There was an error in this gadget

Thursday, May 31, 2012

HOW TO GET SUCCESS IN SABAR SADHNAA - साबर साधना में सफलता प्राप्ति के गोपनीय सूत्र



The name like Panchami Maai full of love, affection, kindliness, knowledge and devotion. Uttarakhand place was always been closed to her heart. On the mountain ranges of uttarakhand only she had been accomplished various siddhis by sadgurudev in her sanyast life. In 1994 when she came to Bhilai in Sadgurudev’s  Navratri Shivir, at the same time with Sadgurudev’s blessing I was also introduced to her. Same time sadgurudev told me that she is advanced in Sabar Sadhnas and learned all the secret knowledge and successfully attempted training and experimented it.
With blessings of sadgurudev allSadhak used to study various types of sadhnas in shivirs. The time between 1981 to 1998 would always be memorised as golden time. In which he put forth different facts of this sadhna for two times infrnt of us and practically didit for our understanding. And we got expected results also.Although my Diksha was done in 1988.So obviously i didnt get those secrets in 1986. But gallingfeeling always remained in my mind. But whenever i used to ask for sadhna toSadgurudev in Gurudham for two diffenrent years and every possible time he calmdown my curiousity abt this tantra. And opened various secrets of Sabar Sadhnaswhich was essential to get success in it which are lying in safe hands of highelevel of sadhaks.
At the same time he told me that oneof my disciple Panchami Mai to whom i have given secrets facts of thissadhnas. whenever u feel like learning these facts visit her she will tell you.Thereafter finally i met her in 1994..Due to Sadgurudevs permission she agreed to make me understand this subject.
Time by time I contacted her and learned this subject from her, then practiced it in Gorakhpur and various peethas. Even got other useful facts from the local yogis of that places too. Very importantly they always respected Sadgurudevji and accepted his personality as indefinite and unimaginable. After invasion of Sadgurudev in December,1999 I was reading the magazine of 1985 suddenly I noticed one sadhna whose title was ‘wo sabar mantra jo maine bhagvan Shankar s prapt kiya’  I mean the sabar mantra which I got from God Shiva.. wonderful mantra was given but along with that one have to use some special signs and special procedure is used via which success can be achieved.
Now i was becoming very curiousabout this mantra as by any way i eagerly wanted the whole procedure of thissadhna. I asked to every possble guru brother about this sadhna, but they were unawareabout this sadhna.
Then meeting to Mai thought came tomy mind and few days later when she arrived Pachmadi, shecalled me at herplace. There she resolved my each query and shown practically.
Various facts of sabar sadhnas whichi got from sadgurudev and mai are being displayed here to you for your benifit.And i hope each one will take complete benifit of it and would embibe itproperly.
1. For accomplishing sabar mantrasone should follow the instructed way and day from guru, Wherever the day andprocedure is unavailable then any eclipse, holi, navratri, Diwali night timeand sunday, tuesday and friday must be undertaken. For place, any siddha peeth,bank of river, mountain peak, any siddha temple or peaceful room would alsoserve best purpose in such case.
2. Use of Lohban dhup would beappropriate while sadhna period.
3. Sadhna place should be veryclean, if possible then smear it by cowdung would be more benifitted.
4. Most importantly one shouldhave full devotion and dedication toward Guru, mantra and god for whom thesadhna has been pursued.
5. In sabar sadhnas the clealinessplays an important role and along with the physical piousness it is alsorelated with the mentality, place and food. No excuse is accepted. In sabarsadhnas u cant ignore the environment. In favourable environment they can besiddh easily.
6. In sadhna period one shouldmaintain the mental, visual, physical, touchable celibacy. There is no point ifhe maintains it externally but intarnally sinked with sexual thoughts.. So betternot to do it....ok..
7. Concentration is key factor.The mantras attempted with full concentrated mindcan be achievedshortly.
8. Every year on that special dateu must chant the same mantra which u siddh, chant it again so that power ofthat mantra remain as it is with u.Thereafter do oblation for 108 times.
9. If lack of asan then useblanket as asan. Roasary should be of coral or rudraksh. Sabar siddhi Mala orGorakh Malas are highly suggested. Do Mantra as it is given. Dont make changesby your own..ok.. Follow the exact time directed for Jap count nor less. Lampshould be lighted by oil.
10. Between sadhna period dontsacrifice asana.
11If not directed the for havan take butter, Guggul and general things of havan which are normally been use. formuslim sabar mantra oblation of lohban is used. In sabar Mantra sadhnainstead of Vasodhara( butter flow used inhavan) the lemon has been used and squized. Here lemon is sacrificed in havan.
12. The worship of Ganapati andBhairav is must. It should be done before performing sadhna. ‘Ram’ beej shouldbe chanted for 108 times on panch patra water.

Vajra Krodhay Mahadantay dashdisho bandh bandh hum phat swaha.

By the way there are various ways of achieving success in sabar sadhnas are famous. But here we are providing such ways for those household married persons can do this easily and achieve the success. Those 5 secret ways are explained below:
1.   One day before Sadhna, one should do Bhairav Uthhapan process. As various ways and series are their to perform but for safety take one plate and write the mantra by kum kum and offer with sweets, then take seven leaves of peepal fig tree, 3 cloves, 1 cardomom and place it in mud pot. Establish it before with kumkum and make triangle on it facing in upward direction. Face towards east or north.

After doing Guru pujan( would bebetter if u do sabar guru pujan mentioned in tantraukt guru pujan book) Thenwith Dand Mudra and Krodh Mudra touch yournaveland concentrate and chant malas of below mantra-

Om Sarvarthsadhini swaha

Then chant mala of followingmantra –

Om Bhram Bhram Bhram Bhram Bhram Bhram Bhram phat.

In same night gather all the havanthings and keep it down at fig tree. And pray to God Bharav for accomplishmentof sadhna. On second day offer some sweet and dakshina to any small girltrating her as Maa Asavari form and take blesings of her.In this way BhairavUthhapan process gets completed.

2.The wayTantraukt safalya mantra is used for Tantraukt Mantra siddhi, similarly sabar sumeru mantra is been used before Jap thenonly the sadhya mantra jap isappropriate.s

Guru sath guru sath guru hai veer, guru hai veer, guru sahib sumerau badi bhant.singi toro ban kaha,man nau kartar.sakal guru hi har bhaje, ghatata pakar uth jag, chet samhar shree paramhans.

First chant 11 malas and siddh it for yourself with piousness. In sabar mantra it has been called as sabar sumeru mantra. And it gives success in each aspect of life.

3. Well for achieving success insabar sadhnas all natural things are used or in other words that is base andthe mantra based on it are firstly get siddh. But in present situation thenatural herbs and natuaral things for havan are not easily availabe . Like inMeen Mukta the Guru Matsyendranath ji are naturally resides., Bans muktak orBansh Lochan contains Guru Hanifa Nath, similarly various tupes of herbs andthings are there in which all Navnaths and 84 siddhhs are resided. and in formof symbol if we used the related things then they will easily helps us andbless us with success in related Tantra. Via which Kundalini Jagran, KrutyaSadhna, Parkaya Pravesh, Ashtadash Sidhhies, Guru Pratyakshikaran, ApsaraSiddhies, etc sadhnas are possible.All these are possibe by sabar mantra. Buthere i dnt feel right to explain or give u those details. Big reason behind itis scarcity of those herbs. As when it will come in light people will try toget that herb or thing from which the sabar tantra is siddhh. in this way itwill finish Well all these can be done by two special Sadhna things with hndredpercent.

Sabar Siddhi Mahayantra

sabar Siddhi Pradayak Maha Siddh Navnath Parad Gutika

Whomsoever read about the Sabarsiddhi Mahayantra would be very much aware that sadgurudev with his kindnesshave given so important yantra for us.via which any sabar sadhna can beperformed and success and dont know in future how many more sadhnas would comebefore us.

In the same way the sabar gutika is inspiredand awakened by Navnath Mantras. and by special way it has been whichinfluences and gives these types of benifits which are beyond imaginations. Theproduction procedure and three experiments which can be done on it are given inthis article only.. They are :-
Sabar Guru Pratyakshikaran sadhna
Sabar Kundalini Jagran sadhna
sabar Yaksh Gandharva Siddhi sadhna

All these sadhnas are being given for the firsttime in any book or magzine.I m thankful to Panchami Maiand i can say only thismuch that the knowdge series given by Sadgurudev is so vast that we can evenimagine.Well before this gutika and yantra do mala following mantradefinitely. Sadgurudev told that normally you have to do 62 activities forsuccess in sabar sadhnas but its not easy for everyone.(Thts d reason it hasnot been mention here) Therefore sadhak nor doing those just performing these process success is sure. The mantra is :-
Om Aadi nath jyoti rup baso tum jaani, sakalpadarth tum base, basi jagdamba saath tohre, neeli jyoti rup tumhara, karajpoora atam shakti ka, aashish sakal guru shakti ka.

After this the gutika can be usein sadhna.Then establishing that wonderful Mahayantra is the prime fortune forany sadhak.and this how the doors are opened for him in sabar sadhnas.
4.This process is known asAbhikilan proces. This is Hath Purvak sabar shakti controlling process.In thisthe Amruteshvari Power of God shiv is used so that related sabar sadhna notonly gives siddhi but also provides all fruits forever to and your family andcomplete gud health and gud fortune in whole life.Due this process the thingsand mantra become awaken and influcing and fruitful in all senses.
On sadhna day morning take shower and tie knotof all sadhan samagris in white color cloth ( whatever color mentioned inrelated sadhna only that should be used and then place it on stool.) now draw atriangle upward facing on that white cloth which should be made up of Shvetchandan and kumkum. Establish it. Before tieing knot clean each n every samagriproperly. simultaneously write your wish on blank paper by kum kum and place itat front sided left leg of stul.( this should be placed under stul’s leg tillthe time sadhna doesn’t get over.afterward with all other thing this alsoshould be consigned in river) after all this just concentrate on your navel andchant the following mantra for hr.this is astonishing mantra which will bevery useful for u in sadhna. :-

Om Shreem Hreem Mrityunjaye bhagvati chaitanya chandre hanssanjeevani swaha.

If this mantra is used in somespecial way along with Mahamrityunjay mantra then any member of sadhak cannotbe face Akal Mrityu.

5. If You have done any activitybefore performing the above but have performed many times then do this sadhnafirst and then perform the mention sadhna..surely u ll get success. Thisprocess would have been mentioned ina any book but related mantra has beenpublished for the first time with blessings of Sadgurudev.

On Sunday night do worship of Asavari Devi and plsce her in Kansa plate.And at starting of each prahar write this mantra on that plate with kum kum.

Om Asavari Asavari Puran karo hamari kamna, siddhi deejo, rakhiyo laaj, asawari maiyya ki duhai.

Now do it for 21 times and the mantra which you want to siddh need to done for 108 times.After forth prahar after Jap  say‘He mantra Devi jagrat ho, siddhi de’  and make sound on the plate by acacia stem .Definitely by this mantra will get awaken and gives u success.
All above process gives u success, the same I pray to sadgurudev. All these process wer kept secretful . well I m feeling great to share this information with my co guru bros and sis. May all take benefits and make their lives prosperous
==============================================


पंचमी माई ,जैसा नाम वैसे ही जीवन के पञ्च गुणों यथा ,प्रेम,ममता,करुणा,ज्ञान और समर्पण के भावो से भरी हुयी. उत्तराखंड से उनका बहुत लगाव रहा है.यहाँ की पर्वत श्रृंखलाओं पर ही उन्होंने सदगुरुदेव के सानिध्य में अपने सन्यस्त जीवन में विविध सिद्धियों को हस्तगत किया है. एक बार १९९४ में वे जब सदगुरुदेव से मुलाकात करने भिलाई नवरात्री  शिविर में आई थी तभी मेरा भी सदगुरुदेव की कृपा से संपर्क हुआ था ,तभी सदगुरुदेव ने मुझे ये कहा था की ये साबर साधनों में अग्रणी हैं और इन्होने मुझसे साबर साधनाओं के समस्त अज्ञात रहस्य को प्राप्त किया है और सफलता पूर्वक उसका प्रयोगात्मक परिक्षण भी किया है.
    सदगुरुदेव के आशीर्वाद तले विविध साधनाओं का अभ्यास सभी साधक साधना शिविरों में किया करते थे.१९८१ से १९९८ का स्वर्णिम काल साधक समाज के मध्य हमेशा स्मरण रहेगा. १९८६  और उसके बाद भी सदगुरुदेव ने दो बार साबर साधना शिविर आयोजित किये थे.जिसमे उन्होंने इस साधना के विविध सूत्रों को साधकों के मध्य रखा और जिसका प्रयोग कर साधकों ने आशातीत सफलता भी प्राप्त की. हालाँकि मेरी दीक्षा १९८८ में हुयी थी तो मैं उन रहस्यों को १९८६  में तो प्राप्त कर ही नहीं पाया( ये स्वाभाविक भी था) परन्तु इसकी कचोट मेरे ह्रदय में हमेशा रही है. परन्तु जब मैं साधना के लिए सदगुरुदेव के पास गुरुधाम में बाद में अलग अलग २ वर्षों तक रहा तो यथा अवसर वे मेरी इस तंत्र की जिज्ञासा का शमन अवश्य किया करते थे और उन्होंने बहुत सरे रहस्यों को अनावृत भी किया जो की साबर साधनाओं में सफलता प्राप्ति के लिए अनिवार्य ही थे और मात्र उच्च साधकों के पास ही सुरक्षित थे. उसी समय उन्होंने मुझे कहा था की “मेरी एक शिष्या है ‘पंचमी माई’ उसे मैंने इस साधना के दुर्लभ सूत्र प्रदान किये हैं,जब कभी तुम्हे इस विषय को समझना की अभिलाषा हो तो तुम उसके पास चले जाना”. बाद में १९९४ में मेरी उनसे मुलाकात हो ही गयी,सदगुरुदेव के आदेश देने पर उन्होंने विषय को समझाना स्वीकार कर लिया.
   समय समय पर मैं उनसे संपर्क करता और इस विषय को समझता भी रहा तथा बाद में इस विद्या का गोरखपुर और अन्य पीठो में अभ्यास भी किया तथा उन स्थानों के योगियों से भी बहुत से साबर मन्त्रों को प्राप्त  किया ,मुख्य बात हमेशा ये रही की वे सभी सदगुरुदेव को बहुत ही आदर दिया करते थे और उनके व्यक्तित्व को अलंघनीय और अकल्पनीय मानते थे.सदगुरुदेव के महाप्रयाण के बाद १९९९ के दिसंबर में एक बार मैं १९८५ के आस पास की पत्रिका का अध्यन कर रहा था,तभी उसमे दी गयी एक साधना के ऊपर मेरा ध्यान गया,जिसका शीर्षक था’वह साबर मंत्र जो मैंने भगवन शंकर से प्राप्त किया’ उसमे एक बहुत ही अद्भुत मन्त्र दिया हुआ था परन्तु साथ ही साथ ये भी लिखा हुआ था की इस मंत्र में कुछ गुप्त मुद्राओं और किसी खास पद्धति का प्रयोग होता है तभी सफलता प्राप्त होती है. अब मेरी उत्सुकता इस मंत्र को लेकर इतनी ज्यादा हो गयी थी की मैं इसकी सम्पूर्ण प्रक्रिया को येन-केन प्राप्त करना ही चाहता था. मैंने कई वरिष्ट गुरु भाइयों से भी संपर्क किया पर कोई भी संतोषजनक उत्तर कही से नहीं मिला या फिर वे अनभिज्ञ थे इस क्रिया से.
 तब मेरे मन  में माई से मिलने का विचार आया और थोड़े दिनों बाद जब वे पचमढ़ी आई तो उन्होंने मुझे वह बुलवा लिया. वही पर उन्होंने मेरी सभी शंकाओं का समाधान किया और उस क्रिया को सप्रमाण दिखा कर समझाया भी.
   साबर साधनाओं में सफलता के विभिन्न सूत्र जो मुझे परम पूज्य सदगुरुदेव और माई से प्राप्त हुए हैं वो मैं आप सभी के लाभार्थ यहाँ पर दे रहा हूँ,और आशा करता हूँ की आप सभी को निश्चय ही इससे पूर्ण लाभ होगा और विषय को आत्मसात करने में सहयोग भी मिलेगा.
१. साबर मन्त्रों को सिद्ध करने के लिए गुरु द्वारा निर्देशित पद्धति और दिवस का आश्रय लेना चाहिए ,जहाँ पर पद्धति और दिवस का वर्णन न हो वहाँ पर कोई भी ग्रहण,होली, नवरात्री,दीवाली की रात्रि या रविवार,मंगलवार या शुक्रवार का प्रयोग किया जा सकता है .स्थान के रूप में सिद्ध पीठ , नदी या सरोवर का किनारा,पर्वत शिखर ,कोई सिद्ध मंदिर या फिर एकांत कक्ष का भी प्रयोग कही ज्यादा उचित होता है.
२.लोहबान धूप का प्रयोग साधनाकाल में किया जाना अधिक उचित है .
३.साधना स्थल पूर्ण रूपेण स्वच्छ होना चाहिए यदि गाय के गोबर से लीप कर चौका बनाया जाये तो ज्यादा उचित रहता है.
४.गुरु,मन्त्र और देवता के प्रति पूर्ण समर्पण और श्रृद्धा होना आवश्यक गुण है.
५.साबर साधनाओं में भी पवित्रता का महत्वपूर्ण योगदान होता है और ये पवित्रता शारीरिक के साथ साथ मानसिक,स्थानिक और भोजन से सम्बंधित होती है,इसमें ढील की कोई गुन्जायिश नहीं रहती है.साबर साधनाओं में वातावरण की उपयोगिता को नकारा नहीं जा सकता.अनुकूल वातावरण में ये मंत्र शीघ्र ही सफलता प्रदान करते हैं.
६.मानसिक,दृष्टिक,शारीरिक,स्पर्शिक ब्रह्मचर्य का प्रयोग यथा संभव साधक को साधना काल में करना ही चाहिए.क्या लाभ यदि साधक शरीर से तो ब्रह्मचर्य का पालन करे परन्तु,विचारों और दृष्टि से वो कामुक चिंतन करता रहे .
७.एकाग्रता अनिवार्य तत्व है.एकाग्र मन से किये गए मन्त्र शीघ्र ही सफलता प्रदान करते हैं.
८.प्रत्येक वर्ष उस विशेष तिथि पर जिसपर आपने उस मन्त्र को सिद्ध किया था,पुनः मंत्र को जप कर ले ताकि मन्त्र की शक्ति सुप्त ना हो पाए.जप के बाद मन्त्र की कम से कम १०८ आहुति भी डाल दे.
९.यदि आसन निर्दिष्ट ना हो तो,कम्बल का आसन प्रयोग करे.माला मूंगे की या रुद्राक्ष की प्रयोग की जाती है. साबर सिद्धि माला या गोरख माला का प्रयोग अधिक उचित है.मंत्र जैसा दिया गया है वैसे ही जप करे ,अपने आप उसमे कोई सुधार न करें. निर्दिष्ट जप संख्या में ही जप करे उससे कम नहीं.तेल के दीपक का प्रयोग अधिक उचित होता है.
१०.साधना के मध्य में आसन का त्याग न करे.
११.यदि निर्दिष्ट ना हो तो हवन के लिए घी,गुग्गुल और सामान्य हवन सामग्री का प्रयोग करे,मुस्लिम साबर मंत्रो के लिए लोहबान की आहुतियाँ प्रयोग होती हैं.साबर मंत्र साधना में वसोधारा की जगह नीबू को मंत्र पढकर काटकर हवन अग्नि में निचोड़ा जाता है. और नीबू की बलि भी दी जाती है.
१२.गणपति पूजन ,भैरव पूजन अनिवार्य कर्म है.इसे प्रत्येक साधना के पूर्व अवश्य करे.’रं’ बीज का पञ्च पात्र में रखे हुए जल पर १०८ बार उच्चारण करे और उस जल को चारों दिशाओं और शरीर पर छिड़क लें. –

वज्र क्रोधाय महादंताय दश दिशो बंध बंध हूँ फट् स्वाहा .

साबर साधनाओं में यूँ तो सफलता प्राप्त करने के कई गोपनीय उपाय साधकों के मध्य प्रचलित है परन्तु यहाँ पर हम गृहस्थ साधक किन प्रक्रियाओं का प्रयोग कर निश्चित सिद्धि पा सकते हैं उन ५ गूढ़ सिद्ध क्रम विधानों को मैं स्पष्ट कर रहा हूँ.
१.साधना के एक दिन पहले रात्रि काल में भैरव उत्थापन क्रिया का प्रयोग अवश्य कर लेना चाहिए. वैसे तो ये कई पद्धतियों से की जाती है और कई विभिन्न क्रमों से भी परन्तु निरापद क्रम के लिए एक भोजपत्र पर कुमकुम से मंत्र को लिख कर  उसे मिष्ठान (खीर,हलवा) पीपल के सात पत्ते,तीन लौंग,एक  इलायची के साथ एक मिटटी के कोरे पात्र में स्थापित कर दे और उस पात्र को अपने सामने एक उर्ध्वमुखी कुमकुम से बने हुए त्रिकोण में  स्थापित कर ले.मुख पूर्व या उत्तर की ओर होगा. गुरु का पूर्ण पूजन करने के पश्चात (ज्यादा उचित होगा की साधना काल में तंत्रोक्त गुरु पूजन पुस्तक में दिए गए साबर गुरु पूजन का प्रयोग करे.तत्पश्चात दंड मुद्रा और क्रोध मुद्रा का प्रदर्शन कर स्वयं की नाभि पर ध्यान केंद्रित कर अपनी  जप माला से ५ माला निम्न मंत्र की करे.

ओम सर्वार्थ साधिनी स्वाहा

इसके बाद १ माला निम्न मन्त्र की करे-

ओम भ्रं भ्रं भ्रं भ्रं भ्रं भ्रं भ्रं भ्रं फट

उसी रात को समस्त सामग्री को लेजाकर पीपल के पेड़ के नीचे रख दे और भगवान भैरव से साधना में सफलता की प्रार्थना करे .दुसरे दिन किसी छोटी कन्या को माँ असावरी का रूप मानकर मिष्ठान और दक्षिणा देकर तृप्त करें और आशीर्वाद ले.इस प्रकार भैरव उत्थापन क्रिया संपन्न होती है.
२. जिस प्रकार तांत्रोक्त मन्त्र की सिद्धि के लिए तंत्र साफल्य मंत्र का प्रयोग साधना के प्रारंभ में होता है,वैसे ही साबर सुमेरु मंत्र को सिद्ध कर प्रत्येक साबर साधना में जप के पहले इस मंत्र का जप किया जाता है इसके बाद ही साध्य मंत्र का जप उचित है.

गुरु सठ गुरु सठ गुरु हैं वीर,गुरु हैं वीर,गुरु साहब सुमरौं बड़ी भांत.सिंगी टोरो बन कहाँ,मन नाऊँ करतार.सकल गुरु की हर भजे,घटता पाकर उठ जाग,चेत सम्हार श्री परमहंस.

 इस मंत्र का पहले ११ माला जप कर स्वयं के लिए सिद्ध कर लेना चाहिए,हाँ पवित्रता के साथ ही इस मन्त्र को सिद्ध करना चाहिए.साबर मन्त्रों में ये सुमेरु मन्त्र कहलाता है.और ये जीवन के प्रत्येक क्षेत्रों में सफलता प्रदान करने वाला मंत्र है.
३.वैसे तो साबर साधनाओं में सफलता के लिए प्राकृतिक सामग्रियों का ही प्रयोग किया जाता है या ये कहे की प्राकृतिक सामग्रियों को ही आधार मानकर उन पर सम्बंधित मंत्र का जप कर सिद्ध कर लिया जाता है ,परन्तु वर्तमान में वो वनस्पतियां और सामग्रियां सहजता से उपलब्ध नहीं होती हैं.जैसे मीन मुक्त में स्वभाविक रूप से गुरु मत्स्येन्द्र नाथ जी का वास होता है , बांस मुक्तक या बंश लोचन में गुरु कनिफा नाथ का वास होता है,इसी प्रकार कई ऐसी वनस्पतियां और सामग्रियां होती है जिनमे इन नवनाथों और ८४ सिद्धों का वास होता है और जिन्हें प्रतीक रूप में यदि प्रयोग किया जाये तो इन अधिष्ठाता इन नाथों से सम्बंधित तंत्र की सिद्धि अधिक सहजता से हो जाती है जिसके द्वारा कुंडलिनी जागरण ,कृत्या साधन,परकाया प्रवेश, अष्टादश सिद्धियाँ,गुरु प्रत्यक्षीकरण ,अप्सरा सिद्धि आदि असंभव कार्य भी संभव किये जा सकते हैं.ये सभी भी साबर मन्त्रों से संभव है.किन्तु यहाँ मैं उन सामग्रियों का विवरण देना उचित नहीं समझता हूँ उसका सबसे बड़ा कारण है उन जीवों या वनस्पतियों का अल्पमात्रा में होना,यदि लोगो को जानकारी हो जाये की इस वनस्पति या जीव के द्वारा ये साबर तंत्र सिद्ध किया जा सकता है तो,लोग उन्हें समाप्त प्रायः ही कर देंगे.परन्तु ये सभी लाभ २ विशिष्ट साधना सामग्री के द्वारा १००% लिए जा सकते हैं.
साबर सिद्धि महा यन्त्र
साबर सिद्धि प्रदायक महा सिद्ध नव नाथ पारद गुटिका

जिन लोगो ने भी साबर सिद्धि महायंत्र के बारे में पढ़ा होगा ,उन्हें पता होगा की उसमे ये लिखा गया था की सदगुरुदेव ने अपनी असीम करुणा के वशीभूत होकर इतना महत्वपूर्ण यन्त्र हमारे सामने रखा है,जिसके द्वारा किसी भी साबर साधना में निश्चित सफलता पायी जा सकती है.और भविष्य में ना जाने वो इस यन्त्र पर कैसे कैसे प्रयोग दे दे.
इसी प्रकार साबर गुटिका नवनाथ मन्त्रों से अनुप्राणित और चैतन्य होती है तथा उसका विशेष क्रम से अभिशिन्चितिकरण भी हुआ होता है जिसके प्रभाव से वो ऐसे बहुत से लाभ आपको प्रदान करती है जो कल्पना तीत है.उस गुटिका की निर्माण विधि और उसपर किये जाने वाले ३ प्रयोग इसी अंक में दिए गए है.वे प्रयोग हैं-
साबर गुरु प्रत्यक्षीकरण साधना
साबर कुंडलिनी जागरण साधना
साबर यक्ष गन्धर्व सिद्धि साधना

ये सभी साधनाएं पहली बार ही किसी भी किताब या पत्रिका में आ रही हैं,मैं आभारी हूँ पंचमी माई का और मैं मात्र यही कह सकता हूँ की सदगुरुदेव प्रदत्त ज्ञान की श्रृंखलाए इतनी विस्तृत है की जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है.खैर इस गुटिका और यन्त्र को सामने रख कर १ माला निम्न मंत्र की अवश्य ही कर लेना चाहिए.सदगुरुदेव ने बताया था की वैसे तो ६२ क्रियाएँ करनी पड़ती है साबर साधना में सफलता के लिए.परन्तु उनका प्रयोग और ज्ञान सभी के लिए सहज नहीं है.(इसी कारण उन क्रियाओं को यहाँ नहीं दिया जा रहा है)इसलिए यदि साधक वो सब ना करके इन पांच क्रियाओं का ही प्रयोग यथानुसार कर ले तो उसकी सफलता निश्चित हो जाती है. वो मन्त्र है-
ओम आदि नाथ ज्योति रूप बसों तुम जानि,सकल पदार्थ तुम् बसे ,बसी जगदम्बा साथ तोहारे,नीली ज्योति रूप तुम्हारा,कारज पूरा आतम शक्ति का ,आशीष सकल गुरु शक्ति का.

इसके बाद वो गुटिका आपके लिए साधना में प्रयुक्त की जा सकती है.इसके साथ उस अद्भुत महायंत्र की स्थापना तो साधक का महा सौभाग्य ही होता है.जिसके बाद साबर साधनाओं में सफलता के द्वार उसके लिए खुल जाते हैं.
४.इस क्रिया को अभिकीलन क्रिया कहते हैं ये हाथ पूर्वक साबर शक्ति के बंधन की क्रिया है.इसमें भगवान शिव की अमृतेश्वरी शक्ति का प्रयोग किया जाता है ताकि सम्बंधित साबर साधना आपको ना सिर्फ पूर्ण सिद्ध होती है अपितु उसका फलदायक अमृत प्रभाव आपको आजन्म प्राप्त हो तथा परिवार को भी अमृत तत्व की प्राप्ति होकर पूर्ण आरोग्य और सौभाग्य की प्राप्ति होती रहे.इस क्रिया से वो सामग्री और मंत्र पूरी तरह चैतन्य और प्रभावकारी,शुभ दायक हो जाती है.
साधना वाले दिन प्रातः काल स्नान कर सभी सामग्रियों को श्वेत वस्त्र में बाँध(वैसे जिस वस्त्र के बारे में सम्बंधित साधना में विवरण हो ,उसी रंग के वस्त्र में वो सामग्रियां बांधनी चाहिए,और बाद में उसी वस्त्र को बाजोट पर बिछाया जाता है) कर बाजोट के ऊपर उर्ध्वमुखी त्रिकोण जो की श्वेत चन्दन और कुमकुम मिलकर बनाया गया हो.के ऊपर स्थापित कर दे,सामग्रियों को बाँधने के पहले उसे भली भांति स्नान कराकर पोछ कर बंधे साथ में.उसी समय अपना संकल्प किसी कोरे कागज पर पर कुमकुम की स्याही से लिख कर बाजोट के आगे वाले दाहिने पाए के नीचे दबा दे,(ये पर्ची तब तक दबी रहेगी जब तक की साधना पूरी न हो जाये.बाद में उस कागज को सामग्री के साथ विसर्जित कर दे.) जब सभी सामग्री को आप बाजोट पर बाँध कर रख दे और पर्ची को भी आप बताये अनुसार स्थापित कर दे तब स्व नाभि पर ध्यान केंद्रित करते हुए १ घंटे तक निम्न मंत्र का जप करे,ये मन्त्र अद्भुत चमत्कारी मंत्र है जो आपकी साधना को आपके लिए पूर्ण प्रभावकारी बना देता है-

