There was an error in this gadget

Saturday, May 26, 2012

DHOOMAVATI SOUBHAGYADAATRI KALP - धूमावती सौभाग्यदात्री कल्प






Dhoomra   Mativ  Sativ  Poornaat  Saa  Sayugme |
SaubhagyaDaatri   Sadeiv    Karunamayih ||
“He Aadi Shakti  Dhoomra form(having the form of smoke) Maa Dhoomavati, you always exhibit your unlimited sympathy and motherhood, blessing sadhak with good fortune through the combined path of good intellect and truth……………..I bow down to your holy feet|”
We can easily understand the infinite-ness and gigantic nature of Maa Dhoomavati through the sloka taken from “Dhoomrasparya Kalp Padhati”.Very often, sadhak, when he is in state of curiosity become victim of many misconceptions. In such a state either he falls down deviating from the path or he not only gets acquainted with truth taking the support of lotus feet of Sadguru but also attains his own desired aim, travelling on that path with no trouble at all.
Disciple of Sadgurudev Kul Shiromani Shri Kaalidutt Sharman told me this thing in Maa Dhoomavati Peeth which is one of the peeths under Kamakhya peeth. I was then doing the sadhna of Maa Dhoomavati on that peeth through step by step procedure, following the orders of Sadgurudev. My aim was to attain only the complete success. The success which I got in sadhna was definitely one of the achievements but side by side, I got the continuous company of Sharman ji.At that time when I asked him that “Why people consider the sadhna of Maa Dhoomavati to be difficult, not beneficial and destructive”, then he introduced me to above said facts in answer to this question. His most important special quality was that he had imbibed the whole facts and thoughts of Sadgurudev within himself completely. Explaining things logically and with the support of facts was his quality.
I wanted to know more and more about Maa. And therefore the time left after sadhna, I preferred to spend acquiring knowledge rather than taking rest. Respecting my curiosity, he not only introduced me to various sadhnas and procedures of Maa Dhoomavati but also taught me to fight against the hurdles and situations arising in sadhna. He taught me regarding Mahavidya Sadhnas that “I too used to do sadhna, taking merely the support of scriptures in confused state and this state of mine remained till Sadgurudev took me under his own protection. After this it felt that I have got enlightened and besides this, I got introduced to the truth of sadhna world. The process which I earlier used to find cumbersome, got simpler. And this was quite natural since the person who has completely imbibed the experience of this path inside him, can only takes disciples on this path. Any form of MahaVidya ….may it be Mahakaali, Tara or Kamla….is complete in itself. These all are none but the different forms of that Para Shakti (Aadya Shakti), when she can create, maintain and destroy the universe only with mere imagination then how can the mahavidya form of this param Poorn can be incomplete. These all will be definitely special”
Sadgurudev has taught me that the qualities for which the separate 10 forms of Mahavidyas are worshipped, in reality are hidden so that they do not remain general. This tradition has always been among the siddhs and sadhak from old ages. Whenever any sadhak start doing sadhna with full dedication under complete protection of Guru then after examination, sadhak is introduced to universality of these powers and then every key are revealed to him and then he comes to know that every mahavidya possess every quality and is capable of sadhak giving everything meaning if Maa Kamla is basic power for providing money but there are hidden forms of her which are capable of destroying enemies and providing the knowledge. Now it depend on Guru that when these facts are revealed to disciples and it all depends on sadhak that how he attain these keys after winning the heart of Sadguru with dedication. In reality, the process of transformation of qualities of these shaktis are based on different permutation and combination of sat, raj and tam qualities combined dhayan, direction, dress, time and process. For accomplishing any Mahavidya completely, sadhak has to take assistance of completely different life-style, food and eating habits……but where we have to merely take the blessings then the rules become simpler and we all this know that when we call Maa sentimentally, then she definitely comes.
