There was an error in this gadget

Friday, January 13, 2012

NAVGRAH BADHA NIVARAK SHRI MAT HANUMANT PRAYOG


सम्पूर्ण   जगत  नव  ग्रह  के  आधीन हैं  ,  और  जो भी  अच्छा   या  बुरा, हानि लाभ  जीवन मरण   , यश   अपयश   जो  भो   होता हैं  उसको  सामने  लाने   में  इनकी  भूमिका  से  इनकार नहीं किया   जा  सकता हैं,  अब यह  तो सर्व भौमिक तथ्य हैं की   जब  भी   सूर्य  में  सौर  कलंको   का  समय  आता   हैं पर  हमारी धरती  पर  अनेको  उथल पुथल  कारक   घटनाये  होने लगती हैं .  पिछले   सैकड़ों  सालो   का   इतिहास इस  बात का प्रत्यक्ष   प्रमाण   हैं .
ग्रह  ही राज्य  देते हैं  और  ग्रह  ही  राज्य   का  भी   हरण करते हैं    .
   वास्तव में  ग्रह  तो   एक   उत्प्रेरक  का कार्य  करते हैं  और  मानव  मात्र  के  जैसे कर्म  फल हैं उनको सामने  लाने का कार्य करते  हैं .ज्योतिष में  नव ग्रह  और  कुडली  का   योगदान   तो सर्व   विदित हैं  एक  कुशल  ज्योतिषी    अपने अनुभव  और   सटीक   विश्लेषण  से  आपके जीवन के   भूतकाल  या भविष्य काल   रहस्य   को आपके  सामने  रखने  का प्रयास करता हैं .
  जीवन में  आने  वाली   हर  वाधा  के  पीछे इनकी  भूमिका  से  इनकार  नहीं  किया  जा  सकता हैं . और जब कोई भी उपाय  काम न  दे  रहा  हो    फिर  वह  चाहे    साधना  में सफलता  न मिल पाना हो  या   कोई  और  बात   तो    फिर  गृह  अनुकूलता  पर   ध्यान   देना  ही  चाहिए ...  पर  क्या  हम इनसबका  परिणाम  सिर्फ सहन करते  जाए    क्या  कोई रास्ता   नहीं हैं????   तो साधना   एक ऐसा   तरीका  आपके  सामने  रखती हैं जिसके  माध्यम  से   आप  अपने कितने     विगत जन्मो   के  अर्जित  कर्म  फल को  कम   करसकते हैं . और  अपने  जीवन में   अनुकूलता  लायी जा  सकती हैं  ..... और यह संभव होता हैं नव  गृह की अनुकूलता  से ..  एक ऐसा  ही प्रयोग  जो  आपके  लिए  लाभदायक  सिद्ध  होगा . 
 भगवान् हनुमान की सामर्थ्य   तो जग   विख्यात  हैं , और उनकी कृपा से  तो   जीवन की समस्त   वाधाओ का   निर्मूलन  होता हैं .
साधना के नियम इस प्रकार हैं

 १.लाल  आसन  पर लाल   वस्त्र  धारण कर  के  बैठे
२.   दिशा  पूर्व या  उत्तर   कोई भी  हो सकती हैं 
३. प्रात: काल का  समय   कही  जयादा   अच्छा   होगा 
४. जप  लाल मूंगा की माला से   करे   और  सामने  सदगुरुदेव  और  हनुमान जी का   चित्र  अवश्य  हो .
५.  सदगुरुदेव का पूजन कर  उनसे मानसिक आज्ञा   प्राप्त कर ले किसी भी मगल  वार  या  शनि वार  से  यह प्रयोग  प्रारंभ  कर सकते हैं .
६. और  आपको सवा लाख  मंत्र  जप करना हैं .इसमे  दिन  निर्धारित  नहीं हैं फिर  भी  ११  या  २१  दिनों में  करे . फिर  दसवा   हिस्सा  हवन करना हैं  अगर यह नहीं  हो पाए  तो   जितना मंत्र जप किया हैं उसका   एक चौथाई   मंत्र  जप  और कर सकते  हैं. 
७.साधना काल में   ब्रह्मचर्य  व्रत का पालन करे .

ॐ ह्राँ सर्व दुष्ट ग्रह निवारणाय स्वाहा ||

Mantra : om hraam  sarv  dusht   grah  nivaarnaay  swahaa ||

***************************************************************                                 
Whole    universe  is in control  of    nine   planet  that means  whatever  good   or bad , happiness  or  sorrow  ,  life  and  death   comes   all around   us are  because of   nav grah .  and  no   one  can   denied    their    role   in   up bring  thses  events in  our  life.   And this is the  well known facts that    when solar  spots  comes  on the sun’s surface  than   various major  event  happens   in  our  earth  history  and  last   several  hundred  year   history is  a proof  of  that.
  That  means  its  the planet   who responsible  for   rise or   fall or  any  empire any more  things.
In reality ,  the  planet  acts  as   catalyst  and   as  the  person  karm   happens   so  their rays  are  act  to  bring   the result   in front of them.  In astrology   nav grah and  kundali (nine planet  and  horoscope)   has  a major  role   to play.  And  an expert  astrologer  through his  personal  experience  and   accurate   analysis   he  is  able  to   reveals  the  past  and    coming   future  event  accurately.
And  we  can not  underestimate  the power  behind  thses  planet  , and  when  no  other  remedial measure   works  and    if  the  problem related  to  sadhana  success  or   related  to material   world  continues , than  we have  to  think  that   how     the karmafal  stored  from past  can be minimized through  this  nav  grah  shanti.
  The power of  Bhagvaan  hanuman  every body  knows. And  through his blessing   every problem  can  be  removed.

Mantra : om hraam  sarv  dusht   grah  nivaarnaay  swahaa ||

  The  general  rules:
Wear red   color   clothes  and  also us e red  color  aasan.
Direction may  be  of  east or  north.
Morning  hours  will be  much  effective  for  jap.
Do jap   with  mounga mala , and  in  front  of you , place    photograph of  Sadgurudev  and  Bhagvaan hanuman.
Do   Sadgurudev poojan  with  full heart and  devotion   and   ask his   permission mentally   and  start  this  prayog  on any Tuesday or  from  Saturday .
You  have  to chant  1,25000   mantra  jap  either in 11  or  in 21days , and   then  do havan of  tenth part  of the  mantra  jap   you  did,   if not possible     arranging  havan of this   quantity than   do extra  jap of    one  fourth of total mantra jap  you   did .
During sadhana   kaal   follow  bramhchary   or  celibacy .

 
   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

No comments: