There was an error in this gadget

Tuesday, January 24, 2012

आकस्मिक धन प्राप्ति केलिए ..(शेयर मार्केट या अन्य में लाभदायक )


धन प्राप्ति  तो  एक ऐसी  क्रिया हैं जो सबके मन को भांति हैं  जीवन मे  धन के  बिना  किसी  भी  चीज का  वैसा  अस्तित्व नही हैं जैसा  की होना  ही  चाहिए .आधिन्काश आवश्यकताए   तो केबल धन  के माध्यम से  कहीं जायदा  सुचारू  रूप  से  पूरी हो जाती हैं ..
पर  धन का आगमन भी  तो एक अनिवार्य आवश्यकता हैं  पर  जो एक बंधी   बंधाई  धन राशि   हर महीने मिलती हैं  वह  तो  एक निश्चित  रूप  से  खर्च  होती हैं.. पर कहीं से  यदि कोई आकस्मिक धन यदि हमें  मिल जाता हैं  तो   वह  बहुत  ही प्रसन्नता दायक  होता हैं .
पर  यह आकस्मिक धन आये कहाँ से ..यह  सबसे बड़ा प्रश्न  अब हर किसी  को   तो गडा धन  नही मिल  सकता हैं .  तो व्यक्ति  नए नए  माध्यम देखता हैं कि कैसे   इसकी  सम्भावनए बनायी  जाए   या  हो पाए  .
और सबसे  ज्यादा हर व्यक्ति   का  रुझान हैं  तो वह् हैं  शेयर मार्केट की ओर ..रो ज  जोभी  सुचनाये  आती हैं  वह   होती हैं  शेयर मार्केट  की.. की उसने  इतना फायदा   लिया या   वह  पूरी  तरह से  बर्बाद  हो गया  ..फिर  भी लोग धनात्मक पक्ष कहीं जयादा  देख्ते  हैं .मतलब की  फायदा  होता ही  हैं . अब  जो लंबी अवधि के लिए   अपना  धन लगाते  हैं  वह कहीं ज्यादा लाभदायक  होते हैं  और  जो कम अवधि के लिए  उनके लिए क्या  कहा जाए  यह बहुत ही ज्यादा  जोखिम भरा  सौदा हैं .
  पर  एक साधना  ऐसी भी हैं   जिसके  सफलता   पूर्वक करने  से  व्यक्ति का  जोखिम बहुत कम   हो जाता हैं .. और व्यक्ति   को लाभ की सम्भावनाये  कहीं  अधिक   होती हैं
जप संख्या ११  हज़ार  हैं  दिन्  निर्धारित  नही हैं  जब जप समाप्त हो जाये  तो  १०८  आहुति इस  मन्त्र  से कर दे.  और आप देखेंगे  की स्वयं  ही नए  नए  स्त्रोत से  घनागम की  अवश्यकताए  पूरी  होती जाएँगी.
वस्त्र  पीले  और आसन   भी पीला   रहेगा.
 जप प्रातः काल  कहीं जयादा  उचित  होगा .
दिशा  पूर्व  या  उत्तर उचित रहेगी .
किसी भी माला से जप किया  जा सकता हैं .
सदगुरुदेव पूजन , जप समर्पण  और संकल्प कि क्यों कर रहे  हैं यह साधना  ..यह  तो  एक हमेशा  से     अनिवार्य अंग  हैं ही .
मंत्र :
आकाश चारिणी  यक्षिणी  सुंदरी आओ  धन लाओ  मेरी झोलो भर जाओ |वर्षा करो धन की जैसे  बादल वर  सै जल की |कुबेर की रानी यक्षिणी  महरानी  कसम तेरे पति की  लाज रख जन  की | सच्चे  गुरु का  चेला  बांटू  प्रसाद मेवा  करूँ तेरी जय सेवा  जय यक्षिणी देवा ||

मन्त्र  सिद्ध करने के बाद जो भी आप व्यापर या  शेयर  में  अपन  धन लगते  हैं उसमे  से  जो आपको लगता हैं की आपका  अधिक  प्रोफिट  हैं   उस  धन के  कुछ हिस्से  को ...मतलब  जो धन पाए ..उसमे अपने  गुरु का  और देवीके नाम का  कुछ भाग  निकाल ले ....  या उस धन के  हिस्से  को .... गुरु को  दे कर  यक्षिणी  को मेवा आदि  अर्पित कर   दे .  
---------------------------------------------------------------------------
 To have  money  or  finance  is  such a  process  everyone like  that and   for  smooth running  of  human life  the importance  of  money  can not be  underestimated. Majority of the  wishes can be  easily fulfilled  if  you have  enough money.
  And   in  coming of  finance  in every month is also a  must  . and  that  fix  income  also  be  spend  on fix  reason. But if we get  any   sudden  gain  of  money than  it will  be  a  matter of   joy.
But  where  can be  get  this  sudden   incoming  of wealth. In general  ,   we  can not  expect that  every one  can   have   some   treasure .  but  majority of   us  see  the share  maket  where  we  can  easily gain  money.. its true that   but  we  also  get  the  info  that  most of the  fellow   destroyed  all his  fortunate  over  there. but people always  see  the positive  side .
Those  who  take  this  market  for long  run.  They  are the safe players  but   those  who  invest  money  for short  turn.  They have  to be  more careful and  vigil   too.
There is a small sadhana  , on doing that successfully ,  the  chance  of  loss can be minimized and    risk  can also  be  minimized. And  the chance   to  get profit is more.
  The mantra jap is  needed   11  ,000 and  the number of days  are not fixed , abut on  completion of the mantra jap ,  have  to  give  aahuti  108  times  with this mantra.  And  soon  you will see  that   new new  sources for  finance  is  being  open  to you.
   The  clothes and  aasan    will b e of  yellow in  color .and  direction would  be  east   or north  one.
 Mantra jap  should  be better is  done in morning hours.
Mantra jap can be  done    with any mala .
Sadgurudev poojan , mantra jap samarpan,   and  sankalp is  always an essential part of any sadhana .
Mantra :                                                                                                                                  
Aakash charini yakshini  sundari aao  dhan lao . meri  jholi bhar  jao  varsha karo dhan ki  jaise  baadal  varshe  jal   ki .kuber ki rani   yakshini  mahraani kasam tere  pati ki laaz rakh jan ki  sachche  guru ka chela  baantu prasaad meva Karen teri jay seva  jay yakshini deva.
After  successful  completion of this  mantra and  havan  ,  whatever the excess money  you gained  keep a portion of that  for  your  guru  and   offer  some   sweets  to  yakshini  specially meva…  
   


                                                                                               
 ****NPRU****   
                                                           
 PLZ  CHECK   : -    http://www.nikhil-alchemy2.com/                 
 
For more Knowledge:-  http://nikhil-alchemy2.blogspot.com 

No comments: