There was an error in this gadget

Sunday, January 15, 2012

निश्चित धनागम के लिए अष्ट लक्ष्मी युक्त यन्त्र विधान ..


केबल  धन  को  ही लक्ष्मी  नहीं  कहा  गया हैं बल्कि  इसके   तो अनेको  रूप हैं  ,  और  हर  रूप का  अपना  एक   अलग  ही अर्थ हैं .  अगर   धन  हैं और संतान नहीं हैं तब  भी   जीवन कैसे  पूर्ण  हुआ   और  दोनों  हो  और घर    या आवास  का सुख नहीं हो  तो  भी कमी   तो हैं ही .  ठीक  इसी  तरह  सब  कुछ   हो   और  आयु सुखनहीं   हो तो   यह भी   क्या काम   का शास्त्रों  में  लक्ष्मी के  १००८  रूप बताये  गए  हैं  पर  सभी  रूप  सभी के पास   हो यह कैसे  सम्भव्  हैं ,
 अतः  मुख्य रूप से अष्ट लक्ष्मी   का रूप सामने  आया   कि कम से कम इतना तो मानव  मात्र   के पास   हो तो  भी  उसे सुखी संपन्न माना  जासकता हैं  और  शायद इसे   भी  भौतिक  अष्ट  सिद्धिया   के नाम से संबोधित किया गया हैं .  और  इतना भी जिसको मिला  हैं  वह तो  इन्द्र   को  भी  चुनौती   दे सकता  हैं .  और   जिसके पास  इतना   और वह अपने नियंत्रण   में  हैं   वह तो    योगी हैं   ही.
पर समस्त सुखो को बनाये   रखने  के लिए धन  का महत्त्व   तो कम नहींहैं .  इस बात  को  कोई भी नज़र अंदाज़   नहीं कर सकता  हैं . और  यह  धन सुख कैसे   जीवन में  लगतार   आये ,  उसके लिए  अनेको  प्रयोग   हमारे  सामने   आते  हैं  और हमे   उनको करते  रहना   भी चाहिए  भी . 
  अगर   कोई प्रयोग   यंत्र  विधान के साथ  हमारे   सामने  आता हैं   और   उसके  साथ   यदि हमें  कोई मंत्र विधान  भी मिले   तो  करते  रहना   चाहिए   क्योंकि   लक्ष्मी साध नाए   तो जीवन  का  सौभाग्य हैं .  और   हमेशा  इसलिए करते  रहने  चाहिए   क्योंकि   जीवन में  दोष    तो लगतार   आते  ही  रहते हैं .इसकारण पूर्व में  कि गयी  साधनाओ   का सर  कम  भी  होते  रहता हैं .
इस  यन्त्र  का निर्माण    के  लिए प्रातः   काल  स्नान  कर ले , और  भोज पत्र   पर   इस  यन्त्र का अंकन करना हैं .स्याही  होगी   लाल चन्दन  की   और  लिखने के लिए  आपको लाल  गुलाब  की लकड़ी लेना  चाहिए   मतलब उसकी  कलम  ले ले .
मंत्र  --  ॐ ह्रीं  श्रीं  स्थिर अष्ट लक्ष्मी मम गृहे निवासय कुरु कुरु स्वाहा ||
  यन्त्र  निर्माण के  बाद ११,००० मंत्र जप  करना  हैं .किसी भी माला  से , कोई  विशेष नियम नहीं हैं , दिशा , वस्त्र  जैसा संभव  हो .
और इसके बाद   धुप  दीप  से  यन्त्र  की  पूजा  करना हैं  और   फिर  इसे  चांदी के  ताबीज   में  डाल कर   आप  धारण कर सकते हैं .
चाहे   तो आप  आगे भी  जितना   उचित  हो  उतना   उपरोक्त मंत्र जप  करते  जाए . निश्चय   ही  आपके  सामने   धनागम  के  अनेको रास्ते   खुलते  जायेंगे .
--------------------------------------------------------------------------------
 The  finance   is  not  consider  a only  form of  lakshmi   but  the goddess lakshmi has many  forms  and  each and  every  form  has  its  own  significance and meaning.  If one has  money  but   no happiness   on the point of  children that  what    does mean. And  suppose   he  is having both  but  not the   home   than also   that is  not  consider  full happiness,  still  something is lacking. And  if  all  that   and  no  life  span  than   what is  that mean.  The holy  granths  says  that there are  1008  form  of  goddess  lakshmi .  but   is it possible  that   one  will have  the blessing of  all   that forms.
  Than most  important   8  forms of  goddess  comes   that is  knows as the  asht lakshmi . and if  the  blessing of  these  form  available  to any  one  that can be   said   a person  with  complete happiness. And those  who has this,  can challenge   the indra on the  ground  of  happiness. And  theses are also  known  as material  asht  siddhi and  after having this , if person can  control  himself  that  can be  called  a yogi.
  To maintain  all   those  asht  siddhi the importance  of    money  or  finance  cannot  be  underestimated. And no one  can denied  that. But  how   that  the continuous   flow  of  money is maintained .  for that so many prayog  here  we  are continuously   providing and  one  should   do  that as many as possible .
If any  yantra sadhana  comes  with mantra  than  ,  that  should  be very important one  and  sadhak  must  go   for  that . since lakshmi sadhana’s  are  the   beauty of   life, and  we  should   do them  continuously  since  there  are  so many  dosha’s that  continuously   reducing  the power of previously  done sadhana .
  Take  a  bath  and  became  clean   for  to  write   this  yantra , and   this  yantra  can be  made on the  bhoj patr,  with  red  chandan  and  rose  flowers  kalam  or pen.

Mantra: om hreem shreem  sthir  asht  lakshmi mam grahe   nivasay kuru kuru swaha||
After  making  yantra   do  jap  of this  mantra 11,000  times  in front of  this   yantra and  after   that do poojan  with  dhup  deep  and   place it in  any  silver  tabiz  and  wear this ,  you  will    feel  the  experience  of    of  new  opening  of  door  of  finance  for  you.
And  you can  do  if you  want continuously  mantra jap  .even after making   this  will help a lot.
  

                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

No comments: