परलोक दोनों में ही पूर्णता का बोध करा देगा.
कभी हम सदगुरुदेव एवं कई सिद्धो के इतने कष्ट, वेदना एवं पीड़ा का हमने मूल्यांकन करे जो उन्होंने सहन किया है ज्ञान प्राप्ति के लिए तथा उसी ज्ञान को समाज के साथ जोड़ने के लिए तब हमें शायद इस ज्ञान की कीमत समाजमे आती है. सदगुरुदेव के कुछ शब्द इस प्रकार से थे जब वो तंत्र के सबंध में कई साल पहले समजा रहे थे की हम जीवन में आए क्षण को तोलने में लग जाते है कभी पैसो से, कभी समय से, की पांच रूपया २ दिन नहीं जाऊंगा तो दो रुपये का नुसकान, बीवी का कहेगी, बच्चो का क्या करू, साधना करू? नही नहीं छोडो जाने दो... अगर इसी प्रकार तंत्र साधना होती तो गली गली में तांत्रिक होते. तंत्र नाम है हिम्मत का साहस का एक दृढ निश्चय का की करना है तो करना ही है भले ही फिर कुछ हो जाए | क्या हो जाएगा अगर एक बार जीवन में खुद के लिए कदम बढ़ा दिया तो. क्या हो जाएगा अगर थोडा समय खुद के लिए खर्च कर दिया अपने जीवन का, इतना कर दिया है तो थोडा और सही लेकिन गिडगिडाकर नहीं, साहस के साथ; क्षमता के साथ; पूर्णता के साथ की मुझे ये करना है बाकी मौका चला जाता है तो फिर कहा नहीं जा सकता की प्रकृति में वो संयोग वापस बनेगा या नहीं.
मित्रों, सदगुरुदेव के शब्द हमें आज तक साहस देते आये है और आगे भी देते रहेगे. हमने उन्ही के द्वारा प्रदत ज्ञान को वापस हमारे भाई बहेनो तक पहुचाने के लिए एवं उनके ही स्वप्न को एक सार्थक स्वरुप देने के लिए छोटे छोटे कदमो से कई साल पूर्व एक शुरुआत की थी और आप सब के सहयोग से आज हम उस स्वप्न की और पूर्ण रूप से गतिशील है. इसी क्रम में हमने वर्कशॉप तथा सेमीनार का आयोजन किया की इस ज्ञान का लोप न हो जाए तथा व्यवहारिक रूप से रहस्यों का पता चले उनके क्रियात्मक पक्ष के बारे में जान सके क्यों की जिसको तंत्र क्षेत्र में आगे बढ़ना है तो सदगुरुदेव प्रदत ज्ञान का सहारा प्राप्त करे, उस ज्ञान पर सभी का समान्तर रूप से हक है. इसी क्रम में इस बार का सेमीनार ‘षट्कर्म एवं रस विज्ञान गूढ़ रहस्य’ पर आधारित है.
षटकर्म को हमने टोने टोटके मात्र समज लिया हो लेकिन वस्तुतः यह सत्य नहीं है. सदगुरुदेव कहते थे की मारण,वशीकरण या षट्कर्म का ज्ञान जिसको है वो व्यक्ति इस पृथ्वी पर अजेय है, उसको कोई हरा नहीं सकता. कितना अद्भुत सत्य है क्यों की यह त्रिगुण के ३ पुरुष एवं ३ स्त्री स्वरुप को ही अपने अंदर उतार देने की कला है.
शांति कर्म से व्यक्ति रोग शोक महामारी जीवन के कष्ट एवं अभावो को दूर कर सकता है अपने जीवन में भौतिक एवं आध्यात्मिक रूप से पूर्ण शांति को प्राप्त कर सकता है, जीवन के सभी दोष को समाप्त कर सकता है.
वशीकरण विद्या के सन्दर्भ में तो सब को ज्ञात है , इस विद्या से असंभव से असंभव कार्य किये जा सकते है किसी के विचारों पर अपना प्रभुत्व बना कर उसे बाध्य कर देना वो हर बात मानने के लिए जो हम चाहते है, ठीक वैसे ही जैसे हम चाहते है. भले ही वह एक व्यक्ति हो या समूह हो. इस विद्या के १२ भेद सदगुरुदेव ने बाताये है जो की अन्यतम है.
स्तम्भन इस विद्या के बारे में बहुत कम जानकारी मिलती है, स्त्मभन अर्थात रोक देना, चाहे वह व्यक्ति को रोकना हो, शत्रु को, किसी को बुद्धि को, किसी की प्रगति को, किसी की दुर्गति को, सभी प्रकार के स्तम्भन इस स्तम्भन विद्या के अंतर्गत आते है.
विद्वेषण दो व्यक्ति या तत्वों के बीच के आकर्षण को खत्म कर देना या विकर्षण में बदल देना. यह विद्या के माध्यम से दो व्यक्तियो के बीच की संधि को तोडा जा सकता है. आकर्षण तत्व को मूल के साथ उखाड सकने की सामर्थ्य का नाम विद्वेषण विद्या है.
उच्चाटनव्यक्ति का विच्छेद करना किसी स्थल से या दूसरे किसी व्यक्ति से. किसी शत्रु आदि को उच्चाटित कर उसे घर, नगर –शहर राज्य या देश से बहार निकलवा देना, धन का उच्चाटन कर उसके धन को नाश कर देना.
मारणकिसी भी व्यक्ति के प्राण को हर लेना उसे मृत्यु के मुख तक पंहुचा देना इस विद्या को मारण विद्या कहा जाता है.
यह षट्कर्म है, अब मित्रों कोई भी व्यक्ति इस तथ्य को समज सकता है की क्यों षट्कर्म जिसने जान लिए वह पृथ्वी में अजेय हो सकता है. क्यों की जीवन के सभी पक्षों से सबंधीत समस्याओ के समाधान इसमें है ही.
इसके साथ ही साथ रसायन विद्या जिसके माध्यम से हलकी निम्न धातुओ को रजत एवं स्वर्ण जैसी मूल्यवान धातुओ में परावर्तित  किया जाता है तथा पारद के संस्कार कर उससे दुर्लभ सिद्धियों एवं आरोग्य की प्राप्ति होती है इस विद्या से सबंधित भी कई कई गुढ़ रहस्य है.
फिर षट्कर्म के विषय में श्री भगवान शिव कहते है की सूर्य को पृथ्वी पर भी गिराया जा सकता है :) तो निश्चय ही इस विद्या की सामर्थ्यता एवं सम्पूर्णता का अर्थ है, सार्थकता है. निश्चय ही इन कर्मो से सबंधित कई प्रकार के गुढ़ रहस्य है चाहे वह प्रारम्भिक क्रियाएँ हो या मुद्रा आदि लकिन अप्रकट रूप से कई रहस्य होते है जो की जनमानस के मध्य नहीं आते है क्यों की तंत्र गुरुगम्य विद्या है पोथी गम्य नहीं, पोथी पढ़ पढ़ कोई कुछ भी दंभ मार सकता है लेकिन गुरु के माध्यम से जो सिखा गया होता है वही क्रियात्मक ज्ञान ही सफलता प्रदान कर सकता है. हमारे सदगुरुदेव ने इसी प्रणाली से षट्कर्म से सबंधित कई कई तथ्य १९८०-१९८५ तथा तंत्र विद्या शिविर एवं व्यक्तिगत रूप से सामने रखे थे. इसी माध्यम से उन्होंने कई प्रकार से प्रायोगिक रूप से सारी क्रियाओ को कर के सब के मध्य रखा था.
यही सारे तथ्यों एवं कई विशेष प्रक्रियाओ को हम अपने भाई बहेनो तक पंहुचा सके यही कोशिश हमने सदैव की है तथा करते आए है. इस गुढ़ विषय के सबंध में भी कई भ्रांतियां फेली हुई है तथा इस विषय को नकारा गया है, लेकिन सत्य यह है की निश्चय ही वह व्यक्ति अजेय हो जाता है जिसने षट्कर्म सिद्ध कर लिए. वह अपने जीवन के साथ साथ किसी के भी जीवन को उतनी ऊँचाई पर ले जा सकता है जहाँ तक वो ले जाना चाहता हो और चाहे तो दुष्टों को सबक सिखाने के लिए वह उतना ही निचे भी गिरा सकता है. इसी हेतु आज के युग में अनिवार्यता महेसुस कर हमने ‘षट्कर्म एवं रसविज्ञान गुढ़ रहस्य’ विषय पर सेमीनार का आयोजन किया है. आप सब के उत्साह को देख कर निश्चय ही खुशी होती है तथा हमें भी प्रेरणा मिलती है और भी तीव्र रूप से कार्य करने की. जैसे की आप सब लोग जानते है यह सेमीनार इसी महीने की २५ तारीख को है, अस्तु, जो भी भाई बहेन साधक इस सेमीनार में भाग लेने के इच्छुक हो वे  nikhilalchemy2@yahoo.com पर संपर्क करे.

 ****NPRU****


No comments: