There was an error in this gadget

Sunday, July 24, 2011

MAHAVIDYA RAHASYAM-BHAGVATI CHHINMASTA RAHASYAM-1



यह  महाविद्या  तो दस महाविद्या के मध्य के  मध्य  पंचमी महाविद्या  के रूप में विश्व विख्यात  हैंमाँ भगवती   का यह  स्वरुप तो अद्भुत हैं ही इस स्वरुप के  हर  प्रतीक चिन्ह का अपना एक अलग  ही  महत्त्व हैं . पहले तो छिन्नमस्ता  " क एक अर्थ तो यह हैं की  जिसका मस्तक  ही कटा  हुआ हो   हो जीवन में  सर्वोच्चता  प्राप्त करने के लिए  मस्तक को  एक तरह  रख  कर चलना  पड़ता  हैं  यहाँ मस्तक का मतलब  अपना अहंकार  हैं .
 देवी की गर्दन से  तीन रक्त धाराए  बह रही हैं  जो  ब्रह, विष्णु ओर रूद्र ग्रंथि  के भेदन का प्रतीक हैं , पर ये  ग्रंथियां हैं कहाँ? . ब्रहम ग्रंथि तो मूलाधार में ही होंगी क्योंकि  वहां पर   रचयिता  ब्रह्मा जी का स्थान हैं तो ,   सारे जगत के पालन कर्ता   का स्थान  तो मणिपुर  मतलब पेट में  यहाँ  विष्णु ग्रंथि में और फिर  इसी तरह  रूद्र  ग्रंथि का स्थान   आज्ञा चक्र  में होता हैंइनका भेदन एक सर्वोच्च  योग  तंत्र की प्रक्रिया हैं . जिनको पूरा   किये बिना. या भेदन  किया बिना   एक  योगी सिद्ध नहीं  कहला सकता हैं .
देवी की विपरीत  रति  क्रिया   तो विद्वानों के लिए भी अचरज भरी हैं  सदगुरुदेव जी कहते हैं की यह  तो भूमि तत्व से परे  होने  की प्रक्रिया का प्रतीक हैं .  इस साधना  के माध्यम से साधक तो  वायु  गमन साधना   की आधार भूमि स्वतः  ही  हो जाती हैं  वही   भगवान  श्री कृष्ण   जी ने इसी साधना  के  माध्यम  से अनेक रूप रास  लीला में बनाये  थे  इस सारे विश्व   मानो काम  भाब  में ही     डूबा हुआ हैं  क्या मानव क्या   ,पक्षी  क्या पशु सभी को महाशक्ति एक क्रम  में   फसां कर घुमाते जा रही हैं इस से  किसी का बचना  तो मुश्किल ही हैं , तो  स्वाभाविक  हैं की  वीर्य /रज तत्व की गति  नीचे  की ओर हैं  पर माँ का यह दिव्यतम  रूप  यह सामने रखता  हैं की यदि  इस जीवन के सत्व अंश  का प्रवाह की  नीचे की ओर  न करके ऊपर  की  और  करदिया जा सके तो   योग मार्ग की सर्वोच्च  उपलब्धयां  भीप्राप्त  करी जा सकती हैं . यह तो वरदान  हैं  ही,एक साधना  पर लाभ  इतने दिव्यतमजिसका  जीवन के सत तत्व का प्रवाह ऊपर  हो गया  वह तो  उन दिव्य  तम  उपलब्धियों की ओर  अग्रसर  हो गा ही . 
यह वीरों की आराध्य हैं  इसलिए देश की रक्षा  में लगे या  वीरों की पृष्ठ  भूमि से जुड़े  लोगों के लिए यह आसानी से सिध्ह हो जाती हैं , वहीँ इनका उग्र  रूप यह हैं  की इनकी एक दिवस  की साधन भी  रोमांचित करदेने वाली अनुभूतियाँ  प्रदान करती हैं .
रज तत्व से ओतप्रोत  यह महाविद्या  रक्त से अत्यधिक सम्बन्ध  हैं इस का कारण इनकी पूजन  में  बलि का विधान भी एक आवश्यक  तत्व हैं ( इस  बात  का अनुमोदन   दतिया  के स्वामीजी महाराज  ने भी की हैं ) पर  कुछ भी कहे  माँ का यह स्वरुप  अत्यंत   ही मनो हारी हैं , अपने साधको  के लिए अत्यधिक  ममता  युक्त हैं  दिव्य  मां, आलसियों   के लिए  नहीं बल्कि  जो   योधाओं के तरह  जीवन  चाहते हैं उनके लिए है माँ का यह दिव्यतम रूप .
 महाविद्याए तीन  रूप में भी  भी बिभाजित  हैं स्थिति , सृष्टि  ओर संहार   इसमें  स्थितिक्रम को सृष्टिक्रम  में मान ने   अब तो  दो रूप बने  सृष्टि ओर  संहार , माँ छिन्मस्ता   , संहार या काली  कुल  की  देवी हैं ,  यहं  कुल  का साधरण  मतलब  एक तो विभाग हैं  वही दूसरी  ओर  माँ पार्वती के  कुल ( आर्डर ऑफ़ फॅमिली ) का पता हैं  इसलिए  वे कुल कहीं जाती हैं  भगवान् शिव  के कुल का  कोई पता नहीं होने     से वह  "अकुल"  कहे  जाते हैं ,  
