There was an error in this gadget

Thursday, January 26, 2012

अद्भुत सरस्स्वती साधना –ज्योतिष में रूचि रखने वालो के लिए ..


ज्योतिष  तो  वह शास्त्र   हैं जिसे   दिव्यतम  कहा  जा  सकता हैं  और प्राचीन ग्रंथो  में  इस  शास्त्र के  पंडितो   को .मर्मज्ञों   ज्योतिर्विद कहा  जाता  रहा हैं  और  यह उचित भी हैं  क्योंकि   जो आने  वाले  समय  को  आपके सामने  रख  दे  पहले   से पथ  प्रदार्शित   कर  दे  वह  एक प्रकाश  किरण   ही  तो हैं  जिस  भविष्य  में   अभी  पर्दा   पड़ा हुआ  हैं उसे  भी  वह अनावृत  करने का  साहस  रखे .. वह  हैं   ज्ञान ...
 और  सदगुरुदेव जी के   अनथक प्रयासों  से   भारतीय ज्योतिष  का  एक पुनुर थ्थान   संभव  हुआ जो की मनो गर्त में  ही  चला  गया  था हैं..और अनेको  आज के  उच्चस्थ  ज्योतिष  यह मानते भी हैं ..औरअनेको इस  बात   से  सहमत भी हैं  की उन्होंने   जितना   काम अकेले  किया   वह  तो  कई कई संस्थाए  भी मिल कर नही कर पाती ...
१२० से   ज्यदा  उन्होंने  केबल  ज्योतिष पर  ही अल्प  मोलिय  ग्रन्थ  प्रकशित करवाए. उनमे  से  अधिकंश  तो  अभी भी प्राप्त हैं  केबल इस  दृष्टी  कोण से  की यह विधा   जो सामान्य जन  की   पहुँच से दूर  हो गयी हैं पुनः  उस  तक  पहुँच जाए .
 और आज परिणाम  आपके  सामने  हैं   हजारो की  संख्यामे  उच्च  वर्ग  के  और  पढ़े लिखे  वर्ग  के लोग   भी  विज्ञानं के प्रति  न केबल  दृष्टी  कोण  बदल  रहे  हैं  बल्कि   इसको  सीखने के लिए  आगे भी आ रहे हैं .
पर  यह  विज्ञानं  चूँकि  भविष्य से  भी  सबंध  रखता हैं  तो   ज्योतिष का  एक  उच्च आचरण करने  वाला  हों  चाहिए  साथ ही साथ   उसे  कुछ ऐसी साधनों का भी  ज्ञान  होना  चाहिए  जो उसके  भविष् कथन  को बल प्रदान  करे ..उसे अपने  इष्ट की साधना  का  भी  एक योग्य  साधक  होना  ही चहिये .
एक बात  जो  सबसे  ज्यादा  महत्वपूर्ण हैंकि   उसे  वाक् शक्ति  संपन्न होना   ही चहिये   क्योंकि   जो भी कथन उसके   मुख से  निकले  वह निरर्थक    हो  और   सत्य भी  हो ..  इसके  लिए   सस्स्वती    साधना  से बढकर और क्या होगा ..
पर   भगवती सरस्वती के  भी अनेको मंत्र हैं   और कौन  सा मंत्र  उसे  जयादा  खासकर   ज्योतिष  क्षेत्र में  सहयोगी  होगा  इसका  पता कैसे  चले ...
हर साधना मंत्र  भगवती सस्स्वती  का मह्त्वपूर्ण  हैं ही  क्योंकि  उनका  ही मंत्र   हैं पर  यह  जो  मंत्र  आपको  दिया जा  रहा  हैं  यह विशेष  रूप से  ज्योतिष क्षेत्र में काम करने  वालो के लिए  अद्भुत   हैं .
मंत्र :
ओम नमो ब्रह्माणी ब्रह्म पुत्री वद वद वाचा  सिद्धिम कुरु कुरु स्वाहा ||
साधनात्मक  नियम :
ब्रम्ह महूर्त  में  सरस्स्वती मंत्र  का  जप  मतलब  सूर्योदय  से  दो  घंटे  पहले  का  बहुत   उपयोगी माना गया  हैं .
साधना  काल में सफ़ेद  वस्त्र और सफ़ेद  आसन का  ही प्रयोग करे  और   सफ़ेद  हकीक माला   से  जप  कहीं ज्यदा  लाभ दायक  होगा .
 मंत्र जप संख्या   १ लाख   हैं इसमें  दिन  निर्धारित नही हैं , किसी भी  शुभ महूर्त   से  मंत्र जप  प्रारंभ कर सकते हैं   और   जब मंत्र  जप पूरा   हो जाये  उसके  बाद  प्रतिदिन  केबल  एक माला मन्त्र  जप  ही   पर्याप्त होगा .
यह मंत्र की साधना  आपको  ज्योतिष  क्षेत्र में  बहुत प्रवीणता  दे  सकती हैं   अतः   इस मंत्र  जप को करने  में  लाभ ही लाभ हैं क्योंकि  माँ  सरस्वती का क्षेत्र     तो बहुत विशाल  हैं  और उनकी कृपापात्रता मिल जाना   कितना न  सौभ्ग्दायक  होगा .
