There was an error in this gadget

Wednesday, January 25, 2012

ADBHUT VYAPAR VRIDDHI KARAK PRAYOG


इस  युग में  सभी  को   रोजगार   की आवश्यकता    तो हैं ही , उसके  बिना   जीवन  को गति कैसे   दी  जा सकती हैं , यह   तो एक सच्चाई   हैं ही  जिससे की हम   मुंह  नहीं मोड   सकते हैं.. और  अनेको के पास   रोजगार   के रूप में  स्व   रोजगार   होता हैं   फिर  उसे  कैसे प्रारभ  किया   गया  हैं  यह  एक अलग   बात   हैं ..
अनेको भाईयो के पत्र   इस सन्दर्भ में आते हैं ..की  उनका व्यापार  ठीक नहीं  चल रहा हैं.. इस संदर्भ में  यही  कहना   हैंकि  जो अनेको साधनाए  ब्लॉग या   इ पत्रिका  या  फेसबुक  के  nikhil-alchemy  ग्रुप में  दी हैं या   दी  जा  रही हैं खासकर धन  सबंध में  या  मनोकामना  पूर्तिके  लिए   उनका महत्त्व समझे   और  उन्हें   अपने  जीवन में स्थान  दे ..
 पर  इस क्षेत्र   में भी  इतना कम्पीटिशन  हो गया   हैं .  की सबका   स्व   व्यवसाय चले  ही   यह  सुनिश्चित नहीं हैं .   वेसे   जो  भी साधक ..  कनक धारा   यन्त्र  का  स्थापन  अपने   घर  और   व्यावसायिक  स्थल में  करे  हुए हैं और  कमसे कम   रोज  एक पाठ   तोकनकधारा   स्त्रोत का करते  ही आ  रहे हैं . वह  या  उन्हें  तो कोई  चिंता नहीं   होगी ...चाहे   उनकी  कुंडली में  कितना भी  खराब  योग     हो ..क्योंकि  इन  यंत्रो का  चमत्कार   तो जग  प्रसिद्ध   हैं ही ..
ठीक यही अवस्था  श्री यन्त्र   और  स्वर्णा कर्षण   यन्त्र  स्थापित   जिन्होंने  किये  हो  और  इनसे सबंधित  स्त्रोत का कम से कम  एक पाठ    तो  जरुर  करते ही हो ...
  पर आज इस   लेख के  अन्तरगत एक ऐसा  ही यंत्र से  आपका परिचय कराया   जा  रहा हैं जिसका   निर्माण  आप  स्वयं   कर   सकते हैं ,
अन्य   किसी भी  यन्त्र  के निर्माण  की तरह  इसका भी  वही  विधान हैं ,  जो हम  विगत लेखो में  आपके सामने  रखते  आये हैं .  किसी भी शुभ दिन ..  ठीक आधी  रात्रि को .इस  यन्त्र   को आपको   अपने  दूकान,  व्यावसायिक  स्थल  के  ठीक सामने  लिखना हैं  मतलब  बाह्य्गत   दीवाल   पर ..  जिससे की आगंतुक  की निगाह इस  पर पड़ती रहे ...
और आपका  व्यापार सुचारू  रूप  से  गति पकड़ने  लगेगा .
हाँ यह ध्यान रखने की बात हैं की  इस  यन्त्र के लिए  आपको  स्याही के  रूप में   सिंदूर का इस्तेमाल  करना हैं .  साथ ही साथ  बने   हुए  यन्त्र  की पूजा    यदि  आप धुप दीप से करे   तो  बहुत अच्छा   होगा .
**********************************************************************
 In this era   everyone  needs  to have  any  job, without that   its very  difficult   to  successfully  run the day  to day  life. This is  the  truth and  we  can not   escape  from  that and many  of us   have  self  business  as a  job  you can say .
We are  receiving   so many   mails  indicating   that  we are facing  much problem and  their  business is  not  running as  it should  be . many sadhanye has been  published in this  regards  either  in blog  or  e  mag  or  in  facebook  Nikhil-alchemy  group. For   relation  to  finance  and    wish  fulfilling.  Sadhak must understand  the meaning behind  that  and have  place in  his  heart.
Even  competition are so  tough in this  field  that  self  business  of  every  person   always  run as  he  desired its  not   possible. the sadhak  who has   kanakdhra yantra in their  home  and  in their  workplace and  daily  reciting of kanakdhara  strot path is doing  they are  not facing  such a  problem.  Even  their  horoscope   have worst   combination and  the miracle  of  these  yantra  are  every  body  knows.
  And  the same  situation   will  be   to  those  who have   shri yantra  or  swarnkarshan yantra  in their  home  and  daily  path of there respective  yantra .
Today through this post  we are introducing  one  such  a yantra , that you can  easily  make  and helpful  for  such  problem. and  the problem  related  to  business  will be   removing easily.
Like any  yantra making   the  procedure of this  yantra making is  the same , but   this  have  to remember  that in any  auspicious  day’s  night ..make  this   yantra  on  the outer  wall of  your  shop   so that  every one  who  visited in your  shop  can see  this.
Only thing  you  need  to remember  that   make  this   yantra   from  sindur .and  do poojan of this   yantra   with  dhup and  deep
  


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

1 comment:

Rahul Agarwal said...

Priya bhaai ji,kya ye yantra aadhi raat ko hi likhna hai? kya is yantra ko office ke bahar ki deewar par likh sakte hain ya jaisa bataya gaya hai waisa agar karen to ye yantra gate se sati huyi deewar par banaana padega kya?