यह  भी बेहद आश्चर्य  जनक  तथ्य  हैं की माँ तारा  ओर  छिन्मस्ता  का  मूल बीज  उद्गम मंत्र  एक ही हैं . इनका   मूल मंत्र   के तो हर अक्षर  का पाना  एक  अलग  ही  महत्त्व हैं सदगुरुदेव  भगवान् ने कई  बार इसे सम झाया हैं रक्त से  इनका सम्बन्ध होने  से यह तो बहुत  ही आसान हैं की इनका सम्बन्ध  श्री विष्णु जी के  नरसिंह  अवतार से हो होगा . यह नरसिंह   अवतार की शक्ति हैं .
 इसे हयग्रीव  विद्या  भी कहा जाता हैं ,   भक्त प्रह्लाद के पिता राक्क्ष राज  हिरण्य कश्यप  भी इसी महाविद्या  का उपासक  था उसी सारी शक्ति इस विद्या  के फल स्वरुप  थी .  
 क्या  आपने कभी ध्यान दिया हैं  की माँ  का बायाँ पैर आगे  की ओर हैं  इसका  क्या  मतलब  हैं  तात्पर्य यह हैं की यह  तामसिक सहक्तियों की स्वामिनी हैं साथ  ही साथ  इनके ध्यान में  "प्रत्याली  पदा" का यही अर्थ हैं देवी  सदैव   से ही  नव यौवन  संपन्ना मतलब १६ वर्षीय हैं देवी का ध्यान अपनी नाभि से निकले कमल के ऊपर किया  जाता हैं , यहाँ इस तथ्य की ओर ध्यान  दिलाना था की  जब हम  जिस प्रकार का ध्यान  मन्त्र का  उच्चारण करते हैं  उसी तरह  का  हमरे पास विग्रह  / चित्र  /  मूर्ति होना चाहिए  नहीं तो  इन सब की  अनुपस्थिति  में  यन्त्र  ही   अपने आप में पूर्ण हैं यह एक आवश्यक तथ्य  हैं साधक कुछ ध्यान का उच्चारण करते हैं  उनके पास विग्रह किसी  ओर ध्यान के  अनुरूप होता हैं . यह  स्थिति  ठीक नहीं हैं  
************************************
 This  mahavidya famous in  amongst the  ten  mahavidya  is  known as  panchami mahavidya .,  this  form of ma Bhagvati is very unique , each  sign  of divine mother  shows us  some very  special   divine gyan.  The very first  sign is the  head of the devi  , that is elf cut and in devi  own hand , means  that one who want to get ahead in sadhana  field keep aside his ego  and  this  whole sadhana  jagat   is depended on the  feelings/ bhav  mayta .
  There are  blood flowing in three branch s  that which shows  that  the   process of  brahma , Vishnu and  rudra   granthi,  but question lies where are they reside  in human  bodies , brahma granthi  is in  mooladhar chakra  since the  creator has  palace in that chakra or  brahma is the   dev of this   chakra,  like wise    the lord who  taken care of  whole  world is  Vishnu   Is in  stomach means  Manipur chakra  is the place  for this granthi,  and at the same way  rudra granthi  lies in the agya chakra,  the bhedan process or penetration of these  special    part  is  ultimate  yog  sadhana and  process. Without  bedan of that  no  one can reach the status of  siddh yogi .
 Divine mother sitting on the   vipreet  rati kriya   status  is very   point of confusion  among the scholar  in tantra granth. sadgurudev  ji used to  says that this  shows the sign  of how one can be free from earth  tatv, this sadhana provide the basic ways of achieve  the status of   vayu gaman  sadhana. And other  hand  Bhagvaan shri  Krishna  has made several form of his  body  in ras lila  time through this  mahavidya sadhana, whole  world is in grip  of kaam  bhav  ,as in   roughly  meaning is that  sexual act what  man/woman even  bird animal all  are  in  the grip   of this  phenomena, no one can not   be safe  from this  hidden very strong grip of  mahashakti. Its quite natural that   our sat tatv  known as veery or raj in woman has   its  natural  flow  towards  down wards  direction ., but if any one   change the  direction   from  downward to upwards than  one can achieve the  height of   spiritual  greatness. And this can be possible through this sadhana, this  is our   luck and  boon that through one sadhana  one can get so much benefit, those who are  succeed to d o that  definitely  reaching heights of   aadhyatm.