ओम श्रीं ह्रीं मृत्युन्जये भगवति चैतन्यचन्द्रे हंससंजीवनि स्वाहा.

इस मंत्र को यदि विशेष तरीके से प्रयोग किया जाये और इसके साथ महामृत्युंजय मंत्र का योग किया जाये तो साधक के परिवार को भी अकालमृत्यु के भय से मुक्ति मिल जाती है.   
५. यदि आपने पहली ४ क्रिया के बगैर कोई साबर साधना की हो परन्तु आप उस साधना को कई बार कर चुके हो तब  इस साधना को  करने के बाद ही दुबारा अपनी साधना को करे निश्चय ही आपको सफलता की प्राप्ति होगी,ये क्रिया तो किसी ग्रन्थ में हो सकती है पर इससे सम्बंधित मंत्र सर्वप्रथम बार सदगुरुदेव की कृपा से आप सभी के सामने आया है.
रविवार को रात में असावरी देवी की पूर्ण पूजा करके कांसे की थाली को रख से मांज ले
और प्रत्येक प्रहर के प्रारंभ में इस मंत्र को उस थाली में कुमकुम से लिख कर उसे सामने रख कर -

ओम असावरी असावरी पूरण करो हमारी कामना,सिद्धि दीजो,रखियो लाज,असावरी मैया की दुहाई.

इस मन्त्र का २१ बार जप करे और जो मंत्र आप सिद्ध करना चाहते हैं उसे १०८ बार करे चौथे प्रहर में जप के बाद ‘हे मन्त्र देवी जाग्रत हो,सिद्धि दे’कहकर खैर की लकड़ी से उस थाली को बजाये.निश्चय ही इससे मन्त्र जाग्रत होकर सफलता देता ही है.
उपरोक्त क्रियाएँ आपको आपकी वांछित सफलता अवश्य ही प्रदान करेगी,ऐसी ही मैं सदगुरुदेव से प्रार्थना करता हूँ.ये क्रियाएँ अभी तक अज्ञात थी,मुझे आज अपने सभी गुरु भाई बहनों के साथ इस ज्ञान को बांटने में बहुत आनन्द आ रहा है.आप सभी इसका लाभ उठाये और जीवन को गौरवान्वित करे.

****NPRU****

1 comment:

MUKESH SAXENA said...

bahut hi durlabh sutra diye hain sabar sadna ke aapne,arif bhaiyya,nikhil alchemy ki poori teem ka iske liye jitna bhi shukriya adaa kiya jaaye kam hai.ye sutra koi asaani se pradaan nahin karta.hum bhagyashaali hain ke hamein aap jaise varishth gurubhaiyon ka varad hast prapt hua hai.aapne to ye durlabh gyaan de diya,lekin ab hum chhote guru bhai/behnon ko apni yogyata siddh karne ki baari hai.hum poora prayaas karenge ke aap jo durlabh gyaan hum logon ko de rahe hain,usei poorn roop se atmsaat kar sakein.hamein sadgurudev ke ashirvaad ke saath aap sabhi varishth gurubhaiyon ka ashirvaad bhi chahiye.jai sadgurude.