The same is the case with Maa Dhoomavati, general public or normal sadhak consider her only as Alakshmi or goddess of destruction. But the one whose intellect has been activated knows why at all outer environment of this Mahavidya has been made old then will the environment of old grandmother or maternal grandmother be not affectionate. Dhoomavati Soubhagyadaatri Kalp is one of such prayog which when done on Dhoomavati day/jayanti  or any Sunday not only provide suitability in life but also riddance from enemy, financial progress,success in work field, influential personality and activation of kundalini. These qualities, beyond conceptions of destruction are also visible clearly through sadhna of her.
This sadhna is done only in the night after 10:00 P.M. After taking bath, without cleaning body with towel or just drying our body or dry the body gently with Ang Vastra worn above the dhoti. Then wear the white clothes or very light yellow dress.Colour of Ang Vastra  worn above would be also white or light yellow…..No  inner garments should be used in addition to dhoti and Ang Vastra. This rule applies to both sadhak and sadhika .Female should wear the blouse of same color of saree. Aasan should be white…..direction will be south. After doing normal panchopchar poojan of Guru and Ganpati, spread white cloth on a separate Baajot and then write “Dhoom” with the help of Kajal in the iron or steel container. Establish one supaari above it and pronounce this dhayan mantra 11 times, while folding your hands-
Dhoomra   Mativ  Sativ  Poornaat  Saa  Sayugme |
SaubhagyaDaatri   Sadeiv    Karunamayih ||
After this ,worship supaari considering it as the form of Maa Dhoomavati with rice,kaajal,Bhasm(ash of Dhoop or licensed stick, ash of dung cakes or bhasm of any hawan done earlier),black peeper, oil lamp and offer boiled udad and fruits as navidya.( Om Dhoom Dhoom Dhoomavatyai Akshat Samarpayaami…..Kajal Samarpayaami…..etc.).After that, on the right side of that container  i.e. on your left side, establish one small container made up of iron or clay and after making a heap of white til,establish second supaari on it.Meditate on the Bhairav of Maa Dhoomavati Aghor Rudra while pronouncing the below mantra 5 times.
Tripaad Hast Nayanam Neelanjanam Chayopamam,
Shoolaasi Suchi Hastam Ch Ghor Dashtratat Haasinam ||
And do the poojan of that supaari with black Til, rice, dhoop-deep and jaggary (called gud in Hindi) and while offering black til, pronounce the “Om Aghor Rudraay Namah” 21 times. After this, take some water in right hand; sprinkle the water on whole body while doing this mantra 5 times-
Dhoomavati Mukham Paatu Dhoom Dhoom Swahaswaroopani |
Lalaate Vijaya Paatu Maalini Nitysundari ||
Kalyani Hridayapaatu hasreem Naabhi Deshke |
Sarvaang Paatu Deveshi Nishkala  BhagMaalina ||
Supunyam Kavacham Divyam Yah Pathedbhakti Sanyutah |
Soubhagyamytam Prapya Jaate Devituram Yay ||
After that, the plate in which you have established Maa Dhoomavati, offer rice mixed black peeper on that supaari while pronouncing every mantra 11-11 times in sequence. Example –
Pronouncing Om BhadraKalyei Namah 11 times, offer mixture of rice and full black peeper ,then pronouncing second mantra 11 times again  offer the mixture and then third mantra…..
Om BhadraKaalyai Namah
Om MahaaKaalyai Namah
Om DamaruVaadyKaarineedevyai Namah
Om Sfaaritnayanaadevyai Namah
Om Katankithaasinyai Namah
Om Dhoomavatyai Namah
Om Jagatkartrir Namah
Om Shurp hastaayai Namah
After that, chant 21 rounds of below mantra with rudraksh rosary. As far as possible, the chanting can be done in one go then very good….
OM DHOOM DHOOM DHOOMAVATYAI PHAT ||
After the mantra jap, ignite wooden stick in hawan kund made up of clay or iron (if hawan kund is not available, then any bowl, pan, tawa (a circular iron plate used for cooking purpose) can also be used), offer the oblation of ghee and black peeper 108 times. While offering oblation, you can feel intensity nearby you and everything becomes peaceful after Poorn aahuti…..After that take bath again and then go for sleep. On the morning of next day, immerse all the articles along with cloths spread on Baajot. The rosary used for chanting mantra should be immersed in salty water for at least 24 hours and then wash it with clean water and after worshipping it, use it for other purpose. If you have to do this process again then you have to repeat the entire process with new sadhna articles (except rosary).After doing this process, one can experience what he/she has done, how the situations become favorable. These all have to be experienced by oneself……If Sadgurudev wish then in future, I will try to put forward many more hidden facts like this…..till then….
Jai Sadgurudev
Nikhil Pranam


=================================================
 धूम्रा मतिव सतिव पूर्णात सा सायुग्मे |


सौभाग्यदात्री सदैव करुणामयि: ||



   “हे आदि शक्ति धूम्र रूपा माँ धूमावती आप पूर्णता के साथ सुमेधा और सत्य के युग्म मार्ग द्वारा साधक को सौभाग्य का दान करके सर्वदा अपनी असीम करुणा और ममता का परिचय देती हो....आपके श्री चरणों में मेरा नमस्कार है |”



   “धूम्रासपर्या कल्प पद्धति” से उद्धृत इस श्लोक से ही माँ धूमावती की असीमता और विराटता को हम सहज ही समझ सकते हैं | बहुधा साधक जब जिज्ञासु की अवस्था में होता है तब वो भ्रांतियों का शिकार होता है,अब ऐसे में या तो वो मार्ग से भटककर पतित हो जाता है,या फिर सद्गुरु के श्री चरण कमलों का आश्रय लेकर सत्य से ना सिर्फ परिचित हो जाता है अपितु उस पर निर्बाध गति करते हुए अपने अभीष्ट लक्ष्य को भी प्राप्त कर लेता है |

     माँ कामाख्या पीठान्तार्गत माँ धूमावती पीठ में मुझे ये बात समझाते हुए सदगुरुदेव के शिष्य कुल शिरोमणि श्री कालीदत्त शर्मन जी ने ये बात कही थी | मैं सदगुरुदेव की आज्ञा से तब उस पीठ पर माँ धूमावती की साधना क्रमिक विधान से कर रहा था और मेरा लक्ष्य मात्र पूर्ण सफलता की प्राप्ति करना ही था | साधना में जो सफलता मिली वो तो एक अलग ही उपलब्धि थी,साथ ही साथ मुझे शर्मन जी का भी निरंतर साहचर्य प्राप्त होता रहा | उसी काल में मैंने जब उनसे पूछा की “लोग माँ धूमावती की साधना को जटिल और अहितकर या विनाशकारी क्यूँ मानते हैं” तभी उसी प्रश्न के उत्तर में उन्होंने मुझे उपरोक्त तथ्यों से परिचित करवाया था | उनकी सबसे बड़ी विशेषता ये थी की वे सदगुरुदेव द्वारा बताए गए सम्पूर्ण तथ्यों और विचारों को स्वयं में पूरी तरह आत्मसात किये हुए थे | अपनी बातों को पूर्ण तर्कसंगत और तथ्यों के साथ समझाना उनकी विशेषता ही तो थी |
  मैं माँ के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना चाहता था | और इस लिए साधना के बाद मेरे पास जो भी समय बचता था,उसे आराम में लगाने की अपेक्षा ज्ञानार्जन में लगाना रुचिकर समझता था | ऐसे में उन्होंने मेरी जिज्ञासाओं का मान रखते हुए माँ धूमावती की अनेको साधनाओं और क्रियाओं से ना सिर्फ परिचित करवाया अपितु स्वयं उसमे आने वाली बाधाओं और स्थितियों का सामना करना भी सिखाया | उन्होंने मुझे महाविद्या साधनाओं के बारे में समझाते हुए बताया की “मैं भी मात्र ग्रंथों का आश्रय लेकर भ्रमित अवस्था में साधना करता रहता था और मेरी ये अवस्था तब तक रही जब तक की सदगुरुदेव ने मुझे स्वयं के संरक्षण में ना ले लिया | उसके बाद तो मानो ज्ञान चक्षु तो खुल ही गए साथ ही साथ साधना जगत की सत्यता से भी मेरा साक्षात्कार होता चला गे,जो क्रिया कल तक मुझे दुरूह लगती थी,वही अब सरल होते चली गयी | और ऐसा होना स्वाभाविक ही था अरे जो स्वयं इस मार्ग की अनुभूतियों को अपने भीतर उतार चूका हो वही तो अपने शिष्य का हाथ थाम कर ले जा सकता है | महाविद्याओं का कोई भी रूप...फिर वो चाहे महाकाली हों,तारा हों या कमला हों...अपने आप में पूर्ण होता है | ये सभी उसी परा शक्ति आद्यशक्ति के ही तो विभिन्न रूप हैं,जब वो स्वयं अपनी कल्पना मात्र से इस सृष्टि का सृजन,पालन और संहार कर सकती हैं तो उसी परम पूर्ण के ये महाविद्या रुपी रूप कैसे अपूर्ण होंगे | इनमे भी तो निश्चित ही वही विशिष्टता होंगी ही ना |”
  सदगुरुदेव ने मुझे यही समझाया था की महाविद्याओं के पृथक पृथक १० रूपों को उनके जिन गुणों के कारण पूजा जाता है ,वास्तव में वो उन्हें सामान्य ना होने देने की गुप्तता ही है,जो पुरातन काल से सिद्धों और साधकों की परंपरा में चलती चली आई है | जब कोई साधक गुरु के संरक्षण में पूर्ण समर्पण के साथ साधना के लिए जाता है तो परीक्षा के बाद उसे इन शक्तियों की ब्रह्माण्डीयता से परिचित कराया जाता है और तब सभी कुंजियाँ उसके हाथ में सौंप दी जाती हैं और तभी उसे ज्ञात होता है की सभी महाविद्याएं सर्व गुणों से परिपूर्ण है और वे अपने साधक को सब कुछ देने का सामर्थ्य रखती हैं अर्थात यदि माँ कमला धन प्रदान करने वाली शक्ति के रूप में साध्य हैं तो उनके कई गोपनीय रूप शत्रु मर्दन और ज्ञान से आपूरित करने वाले भी हैं | अब ये तो गुरु पर निर्भर करता है की वो कब इन तथ्यों को अपने शिष्य को सौंपता है और ये शिष्य पर है की वो अपने समर्पण से कैसे सद्गुरु के ह्रदय को जीतकर उनसे इन कुंजियों को प्राप्त करता है | वास्तव में सत,रज और तम गुणों से युक्त ध्यान,दिशा,वस्त्र,काल और विधि पर ही उस शक्तियों के गुण परिवर्तन की क्रिया आधारित होती है | किसी भी महाविद्या को पूर्ण रूप से सिद्ध कर लेने के लिए साधक को एक अलग ही जीवन चर्या,आहार-विहार और खान-पान का आश्रय लेना पड़ता है....किन्तु जहाँ मात्र उनकी कृपा प्राप्त करनी हो तो ये नियम थोड़े सरल हो जाते हैं और ये हम सब जानते हैं की विगलित कंठ से माँ को पुकारने पर वो आती ही हैं |
  माँ धूमावती के साथ भी ऐसा ही है,जन सामान्य या सामान्य साधक उन्हें मात्र अलक्ष्मी और विनाश की देवी ही मानते हैं | किन्तु जिनकी प्रज्ञा का जागरण हुआ हो वो जानते हैं की आखिर इस महाविद्या का बाह्य परिवेश यदि इतना वृद्ध बनाया गया है तो क्या वो वृद्ध दादी या नानी माँ का परिवेश उन्ही वात्सल्यता से युक्त ना होगा |  धूमावती सौभाग्यदात्री कल्प एक ऐसा ही प्रयोग है जिसे मात्र धूमावती दिवस,जयंती या किसी भी रविवार को एक दिन करने पर ही ना सिर्फ जीवन में पूर्ण अनुकूलता प्राप्त हो जाती है अपितु..शत्रुओं से मुक्ति,आर्थिक उन्नति,कार्य क्षेत्र में सफलता,प्रभावकारी व्यक्तित्व और कुण्डलिनी जागरण जैसे लाभ भी प्राप्त होते हैं | विनाश और संहार के कथनों से परे ये गुण भी हम इन्ही की साधना से स्पष्ट रूप से देख सकते हैं |
  ये साधना रात्री में ही १० बजे के बाद की जाती है | स्नान कर बगैर तौलिए से शरीर पोछे ९या तो वैसे ही शरीर को सुखा लिया जाये या धोती के ऊपर धारण किये जाने वाले अंग वस्त्र से हलके हल्के शरीर सुखा लिया जाये और साधना के निमित्त सफ़ेद वस्त्र या बहुत हल्का पीला वस्त्र  धारण कर लिया जाये | ऊपर का अंगवस्त्र भी सफ़ेद या हल्का पीला ही होगा..धोती और अंगवस्त्र के अतिरिक्त कोई अंतर्वस्त्र प्रयोग नहीं किया जाये | साधक साधिका दोनों के लिए यही नियम है,महिला ऊपर साडी के रंग का ही ब्लाउज पहन सकती हैं | आसन सफ़ेद होगा.. दिशा दक्षिण होगी | गुरु व गणपति के सामान्य पंचोपचार पूजन के बाद एक पृथक बाजोट पर सफ़ेद वस्त्र बिछाकर एक लोहे या स्टील के पात्र में “धूं” का अंकन काजल से करके उसके ऊपर एक सुपारी स्थापित कर दी जाए और हाथ जोड़कर निम्न ध्यान मंत्र का ११ बार उच्चारण करे –
धूम्रा मतिव सतिव पूर्णात सा सायुग्मे |