 This sadhana  has a special relation ship  to  the brave  , that s why  those who are engaged in  worrier like  work  for  country , can easily  do this sadhana, and on the other hand  mother  form is  so urga  that in only one days sadhana can  give  you many great  experiences.
 Raj  tatv has a very  important   factor in his sadhana and also has a very close relation  with the blood. So  animal sacrifice has a very  must part in   this goddess  poojan ( this    fact  has been  advocated  by  even  swami  ji maharaja  of datiya  .  many of  person  not accept this fact  but without  understand the basic  element    critising it  baseless  so many  argument can be given ,( its not the  time to answer   here, ) even that  divine mother  this form is very  attractive and  heart touching,  not  for idle  but  for the worrier mother has taken this  form  and bless them.
 Mahavidya are divided  in three  form  , sthiti ,  shristhti and in sanhaar  kram/order. If  one can  consider sthiti kram is in  shrisrthhi kram than only  two order left  shrasthhi and sanhaar ,  ma chhinmasta is in  sanhaar   order or   kali kul. Here kul  means is ma Parvati  since  her family order  known and  akul means  shiv whose  family  order not known to any one. That’s why  he is known as  akul.
 One of the very amazing  fact is that  basic  root mantra  of mother tara and  mother  chhinmasta  are one. And  root  mantra has  a very great meaning of each  letter ,  Sadgurudev  bhagvaan many times clearly   mentioned  in the   MTVY   mag. A s blood  has  vey close relationship in this mahavidya  so its  quite natural that   she has relation to  bhagvaaan narsinh an avatar  of  Bhagvaan Vishnu, she is consider as the  shakti of  that  avatar.
 This  also known as haygraiv vidya  ,and  father of   bhakt prahlaad,   hiranykshap  is the   devotee of this sadhana , and  he ha achieve all the power through this sadhana.
 Have you  ever  tried to understand  divine   in standing position  has  left  foot ahead,  meaning of that  mother is the  ruler of all the Tamsic  power.  And in addition to  word “ pratayali dhpada  word has the same  meaning. Devi  always  be appear at the age of 16 years, and  dhyan of mother is always  on one naval point, one point   would like to emphases  is that. A s the dhyam mantra says  so  that type of  vigrah  we must have. Some times  sadhak not pay  must attention on that  and this is not  a correct factor. 
****NPRU****

1 comment:

ashok yadav said...

Bhaiyya ye to aapne bahut achchha kiya jo mahavidhya par puri ek series mein unke baare mein parichay kara rahe hain jinme se kuchh mahavidhya ke baare mein hum bahut kam jante hain jis ke karan hum unki sadhna par dhyan nahi de paate..... Bhaiyya bhagwati Chinnmasta ke pairon ke niche kai baar maithun rat istri aur pursh ko dikhaya gaya hai pls iska arth ke baare mein bataane ki kripa karen... Ashok