There was an error in this gadget

Wednesday, January 25, 2012

Siddhashram Darshan Prayog


सिद्धाश्रम, वह मधुर शब्द जिसे सुनते ही मन मे पवित्रता और श्रद्धा का बोध होने लगता है. अत्यधिक पावन स्थली जहा से निरंतर आध्यात्म का संचालन होता है, सुदूर हिमालय का वह गुप्त और अद्रश्य स्थल जिसकी प्राप्ति साधको के लिए एक दिवास्वप्न के सामान होती है. यह विशेष चेतना युक्त स्थल मे प्रवेश के लिए जहा एक और साधक को निरंतर साधनारत हो कर कड़ी से कड़ी परीक्षाओ से गुजरना पड़ता है वही दूसरी तरफ सतत गुरुकृपा भी आवश्यक है. सिद्धाश्रम मे प्रवेश के नियमानुसार साधक के एक निश्चित साधना स्तर के बाद उसे गुरुकृपा से सिद्धाश्रम मे प्रवेश मिलता है. सदगुरुदेव ने अपने दीर्घ प्रयत्नों से इस अद्वित्य स्थल से सबंधित दुर्लभ जानकारी पर प्रकाश डाला था. साथ ही साथ उन्होंने समय समय पर प्रयोग कर इस पावन स्थल से सबंधित कई प्रयोग भी करवाए थे, जिससे की साधक को सिद्धाश्रम की प्राप्ति हो सके. लेकिन आज के युग मे हर कोई व्यक्ति के लिए यह सहज संभव नहीं है की वह महाविद्याओ जेसी उच्चकोटि की साधनाओ को सम्प्पन करे तथा कड़े नियमों का पालन कर इस देवभूमि मे प्रवेश करे. इस चिंतन के साथ करुणावश उन्होंने अपने शिष्यों के मध्य कई ऐसे प्रयोग रखे जिनके माध्यम से सामन्य गृहस्थ साधक भी उस देवभूमि का दर्शन कर अपने जीवन को धन्य कर सके. उन्होंने कई ऐसे प्रयोग अपने शिष्यों को व्यक्तिगत रूप से भी बताये, जिसके माध्यम से कुछ ही दिनों मे व्यक्ति भावावस्था मे सिद्धाश्रम के दर्शन करने मे समर्थ होता है. एसी हीरकखंड के समान साधना को हर साधक को सम्प्पन करना ही चाहिए. ये महत्वपूर्ण प्रयोग है सिद्धाश्रम दर्शन प्रयोग. जिसके माध्यम से साधक सिद्धाश्रम के दर्शन कर अपने जीवन को धन्य कर सकता है.
इस प्रयोग को कोई भी साधक ब्रम्हमुहूर्त या रात्रीकाल मे ९ बजे के बाद कर सकता है. नित्य समय एक ही रहे. इस प्रयोग को गुरुवार से शुरू करे. वस्त्र आसान सफ़ेद रहे, दिशा उत्तर. साधक इस प्रयोग मे स्फटिक या गुरु रहस्य माला का उपयोग करे. पूर्ण गुरु पूजन के बाद साधक को निम्न मंत्र की ५१ माला जाप करनी है
ॐ पूर्णत्व दर्शय पूर्ण गुरुवै नमः
साधक को यह क्रम अगले गुरुवार तक करना चाहिए. (कुल ८ दिन). साधक श्रद्धा और समर्पण से यह साधना करता है तो निश्चित रूप से साधना काल मे ही उसे सिद्धाश्रम के दर्शन हो जाते है.
===========================================================
Siddhashrama, the word which fills divinity and devotion in the mind at the moment we hear. Extremely holy place, from where the spiritualism is generated. Far in Himalayas; secret and invisible place; discovery of same is always a dream for sadhak. To enter in this energetic place one one hand sadhak needs to do various sadhana by passing through very tough tests where as on other hand requirement of continuous blessings of guru is also essential. According to entry rule of siddhashram, sadhak receives permission to enter in the place after specific sadhana level with blessings of Guru. With wide efforts of him, sadgurudev thrown light by providing rare information related to this incomparable place. With that, time to time sadgurudev had also introduced prayoga related to this holy place, with which siddhashram entry could be made. But in today’s time, it is not easy for every person to accomplish higher sadhana like mahavidya and to follow the tough rules for to enter in this divine place. With such thoughts, being merciful to the disciples, he placed such prayog in front through the medium of which simple householders can even have glimpses of the divine place and can have bless for whole life. He had even told many such prayoga to disciples, personally with the medium of the same in few days person can have glimpses of siddhashram in Bhavavastha. Such sadhana are real gems and one should do it. This important prayog is “Siddhashram Darshan Prayog”. With which sadhak can have glimpses of siddhashram and can make the life blessed.
This prayog could be done either in bramh-muhurta or night time after 9PM. Daily time should remain same. This prayog should be started from Thursday. Cloth and aasan should be white in colour. Direction should be north. Sadhak should use Sfatik or Guru Rahasya rosary. After complete guru poojan sadhak should chant 51 round of following mantra.
Om Purnatv Darshay Purn Guruvai Namah
Sadhak should continue the process daily till next Thursday (total 8 days). If sadhak does this sadhana with faith and devotion then will definitely have glimpses of siddhashrama in sadhana duration.
   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

3 comments:

MUKESH SAXENA said...

hum dhanya hue ke itni durlabh sadhna hum aapke sahyog se prapt kar paaye,ke uss pavtra bhumi "siddhashram" ke darshan kar sakein,jo har kisi ke ;iye durlabh hai.thanks arif bhai aur poori team ko,jinke madhyam se hamein ye durlabh sadhna prapt hui.JAI SADGURUDEV.
MUKESH SAXENA

ashok yadav said...

jai gurudev bhaiyya naya look really fantastic ek baat main kahna chahuga ki agar lebels mein jo bhi sadhnayein hai wo us lebel ko click karne par vahin par show karen jaise ki "abhi tak ke blog" mein month par click karne par us month mein publish saare post show hote hain...it is just my kind suggestion....ashok

aditya said...

Arif bhai door hote hue bhee paas hone kaa ahsas dilte hein aap aur mein to aghor sampradaye se hoon to meine socha kee pata nahin aap mujhe shamil karenge yaa nahin par thanks for your sadhnas.............and koti-2 pranam to gurudev.........kya aap mujhe aghor group mein shamil karenge........