सौभाग्यदात्री सदैव करुणामयि: ||   
    इसके बाद उस सुपारी को माँ धूमावती का रूप मानते हुए,अक्षत,काजल,भस्म(धुप बत्ती या अगरबत्ती की राख,गोबर के उपलों की राख या पहले हुए किसी भी हवन की भस्म) ,काली मिर्च और तेल के दीपक से और उबाली हुयी उडद और फल का नैवेद्य द्वारा उनका पूजन करे (

ॐ  धूं धूं धूमावत्यै अक्षत समर्पयामी...कज्जलं समर्पोयामी...आदि आदि)

, तत्पश्चात उस पात्र के दाहिने अर्थात अपने बायीं और एक मिटटी या लोहे का छोटा पात्र स्थापित कर उसमे सफ़ेद तिलों की ढेरी बनाकर उसके ऊपर एक दूसरी सुपारी स्थापित करे,और निम्न ध्यान मंत्र का ५ बार उच्चारण करते हुए माँ धूमावती के भैरव अघोर रूद्र का ध्यान करे –

त्रिपाद हस्त नयनं नीलांजनं चयोपमं,

शूलासि सूची हस्तं च घोर दंष्ट्राटट् हासिनम् ||
  
और उस सुपारी का पूजन,काले तिल,अक्षत,धूप-दीप तथा गुड़ से करे तथा काले तिल डालते हुए ‘ॐ  अघोर रुद्राय नमः’ मंत्र का २१ बार उच्चारण करे | इसके बाद बाए हाथ में जल लेकर दाहिने हाथ से निम्न मंत्र का ५ बार उच्चारण करते हुए पूरे शरीर पर छिडके –

धूमावती मुखं पातु  धूं धूं स्वाहास्वरूपिणी |
ललाटे विजया पातु मालिनी नित्यसुन्दरी ||
कल्याणी ह्रदयपातु हसरीं नाभि देशके |
सर्वांग पातु देवेशी निष्कला भगमालिना ||
सुपुण्यं कवचं दिव्यं यः पठेदभक्ति संयुतः |
सौभाग्यमयतं प्राप्य जाते देवितुरं ययौ ||

इसके बाद जिस थाली में माँ धूमावती की स्थापना की थी,उस सुपारी को अक्षत और काली मिर्च मिलकर निम्न मंत्र की आवृत्ति ११ बार कीजिये अर्थात क्रम से हर मंत्र ११-११ बार बोलते हुए अक्षत मिश्रित काली मिर्च डालते रहे | उदाहरण-

ॐ  भद्रकाल्यै नमः

 मंत्र को ११ बार बोलते हुए अक्षत और साबुत काली मिर्च का मिश्रण अर्पित करे,फिर दूसरा मंत्र ११ बार बोलते हुए पुनः मिश्रण चढाये,फिर तीसरा मंत्र......

ॐ  भद्रकाल्यै नमः
ॐ  महाकाल्यै नमः
ॐ  डमरूवाद्यकारिणीदेव्यै नमः
ॐ  स्फारितनयनादेव्यै नमः
ॐ  कटंकितहासिन्यै नमः
ॐ  धूमावत्यै नमः
ॐ  जगतकर्त्री नमः
ॐ  शूर्पहस्तायै नमः
  इसके बाद  निम्न मंत्र का जप रुद्राक्ष माला से २१ माला करें, यथासंभव एक बार में ही ये जप हो सके तो अतिउत्तम –

ॐ  धूं धूं धूमावत्यै फट् ||

OM DHOOM DHOOM DHOOMAVATYAI PHAT ||

  मंत्र जप के बाद मिटटी या लोहे के हवन कुंड(हवन कुंड ना हो तो कोई भी कटोरा,कढ़ाई,तवा आदि भी लिया जा सकता है)  में लकड़ी जलाकर १०८ बार घी व काली मिर्च के द्वारा आहुति डाल दें | आहुति के दौरान ही आपको आपके आस पास एक तीव्रता का अनुभव हो सकता है और पूर्णाहुति के साथ अचानक मानो सब कुछ शांत हो जाता है....इसके बाद आप पुनः स्नान कर ही सोने के लिए जाए और दुसरे दिन सुबह आप सभी सामग्री को बाजोट पर बीछे वस्त्र के साथ ही विसर्जित कर दें और जप माला को कम से कम २४ घंटे नमक मिश्रित जल में डुबाकर रखे और फिर साफ़ जल से धोकर और उसका पूजन कर अन्य कार्यों में प्रयोग करें | यदि बाद मे भी कभी इस प्रयोग को करना हो तो नवीन सामग्री (माला छोड़कर) से उपरोक्त सारी प्रक्रिया पुनः करना पड़ेगा |इस प्रयोग को करने पर स्वयं ही अनुभव हो जाएगा की आपने किया क्या है,कैसे परिस्थितियाँ आपके अनुकूल हो जाती है ये तो स्वयं अनुभव करने वाली बात है.... सदगुरुदेव ने चाहा तो आने वाले समय में और भी कई गोपनीय तथ्यों को आपके सामने रखने का प्रयास करूँगा...... तब तक के लिए...

जय सदगुरुदेव

निखिल प्रणाम

****NPRU****

2 comments:

Radhe said...

very nice ..............

ज्योतिष विद्या said...

mere papa koma me hai unhe 3 mahine ho gye hai dawaiya chal rahe hai par kya tantrao me koi upaye hai unhe thek karne ka.
20 ki speed me acident hua tha bike ko kuch nahi hua, papa ko kahi v kharoch nahi hai par sir me band chot aai par kese ye doctor v nahi bata paye ki etni kam speed me itna jada chot kese aa gai. wo v nahi samj pa rahe hai.
age 50 years