 ******************************************************************
Astrology is  considered  a  divine  shastr  and in  ancient  granth of  astrology   it I s mentioned  that  the expert in this  ssceince   wre  called   jyotirvid and  that  too  are  correct   since  those   who are opening the secreat of future   that is  still in darkness or  still  mysterious   surely  ther  have  to be  called  jyotirvid.
Poojay  sadgurudev   devoted  much   time  to  again  uplift ment of  this  science   that which   lost   not  only  its  credential  but   losses its  authenticity  too . and many of    modern astrologer still   aacept  that his  contribution  to astrology a  unique  one  and   thatwhat  many   institution  not able  to  do ,  thi s aperson  alone   did.
He  has  published  more  than 120   books   only on  astrology   and  that   are  not  costly   so that    middle  calss  can easily  purchase  that and   again  the  astrology   reaches   home  to home .and  many of those   granth   is  stil available  in the market .
And   result is in   front of  us  not only  the people  belongs  to   higher  section of  society  but lerned  one  again   considering this  as a  science  and  many   com e for ward  to learn   this .
 This  science  directly  related  to the  future   so  the learner must  be  of  a  good  character  person . and  he  must knew   of  some  good  sadhana.that  will help   to  give  confidence  to him  while  predicting . and  also  he must be  a  good  sadhak  of  his  isht  .
On emost important thing  I s that   he  must   be  aperson  who is  vak shakti sampann and  whatever  he  speaks   should  not  be  useless. And  become true ..  and  for  that  what  will be   more   important    than   bhagvati saraswati sadhana .
There  are many  mantra  of sarswati  sadhana ,  which mantra  will   be  more   important  for  astrology  section ..
Every mantra of her   is  important one  since  each  one  belongs  to  her ,  but here is  the mantra   that  are   considered   vary    useful   for     person    intersted    in astrology.
Mantra :  om namo   brahmani  brahm   putri  vad vad  vaacha   siddhim kuru kuru   swaha ||
Sadhanatmak  rules :
Brahm  mahurt  times  specially  two   hour  before  sunrise  consider   the  best  for  this  sadhana .
During  mantra jap    sadhak  must  wear   white  color  cloths  and   use  white  color aasn , and  jap mala  if  of  white  color  hakeek     so  that will be much better.
Mantra   jap should  be  1 lakh .  and   for  that    days   number  is  not decided .  mantra  jap  can be  started  in any   auspicious  days       when  mantra  jap   completed   than only one  round  of   manta is  sufficient .
Thi s mantra  sadhana   can  give    you  much   expertise  is   astrology   field  and    this mantra sadhana   is  very helpful   when  you  get  blessing of  mother  divine   than   what more left   fo r your success.
   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

1 comment:

mahakal said...

Jai Sadgurudev ,, gyan ka kshtra sachmuch anant hai yesi yesi sadhnaein hai ki kalpna nahi ki ja sakti hai bhai apke ke prayaso ko salaam karta hun ki aap yesi vilakshan sadhna ko hamare beech la rahe hain....asli salaam to tahi hoga jab hum yesi sadhna ko mahoyog se karen...
jai gurudev